[UA] Universal Analytics में इवेंट के बारे में जानकारी

अपने कॉन्टेंट के साथ होने वाले इंटरैक्शन का डेटा इकट्ठा करने के लिए, इवेंट का इस्तेमाल करना.
इस लेख में, Universal Analytics में इवेंट के बारे में जानकारी दी गई है. Google Analytics 4 से जुड़ी ऐसी ही जानकारी के लिए, इन पेजों पर जाएं:

Universal Analytics में, कॉन्टेंट के साथ उपयोगकर्ता के इंटरैक्शन को इवेंट कहते हैं. इनमें पेज लोड (पेज व्यू) शामिल नहीं होते. डाउनलोड करना, लिंक पर क्लिक करना, फ़ॉर्म सबमिट करना, और वीडियो चलाना उन सभी कामों के उदाहरण हैं जिनका आपको इवेंट के तौर पर विश्लेषण करना है.

इस लेख में, इन विषयों के बारे में बताया गया है:

रिपोर्ट में इवेंट डेटा देखना

अपने इवेंट की रिपोर्ट में डेटा देखने के लिए, आपको अपनी साइट या ऐप्लिकेशन में कोड जोड़ना होगा. इवेंट मेज़रमेंट सेट करना पढ़ें.

इवेंट की रिपोर्ट देखने के लिए:

  1. Google Analytics में साइन इन करें.
  2. अपने रिपोर्टिंग व्यू पर जाएं.
  3. रिपोर्ट खोलें.
  4. व्यवहार > इवेंट चुनें.

इवेंट की गहराई से जांच करना

किसी इवेंट में ये कॉम्पोनेंट होते हैं. इवेंट हिट में, हर कॉम्पोनेंट के लिए एक वैल्यू शामिल होती है और ये वैल्यू आपकी रिपोर्ट में दिखाई जाती हैं.

  • कैटगरी
  • कार्रवाई
  • लेबल (ज़रूरी नहीं, लेकिन सुझाया गया)
  • वैल्यू (ज़रूरी नहीं)

उदाहरण के लिए, अपनी साइट पर कोई वीडियो "चलाएं" बटन सेट किया जा सकता है, ताकि वह नीचे दी गई वैल्यू के साथ एक इवेंट हिट भेज सके:

  • कैटगरी: "वीडियो"
  • कार्रवाई: "चलाएं"
  • लेबल: "शिशु का पहला जन्मदिन"

कैटगरी

कैटगरी का इस्तेमाल करके, उन ऑब्जेक्ट को ग्रुप किया जा सकता है जिसका विश्लेषण करना है. आम तौर पर, आपको मिलते-जुलते जिन यूआई एलिमेंट को किसी कैटगरी में ग्रुप करना है उनके लिए उसी कैटगरी का नाम कई बार इस्तेमाल करना होगा.

मान लें कि आपको यह भी मेज़र करना है कि वीडियो को कितनी बार डाउनलोड किया गया. इनका इस्तेमाल किया जा सकता है:

  • कैटगरी: "वीडियो"
  • कार्रवाई: "डाउनलोड किया गया"
  • लेबल: "तीसरी कसम"

इस मामले में, आपकी रिपोर्ट में सिर्फ़ एक कैटगरी होगी, जिसका नाम वीडियो होगा. किसी एक ही वीडियो ऑब्जेक्ट के लिए एलिमेंट के कुल सेट से उपयोगकर्ता इंटरैक्शन की एग्रीगेट मेट्रिक देखी जा सकती हैं.

हालांकि, यह भी हो सकता है कि आप एक से ज़्यादा ऑब्जेक्ट के लिए मेज़रमेंट करना चाहें. ऐसे में विश्लेषण करने से पहले, यह तय कर लेना बेहतर होता है कि आपको रिपोर्ट में किस-किस कैटगरी में डेटा चाहिए. उदाहरण के लिए, हो सकता है कि आप खास कैटगरी के "वीडियो" में सभी अलग-अलग फ़िल्मों का विश्लेषण करना चाहें. इससे आपको सभी वीडियो इंटरैक्शन के लिए एग्रीगेट नंबर मिल जाएंगे. फिर चाहे इस्तेमाल करने वाले, किसी भी वीडियो के साथ इंटरैक्ट करें.

वहीं दूसरी ओर, वीडियो के टाइप के आधार पर अलग-अलग कैटगरी बनाई जा सकती हैं. एक कैटगरी, मूवी वीडियो के लिए और दूसरी, म्यूज़िक वीडियो के लिए. यह भी हो सकता है कि आप डाउनलोड किए गए वीडियो को किसी अलग कैटगरी में रखना चाहें:

  • वीडियो - मूवी
  • वीडियो - म्यूज़िक
  • डाउनलोड किए गए वीडियो

इस स्थिति में, अपनी रिपोर्ट में सभी तीन कैटगरी के लिए, मिले-जुले सभी इवेंट की कुल संख्या देखी जा सकती है. आपने लागू करने की प्रक्रिया में जो भी कैटगरी दी हैं, कुल इवेंट की मेट्रिक, उन सभी के लिए इवेंट की सभी संख्याओं को दिखाती है. हालांकि, डाउनलोड किए गए वीडियो वाली कैटगरी के सभी वीडियो के लिए अलग से इकट्ठी की गई मेट्रिक नहीं देखी जा सकतीं. ऐसा इसलिए, क्योंकि ब्यौरे वाले इवेंट की मेट्रिक को उनसे जुड़ी कैटगरी में ही इकट्ठा किया जाता है.

इवेंट के ऑब्जेक्ट मॉडल का इस्तेमाल ज़रूरत के हिसाब से किया जा सकता है. हालांकि, आपको कैटगरी का नाम तय करने से पहले, मनचाहा रिपोर्टिंग स्ट्रक्चर बनाने का प्लान कर लेना चाहिए. अगर आपका प्लान है कि कई जगहों पर कैटगरी का एक ही नाम इस्तेमाल किया जाए, तो अपनी मनचाही कैटगरी को नाम के साथ सही तरीके से मिलाने में सावधानी बरतें. उदाहरण के लिए, अगर आपको वीडियो कैटगरी को "वीडियो" नाम देना है, लेकिन किसी वजह से बाद में यह नाम याद नहीं रहता और उसकी जगह पर आपसे वीडियो के बहुवचन यानी "कई वीडियो" का इस्तेमाल हो जाता है, तो आपके पास दो अलग-अलग कैटगरी हो जाएंगी. इसके अलावा, अगर किसी ऐसे ऑब्जेक्ट की कैटगरी का नाम बदलने का फ़ैसला किया जाता है जिसे पहले ही किसी दूसरे नाम से रिकॉर्ड किया जा चुका है, तो सबसे पहली कैटगरी का पुराना डेटा प्रोसेस नहीं होगा. इस तरह से, आपके पास रिपोर्टिंग इंटरफ़ेस में एक ही वेब पेज एलिमेंट के लिए दो कैटगरी में शामिल की गई मेट्रिक होंगी.

कार्रवाई

आम तौर पर, किसी खास वेब ऑब्जेक्ट के लिए जिस तरह के इवेंट या इंटरैक्शन को मेज़र करना है उसे नाम देने के लिए कार्रवाई पैरामीटर का इस्तेमाल करना होगा. उदाहरण के लिए, किसी एक "वीडियो" कैटगरी की मदद से, इस पैरामीटर से कई खास इवेंट का विश्लेषण किया जा सकता है, जैसे:

  • वह समय, जब वीडियो पूरा लोड हो जाता है
  • "चलाएं" बटन पर होने वाले क्लिक
  • "रोकें" बटन पर होने वाले क्लिक
  • "रोकें" बटन पर होने वाले क्लिक

कैटगरी की तरह ही, कार्रवाई का नाम भी आपको ही तय करना होता है. हालांकि, रिपोर्ट में किसी इवेंट कार्रवाई का इस्तेमाल किस तरह से किया जाता है, इससे जुड़ी दो ज़रूरी सुविधाओं को ध्यान में रखें:

  • सभी कार्रवाइयों को उनकी पैरंट कैटगरी से अलग किसी दूसरी सूची में शामिल किया जाता है. इससे आपको अपनी रिपोर्ट के लिए इवेंट डेटा को सेगमेंट में बांटने का एक और अच्छा तरीका मिल जाता है.
  • किसी खास इवेंट के लिए, कार्रवाई को खास नाम देना ज़रूरी होता है. कई कैटगरी में, कार्रवाई के डुप्लीकेट नामों का इस्तेमाल किया जा सकता है. ध्यान रहे कि इससे खास इवेंट की गिनती के तरीके पर असर पड़ सकता है. ज़्यादा जानकारी के लिए, इन सुझावों के साथ-साथ गिनती वाला यह सेक्शन देखें.

लेबल

लेबल की मदद से, उन इवेंट के लिए अलग से जानकारी दी जा सकती है जिनका आपको विश्लेषण करना है. उदाहरण के लिए, वीडियो में आने वाला मूवी टाइटल या डाउनलोड की गई फ़ाइलों का नाम.

  • कैटगरी: "डाउनलोड किए गए वीडियो"
  • कार्रवाई: "PDF"
  • लेबल: "/salesForms/orderForm1.pdf"

कैटगरी और कार्रवाइयों की तरह ही, एक ऐसी रिपोर्ट होती है जिसमें आपके बनाए गए सभी लेबल दिखते हैं. उपयोगकर्ता इंटरैक्शन के लिए पेज ऑब्जेक्ट के साथ अलग से रिपोर्टिंग डाइमेंशन बनाने के लिए, किसी लेबल के बारे में सोचें. उदाहरण के लिए, मान लें कि आपके पेज पर एम्बेड किए गए पांच वीडियो हैं, जिनका आपको विश्लेषण करना है. इनमें से हर प्लेयर, "चलाएं" कार्रवाई वाली "वीडियो" कैटगरी का इस्तेमाल कर सकता है. हालांकि, हर वीडियो का एक अलग लेबल भी हो सकता है (जैसे, फ़िल्म का नाम), ताकि रिपोर्ट में वह अलग-अलग एलिमेंट के रूप में दिखे.

  • कैटगरी: "वीडियो", कार्रवाई: "चलाएं", लेबल: "तीसरी कसम"
  • कैटगरी: "वीडियो", कार्रवाई: "चलाएं", लेबल: "हम तुम्हारे हैं सनम"

कैटगरी और कार्रवाइयों की तरह ही, लेबल का नाम तय करने का अधिकार भी आपके पास होता है. हालांकि, रिपोर्ट में किसी इवेंट लेबल का इस्तेमाल किस तरह से किया जाता है इससे जुड़ी दो ज़रूरी सुविधाओं को ध्यान में रखें:

  • सभी लेबल अपनी पैरंट कैटगरी और कार्रवाइयों से अलग, किसी सूची में शामिल किए जाते हैं. इससे आपको अपनी रिपोर्ट के लिए इवेंट डेटा को सेगमेंट में बांटने का एक और अच्छा तरीका मिल जाता है.
  • किसी खास इवेंट को एक खास लेबल नाम के ज़रिए अलग किया जा सकता है. कैटगरी और कार्रवाइयों में, लेबल के डुप्लीकेट नामों का इस्तेमाल किया जा सकता है. ध्यान रहे कि इससे खास इवेंट की गिनती के तरीके पर असर पड़ सकता है. ज़्यादा जानकारी के लिए, इन सुझावों के साथ-साथ गिनती वाला यह सेक्शन देखें.

कार्रवाई और लेबल करने के सबसे सही तरीके

सबसे अच्छी रिपोर्टिंग पाने के लिए, कार्रवाइयां करने से जुड़े इन सुझावों को ध्यान में रखें:

  • कार्रवाई का नाम, आपकी रिपोर्ट के डेटा के मुताबिक ही होना चाहिए. इवेंट का मेज़रमेंट, दो अलग-अलग कैटगरी में, एक ही जैसी कार्रवाई के नाम के लिए मेट्रिक को जोड़ता है. उदाहरण के लिए, "डाउनलोड" और "वीडियो", दोनों कैटगरी के लिए "क्लिक" कार्रवाई करने पर, मुख्य कार्रवाइयों की रिपोर्ट में "क्लिक" के लिए मेट्रिक, उसी नाम के साथ टैग किए गए सभी इंटरैक्शन के साथ दिखती हैं. इसके बाद, रिपोर्ट के अगले स्तर पर "क्लिक" कार्रवाई के कैटगरी के आधार पर बंटे होने की ज़्यादा जानकारी आपको मिल सकती है. हालांकि, अगर इवेंट मेज़रमेंट लागू करने में हर जगह कार्रवाई "क्लिक" का इस्तेमाल किया जाता है, तो रिपोर्ट में उस सेगमेंट की ज़रूरत कम हो जाएगी. अगर आपको अपनी वेबसाइट पर बड़े पैमाने पर इवेंट मेज़रमेंट का इस्तेमाल करना है, तो कार्रवाई के ऐसे नाम चुनने के बारे में सोचें जो आपके डेटा की कैटगरी से मिलते-जुलते हों. उदाहरण के लिए, आपके पास वीडियो प्लेयर इंटरैक्शन के लिए कार्रवाई शब्द "चलाएं", "रोकें" और "बंद करें" तय करते हुए गैजेट इंटरैक्शन के लिए "क्लिक" शब्द सुरक्षित रखने का विकल्प है.
  • कहीं भी, उपयोगकर्ता इंटरैक्शन को एग्रीगेट करने या उन्हें अलग करने के लिए कार्रवाई के नामों का इस्तेमाल करें. उदाहरण के लिए, अपनी वेबसाइट के सभी वीडियो की "वीडियो" कैटगरी के लिए, "चलाएं" का इस्तेमाल एक कार्रवाई नाम के रूप में किया जा सकता है. इस मॉडल में, मुख्य कार्रवाइयों वाली रिपोर्ट, "चलाएं" कार्रवाई वाले इवेंट के लिए कुल डेटा देंगी. साथ ही, यह भी देखा जा सकता है कि आपके वीडियो के लिए यह इवेंट, वीडियो के दूसरे इवेंट, जैसे "रोकें" या "बंद करें" की तुलना कैसे करता है.

    हालांकि, मान लें कि आपको अपनी रिपोर्ट के लिए किसी वीडियो कैटगरी का इस्तेमाल करना है, लेकिन आपको दो अलग-अलग वीडियो-प्लेयर इंटरफ़ेस के बारे में भी कुछ जानकारी चाहिए. अलग वीडियो कैटगरी बनाए बिना अलग प्लेयर इंटरफ़ेस में अंतर करने के लिए, कार्रवाई के नाम का इस्तेमाल किया जा सकता है. इसके बाद, वह रिपोर्ट आपकी वेबसाइट के सभी वीडियो के कुल डेटा से मिलने वाले फ़ायदों को गंवाए बिना, दो प्लेयर के बीच अंतर कर सकती है.

    कैटगरी: "वीडियो"; कार्रवाई: "चलाएं - Mac Chrome"
    कैटगरी: "वीडियो"; कार्रवाई: "चलाएं - Windows Chrome"
  • कार्रवाई का मतलब हमेशा "कार्रवाई" ही नहीं होता है. कार्रवाई के लिए कोई भी स्ट्रिंग दी जा सकती है. कुछ परिस्थितियों में, वास्तविक इवेंट या कार्रवाई का नाम इतना ज़्यादा काम का नहीं होता, इसलिए आपके पास दूसरे एलीमेंट का विश्लेषण करने के लिए कार्रवाई पैरामीटर का इस्तेमाल करने का विकल्प है. इसका एक उदाहरण यह भी हो सकता है कि अगर आपको पेज डाउनलोड का विश्लेषण करना है, तो डाउनलोड इवेंट के लिए कार्रवाई पैरामीटर के रूप में दस्तावेज़ का फ़ाइल टाइप दिया जा सकता है. ऐसी स्थिति में, "डाउनलोड" कैटगरी के लिए आपकी रिपोर्ट को फ़ाइल टाइप (pdf, doc, xls) के हिसाब से बांटा जाएगा.
  • यूनीक इवेंट में यूनीक कार्रवाइयों से बढ़ोतरी होती है. जब भी कोई उपयोगकर्ता किसी खास कार्रवाई के नाम से टैग किए गए किसी ऑब्जेक्ट से इंटरैक्ट करता है, तो उस कार्रवाई के नाम के लिए शुरुआती इंटरैक्शन एक खास इवेंट के रूप में लॉग कर दिया जाता है. अलग से हुआ कोई भी इंटरैक्शन, जो उसी उपयोगकर्ता सेशन के लिए ट्रिगर हुई एक ही कार्रवाई के साथ हुआ हो, वह उसी खास कार्रवाई के लिए खास इवेंट की कैलकुलेशन में योगदान नहीं करेगा. अगर उपयोगकर्ता वह ऑब्जेक्ट छोड़कर चला जाए और इसी कार्रवाई नाम से टैग किए गए किसी दूसरे ऑब्जेक्ट के साथ इंटरैक्ट करना शुरू कर दे, तब भी ऐसा ही होता है.

    रिपोर्ट में इसके ऐसे दो नतीजे हैं जिन पर ध्यान दिया जा सकता है. सबसे पहले, मान लें कि कोई उपयोगकर्ता अलग-अलग कैटगरी से टैग किए गए दो यूनीक वीडियो प्लेयर से, "चलाएं" कार्रवाई के साथ इंटरैक्ट करता है. मुख्य कार्रवाइयों की रिपोर्ट, "चलाएं" के लिए किसी एक खास इवेंट को ही सूची में रखेगी, भले ही इस्तेमाल करने वाला दो खास प्लेयर से क्यों न जुड़ा हो. वहीं दूसरी ओर, हर एक कैटगरी की कार्रवाई रिपोर्ट एक खास कार्रवाई को सूची में रखेगी. ऐसा इसलिए, क्योंकि असल में हर कैटगरी / कार्रवाई की जोड़ी के लिए एक खास इवेंट होता है. ज़्यादा जानकारी के लिए, गिनती देखें.

 

वैल्यू

वैल्यू वाला कॉम्पोनेंट एक पूर्णांक होता है. इसका इस्तेमाल, किसी पेज ऑब्जेक्ट की न्यूमेरिक वैल्यू को असाइन करने के लिए किया जाता है. उदाहरण के लिए, इसका इस्तेमाल किसी प्लेयर के लोड होने में लगने वाले समय को सेकंड में बताने के लिए किया जा सकता है. इसके अलावा, वीडियो प्लेयर पर किसी खास प्लेबैक मार्कर के पहुंचने पर कमाई की वैल्यू को ट्रिगर किया जा सकता है.

कैटगरी: "वीडियो", कार्रवाई: "वीडियो लोड होने में लगने वाला समय", लेबल: "तीसरी कसम", वैल्यू: डाउनलोड होने में लगने वाला समय

वैल्यू को नंबर के रूप में समझा जाता है. रिपोर्ट, हर एक इवेंट की गिनती (नीचे दी गई गिनती देखें) के आधार पर कुल वैल्यू को जोड़ती है. रिपोर्ट, कैटगरी की औसत वैल्यू भी तय करती है. ऊपर दिए गए उदाहरण में, वीडियो लोड के पूरा होने पर इवेंट को "वीडियो लोड होने में लगने वाले समय" कार्रवाई के लिए कॉल किया जाता है. वीडियो का नाम किसी लेबल के रूप में दिया जाता है. साथ ही, वीडियो लोड होने में लगने वाला समय, हर वीडियो के डाउनलोड के लिए मिलता है. इसके बाद, "वीडियो" कैटगरी के लिए सभी "वीडियो के लोड होने में लगने वाले समय" की कार्रवाइयों के लिए, लोड होने में लगने वाला औसत समय तय किया जा सकता है. मान लें कि आपकी वेबसाइट के वीडियो के लिए पांच खास डाउनलोड थे, जिनके डाउनलोड होने का समय सेकंड में इस तरह था:

  • 10
  • 25
  • 8
  • 5
  • 5
इसके बाद, इस उदाहरण में सेकंड में डाउनलोड होने का समय दिखाने वाले आंकड़ों के साथ, आपकी रिपोर्ट में इनकी गणना इस तरह से की जाएगी:
  • इवेंट वाले सेशन: 5
  • वैल्यू: 53
  • औसत वैल्यू: 10.6

नकारात्मक संख्या का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है.

नॉन-इंटरैक्शन इवेंट

"नॉन-इंटरैक्शन" शब्द वैकल्पिक बूलियन पैरामीटर पर लागू होता है, जिसे इवेंट हिट करने वाले तरीके को भेजा जा सकता है. इस पैरामीटर की मदद से, यह तय किया जा सकता है कि अपनी साइट के उन पेजों के लिए आपको बाउंस दर कैसे तय करना है जिनमें इवेंट मेज़रमेंट भी शामिल है. उदाहरण के लिए, मान लें कि आपका एक ऐसा होम पेज है जिसमें कोई वीडियो एम्बेड किया गया है. अपने होम पेज का बाउंस रेट जानने में दिलचस्पी होना सामान्य बात है, लेकिन इसकी वजह जानने के लिए कौनसा तरीका अपनाना चाहिए? क्या आपको अपने होम पेज के वीडियो के साथ होने वाला विज़िटर इंटरैक्शन, जुड़ाव का एक अहम सिग्नल लगता है? अगर ऐसा है, तो हो सकता है कि आपको वीडियो के साथ होने वाले इंटरैक्शन को बाउंस रेट के कैलकुलेशन में शामिल करना हो, ताकि उन सेशन को बाउंस के तौर पर कैलकुलेट न किया जाए जिनमें सिर्फ़ वीडियो पर क्लिक वाला आपका होम पेज शामिल है. वहीं दूसरी ओर, हो सकता है कि आपको अपने होम पेज के लिए बाउंस रेट को सटीक तरीके से कैलकुलेट करना हो. इससे आप वीडियो पर होने वाले क्लिक पर ध्यान दिए बिना उन सेशन का प्रतिशत जानना चाहें जिनमें सिर्फ़ आपका होम पेज शामिल है. इस मामले में, हो सकता है कि आप वीडियो के साथ होने वाले सभी इंटरैक्शन को बाउंस रेट के कैलकुलेशन से बाहर रखना चाहें.

यहीं पर वैकल्पिक नॉन-इंटरैक्शन" पैरामीटर अहम होता है. याद रखें कि बाउंस को सिर्फ़ एक इंटरैक्शन हिट वाले सेशन के रूप में परिभाषित किया जाता है. डिफ़ॉल्ट रूप से, इवेंट हिट को एक इंटरैक्शन हिट माना जाता है यानी उसे बाउंस दर की गिनती में शामिल किया जाता है. हालांकि, वैल्यू के सही पर सेट होने से, इवेंट हिट के टाइप को एक इंटरैक्शन हिट नहीं माना जाता है. आपके पास इस तथ्य का इस्तेमाल इवेंट वाले पेज की बाउंस दर की गणनाओं को घटाने-बढ़ाने के लिए करने का विकल्प है. इस वैल्यू को सही पर सेट करना: ऐसा कोई एक पेज वाला सेशन जिसे नॉन-इंटरैक्शन इवेंट के साथ टैग किया गया है उसकी गणना बाउंस के रूप में की जाती है—भले ही, वेबसाइट पर आने वाला व्यक्ति भी सेशन के दौरान इवेंट ट्रिगर करता हो. इसके उलट, इस विकल्प को छोड़ने का मतलब है कि अगर वेबसाइट पर आने वाला व्यक्ति उसी सेशन के दौरान इवेंट भी ट्रिगर करता है, तो ऐसे पेज पर मौजूद एक पेज वाले सेशन की गिनती बाउंस के रूप में नहीं की जाएगी जिसमें इवेंट का मेज़रमेंट शामिल है.

अप्रत्यक्ष गिनती

इवेंट मेज़रमेंट में, टारगेट किए गए वेब पेज ऑब्जेक्ट के साथ हर एक इंटरैक्शन को गिना जाता है. साथ ही, दिए गए किसी उपयोगकर्ता सेशन के साथ जोड़ा जाता है. रिपोर्ट में कुल इवेंट को, टारगेट किए गए वेब पेज ऑब्जेक्ट के साथ, कुल इंटरैक्शन की संख्या के रूप में गिना जाता है.

उदाहरण के लिए, अगर कोई उपयोगकर्ता किसी वीडियो के एक ही बटन को पांच बार क्लिक करता है, तो वीडियो से जुड़े इवेंट की कुल संख्या पांच और खास इवेंट की संख्या एक होगी.

नीचे दी गई टेबल से पता चलता है कि दिए गए किसी इवेंट की कैटगरी के लिए, रिपोर्टिंग इंटरफ़ेस में डेटा कैसे एग्रीगेट किया जाता है. इस उदाहरण में, दो ऐसे अलग-अलग वीडियो प्लेयर से समान कैटगरी नाम कॉल किया गया है जिनमें से हर एक का लेबल अलग है. ये प्लेयर, "चलाएं" और "बंद करें" कार्रवाइयों को शेयर करते हैं, जैसा कि वीडियो प्लेयर के फ़्लैश यूज़र इंटरफ़ेस में प्रोग्राम किया गया है.

"वीडियो" कैटगरी के लिए इवेंट का विश्लेषण

कार्रवाई लेबल:"तीसरी कसम" लेबल:"मेरा नाम जोकर" कुल
चलाएं

22 क्लिक पूरे

10 सेशन w/इवेंट

7 क्लिक पूरे

5 सेशन w/इवेंट

29 कुल इवेंट और

15 खास इवेंट "चलाएं"

रोकें

3 क्लिक पूरे

2 सेशन w/इवेंट

16 क्लिक पूरे

8 सेशन w/इवेंट

कुल 19 इवेंट और 

10 खास इवेंट "रोकें"

बंद करें

2 क्लिक पूरे

2 सेशन w/इवेंट

4 क्लिक पूरे

3 सेशन w/इवेंट

कुल 6 इवेंट और 

5 खास इवेंट "बंद करें"

कुल

27 कुल इवेंट और

तीसरी कसम के लिए 14 खास इवेंट

27 कुल इवेंट और

मेरा नाम जोकर के लिए 16 खास इवेंट

54 कुल इवेंट और

"वीडियो" कैटगरी के लिए 30 खास इवेंट

किसी इवेंट को इवेंट वाले सेशन के लिए सिर्फ़ तब क्रेडिट मिलता है, जब वह इवेंट सेशन का पहला इवेंट होता है. ऐसा हो सकता है कि खास इवेंट की गिनती, इवेंट वाले सेशन के बराबर न हो, भले ही आपके पास इवेंट की हर कैटगरी, कार्रवाई, और लेबल के लिए खास वैल्यू हों.

लागू किए जाने के दौरान ध्यान देने वाली बातें

इवेंट मेज़रमेंट लागू करते समय इन बातों को ध्यान में रखें.

बाउंस दर का असर

सामान्य रूप से, "बाउंस" को आपकी साइट पर किसी सिंगल-पेज सेशन के तौर पर दिखाया जाता है. Analytics में, बाउंस की गणना खास तौर पर एक ऐसे सेशन के रूप में की जाती है जो सिर्फ़ एक GIF अनुरोध को ही ट्रिगर करता है. जैसे, जब कोई उपयोगकर्ता आपकी वेबसाइट के किसी एक ही पेज पर आता है और फिर उस सेशन के लिए Analytics सर्वर से बिना कोई दूसरा अनुरोध किए साइट छोड़कर चला जाता है. हालांकि, अगर अपनी साइट के लिए इवेंट मेज़रमेंट लागू किया जाता है, तो आपको उन पेजों के लिए बाउंस दर मेट्रिक में बदलाव दिख सकता है जहां इवेंट मेज़रमेंट मौजूद है. ऐसा इसलिए, क्योंकि इवेंट मेज़रमेंट को पेज मेज़रमेंट की तरह ही एक इंटरैक्शन अनुरोध के रूप में बांटा गया है.

उदाहरण के लिए, मान लें कि आपके पास वीडियो प्लेयर वाला कोई ऐसा पेज है जिस पर पुरानी बाउंस दर बहुत ज़्यादा है और आपने उस पेज के लिए इवेंट मेज़रमेंट लागू नहीं किया है. अगर बाद में प्लेयर के लिए इवेंट मेज़रमेंट सेट अप किया जाता है, तो आपको उस पेज की बाउंस दर में कमी दिख सकती है. ऐसा इसलिए होगा, क्योंकि Analytics, प्लेयर के साथ उपयोगकर्ता के इंटरैक्शन को रिकॉर्ड करेगा और उस इंटरैक्शन को सर्वर पर एक अलग GIF अनुरोध के तौर पर भेजेगा. इसलिए, हो सकता है कि पेज पर आने वाले लोगों का एक ही प्रतिशत, आपकी साइट के किसी दूसरे पेज को देखे बिना भी बाहर निकल जाए. हालांकि, वीडियो प्लेयर के साथ उनका इंटरैक्शन, इवेंट मेज़रमेंट कॉल को ट्रिगर करता है, जो उनके सेशन को बाउंस के रूप में बांट देता है.

इस तरह, आपके ऐसे पेजों के लिए जिन पर इवेंट चालू है, "बाउंस" का मतलब थोड़ा अलग होता है: सिर्फ़ एक पेज वाला ऐसा सेशन जिसमें टारगेट किए गए इवेंट पर उपयोगकर्ता इंटरैक्शन शामिल नहीं होता.

यह ध्यान रखना ज़रूरी है कि इवेंट मेज़रमेंट के लागू होने की कोई भी प्रक्रिया, जो पेज लोड होने पर खुद ही चलती हो उसकी वजह से पेज की बाउंस दर ज़ीरो होगी.

हर सेशन की सीमा के इवेंट

ga.js

Analytics को भेजे जाने वाले पहले 10 इवेंट हिट, भेजे जाने के साथ ही प्रोसेस किए जाते हैं. इसके बाद, प्रोसेसिंग की दर एक इवेंट हिट/सेकंड पर सीमित हो जाती है. किसी एक सेशन में ज़्यादा से ज़्यादा 500 हिट प्रोसेस किए जाते हैं.

analytics.js और gtag.js

Analytics को भेजे जाने वाले पहले 20 इवेंट हिट, भेजे जाने के साथ ही प्रोसेस किए जाते हैं. इसके बाद, प्रोसेसिंग की दर दो इवेंट हिट/सेकंड पर सीमित हो जाती है. किसी एक सेशन में ज़्यादा से ज़्यादा 500 हिट प्रोसेस किए जाते हैं. यह सीमा, ई-कॉमर्स आइटम या लेन-देन वाले हिट को छोड़कर सभी हिट पर लागू होती है.

अपने हिट की गिनती को सेशन की सीमाओं में रखने के लिए:

  • हर सेकंड चलाए गए वीडियो और कई बार दोहराए जाने वाले दूसरे इवेंट ट्रिगर के लिए इवेंट भेजने के लिए वीडियो स्क्रिप्ट करने से बचें.
  • माउस की गतिविधि को बार-बार मेज़र करने से बचें
  • इवेंट की बहुत ज़्यादा संख्या जनरेट करने वाली टाइम-लैप्स की प्रक्रिया से बचें

इवेंट लागू करने के सबसे अच्छे तरीके

इवेंट मेज़रमेंट का डिज़ाइन मॉडल बेहद सुविधाजनक है. इसके इस्तेमाल को उपयोगकर्ता की ओर से ट्रिगर किए गए इवेंट के सामान्य मॉडल से आगे भी ले जाया जा सकता है—डिज़ाइन का फ़ैसला आपका होता है. इसी वजह से, काम के इवेंट मेज़रमेंट की जितनी भी रिपोर्ट हैं उनके लिए यह ज़रूरी है कि उसे आपके रिपोर्ट उपयोगकर्ताओं की मदद और अच्छी रिपोर्ट प्लान के साथ बनाया जाए.

  • वे सभी एलिमेंट पहले से तय कर लें जिनके लिए आपको डेटा का विश्लेषण करना है. यहां तक कि अगर आपको कई अलग-अलग ऑब्जेक्ट/इवेंट की पूरी जानकारी है और उनकी जांच करनी है, तब भी शुरुआत में अपनी वेबसाइट पर सिर्फ़ एक ही ऑब्जेक्ट को मॉनिटर किया जाता है. ऐसा करने से, आपको ऐसी रिपोर्ट की बनावट तय करने में मदद मिलेगी जो बढ़ी हुई संख्या के साथ उन इवेंट टाइप को अच्छी तरह मेज़र करती है जिनकी आपको जांच करनी है.
  • अपने इवेंट के मेज़रमेंट की रिपोर्ट का प्लान बनाने के लिए, अपने रिपोर्ट उपयोगकर्ता के साथ काम करें. रिपोर्ट कैसी दिखनी चाहिए, पहले से ही इस बात की जानकारी होने से इवेंट मेज़रमेंट को लागू करने की ठीक-ठीक बनावट तैयार करने में मदद मिलेगी. उदाहरण के लिए, अगर रिपोर्ट में सिर्फ़ वीडियो यूआई इंटरैक्शन दिखाना है, तो आपकी कैटगरी की बनावट उस कैटगरी की बनावट से काफ़ी अलग होगी जो रिपोर्ट से मेन्यू, एम्बेड किए गए गैजेट, और लोड होने में लगने वाले समय जैसे दूसरे फ़्लैश यूआई ट्रैक किए जाने पर होती है. इसके अलावा, लागू किए जाने की प्रक्रिया का ज़्यादा से ज़्यादा फ़ायदा उठाने के लिए, रिपोर्ट उपयोगकर्ता को इवेंट मेज़रमेंट के साथ मौजूद अलग-अलग ट्रैकिंग संभावनाओं के बारे में जानकारी दी जा सकती है. उदाहरण के लिए, हो सकता है कि रिपोर्ट उपयोगकर्ता किसी फ़्लैश वीडियो इंटरफ़ेस पर उपयोगकर्ता व्यवहार को ट्रैक करने में दिलचस्पी रखता हो, लेकिन उसकी दिलचस्पी वीडियो को लोड होने में लगने वाले समय के लिए इंतज़ार का समय ट्रैक करने में भी हो. ऐसी स्थिति में, अपने इवेंट कॉल में सही नाम शामिल करने के लिए, पहले से ही प्लान बनाया जा सकता है.
  • नामकरण का एक जैसा और सहज तरीका अपनाएं. इवेंट मेज़रमेंट लागू करते समय, कैटगरी, कार्रवाइयों, और लेबल के लिए आपकी ओर से दिया गया हर नाम, रिपोर्टिंग इंटरफ़ेस में दिखता है. साथ ही, रिपोर्ट के आंकड़ों में कैटगरी/कार्रवाई की जोड़ी को यूनीक एलिमेंट माना जाता है. इसलिए, पहले यह तय करें कि एक ही तरह की कैटगरी से जुड़े सभी ऑब्जेक्ट के लिए, आपको अपनी मेट्रिक को किस तरह कैलकुलेट करना है.

इवेंट बनाम इवेंट के लक्ष्य

इवेंट आपकी तय की गई साइट या ऐप्लिकेशन के साथ उपयोगकर्ता का इंटरैक्शन होता है. साथ ही, टैग कोड में बदलाव करते हुए जिसके लिए डेटा इकट्ठा किया जाता है, जैसा कि इस लेख के मुख्य भाग में बताया गया है.

इवेंट लक्ष्य आपकी ओर से तय किया गया ऐसा लक्ष्य होता है जो किसी इवेंट की पहचान कन्वर्ज़न के तौर पर करता है.

ध्यान रखें, अपने इवेंट की रिपोर्ट में डेटा देखने के लिए, आपको अपनी साइट या ऐप्लिकेशन में इवेंट मेज़रमेंट कोड जोड़ना होगा. इवेंट मेज़रमेंट सेट करना पढ़ें.

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
true
अपना लर्निंग पाथ चुनें

Google Analytics 4 का ज़्यादा से ज़्यादा फ़ायदा पाने के लिए, नई वेबसाइट google.com/analytics/learn पर जाएं. नई वेबसाइट में वीडियो, लेख, और आपको गाइड करने के लिए बनी प्रोसेस शामिल हैं. साथ ही, इसमें Google Analytics Discord, Blog, YouTube चैनल, और GitHub का डेटा स्टोर करने की जगह के लिंक दिए गए हैं.

आज ही सीखना शुरू करें!

खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू