अमान्य ट्रैफ़िक के बारे में जानकारी

किसी विज्ञापन पर होने वाले ऐसे क्लिक और इंप्रेशन को अमान्य ट्रैफ़िक कहा जाता है, जो उपयोगकर्ताओं की दिलचस्पी की वजह से न होकर किन्हीं दूसरी वजहों से हुए हों. ऑटोमेटेड टूल (वैसे सॉफ़्टवेयर जो क्लिक और इंप्रेशन अपने-आप जनरेट करते हैं) से होने वाले क्लिक और इंप्रेशन अमान्य ट्रैफ़िक के उदाहरण हैं. साथ ही, उपयोगकर्ताओं से अनजाने में हुए क्लिक भी इसी के तहत आते हैं. अगर कोई व्यक्ति आपके विज्ञापन पर दो बार क्लिक कर देता है, तो यह अनजाने में हुए क्लिक का उदाहरण है. आपसे अमान्य क्लिक और इंप्रेशन के पैसे नहीं लिए जाते, क्योंकि आम तौर पर इनकी कोई खास अहमियत नहीं होती.

अमान्य ट्रैफ़िक के प्रकार

इस तरह के क्लिक और इंप्रेशन अमान्य माने जाते हैं:

  • अनजाने में हुए क्लिक, जिनसे कोई फ़ायदा नहीं होता है. जैसे, दो बार हुए क्लिक का दूसरा क्लिक
  • मैन्युअल क्लिक, जिनका मकसद किसी व्यक्ति के विज्ञापन की लागतें बढ़ाना हो
  • मैन्युअल क्लिक, जिनका मकसद आपके विज्ञापन होस्ट करने वाले वेबसाइट मालिकों का मुनाफ़ा बढ़ाना हो
  • ऑटोमेटेड टूल, रोबोट या दूसरे गुमराह करने वाले सॉफ़्टवेयर से होने वाले क्लिक और इंप्रेशन
  • ऐसे इंप्रेशन जिनका मकसद किसी विज्ञापन देने वाले की क्लिक मिलने की दर (सीटीआर) को आर्टिफ़िशियल तरीके से कम करना हो

Google, अमान्य ट्रैफ़िक को कैसे रोकता है

हमारा सिस्टम, अमान्य लगने वाले इंटरैक्शन को फ़िल्टर करके अलग कर देता है, ताकि वे विज्ञापन देने वालों की खाता रिपोर्ट में शामिल न हो पाएं. साथ ही, यह सिस्टम किसी विज्ञापन पर होने वाले हर इंटरैक्शन की जांच करता है. इसके लिए, Google हर इंटरैक्शन से जुड़े डेटा की कई चीज़ों पर गौर करता है. जैसे, आईपी पता, इंटरैक्शन का समय, डुप्लीकेट इंटरैक्शन, और इसी तरह के दूसरे इंटरैक्शन पैटर्न. इसके बाद, हमारा सिस्टम इन मामलों की जांच करके अमान्य लगने वाले इंटरैक्शन को फ़िल्टर कर देता है, ताकि वे आपके खाते के डेटा में दर्ज न हों.

अमान्य ट्रैफ़िक को रोकने के लिए Google की सुरक्षा के बारे में ज़्यादा जानकारी.

Google, अमान्य ट्रैफ़िक को कैसे प्रबंधित करता है

जब हमारा सिस्टम यह पता लगाता कि आपके विज्ञापनों को अमान्य ट्रैफ़िक मिला है, तो हम उन्हें आपकी रिपोर्ट से अपने-आप निकाल देते हैं, ताकि उनके लिए आपसे पैसे न लिए जाएं. हालांकि, अगर आप चाहें, तो अमान्य ट्रैफ़िक का डेटा देख सकते हैं. 

अगर हमें ऐसे अमान्य इंटरैक्शन का पता चलता है, जो पिछले दो महीने में किसी भी तरह से हमारी ऑटोमेटेड जांच से छूट गए हैं और उनके लिए आपसे शुल्क लिया गया है, तो हम वह शुल्क आपके खाते में वापस लौटा देंगे. अमान्य इंटरैक्शन के इन क्रेडिट को देखने का तरीका:

  1. Google Ads खाते में साइन इन करें. 
  2. खाते के सबसे ऊपर दाएं कोने में, टूल आइकॉन  पर क्लिक करें. 
  3. "सेट अप" के नीचे, बिलिंग और भुगतान चुनें. 

आपको मिले सभी अमान्य इंटरैक्शन का क्रेडिट, लेन-देन इतिहास पेज पर "अमान्य गतिविधि" लेबल के तहत दिखेगा. साथ ही, यह शुल्क आपके खाते में वापस कर दिया जाएगा.

अगर हमें आपके खाते में अमान्य इंप्रेशन मिलता है, तो इस डेटा से आपके कीवर्ड का क्वालिटी स्कोर तय करने वाली क्लिक मिलने की दर (सीटीआर) पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

रिपोर्ट एडिटर

'रिपोर्ट एडिटर' डेटा की जांच करने वाला टूल है. इसकी मदद से आप कई डाइमेंशन वाली टेबल और चार्ट का इस्तेमाल करके अपने डेटा को बेहतर ढंग से समझ सकते हैं.

  • खींचने और छोड़ने की सुविधा के आसान इंटरफ़ेस से आप कई डाइमेंशन वाली टेबल और चार्ट तेज़ी से बना सकते हैं. इस सुविधा से यह फ़ायदा होता है कि अपने डेटा की गहन जांच करने के लिए उसे डाउनलोड नहीं करना पड़ता. 
  • कई सेगमेंट में जांच करने की सुविधा से डेटा को अपनी टेबल और चार्ट में विवरण के स्तर के हिसाब से बांट सकते हैं.
  • कस्टम चार्ट की सहायता से आप अपने डेटा के पैटर्न और रुझान तेज़ी से देख सकते हैं.
  • फ़िल्टर करने और क्रम से लगाने की बेहतर सुविधा से आप डेटा को अलग-अलग मेट्रिक (उदाहरण, मोबाइल क्लिक) के हिसाब से फ़िल्टर कर सकते हैं और कई कॉलम के हिसाब से क्रम में लगा सकते हैं.

रिपोर्ट एडिटर का इस्तेमाल करके अपने डेटा की जांच करने का तरीका जानें.

अमान्य ट्रैफ़िक पर खुद नज़र रखना

अगर आप अपने खाते में अमान्य इंटरैक्शन की वजह से परेशान हैं, तो अपने खाते की गतिविधि पर नज़र रखने के लिए आपके पास कई विकल्प हैं.

  • अपने खाते के आंकड़ों में अमान्य इंटरैक्शन ट्रैक करें: जैसा कि ऊपर दिए गए सेक्शन में बताया गया है, अपने कैंपेन के आंकड़ों की टेबल में अमान्य इंटरैक्शन डेटा कॉलम जोड़ लें, ताकि आप अपने खाते में होने वाले अमान्य इंटरैक्शन की संख्या और प्रतिशत देख सकें. याद रखें कि आपसे इन इंटरैक्शन के पैसे नहीं लिए जाते. इसलिए, उनका आपके खाते के आंकड़ों पर कोई असर नहीं पड़ता.
  • अपना खाता ऑप्टिमाइज़ करें: अमान्य गतिविधि से बचने के लिए, सबसे पहले अपना खाता ऑप्टिमाइज़ करें. ऐसा करने से आपके विज्ञापनों को सिर्फ़ उन खोजों के क्लिक और इंप्रेशन ही मिलते हैं जिन्हें सबसे बेहतर ढंग से टारगेट किया गया है. ध्यान रखें कि कन्वर्ज़न दर, बेहतरीन ढंग से विज्ञापन पेश करने के सबसे बढ़िया संकेतों में से एक है. जब आप यह पहचान जाते हैं कि आपके खाते के वे कौनसे सेक्शन (कमज़ोर कीवर्ड, विज्ञापन समूह, कैंपेन, बजट वगैरह) हैं जिनकी वजह से कम कन्वर्ज़न मिल रहे हैं, तब आप उन्हें ठीक कर सकते हैं. ऐसा करके आप उन सेक्शन की पहचान भी कर सकते हैं जिनकी वजह से अमान्य गतिविधि हो सकती है.
  • Google Analytics से अपने खाते पर नज़र रखें:Google Analytics एक मुफ़्त टूल है. इसका इस्तेमाल करके आप Google Ads खाते के अलग-अलग पहलुओं पर नज़र सकते हैं. इसमें खाते की कन्वर्ज़न दर, वेबसाइट पर आने वालों का व्यवहार, और कैंपेन की परफ़ॉर्मेंस जैसी कई मेट्रिक शामिल हैं. Google Analytics कई तरह की रिपोर्ट मुहैया कराता है. इन रिपोर्ट से आप अपने विज्ञापनों का ट्रैफ़िक बेहतर बना सकते हैं. आप ऑटो-टैगिंग का इस्तेमाल करके भी अपने कीवर्ड की परफ़ॉर्मेंस ट्रैक कर सकते हैं.
  • 'डिसप्ले नेटवर्क' में कन्वर्ज़न दरों पर नज़र रखें: आप 'डिसप्ले नेटवर्क' में शामिल कैंपेन की परफ़ॉर्मेंस ट्रैक कर सकते हैं. इसके लिए, 'डिसप्ले नेटवर्क' साइटों के प्लेसमेंट की रिपोर्ट जनरेट करके आप विज्ञापनों की कन्वर्ज़न दरों पर नज़र रख सकते हैं. अगर आपको पता चलता है कि 'डिसप्ले नेटवर्क' से मिले क्लिक, Google या 'सर्च नेटवर्क' से मिले क्लिक की तरह ग्राहक में नहीं बदल रहे हैं, तो आप अपनी डिसप्ले नेटवर्क बोलियां कम कर सकते हैं. इसके साथ ही, अगर आप को लगता हैं कि कोई खास 'डिसप्ले नेटवर्क' साइट, क्लिक को ग्राहक में बदलने का काम ठीक से नहीं कर पा रही है, तो आप उसे अपने कैंपेन से हटा सकते हैं.
कम कन्वर्ज़न दरें

कम कन्वर्ज़न दर का मतलब हमेशा यह नहीं होता कि आपको अमान्य इंटरैक्शन मिल रहे हैं. ज़्यादा ट्रैफ़िक के बावजूद कम बिक्री होने के पीछे कई वजहें हो सकती हैं. यहां कम कन्वर्ज़न दरों की कुछ आम वजहें और इन्हें ठीक करने के तरीके बताए गए हैं:

  • बाज़ार की स्थिति, वेबसाइट पर आने वालों के व्यवहार, और वेब कॉन्टेंट में होने वाले बदलाव से आपके कैंपेन की परफ़ॉर्मेंस पर असर पड़ सकता है. विज्ञापन देने वाले कुछ लोगों का लागत पर मुनाफ़ा (आरओआई) कम होता है. इसकी वजह है इंटरनेट विज्ञापन मार्केटप्लेस में उनकी इंडस्ट्री में बढ़ती प्रतियोगिता. हमारी सलाह है कि आप अपने हर कीवर्ड और विज्ञापन की लागत पर होने वाले मुनाफ़े (आरओआई) पर नज़र रखें. साथ ही, अपने कारोबार के लिए सही बजट के मुताबिक अपनी बोलियां बढ़ाएं या घटाएं. बेहतर प्लान के साथ बोली लगाकर अपनी लागत पर मुनाफ़ा (आरओआई) बढ़ाने का तरीका जानें.
  • जिन साइटों तक पहुंचना मुश्किल हो, संभावित ग्राहक उनसे दूर जा सकते हैं. अपनी साइट के डिज़ाइन, लेआउट, और काम करने के तरीके का आकलन करें. Google Analytics की सहायता से आप इसका पता लगा सकते हैं कि क्या विज़िटर आम तौर पर आपकी वेबसाइट के किसी खास बिंदु तक पहुंचकर, खरीदारी किए बिना ही साइट छोड़कर बाहर जा रहे हैं.
  • ऐसे में हो सकता है कि आपके कीवर्ड और विज्ञापन टेक्स्ट सटीक न हों. अगर आप सामान्य कीवर्ड और विज्ञापन टेक्स्ट का इस्तेमाल करते हैं, तो ऐसे में कोई व्यक्ति किसी ऐसे उत्पाद या सेवा की उम्मीद लेकर आपकी साइट पर आ सकता है जो आप उपलब्ध नहीं कराते हैं. बेहतर टारगेटेड कीवर्ड और विज्ञापन टेक्स्ट का इस्तेमाल करने से आपके विज्ञापन सिर्फ़ उन खरीदारों को ही दिखते हैं जिनकी आपके उत्पाद या सेवा में दिलचस्पी होती है.
  • शायद आपका कैंपेन, 'डिसप्ले नेटवर्क' के लिए ऑप्टिमाइज़ नहीं किया गया है: अगर आपका कैंपेन, 'डिसप्ले नेटवर्क' में शामिल है, लेकिन ऑप्टिमाइज़ नहीं है, तो आपके विज्ञापन, 'डिसप्ले नेटवर्क' की उन साइटों पर दिख सकते हैं जो आपके उत्पादों या सेवाओं के हिसाब से सही नहीं हैं. अगर आपके विज्ञापन ऐसी साइटों पर दिखाए जा रहे हो जिन्हें वेबसाइट पर आने वाले लोग ब्राउज़ कर रहे हों, तो ऐसे में इस बात की संभावना बढ जाती है, कि वे आपकी वेबसाइट पर जाकर खरीदारी करेंगे. सबसे अच्छे नतीजों के लिए, यह ज़रूरी है कि आपके हर विज्ञापन समूह में किसी एक ही उत्पाद या सेवा पर फ़ोकस करती एक छोटी, खास कीवर्ड सूची शामिल हो. 'डिसप्ले नेटवर्क' के लिए ऑप्टिमाइज़ करने के बारे में ज़्यादा जानें.

अपने विज्ञापन ट्रैफ़िक को बेहतर ढंग से समझने का तरीका जानें

एक ही आईपी पते से कई क्लिक

अगर एक ही आईपी पते से कई क्लिक मिलते हैं, तो इसकी वजह हमेशा अमान्य गतिविधि ही नहीं होती. ऐसा होने की कई दूसरी वजहें भी हो सकती हैं:

  • बार-बार होने वाली विज़िट: खरीदारी के समय तमाम वेबसाइट पर मौजूद उत्पाद या सेवा की तुलना करने या फिर ज़्यादा जानकारी के लिए आपकी साइट पर वापस लौटने वाले लोग, आपके विज्ञापन पर एक से ज़्यादा बार क्लिक कर सकते हैं.
  • शेयर किए गए आईपी पते: अगर कोई इंटरनेट सेवा देने वाली कंपनी (आईएसपी) कई उपयोगकर्ताओं को एक जैसे आईपी पते देती है, तब भी एक स्रोत से कई क्लिक मिलने का मामला सामने आ सकता है. कुछ ISPs (इंटरनेट सेवा देने वाली कंपनी) बहुत सारे उपयोगकर्ताओं को बाकियों की तुलना में कम शेयर किए गए, रोटेटिंग आईपी पते देती हैं. इस वजह से कई विज़िटर एक जैसे आईपी पतों से आपकी साइट पर पहुंच सकते हैं. इससे ऐसा लगता है कि किसी एक ही विज़िटर ने कई बार क्लिक किया है.
  • वेब सर्वर लॉग: आपकी साइट के वेब सर्वर लॉग में सिर्फ़ विज्ञापन पर क्लिक करके आपकी साइट पर आने वाले लोगों का ही नहीं, बल्कि आपकी वेबसाइट पर आने वाले सभी लोगों का डेटा शामिल होता है. जो लोग आपकी साइट पर आपके विज्ञापनों से नहीं, बल्कि Google Search के नतीजों की वजह से पहुंचे थे, उनके लिए "Google.com" ने रेफ़र किया लिखा दिखाई देगा. भरोसा रखें, आपके खाते से सिर्फ़ उन क्लिक का ही शुल्क लिया जाता है जो आपके विज्ञापनों को मिलते हैं.
  • तीसरे पक्ष का सॉफ़्टवेयर: हमें पता चला है कि कुछ रिपोर्टिंग सॉफ़्टवेयर उन क्लिक को भी रिकॉर्ड करते हैं जिन्हें विज़िटर आपकी वेबसाइट पर एक पेज से दूसरे पेज पर जाने के लिए करता है. इसकी वजह से, आपको ऐसा लग सकता है कि वेबसाइट पर आने वाले किसी उपयोगकर्ता से बहुत कम समय के दौरान बहुत ज़्यादा क्लिक मिले हैं. सिर्फ़ Google Ads के क्लिक को बेहतर ढंग से ट्रैक करने के लिए, हम आपको ऑटो-टैगिंग का इस्तेमाल करने का सुझाव देते हैं.
Google से आने वाले क्लिक

Google से विज्ञापनों पर होने वाले क्लिक के लिए आपके खाते से शुल्क नहीं लिया जाता है. आपको अपने वेब सर्वर लॉग में यह गतिविधि दिखाई दे सकती है, लेकिन भरोसा रखें आपसे इस गतिविधि के लिए शुल्क नहीं लिया जाता है. यह बात Google के वेब-क्रॉलिंग रोबोट पर भी लागू होती है.

ट्रैफ़िक में बढ़ोतरी की आम वजहें

आपके खाते में क्लिक या इंप्रेशन की संख्या में बढ़ोतरी का मतलब हमेशा यह नहीं होता कि आपके विज्ञापन पर अमान्य ट्रैफ़िक का असर हुआ है. ज़्यादातर मामलों में, ट्रैफ़िक में बढ़ोतरी की दूसरी वजहें होती हैं.

ट्रैफ़िक में बढ़ोतरी क्यों दिख सकती है, इसके उदाहरण:

  • रोज़ के औसत बजट में बदलाव: कैंपेन का रोज़ का औसत बजट बढ़ाने से विज्ञापनों को ज़्यादा इंप्रेशन मिलते हैं. इस वजह से उन्हें ज़्यादा क्लिक भी मिलते हैं.
  • कीवर्ड की ज़्यादा से ज़्यादा सीपीसी में बदलाव: जब आप एक या ज़्यादा कीवर्ड की ज़्यादा से ज़्यादा सीपीसी (हर क्लिक की लागत) बढ़ाते हैं, तो आपके विज्ञापन ज़्यादा बार दिख सकते हैं. इसकी मदद से, विज्ञापन को पहले की तुलना में बेहतर क्रम में दिखाया जा सकता है. ये सब 'डिसप्ले नेटवर्क' पर दिखाए जाने वाले विज्ञापनों पर भी लागू होता है. ज़्यादा सीपीसी से विज्ञापनों को बेहतर क्रम में दिखाया जा सकता है और इससे ज़्यादा इंप्रेशन और क्लिक मिल सकते हैं.
  • नए कीवर्ड जोड़ना: अगर आपके कीवर्ड बहुत आम हैं या लोकप्रिय खोज क्वेरी के तौर पर इस्तेमाल किए जाते हैं, तो अपने कैंपेन में नए कीवर्ड जोड़ने से आपको ज़्यादा इंप्रेशन और क्लिक मिल सकते हैं.
  • विज्ञापन, 'डिसप्ले नेटवर्क' की नई साइटों पर दिख रहे हैं: मान लें कि आपका विज्ञापन कैंपेन, ऑटोमैटिक प्लेसमेंट (अपने-आप विज्ञापन की जगह ढूंढना) का इस्तेमाल करता है. साथ ही, उसका रोज़ का औसत बजट भी काफ़ी ज़्यादा है, तो जब आपके विज्ञापन नई प्रकाशक साइट पर दिखेंगे, तब उनके ट्रैफ़िक में काफ़ी ज़्यादा बढ़ोतरी हो सकती है.
  • समय के साथ रुझान में बदलाव या ताज़ा घटनाएं: कभी-कभी, लोगों की किसी खास विषय में अचानक दिलचस्पी बढ़ने की वजह से ट्रैफ़िक में बढ़ोतरी हो सकती है. उदाहरण के लिए, किसी खास छुट्टी पर या तब, जब कोई मशहूर हस्ती किसी खास विषय पर ब्लॉग लिखता या बातचीत करता है.

ट्रैफ़िक में बढ़ोतरी की सही वजहों के बारे में ज़्यादा जानकारी. 

अमान्य ट्रैफ़िक की रिपोर्ट करना

ट्रैफ़िक में बढ़ोतरी की कई वजहें ऐसे हो सकती हैं जिनमें अमान्य इंटरैक्शन शामिल न हों. हालांकि, अगर आपको लगता है कि आपका खाते में अमान्य इंटरैक्शन गतिविधि हुई है, तो हम इसकी जांच करेंगे.

विशेषज्ञों की हमारी टीम, क्लिक और इंप्रेशन की जानकारी सहित कई अलग-अलग सिग्नल का इस्तेमाल करके, अमान्य गतिविधि के स्रोतों का पता लगाती है. जांच के दौरान हम बहुत से डेटा बिंदुओं पर गौर करते हैं, ऐसे में हो सकता है कि खाते की जांच पूरी होने में कई दिन लग जाएं. आप जिस ट्रैफ़िक की वजह से परेशान हैं उसकी जांच का अनुरोध करते समय, कृपया ज़्यादा से ज़्यादा जानकारी दें.

क्लिक की जांच का अनुरोध कैसे करें, इसके बारे में ज़्यादा जानकारी

मिलते-जुलते लिंक

 

 

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके