Web Light: खोज नतीजों में दिखने वाले ऐसे पेज जो मोबाइल पर कम डेटा खर्च में तेज़ी से लोड होते हैं

वेबसाइट के मालिकाें के लिए जानकारी

Google ऐसे लोगों को जल्दी लोड होने वाले और कम डेटा खर्च करने वाले पेज दिखाता है जो मोबाइल के धीमे इंटरनेट कनेक्शन पर कुछ खोज रहे होते हैं. ऐसा करने के लिए, हम वेब पेजों को तुरंत ऐसे वर्शन में ट्रांसकोड (फ़ॉमैट बदलना) करते हैं, जो खास ताैर पर धीमे डेटा कनेक्शन इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों के लिए ही बनाए गए होते हैं. इससे ये पेज जल्दी लोड तो होते ही हैं, डेटा भी बचाते हैं. इस तकनीक को Web Light कहा जाता है. Web Light पेज पर मूल पेज की ज़्यादातर ज़रूरी सामग्री माैजूद हाेती है. साथ ही मूल पेज का लिंक भी होता है ताकि ज़रूरत पड़ने पर उपयोगकर्ता मूल पेज देख सकें. हमारी जाँच से पता चलता है कि अॉप्टिमाइज़ किए गए पेज, मूल पेज की तुलना में चार गुना जल्दी लोड होते हैं और 80% कम बाइट (डेटा) इस्तेमाल करते हैं. ये पेज बहुत तेज़ी से लोड होते हैं, इसलिए इन पर आने वाले लोगों की संख्या में भी 50% की बढ़त देखने को मिली.

यहां ट्रांसकोडिंग के साथ और उसके बिना लोड किए जा रहे वेब पेज का एक उदाहरण दिया गया है:

वेब पेज का Web Light वर्शन वाला पेज देखना

आप यहां बताए गए तरीके से, अपने मोबाइल डिवाइस या डेस्कटॉप पर बिना एएमपी वाले वेब पेज का Web Light वर्शन देख सकते हैं:

फ़िलहाल, कुछ पेजों को ट्रांसकोड नहीं किया गया है. इनमें वीडियो वाली साइटें और ऐसे पेज शामिल हैं जिनके लिए कुकी ज़रूरी हैं (जैसे कि मनमुताबिक बनाई गई साइटें). साथ ही, ऐसी वेबसाइटों काे भी ट्रांसकोड नहीं किया गया है जिन्हें ट्रांसकोड करने में तकनीकी दिक्कतें आती हैं. ऐसे में, अगर आप ऊपर दिए गए तरीकाें में से किसी एक के ज़रिए ट्रांसकोड किया गया पेज देखने का अनुरोध करते हैं तो, आपको "ट्रांसकोड नहीं किया गया" सूचना दिखाई देगी.

पेज लोड होने में लगे समय की तुलना करना

आप Web Light पेज और ट्रांसकोड न किए गए पेज लाेड हाेने में लगने वाले समय की तुलना, देख सकते हैं (इस टेस्ट में कुछ मिनट लगते हैं).

Web Light को पेज ट्रांसकाेड करने से राेकना

अगर आप नहीं चाहते कि आपके पेज ट्रांसकोड किए जाएं, तो एचटीटीपी हेडर काे इस तरह सेट करें कि पेज खाेले जाने पर "Cache-Control: no-transform" दिखे. अगर Google यह हेडर देखता है, तो उपयोगकर्ताओं को ट्रांसकोड किए गए पेज के बजाय आपका मूल पेज दिखाया जाएगा.

ध्यान दें: Web Light का उपयोगकर्ता एजेंट अब भी आपके पेज पर यह जांच कर सकता है कि वहां no-transform हेडर है या नहीं. ऐसा तब होता है, जब कोई उपयोगकर्ता, खोज नतीजों में आपके पेज पर क्लिक करता है. ऐसे में, आपको अब भी कुछ Web Light ट्रैफ़िक मिल सकता है. हालांकि, हम पेज को ट्रांसकोड नहीं करेंगे, ताकि आप इन अनुरोधों को सुरक्षित रूप से अनदेखा कर सकें. हम एचटीटीपी हेडर की जांच के लिए, पेज पर जाने की संख्या को कम करने की कोशिश कर रहे हैं.

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

सामान्य

उपयोगकर्ता को Web Light पेज कब दिखाई देंगे?

  • उपयोगकर्ताओं को Web Light पेज सिर्फ़ तभी दिखाए जाएंगे, जब Google काे पता चलता है कि वे धीमा इंटरनेट कनेक्शन इस्तेमाल कर रहे हैं.

क्या Google Analytics मेरे पेज पर काम करेगा?

  • हां. ध्यान दें कि हम उन ही आंकड़ाें की रिपाेर्ट करते हैं जाे पेज का आकार छाेटा रखने और इसे जल्दी लोड करने में मदद करते हैं: उदाहरण के लिए, इवेंट ट्रैकिंग की रिपोर्ट नहीं की जाती है. साथ ही, फ़िलहाल हम सिर्फ़ 'यूनिवर्सल Analytics' (analytics.js JavaScript लाइब्रेरी) के साथ काम करते हैं. 
    किसी पेज के ट्रांसकोड किए गए वर्शन से जुड़े आंकड़े, Analytics में पेज के होस्ट नाम के आखिर में googleweblight.com जाेड़कर दिखाए जाते हैं. इसलिए, अगर example.com/mypage पर आपका कोई पेज है, तो ट्रांसकोड न किए गए पेज के आंकड़े example.com/mypage के रूप में दिखाए जाते हैं. वहीं, ट्रांसकोड किए गए पेज के आंकड़े example.com.googleweblight.com/mypage के रूप में दिखाए जाते हैं.

क्या मेरे पेज उन उपयोगकर्ताओं के लिए ट्रांसकोड किए जाएंगे जो तेज़ रफ़्तार वाला इंटरनेट इस्तेमाल कर रहे हैं?

  • अगर कोई उपयोगकर्ता तेज़ रफ़्तार इंटरनेट इस्तेमाल कर रहा है, तो पेज ट्रांसकोड नहीं किए जाएंगे.

क्या मेरे पेज डेस्कटॉप कंप्यूटर या टैबलेट के ज़रिए खोज करने वाले उपयोगकर्ताओं के लिए ट्रांसकोड किए जाएंगे?

  • पेजों को सिर्फ़ मोबाइल फ़ोन पर खोज कर रहे उपयोगकर्ताओं के लिए ट्रांसकोड किया जाएगा, डेस्कटॉप या टैबलेट के उपयोगकर्ताओं के लिए नहीं.

पेज को किन ब्राउज़र के लिए ट्रांसकोड किया जाता है? 

  • फ़िलहाल, पेजों को Chrome, Android ब्राउज़र (2.3 या इसके बाद वाले वर्शन) और Google Go के ज़रिए की जाने वाली खोज के लिए, ट्रांसकोड किया जाता है.

क्या मेरे ट्रांसकोड किए गए पेज को कैश मेमाेरी में सेव किया जाता है?

  • अाम ताैर पर पेजों को तब ट्रांसकोड किया जाता है, जब उपयोगकर्ता पेज के माैजूदा वर्शन से इसके लिए अनुरोध करता है. Google पेज की मुख्य सामग्री को ज़्यादा से ज़्यादा 24 घंटे के लिए कैश मेमाेरी में सेव करता है. वहीं, सीएसएस, जेएस और इमेज जैसे दूसरे संसाधनों काे कैश मेमाेरी में ज़्यादा समय के लिए सेव किया जा सकता है.

सिर्फ़ खोज नतीजाें में दिखाया गया पेज ट्रांसकोड किया जाता है या पूरी साइट?

अगर उपयोगकर्ता किसी ट्रांसकोड किए गए पेज से ही क्लिक करके दूसरे पेजों पर जाते हैं तो, उन पेजों को भी ट्रांसकोड किया जाता है. ऐसा तब नहीं किया जाता है, जब पेज काे ट्रांसकोड नहीं किया जा सकता या पेज के मालिक ने इसे ट्रांसकोड न करने के लिए कहा हो.

विज्ञापन और आय

विज्ञापन से होने वाली मेरी आय पर ट्रांसकोड किया गया पेज क्या असर डालेगा? 

  • फ़िलहाल, हम पेजों पर कई विज्ञापन नेटवर्क कंपनियों के विज्ञापन दिखाते हैं. साथ ही, हम और भी विज्ञापन नेटवर्क कंपनियों के विज्ञापन शामिल करने पर काम कर रहे हैं. हमारी जांच में पता चला है कि ट्रांसकोड नहीं की गई साइटों के मुकाबले, ट्रांसकोड की गई साइटों पर 50% ज़्यादा ट्रैफ़िक आता है. हम उम्मीद करते हैं कि इससे आपको अपनी साइट से कमाई करने में मदद मिलेगी.

फ़िलहाल, पेज पर किन विज्ञापन नेटवर्क कंपनियों के विज्ञापन दिखाए जाते हैं? 

  • अक्टूबर 2018 से, हम Sovrn, Zedo, AdSense, और Google Publisher Tags (GPT) के विज्ञापन दिखा रहे हैं. हम दूसरी कई विज्ञापन नेटवर्क कंपनियाें के साथ जुड़ने की कोशिश कर रहे हैं.

किसी एक पेज पर कितने विज्ञापन दिखाए जाते हैं?

  • पेज का आकार कम रखने और पेजों को जल्दी से लोड करने के लिए, हम किसी पेज पर एक तय संख्या में ही विज्ञापन दिखाते हैं. फ़िलहाल, यह संख्या तीन है. 

मैं एक से ज़्यादा विज्ञापन नेटवर्क कंपनियों का इस्तेमाल करता/करती हूं. Google कैसे चुनता है कि किन विज्ञापनों को दिखाया जाए?

  • फ़िलहाल विज्ञापन उसी क्रम में चुने जाते हैं जिस क्रम में मूल पेज से उनका अनुरोध किया जाता है.

मेरी एक विज्ञापन नेटवर्क कंपनी है और मेरा नेटवर्क Google से नहीं जुड़ा है. अपनी कंपनी काे Google से जोड़ने के लिए मुझे क्या करना होगा?

ट्रांसकोड करने से राेकना

अगर मैं Web Light सुविधा के ज़रिए अपने पेज ट्रांसकाेड नहीं कराना चाहूं तो क्या होगा?

  • अगर आप अपने पेज काे ट्रांसकाेड नहीं कराने का विकल्प चुनते हैं, तो Google आपके पेज को धीमे इंटरनेट कनेक्शन वाले डिवाइस के उपयोगकर्ताओं के लिए ट्रांसकोड नहीं करेगा. कृपया ध्यान दें कि इससे आपकी साइट पर आने वाले ट्रैफ़िक में कमी आ सकती है. ऐसा इसलिए हाेगा, क्याेंकि धीमे इंटरनेट कनेक्शन वाले डिवाइस के ज़रिए खोज कर रहे उपयाेगकर्ताओं काे आपका पेज लोड करने में ज़्यादा समय लगेगा. 

मैंने ट्रांसकोड करने पर राेक नहीं लगाई थी, मेरा पेज ट्रांसकोड क्यों नहीं किया गया?

  • तकनीकी दिक्कताें की वजह से फ़िलहाल कुछ पेजों को ट्रांसकोड नहीं किया जा सकता. खोज नतीजाें में, इन पेजों को ट्रांसकोड न किए गए पेजों के रूप में भी लेबल किया जाएगा. इनमें ये साइटें शामिल हैं: 
    • ऐसी साइटें जिनके लिए कुकी ज़रूरी हैं (उदाहरण के ताैर पर, मनमुताबिक बनाई गई साइटें या ऐसी साइटें जिनका इस्तेमाल करने से पहले आपको उनमें लॉग इन करना पड़ता है) 
    • ऐसी साइटें जिन पर ज़्यादा डेटा इस्तेमाल हाेता है (उदाहरण के ताैर पर, वीडियो वाली साइटें)
    • दूसरी साइटें, जिन्हें ट्रांसकोड करने में तकनीकी रूप से दिक्कत आती है.

Google Web Light का उपयोगकर्ता एजेंट, robots.txt के नियमों का पालन नहीं करता है

Web Light के उपयोगकर्ता एजेंट का इस्तेमाल सिर्फ़ तब किया जाता है, जब ब्राउज़ से जुड़े अनुरोध, वेबसाइट पर आने वाला कोई व्यक्ति करता है. इसका मकसद, robots.txt के ऐसे नियमों का पालन नहीं करना है जिनसे अपने-आप होने वाले क्रॉल के अनुरोधों को ब्लॉक किया जाता है.

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?