Google Ads की रिपोर्ट में Google Analytics डेटा के बारे में जानकारी

Google Analytics और Google Ads खाते को लिंक करने के बाद, आप Google Ads में Google Analytics डेटा को इंपोर्ट कर सकते हैं और इस डेटा को अपने Google Ads खाते में देख सकते हैं. इस डेटा से आपको अपना कैंपेन ऑप्टिमाइज़ करने के लिए अहम जानकारी और संभावित अवसर मिल सकते हैं.

इस लेख में, खास जानकारी दी गई है कि किस तरह Google Analytics डेटा आपके Google Ads खाते में मददगार साबित हो सकता है. जब आप तैयार हों, तो आप अपनी रिपोर्ट में Google Analytics कॉलम जोड़ने के निर्देश फ़ॉलो कर सकते हैं.

यह कैसे काम करता है

Google Ads में Google Analytics डेटा देखने के लिए, आपको सबसे पहले अपने Google Ads खाते के लिए ऑटो-टैगिंग चालू करनी होगी, अपने Google Ads और Google Analytics खातों को लिंक करना होगा और वे Google Analytics व्यू चुनने होंगे जिनसे आप साइट मेट्रिक इंपोर्ट करना चाहते हैं. फिर, आप अपने Google Ads की रिपोर्ट में Google Analytics कॉलम जोड़ेंगे.

अपने Google Analytics साइट सहभागिता मेट्रिक के साथ-साथ Google Ads की परफ़ॉर्मेंस के आंकड़े देखकर आप समझ सकते हैं कि लोग आपके विज्ञापन पर क्लिक करने और लैंडिंग पेज पर पहुंचने के बाद क्या करते हैं. आप यह डेटा देख सकते हैं:

  • बाउंस दर: जब कोई सिर्फ़ एक पेज को देखता है या सिर्फ़ एक ही इवेंट को ट्रिगर करता है, तो Analytics इसे "बाउंस" मानता है. आपकी साइट की बाउंस दर, बाउंस होने वाले सत्रों का प्रतिशत है.
  • सत्र की औसत अवधि (सेकंड): किसी व्यक्ति के आपकी साइट पर रुकने का औसत समय.
  • पृष्ठ/सत्र: हर सत्र देखे जाने वाले पेजों की औसत संख्या.
  • % नए सत्र: पहली-बार होने वाले सत्रों का अनुमानित प्रतिशत.

इस जानकारी में आप देख सकते हैं कि आपके कैंपेन और विज्ञापन समूह कितने असरदार हैं. इससे आपको अपने बजट, बोलियों, लैंडिंग पेजों और विज्ञापन टेक्स्ट से जुड़े फ़ैसले करने में मदद मिलती है.

उदाहरण के लिए, अगर आप किसी विज्ञापन समूह की बाउंस दर के साथ-साथ क्लिकथ्रू दर (सीटीआर) भी देखते हैं, तो आप समझ सकते हैं कि क्या आपके ग्राहक, विज्ञापन पर क्लिक करने के बाद आपकी साइट पर वही देख रहे हैं जिसकी वे उम्मीद करते हैं.

अपनी Google Ads रिपोर्ट में Google Analytics का डेटा जोड़ने के लिए तैयार हैं? Google Ads रिपोर्ट में Google Analytics डेटा जोड़ने के लिए निर्देश फ़ॉलो करें.

उदाहरण

डैन, फूलों को ऑनलाइन बेचता है. उसके एक कैंपेन का फ़ोकस, जन्मदिन के लिए फूलों पर है और वह बिक्री बढ़ाने के लिए अलग-अलग कीवर्ड थीम का इस्तेमाल करके परफ़ॉर्मेंस की जांच कर रहा है. उसका एक विज्ञापन समूह का फ़ोकस "जन्मदिन के लिए गुलदस्ते" पर है, जबकि दूसरे में "जन्मदिन पर फूलों की सजावट" से जुड़े कीवर्ड और विज्ञापन शामिल हैं.

दोनों की क्लिकथ्रू दर (सीटीआर) देखने पर, उसे पता चलता है कि "फूलों की सजावट" वाले विज्ञापन समूह के विज्ञापनों की तुलना में "गुलदस्ते" विज्ञापन समूह के विज्ञापनों पर ज़्यादा लोग क्लिक कर रहे हैं. शुरू में, उसे लगता है कि “गुलदस्ते” वाला विज्ञापन समूह ज़्यादा सफल है. लेकिन, जब वह बाउंस दर का कॉलम (Google Analytics डेटा के मुताबिक) अपने विज्ञापन समूह की रिपोर्ट के साथ जोड़ता है, तो डैन एक नई अहम जानकारी देखता है.

"गुलदस्ते" वाले विज्ञापन समूह के विज्ञापनों की सीटीआर 8% है, जबकि "फूलों की सजावट" वाले विज्ञापनों की सीटीआर 6% है. साथ ही, "गुलदस्ते" वाले विज्ञापन समूह की बाउंस दर भी ज़्यादा (60%) है. यानी “गुलदस्ते” विज्ञापन समूह के क्लिक से उसकी साइट पर आने वाले आधे से अधिक लोग अधिक जानने या खरीदारी करने के लिए उसकी साइट पर नहीं रुक रहे हैं.

दूसरे शब्दों में, भले ही “गुलदस्ते” वाले विज्ञापन समूह को बहुत ज़्यादा क्लिक मिल रहे हों, लेकिन वे ऐसे क्लिक नहीं हैं जो दिनेश चाहता है. वह देखता है कि “फूलों की सजावट” वाले विज्ञापन समूह की बाउंस दर कम (30%) है. इसका मतलब है कि जो लोग इन विज्ञापनों के ज़रिए उसकी साइट पर क्लिक करते हैं उनके साइट पर रुकने और एक्सप्लोर करने की संभावना ज़्यादा होती है.

 

विज्ञापन समूह की "थीम" इंप्रेशन क्लिक मिलने की दर (सीटीआर) विज्ञापन पर क्लिक बाउंस दर वे उपयोगकर्ता जो
बाउंस नहीं होते
जन्मदिन के लिए गुलदस्ते 1,000 8% 80 60% 32
जन्मदिन पर फूलों की सजावट 1,000 6% 60 30% 42

 

हालांकि, “फूलों की सजावट” वाले विज्ञापन समूह को कम क्लिक मिलते हैं, लेकिन डैन के लिए ये ज़्यादा कीमती हैं, क्योंकि यहां वे लोग क्लिक करते हैं जो उसकी वेबसाइट एक्सप्लोर करने के लिए वहां रुकते हैं.

Google Ads में Google Analytics डेटा के बारे में ज़्यादा जानकारी

Google Ads और Google Analytics डेटा के बीच गड़बड़ियां

कुछ मामलों में, ऐसा हो सकता है कि आपका Google Ads डेटा, आपके इंपोर्ट किए गए Google Analytics डेटा से मेल न खाए. यहां इसकी सबसे आम वजहें दी गई हैं:

  • Google Ads क्लिक को ट्रैक करता है, जबकि Google Analytics सत्रों को ट्रैक करता है. इन मेट्रिक के बीच फ़र्क होने की कई वजहें हो सकती हैं:
    • ग्राहक, आपके विज्ञापन पर कई बार क्लिक कर सकता है. जब कोई व्यक्ति एक ही सत्र में किसी विज्ञापन पर कई बार क्लिक करता है, तो Google Ads एक से ज़्यादा क्लिक रिकॉर्ड करता है, जबकि Google Analytics अलग-अलग पेज व्यू को एक ही सत्र मानता है.
    • कोई व्यक्ति किसी विज्ञापन पर क्लिक कर सकता है और फिर बाद में, किसी दूसरे सत्र के दौरान, किसी बुकमार्क या सेव किए गए लिंक के ज़रिए साइट पर सीधे वापस लौट सकता है. यह, Google Ads में एक क्लिक की तरह, जबकि Analytics में एक से ज़्यादा सत्रों की तरह रजिस्टर किया जाएगा.
    • कोई व्यक्ति आपके विज्ञापन पर क्लिक कर सकता है, लेकिन फिर अपना इरादा बदलकर किसी दूसरे पेज पर क्लिक करके या ब्राउज़र के 'रोकें' या 'वापस जाएं' बटन दबाकर उस पेज को पूरी तरह लोड होने से रोक देता है. इस मामले में, Analytics किसी भी सत्र को रिकॉर्ड नहीं करेगा, लेकिन Google Ads अब भी इसे एक क्लिक के रूप में गिनेगा.
  • ज़्यादा सटीक बिलिंग पक्की करने के लिए, Google Ads आपकी रिपोर्ट से अमान्य क्लिक अपने आप फ़िल्टर कर देता है.
  • लंबी तारीख की सीमा की तुलना में वे अवधियां शामिल की जा सकती हैं जिनके दौरान आपके खाते लिंक नहीं थे.
डेटा की उपलब्धता और नयापन
ध्यान दें: अक्टूबर 2019 तक, Google Ads पर सिर्फ़ मई 2016 के बाद का Google Analytics डेटा उपलब्ध है.

आप जिन साइट मेट्रिक को Google Ads में देखना चाहते हैं उन्हें Google Analytics व्यू में इंपोर्ट करने के बाद, डेटा इंपोर्ट होने और Google Ads में दिखाई देने में कुछ समय लगता है. आप Google Ads में, “लिंक किए गए खाते” > “Google Analytics” में जाकर रिपोर्टिंग टेबल के “कार्रवाई” कॉलम में स्थिति मैसेज देख सकते हैं. ज़्यादातर मामलों में, Google Ads में डेटा और कॉलम दिखाई देने में एक घंटे से भी कम समय लगता है, लेकिन बड़े खातों के लिए इस प्रोसेस में ज़्यादा समय लग सकता है. डेटा इंपोर्ट होने के बाद, आप अपने Google Ads की रिपोर्ट में Google Analytics डेटा जोड़ सकते हैं.

जैसे ही आप Google Analytics और Google Ads के खाते लिंक करते हैं, Google Analytics, Google Ads के खास डेटा को इकट्ठा करना और सेव करना शुरू कर देता है. इसलिए, आप Google Ads में Google Analytics डेटा तब तक इंपोर्ट कर सकते हैं, जब तक आपने अपने Google Ads और Analytics खातों को एक साथ लिंक कर रखा है.

उदाहरण

अगर आप एक मई को लागत-स्रोत लिंक करते हैं और फिर 15 मई को अपने Google Ads खाते में Google Analytics डेटा इंपोर्ट करना शुरू करते हैं, तो आपकी Google Ads रिपोर्ट में एक मई से ही Google Analytics डेटा शामिल किया जाएगा.

सिर्फ़ मई 2016 तक संग्रहित और प्रोसेस किया गया Google Analytics डेटा, Google Ads में दिखाई दे सकता है.आमतौर पर Google Analytics दिन भर लगातार डेटा प्रोसेस करता रहता है, लेकिन सारे डेटा को अपडेट होने में 24 घंटे तक का समय लग सकता है. उदाहरण के लिए, अगर आप आज दोपहर 3 बजे "कल" की रिपोर्ट चलाते हैं, तो हो सकता है कि कल का कुछ डेटा (खासकर दोपहर 3 बजे से लेकर आधी रात तक का डेटा) अभी भी आपकी रिपोर्ट में पूरी तरह शामिल न हो.

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके