लोगों के हिसाब से विज्ञापन दिखाने के डेटा को इकट्ठा करने की सेटिंग बंद करना

Google Ads में कुछ सुधार किए गए हैं, ताकि आप बेहतर तरीके से अपनी ऑडियंस के बारे में ज़्यादा जानकारी देख सकें और उन्हें मैनेज कर पाएं. साथ ही, ऑडियंस मैनेजमेंट और ऑप्टिमाइज़ेशन भी आपके लिए आसान हो जाए. इन सुधारों के बारे में यहां बताया गया है:

  • नई ऑडियंस रिपोर्टिंग
    ऑडियंस की डेमोग्राफ़िक्स, सेगमेंट, और बाहर रखी गई ऑडियंस के बारे में ज़्यादा जानकारी वाली रिपोर्ट अब एक ही जगह पर जोड़ी गई है. कैंपेन आइकॉन Campaigns Icon पर क्लिक करें. इसके बाद, "ऑडियंस, कीवर्ड, और कॉन्टेंट" टैब खोलें और ऑडियंस पर क्लिक करें. इस रिपोर्ट पेज से आसानी से अपनी ऑडियंस को मैनेज किया जा सकता है. ऑडियंस रिपोर्टिंग के बारे में ज़्यादा जानें.
  • नए शब्द
    हम ऑडियंस रिपोर्ट और Google Ads में नए शब्दों का इस्तेमाल कर रहे हैं. उदाहरण के लिए, अब "ऑडियंस टाइप" को ऑडियंस सेगमेंट और "रीमार्केटिंग" को “आपका डेटा” कहा जाता है. ऑडियंस टाइप में कस्टम, इन-मार्केट, और अफ़िनिटी ऑडियंस (एक जैसी पसंद वाले दर्शक) शामिल हैं. ऑडियंस से जुड़ी टर्म और वाक्यांशों में हुए अपडेट के बारे में ज़्यादा जानें

लोगों के हिसाब से विज्ञापन दिखाना

रीमार्केटिंग, लोगों के हिसाब से बनाए गए विज्ञापन का एक टारगेटिंग फ़ीचर है. रीमार्केटिंग की मदद से, उन लोगों तक पहुंचा जा सकता है जो आपकी वेबसाइट पर पहले आ चुके हैं या आपके मोबाइल ऐप्लिकेशन का इस्तेमाल कर चुके हैं. साथ ही, उन उपयोगकर्ताओं के लिए रीमार्केटिंग का डेटा इकट्ठा करने की सेटिंग बंद की जा सकती है जो लोगों के हिसाब से बनाए गए विज्ञापन नहीं देखना चाहते. इस पैरामीटर का इस्तेमाल करके ऐसा किया जा सकता है: allow_ad_personalization_signals.

इस पैरामीटर की डिफ़ॉल्ट वैल्यू, सही पर सेट है. पैरामीटर की वैल्यू को गलत पर सेट करने से, यह लोगों के हिसाब से बनाए गए विज्ञापनों के लिए इस्तेमाल होने वाले डेटा को बंद कर देगा.

ध्यान दें: यह पैरामीटर कन्वर्ज़न ट्रैकिंग को बंद नहीं करता है.
दिलचस्पी के मुताबिक विज्ञापन के सिग्नल को बंद करने के लिए, Google टैग में बदलाव करना

ध्यान दें:

  • अगर आपने अपनी वेबसाइट पर Google टैग पहले ही लागू कर दिया है, तो किसी नए टैग को जोड़ने की ज़रूरत नहीं है. नीचे दिए गए उदाहरण के मुताबिक, अपने मौजूदा टैग में बदलाव करें.
  • allow_ad_personalization_signals पैरामीटर को सेट करने का मतलब है कि यह Google टैग के ज़रिए कॉन्फ़िगर किए गए सभी प्रॉडक्ट पर लागू हो जाएगा.
ध्यान दें: नीचे दिए गए निर्देश, Google Ads के नए वर्शन को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं. पिछले वर्शन का इस्तेमाल करने के लिए, "थीम" आइकॉन पर क्लिक करें और पिछले वर्शन का यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) इस्तेमाल करें चुनें. अगर Google Ads के पिछले वर्शन का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किसी पेज को खोजने के लिए, Google Ads में उपलब्ध प्रमुख सुविधाओं को झटपट ढूंढने की सुविधा या सबसे ऊपर मौजूद नेविगेशन पैनल में खोज बार का इस्तेमाल करें.
  1. Google Ads खाते में, टूल आइकॉन Tools Icon पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, शेयर की गई लाइब्रेरी ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. ऑडियंस मैनेजर पर क्लिक करें.
  4. पेज पर सबसे ऊपर मौजूद, आपके डेटा सोर्स टैब पर क्लिक करें. इससे सोर्स का एक ग्रुप खुल जाता है, जिससे अपने डेटा सेगमेंट में बदलाव किया जा सकता है.
  5. “Google Ads टैग” कार्ड में, सबसे ऊपर दाईं ओर तीन बिंदु वाले आइकॉन पर क्लिक करें. इसके बाद, “सोर्स में बदलाव करें" चुनें.
  6. सेव करें और जारी रखें पर क्लिक करें.
  7. इंस्टॉलेशन स्क्रीन दिखने पर, Google टैग और इवेंट स्निपेट इस्तेमाल के लिए तैयार हो जाएंगे. दिलचस्पी के मुताबिक विज्ञापन के सिग्नल बंद करके, Google टैग में बदलाव किया जा सकता है. इसके लिए, नीचे उदाहरण दिया गया है. अपनी साइट में कोड जोड़ने के लिए, कोड को कॉपी करके वेबसाइट के <head></head> टैग के बीच पेस्ट करें.
नीचे बताए गए कोड को अपनी वेबसाइट पर ज्यों का त्यों कॉपी करके न चिपकाएं. इसमें ऐसी प्लेसहोल्डर वैल्यू होती हैं जिन्हें आपके वेब डेवलपर को डाइनैमिक तौर पर तब भरना होता है, जब वे अपने वेब सर्वर में स्निपेट कोड को इंटिग्रेट करते हैं.

