AdSense का बेहतर तरीके से इस्तेमाल करने के लिए, कृपया अपने AdSense पेज पर जाना न भूलें. यहां आपको अपने खाते के हिसाब से जानकारी मिलेगी.

नीतियां

AdSense कार्यक्रम की नीतियां

सभी पब्लिशर के लिए, Google पब्लिशर से जुड़ी नीतियों और यहां दी गई नीतियों का पालन करना ज़रूरी है. कृपया इन्हें ध्यान से पढ़ें. अगर Google की अनुमति के बिना इन नीतियों का पालन नहीं किया जाता है, तो हमारे पास अधिकार है कि आपकी साइट पर दिखाए जाने वाले विज्ञापनों और/या आपके AdSense खाते को किसी भी समय बंद कर दें. अगर आपका खाता बंद कर दिया जाता है, तो आने वाले समय में आपके लिए, AdSense कार्यक्रम में हिस्सा लेना संभव नहीं होगा.

हम अपनी नीतियों में किसी भी समय बदलाव कर सकते हैं. इसलिए, हमारा सुझाव है कि अपडेट पाने के लिए यहां अक्सर देखते रहें. ऑनलाइन उपलब्ध हमारे नियमों और शर्तों के मुताबिक, अप-टू-डेट रहना आपकी ज़िम्मेदारी है. आपको यहां पोस्ट की गई नीतियों का पालन करना होगा. आपको अपवाद के तौर पर इन नीतियों में छूट मिल सकती है. इसके लिए, Google से अनुमति मिलना ज़रूरी है.

पब्लिशर ऐसे पेजों पर AdSense कोड डाल सकते हैं जिन पर मौजूद कॉन्टेंट, Google पब्लिशर से जुड़ी पाबंदियों के दायरे में आता हो. हालांकि, इस कॉन्टेंट को बिना पाबंदी वाले कॉन्टेंट की तुलना में कम विज्ञापन मिलेंगे.

सभी को बड़ा करें सभी को छोटा करें

अमान्य क्लिक और इंप्रेशन

पब्लिशर, खुद के विज्ञापनों पर क्लिक नहीं कर सकते या इंप्रेशन और/या क्लिक बढ़ाने के लिए, बॉट या सॉफ़्टवेयर जैसे किसी सिस्टम का इस्तेमाल नहीं कर सकते. मैन्युअल तरीकों से भी ऐसा करने की अनुमति नहीं है.

ज़्यादा जानें

Google विज्ञापनों पर क्लिक, उपयोगकर्ता की असल दिलचस्पी के मुताबिक जनरेट होने चाहिए. जिन तरीकों से आपके Google विज्ञापनों पर आर्टिफ़िशियल क्लिक या इंप्रेशन जनरेट होते हैं उनके इस्तेमाल पर पूरी तरह से पाबंदी है. इन पाबंदियों में, बार-बार होने वाले मैन्युअल क्लिक या इंप्रेशन, अपने-आप होने वाले क्लिक, इंप्रेशन जनरेट करने वाले टूल, और रोबोट या गुमराह करने वाले दूसरे सॉफ़्टवेयर का इस्तेमाल समेत कई और तरीके भी शामिल हैं. कृपया ध्यान रखें कि किसी भी वजह से अपने विज्ञापनों पर खुद क्लिक करने की अनुमति नहीं है.

क्लिक करने या देखने के लिए बढ़ावा देना (बिना इनाम वाली इन्वेंट्री)

इनाम वाली इन्वेंट्री को छोड़कर, पब्लिशर दूसरे लोगों को विज्ञापनों पर क्लिक करने या उन्हें देखने के लिए नहीं कह सकते. साथ ही, क्लिक या व्यू पाने के गलत तरीकों का इस्तेमाल भी नहीं कर सकते. इसमें, उपयोगकर्ताओं को विज्ञापन देखने या कुछ खोजने के बदले किसी भी तरह के आर्थिक फ़ायदे की पेशकश करना, ऐसे काम के लिए तीसरे पक्षों के लिए पैसे जुटाने का वादा करना या व्यक्तिगत विज्ञापनों के बगल में इमेज डालने के साथ-साथ कई और काम करने पर भी पाबंदी है.

