अपनी वेबसाइट के लिए Search Console का इस्तेमाल करना

Search Console में आपका स्वागत है!

Search Console में आपको ऐसी रिपोर्ट, टूल, और सिखाने वाली चीज़ें मिलती हैं जिनका इस्तेमाल आप कार्रवाइयां करने के लिए कर सकते हैं. इन्हें 'Google सर्च' पर आपकी सामग्री को दिखाने के लिए डिज़ाइन किया गया है.

अगर आपने अभी तक साइन अप नहीं किया है, तो Search Console में साइन अप करें: यह आसान और मुफ़्त है.

Search Console के ज़रिए अपनी वेबसाइट प्रबंधित करना

रोज़

चिंता न करें Search Console में साइन अप करने के बाद अगर आपकी वेबसाइट में कोई समस्या आती है, तो Search Console आपको ईमेल भेजेगा. इन समस्याओं में वेबसाइट का हैक होना या आपकी साइट को क्रॉल या इंडेक्स करते समय Google को हुई समस्याएं शामिल हैं. अगर हमें पता चलता है कि आपकी वेबसाइट खोज नतीजों की क्वालिटी के लिए बने Google के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन कर रही है, तब भी हम आपको ईमेल भेजेंगे.

ध्यान दें: आपकी साइट की पुष्टि होने के बाद, Search Console की रिपोर्ट में आपकी साइट का डेटा दिखने में कुछ समय लग सकता है. रिपोर्ट में यह डेटा उपलब्ध होने पर हम आपको इसकी सूचना दे देंगे.

हर महीने

करीब-करीब हर महीने, Search Console में अपनी साइट की परफ़ॉर्मेंस की जानकारी देख लें. साइट की परफ़ॉर्मेंस दिखाने वाले पेज पर जाकर आप कम समय में आसानी से जान सकते हैं कि आपकी साइट कैसा काम कर रही है:

  • इस बात का ध्यान रखें कि आपकी साइट पर गड़बड़ियां बढ़ न रही हों.
  • जाँच करें कि आपकी क्लिक संख्याओं में कोई असामान्य गिरावट न हुई हो. ध्यान दें कि इसमें हफ़्ते के आखिरी दिनों में गिरावट आना या छुट्टियों के दिन गिरावट या बढ़ोतरी दिखना सामान्य है.
अगर रिपोर्ट पढ़ने का तरीका जानने के बारे में आपका कोई सवाल है, तो ज़्यादा जानने के लिए पेज में सबसे ऊपर सहायता बटन सहायता पर क्लिक करें. हमारी रिपोर्ट की सूची देखें और जानें कि उनका इस्तेमाल क्यों किया जाता है.

सामग्री में बदलाव के बाद किए जाने वाले काम

जब भी आप साइट में बड़े बदलाव करें, Google खोज में अपनी साइट के काम पर नज़र रखने के लिए Search Console ज़रूर देखें.

साइट में नई सामग्री जोड़ना:

नई प्रॉपर्टी जोड़ना:

अगर आप अपनी साइट का डोमेन नाम बदलते हैं:

खोज नतीजों से पेज को हटाना:

ज़्यादा जानकारी

Google के खोज नतीजों में अपनी साइट को सबसे ऊपर दिखाने के लिए मुझे क्या करना होगा?

हमसे हर कोई यह सवाल पूछता है. इसका जवाब है: इसमें कोई राज़ वाली बात नहीं है, सिर्फ़ अच्छे तरीके अपनाकर ऐसा किया जा सकता है. Google के खोज नतीजों में अपनी साइट को बेहतर तरीके से दिखाने के लिए, यहां कुछ सबसे सही तरीके बताए गए हैं:

  • अपनी साइट पर अच्छी क्वालिटी की सामग्री उपलब्ध कराएं. Google हमारे उपयोगकर्ताओं की खोज के लिए सबसे अच्छे नतीजे ढूंढने की कोशिश करता है. अगर आप सबसे अच्छी सामग्री उपलब्ध कराते हैं, तो आपकी वेबसाइट की रैंक भी अच्छी होगी. परफ़ॉर्मेंस रिपोर्ट का इस्तेमाल करके देखें कि क्या खोजने पर उपयोगकर्ता आपके पेजों पर पहुंचते हैं. साथ ही, अपनी साइट के लिंक के लिए क्लिक मिलने की दर (सीटीआर) भी देखें.
  • अच्छी साइट बनाने के लिए यह पक्का करें कि आप हमारे दिशा-निर्देशों का पालन कर रहे हैं. साथ ही, ऐसी गलतियां करने से बचें जो आपकी खोज की रैंकिंग पर बुरा असर डाल सकती हैं.
  • अपनी साइट को मोबाइल फ़्रेंडली बनाएं. कई लोग मोबाइल डिवाइस पर खोज करते हैं. हमारे खोज नतीजे उस तरह के पेज दिखाने की कोशिश करते हैं जो उस व्यक्ति को उसके सवाल का सबसे अच्छा जवाब दे सके. साथ ही, उनके इस्तेमाल किए जा रहे प्लैटफ़ॉर्म के हिसाब से सबसे अच्छा उपयोगकर्ता अनुभव दे सके.
  • जानकारी देने वाले शीर्षक और स्निपेट का इस्तेमाल करें. अच्छे, साफ़ तौर पर दिए गए शीर्षक, और मेटा टैग की सही जानकारी से हमें पेज का मकसद समझने में मदद मिलती है. साथ ही, हम अपने खोज नतीजों में काम के स्निपेट दिखा पाते हैं. ज़्यादा जानें.
  • खोज नतीजों में दिखाई देने वाली सुविधाएं जोड़ें. इन सुविधाओं में रेटिंग देने के लिए इस्तेमाल होने वाले स्टार के निशान, इवेंट के बारे में जानकारी या साइट के नतीजे दिखाने वाले खोज बॉक्स शामिल हैं. इन सुविधाओं से, उपयोगकर्ता आपकी साइट की सामग्री का बेहतर तरीके से इस्तेमाल कर पाएंगे जिससे आपकी साइट उनके लिए ज़्यादा फ़ायदेमंद बन जाएगी.
खोज करने के लिए इस्तेमाल होने वाले शब्दों की शब्दावली

Search Console में रिपोर्ट, Google सर्च पाइपलाइन के आम नियमों के हिसाब से व्यवस्थित होती हैं: सामग्री को पहले क्रॉल किया जाता है (खोजा जाता है) और फिर उसे इंंडेक्स किया जाता है (सामग्री को समझने के लिए पार्स किया जाता है और जाँचा जाता है). इसके बाद, वेबसाइट के मालिक यानी आप, अपनी साइट पर आने वाले खोज ट्रैफ़िक की जाँच करते हैं और पता लगाते हैं कि इस्तेमाल करने वाले लोगों को खोज नतीजे कैसे दिखाई देते हैं. साथ ही, आप यह भी जान सकते हैं कि दूसरी साइट, आपकी साइट को कैसे लिंक करती हैं.

क्रॉल

Google के वेब क्रॉलर, सामग्री को विज़िट और इंडेक्स करने के लिए URL की एक ऐसी सूची जारी करते हैं जिसे कोई भी देख सकता है. इसके लिए वे, लिंक और साइटमैप को फ़ॉलो करते हैं. यह Google के खोज नतीजों में जोड़े जाने की प्रोसेस का पहला चरण है.

  • प्रॉपर्टी
    यह शब्द आम तौर पर Search Console खाते में जोड़ी गई वेबसाइट के लिए इस्तेमाल किया जाता है. आप अपने खाते के होम पेज पर अपनी प्रॉपर्टी की सूची देख सकते हैं.
  • पुष्टि करें
    यह पुष्टि करना कि आप अपने Search Console खाते में बताई गई वेबसाइट के मालिक हैं. किसी प्रॉपर्टी का डेटा देखने से पहले उसकी पुष्टि करना ज़रूरी है. जब आप अपने Search Console खाते में कोई साइट जोड़ते हैं, तब आपसे उसकी पुष्टि करने के लिए कहा जाएगा.
  • Googlebot
    Google का वेब क्रॉलर. Google के पास अलग-अलग Googlebot हैं जो अलग-अलग तरह के डिवाइस (स्मार्ट फ़ोन, फ़ीचर फ़ोन या डेस्कटॉप कंप्यूटर) के तौर पर आपके पेजों से उन डिवाइस पर खोज कर रहे उपयोगकर्ताओं के लिए अलग-अलग खोज नतीजों का हिसाब लगाने का अनुरोध करते हैं.
  • कैननिकल
    अगर आप एक ही पेज को अलग-अलग यूआरएल पर होस्ट करते हैं, तो आपके खोज नतीजे इन डुप्लीकेट पेजों पर कमतर करके दिखाए जा सकते हैं. उदाहरण के लिए, हो सकता है कि आपके पास http://example.com/dogs और http://www.example.com/dogs पर एक ही पेज हो. ऐसे में, हो सकता है कि खोज हर पेज के लिए कम रैंक वाले अलग-अलग नतीजे दिखाए. एक पेज रखने पर ऐसा नहीं होता. इस स्थिति में, आपको Google को यह बताना चाहिए कि ये पेज समान हैं और खोज परिणामों में दिखाने के लिए एक पेज को कैननिकल (आधिकारिक पेज) के रूप में चुनें. साइटमैप, एचटीएमएल टैग या Search Console सेटिंग इस्तेमाल करके, कैननिकल पेजों या साइटों का संकेत दें.
  • robots.txt
    उस फ़ाइल का नाम जिससे Google को पता चलता है कि किन पेजों को इंडेक्स नहीं करना या खोज नतीजों में नहीं दिखाना है.
  • साइटमैप
    आपकी साइट पर मौजूद यूआरएल की सूची. Google यहीं से किसी वेबसाइट को क्रॉल करने की शुरुआत करता है. साइटमैप को आपकी वेबसाइट पर एक या एक से ज़्यादा फ़ाइलों में रखा जाता है.

इंंडेक्स करना

URL विज़िट करने और हर पेज की सामग्री और उस पेज को बनाने के मकसद का विश्लेषण करने की प्रक्रिया. इससे Google को किसी उपयोगकर्ता की क्वेरी के लिए सबसे अच्छे खोज नतीजे तय करने में सहायता मिलती है.

  • रिसॉर्स
    वेब पेज, आम तौर पर कई और रिसॉर्स लोड करता है, जैसे कि सीएसएस, JavaScripts, और इमेज. पक्का करें कि Googlebot को ऐसे रिसॉर्स को ऐक्सेस करने से रोका नहीं जा रहा है जो इंडेक्स करने के प्रोसेस के दौरान पेज के मतलब पर असर डालते हैं.
  • रेंडर करना
    Google कोशिश करता है कि उन सभी पेजों को दिखाए जिन्हें वह इंडेक्स करता है, ताकि पेजों को इस तरह देख सके जैसे कोई उपयोगकर्ता देखेगा. रेंडरिंग, पेज को इमेज और लेआउट के साथ दिखाने का प्रोसेस है, ताकि Google को पेज का मतलब पता करने में मदद मिल सके.

खोज ट्रैफ़िक

  • मैन्युअल ऐक्शन
    अगर आपका पेज Google की क्वालिटी के लिए बनाए गए दिशा-निर्देशों में से किसी का भी उल्लंघन करता है, जैसे कि स्पैम वाली सामग्री, तो पेज पर मैन्युअल ऐक्शन लिया जा सकता है. इससे Google के खोज नतीजों में आपका पेज पहले से नीचे चला जाएगा.
  • अंतरराष्ट्रीय टारगेटिंग
    उपयोगकर्ताओं को खोज नतीजे दिखाने के लिए, साफ़ तौर पर भाषा या देश के हिसाब से टारगेट करना. Search Console में hreflang लिंक टैग या देश के लिए टारगेटिंग सेटिंग इस्तेमाल करके ऐसा किया जा सकता है.

खोज नतीजों में दिखने का तरीका

आपका पेज खोज में कैसा दिखता है.

  • स्ट्रक्चर्ड डेटा
    आपके पेज से जुड़ी जानकारी बताने का एक ऐसा तरीका जो मानकों पर आधारित है. यह एक ऐसे फ़ॉर्मैट में होता है जिसे Google क्रॉलिंग इंजन समझ सकता है. उदाहरण के लिए, आप रेटिंग, इवेंट की जानकारी या वीडियो की जानकारी जोड़ सकते हैं. कुछ खास तरह के स्ट्रक्चर्ड डेटा का इस्तेमाल ज़्यादा बेहतर नतीजे (रिच रिज़ल्ट) के तौर पर दिखाने के लिए किया जाता है.
  • स्निपेट
    जानकारी देने वाली छोटी लाइनें, जो Google खोज नतीजों में हर एक नतीजे के नीचे दिखाई देती हैं. Google इन्हें इंडेक्स करने के दौरान प्रोग्रामिंग के ज़रिए जनरेट करता है. साथ ही, इनमें जानकारी देने वाली विज़ुअल विशेषताएं शामिल हो सकती हैं जिन्हें ज़्यादा बेहतर नतीजे (रिच रिज़ल्ट) कहा जाता है.
  • ज़्यादा बेहतर नतीजा (रिच रिज़ल्ट)
    एक ऐसा Google खोज नतीजा जो विज़ुअल रूप से बेहतर होता है, जैसे तारों के निशान लगाकर दी जाने वाली रेटिंग या इवेंट का समय. रिच रिज़ल्ट अक्सर पेज के लेखक की ओर से जोड़े गए स्ट्रक्चर्ड डेटा से बनाए जाते हैं.
  • साइटलिंक
    अगर आपकी वेबसाइट के पेज का क्रम या उसका ढांचा किसी तर्क (लॉजिक) से बनाया गया है, तो Google मुख्य खोज नतीजे के नीचे कुछ सब-लिंक दिखा सकता है. उदाहरण के लिए, किसी एयरलाइन साइट के लिए मुख्य नतीजा, एयरलाइन का मेन पेज होगा. साथ ही, नीचे दिए गए छोटे लिंक, बुकिंग पेज, उड़ान स्थिति पेज, सामान नीति पेज वगैरह के सीधे लिंक होंगे. आप अपनी साइट के लिए साइटलिंक तय नहीं कर सकते.

 

 

अपना डैशबोर्ड खोलें

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?