दुनिया भर के दर्शकों तक पहुंचने के लिए रणनीति चुनना

जब आपका चैनल मशहूर हो जाए और आप दुनिया भर के दर्शकों तक पहुंच जाएं, तब अलग-अलग भाषाओं या देशों/इलाकों के लिए अलग-अलग चैनल बनाएं. दुनिया भर के दर्शकों तक पहुंचने के लिए, यहां तीन रणनीतियां दी गई हैं. इसके लिए, खुद बनने वाले सबटाइटल का इस्तेमाल किया जा सकता है. साथ ही, मैन्युअल तरीके से अनुवाद जोड़े जा सकते हैं. इसके अलावा, तीसरे पक्ष के टूल और सेवाओं का इस्तेमाल भी किया जा सकता है.

अलग-अलग भाषाओं में वीडियो दिखाने वाला चैनल चलाना

अपने सभी वीडियो को एक ही चैनल पर दिखाएं. अलग-अलग देशाें और इलाकाें के लिए वीडियो को कई भाषाओं में अपलोड करें.

ब्रैंडिंग

आपका ब्रैंड सभी देशों और इलाकों में एक जैसा होगा. अगर आपके दर्शक किसी भी भाषा में आपका ब्रैंड खोजने के लिए, एक जैसे शब्दों का इस्तेमाल करते हैं, तो आपके चैनल को खोजना ज़्यादा आसान होगा.

दिलचस्पी

एक चैनल का इस्तेमाल करने से, अपने दर्शकों और सदस्यों के आंकड़ों को एक ही जगह पर देखा जा सकता है. जब YouTube सर्च पर दर्शक आपका चैनल खोजेंगे, तो आपका चैनल उन्हें आसानी से मिल जाएगा.

आपके चैनल पर पोस्ट, टिप्पणियां, और फ़ीड अपडेट कई अलग-अलग भाषाओं में आने लगेंगे. इससे आपके दर्शकों को परेशानी हो सकती है.

अपने दर्शकों की मदद करने के लिए:

  • अपने वीडियो की भाषा न जानने वालों के लिए भी इन्हें उपयोगी बनाएं. इसके लिए वीडियो में सबटाइटल और कैप्शन जोड़ें.
  • अलग-अलग भाषाओं या देशों और इलाकों के लिए, अपने चैनल में सेक्शन और प्लेलिस्ट जोड़ें.

मैनेजमेंट

अपने वीडियो को एक जगह पर रखने से, आपकी टीम को सिर्फ़ एक चैनल को मैनेज करना होगा. इससे दुनिया भर में एक जैसी ब्रैंडिंग और टोन को बनाए रखने में आसानी होगी.

अलग-अलग भाषाओं के लिए अलग-अलग चैनल बनाना

अलग-अलग भाषाओं या देशों और इलाकों के लिए अलग-अलग चैनल बनाएं. यह रणनीति अलग-अलग वर्णमालाओं वाली भाषाओं या खोज में इस्तेमाल किए जाने वाले शब्दों के लिए बहुत मददगार है.

ब्रैंडिंग

हर चैनल को उसके स्थानीय दर्शकों की पसंद के मुताबिक बनाया जा सकता है. साथ ही, इसमें स्थानीय इवेंट और प्रमोशन आसानी से शामिल किए जा सकते हैं. अगर अलग-अलग देशों/इलाकों में आपके ब्रैंड की पहचान में थोड़ा-बहुत फ़र्क़ है, तो अलग-अलग चैनल होने पर आपके पास उन फ़र्क़ को अपने चैनल की रणनीति में शामिल करने का विकल्प होता है.

दिलचस्पी

अलग-अलग चैनल होने से, अलग-अलग भाषाओं और देशों या इलाकों के दर्शकों पर खास तरीके से ध्यान दिया जा सकता है. चैनल पर मौजूद सभी चीज़ें किसी देश या इलाके के दर्शकों के लिए उनकी भाषा में खास तौर पर डाली जाएंगी. इससे दर्शकों को बेहतर अनुभव मिल सकता है. अलग-अलग भाषाओं वाले वीडियो न होने की वजह से दर्शकों को शायद परेशानी न हो. साथ ही, चैनल में उनकी दिलचस्पी बनी रहेगी.

ढूंढना आसान बनाने के लिए:

  • हर चैनल के लिए भाषा या देश/इलाका तय करें. इससे दर्शक, YouTube पर अपने स्थानीय चैनल को खोज सकेंगे.
  • अलग-अलग भाषा के अपने चैनलों का प्रमोशन, एक-दूसरे पर करें. इससे उन्हें आसानी से खोजा जा सकेगा.
  • चैनल पेज के “चुनिंदा चैनल” सेक्शन में, अपने पसंदीदा चैनलों को शामिल करें.

मैनेजमेंट

हर चैनल को बेहतर बनाने के लिए काम करते रहना होगा. साथ ही, हर चैनल पर नज़र भी रखनी होगी. पक्का करें कि आपका ब्रैंड हर चैनल को अच्छी तरह चलाने के लिए ज़रूरी संसाधन मुहैया करा सके. ये संसाधन नियमित तौर पर वीडियो अपलोड करने और तय तरीके से दर्शकों की दिलचस्पी बढ़ाने के लिए ज़रूरी होते हैं.

हर जगह उपलब्ध एक चैनल और सहायक स्थानीय चैनलों को बनाना

किसी एक चैनल का इस्तेमाल अपने ब्रैंड के मुख्य चैनल के तौर पर करें, ताकि हर जगह के कैंपेन में शामिल होने की सुविधा मिल सके. अलग-अलग भाषाओं और देशों/इलाकों के लिए सहायक स्थानीय चैनल बनाएं.

ब्रैंडिंग

अपने मुख्य चैनल का इस्तेमाल ऐसे वीडियो के लिए करें जो हर जगह देखे जाते हों. स्थानीय चैनलों का इस्तेमाल इवेंट और प्रमोशन के लिए करें. अपने वीडियो के मेटाडेटा और थंबनेल के लिए एक जैसे टेंप्लेट बनाएं. इससे अपने चैनलों को एक जैसा बनाया जा सकता है.

दिलचस्पी

जब दर्शक और सदस्य एक चैनल से दूसरे चैनल पर जाते हैं, तो उन्हें स्थानीय जगह के मुताबिक अनुभव मिलेगा. हालांकि, चैनलों की पहचान एक जैसी होगी. हर जगह के लिए बनाए गए मुख्य चैनल का इस्तेमाल, अपने स्थानीय चैनलों पर दर्शकों को लाने के लिए करें. इसके लिए, वीडियो के मेटाडेटा, चैनलों के ब्यौरों, और चुनिंदा चैनल प्रोग्रामिंग का इस्तेमाल करें.

स्थानीय चैनलों पर ज़्यादा बार वीडियो अपलोड होने की वजह से, YouTube पर उन्हें ज़्यादा आसानी से खोजा जा सकता है.

मैनेजमेंट

चैनलों को इस तरह बनाने पर, हर जगह उपलब्ध चैनल और स्थानीय चैनलों की टीमों के बीच तालमेल रखने की ज़रूरत होती है. हालांकि, इससे स्थानीय बाज़ारों के लिए ब्रैंड मैसेज को पसंद के मुताबिक बनाया जा सकता है. इस रणनीति से चैनलों को चलाने के लिए ज़्यादा समय और मेहनत की ज़रूरत होती है.

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
खोजें
खोज साफ़ करें
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
खोज मदद केंद्र
true
59
false
false