< ! -- Google tag (gtag.js) - Google Ads -->

<script async src="https://www.googletagmanager.com/gtag/js?id=TAG_ID"></script>

<script>

window.dataLayer = window.dataLayer | | [ ] ;

function gtag ( ) { dataLayer.push ( arguments ) } ;

gtag ('set', 'allow_ad_personalization_signals', false ) ;

gtag ( 'js', new Date ( ) ) ;

gtag ( 'config' , 'TAG_ID' ) ;

</script>

  1. हो गया पर क्लिक करें.

ध्यान दें: पुराना AdWords टैग इस्तेमाल किए जाने पर, var google_allow_ad_personalization_signals = "false"; को वहां सेट किया जा सकता है जहां दूसरे AdWords टैग पैरामीटर सेट किए जाते हैं. ज़्यादा जानकारी के लिए, नीचे दिया गया उदाहरण देखें.

<script type="text/javascript">

/* <![CDATA[ */

var google_conversion_id = 1234567890;

var google_conversion_label = "xxx-XXx1xXXX123X1xX";

var google_remarketing_only = false

var google_conversion_value = 10.0;

var google_conversion_currency = "USD";

var google_allow_ad_personalization_signals = false;

/* ] ] > */

</script>

<script type="text/javascript" src="//www.googleadservices.com/pagead/conversion.js">

</script>

अमेरिका के निजता कानून

विज्ञापन देने वाले, अमेरिका के निजता कानूनों का आसानी से पालन कर सकें, इसके लिए Google टैग में एक खास पैरामीटर जोड़ा जा सकता है. इससे यह पता चलेगा कि Google को सीमित डेटा प्रोसेसिंग (आरडीपी) लागू करना चाहिए या नहीं: restricted_data_processing. इस पैरामीटर की डिफ़ॉल्ट वैल्यू, गलत पर सेट है. अगर आप पैरामीटर की वैल्यू सही पर सेट करते हैं, तो Google यह तय करेगा कि पैरामीटर कुछ खास डेटा का इस्तेमाल कैसे करेगा.

ध्यान दें:

Google Ads में सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू करने के दो विकल्प हैं.

  • restricted_data_processing” पैरामीटर को Google Ads या Tag Manager के ज़रिए, आपके Google टैग में सेट किया जा सकता है. इससे आपकी साइट पर खास उपयोगकर्ताओं के लिए, सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू किया जा सकता है.
  • ऑडियंस मैनेजर में मौजूद चेकबॉक्स में अपना Google टैग कॉन्फ़िगर करके, अमेरिका में रहने वाले सभी उपयोगकर्ताओं के लिए, सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू किया जाता है.

सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू करते समय, आपको इनमें से किसी एक विकल्प को चुनना होगा.

