फ़ेयर यूज़ के तहत, YouTube पर वीडियो पोस्ट करने से जुड़ी जानकारी

फ़ेयर यूज़ एक कानूनी सिद्धांत है. इसके तहत, कुछ मामलों में कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले लोग या इकाई से मंज़ूरी लिए बिना, उसके कॉन्टेंट का इस्तेमाल किया जा सकता है.

कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले लोग या इकाइयां, YouTube को ऐसे वीडियो हटाने के कई अनुरोध करती हैं जो उनके हिसाब से कॉपीराइट कानून का उल्लंघन करते हैं. कभी-कभी, ऐसे वीडियो हटाने के भी अनुरोध किए जाते हैं जो कॉपीराइट के अपवाद या साफ़ तौर पर फ़ेयर यूज़ के दायरे में आते हैं.

अदालतों ने यह फ़ैसला लिया है कि कॉपीराइट उल्लंघन की वजह से वीडियो हटाने का अनुरोध सबमिट करने से पहले, कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले लोगों या इकाइयों को इस बात पर ध्यान देना होगा कि वीडियो, कॉपीराइट अपवाद के दायरे में आता है या नहीं.

अगर किसी वीडियो में कॉपीराइट वाले ऐसे कॉन्टेंट का इस्तेमाल किया जाता है जो कॉपीराइट अपवाद के दायरे में आता है, तो उसे कॉपीराइट का उल्लंघन करने वाला न मानकर कानूनी तौर पर सही माना जाएगा. इसलिए, हम कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले लोगों या इकाइयों से अक्सर यह कहते हैं कि वे कॉपीराइट उल्लंघन की वजह से वीडियो हटाने का अनुरोध सबमिट करने से पहले, यह देख लें कि वीडियो कॉपीराइट के अपवाद के दायरे में आता है या नहीं. अगर कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले व्यक्ति या इकाई को लगता है कि वीडियो किसी अपवाद के दायरे में नहीं आता है, तो उसे इसके पीछे की वजह साफ़ तौर पर बतानी होगी. 

अगर कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले व्यक्ति या इकाई को लगता है कि वीडियो किसी अपवाद के दायरे में नहीं आता है, लेकिन उसने इसके पीछे की वजह साफ़ तौर पर न बताई हो, तो उस वीडियो को YouTube से नहीं हटाया जाएगा. 

सभी देशों/इलाकों में लागू होने वाले कॉपीराइट के अपवाद

कॉपीराइट के अपवादों के बारे में दुनिया भर में अक्सर एक जैसे नियम होते हैं. हालांकि, देशों/इलाकों के हिसाब से ये नियम अलग-अलग हो सकते हैं. कॉपीराइट वाले कॉन्टेंट को, कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले व्यक्ति या इकाई की अनुमति के बिना इस्तेमाल करना किन मामलों में सही माना जाता है, इस बारे में देशों/इलाकों के हिसाब से अलग-अलग नियम हो सकते हैं.

ध्यान रखें कि कॉपीराइट उल्लंघन की वजह से वीडियो हटाने के अनुरोधों का जवाब देते समय, हम स्थानीय नियमों को ध्यान में रखते हैं. हम कॉपीराइट उल्लंघन की वजह से वीडियो हटाने के लिए किए गए अनुरोधों का जवाब कैसे देते हैं, इस बारे में ज़्यादा जानने के लिए YouTube की कॉपीराइट से जुड़ी पारदर्शिता रिपोर्ट देखें. इसमें आपको यह जानकारी भी मिलेगी कि अक्सर हम किन मामलों में, कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले उन लोगों या इकाइयों से अतिरिक्त जानकारी मांगते हैं जो यह दावा करते हैं कि वीडियो, कॉपीराइट के अपवाद के दायरे में नहीं आता.

अमेरिका में कमेंट्री, आलोचना, रिसर्च, शिक्षा या खबरों की रिपोर्टिंग वाला कॉन्टेंट, फ़ेयर यूज़ के दायरे में आ सकता है. ईयू (यूरोपीय संघ) में, काफ़ी सीमित अपवाद होते हैं और उनका इस्तेमाल खास कैटगरी के मुताबिक ही किया जाना चाहिए. जैसे, किसी और के कॉन्टेंट का हवाला देना, आलोचना करना, समीक्षा करना, हंसी-मज़ाक़, पैरोडी, और नकल करना. दूसरे देशों/इलाकों में इसी तरह का दूसरा सिद्धांत होता है जिसे फ़ेयर डीलिंग कहते हैं. हालांकि, इसके काम करने का तरीका अलग हो सकता है.

हालांकि, अदालतें फ़ेयर यूज़ के हर मामले में तथ्यों के हिसाब से फ़ैसला लेती हैं. आपको ऐसे वीडियो अपलोड करने से पहले कानूनी सलाह लेनी चाहिए जिनमें किसी दूसरे व्यक्ति के कॉपीराइट वाले कॉन्टेंट का इस्तेमाल हुआ हो.

फ़ेयर यूज़ के चार पहलू

अमेरिका में, जज तय करते हैं कि किस तरह के कॉन्टेंट के इस्तेमाल को फ़ेयर यूज़ माना जाएगा. जज हर मामले में इस बात पर विचार करेगा कि फ़ेयर यूज़ से जुड़े चार पहलू किस तरह लागू होते हैं. फ़ेयर यूज़ से जुड़े चार पहलू ये हैं:

1. कॉन्टेंट को इस्तेमाल करने का मकसद और तरीका. इसमें यह भी शामिल है कि क्या इसे व्यावसायिक तौर पर इस्तेमाल किया गया है या शिक्षा से जुड़े गैर-लाभकारी मकसद के लिए

अदालतें आम तौर पर यह देखती हैं कि क्या कॉपीराइट वाले किसी कॉन्टेंट को “पूरी तरह बदलकर” इस्तेमाल किया गया है. इसका मतलब है कि क्या मूल वीडियो को नए तरीके से पेश किया गया है या इसमें कोई नया मतलब जोड़ा गया है या सिर्फ़ मूल वीडियो की नकल की गई है.
किसी कॉन्टेंट का व्यावसायिक तौर पर इस्तेमाल करने को फ़ेयर यूज़ माने जाने की संभावना कम होती है. हालांकि, अगर किसी वीडियो में फ़ेयर यूज़ वाला कॉन्टेंट शामिल है, तो उससे कमाई की जा सकती है.

2. कॉपीराइट वाला कॉन्टेंट किस तरह का है

कल्पना पर आधारित कॉन्टेंट के मुकाबले, तथ्यों पर आधारित कॉन्टेंट के इस्तेमाल को फ़ेयर यूज़ माने जाने की संभावना ज़्यादा होती है.

3. कॉपीराइट वाले कॉन्टेंट का कितना हिस्सा इस्तेमाल किया गया है और उसकी अहमियत कितनी है

किसी ओरिजनल कॉन्टेंट के बड़े हिस्से के बजाय, छोटे हिस्से के इस्तेमाल को फ़ेयर यूज़ मानने की ज़्यादा संभावना होती है. हालांकि, अगर आपने किसी कॉन्टेंट का “सबसे अहम” हिस्सा इस्तेमाल किया है, तो हो सकता है कि बहुत छोटा हिस्सा होने के बावजूद भी उसके इस्तेमाल को फ़ेयर यूज़ न माना जाए.

4. कॉपीराइट वाले कॉन्टेंट के इस्तेमाल से, उसके संभावित बाज़ार या उसकी वैल्यू पर पड़ने वाला असर कितना है

ऐसा हो सकता है कि कॉन्टेंट के ऐसे इस्तेमाल को फ़ेयर यूज़ न माना जाए जहां कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले व्यक्ति या इकाई को मूल कॉन्टेंट से मुनाफ़ा मिलने की संभावना कम हो. इसके तहत, अदालतों ने पैरोडी के कुछ मामलों को अपवाद माना है.

फ़ेयर यूज़ का उदाहरण

Donald Duck Meets Glenn Beck in Right Wing Radio Duck

"Donald Duck Meets Glenn Beck in Right Wing Radio Duck"

rebelliouspixels की पेशकश

इस रीमिक्स में, अलग-अलग सोर्स से, कॉन्टेंट के छोटे-छोटे हिस्से लिए गए हैं. इसमें, आर्थिक संकट के दौरान की गई भड़काऊ बयानबाज़ी के असर को नए ढंग से पेश किया गया है. अगर वीडियो में इस्तेमाल किए गए कॉन्टेंट को नए तरीके से पेश किया गया है, तो इस तरह के इस्तेमाल को फ़ेयर यूज़ माना जा सकता है.

YouTube पर फ़ेयर यूज़ के तहत मिलने वाली सुरक्षा

बहुत कम मामलों में, हमने YouTube क्रिएटर्स को एक नई पहल में शामिल होने के लिए कहा है. इससे YouTube पर ऐसे वीडियो को कॉपीराइट उल्लंघन की वजह से हटाए जाने से बचाया जाता है जो “फ़ेयर यूज़” के दायरे में आते हैं. इसके तहत, YouTube उन क्रिएटर्स के 10 लाख डॉलर तक के खर्च की भरपाई करता है जिनके वीडियो, फ़ेयर यूज़ के दायरे में आते हैं और इसके बावजूद उन्हें हटाने का अनुरोध किया जाता है. यह भरपाई तब की जाती है, जब फे़यर यूज़ के दायरे में रहकर बनाए गए वीडियो हटाने के अनुरोध मिलने के बाद उनके ख़िलाफ़ कॉपीराइट उल्लंघन का मुकदमा दर्ज होता है.

इस पहल का मकसद यह पक्का करना है कि क्रिएटर्स अपना कॉन्टेंट सुरक्षित कर सकें. साथ ही, इसका मकसद क्रिएटर्स को फ़ेयर यूज़ की अहमियत और उसकी सीमाओं के बारे में जानकारी देना है, ताकि वीडियो बनाने के लिए बेहतर प्लैटफ़ॉर्म मिल सके. ऊपर बताया गया है कि अलग-अलग देशों/इलाकों में इस तरह के इस्तेमाल पर लागू होने वाले नियमों में अंतर होता है. इसलिए, हम यह सुविधा सिर्फ़ अमेरिका में रहने वाले उन क्रिएटर्स को उपलब्ध करा रहे हैं जो अपने वीडियो को सिर्फ़ अमेरिका में दिखाने की सहमति देते हैं.

YouTube पर फ़ेयर यूज़ के तहत सुरक्षा पाने वाले वीडियो के उदाहरण

Fracking Next Door

ध्यान दें: अगर आप अमेरिका में हैं, तो इस प्लेलिस्ट में शामिल ऐसे वीडियो देख सकते हैं जिन्हें हमने सुरक्षित किया है. हालांकि, अमेरिका से बाहर रहने वाले लोग इस प्लेलिस्ट के वीडियो नहीं देख पाएंगे.

ये वीडियो, कॉपीराइट उल्लंघन की वजह से वीडियो हटाने के लिए हमें मिलने वाले अनुरोधों का एक छोटा हिस्सा हैं. साथ ही, ये फ़ेयर यूज़ के दायरे में आने वाले उन वीडियो के भी कुछ ही उदाहरण हैं जिन्हें हटाने के अनुरोध मिले हैं.

हर साल, YouTube कुछ ही वीडियो को फ़ेयर यूज़ की सुरक्षा दे पाता है. इन्हें चुनते समय कई बातों का ध्यान रखा जाता है. आम तौर पर, हम उन वीडियो को चुनते हैं जो फ़ेयर यूज़ का बेहतर तरीके से पालन करते हैं. इन्हें, फ़ेयर यूज़ के चार पहलुओं के आधार पर चुना जाता है.

अगर आपका वीडियो इस पहल के लिए चुना जाता है, तो आपको इसकी जानकारी दी जाएगी. अपना वीडियो सुरक्षित कराने के लिए, कृपया हमसे संपर्क न करें. अगर हम आपके वीडियो को फ़ेयर यूज़ की सुरक्षा दे पाएंगे, तो हम आपसे खुद संपर्क करेंगे.

फ़ेयर यूज़ के दायरे में आने वाले वीडियो को वापस लाना

YouTube हर किसी को कानूनी सुरक्षा नहीं दे सकता, फिर भी हम कॉपीराइट उल्लंघन की वजह से, वीडियो हटाने के उन अनुरोधों को लेकर सावधानी बरतते हैं जिनका असर YouTube के सभी क्रिएटर्स पर पड़ता है.

आपको शायद ऐसे कुछ मामलों की जानकारी होगी जिनमें हमने कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले लोगों या इकाइयों को, वीडियो हटाने के अनुरोधों पर फिर से विचार करने के लिए कहा है. साथ ही, हमने उनसे फ़ेयर यूज़ के दायरे में आने वाले वीडियो को वापस लाने के लिए कहा है. उदाहरण के लिए:

  • The Young Turks का यह वीडियो देखें. इसमें उस विज्ञापन की छोटी-छोटी क्लिप दिखाई गई हैं जिसकी बहुत ज़्यादा आलोचना हुई थी. ये क्लिप, दर्शकों की आपत्ति के पीछे की वजह के बारे में चल रही बातचीत के तहत दिखाई गई हैं.
  • Secular Talk के इस वीडियो में एक नेता की आलोचना की गई है. उन्होंने मधुमेह के ऐसे इलाज का प्रमोशन किया था जिसकी सच्चाई अभी साबित नहीं हुई है.
  • Buffy vs Edward: Twilight Remixed -- [original version] एक रिमिक्स वीडियो है. इसमें, वैंपायर विषय पर बनाई गई इन दोनों फ़िल्मों के बीच यह तुलना की गई है कि इनमें महिलाओं को किस तरह दिखाया गया है. ये फ़िल्में किशोरों को ध्यान में रखकर बनाई गई हैं.
  • "No Offense", नैशनल ऑर्गनाइज़ेशन फ़ॉर मैरिज के आधिकारिक चैनल पर अपलोड किया गया एक वीडियो है. इसमें, एक मशहूर हस्ती के क्लिप को अभद्र व्यवहार के उदाहरण के तौर पर दिखाया गया है.

ज़्यादा जानकारी

कॉन्टेंट को फ़ेयर यूज़ के तहत इस्तेमाल करने के बारे में ज़्यादा जानने के लिए, इंटरनेट पर कई संसाधन मौजूद हैं. यहां दी गई साइटों का मकसद सिर्फ़ जानकारी देना है. YouTube इनका प्रमोशन नहीं करता:

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू