नए "मेरा AdMob पेज" की मदद से आपको अपने ऐप्लिकेशन के हिसाब से सुधार के सही सुझाव मिलेंगे और आप अपने खाते को बेहतर तरीके से मैनेज कर पाएंगे. साथ ही, आपको इस पेज से सभी ज़रूरी सेट अप पूरे करने में भी मदद मिलेगी.

AdMob और AdSense कार्यक्रम की नीतियां

LGPD के लिए, दर्शकों की पसंद को ध्यान में रखकर दिखाए जाने वाले और दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापन

इस लेख में, दर्शकों की पसंद को ध्यान में रखकर दिखाए जाने वाले और दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापनों के बीच का अंतर बताया गया है. यह अंतर, Lei Geral de Proteção de Dados (LGPD) को ध्यान में रखकर बताया गया है. LGPD से जुड़े निजता कानून के बारे में ज़्यादा जानें

दर्शकों की पसंद को ध्यान में रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापन

दर्शकों की पसंद को ध्यान में रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापन (जिसे पहले रुचि के हिसाब से विज्ञापन कहा जाता था) एक शक्तिशाली टूल है, जो उपयोगकर्ताओं के लिए विज्ञापन प्रासंगिकता में सुधार करता है और विज्ञापनदाताओं के लिए लागत पर मुनाफ़ा (आरओआई) में वृद्धि करता है. हमारे सभी प्रकाशक उत्पादों में, हम उपयोगकर्ता की देखी गई साइटों या इस्तेमाल किए गए ऐप्लिकेशन के आधार पर उपयोगकर्ता की पसंद का अनुमान लगाते हैं. इसकी मदद से, विज्ञापन देने वाले उपयोगकर्ताओं की पसंद के आधार पर, अपने कैंपेन को टारगेट कर सकते हैं. इससे उपयोगकर्ताओं और विज्ञापन देने वालों को एक जैसा ही बेहतर अनुभव मिलेगा.

Google उन विज्ञापनों को, लोगों के हिसाब से बनाया गया विज्ञापन मानता है जो पहले से इकट्ठा किए गए डेटा या पुराने डेटा के आधार पर दिखाए जाते हैं. इस डेटा में, उपयोगकर्ता की पिछली खोज क्वेरी, जगह, गतिविधि, साइटों या ऐप्लिकेशन पर आने/जाने, उम्र, लिंग, आय, शिक्षा वगैरह की जानकारी शामिल होती है. इसमें खास तौर पर कई चीज़ें शामिल होंगी. उदाहरण के लिए, उम्र, शिक्षा वगैरह के हिसाब से टारगेट करना, पसंदीदा कैटगरी के हिसाब से टारगेट करना, फिर से मार्केटिंग करना, ग्राहक मिलान सूचियों को टारगेट करना, और Display & Video 360 या Campaign Manager 360 में अपलोड की गई दर्शक की सूचियों को टारगेट करना.

लोगों के हिसाब से न दिखाए जाने वाले विज्ञापन (एनपीए)

दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापन, ऐसे विज्ञापन होते हैं जो उपयोगकर्ता के पिछले व्यवहार पर आधारित नहीं होते. वे उपयोगकर्ता की मौजूदा जगह की जानकारी के आधार पर, भौगोलिक-टारगेटिंग की साधारण जानकारी (जैसे, शहर के स्तर पर, लेकिन पिन कोड नहीं) के संदर्भ के हिसाब से टारगेट किए जाते हैं. इसके अलावा, मौजूदा साइट या ऐप्लिकेशन या क्वेरी की मौजूदा शर्तों के भी आधार पर तय होते हैं. Google, पसंद के आधार पर हुई सभी ऑडियंस टारगेटिंग की अनुमति नहीं देता. इसमें उम्र, शिक्षा वगैरह के हिसाब से टारगेट करना और उपयोगकर्ता सूची वाली टारगेटिंग भी शामिल है.

दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापन, विज्ञापन टारगेटिंग के लिए कुकी या मोबाइल विज्ञापन पहचानकर्ता का इस्तेमाल नहीं करते हैं. हालांकि, फ़्रीक्वेंसी कैपिंग, विज्ञापन की हर तरह की रिपोर्टिंग, और धोखाधड़ी और बुरे बर्ताव से निपटने के लिए ये कुकी या मोबाइल ऐप्लिकेशन पहचानकर्ता का इस्तेमाल अब भी करते हैं.

ब्राज़ील में, Google में साइन इन किए अगर किसी उपयोगकर्ता की Google को दी हुई उम्र की जानकारी से यह पता चलता है कि वह एक बच्चा है, तब Google उन्हें सिर्फ़ दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापन दिखाएगा. ऐसा तब भी होगा, अगर प्रकाशक ने विज्ञापन टैग में दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापनों के सिग्नल को पास भी कर दिया हो.

प्रोग्रामेटिक के लिए दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापन

टैग में दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापन का सिग्नल पास करने पर, प्रोग्रामेटिक लेन-देन पर यह होता है:

"प्रोग्रामेटिक लेन-देन", खुली नीलामियों, निजी नीलामियों, फ़र्स्ट लुक, पहली झलक, पसंदीदा डील, और प्रोग्रामेटिक गारंटी से होने वाले लेन-देन हैं.
  • दिखाए जाने वाले विज्ञापन, उपयोगकर्ता के पिछले व्यवहार की जानकारी का इस्तेमाल नहीं करते हैं.
  • Google, दर्शकों की पसंद को ध्यान में रखकर दिखाए गए विज्ञापनों के असर को देखने या टारगेटिंग (विज्ञापन के लिए सही दर्शक चुनना) के लिए, उपयोगकर्ता पहचानकर्ता की जानकारी रिकॉर्ड नहीं करता.
  • पसंद के आधार पर हुई ऑडियंस टारगेटिंग का इस्तेमाल करके, कोई भी विज्ञापन नहीं दिखाया गया है (इसमें उम्र, शिक्षा वगैरह के हिसाब से टारगेट करना और रीमार्केटिंग सूची वाली टारगेटिंग भी शामिल है).
  • GDN और Display & Video 360 से दिखाए जाने वाले विज्ञापन सिर्फ़ संदर्भ के हिसाब से और प्लेसमेंट टारगेटिंग का इस्तेमाल करेंगे. ये विज्ञापन भौगोलिक-टारगेटिंग के सबसे साधारण लेवल (शहर के स्तर पर) और किसी भी तरह की अमान्य गतिविधि रोकने के लिए, आईपी पते का इस्तेमाल कर सकते हैं. ये विज्ञापन फ़्रीक्वेंसी कैपिंग, विज्ञापन की हर तरह की रिपोर्टिंग, और धोखाधड़ी और बुरे बर्ताव से निपटने के लिए कुकी और/या आईडीएफ़ए और विज्ञापन आईडी का भी इस्तेमाल करते हैं.
  • दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापनों में तीसरे पक्ष के खरीदारों या तीसरे पक्ष की विज्ञापन ट्रैकिंग मौजूद नहीं होती है.

गैर-प्रोग्रामेटिक के लिए दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापन

टैग में दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापनों का सिग्नल पास करने पर, गैर-प्रोग्रामेटिक लाइन आइटम पर यह होता है:

"गैर-प्रोग्रामेटिक लाइन आइटम", वे लाइन आइटम हैं जो Ad Manager, Ad Exchange या AdSense में प्रोग्रामेटिक गारंटी या प्रोग्रामेटिक डील का हिस्सा नहीं होते हैं.
  • पसंद के आधार पर हुई ऑडियंस टारगेटिंग का इस्तेमाल करके, कोई भी विज्ञापन नहीं दिखाया गया है (इसमें उम्र, शिक्षा वगैरह के हिसाब से टारगेट करना और रीमार्केटिंग सूची वाली टारगेटिंग भी शामिल है)
  • Google, दर्शकों की पसंद को ध्यान में रखकर दिखाए गए विज्ञापनों के असर को देखने या टारगेटिंग (विज्ञापन के लिए सही दर्शक चुनना) के लिए, उपयोगकर्ता पहचानकर्ता की जानकारी रिकॉर्ड नहीं करता.
  • दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापन, रिज़र्वेशन के लिए सिर्फ़ तब ही दिखाए जाएंगे, जब विज्ञापन टेक्नोलॉजी से जुड़ी सेवा देने वाली किसी कंपनी के बारे में न कहा गया हो या उसके बारे में पता न चला हो.

यील्ड ग्रुप के लिए, दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापन

टैग में दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापनों का सिग्नल पास करने पर, मोबाइल ऐप्लिकेशन के ओपन बिडिंग और मीडिएशन का इस्तेमाल करने वाले ईल्ड ग्रुप पर यह असर होता है:

  • ओपन बिडिंग को बंद कर दिया गया है और ओपन बिडिंग करने वालों को किसी भी तरह का कॉल आउट नहीं दिया गया है
  • मोबाइल ऐप्लिकेशन के लिए मीडिएशन की सुविधा बंद नहीं की गई है

दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापनों का कुछ सामान्य सुविधाओं पर असर

  • एनपीए के अनुरोधों के लिए, ऑडियंस सलूशन टारगेटिंग उपलब्ध नहीं होगी
  • एनपीए अनुरोधों के लिए, Ad Manager टेलीकॉम कंपनी के आधार पर दर्शकों को टारगेट करने की सुविधा उपलब्ध नहीं होगी
  • एनपीए अनुरोधों के लिए, Ad Manager बैंडविड्थ टारगेटिंग उपलब्ध नहीं होगी
  • कुछ डेटा ट्रांसफ़र फ़ील्ड, जैसे कि उपयोगकर्ता आईडी उपलब्ध नहीं होंगे
  • गैर-Display & Video 360 खरीदारों के साथ हुई डील में एनपीए अनुरोधों के लिए लेन-देन नहीं हो पाएगा
  • अगर Display & Video 360 खरीदारों के साथ हुई डील एनपीए अनुरोधों के लिए तीसरे पक्ष के पिक्सल या ऑडियंस टारगेटिंग का इस्तेमाल करती हैं, तो उन पर असर पड़ सकता है

रिपोर्टिंग में दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापनों में बदलाव

  • दर्शकों की पसंद को ध्यान में नहीं रखकर दिखाए जाने वाले विज्ञापन ट्रैफ़िक के लिए, कुछ Ad Manager डेटा ट्रांसफ़र फ़ील्ड खाली रहेंगे. इनमें उपयोगकर्ता का आईडी, ऑडियंस सेगमेंट आईडी, बैंडविड्थ, और मोबाइल सेवा देने वाली कंपनी शामिल है.
  • Ad Manager पहुंच की रिपोर्टिंग कितनी सही है, इस पर असर पड़ सकता है.
क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके

true
<p>'मेरा AdMob पेज' - यह आपके हिसाब से तैयार किया गया पेज है. इसकी मदद से आप AdMob पर ज़्यादा से ज़्यादा मुनाफ़ा कमाने के तरीकों के बारे में जान पाएंगे.</p>

पेश है 'मेरा AdMob पेज' नए अवतार में. यह ऐसा सहायता पेज है जो खास तौर पर आपके लिए बनाया गया है. इसमें, आपके खाते के लिहाज़ से काम की जानकारी दी गई है. इस पेज की मदद से, आप अपने खाते को बेहतर तरीके से मैनेज कर सकते हैं. साथ ही, यह भी देख सकते हैं कि सभी ज़रूरी सेट अप पूरे किए गए हैं या नहीं. इसके अलावा, आपके ऐप्लिकेशन को बेहतर बनाने के लिए सुधार के सही सुझाव भी मिलेंगे. ज़्यादा जानकारी के लिए हमारे साथ बने रहें!

ज़्यादा जानें

खोजें
खोज साफ़ करें
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
खोज मदद केंद्र
true
73175
false