ध्यान दें: यह पैरामीटर कन्वर्ज़न ट्रैकिंग को बंद नहीं करता है.
सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू करने के लिए, Google टैग में बदलाव करना

ध्यान दें:

  • अगर आपने अपनी वेबसाइट पर Google टैग पहले ही लागू कर दिया है, तो किसी नए टैग को जोड़ने की ज़रूरत नहीं है. नीचे दिए गए उदाहरण के मुताबिक, अपने मौजूदा टैग में बदलाव करें.
  • अपने Google टैग को, ऑडियंस मैनेजर (नीचे दिए गए निर्देश देखें) या Google Ads से जुड़े वेबसाइट कन्वर्ज़न या कन्वर्ज़न के ज़्यादा जानकारी वाले पेज में देखा जा सकता है.
  • नीचे दिए गए निर्देशों की मदद से, सिर्फ़ Google Ads के लिए, सीमित डेटा प्रोसेसिंग पैरामीटर सेट किया जा सकेगा. Google के दूसरे प्रॉडक्ट के विज्ञापन देने वालों को Google Ads में अमेरिका के निजता कानूनों का पालन करने में मदद करने का तरीका पढ़ें.
ध्यान दें: नीचे दिए गए निर्देश, Google Ads के नए वर्शन को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं. पिछले वर्शन का इस्तेमाल करने के लिए, "थीम" आइकॉन पर क्लिक करें और पिछले वर्शन का यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) इस्तेमाल करें चुनें. अगर Google Ads के पिछले वर्शन का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किसी पेज को खोजने के लिए, Google Ads में उपलब्ध प्रमुख सुविधाओं को झटपट ढूंढने की सुविधा या सबसे ऊपर मौजूद नेविगेशन पैनल में खोज बार का इस्तेमाल करें.
  1. Google Ads खाते में, टूल आइकॉन Tools Icon पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, शेयर की गई लाइब्रेरी ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. ऑडियंस मैनेजर पर क्लिक करें.
  4. पेज पर सबसे ऊपर मौजूद, आपके डेटा सोर्स टैब पर क्लिक करें. इससे सोर्स का एक ग्रुप खुल जाता है, जिससे अपने डेटा सेगमेंट में बदलाव किया जा सकता है.
  5. “Google Ads टैग” कार्ड में, सबसे ऊपर दाईं ओर तीन बिंदु वाले आइकॉन पर क्लिक करें. इसके बाद, "सोर्स में बदलाव करें" चुनें.
  6. सेव करें और जारी रखें पर क्लिक करें.

    ध्यान दें: आपको “कैलिफ़ोर्निया और वर्जीनिया के उपयोगकर्ताओं के लिए डेटा मैनेज करें” सेक्शन के आगे एक चेकबॉक्स दिखेगा. दिसंबर 2022 से, इस चेकबॉक्स का इस्तेमाल करके कैलिफ़ोर्निया और वर्जीनिया के सभी उपयोगकर्ताओं के लिए, सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू किया जा सकेगा. (जून 2023 से, इस चेकबॉक्स का इस्तेमाल करके कोलोराडो और कनेटिकट और दिसंबर 2023 में, यूटाह के उपयोगकर्ताओं के लिए भी सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू किया जा सकेगा.) सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू करने के लिए, अपने Google टैग में बदलाव किया जा रहा है. इसलिए, आपको इसे चुनने की ज़रूरत नहीं है.

  7. इंस्टॉलेशन स्क्रीन दिखने पर, Google टैग और इवेंट स्निपेट इस्तेमाल के लिए तैयार हो जाएंगे. दिलचस्पी के मुताबिक विज्ञापन के सिग्नल बंद करके, Google टैग में बदलाव किया जा सकता है. इसके लिए, नीचे उदाहरण दिया गया है. अपनी साइट में कोड जोड़ने के लिए, कोड को कॉपी करके वेबसाइट के <head></head> टैग के बीच पेस्ट करें.
नीचे बताए गए कोड को अपनी वेबसाइट पर ज्यों का त्यों कॉपी करके न चिपकाएं. इसमें ऐसी प्लेसहोल्डर वैल्यू होती हैं जिन्हें आपके वेब डेवलपर को डाइनैमिक तौर पर तब भरना होता है, जब वे अपने वेब सर्वर में स्निपेट कोड को इंटिग्रेट करते हैं.

< ! -- Google tag (gtag.js) - Google Ads -->

<script async src="https://www.googletagmanager.com/gtag/js?id=TAG_ID"></script>

<script>

window.dataLayer = window.dataLayer | | [ ] ;

function gtag ( ) { dataLayer.push ( arguments ) } ;

gtag ( 'js', new Date ( ) ) ;

gtag ( 'config' , 'TAG_ID', { 'restricted_data_processing': true } ) ;

</script>

  1. हो गया पर क्लिक करें.

ध्यान दें: अगर पुराने AdWords टैग का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो var restricted_data_processing = "true" को वहां पर सेट किया जा सकता है जहां दूसरे AdWords टैग पैरामीटर को सेट किया जाता है. ज़्यादा जानकारी के लिए, नीचे दिया गया उदाहरण देखें.

<script type="text/javascript">

/* <![CDATA[ */

var google_conversion_id = 1234567890;

var google_conversion_label = "xxx-XXx1xXXX123X1xX";

var google_remarketing_only = false

var google_conversion_value = 10.0;

var google_conversion_currency = "USD";

var google_restricted_data_processing = true;

/* ] ] > */

</script>

<script type="text/javascript" src="//www.googleadservices.com/pagead/conversion.js">

</script>

अगर एक सर्वर से दूसरे सर्वर पर रीमार्केटिंग पिंग भेजने के लिए AdWords API का इस्तेमाल किया जा रहा है (उदाहरण के लिए, ऐप्लिकेशन डाइनैमिक रीमार्केटिंग के लिए), तो अनुरोध को सीमित डेटा प्रोसेसिंग के तौर पर शामिल करने के लिए rdp=1 पैरामीटर जोड़ना न भूलें.
सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू करने के लिए, Google Tag Manager में Google टैग में बदलाव करना
  1. Google Tag Manager में साइन इन करें.
  2. अपने टैग को ऐक्सेस करने के लिए, बाएं कॉलम में मौजूद टैग पर क्लिक करें.
  3. अपना Google Ads रीमार्केटिंग टैग या Google Ads कन्वर्ज़न टैग बनाएं या इनमें बदलाव करें.
  4. टैग कॉन्फ़िगरेशन सेक्शन में, “सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू करें” फ़ील्ड के लिए "सही" चुनें.
  5. इसके अलावा, यह फ़ील्ड डेटा लेयर वैरिएबल के ज़रिए डाइनैमिक रूप से सेट किया जा सकता है.
  6. सेव करें पर क्लिक करें.
ऑडियंस मैनेजर में सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू करना

सीमित डेटा प्रोसेसिंग से, Google को यह पता चलता है कि कुछ खास डेटा का इस्तेमाल कैसे किया जाए. यह विकल्प चुनने पर, कैलिफ़ोर्निया में रहने वाले उपयोगकर्ताओं को आपके डेटा सेगमेंट में नहीं जोड़ा जाएगा.

ध्यान दें: नीचे दिए गए निर्देश, Google Ads के नए वर्शन को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं. पिछले वर्शन का इस्तेमाल करने के लिए, "थीम" आइकॉन पर क्लिक करें और पिछले वर्शन का यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) इस्तेमाल करें चुनें. अगर Google Ads के पिछले वर्शन का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किसी पेज को खोजने के लिए, Google Ads में उपलब्ध प्रमुख सुविधाओं को झटपट ढूंढने की सुविधा या सबसे ऊपर मौजूद नेविगेशन पैनल में खोज बार का इस्तेमाल करें.
  1. Google Ads खाते में, टूल आइकॉन Tools Icon पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, शेयर की गई लाइब्रेरी ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. ऑडियंस मैनेजर पर क्लिक करें.
  4. पेज पर सबसे ऊपर मौजूद, आपके डेटा सोर्स टैब पर क्लिक करें. इससे सोर्स का एक ग्रुप खुल जाता है, जिससे अपने डेटा सेगमेंट में बदलाव किया जा सकता है.
  5. “Google Ads टैग” कार्ड में, सबसे ऊपर दाईं ओर तीन बिंदु वाले आइकॉन पर क्लिक करें. इसके बाद, "सोर्स में बदलाव करें" चुनें.
  6. "सीमित डेटा प्रोसेसिंग" सेक्शन में, "कैलिफ़ोर्निया और वर्जीनिया के उपयोगकर्ताओं के लिए डेटा मैनेज करें" चेकबॉक्स चुनें. दिसंबर 2022 से, इस चेकबॉक्स से कैलिफ़ोर्निया और वर्जीनिया के सभी उपयोगकर्ताओं के लिए, सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू हो जाएगा. (जून 2023 से, इस चेकबॉक्स का इस्तेमाल करके कोलोराडो और कनेटिकट और दिसंबर 2023 में, यूटाह के उपयोगकर्ताओं के लिए भी सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू किया जा सकेगा.)
  7. सेव करें और जारी रखें पर क्लिक करें.
  8. ऐसा करने पर ऐसा पेज खुलेगा जहां आपको यह निर्देश दिखेगा, "अपनी वेबसाइट पर टैग को फिर से इंस्टॉल करें". आपको इस पेज पर कुछ करना नहीं होगा. ऐसा इसलिए, क्योंकि आपने पहले से ही ऑडियंस मैनेजर में सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू कर रखा है. रद्द करें पर क्लिक करें.

अपने Google टैग में restricted_data_processing पैरामीटर का इस्तेमाल करके, हर उपयोगकर्ता के हिसाब से सीमित डेटा प्रोसेसिंग मोड चालू करना चुना जा सकता है.

Google Ads के दूसरे ट्रैकिंग सिस्टम में, सीमित डेटा प्रोसेसिंग को चालू करने के बारे में ज़्यादा जानें.

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
true
Achieve your advertising goals today!

Attend our Performance Max Masterclass, a livestream workshop session bringing together industry and Google ads PMax experts.

Register now

खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू