कॉपीराइट क्या होता है?

कॉपीराइट के तहत, किस तरह के कॉन्टेंट सुरक्षित किए जा सकते हैं?

कॉपीराइट का मालिकाना हक रखने वाले व्यक्ति के पास उस कॉन्टेंट के इस्तेमाल का खास अधिकार होता है. हालांकि, इसके कुछ अपवाद भी हैं. किसी व्यक्ति का बनाया हुआ कोई मौलिक कॉन्टेंट अगर किसी स्टोरेज डिवाइस (हार्डवेयर) में सेव हो, तो उस व्यक्ति को अपने-आप ही उस कॉन्टेंट का कॉपीराइट मिल जाता है.

कई तरह के कॉन्टेंट, कॉपीराइट के तहत सुरक्षित किए जा सकते हैं, उदाहरण के लिए:

  • ऑडियो-विज़ुअल कॉन्टेंट, जैसे कि टीवी शो, फ़िल्में, और ऑनलाइन वीडियो
  • साउंड रिकॉर्डिंग और म्यूज़िकल कंपोज़िशन
  • लिखा हुआ कॉन्टेंट, जैसे कि व्याख्यान, लेख, किताबें, और म्यूज़िकल कंपोज़िशन
  • विज़ुअल कॉन्टेंट, जैसे कि पेंटिंग, पोस्टर, और विज्ञापन
  • वीडियो गेम और कंप्यूटर सॉफ़्टवेयर
  • ड्रामा से जुड़ा कॉन्टेंट, जैसे कि नाटक या संगीत से सजी फ़िल्में या शो

इसके बारे में, कॉपीराइट ऑफ़िस की वेबसाइट पर जानकारी उपलब्ध है. किसी वकील से इस बारे में ज़्यादा जानकारी ली जा सकती है.

क्या कॉपीराइट से सुरक्षित किसी कॉन्टेंट का इस्तेमाल किया जा सकता है?

कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले व्यक्ति या इकाइयों के पास ही यह तय करने अधिकार होता है कि उनके कॉन्टेंट का आम तौर पर कैसे इस्तेमाल किया जा सकता है. नीचे बताए गए कुछ मामलों में, कॉपीराइट का उल्लंघन किए बिना, कॉपीराइट से सुरक्षित कॉन्टेंट का इस्तेमाल किया जा सकता है:

  • कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले व्यक्ति या इकाई ने आपको कॉन्टेंट का इस्तेमाल करने की अनुमति दी हो. इन मामलों में, लिखित तौर पर अनुमति लेना अच्छा रहता है. जैसे, लाइसेंस हासिल करने के लिए कानूनी समझौता करना.
  • कुछ व्यक्ति या इकाई, कॉपीराइट से सुरक्षित अपने कॉन्टेंट के इस्तेमाल की इजाज़त देते हैं. इसके लिए, वे पैसे नहीं लेते. हालांकि, कॉन्टेंट के इस्तेमाल के लिए उनकी कुछ शर्तें हो सकती हैं. इस बारे में ज़्यादा जानने के लिए, क्रिएटिव कॉमंस लाइसेंस के बारे में पढ़ें.
  • कुछ मामलों में, कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले व्यक्ति या इकाई से अनुमति लिए बिना, उसके कॉन्टेंट का कुछ हिस्सा इस्तेमाल किया जा सकता है. कॉपीराइट वाले कॉन्टेंट के इस्तेमाल के कुछ मामलों को "फ़ेयर यूज़" माना जाता है. इसके अलावा, कॉन्टेंट के इस्तेमाल के कुछ मामले ऐसे हो सकते हैं जिन पर कॉपीराइट कानून नहीं लागू होता है या जिन्हें इस कानून में अपवाद माना गया है. जैसे, फ़ेयर डीलिंग. अगर आपको किसी और के बनाए कॉन्टेंट का इस्तेमाल करना है, लेकिन आपको नहीं पता कि यह काम अनुमति के बिना किया जा सकता है या नहीं, तो किसी वकील से सलाह लें.

अगर मैं यह एलान करूं कि "मेरा इरादा कॉपीराइट का उल्लंघन करना नहीं है", तो क्या होगा?

अगर आपके पास कॉपीराइट से सुरक्षित कॉन्टेंट का इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं है, तो इन स्थितियों में भी आपका कॉन्टेंट हटाया जा सकता है:

  • आपने कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले व्यक्ति या इकाई को क्रेडिट दिया है.

अपने कॉन्टेंट के इस्तेमाल से जुड़ी अनुमति देते समय, कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले कुछ लोग या इकाइयां क्रेडिट देने की शर्त रख सकती हैं. कुछ मामलों में, कॉन्टेंट को फ़ेयर यूज़ या फ़ेयर डीलिंग के नियम के तहत इस्तेमाल करने पर भी, आपको कॉपीराइट का अधिकार रखने वाले व्यक्ति या इकाई को क्रेडिट देना पड़ सकता है. हालांकि, क्रेडिट देने का मतलब यह नहीं है कि आपको दूसरों के बनाए हुए कॉन्टेंट को बिना उनकी अनुमति के इस्तेमाल करने का अधिकार अपने-आप मिल गया है.

  • आपने कोई कॉन्टेंट खरीदा है, जिसमें उसकी फ़िज़िकल या डिजिटल कॉपी भी शामिल है.

किसी कॉन्टेंट की कॉपी का मालिकाना हक रखने पर, आपको उसे सार्वजनिक रूप से इंटरनेट पर शेयर करने का अधिकार नहीं मिलता. हालांकि, आपके पास उस कॉपी को बेचने या अपने किसी दोस्त को देने का अधिकार होता है.

  • आपने कॉन्टेंट का इस्तेमाल पैसे कमाने के लिए नहीं किया है.

कॉन्टेंट के गैर-व्यावसायिक इस्तेमाल के ज़्यादातर मामलों को 'फ़ेयर यूज़' माना जा सकता है. इसके अलावा, यह भी हो सकता है कि इस तरह के इस्तेमाल के दौरान कुछ लाइसेंसों की शर्तें पूरी की गई हों. हालांकि, कभी-कभी कॉन्टेंट के गैर-व्यावसायिक इस्तेमाल को भी कॉपीराइट का उल्लंघन माना जा सकता है.

  • आपने इंटरनेट पर इससे मिलता-जुलता कॉन्टेंट कहीं और भी देखा है.

अन्य लोगों ने हो सकता है कि उस कॉन्टेंट के मालिक से अनुमति लेकर, उसे शेयर किया हो. इसके अलावा, यह भी हो सकता है कि वे कॉन्टेंट का इस्तेमाल फ़ेयर यूज़ के नियम के तहत कर रहे हों.

  • आपने टीवी, फ़िल्म थिएटर या रेडियो से कॉन्टेंट खुद रिकॉर्ड किया है.

इनमें से किसी भी सोर्स से कोई कॉन्टेंट खुद रिकॉर्ड करने पर, आपको उसका कॉपीराइट नहीं मिलता.

  • आपने किसी किताब, फ़िल्म के पोस्टर या फ़ोटो से कॉन्टेंट को खुद कॉपी किया है.

इस मामले में भी, किसी कॉन्टेंट को खुद कॉपी करने पर, आपको उसका कॉपीराइट नहीं मिलता.

  • आपने एलान किया है कि "कॉपीराइट उल्लंघन का कोई इरादा नहीं है."

इस तरह के एलान का कोई फ़ायदा नहीं होता. कॉपीराइट का उल्लंघन, "कानूनी जवाबदेही की गंभीर अनदेखी" के तहत आने वाला अपराध है. इसका मतलब यह है कि कॉपीराइट के उल्लंघन से जुड़े मामलों में फ़ैसले लेते समय, अदालतें यह नहीं देखतीं कि उल्लंघन जान-बूझकर किया गया या अनजाने में हुआ.

क्या Google यह तय कर सकता है कि कॉपीराइट का मालिक कौन है?

नहीं. Google, मालिकाना हक वाले विवादों में मध्यस्थता नहीं कर सकता. हालांकि, कॉपीराइट के उल्लंघन वाला कॉन्टेंट हटाने के लिए, मान्य और पूरी जानकारी वाला नोटिस मिलने पर, कानूनी ज़रूरतों के मुताबिक, हम उस कॉन्टेंट को हटा देते हैं. कोई मान्य कानूनी विरोध मिलने पर, हम उसे कॉन्टेंट हटाने का अनुरोध करने वाले को भेज देते हैं. अगर इसके बाद भी विवाद का समाधान नहीं होता है, तो दोनों पक्षों के पास अदालत में जाने का विकल्प होता है.

कॉपीराइट और ट्रेडमार्क में क्या फ़र्क़ है? पेटेंट क्या होता है?

कॉपीराइट, बौद्धिक संपत्ति का सिर्फ़ एक रूप है. कॉपीराइट और ट्रेडमार्क दो अलग-अलग चीज़ें हैं. ब्रैंड के नाम, सिद्धांत, लोगो, और सोर्स की पहचान बताने वाली दूसरी चीज़ों की सुरक्षा के लिए ट्रेडमार्क का इस्तेमाल किया जाता है. इससे यह पक्का किया जाता है कि दूसरे लोग किसी खास मकसद से उनका इस्तेमाल न कर पाएं. यह पेटेंट कानून से भी अलग है, जो आविष्कारों को सुरक्षित करता है.

कॉपीराइट और निजता में क्या फ़र्क़ है?

किसी वीडियो, इमेज या ऑडियो रिकॉर्डिंग में आपकी मौजूदगी का यह मतलब नहीं है कि आपके पास उस कॉन्टेंट का कॉपीराइट है. उदाहरण के लिए, अगर आपके मित्र ने आपकी कोई फ़ोटो खींची है, तो उस फ़ोटो पर आपके मित्र का ही कॉपीराइट होगा. अगर आपका दोस्त या कोई दूसरा व्यक्ति बिना आपकी अनुमति के ऐसा वीडियो, इमेज या रिकॉर्डिंग अपलोड करता है जिसमें आप मौजूद हैं और आपको लगता है कि इससे आपकी निजता या सुरक्षा को खतरा है, तो आपके पास निजता से जुड़ी शिकायत दर्ज कराने का विकल्प है.

कॉपीराइट के उल्लंघन की शिकायत करने से जुड़ी शर्तें

कानूनी समस्या हल करने वाले हमारे टूल का इस्तेमाल करके, आसानी से शिकायत दर्ज की जा सकती है.

कॉपीराइट उल्लंघन की शिकायत में यहां बताई गई जानकारी शामिल होनी चाहिए. इस जानकारी के बिना, हम आपके अनुरोध पर कोई कार्रवाई नहीं कर पाएंगे:

1. आपकी संपर्क जानकारी

आपको अपनी संपर्क जानकारी उपलब्ध करानी होगी, ताकि शिकायत के बारे में हम आपसे संपर्क कर पाएं. इसके लिए, अपना ईमेल पता, घर या ऑफ़िस का पता या टेलीफोन नंबर वगैरह दिया जा सकता है.

2. आपके उस कॉन्टेंट का ब्यौरा जिसे आपकी अनुमति के बिना इस्तेमाल किया गया है

अपनी शिकायत में, कॉपीराइट वाले उस कॉन्टेंट के बारे में साफ़ तौर पर और पूरी जानकारी दें जिसे आपको सुरक्षित करना है. अगर आपकी शिकायत में कॉपीराइट वाला एक से ज़्यादा कॉन्टेंट शामिल है, तो कॉपीराइट कानून के तहत, आपके पास ऐसे सारे कॉन्टेंट की जानकारी देने वाली सूची सबमिट करने का विकल्प होता है.

3. कथित तौर पर उल्लंघन करने वाले कॉन्टेंट के सभी यूआरएल

आपकी शिकायत में उस कॉन्टेंट का यूआरएल शामिल होना चाहिए जो आपके मुताबिक आपके अधिकारों का उल्लंघन करता है. ऐसा नहीं करने पर, हम उस कॉन्टेंट को ढूंढ नहीं पाएंगे. सिर्फ़ यह जानकारी देना कि वह कॉन्टेंट किस प्लैटफ़ॉर्म या वेबसाइट पर मौजूद है, काफ़ी नहीं है. कृपया अपनी शिकायत में, विचाराधीन कॉन्टेंट का (के) यूआरएल शामिल करें.

4. यह ज़रूरी है कि आप यहां दी गई इन दोनों बातों से सहमत हों और इन्हें स्वीकार करें:

  • "मुझे पूरा भरोसा है कि ऊपर बताए गए कॉपीराइट वाले जिस कॉन्टेंट के कथित तौर पर उल्लंघन का दावा किया गया है उसके इस्तेमाल के लिए, कॉपीराइट के मालिक, उसके एजेंट या कानून ने अनुमति नहीं दी है."
  • "इस सूचना में दी गई जानकारी पूरी तरह सही है. साथ ही, झूठी गवाही के लिए मिलने वाले दंड को ध्यान में रखते हुए, मैं यह शपथ लेता/लेती हूं कि उस कॉन्टेंट का मालिकाना हक मेरे पास है या उसके मालिक ने मुझे बतौर एजेंट काम करने की अनुमति दी है जिसके इस्तेमाल के खास अधिकार का कथित तौर पर उल्लंघन हुआ है."

5. आपका हस्ताक्षर

शिकायतों के टेक्स्ट में, कॉपीराइट मालिक या उसके प्रतिनिधि का हाथ से किया गया या इलेक्ट्रॉनिक हस्ताक्षर मौजूद होना चाहिए. ऐसा न होने पर, शिकायतों को अधूरा माना जाएगा. इस शर्त को पूरा करने के लिए, शिकायत के टेक्स्ट के सबसे नीचे, हस्ताक्षर के तौर पर अपना पूरा कानूनी नाम लिखा जा सकता है.

Google ऐप
मुख्य मेन्यू