साइट के पते में बदलाव करने वाला टूल

अपनी साइट को एक डोमेन से दूसरे डोमेन पर ले जाना

इस टूल के बारे में जानकारी

वेबसाइट को किसी दूसरे डोमेन या सबडोमेन पर भेजते समय, पते में बदलाव करने वाले टूल का इस्तेमाल करें: उदाहरण के लिए, जब साइट को example.com से example.org या example2.com पर भेजा जाता है. यह टूल, Google को आपके नए डोमेन या सबडोमेन के बारे में बताता है और Google Search के नतीजों को आपकी पुरानी साइट से नई साइट पर रीडायरेक्ट करने में मदद करता है. आम तौर पर, साइट को किसी दूसरे डोमेन या सबडोमेन पर भेजने से पहले, इस टूल का इस्तेमाल किया जाना चाहिए. हालांकि, साइट को दूसरी जगह पर ले जाने के बाद भी इस टूल का इस्तेमाल किया जा सकता है.

इस टूल का इस्तेमाल कब नहीं करना चाहिए

इन मामलों में साइट के पते में बदलाव करने वाले टूल का इस्तेमाल न करें:

  • http से https में पता बदलते समय. http से https में पता बदलते समय, साइट के यूआरएल में बदलाव करने से जुड़े दिशा-निर्देशों का पालन करें. हालांकि, ऐसा करते समय यह टूल इस्तेमाल न करें. Google आपको बदलावों की जानकारी देगा.
  • अपनी साइट में कुछ पेजों को एक जगह से दूसरी जगह ले जाना: उदाहरण के लिए, example.com/oldpath/... से example.com/newpath/...) पर. इस मामले में, बस रीडायरेक्ट जोड़ें और ज़रूरत के मुताबिक अपने साइटमैप अपडेट करें. हालांकि, अपनी साइट को एक डोमेन से दूसरे डोमेन के पाथ पर ले जाने के लिए, इस टूल का इस्तेमाल किया जा सकता है. उदाहरण के लिए, example.com से example3.com/new/location/ पर.
  • एक ही डोमेन में www और नॉन-www के बीच स्विच करना: उदाहरण के लिए, www.example.com से example.com में स्विच करना. इस मामले में पते में बदलाव करने वाले टूल का इस्तेमाल किए बिना कैननिकल टैगिंग और/या रीडायरेक्ट का इस्तेमाल करें.
  • यूआरएल में उपयोगकर्ताओं को दिखाई देने वाला कोई भी बदलाव किए बिना साइट को एक जगह से दूसरी जगह ले जाना. मतलब, आपकी साइट के यूआरएल में कोई बदलाव नहीं किया जाता, लेकिन सर्वर देने वाली संस्था या सीडीएन को बदल दिया जाता है. इस बारे में जानने के लिए यूआरएल में कोई बदलाव किए बिना साइट को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने के बारे में पढ़ें.

साइट को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने के सबसे सही तरीके

  • साइट का पता एक बार बदलने के बाद तुरंत दोबारा न बदलें. अगर आपने साइट A के ट्रैफ़िक को साइट B में ले जाने के लिए साइट के पते में बदलाव करने का अनुरोध सबमिट किया है, तो आपके पास तुरंत ही साइट B से साइट C में पता बदलने के लिए दूसरा अनुरोध सबमिट करने का विकल्प होगा.
  • किसी एक ही जगह पर कई साइटों को एक साथ ले जाने का अनुरोध न करें. साइट A, B, और C को एक ही नई जगह D पर ले जाने से भ्रम की स्थिति पैदा हो सकती है और ट्रैफ़िक में कमी आ सकती है. एक बार में एक ही साइट को किसी नई, कंबाइंड लोकेशन पर ले जाना बेहतर होगा. अगली साइट को वहां ले जाने से पहले ट्रैफ़िक के स्थिर होने का इंतज़ार करें.
  • अगर आपको किसी डोमेन प्रॉपर्टी को किसी एक जगह (A.com से B.com) पर माइग्रेट करना करना और उप डोमेन को किसी दूसरी प्रॉपर्टी (m.A.com से m.C.com) पर माइग्रेट करना है, तो उप डोमेन m.A.com के लिए कोई प्रॉपर्टी बनाएं और उसे अलग से माइग्रेट करें.
  • किसी साइट को एक जगह से दूसरी जगह ले जाते समय, नई जगह पर संबंधित साइट के फ़ॉर्मैट में कोई बदलाव न करने से नई साइट पर सीधे तौर पर सिग्नल भेजने में मदद मिलती है. अगर साइट को किसी दूसरी जगह ले जाते समय, नई जगह पर साइट के कॉन्टेंट और यूआरएल में बदलाव किया जाता है, तो साइट के ट्रैफ़िक में कुछ हद तक कमी आ सकती है. ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि Google हर पेज को फिर से समझकर उसका आकलन करता है.

पहला चरण: साइट की जगह बदलने से पहले की कार्रवाई

साइट की जगह बदलने के सभी मामलों में इन तरीकों का इस्तेमाल करें:

  1. पुराना होम पेज बदलकर नया होम पेज इस्तेमाल करने की स्थिति में 301 रीडायरेक्ट लागू करें. हमारा सुझाव है कि आप अपनी पुरानी साइट के कैननिकल पेजों के लिए भी 301 रीडायरेक्ट लागू करें.
  2. ये विषय पढ़ें:
    1. साइट को नई जगह पर ले जाने का क्या मतलब होता है? - साइट को नई जगह पर ले जाने से जुड़े सभी मामलों के लिए सुझाव.
    2. यूआरएल में बदलाव करके किसी साइट को एक जगह से दूसरी जगह ले जाना - किसी साइट को एक डोमेन से दूसरे डोमेन पर ले जाने से जुड़े सिलसिलेवार निर्देश.
  3. यूआरएल में बदलाव करके साइट को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने की प्रक्रिया में बताई गई, साइट को दूसरी जगह ले जाने से पहले की कार्रवाइयां करें.
  4. इसके बाद, डोमेन लेवल पर मौजूद साइट (जैसे कि example.com, https://example.com, m.example.com) के लिए साइट के पते में बदलाव करने वाले टूल (दूसरा चरण) का इस्तेमाल किया जा सकता है.

दूसरा चरण: साइट के पते में बदलाव करने वाले टूल का इस्तेमाल करें

साइट को दूसरी जगह ले जाने से पहले की कार्रवाई करने के बाद, नीचे दी गई ज़रूरी शर्तों को पूरा करने पर, पुरानी साइट के सिग्नल को नई साइट पर ले जाने के लिए पते में बदलाव करने वाले टूल का इस्तेमाल किया जा सकता है.

ज़रूरी शर्तें:

  • Search Console में आपकी पुरानी और नई प्रॉपर्टी के लिए, आपके मालिकाना हक की पुष्टि होना ज़रूरी है. दोनों प्रॉपर्टी को मैनेज करने के लिए, आपको एक ही Google खाते का इस्तेमाल करना होगा.
  • पते में बदलाव करने वाले टूल का इस्तेमाल, सिर्फ़ डोमेन लेवल वाली प्रॉपर्टी के लिए किया जा सकता है. इसका मतलब है कि example.com, m.example.com या http://example.com की जगह बदली जा सकती है, लेकिन पाथ लेवल वाली प्रॉपर्टी की जगह नहीं बदली जा सकती, जैसे कि http://example.com/petstore/
  • यह टूल, बताए गए डोमेन (जिसमें www शामिल है) के अलावा किसी और पर असर नहीं डालता. इसलिए, अगर टूल में example.com को दूसरी जगह ले जाने के लिए कहा जाता है, तो यह www.example.com या m.example.com पर कोई असर नहीं डालता. हालांकि, डोमेन के अंदर दिए गए सभी पाथ पर इसका असर पड़ता है (example.com/any/path/here).
  • यह टूल आपकी सोर्स प्रॉपर्टी के सभी प्रोटोकॉल की जगह बदल देता है. इसलिए, http://example.com की जगह बदलने के लिए कहने पर, यह https://example.com की जगह भी बदल देता है

साइट के पते में बदलाव करने वाला टूल इस्तेमाल करें:

  1. पहला चरण: साइट की जगह बदलने से पहले की कार्रवाई करें.
  2. पक्का करें कि आपने ऊपर बताई गई सभी ज़रूरी शर्तों को पूरा किया है.
  3. डोमेन लेवल वाली प्रॉपर्टी में, पते में बदलाव करने वाला टूल खोलें. इसका मतलब है कि ऐसी प्रॉपर्टी जिसमें कोई पाथ सेगमेंट न हो. जैसे: example.com, न कि example.com/petstore.
  4. टूल में बताए गए निर्देशों का पालन करें. यह टूल Google को साइट की जगह बदलने के बारे में बताने से पहले, जांच के लिए कुछ ज़रूरी कार्रवाइयां करता है. अगर साइट की जगह बदलने से पहले की किसी ज़रूरी जांच में आपकी साइट पास नहीं हो पाती है, तो आपको जारी रखने से पहले समस्या को ठीक करना पड़ेगा. अगर साइट की जगह बदलने से पहले की किसी गैर-ज़रूरी जांच में आपकी साइट पास नहीं हो पाती है, तो आपको सुझावों के साथ चेतावनी मिलेगी. हालांकि, आपका अनुरोध जारी रह सकता है.
  5. अगर साइट की जगह बदलने से पहले की ज़रूरी जांच में आपकी साइट पास हो जाती है, तो दूसरी जगह भेजी जा रही सभी साइटों के लिए Search Console में यह सूचना दिखाई देगी कि साइट की जगह बदली जा रही है. यह सूचना उस नई साइट के लिए भी दिखाई देगी जिस पर साइटें ले जाई जा रही हैं. आपको ये सूचनाएं 180 दिनों तक दिखेंगी.
  6. यूआरएल में बदलाव करके अपनी साइट की जगह बदलना में बताए गए निर्देशों के मुताबिक अपनी साइट के ट्रैफ़िक की निगरानी करें.
  7. अगर आपको अब भी Google Search पर अपनी साइट के लिए ट्रैफ़िक दिखाई देता है, तो कम से कम 180 दिनों तक रीडायरेक्ट बनाए रखें. अपने पुराने पेज निकाल दें. हालांकि, हमारा सुझाव है कि आप कम से कम एक साल तक अपने पुराने डोमेन के लिए पैसे चुकाना रखें. ऐसा इसलिए करें कि कोई और व्यक्ति गलत उद्देश्य से आपके डोमेन को न खरीदे और उसका गलत इस्तेमाल न करे. 180 दिन की अवधि के बाद, Google पुरानी और नई साइट के बीच किसी भी जुड़ाव को खारिज करता है. साथ ही, पुरानी साइट के मौजूद होने और क्रॉल करने लायक होने पर भी उसे कोई मान्यता नहीं देता.

यह टूल चलाने पर क्या होता है?

Search Console की मदद से पते में बदलाव करने के अनुरोध का मतलब है Google को अपनी पुरानी साइट की जगह नई साइट को क्रॉल और इंडेक्स करने के लिए कहना. इस तरह पुरानी साइट से नई साइट पर कई सिग्नल भेजे जाते हैं. साथ ही, Google को यह अनुरोध भेजा जाता है कि वह कैननिकल पेज तय करते समय पुरानी की जगह नई साइट को प्राथमिकता दे. Search Console में माइग्रेशन की प्रक्रिया शुरू करने के बाद, 180 दिन तक ये कार्रवाइयां जारी रहती हैं.

Google, इंडेक्स से पुरानी साइट को नहीं मिटाता है. साथ ही, अगर पुरानी साइट के यूआरएल उपलब्ध हैं, तो वे Search के नतीजों में दिखाई दे सकते हैं. ऐसा तब होगा, जब नई साइट पर उनके जैसा कोई पेज न हो. अगर आपकी साइट पर एक जैसे पेज उपलब्ध हैं, तो पुरानी साइट से नई साइट पर रीडायरेक्ट उपलब्ध कराने और rel=canonical टैग उपलब्ध कराने से Search में दिखाई देने वाले पुराने यूआरएल की संख्या कम हो सकती है.

यह टूल Google को साइट की जगह बदलने का अनुरोध भेजने से पहले तेज़ी से साइट की जांच करता है. इससे यह पुष्टि हो जाती है कि आप दोनों साइटों के मालिक हैं. साथ ही, इससे आपकी साइट के कुछ पेजों पर 301 की जांच भी हो जाती है.

साइट के पते में बदलाव करने का अनुरोध रद्द करना

साइट के पते में बदलाव करने का अनुरोध किए जाने के बाद 180 दिन के अंदर, अनुरोध रद्द करने का विकल्प आपके पास होता है.

साइट के पते में बदलाव करने का अनुरोध रद्द करने के लिए ऐसा करें:

  1. अपने सर्वर पर पहले सेट अप किए गए 301-रीडायरेक्ट वाले सभी निर्देश हटा दें. आपके ऐसा नहीं करने पर, अगली बार आपकी साइट को क्रॉल करते समय Google को ये निर्देश दिखाई देंगे. साथ ही, वह निर्देश के मुताबिक यूआरएल को रीडायरेक्ट करना जारी रख सकता है.
  2. नई साइट से पुरानी साइट पर 301 रीडायरेक्ट जोड़ें.
  3. पुरानी साइट में पते में बदलाव करने वाला टूल खोलें और रद्द करने की प्रक्रिया पर क्लिक करें. ऐसी हर पुरानी साइट के लिए यह प्रक्रिया दोहराए जिसका यूआरएल आपको नहीं बदलना है.

"इस साइट पर ले जाने वाली दूसरी साइटें"

आपको Search Console में सबसे ऊपर कोई ऐसा नोट दिख सकता है जिसमें यह बताया गया हो कि उपयोगकर्ता को दूसरी साइटों से इस साइट पर लाया जा रहा है. इसका मतलब है कि इस साइट की Search Console प्रॉपर्टी के मालिक ने पते में बदलाव करने वाले टूल का इस्तेमाल करके, Google को यह बताया है कि कोई वेबसाइट किसी दूसरे डोमेन से इस डोमेन पर आई है. (उदाहरण के लिए, अगर किसी साइट का यूआरएल, example.com से बदलकर example2.com हो गया हो.)

माइग्रेशन की प्रक्रिया जैसे-जैसे आगे बढ़ती है, वैसे-वैसे आपको दिखेगा कि दूसरी साइट (या साइटों) से आने वाला ट्रैफ़िक, इस साइट के ट्रैफ़िक में जुड़ जाता है. ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि Google Search धीरे-धीरे उपयोगकर्ताओं को पुरानी साइट से इस नई साइट पर रीडायरेक्ट करता है.

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
खोजें
खोज साफ़ करें
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
खोज मदद केंद्र
true
83844
false