ज़्यादा जानें

विज्ञापन देने वालों और उपयोगकर्ताओं को अच्छा अनुभव देने के लिए, AdSense कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले पब्लिशर को यहां बताए गए काम करने की अनुमति नहीं है:

  • विज्ञापन देखने या खोज करने के बदले उपयोगकर्ताओं को पैसे देना या ऐसे किसी काम के लिए किसी तीसरे पक्ष को पैसे देने का वादा करना.
  • "विज्ञापनों पर क्लिक करें", "हमारा समर्थन करें", "ये लिंक देखें" या इस तरह की भाषा इस्तेमाल करके उपयोगकर्ताओं को Google विज्ञापनों पर क्लिक करने के लिए बढ़ावा देना.
  • ऐरो या भ्रम में डालने वाले ग्राफ़िक इस्तेमाल करके उपयोगकर्ताओं का ध्यान विज्ञापनों की ओर खींचना.
  • व्यक्तिगत विज्ञापनों के बगल में, गुमराह करने वाली इमेज लगाना.
  • किसी फ़्लोटिंग बॉक्स स्क्रिप्ट में विज्ञापन डालना.
  • जान-बूझकर ऐसे फ़ॉर्मैट में विज्ञापन बनाना कि वे अलग से पहचान में न आएं और पेज के कॉन्टेंट से मिलते-जुलते लगें.
  • साइट के कॉन्टेंट को ऐसे फ़ॉर्मैट में रखना कि वह विज्ञापन से मिलता-जुलता लगे और दोनों के बीच अंतर न किया जा सके.
  • Google विज्ञापन यूनिट के ऊपर गुमराह करने वाले लेबल लगाना. उदाहरण के लिए, विज्ञापनों पर "प्रायोजित लिंक" या "विज्ञापन" लेबल लगाया जा सकता है, लेकिन उन्हें "पसंदीदा साइटें" या "आज के बेहतरीन ऑफ़र" के तौर पर लेबल नहीं किया जा सकता.

ट्रैफ़िक सोर्स

Google Ads, ऐसे पेजों पर नहीं डाले जा सकते जिन्हें कुछ खास सोर्स से ट्रैफ़िक मिलता हो. उदाहरण के लिए, पब्लिशर 'क्लिक के लिए पेमेंट (पीटूसी)' कार्यक्रमों में हिस्सा नहीं ले सकते. साथ ही, किसी सॉफ़्टवेयर ऐप्लिकेशन का इस्तेमाल करके न तो अनचाहे ईमेल भेज सकते हैं और न ही विज्ञापन दिखा सकते हैं. इसके अलावा, ऑनलाइन विज्ञापनों का इस्तेमाल करने वाले पब्लिशर को यह पक्का करना होगा कि उनके पेज, Google के लैंडिंग पेज की क्वालिटी के लिए दिशा-निर्देशों का पालन करते हों.

ज़्यादा जानें

Google पर विज्ञापन देने वाले लोगों और इंटरनेट उपयोगकर्ताओं को अच्छा अनुभव देने के लिए, Google विज्ञापन दिखाने वाली साइटों को नीचे बताए गए काम करने की अनुमति नहीं है:

  • क्लिक या इंप्रेशन जनरेट करने वाली तीसरे पक्ष की सेवाओं का इस्तेमाल करना, जैसे कि क्लिक के लिए पेमेंट (पीटूसी), सर्फ़ करने के लिए पेमेंट, ऑटोसर्फ़, और क्लिक-एक्सचेंज प्रोग्राम.
  • बड़े पैमाने पर अनचाहे ईमेल भेजकर प्रमोशन करना या तीसरे पक्ष की वेबसाइटों पर अनचाहे विज्ञापन दिखाना.
  • टूलबार जैसे किसी सॉफ़्टवेयर ऐप्लिकेशन से Google विज्ञापन, खोज बॉक्स या खोज के नतीजे दिखाना.
  • किसी ऐसे सॉफ़्टवेयर से विज्ञापन लोड करना जो पॉप-अप ट्रिगर कर सकता हो, उपयोगकर्ताओं को अनचाही वेबसाइटों पर रीडायरेक्ट कर सकता हो, ब्राउज़र सेटिंग को बदल सकता हो या साइट के नेविगेशन में किसी तरह की रुकावट डालता हो. यह पक्का करना आपकी ज़िम्मेदारी है कि कोई भी विज्ञापन नेटवर्क कंपनी या अफ़िलिएट, ऐसे तरीके इस्तेमाल करके उन पेजों पर ट्रैफ़िक न भेजे जिन पर आपका AdSense कोड इस्तेमाल हुआ है.
  • ऐसी साइट के ऑनलाइन विज्ञापनों से ट्रैफ़िक पाना जो Google के लैंडिंग पेज की क्वालिटी के लिए दिशा-निर्देशों का पालन न करती हो. उदाहरण के लिए, उपयोगकर्ता उस प्रॉडक्ट या सेवा को आसानी से ढूंढ सकें जिसकी जानकारी आपके विज्ञापन में दी गई है.

