Google Play की पेमेंट पॉलिसी को समझना

Academy Logo

मुफ़्त में सीखने की सुविधा.

Academy for App Success पर जाकर, Google Play की पेमेंट पॉलिसी के बारे में ज़्यादा जानें.

Google Play पर मौजूद ऐप्लिकेशन में डिजिटल वस्तुओं और सेवाओं की इन-ऐप्लिकेशन खरीदारी की सुविधा देने वाले सभी डेवलपर के लिए, Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल करना हमेशा से ज़रूरी रहा है. उपयोगकर्ता ऐसे प्लैटफ़ॉर्म पर ज़्यादा भरोसा करते हैं जहां पैसे चुकाने के लिए सुरक्षित और भरोसेमंद तरीके उपलब्ध होते हैं. साथ ही, पेमेंट से जुड़े सभी काम एक ही जगह पर हो जाते हैं. 

हमने अपनी पेमेंट पॉलिसी में साफ़ तौर पर बताया है कि अपने ऐप्लिकेशन में डिजिटल वस्तुएं और सेवाएं बेचने वाले सभी डेवलपर के लिए Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल करना ज़रूरी है. ऐसे मौजूदा ऐप्लिकेशन जो फ़िलहाल किसी अन्य बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल कर रहे हैं, उन्हें अपडेट की गई इस नीति की ज़रूरी शर्तों का पालन करना होगा. इसके तहत, उन्हें उस बिलिंग सिस्टम को हटाना होगा. आप नियमों का पालन करने की समयावधि के बारे में ज़्यादा जानकारी और अक्सर पूछे जाने वाले सवाल नीचे देख सकते हैं.

Google Play के बिलिंग सिस्टम के बारे में जानकारी

Google Play के बिलिंग सिस्टम की मदद से, आप अपने Android ऐप्लिकेशन में डिजिटल प्रॉडक्ट और कॉन्टेंट बेच सकते हैं. आप वन-टाइम प्रॉडक्ट या बार-बार ली जाने वाली सदस्यताओं को बेचने के लिए, Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल कर सकते हैं. Google Play के बिलिंग सिस्टम को जोड़ने का तरीका जानने के लिए, Android डेवलपर साइट पर जाएं.

ऐसी खरीदारी जिनके लिए Google Play के बिलिंग सिस्टम की ज़रूरत होती है

  • डिजिटल आइटम (जैसे कि वर्चुअल मुद्राएं, हारने के बाद खेलने के कुछ और मौके, खेलने के लिए कुछ और समय, कुछ और आइटम, किरदार और अवतार);
  • सदस्यता सेवाएं (जैसे कि फ़िटनेस, गेम, डेटिंग, शिक्षा, संगीत, वीडियो, और अन्य कॉन्टेंट से जुड़ी सदस्यता सेवाएं);
  • ऐप्लिकेशन की सुविधाएं या कॉन्टेंट (जैसे, किसी ऐप्लिकेशन का ऐसा वर्शन जिस पर कोई विज्ञापन न हो या नई सुविधाएं जो मुफ़्त वर्शन पर मौजूद नहीं हैं); और
  • क्लाउड सॉफ़्टवेयर और सेवाएं (जैसे कि डेटा स्टोर करने वाली सेवाएं, कारोबार की उत्पादकता बढ़ाने वाला सॉफ़्टवेयर, और फ़ाइनेंशियल मेनेजमेंट वाला सॉफ़्टवेयर).

ऐसी खरीदारी जिनके लिए Google Play के बिलिंग सिस्टम की ज़रूरत नहीं होती है

  • किराने का सामान, कपड़े, घर का सामान, इलेक्ट्रॉनिक्स जैसी चीज़ें खरीदना या किराये पर लेना;
  • परिवहन सेवाएं, हवाई जहाज़ का किराया, जिम की सदस्यता, खाने की डिलीवरी जैसी शुल्क देकर ली जाने वाली सेवाएं; और
  • क्रेडिट कार्ड या बिजली-पानी जैसी सुविधाओं का बिल चुकाना.

Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल पीयर-टू-पीयर पेमेंट के तहत पैसे चुकाने, ऑनलाइन जुए को बढ़ावा देने वाले कॉन्टेंट या किसी भी ऐसी प्रॉडक्ट कैटगरी के लिए नहीं किया जा सकता जो Google पेमेंट सेंटर के कॉन्टेंट की नीति के तहत गलत मानी जाती है.

नियमों के पालन की समयावधि

सभी नए ऐप्लिकेशन जो 20 जनवरी, 2021 के बाद सबमिट किए जाएंगे उन्हें नई पेमेंट पॉलिसी के मुताबिक होना चाहिए. ऐसा होने पर ही, वे Google Play पर उपलब्ध हो सकेंगे.

ऐसे मौजूदा ऐप्लिकेशन जो फ़िलहाल किसी अन्य बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल कर रहे हैं, उन्हें अपडेट की गई इस नीति की ज़रूरी शर्तों का पालन करना होगा. इसके तहत, उन्हें उस बिलिंग सिस्टम को हटाना होगा. ऐसे ऐप्लिकेशन में कोई भी ज़रूरी बदलाव करने का समय हम बढ़ा रहे हैं. आप 30 सितंबर, 2021 तक ऐसा कर सकते हैं. 

भारत में रहने वाले डेवलपर की ओर से सबमिट किए गए नए और मौजूदा ऐप्लिकेशन के लिए 31 मार्च, 2022 से इन नियमों का पालन करना ज़रूरी होगा. वहीं, दक्षिण कोरिया में रहने वाले डेवलपर की ओर से सबमिट किए गए नए और मौजूदा ऐप्लिकेशन को 30 सितंबर, 2021 से इन नियमों का पालन करना होगा.

पिछले साल की चुनौतियों को देखते हुए, हमें पता चला है कि ऐप्लिकेशन में पेमेंट की नीति का पालन करने के लिए, कुछ डेवलपर को ज़्यादा समय की ज़रूरत है. डेवलपर, दिए गए समय को बढ़ाने के लिए औपचारिक तौर पर अनुरोध सबमिट कर सकेंगे. नीति का पालन करने की नई संभावित तारीख 31 मार्च, 2022 तक, अलग-अलग ऐप्लिकेशन के हिसाब से इस अनुरोध का मूल्यांकन किया जाएगा. आप समय बढ़ाने का अनुरोध करने के लिए, इस फ़ॉर्म का इस्तेमाल कर सकते हैं.

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या मैं अपने ऐप्लिकेशन को Android के किसी दूसरे ऐप्लिकेशन स्टोर या अपनी वेबसाइट की मदद से उपलब्ध करा सकता/सकती हूं? 

हां, आप अपने ऐप्लिकेशन को जैसे चाहें वैसे उपलब्ध करा सकते हैं. एक खुले नेटवर्क के रूप में, ज़्यादातर Android डिवाइस पर एक से ज़्यादा स्टोर पहले से इंस्टॉल होते हैं–और उपयोगकर्ता चाहें, तो अन्य स्टोर भी इंस्टॉल कर सकते हैं. Android की ओर से डेवलपर को यह आज़ादी और सुविधा मिलती है कि वे अपने ऐप्लिकेशन, सीधे वेबसाइटों से, डिवाइसों पर पहले से लोड करके या Android के किसी दूसरे ऐप्लिकेशन स्टोर पर आसानी से उपलब्ध करा सकते हैं. ऐसा करने के लिए, उन्हें Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल करने की ज़रूरत नहीं है.

कई कारोबार पहले अपनी सेवाएं फ़िज़िकल तौर पर उपलब्ध कराते थे, लेकिन अब उन्हें ये सेवाएं ऑनलाइन (जैसे कि डिजिटल लाइव इवेंट) उपलब्ध करानी पड़ रही हैं. क्या इन ऐप्लिकेशन के लिए, Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल करना ज़रूरी है?

हम समझते हैं कि दुनिया भर में महामारी के फैलने से कई कारोबारों को अपनी सेवाओं को फ़िज़िकल की जगह डिजिटल तौर पर उपलब्ध कराने और ग्राहकों के साथ नए तरीके से जुड़ने में समस्याओं का सामना करना पड़ा. उदाहरण के लिए, क्लास का ऑनलाइन होना और उपयोगकर्ताओं को फ़िज़िकल की जगह ऑनलाइन अनुभव की सुविधा उपलब्ध कराना. इन कारोबारों को अगले 12 महीनों तक पेमेंट पॉलिसी का पालन करने की ज़रूरत नहीं है. साथ ही, हम अगले साल भी इस स्थिति का फिर से आकलन करेंगे. वे डेवलपर जो इन बदलावों का सामना कर रहे हैं, हम उनका अनुभव जानना चाहेंगे. साथ ही, नए उपयोगकर्ताओं तक ऑनलाइन पहुंचने और कारोबार को बढ़ाने में आपकी मदद करने के लिए हम हमेशा तैयार हैं. हालांकि, इन सब कोशिशों के दौरान हमारी सबसे पहली प्राथमिकता यही रहती है कि उपयोगकर्ताओं को सुरक्षित और बेहतर अनुभव मिले.

क्या Google के ऐप्लिकेशन को भी इस नीति का पालन करना होगा?

हां. डेवलपर के लिए Google Play की नीतियां–इसमें डिजिटल वस्तुओं की इन-ऐप्लिकेशन खरीदारी के लिए, Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल करने की शर्तें शामिल हैं–यह Google के ऐप्लिकेशन और Google Play पर मौजूद सभी ऐप्लिकेशन पर लागू होती हैं.

क्या मैं अपने उपयोगकर्ताओं को पैसे चुकाने के दूसरे तरीकों के बारे में बता सकता/सकती हूं?

हां. आप अपने ऐप्लिकेशन के बाहर, उपयोगकर्ताओं को खरीदारी करने के अन्य विकल्पों के बारे में बता सकते हैं. सदस्यता से जुड़े ऑफ़र और खास कीमत के बारे में बताने के लिए, आप ऐप्लिकेशन के बाहर, ईमेल मार्केटिंग और दूसरे चैनल का इस्तेमाल कर सकते हैं.

किसी ऐप्लिकेशन में डेवलपर, लोगों को Google Play के बिलिंग सिस्टम के अलावा, पैसे चुकाने के किसी दूसरे तरीके पर नहीं ले जा सकते. जैसे कि उस वेबपेज से सीधे लिंक करना जो आपको पैसे चुकाने के किसी दूसरे तरीके पर ले जा सकता है या फिर ऐसी भाषा का इस्तेमाल करना जिससे उपयोगकर्ता को ऐप्लिकेशन के बाहर, डिजिटल आइटम खरीदने का बढ़ावा मिलता हो.

डेवलपर, उपयोगकर्ताओं को खाता मैनेजमेंट पेज और निजता नीति जैसी जानकारी देने के साथ-साथ उन्हें सहायता केंद्र पर भी ले जा सकते हैं. बशर्ते, ऐसा कोई भी वेबपेज, उपयोगकर्ताओं को पैसे चुकाने के किसी दूसरे तरीके पर न ले जाता हो.

सिर्फ़ इस्तेमाल के लिए उपलब्ध सेवाओं और प्रॉडक्ट (ऐसे ऐप्लिकेशन जिनमें यह सुविधा नहीं दी जाती कि लोग डिजिटल वस्तुओं या सेवाओं का ऐक्सेस खरीद सकें) के लिए, डेवलपर खरीदारी के अन्य विकल्पों के बारे में ज़्यादा जानकारी दे सकते हैं. हालांकि, इस जानकारी में न तो सीधे तौर पर लिंक दिए जा सकते हैं और न ही इस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया जा सकता है:

  • "आप इस किताब को सीधे हमारी वेबसाइट से खरीद सकते हैं"
  • "अपनी सदस्यता को प्रीमियम में अपग्रेड करने के लिए हमारी वेबसाइट पर जाएं"
  • "ऐप्लिकेशन में यह फ़िल्म किराये पर उपलब्ध नहीं है. अगर आप कोई फ़िल्म ourwebsite.com से किराये पर लेते हैं, तो वह फ़िल्म ऐप्लिकेशन में देखने के लिए तुरंत उपलब्ध हो जाएगी"
  • "खेलने के कुछ और मौके चाहिए? इसे खरीदने के लिए हमारी वेबसाइट पर जाएं"
क्या मैं अपना ऐप्लिकेशन इस्तेमाल करने वाले लोगों से, अन्य प्लैटफ़ॉर्म पर प्रमोशन के बारे में बात कर सकता/सकती हूं?

बिल्कुल. हम भी आपकी तरह ऐप्लिकेशन डेवलपर हैं और हम जानते हैं कि अपने उपयोगकर्ताओं के साथ संपर्क बनाए रखना कितना ज़रूरी है. आप उन्हें ईमेल भेज सकते हैं या ऐप्लिकेशन के बाहर, दूसरे तरीकों से भी अपने ऑफ़र के बारे में बता सकते हैं, फिर चाहे वे Google Play पर मौजूद ऑफ़र से अलग ही क्यों न हों.

क्या मुझे अलग-अलग प्लैटफ़ॉर्म पर ऐप्लिकेशन की सुविधाएं, कीमतें, और अनुभव अलग-अलग मिलेंगे?

हां. यह ज़रूरी नहीं है कि सभी प्लैटफ़ॉर्म पर सुविधाएं, अनुभव, और कीमतें एक जैसी हों. आप प्लैटफ़ॉर्म, सुविधाओं, और कीमत तय करने के मॉडल के हिसाब से अपने ऐप्लिकेशन के अलग-अलग वर्शन बना सकते हैं.

क्या मैं Play पर सिर्फ़ उपभोग के लिए इस्तेमाल होने वाले (रीडर) ऐप्लिकेशन बेच सकता/सकती हूं?

हां. Google Play हर ऐप्लिकेशन को सिर्फ़ उपभोग के लिए इस्तेमाल किए जाने की अनुमति देता है. भले ही, वह पैसे देकर ली जाने वाली सेवा का हिस्सा हो. उदाहरण के लिए, उपयोगकर्ता ऐप्लिकेशन खुलने पर लॉगिन कर सकता है. साथ ही, वह कहीं और से भी उस कॉन्टेंट को ऐक्सेस कर सकता है जिसके लिए उसने पैसे चुकाए हैं.

क्या मेरे ऐप्लिकेशन की कैटगरी के हिसाब से, बिलिंग पॉलिसी बदल जाती है?

नहीं. कारोबारी या उपभोक्ता ऐप्लिकेशन और संगीत या ईमेल जैसे वर्टिकल, सभी के लिए Google Play पर एक जैसी पॉलिसी लागू होती है.

क्या मैं अपने ग्राहकों को सीधे रिफ़ंड दे सकता/सकती हूं?

हां. आप अब भी सीधे अपने ग्राहकों को रिफ़ंड और दूसरी ग्राहक सहायता उपलब्ध करा सकते हैं.

क्या Google Play, क्लाउड गेमिंग ऐप्लिकेशन को अनुमति देता है?

हां. किसी भी डेवलपर के क्लाउड गेम स्ट्रीमिंग ऐप्लिकेशन, Google Play पर उपलब्ध हो सकते हैं, बशर्ते वे Google Play की नीतियों का पालन करते हों.

क्या वस्तु या सेवाओं, जैसे कि बीमा, स्टॉक ट्रेड, निवेश से जुड़ी सलाह या टैक्स तैयार और फ़ाइल करने में मदद करने वाले ऐप्लिकेशन को, Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल करना चाहिए?

नहीं. वस्तुएं खरीदने या फिर बीमा, स्टॉक ट्रेड, निवेश से जुड़ी सलाह या टैक्स तैयार और फ़ाइल करने में मदद करने जैसी सेवाएं देने वाले ऐप्लिकेशन को, Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

मेरा ऐप्लिकेशन चिकित्सा से जुड़ी सेवाएं मुहैया कराता है. इस काम में होने वाले लेन-देन के लिए, क्या मुझे Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल करना चाहिए?

कानून के दायरे में आने वाली चिकित्सा सेवाओं से जुड़े लेन-देन में, Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. कानून के दायरे में आने वाली चिकित्सा सेवाओं में, उन लोगों या कंपनियों की सेवाएं शामिल हैं जिन्हें लाइसेंस मिल चुका है. इनका मकसद, स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं का पता लगाना (रोकना, उनका इलाज करना, समस्या को कम करना या ठीक करना) या उन्हें मैनेज करना है. इन सेवाओं में डॉक्टर से सलाह लेना, दवाओं के लिए डॉक्टर का पर्चा पाना या लाइसेंस रखने वाले डॉक्टर से इलाज कराना शामिल है.

क्या Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल करने के लिए, उन वस्तुओं या सेवाओं को खरीदना ज़रूरी होता है जिन्हें ऐप्लिकेशन में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता?

Google Play की पैसे चुकाने की नीति, सिर्फ़ ऐसी वस्तुओं और सेवाओं पर लागू होती है जिन्हें 'Play नेटवर्क' में इस्तेमाल किया जा सकता है. दूसरे शब्दों में, ऐसी डिजिटल वस्तुओं या सेवाओं की खरीदारी के लिए Google Play के बिलिंग सिस्टम की ज़रूरत नहीं होती जिन्हें सिर्फ़ ऐप्लिकेशन के बाहर इस्तेमाल और ऐक्सेस किया जा सकता है. उदाहरण के लिए, फ़ोन की रिंगटोन, सिर्फ़ वेबसाइट पर ऐक्सेस किया जा सकने वाला कॉन्टेंट, और ऐसे ऐप्लिकेशन जो क्लाउड सेवा प्लैटफ़ॉर्म मैनेज करते हैं, लेकिन ऐप्लिकेशन में क्लाउड स्टोरेज का ऐक्सेस नहीं देते.

क्या मुझे अपने ऐप्लिकेशन में उपहार कार्ड बेचने के लिए, Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल करना होगा?

नहीं. ऐप्लिकेशन में उपहार कार्ड बेचने के लिए, Google Play के बिलिंग सिस्टम की ज़रूरत नहीं होती. भले ही, वह कोई ई-उपहार कार्ड हो या उसे उपयोगकर्ता को डाक से भेजा गया हो.

क्या मैं Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल किए बिना, अपने ऐप्लिकेशन में लॉयल्टी या इनाम के लिए पॉइंट जारी कर सकता/सकती हूं?

हां. Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल किए बिना, ऐप्लिकेशन में इनाम या पॉइंट जारी किए जा सकते हैं. उपयोगकर्ता, Google Play के बिलिंग सिस्टम के बिना ही, इनाम वाले या मिले हुए इन पॉइंट का इस्तेमाल डिजिटल वस्तुएं और सेवाएं खरीदने में कर सकते हैं. हालांकि, ध्यान रखें कि अगर ऐप्लिकेशन में इन पॉइंट (या दूसरे तरह की वर्चुअल मुद्रा) की बिक्री की जाती है, तो Google Play के बिलिंग सिस्टम का इस्तेमाल करना होगा.

मैं दूरसंचार या केबल सेवा देने वाला/वाली हूं. इस नीति का मेरे ऐप्लिकेशन पर क्या असर होगा?

अगर आप दूरसंचार, ब्रॉडबैंड, मल्टीचैनल सैटलाइट, केबल या मैनेज किए हुए IPTV सेवा देने वाले हैं, (जिसे "फ़िज़िकल सर्विस" कहा जाता है) तो आप कुछ खास डिजिटल वस्तुओं/सेवाओं के शुल्क को ग्राहक के मौजूदा सेवा बिल के साथ जोड़ सकते हैं. यह ऐसी वस्तुएं/सेवाएं हैं जो बिना मोबाइल के आपकी सेवाएं देने वाले बिक्री चैनल पर भी उपलब्ध होती हैं.  ग्राहक के फ़िज़िकल सर्विस बिल का इस्तेमाल पैसे चुकाने के तरीके के रूप में किया जाना चाहिए. साथ ही, डिजिटल वस्तुएं/सेवाएं सिर्फ़ आपके उन ऐप्लिकेशन में बेची जा सकती हैं जहां उपयोगकर्ता, उन्हें मिलने वाली फ़िज़िकल सर्विस को मैनेज कर सकते हैं या फिर जहां फ़िजिकल सर्विस लेने वाले सदस्यों के लिए ही ऐप्लिकेशन में खरीदारी की सुविधा उपलब्ध होती है.  उदाहरण के लिए:

  • डिजिटल/फ़िज़िकल सर्विस के ऐसे सदस्यता बंडल ऑफ़र करना जो बिना मोबाइल के आपकी सेवा देने वाले बिक्री चैनल पर ज़्यादा से ज़्यादा लोगों के लिए उपलब्ध हों. साथ ही, उपयोगकर्ता को इन सेवाओं का फ़िज़िकल सर्विस बिल भेजा जाता हो.
  • पैसे देकर इस्तेमाल की जाने वाली डिजिटल सेवा के तौर पर ऐसे म्यूज़िक, डिजिटल कॉमिक्स या डिजिटल बुक ऑफ़र करना जिनका बिल उपयोगकर्ता को फिज़िकल सर्विस बिल के तौर पर भेजा जाता हो. इनमें मांग पर उपलब्ध कराए जाने वाले हर वीडियो के लिए पैसे चुकाने से जुड़ी सेवा भी शामिल है.
  • उन उपयोगकर्ताओं को मांग पर वीडियो उपलब्ध कराने की सेवा ऑफ़र करना जिन्होंने एक से ज़्यादा चैनलों वाले सैटलाइट, केबल या मैनेज किए हुए IPTV सेवा की सदस्यता ले रखी है.

मिलता-जुलता कॉन्टेंट

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके

true
खोजें
खोज साफ़ करें
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
खोज मदद केंद्र
true
92637
false