अपने खोज कैंपेन को ऑप्टिमाइज़ करने के लिए डेटा का इस्तेमाल करना

जब आपका कैंपेन, विज्ञापन दिखाना शुरू करता है, तो आप खास जानकारी या कैंपेन पेज का इस्तेमाल करके आसानी से अपने नतीजों पर नज़र रख सकते हैं. 

परफ़ॉर्मेंस की खास मेट्रिक

यहां खोज कैंपेन के लिए कुछ सामान्य मेट्रिक दिए गए हैं. ये उसी क्रम में हैं जिस क्रम में इस्तेमाल करने वाले आपके विज्ञापनों के साथ इंटरैक्ट करते हैं. कन्वर्ज़न सबसे ज़रूरी मेट्रिक में से एक हैं, क्योंकि ये आपको कारोबार के लिए ज़रूरी चीजों को मापने में मदद करते हैं.

  • इंप्रेशन (इंप्रेशन): जब भी आपका विज्ञापन, खोज के नतीजों के पेज या Google नेटवर्क की किसी दूसरी साइट पर दिखाया जाता है, तो उसे इंप्रेशन के तौर पर गिना जाता है. अगर आपका लक्ष्य ब्रैंड जागरूकता बढ़ाना है, तो इंप्रेशन सबसे ज़रूरी हैं.
  • क्लिक: जब कोई व्यक्ति आपके विज्ञापन पर क्लिक करता है, तो उसे एक क्लिक के तौर पर गिना जाता है. क्लिक की मदद से आप यह समझ सकते हैं कि आपका विज्ञापन लोगों को देखने में कितना अच्छा लगता है. काम के विज्ञापनों पर क्लिक किए जाने की संभावना ज़्यादा रहती है.
  • क्लिक मिलने की दर (सीटीआर): आपका सीटीआर उन लोगों का प्रतिशत दिखाता है जिन्होंने आपका विज्ञापन देखने के बाद उस पर क्लिक किया. एक अच्छा सीटीआर, उत्पाद और सेवा के विज्ञापन के हिसाब से अलग-अलग हो सकता है. साथ ही, आपके नेटवर्क पर दिखाने वाले विज्ञापनों के आधार पर भी अलग होता है. अपने सीटीआर को बढ़ाने के लिए, ध्यान खींचने वाला ऐसा विज्ञापन टेक्स्ट बनाने की कोशिश करें जो आपके कीवर्ड के मुताबिक हो. कामयाब टेक्स्ट विज्ञापन लिखने का तरीका जानें.
  • फ़ोन कॉल: जब कोई व्यक्ति मोबाइल डिवाइस का इस्तेमाल करके आपके विज्ञापन पर दिए गए नंबर पर क्लिक करता या उसे डायल करता है, तो उसे फ़ोन कॉल के तौर पर गिना जाता है. यह मेट्रिक सिर्फ़ तब उपलब्ध होती है, जब आप कॉल एक्सटेंशन, लोकेशन एक्सटेंशन या सिर्फ़ कॉल दिलाने वाला विज्ञापन जैसी कोई कॉल सुविधा सेट अप करते हैं. आपको कॉल रिपोर्ट भी चालू करनी होगी.
  • कन्वर्ज़न: जब कोई व्यक्ति आपके विज्ञापन के साथ इंटरैक्ट करता है, फिर आपकी बताई गई कोई कार्रवाई करता है, तो उसे एक कन्वर्ज़न के तौर पर गिना जाता है. कन्वर्ज़न में, खरीदारी और साइन अप से लेकर आपके कारोबार को कॉल करने तक कुछ भी शामिल हो सकता है. जब आप कन्वर्ज़न ट्रैकिंग सेट अप करते हैं, तो आप तय करते हैं कि कन्वर्ज़न के तौर पर क्या गिना जाएगा. यह देखने के लिए कि आपको अलग-अलग कितने कन्वर्ज़न मिले हैं, अपनी कन्वर्ज़न कार्रवाई के आधार पर डेटा टेबल को सेगमेंट करें. आप और दूसरी कार्रवाइयां भी देख सकते हैं, जैसे कि:
    • विज्ञापन के ज़रिए आने वाले कॉल: विज्ञापनों से आने वाले ऐसे कॉल की संख्या (जिसके लिए आपने कॉल सुविधा सेट अप की है) जो आपकी बताई गई अवधि से भी ज़्यादा लंबे होते हैं.
    • स्थानीय कार्रवाई कन्वर्ज़न: जब भी कोई व्यक्ति आपके कारोबार की जगह से जुड़ी कोई कार्रवाई पूरी करता है, तो उसकी गिनती की जाती है. इन कार्रवाइयों में शामिल हैं:
      • स्थानीय कार्रवाइयां - निर्देश: “निर्देश पाएं” बटन पर किए गए क्लिक.
      • स्थानीय कार्रवाइयां - वेबसाइट विज़िट: वेबसाइट के लिंक पर किए गए क्लिक.
      • स्थानीय कार्रवाइयां - मेन्यू व्यू: मेन्यू लिंक पर किए गए क्लिक.
      • कॉल करने के लिए क्लिक: “कॉल” बटन पर किए गए क्लिक. यह मेट्रिक “विज्ञापन के ज़रिए आने वाले कॉल” से अलग है, क्योंकि यह सिर्फ़ जगह पर आधारित विज्ञापन या सेवा से मिलने वाले कॉल की गिनती करती है. ध्यान रखें कि “कॉल करने के लिए क्लिक” में हर अवधि के कॉल शामिल होते हैं.
  • कीमत: आप जिस समयावधि को देख रहे हैं उसके दौरान खर्च की गई रकम.
  • हर क्लिक की औसत लागत (औसत सीपीसी): एक विज्ञापन पर क्लिक की औसत लागत. यह आपके विज्ञापन की लागत को कुल क्लिक से भाग देने पर मिलने मिलती है.

अगर आपको Google Ads के वर्शन में इनमें से कोई भी मेट्रिक नहीं दिखे, तो आप खास जानकारी देने वाले पेज का इस्तेमाल करने, कैंपेन पेज ढूंढने, और इसकी टेबल और चार्ट को पसंद के मुताबिक बनाने के तरीके के बारे में ज़्यादा जान सकते हैं.

संबंधित लिंक

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके

खोजें
खोज साफ़ करें
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
खोज मदद केंद्र
true
73067
false