विज्ञापन का व्यवहार

पब्लिशर को AdSense विज्ञापन कोड में बदलाव करने की अनुमति है, बशर्ते बदलाव करने से विज्ञापन की परफ़ॉर्मेंस में गलत तरीके से कोई बढ़ोतरी न हो और विज्ञापन देने वालों को कोई नुकसान न पहुंचे. ज़्यादा जानकारी के लिए AdSense विज्ञापन कोड में बदलाव देखें.

विज्ञापन प्लेसमेंट

पब्लिशर को तरह-तरह के प्लेसमेंट और विज्ञापन फ़ॉर्मैट आज़माने के लिए बढ़ावा दिया जाता है. हालांकि, AdSense कोड को पॉप-अप, ईमेल या सॉफ़्टवेयर में नहीं डाला जा सकता. पब्लिशर को, इस्तेमाल किए जाने वाले हर प्रॉडक्ट के लिए बनी नीतियों का पालन करना होगा. ज़्यादा जानकारी के लिए, विज्ञापन प्लेसमेंट की नीतियों वाला हमारा लेख देखें.

विज्ञापन प्लेसमेंट की सभी नीतियां देखें.

Google विज्ञापन, खोज बॉक्स या खोज के नतीजे के लिए, यहां बताए गए तरीके इस्तेमाल नहीं किए जा सकते:

  • उन्हें टूलबार समेत किसी भी तरह के सॉफ़्टवेयर के साथ जोड़ा नहीं जा सकता. हालांकि, AdMob के मामले में यह लागू नहीं होता है.
  • पॉप-अप या पॉप-अंडर में दिखाना, जिनमें Google विज्ञापन, खोज बॉक्स या खोज नतीजों वाला कोई ऐसा पेज शामिल हो जो पॉप-अप या पॉप-अंडर में लोड होता है.
  • उन्हें ऐसे ईमेल या पेजों पर डालना जिन पर, मुख्य रूप से ईमेल मैसेज मौजूद होते हैं.
  • उन्हें ऐसे पेजों पर डालना जिन पर प्रमुख तौर से डाइनैमिक रूप से जनरेट होने वाला कॉन्टेंट, जैसे कि लाइव चैट, फटाफट मैसेज सेवा या अपने-आप रीफ़्रेश होने वाली टिप्पणियां मौजूद होती हैं.
  • उन्हें बिना कॉन्टेंट वाले किसी पेज पर नहीं डालना चाहिए. (यह 'खोज के लिए AdSense' या 'खोज के लिए मोबाइल AdSense' पर लागू नहीं होता.)
  • सिर्फ़ विज्ञापन दिखाने के मकसद से पब्लिश किए जाने वाले पेज पर नहीं डालना चाहिए.
  • उन्हें ऐसे पेजों पर नहीं डाला जा सकता जिनके कॉन्टेंट या यूआरएल को देखकर उपयोगकर्ता यह सोचकर गुमराह हो जाएं कि वह Google से जुड़ा है. ऐसा अक्सर लोगो, ट्रेडमार्क या अन्य ब्रैंड सुविधाओं के गलत इस्तेमाल की वजह से हो सकता है.
  • विज्ञापनों को दूसरे Google प्रॉडक्ट या सेवाओं में या उनके पास इस तरह से लगाना जिससे उस प्रॉडक्ट या सेवा की नीतियों का उल्लंघन होता हो.
  • Google Ads, सर्च बॉक्स या सर्च के नतीजे उन पेज पर नहीं डाले जा सकते जो फ़्रेम की गई सामग्री दिखाते हैं. जब कोई साइट या ऐप्लिकेशन सामग्री के मालिकों से अनुमति लिए बिना फ़्रेम या विंडो में उनकी साइट दिखाती है, तो इसे फ़्रेम की गई सामग्री कहते हैं. 

वेबसाइट का व्यवहार

Google विज्ञापन दिखाने वाली वेबसाइटें ऐसी होनी चाहिए जिन्हें उपयोगकर्ता आसानी से इस्तेमाल कर सकें. साइटें, उपयोगकर्ता की पसंद नहीं बदल सकतीं. वे उपयोगकर्ताओं को अनचाही वेबसाइटों पर नहीं भेज सकतीं, डाउनलोड शुरू नहीं कर सकतीं, और उनमें ऐसे मैलवेयर या पॉप-अप या पॉप-अंडर नहीं हो सकते जिनसे साइट के नेविगेशन में परेशानी हो.

गुमराह करने वाला साइट नेविगेशन

पब्लिशर, गुमराह करने वाले तरीकों का इस्तेमाल करके, क्लिक या व्यू के लिए विज्ञापनों को इस तरह नहीं डाल सकते कि उन्हें गलती से मेन्यू, नेविगेशन या डाउनलोड का लिंक समझ लिया जाए. ध्यान रखें कि हर पब्लिशर, विज्ञापन प्लेसमेंट की नीतियों के हिसाब से विज्ञापन लागू करने के लिए ज़िम्मेदार है.

इसमें ये शामिल हैं, लेकिन इनके अलावा, और भी चीज़ें शामिल हो सकती हैं:

  • वीडियो की स्ट्रीमिंग या डाउनलोड के लिए झूठे दावे
  • ऐसे कॉन्टेंट से लिंक करना जो मौजूद नहीं है
  • उपयोगकर्ताओं को ऐसे वेबपेजों पर रीडायरेक्ट करना जो उनके काम के नहीं हैं या उन्हें गुमराह करते हैं
  • नेविगेशन के ऐसे दूसरे तरीके जिन्हें उपयोगकर्ताओं को गुमराह करने के लिए डिज़ाइन किया गया हो
  • ऐसे पेज जिनमें विज्ञापनों को ऐसी जगहों पर डाला गया हो जो आम तौर पर नेविगेशन के लिए इस्तेमाल की जाती हैं.

ऐप्लिकेशन के लिए वेब कॉन्टेंट देखने के फ़्रेम से जुड़ी तकनीकी ज़रूरतें

ऐसे ऐप्लिकेशन डेवलपर जिन्हें वेब कॉन्टेंट देखने के फ़्रेम के ज़रिए, AdSense और Ad Manager के डिसप्ले विज्ञापन पब्लिश करके कमाई करनी हो उन्हें नीचे दिए गए इंटिग्रेशन के विकल्पों में से किसी एक का इस्तेमाल करना होगा:

  1. विज्ञापनों के लिए वेबव्यू एपीआई
    ऐप्लिकेशन डेवलपर को सलाह दी जाती है कि वे वेबव्यू इंस्टेंस (Android: वेबव्यू, iOS: UIWebView) रजिस्टर करने के लिए, विज्ञापनों के वेबव्यू एपीआई को Google मोबाइल विज्ञापन SDK से इंटिग्रेट करें.

    इस बारे में, Android और iOS के लिए डेवलपर के दस्तावेज़ में ज़्यादा जानें.

    AdMob और Ad Manager इन-ऐप्लिकेशन विज्ञापन किसी वेबव्यू के बगल में मौजूद ऐप्लिकेशन में दिखाए जा सकते हैं, बशर्ते 'Google मोबाइल विज्ञापन SDK' टूल का इस्तेमाल किया जा रहा हो. साथ ही, पब्लिशर, कार्यक्रम की अन्य सभी संबंधित नीतियों और दिशा-निर्देशों का पालन कर रहा हो.

    आपको याद दिला दें कि वेबव्यू और ब्राउज़र में मौजूद कॉन्टेंट, दोनों पर लागू होने वाली कॉन्टेंट की नीति से जुड़ी ज़रूरी शर्तें, एक ही होती हैं.
  2. वेब कॉन्टेंट देखने के लिए इस्तेमाल होने वाले अन्य फ़्रेम:

अलग-अलग प्रॉडक्ट के लिए नीतियां

पिछली बार अपडेट किए जाने की तारीख: 19 मई, 2022

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके

true
' data-mime-type=
आपका AdSense पेज

पेश है AdSense पेज: यह एक नया संसाधन है. यहां पर, आपके खाते के हिसाब से ज़रूरी जानकारी दी जाएगी और आपको पैसे कमाने के नए अवसर मिलेंगे. इसकी वजह से, आप AdSense का बेहतर तरीके से इस्तेमाल कर पाएंगे.

खोजें
खोज साफ़ करें
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
खोज मदद केंद्र
true
157
false
false