वीडियो में पेड प्रॉडक्ट प्लेसमेंट, स्पॉन्सरशिप, और प्रमोशन जोड़ना

वीडियो में पेड प्रॉडक्ट प्लेसमेंट, प्रमोशन, स्पॉन्सरशिप या ऐसा दूसरा कॉन्टेंट शामिल किया जा सकता है जिसके बारे में दर्शकों को जानकारी देना ज़रूरी है. अगर इनमें से कुछ भी वीडियो में शामिल किया जाता है, तो आपको हमें इसकी जानकारी देनी होगी. इसके लिए, वीडियो की जानकारी में जाकर पैसे लेकर किया गया प्रमोशन वाला बॉक्स चुनना होगा. 

पैसे लेकर किए जाने वाले सभी प्रमोशन, Google Ads की नीतियों और YouTube के कम्यूनिटी दिशा-निर्देशों के मुताबिक होने चाहिए. आप और आपके साथ काम करने वाले ब्रैंड, वीडियो में पैसे लेकर किए जाने वाले प्रमोशन की जानकारी देने के बारे में, स्थानीय और कानूनी जवाबदेही को समझने और उनका पालन करने के लिए ज़िम्मेदार हैं. इनमें, जानकारी कब ज़ाहिर करनी है, किस तरह करनी है, और किसके लिए करनी है जैसी जवाबदेही शामिल है.

अगर आपको ऐसे वीडियो खोजने हैं जिनमें क्रिएटर ने पैसे लेकर किए गए प्रमोशन की जानकारी दी है, तो इस लिंक का इस्तेमाल करें. अगर मोबाइल डिवाइस का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो वेब पते को कॉपी करने के लिए, लिंक को दबाकर रखें और फिर उसे अपने ब्राउज़र के नेविगेशन बार में चिपकाएं.
पेड प्रॉडक्ट प्लेसमेंट, स्पॉन्सरशिप, और प्रमोशन में किन चीज़ों को शामिल नहीं किया जाना चाहिए

Google Ads की नीतियों के मुताबिक, अपने वीडियो में यहां दिए गए प्रॉडक्ट और सेवाओं के लिए, पैसे लेकर प्रमोशन नहीं किया जा सकता:

  • गैर-कानूनी प्रॉडक्ट और सेवाएं
  • सेक्स या एस्कॉर्ट सेवाएं
  • वयस्कों के लिए कॉन्टेंट
  • मेल-ऑर्डर ब्राइड
  • नशीली दवाएं
  • डॉक्टर के पर्चे के बिना दवाएं बेचने की सेवाएं
  • ऑनलाइन जुआ खेलने की साइटें, जिनकी Google या YouTube ने समीक्षा नहीं की है
  • परीक्षा या टेस्ट में नकल करवाने वाली सेवाएं
  • हैकिंग, फ़िशिंग, या स्पायवेयर
  • विस्फोटक
  • बेईमानी या गुमराह करने वाले कारोबार

यह नीति वीडियो, वीडियो के ब्यौरों, टिप्पणियों, लाइव स्ट्रीम, शॉर्ट वीडियो, और YouTube के अन्य प्रॉडक्ट या सुविधा पर लागू होती है. ध्यान दें कि ऊपर दी गई सूची में प्रॉडक्ट और सेवाओं के सिर्फ़ कुछ उदाहरण दिए गए हैं. अगर आपको लगता है कि किसी वीडियो से Google Ads की नीतियों का उल्लंघन हो सकता है, तो उसे पोस्ट न करें. 

उदाहरण

यहां ऐसे कॉन्टेंट के कुछ उदाहरण दिए गए हैं जिन्हें YouTube पर पोस्ट करने की अनुमति नहीं दी जाती.

  • दूसरों के लिए अकादमिक कॉन्टेंट लिखने वाली सेवा का पैसे लेकर किया जाने वाला प्रमोशन
  • नकली पासपोर्ट बेचने या फ़र्ज़ी आधिकारिक दस्तावेज़ बनाने का तरीका बताने वाली वेबसाइट का पैसे लेकर किया जाने वाला प्रमोशन
  • नकली क्रेडिट कार्ड नंबर जनरेट करने वाले सॉफ़्टवेयर का पैसे लेकर किया जाने वाला प्रमोशन
  • कानूनी नियंत्रण वाली दवाओं को बिना डॉक्टर के पर्चे के बेचने वाली ऑनलाइन फ़ार्मेसी का पैसे लेकर किया जाने वाला प्रमोशन

अगर आपके कॉन्टेंट से नीति का उल्लंघन हो, तो क्या होगा

अगर आपका कॉन्टेंट हमारी नीतियों के मुताबिक न हो, तो हम उसे हटा देंगे और इसकी जानकारी देने के लिए आपको एक ईमेल भेजेंगे. अगर आपने पहली बार हमारे कम्यूनिटी दिशा-निर्देशों का उल्लंघन किया है, तो आपके चैनल के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी. आपको बस एक चेतावनी दी जाएगी. इस चेतावनी को 90 दिन के अंदर हटाने के लिए, नीति से जुड़ी ट्रेनिंग ली जा सकती है. हालांकि, अगर आपके कॉन्टेंट से 90 दिनों की अवधि में उसी नीति का दोबारा उल्लंघन होता है, तो आपके चैनल को मिली चेतावनी नहीं हटेगी और चैनल पर स्ट्राइक भी भेजी जाएगी. अगर ट्रेनिंग पूरी करने के बाद किसी दूसरी नीति का उल्लंघन किया जाता है, तो आपको एक और चेतावनी मिलेगी. हम आने वाले समय में, बार-बार उल्लंघन करने वालों को नीति से जुड़ी ट्रेनिंग लेने से रोक सकते हैं.

अगर आपके चैनल को तीन स्ट्राइक मिलती हैं, तो चैनल को बंद कर दिया जाएगा. YouTube पर कम्यूनिटी दिशा-निर्देशों के उल्लंघन की स्ट्राइक से जुड़ी बुनियादी बातें जानें. 

इसके अलावा, अगर वीडियो में किसी ऐसे प्रॉडक्ट या सेवा का प्रमोशन किया जा रहा है जो सभी उम्र के लोगों के लिए सही नहीं है, तो हम उस वीडियो पर उम्र की पाबंदी लगा सकते हैं.

पेड प्रॉडक्ट प्लेसमेंट, स्पॉन्सरशिप, और प्रमोशन का क्या मतलब है?

वीडियो के उन हिस्सों को पेड प्रॉडक्ट प्लेसमेंट कहते हैं जिन्हें पैसे लेकर किसी तीसरे पक्ष के लिए बनाया जाता है. तीसरे पक्ष के ब्रैंड, मैसेज या प्रॉडक्ट को वीडियो में सीधे तौर पर दिखाना भी पेड प्रॉडक्ट प्लेसमेंट के दायरे में आता है.

वीडियो को विज्ञापन देने वालों या क्रिएटर के खुद के ब्रैंड को प्रमोट करने के लिए बनाया जाता है. हालांकि, यह ज़रूरी है कि कॉन्टेंट से क्रिएटर और उसके खुद के ब्रैंड के बीच के संबंध की साफ़ तौर पर जानकारी न मिलती हो. प्रमोशन के लिए बने वीडियो में अक्सर जानकारी को इस तरह से दिखाया जाता है जिससे लोगों को लगे कि उन्हें जो बताया जा रहा है कि वह कॉन्टेंट क्रिएटर की अपनी राय है.

स्पॉन्सरशिप का मतलब है ऐसा कॉन्टेंट जिसे पूरे वीडियो या वीडियो के किसी हिस्से में दिखाने के लिए, तीसरे पक्ष की कोई कंपनी क्रिएटर को पैसे देती है. स्पॉन्सरशिप से आम तौर पर किसी तीसरे पक्ष के ब्रैंड, मैसेज या प्रॉडक्ट का प्रमोशन होता है. इसके लिए, उन्हें वीडियो में सीधे तौर पर शामिल नहीं किया जाता.

ध्यान दें कि आप पर लागू होने वाले कानूनों के मुताबिक, पैसे लेकर किए गए प्रमोशन का मतलब अलग हो सकता है. क्रिएटर्स और ब्रैंड अपने इलाके के कानून के मुताबिक, वीडियो में पैसे लेकर किए गए प्रमोशन की जानकारी देने की जवाबदेही को समझने और उनका पूरी तरह से पालन करने के लिए ज़िम्मेदार हैं. इनमें, जानकारी कब देनी है, किस तरह देनी है, और किसे देनी है जैसी कानूनी जवाबदेही शामिल हैं.

क्रिएटर्स और ब्रैंड को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि स्थानीय कानूनों के तहत, पैसे लेकर किए गए कुछ खास तरह के प्रमोशन की अनुमति है या नहीं. उदाहरण के लिए, यूके और ईयू में ऑडियोविज़ुअल मीडिया सर्विस डायरेक्टिव के तहत कुछ खास तरह के वीडियो को “बच्चों के कार्यक्रम” कैटगरी में रखा गया है. ऐसा हो सकता है कि इस कैटगरी में स्पॉन्सरशिप या पेड प्रॉडक्ट प्लेसमेंट शामिल करने पर पाबंदी हो.
अगर वीडियो में कोई पेड प्रॉडक्ट प्लेसमेंट, प्रमोशन या किसी और कारोबारी संबंध को शामिल किया गया है, तो क्या मुझे इस बारे में YouTube को बताना होगा?
अगर आपके वीडियो में कोई पेड प्रॉडक्ट प्लेसमेंट, प्रमोशन या किसी और कारोबारी संबंध को शामिल किया गया है, तो आपको इसके बारे में YouTube को बताना होगा. इससे हम, लोगों को इसकी जानकारी दे पाएंगे. ध्यान दें कि आपके इलाके के कानूनों के मुताबिक, आप पर कुछ अन्य जवाबदेही भी लागू हो सकती हैं. इनका पालन न करने पर, हम आपके वीडियो या खाते के ख़िलाफ़ कार्रवाई कर सकते हैं. YouTube को इसके बारे में बताने के लिए, यह तरीका अपनाएं:
  1. कंप्यूटर पर, YouTube Studio में साइन इन करें.
  2. बाईं ओर दिए गए सेक्शन से, वीडियो चुनें.
  3. उस वीडियो पर क्लिक करें जिसमें आपको बदलाव करना है.
  4. ज़्यादा विकल्प चुनें. 
  5. “मेरे वीडियो में, पैसे लेकर किया गया प्रमोशन शामिल है, जैसे कि प्रॉडक्ट प्लेसमेंट, स्पॉन्सरशिप या प्रमोशन” के बगल में दिए गए बॉक्स पर क्लिक करें.
  6. सेव करें को चुनें.

"मेरे वीडियो में, पैसे लेकर किया गया प्रमोशन शामिल है, जैसे कि प्रॉडक्ट प्लेसमेंट, स्पॉन्सरशिप या प्रमोशन" बॉक्स को चुनने से क्या होगा?
'ऐडवांस सेटिंग' में जाकर, "वीडियो से जुड़ा एलान" सेक्शन में "वीडियो में पैसे लेकर किया गया प्रमोशन शामिल है" बॉक्स को चुनने से, दर्शक के अनुभव को बेहतर बनाए रखने में मदद मिलती है.
हम अब भी इन वीडियो पर विज्ञापन चलाएंगे. जब हमें पता चलेगा कि किसी वीडियो में पैसे लेकर किया गया प्रमोशन शामिल है, तो हम आपके वीडियो पर कोई ऐसा विज्ञापन नहीं दिखाएंगे जो आपके ब्रैंड पार्टनर के हितों के ख़िलाफ़ हो. साथ ही, आपसे मिली जानकारी के मुताबिक, हम अपनी मौजूदा नीतियों के तहत, आपके वीडियो को YouTube Kids ऐप्लिकेशन से हटा देंगे.
क्या YouTube अब भी इन वीडियो पर विज्ञापन चलाएगा?
हां, YouTube अब भी इन वीडियो पर विज्ञापन चलाएगा.
 
कभी-कभी, पैसे लेकर किए गए प्रमोशन वाले वीडियो में हम आपके ब्रैंड पार्टनर के हितों से टकराव वाले विज्ञापन की जगह कोई और विज्ञापन चला सकते हैं. यह काम, विज्ञापन देने वालों को पूरा फ़ायदा पहुंचाने के लिए किया जाता है.
 
उदाहरण के लिए, मान लें कि आपने कंपनी A के लिए ब्रैंड और प्रॉडक्ट प्लेसमेंट वाला वीडियो अपलोड किया है. ऐसे में, उस वीडियो में कंपनी B को विज्ञापन स्पेस बेचना सही नहीं है.
क्या मुझे अपने वीडियो से जुड़े किसी भी कारोबारी संबंध के बारे में किसी और को बताने की ज़रूरत है?
हां, आपको यह काम करना पड़ सकता है. अलग-अलग अधिकार क्षेत्रों में, पैसे लेकर प्रमोशन करने वाले क्रिएटर्स और ब्रैंड के लिए शर्तें अलग-अलग हो सकती हैं. 
 
अगर आपके वीडियो में पैसे लेकर किया गया प्रमोशन शामिल है, तो कुछ अधिकार क्षेत्रों और ब्रैंड पार्टनर के लिए यह ज़रूरी हो जाता है कि आप किसी भी ऐसे कारोबारी संबंध के बारे में दर्शकों को बताएं जिसकी वजह से आपको वीडियो में कोई बदलाव करना पड़ा. यह आपकी ज़िम्मेदारी है कि आप पैसे लेकर किए गए प्रमोशन पर लागू होने वाले कानूनों और नियमों के बारे में जानें और उनका पालन करें. 
क्या कोई ऐसी सुविधा है जिससे अपने दर्शकों को वीडियो में पैसे लेकर किए गए प्रमोशन के बारे में बताया जा सकता है?

हां. जब भी क्रिएटर्स यह बताते हैं कि वीडियो में पैसे लेकर किए गए प्रमोशन शामिल हैं, तो उस वीडियो की शुरुआत में दर्शकों को इसकी जानकारी देने वाला एक मैसेज अपने-आप दिख जाता है. यह मैसेज उन्हें 10 सेकंड के लिए दिखता है. जानकारी देने वाले इस मैसेज से दर्शकों को यह पता चलता है कि वीडियो में पैसे लेकर किए गए प्रमोशन शामिल हैं. साथ ही, यह मैसेज लोगों को पेड प्रॉडक्ट प्लेसमेंट, स्पॉन्सरशिप, और प्रमोशन के बारे में जानकारी देने वाले इस पेज पर ले जाता है.

ध्यान रखें कि अलग-अलग अधिकार क्षेत्रों में, पैसे लेकर प्रमोशन करने वाले क्रिएटर्स और ब्रैंड के लिए अलग-अलग शर्तें हो सकती हैं. इन शर्तों को पूरा करने के लिए, आपको कुछ ज़्यादा काम करना पड़ सकता है. इसलिए, इन पर लागू कानूनों को देखकर उनका पालन ज़रूर करें. 

क्या इसका मतलब यह है कि वीडियो में, वीडियो विज्ञापनों को जोड़ा सकता है? जैसे, वीडियो शुरू होने से पहले, वीडियो के बीच में, और वीडियो खत्म होने के बाद दिखने वाले विज्ञापन.
नहीं. YouTube की विज्ञापन नीतियों के मुताबिक आपको अपने वीडियो में, विज्ञापन देने वालों के बनाए गए और उनसे मिले वीडियो विज्ञापन या अन्य व्यावसायिक विज्ञापन जोड़ने या शामिल करने की अनुमति नहीं है. 
 
अगर विज्ञापन देने वाला खास तौर पर आपके वीडियो पर अपने विज्ञापन देना चाहता है, तो इसके लिए अपने पार्टनर मैनेजर के साथ मिलकर काम करें. तीसरे पक्ष से मिली स्पॉन्सरशिप को वीडियो में जोड़ने की हमारी नीतियों के बारे में ज़्यादा जानकारी देखें.
 
यह नीति, ब्रैंड के बनाए वीडियो या ब्रैंड के लिए बनाए गए वीडियो पर लागू नहीं होती. साथ ही, यह ब्रैंड के YouTube चैनल पर अपलोड किए गए वीडियो पर भी लागू नहीं होती. 
क्या वीडियो के पहले/बाद में, मार्केटर या स्पॉन्सर के ब्रैंड के नाम और प्रॉडक्ट की जानकारी के साथ, टाइटल कार्ड का इस्तेमाल किया जा सकता है?
हां. हम आपको स्टैटिक टाइटल कार्ड और एंड कार्ड इस्तेमाल करने की अनुमति देते हैं. इन्हें उन वीडियो पर इस्तेमाल किया जा सकता है जिनमें पैसे लेकर किया गया प्रमोशन शामिल है. इन टाइटल कार्ड और एंड कार्ड में ग्राफ़िक्स, स्पॉन्सर या मार्केटर का लोगो, और प्रॉडक्ट की ब्रैंडिंग शामिल की जा सकती है.
  • टाइटल कार्ड: ये पांच सेकंड या उससे कम समय के और स्टैटिक होने चाहिए. अगर ये वीडियो की शुरुआत (0:01से॰) में रखे गए हैं, तो कार्ड को क्रिएटर के नाम/लोगो के साथ दिखाया जाना चाहिए.
  • एंड कार्ड: वीडियो के आखिरी 30 सेकंड में रखे जाते हैं और ये स्टैटिक होने चाहिए. 
ज़्यादा संसाधन
ज़्यादा जानकारी के लिए, हमारा सुझाव है कि आप नियमित तौर पर अपने स्थानीय कानूनी संसाधन देखें. जैसे, अमेरिका में फ़ेडरल ट्रेड कमीशन (एफ़टीसी), यूनाइटेड किंगडम में ऐडवर्टाइज़िंग स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी (एएसए), फ़्रांस में डायरेक्ट्रेट जनरल फ़ॉर कॉम्पिटिशन, कंज़्यूमर अफ़ेयर्स ऐंड फ़्रॉड प्रिवेंशन (डीजीसीसीआरएफ़), जर्मनी में मीडिया से जुड़ी संस्थाएं Medienanstalten या फिर कोरिया में कोरिया फ़ेयर ट्रेड कमीशन (केएफ़टीसी).
सहायता केंद्र के इस लेख में दी गई जानकारी, कानूनी सलाह नहीं है. यह सिर्फ़ आपको जानकारी देने के लिए है. अगर आपको कानूनी सलाह चाहिए, तो अपने कानूनी प्रतिनिधियों से संपर्क करें.

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
4402225794234419583