[GA4] कस्टम डाइमेंशन और मेट्रिक के बारे में जानकारी

अपनी वेबसाइट या ऐप्लिकेशन के कस्टम डेटा का इस्तेमाल करके, विश्लेषण करें और विज्ञापन दिखाएं

Google Analytics के कस्टम डाइमेंशन या मेट्रिक की मदद से, अपनी वेबसाइट या ऐप्लिकेशन से इकट्ठा किए गए कस्टम डेटा का विश्लेषण किया जा सकता है. इस विश्लेषण के नतीजों के हिसाब से विज्ञापन दिखाए जा सकते हैं. कस्टम डाइमेंशन या मेट्रिक ऐसी जानकारी मुहैया कराते हैं जो स्टैंडर्ड डेटा से अलग होने के साथ-साथ आपके कारोबार की ज़रूरत के हिसाब की होती है. इससे, आपको ज़्यादा जानकारी पाने और काम का विश्लेषण करने में मदद मिलती है. स्टैंडर्ड डेटा, Google Analytics से अपने-आप इकट्ठा होता है और दिखाया जाता है.

Google Analytics में कस्टम डाइमेंशन और मेट्रिक

यह सुविधा कैसे काम करती है

इवेंट की मदद से, यह मेज़र किया जा सकता है कि उपयोगकर्ता आपकी वेबसाइट या ऐप्लिकेशन पर क्या करते हैं. जैसे, किसी लिंक पर क्लिक करना या वीडियो देखना. इवेंट पैरामीटर से, इन कार्रवाइयों के बारे में ज़्यादा जानकारी मिलती है. जैसे, उपयोगकर्ता ने किस लिंक पर क्लिक किया या वीडियो के कितने हिस्से को देखा था. उपयोगकर्ता प्रॉपर्टी से उपयोगकर्ताओं के बारे में ज़्यादा जानकारी मिलती है, जैसे कि उनकी उम्र या जगह की जानकारी.

सेट अप किए जाने के बाद, Google Analytics अपने-आप इकट्ठा होने वाले इवेंट और पहले से तय की गई उपयोगकर्ता प्रॉपर्टी भेजकर कुछ डेटा अपने-आप इकट्ठा करता है. Google Analytics के इवेंट पैरामीटर में, अपने-आप इकट्ठा होने वाले इवेंट और उनके इवेंट पैरामीटर की सूची देखी जा सकती है.

अपनी वेबसाइट और/या ऐप्लिकेशन पर अतिरिक्त जानकारी इकट्ठा करने के बाद, रिपोर्ट में मौजूद डेटा को व्यवस्थित करने और उसका विश्लेषण करने के लिए, कस्टम डाइमेंशन (ज़्यादा जानकारी वाले डेटा के लिए) और कस्टम मेट्रिक (संख्या वाले डेटा के लिए) सेट अप की जा सकती हैं. कस्टम डाइमेंशन और मेट्रिक की मदद से, इस डेटा का इस्तेमाल विज्ञापन दिखाने और रीमार्केटिंग के लिए भी किया जा सकता है.

A custom icon that illustrates a user clicking a “add to basket” button on a website.

1

A custom icon that illustrates a website on a laptop and a mobile phone with the Google Tag.

2

A custom icon that illustrates adding custom dimensions by selecting checkboxes.

3

A custom icon that illustrates a dashboard with a 2-line chart and a pie chart.

4

अपनी वेबसाइट या मोबाइल ऐप्लिकेशन कोड में इवेंट पैरामीटर या उपयोगकर्ता प्रॉपर्टी जोड़ें

कोई उपयोगकर्ता आपकी वेबसाइट या ऐप्लिकेशन पर आता है और कस्टम डेटा Google Analytics को भेज दिया जाता है

इवेंट पैरामीटर या उपयोगकर्ता प्रॉपर्टी के डेटा का विश्लेषण करने के लिए, कस्टम डाइमेंशन या मेट्रिक बनाएं

24 से 48 घंटों के बाद, कस्टम डाइमेंशन या मेट्रिक की मदद से रिपोर्ट तैयार की जा सकती है और विज्ञापन दिखाए जा सकते हैं

कस्टम डाइमेंशन और मेट्रिक के टाइप

आपको जिस जानकारी का इस्तेमाल करके, रिपोर्ट बनानी है और विज्ञापन दिखाना है उसके आधार पर, अलग-अलग तरह के कस्टम डाइमेंशन और मेट्रिक बनाई जा सकती हैं:

कस्टम डाइमेंशन

  • उपयोगकर्ता के स्कोप वाले कस्टम डाइमेंशन की मदद से, कस्टम उपयोगकर्ता प्रॉपर्टी की रिपोर्ट बनाई जा सकती है. जब वेबसाइट या ऐप्लिकेशन कोड में कोई कस्टम उपयोगकर्ता प्रॉपर्टी जोड़ी जाती है, तो इन कस्टम डाइमेंशन की मदद से, उपयोगकर्ताओं के डेटा को अलग-अलग कैटगरी में बांटकर उसका विश्लेषण किया जा सकता है.
  • इवेंट के स्कोप वाले कस्टम डाइमेंशन की मदद से, कस्टम इवेंट पैरामीटर की रिपोर्ट बनाई जा सकती है. ये पैरामीटर किसी इवेंट की मदद से, कैप्चर की गई उपयोगकर्ता कार्रवाइयों के बारे में जानकारी देते हैं. चाहे आपको क्लिक किए गए लिंक की जानकारी चाहिए हो या वीडियो पर यूज़र ऐक्टिविटी की, अपने सुझाए गए इवेंट या कस्टम इवेंट में कस्टम इवेंट पैरामीटर जोड़कर, इन इंटरैक्शन का गहराई से विश्लेषण करें.
  • आइटम के स्कोप वाले कस्टम डाइमेंशन ई-कॉमर्स वेबसाइटों और मोबाइल ऐप्लिकेशन के लिए काम के होते हैं. इन कस्टम डाइमेंशन की मदद से, 'purchase' या 'add_to_cart' जैसे किसी ई-कॉमर्स इवेंट के आइटम कलेक्शन में मौजूद आइटम के रंग या साइज़ जैसे कस्टम डेटा का विश्लेषण किया जा सकता है.

कस्टम मेट्रिक

  • कस्टम मेट्रिक का इस्तेमाल करके, इवेंट पैरामीटर से मिली वैल्यू का विश्लेषण किया जा सकता है. अगर कोई इवेंट पैरामीटर, उपयोगकर्ता की किसी कार्रवाई की संख्या या फ़्रीक्वेंसी को मेज़र करता है, तो कस्टम मेट्रिक उन आंकड़ों को ऐसी जानकारी में बदल देती हैं जिसका इस्तेमाल करके कारोबार से जुड़े अहम फ़ैसले लिए जा सकते हैं. हालांकि, जिस डेटा को कैटगरी में बांटा जा सकता है उसके लिए, इवेंट के स्कोप वाले कस्टम डाइमेंशन चुनना बेहतर होता है. जैसे, किस टेक्स्ट पर क्लिक किया गया या किस पेज को देखा गया.
  • कैलकुलेट की गई मेट्रिक को एक या उससे ज़्यादा मौजूदा मेट्रिक और/या कस्टम मेट्रिक को मिलाकर तैयार किया जाता है. ये मेट्रिक, नई और संभावित तौर पर ज़्यादा काम की होती हैं.

सीमाएं

इस टेबल में बताया गया है कि स्टैंडर्ड और 360 प्रॉपर्टी के लिए कितने कस्टम डाइमेंशन और मेट्रिक बनाई जा सकती हैं:

कस्टम डाइमेंशन या मेट्रिक के टाइप स्टैंडर्ड प्रॉपर्टी की सीमाएं 360 प्रॉपर्टी की सीमाएं
उपयोगकर्ता के स्कोप वाले कस्टम डाइमेंशन 25 100
इवेंट के स्कोप वाले कस्टम डाइमेंशन 50 125
आइटम के स्कोप वाले कस्टम डाइमेंशन 10 25
कस्टम मेट्रिक 50 125
कैलकुलेट की गई मेट्रिक 5 50

 

एडमिन पेज पर, कस्टम डेफ़िनिशन में जाकर देखा जा सकता है कि कस्टम डाइमेंशन या मेट्रिक की तय सीमा पूरी होने वाली है या नहीं. अब तक बनाए गए कस्टम डाइमेंशन और मेट्रिक की संख्या देखने के लिए, सबसे ऊपर दाईं ओर कोटा की जानकारी पर क्लिक करें.

सबसे सही तरीके

कस्टम डाइमेंशन और मेट्रिक बनाने से पहले, जहां तक हो सके पहले से तय डाइमेंशन और मेट्रिक का इस्तेमाल करें.

अगर आपके पास कोई स्टैंडर्ड प्रॉपर्टी है, तो बेवजह ज़्यादा एलिमेंट वाले कस्टम डाइमेंशन न बनाएं. ज़्यादा एलिमेंट वाले डाइमेंशन, आपकी रिपोर्ट और एक्सप्लोरेशन पर बुरा असर डाल सकते हैं. इनकी वजह से, (अन्य) लाइन में डेटा इकट्ठा हो सकता है.

उदाहरण

यहां ज़्यादा एलिमेंट वाले ऐसे डाइमेंशन के उदाहरण दिए गए हैं जिनकी अनुमति नहीं है या जिनसे बचना चाहिए:

  • हर उपयोगकर्ता के यूनीक आईडी के लिए, कस्टम डाइमेंशन का इस्तेमाल करना. इसके बजाय, User-ID सुविधा का इस्तेमाल करें
    • यूज़र आईडी के लिए कस्टम डाइमेंशन बनाए बिना, अपने काम के हिसाब से इसका इस्तेमाल करने के बारे में ज़्यादा जानें
  • सेशन आईडी की तरह ही हर सेशन का यूनीक आईडी भेजने के लिए, कस्टम डाइमेंशन का इस्तेमाल करना
  • टाइमस्टैंप को कस्टम डाइमेंशन के तौर पर भेजना

पेज और स्क्रीन डाइमेंशन या लेन-देन आईडी जैसे पहले से तय डाइमेंशन में मौजूद किसी भी पैरामीटर को कस्टम डाइमेंशन के तौर पर रजिस्टर करना सबसे सही तरीका नहीं है. इससे एलिमेंट की संख्या पर असर नहीं पड़ेगा, लेकिन आपके कस्टम डाइमेंशन का कोटा घट जाएगा, यानी आपके कोटा से एक डाइमेंशन कम हो जाएगा.

कस्टम-पैरामीटर रिपोर्टिंग का बंद होना

इवेंट के स्कोप वाले कस्टम डाइमेंशन और मेट्रिक की मदद से, पूरी प्रॉपर्टी के डाइमेंशन और मेट्रिक के लिए पैरामीटर तय किए जाते हैं. इनकी मदद से, किसी पैरामीटर के आधार पर सिर्फ़ एक डाइमेंशन या मेट्रिक बनाई जा सकती है. साथ ही, रिपोर्ट करने के लिए अपने हिसाब से इवेंट की संख्या तय की जा सकती है. पहले, कस्टम पैरामीटर रिपोर्टिंग की मदद से, हर इवेंट के लिए पैरामीटर तय किए जाते थे. इस वजह से, पांच अलग-अलग इवेंट को एक ही पैरामीटर के हिसाब से रिपोर्ट करने के लिए, आपको अपने 100 कस्टम डाइमेंशन और मेट्रिक के कोटा में से पांच का इस्तेमाल करना पड़ता था.

कस्टम पैरामीटर रिपोर्टिंग की सुविधा बंद होने के बाद भी, Analytics ने इवेंट के स्कोप वाले पुराने एग्रीगेट को सुरक्षित रखा है. साथ ही, नए एग्रीगेट उस पुराने डेटा का पूरी तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं. ऐसे मामलों में जहां कई इवेंट के लिए एक पैरामीटर रजिस्टर किया गया हो, Analytics एक डाइमेंशन/मेट्रिक का नाम असाइन करके, उनके बीच अंतर करता है. इसमें मौजूदा इवेंट का नाम भी शामिल होता है (जैसे, “custom_dimension_name [event_name]”).

सबसे सही तरीका यह है कि कई इवेंट पर रजिस्टर किए गए डुप्लीकेट कस्टम डाइमेंशन और मेट्रिक को हटा दें, ताकि आपका कोटा बचा रहे.

उपयोगकर्ता के स्कोप वाले कस्टम डाइमेंशन से, आपको "स्लॉट" के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं होती. उपयोगकर्ता प्रॉपर्टी, उपयोगकर्ता के स्कोप वाले कस्टम डाइमेंशन स्लॉट के लिए उपनाम बन जाती हैं. इसकी मदद से, डेवलपर हर डेटा पॉइंट को किसी भी आर्बिट्रेरी स्लॉट नंबर के साथ जोड़े बिना, काम के डेटा पॉइंट को ट्रैक करने पर फ़ोकस कर सकते हैं.

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
false
खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू