समस्याओं का पता लगाने के लिए, प्री-लॉन्च रिपोर्ट का इस्तेमाल करना

इस लेख में, प्री-लॉन्च रिपोर्ट को सेट अप करने और उसे चलाने का तरीका बताया गया है. अगर आपने कोई प्री-लॉन्च रिपोर्ट चलाई है और आपको जानना है कि नतीजों को कैसे समझा जाता है, तो अपनी प्री-लॉन्च रिपोर्ट को समझना पेज पर जाएं.

ऐप्लिकेशन को इंटरनल, क्लोज़्ड या ओपन टेस्टिंग के लिए पब्लिश करने पर, प्री-लॉन्च रिपोर्ट अपने-आप जनरेट हो जाती है. इसकी मदद से, ऐप्लिकेशन के लोगों तक पहुंचने से पहले ही उसमें मौजूद समस्याओं का पता लगाया जा सकता है. इसमें, इन समस्याओं की जांच होती है:

  • स्थिरता से जुड़ी समस्याएं
  • Android के साथ काम करने से जुड़ी समस्याएं
  • परफ़ॉर्मेंस से जुड़ी समस्याएं
  • सुलभता से जुड़ी समस्याएं
  • सुरक्षा से जुड़े जोखिम
  • निजता से जुड़ी समस्याएं

प्री-लॉन्च रिपोर्ट किस तरह काम करती है

जिस Android ऐप्लिकेशन बंडल की जांच होनी है उसे अपलोड और पब्लिश कर दिए जाने के बाद, हम उसे अपने टेस्ट लैब में मौजूद Android डिवाइसों पर इंस्टॉल करते हैं. इसके बाद, ऐप्लिकेशन अपने-आप लॉन्च हो जाएगा और कुछ मिनट तक क्रॉल होगा. क्रॉलर कुछ बुनियादी काम करता है, जैसे कि टाइप करना, टैप करना, और स्वाइप करना. क्रॉलर के लिए, अपनी ज़रूरत के मुताबिक जांच बनाई जा सकती हैं या जांच वाले खाते के क्रेडेंशियल भी डाले जा सकते हैं.

क्रॉल खत्म होने के बाद, हम प्री-लॉन्च रिपोर्ट में टेस्ट के नतीजे इकट्ठा करते हैं. साथ ही, हमारे सभी डिवाइस से आपके ऐप्लिकेशन को अनइंस्टॉल कर दिया जाता है.

यह आकलन करना कि आपके ऐप्लिकेशन को, प्री-लॉन्च रिपोर्ट के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है या नहीं

आपका ऐप्लिकेशन हमारे टेस्ट लैब में जब तक इंस्टॉल और "क्रॉल" होने के लिए उपलब्ध रहेगा, तब तक प्री-लॉन्च रिपोर्ट काम करती रहेगी. हालांकि, कुछ ऐप्लिकेशन के लिए, कोड में मामूली बदलाव की ज़रूरत पड़ सकती है. इसके उदाहरणों में ऐसे ऐप्लिकेशन शामिल हैं जिनके लिए देश की पुष्टि करना या इंस्टॉल करने की पुष्टि करना ज़रूरी है. ज़्यादा जानने के लिए, हमारे अक्सर पूछे जाने वाले सवाल पर जाएं.

ध्यान दें कि जांच के लिए इस्तेमाल होने वाले डिवाइस, मुख्य लॉन्च ऐक्टिविटी के बिना, ऐप्लिकेशन की जांच शुरू नहीं कर सकते. इनमें लॉन्चर, विजेट, कीबोर्ड, और स्मार्ट वॉच की होम स्क्रीन शामिल हैं.

सभी को छोटा करें सभी को बड़ा करें

प्री-लॉन्च रिपोर्ट चलाना

अपने ऐप्लिकेशन की जांच करना

अपने ऐप्लिकेशन की प्री-लॉन्च रिपोर्ट जनरेट करने के लिए, ऐप्लिकेशन को क्लोज़्ड या ओपन टेस्ट ट्रैक पर पब्लिश करें.

जब तक ऑप्ट-आउट नहीं किया जाता, तब तक आपको टेस्ट ट्रैक पर पब्लिश किए जाने वाले सभी ऐप्लिकेशन की प्री-लॉन्च रिपोर्ट अपने-आप मिलती रहेगी. आम तौर पर, ऐप्लिकेशन बंडल अपलोड करने के एक घंटे के अंदर ही आपको जांच के नतीजे मिल जाएंगे. कुछ मामलों में, अपलोड करने के कुछ घंटों बाद नतीजे मिलेंगे.

प्री-लॉन्च रिपोर्ट से जुड़े ईमेल पाने के लिए साइन अप करना

नीचे दिए गए तरीके का इस्तेमाल करके, उपलब्ध प्री-लॉन्च रिपोर्ट के लिए ईमेल सूचनाएं पाई जा सकती हैं:

  1. Play Console > सूचनाएं खोलें.
  2. नीचे की ओर स्क्रोल करके, "प्री-लॉन्च रिपोर्ट" पर जाएं और उसके बगल में मौजूद बॉक्स पर सही का निशान लगाएं. यह चुना जा सकता है कि आपको सभी जांचों से जुड़े ईमेल चाहिए या सिर्फ़ उन जांचों से जुड़े ईमेल चाहिए जिनमें समस्याएं मिली हैं.
प्री-लॉन्च रिपोर्ट बंद करना

जब किसी ऐप्लिकेशन को क्लोज़्ड या ओपन टेस्ट ट्रैक पर पब्लिश किया जाता है, तो प्री-लॉन्च रिपोर्ट अपने-आप जनरेट होती हैं. अपने ऐप्लिकेशन की सभी प्री-लॉन्च रिपोर्ट बंद करने के लिए:

  1. Play Console> प्री-लॉन्च रिपोर्ट > सेटिंग खोलें.
  2. अपने ऐप्लिकेशन की रिपोर्ट बंद करने के लिए, स्क्रोल करके नीचे "प्राथमिकताएं" पर जाएं और "प्री-लॉन्च रिपोर्ट चालू करें" बॉक्स पर लगा सही का निशान हटाएं.
  3. सेव करें पर क्लिक करें.

जांच को अपनी ज़रूरत के मुताबिक बनाना

आपके पास जांच को अपनी ज़रूरत के मुताबिक बनाने का विकल्प मौजूद है, ताकि प्री-लॉन्च रिपोर्ट को बेहतर और अपने ऐप्लिकेशन के लिए काम का बनाया जा सके.

पहला चरण: अगर आपके ऐप्लिकेशन में साइन-इन स्क्रीन है, तो जांच वाले खाते के क्रेडेंशियल देना

अगर आपके ऐप्लिकेशन में साइन-इन स्क्रीन है और आपको क्रॉलर की मदद से साइन-इन करने की प्रोसेस या इसके पीछे के कॉन्टेंट की जांच करनी है, तो आपको खाते के क्रेडेंशियल देने होंगे.

ध्यान दें: अगर आपके ऐप्लिकेशन पर "Google से साइन-इन करें" (इससे, क्रॉलर अपने-आप लॉग इन कर लेता है) सुविधा काम करती है या आपने पहले ही ऐप्लिकेशन के कॉन्टेंट वाले पेज पर क्रेडेंशियल उपलब्ध कराए हैं, तो आपको क्रेडेंशियल देने की ज़रूरत नहीं है.

क्रेडेंशियल की जांच से जुड़ी कुछ ज़रूरी बातें:

  • आपके क्रेडेंशियल सिर्फ़ जांच के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं.
  • हालांकि, हम जांच के क्रेडेंशियल को सुरक्षित रखने की पूरी कोशिश करते हैं, फिर भी हमारा सुझाव है कि आप प्री-लॉन्च रिपोर्ट में कोई आधिकारिक क्रेडेंशियल न जोड़ें. इसके बजाय, नया जांच खाता उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड बनाएं.
  • क्रेडेंशियल, सिर्फ़ उन ही Android ऐप्लिकेशन में अपने-आप डाले जा सकते हैं जो स्टैंडर्ड Android विजेट का इस्तेमाल करते हैं. क्रेडेंशियल का इस्तेमाल ऐसे ऐप्लिकेशन में नहीं किया जा सकता जो ज़रूरत के मुताबिक बनाए गए कंट्रोल को रेंडर करने के लिए OpenGL का इस्तेमाल करते हैं. साथ ही, क्रेडेंशियल का इस्तेमाल उन ऐप्लिकेशन के लिए भी नहीं किया जा सकता जो वेब आधारित पुष्टि करने के फ़्लो के लिए वेबव्यू का इस्तेमाल करते हैं.
  • अगर आपके ऐप्लिकेशन पर "Google से साइन इन करें" काम करता है, तो Google अपने-आप लॉग इन करेगा.
क्रेडेंशियल सेट अप करना
  1. Play Console खोलें.
  2. कोई ऐप्लिकेशन चुनें.
  3. बाएं मेन्यू में, जांच > प्री-लॉन्च रिपोर्ट > सेटिंग चुनें.
  4. “जांच वाले खाते के क्रेडेंशियल” सेक्शन में जाकर, क्रेडेंशियल डालें चुनें.
  5. यह जानकारी डालें:
    • उपयोगकर्ता नाम: आपके जांच वाले खाते से जुड़ा उपयोगकर्ता नाम.
    • पासवर्ड: आपके जांच वाले खाते का पासवर्ड.
  6. सेव करें पर क्लिक करें. इन क्रेडेंशियल का इस्तेमाल, आने वाले समय में की जाने वाली सभी जांचों के लिए किया जाएगा. ऐसा तब तक किया जाएगा, जब तक क्रेडेंशियल में बदलाव नहीं किया जाता.
क्रेडेंशियल को बदलना या हटाना
  1. Play Console खोलें.
  2. कोई ऐप्लिकेशन चुनें.
  3. बाएं मेन्यू में, जांच > प्री-लॉन्च रिपोर्ट > सेटिंग चुनें.
  4. बदलाव करें:
    • क्रेडेंशियल में बदलाव करने के लिए: “जांच वाले खाते के क्रेडेंशियल” सेक्शन में, उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड फ़ील्ड में अपने अपडेट किए गए क्रेडेंशियल डालें.
    • क्रेडेंशियल हटाने के लिए: “जांच वाले खाते के क्रेडेंशियल” सेक्शन में जाकर, क्रेडेंशियल न डालें चुनें.
      • ध्यान दें: अगर अपने ऐप्लिकेशन की जांच करने के लिए दिए गए क्रेडेंशियल को हटाया जाता है, तो आने वाले समय में अपने ऐप्लिकेशन की किसी भी जांच से पहले, आपको नए क्रेडेंशियल जोड़ने होंगे.
  5. सेव करें पर क्लिक करें. इन क्रेडेंशियल का इस्तेमाल, आने वाले समय में की जाने वाली सभी जांचों के लिए किया जाएगा. ऐसा तब तक किया जाएगा, जब तक क्रेडेंशियल में बदलाव नहीं किया जाता.

दूसरा चरण: रोबो स्क्रिप्ट या गेम लूप डालना

अगर आपको अपने ऐप्लिकेशन की जांच के दौरान, क्रॉलर के काम करने की प्रक्रिया को कंट्रोल करना है, तो रोबो स्क्रिप्ट या गेम लूप का इस्तेमाल किया जा सकता है.

रोबो स्क्रिप्ट डालकर, अपने Java ऐप्लिकेशन की जांच के पाथ को अपनी ज़रूरत के मुताबिक बनाना

अपने ऐप्लिकेशन की जांच करते समय, क्रॉलर के काम करने की प्रक्रिया को कंट्रोल किया जा सकता है. ऐसा, किसी सामान्य उपयोगकर्ता अनुभव की जांच करने या अपने ऐप्लिकेशन के किसी नए सेक्शन की जांच करने जैसी कार्रवाइयों के लिए, रोबो स्क्रिप्ट देकर किया जा सकता है.

जब अटैच की गई स्क्रिप्ट के साथ कोई जांच की जाती है, तो क्रॉलर पहले, आपकी स्क्रिप्ट से पहले की कार्रवाइयां करता है और फिर ऐप्लिकेशन को हमेशा की तरह एक्सप्लोर करता है.

प्री-लॉन्च रिपोर्ट में स्क्रिप्ट अपलोड करने के लिए:

  1. Android Studio में Firebase टूल का इस्तेमाल करके अपनी स्क्रिप्ट रिकॉर्ड करें (Android Studio > टूल > Firebase > टेस्ट लैब > रोबो स्क्रिप्ट रिकॉर्ड करें). ज़्यादा जानकारी के लिए, Firebase सहायता केंद्र पर जाएं.
    • ध्यान दें: रोबो स्क्रिप्ट बनाने के लिए, आपको Firebase खाते की ज़रूरत नहीं है.
  2. स्क्रिप्ट तैयार होने के बाद, Play Console खोलें.
  3. कोई ऐप्लिकेशन चुनें.
  4. जांच > प्री-लॉन्च रिपोर्ट > सेटिंग चुनें. "कंट्रोल करें कि प्री-लॉन्च रिपोर्ट की मदद से, आपके ऐप्लिकेशन की जांच कैसे की जाती है" सेक्शन में, अपनी स्क्रिप्ट अपलोड करें. इसमें, अपनी फ़ाइल को खींचकर छोड़ा जा सकता है या अपलोड करें चुना जा सकता है.
  5. सेव करें पर क्लिक करें.
OpenGL का इस्तेमाल करने वाले ऐप्लिकेशन या गेम की जांच करने के लिए, गेम लूप उपलब्ध कराना

अगर OpenGL का इस्तेमाल करने वाले किसी गेम या ऐप्लिकेशन की जांच की जा रही है, तो आपको बेहतर प्री-लॉन्च रिपोर्ट पाने के लिए, गेम लूप डालना होगा. गेम लूप, वे कार्रवाइयां तय करता है जिन्हें क्रॉलर करता है. एक ही ऐप्लिकेशन में एक से ज़्यादा गेम लूप की जांच की जा सकती है.

प्री-लॉन्च रिपोर्ट में गेम लूप का इस्तेमाल करने के लिए:

  1. नीचे बताई गई चीज़ें करने के लिए, अपने गेम में बदलाव करें:
    • लूप लॉन्च करें
    • लूप चलाएं
    • लूप बंद करें (ज़रूरी नहीं). ये बदलाव अपने डेवलपमेंट एनवायरमेंट में की जाती हैं. ज़्यादा जानकारी के लिए, Firebase सहायता केंद्र पर जाएं.
      • ध्यान दें: आपको प्री-लॉन्च रिपोर्ट में गेम लूप का इस्तेमाल करने के लिए, Firebase खाते की ज़रूरत नहीं है.
  2. गेम लूप की मदद से, अपने गेम के वर्शन को क्लोज़्ड या ओपन टेस्ट ट्रैक पर पब्लिश करें. क्रॉलर अपने-आप गेम लूप का पता लगाकर, उसे लागू कर देगा.

तीसरा चरण: ऐप्लिकेशन की जांच जिस डीप लिंक से शुरू होती है उसे अपनी ज़रूरत के मुताबिक बनाना

आपके पास अपने ऐप्लिकेशन के किसी दूसरे एंट्री पॉइंट की जांच करने के लिए, प्री-लॉन्च रिपोर्ट में ज़्यादा से ज़्यादा तीन डीप लिंक जोड़ने का विकल्प होता है.

आम तौर पर, क्रॉलर कई मिनट तक काम करता है. इसके बाद, ऐप्लिकेशन को बंद करता है और हर डीप लिंक पर जाकर उसे 30 सेकंड तक क्रॉल करता है. इन अतिरिक्त क्रॉल के दौरान अगर कोई समस्या मिलती है, तो उसे रिपोर्ट में सामान्य रूप से शामिल किया जाता है.

अपने ऐप्लिकेशन के लिए डीप लिंक बनाने और उनकी जांच करने का तरीका जानने के लिए, Android Developers साइट पर जाएं.

चौथा चरण: खास भाषाओं में जांच की रिपोर्ट देखना

अगर आपको कुछ खास भाषाओं में जांच के नतीजे देखने हैं, तो प्री-लॉन्च रिपोर्ट की सेटिंग पेज पर, उन भाषाओं को सेट किया जा सकता है. ज़्यादा से ज़्यादा पांच भाषाएं चुनी जा सकती हैं.

अहम जानकारी: जब जांच वाले किसी ऐप्लिकेशन बंडल को अपलोड किया जाता है, तो प्री-लॉन्च रिपोर्ट अपने-आप चलती है. ऐसे में, शुरुआती जांच पूरी होने के बाद ही अपनी पसंद की भाषाएं जोड़ी जा सकती हैं.

पसंद की भाषाएं सेट करना
  1. Play Console खोलें.
  2. कोई ऐप्लिकेशन चुनें.
  3. बाएं मेन्यू में, जांच > प्री-लॉन्च रिपोर्ट > सेटिंग चुनें.
  4. "खास भाषाओं में अपने ऐप्लिकेशन की जांच करें" में जाकर, + भाषा जोड़ें चुनें.
  5. ज़्यादा से ज़्यादा पांच भाषाएं चुनें. आने वाले समय में जांचों के लिए, आपको सिर्फ़ इन्हीं भाषाओं के जांच के नतीजे दिखेंगे.
    • ध्यान दें: अगर कोई भाषा नहीं चुनी जाती है, तो जिन भाषाओं में आपका ऐप्लिकेशन सबसे ज़्यादा इंस्टॉल किया गया है उन्हें अपने-आप चुन लिया जाएगा.
  6. सेव करें पर क्लिक करें.

अपनी प्री-लॉन्च रिपोर्ट देखना

प्री-लॉन्च रिपोर्ट उपलब्ध होने पर, किसी जांच से जुड़ी खास जानकारी देखी जा सकती है. इसमें, जांच के दौरान मिली गड़बड़ियां, चेतावनियां, और मामूली समस्याएं शामिल होती हैं. अलग-अलग तरह की समस्याओं के हिसाब से इनकी अलग-अलग कैटगरी दी होती है. आपको अपने ऐप्लिकेशन की जांच के नतीजों के हिसाब से लॉन्च का सुझाव भी दिखेगा.

प्री-लॉन्च रिपोर्ट की खास जानकारी देखना

प्री-लॉन्च रिपोर्ट की खास जानकारी देखने के लिए:

  1. Play Console खोलें.
  2. कोई ऐप्लिकेशन चुनें.
  3. जांच > प्री-लॉन्च रिपोर्ट > खास जानकारी चुनें.
  4. हर सेक्शन की समीक्षा करें:
    • स्थिरता
    • परफ़ॉर्मेंस
    • सुलभता
    • सुरक्षा और भरोसा
  5. अगर किसी सेक्शन में कोई समस्या है, तो उसे देखने के लिए, खास जानकारी दिखाएं को चुनें.
  6. अपनी समस्याओं के बारे में ज़्यादा जानकारी देखने के लिए, जानकारी देखें चुनें.
  7. पिछली प्री-लॉन्च रिपोर्ट देखने के लिए, पेज के सबसे नीचे "रिपोर्ट की जानकारी" सेक्शन की टेबल तक स्क्रोल करें.

ध्यान दें: अगर आपको "जांच जारी है" दिखता है, तो इसका मतलब है कि नई जांच अभी पूरी नहीं हुई है. अगर हाल ही में की गई जांच चलाई नहीं जा सकी है, तो हो सकता है कि आपको "जांच नहीं की जा सकी" दिखे. दूसरी जांच चलाने के लिए, कोई दूसरा ऐप्लिकेशन बंडल प्रकाशित करें.

प्री-लॉन्च रिपोर्ट की जानकारी देखना

प्री-लॉन्च रिपोर्ट के नतीजों की जानकारी देखने के लिए:

  1. Play Console खोलें.
  2. कोई ऐप्लिकेशन चुनें.
  3. जांच > लॉन्च से पहले की गई टेस्टिंग की रिपोर्ट > जानकारी चुनें.
  4. स्थिरता, परफ़ॉर्मेंस, सुलभता, स्क्रीनशॉट, और सुरक्षा और भरोसा टैब देखें. हर पेज पर, आपको अपनी नई जांच के नतीजों की पूरी जानकारी दिखेगी. इसमें स्टैक ट्रेस, स्क्रीनशॉट, और चार्ट की जानकारी शामिल है.

ध्यान दें: अगर आपको "जांच जारी है" दिखता है, तो इसका मतलब है कि नई जांच अभी पूरी नहीं हुई है. अगर हाल ही में की गई जांच चलाई नहीं जा सकी है, तो हो सकता है कि आपको "जांच नहीं की जा सकी" दिखे. दूसरी जांच चलाने के लिए, कोई दूसरा ऐप्लिकेशन बंडल प्रकाशित करें.

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

सभी को छोटा करें सभी को बड़ा करें

ऐप्लिकेशन की जांच

जांच में कितना समय लगना चाहिए?

आम तौर पर, ऐप्लिकेशन बंडल अपलोड करने के एक घंटे के अंदर ही आपको जांच के नतीजे मिल जाएंगे. कुछ मामलों में, अपलोड करने के कुछ घंटों बाद नतीजे मिलेंगे. अगर दो दिन के बाद भी रिपोर्ट पूरी नहीं होती है, तो अपना आर्टफ़ैक्ट फिर से अपलोड करने की कोशिश करें. ऐसा करने से एक नई रिपोर्ट ट्रिगर होगी.

लॉन्च के समय, पुष्टि करने वाले ऐप्लिकेशन

क्या मैं देश की पुष्टि करने वाले ऐप्लिकेशन के लिए प्री-लॉन्च रिपोर्ट चला सकता/सकती हूं?

अपने कोड में मामूली बदलाव करने पर भी, प्री-लॉन्च रिपोर्ट हासिल की जा सकती है.

जांच वाले डिवाइस अमेरिका में हैं. अगर आपका ऐप्लिकेशन, जियोलोकेशन का इस्तेमाल करता है या उसमें देश के हिसाब से कॉन्टेंट पर पाबंदियां लगाई गई हैं, तो जांच वाले डिवाइसों पर सिर्फ़ वही कॉन्टेंट दिखता है जिसकी अनुमति होती है.

अगर आपको अपने ऐप्लिकेशन की जांच किसी ऐसी जगह पर करनी है जहां जांच वाले डिवाइस उपलब्ध न हों, तो आपको ऐसा ऐप्लिकेशन बंडल पब्लिश करना होगा जो जांच के लिए जगह की जानकारी वाली ज़रूरी शर्तों को हटा दे. दो तरीकों से यह पता लगाया जा सकता है कि प्री-लॉन्च रिपोर्ट, टेस्ट लैब में चल रही हैं या नहीं:

क्या मुझे ऐसे ऐप्लिकेशन के लिए प्री-लॉन्च रिपोर्ट मिल सकती है जो रूट किए गए डिवाइसों की जांच करता है?

जांच वाले प्लैटफ़ॉर्म, ऐसे ऐप्लिकेशन पर काम नहीं करते जो यह देखते हैं कि किसी डिवाइस के पास Android पर खास अधिकारों वाला कंट्रोल (रूट ऐक्सेस) है या नहीं.

ऐसे ऐप्लिकेशन जिनमें विज्ञापन या खरीदारी के विकल्प मौजूद हैं

मेरे ऐप्लिकेशन में विज्ञापन हैं. मैं यह कैसे पक्का करूं कि प्री-लॉन्च रिपोर्ट से मेरे इंप्रेशन और क्लिक पर असर नहीं पड़ता (जिसके बारे में मेरी विज्ञापन नेटवर्क कंपनी को पता लग सकता है या उसे खराब लग सकता है)?

Google Ads, प्री-लॉन्च रिपोर्ट वाले आईपी पते की रेंज से आने वाले ट्रैफ़िक को पहले ही अलग कर देता है. दूसरी विज्ञापन नेटवर्क कंपनियों के लिए, आपको उन आईपी पते वाली रेंज के बारे में बताना होगा जिन्हें शामिल नहीं करना है.

क्या डिसप्ले विज्ञापनों की जांच वाले ऐप्लिकेशन के बारे में मुझे कुछ जानने की ज़रूरत है?

ऐप्लिकेशन की अपने-आप जांच होने की सुविधा की मदद से, विज्ञापन से मिलने वाले रेवेन्यू की धोखाधड़ी को कम करने के तरीके जानने के लिए, Google Developers साइट देखें.

क्या जांच में, ऐप्लिकेशन में खरीदने के लिए प्रॉडक्ट या सदस्यताएं शामिल हैं?

जांच वाले डिवाइसों पर, जांच के दौरान खरीदारी नहीं की जा सकती. अगर आपका ऐप्लिकेशन, आपके ऐप्लिकेशन के कुछ भागों को ऐक्सेस करने के लिए सदस्यताएं या ऐप्लिकेशन में खरीदने के लिए प्रॉडक्ट ऑफ़र करता है, तो जांंच की स्थिति सीमित हो सकती है.

ऐप्लिकेशन के दूसरे व्यवहार

मेरा कोड उलझाने वाला (Java) या हटाया हुआ (स्थानीय) है. क्या मैं अब भी प्री-लॉन्च रिपोर्ट का इस्तेमाल कर सकता/सकती हूं?

हां. प्री-लॉन्च रिपोर्ट वाली जांच बिना किसी दिक्कत के चलेंगी.

अगर आपके कोड उलझाने वाले हैं या हटाए गए हैं, तो जांच के दौरान मिलने वाले किसी भी क्रैश या ANRs में स्टैक ट्रेस होते हैं. वे भी उलझाने वाले या हटाए गए होते हैं. हम आपके स्टैक ट्रेस को आसानी से डीबग कर पाएं, इसके लिए हमारा सुझाव है कि आप डिकोड करने वाली या सिम्बॉलिकेशन फ़ाइल अपलोड करें.

आपके पास, सिम्बॉलिकेशन वाली या डिकोड करने वाली फ़ाइलों को अपलोड करने के बारे में ज़्यादा जानने का विकल्प है.

क्या जांच वाले उन डिवाइसों को पहले से लोड किया जा सकता है जिनमें मीडिया या पहले से इंस्टॉल किए गए अन्य ऐप्लिकेशन मौजूद हैं?

नहीं. जांच वाले प्लैटफ़ॉर्म पर, पहले से लोड किए गए ऐसे डिवाइस काम नहीं करते जिनमें मीडिया या पहले से इंस्टॉल किए गए ऐप्लिकेशन मौजूद हैं.

हालांकि, अगर आपको ऐसे ऐप्लिकेशन की जांच कराना है जिसमें डेटा पहले से लोड है, तो अपने ऐप्लिकेशन का जांच वाला ऐसा वर्शन पब्लिश किया जा सकता है जिसके ऐप्लिकेशन बंडल में आपकी मीडिया फ़ाइलें एम्बेड की गई हों.

अगर मेरा ऐप्लिकेशन Google Play लाइसेंसिंग सेवा का इस्तेमाल करता है, तो क्या होगा?

अगर आपका ऐप्लिकेशन ओपन टेस्ट में शामिल है या आपका ऐप्लिकेशन प्रोडक्शन में पब्लिश किया जा चुका है, तो प्री-लॉन्च रिपोर्ट, जांच के उस आईडी का इस्तेमाल करेगी जो आपके ऐप्लिकेशन के लिए लाइसेंस के तौर पर काम करता है.

अगर आपके ऐप्लिकेशन को ओपन टेस्ट में शामिल नहीं किया गया है और उसमें कोई ऐसा ऐक्टिव ऐप्लिकेशन बंडल मौजूद नहीं है जिसे प्रोडक्शन में पब्लिश किया गया हो, तो लाइसेंसिंग सेवा से जुड़ी जांच में आपका ऐप्लिकेशन सफल नहीं हो पाएगा. आपको अब भी प्री-लॉन्च रिपोर्ट के नतीजे मिलेंगे, लेकिन आपका ऐप्लिकेशन बिना लाइसेंस की स्थिति में होगा. इन ऐप्लिकेशन पर जांच चलाने के लिए, अपने ऐप्लिकेशन का ऐसा बंद वर्शन पब्लिश किया जा सकता है जिसमें लाइसेंस देने वाली सेवाएं बंद की हुई हों.

क्या जांच वाले डिवाइस उन ऐप्लिकेशन पर जांच कर सकते हैं जो लैंडस्केप कॉन्फ़िगरेशन का इस्तेमाल करते हैं?

जांच वाले डिवाइसों पर डिफ़ॉल्ट रूप से, पहले से ही पोर्ट्रेट स्क्रीन (ओरिएंटेशन) पर जांच करना तय किया गया है. हालांकि, अगर आपका ऐप्लिकेशन लैंडस्केप में लॉक है, तो आपको लैंडस्केप मोड में वीडियो और स्क्रीनशॉट देखने चाहिए.

डिवाइस चुनना

मेरे ऐप्लिकेशन की जांच करने के लिए, इस्तेमाल किए जाने वाले डिवाइसों को कैसे तय किया जाएगा?

हम जांच के लिए, ऐसे डिवाइसों का इस्तेमाल करते हैं जो पूरे नेटवर्क में अच्छा कवरेज देते हों. इसके साथ ही, डिवाइस की लोकप्रियता, उसका बार-बार बंद होना, स्क्रीन रिज़ॉल्यूशन, मैन्युफ़ैक्चरर, Android OS वर्शन वगैरह को भी ध्यान में रखते हैं. जांच वाले डिवाइस को चुनने में फ़र्क़ हो सकता है.

अगर मैं कुछ डिवाइसों को अपने ऐप्लिकेशन मेनिफ़ेस्ट के टारगेट से निकाल दूं, तो क्या होगा?

अगर आपने अपने ऐप्लिकेशन मेनिफ़ेस्ट में कुछ डिवाइसों को टारगेटिंग (विज्ञापन के लिए सही दर्शक चुनना) से बाहर रखा है, तो प्री-लॉन्च रिपोर्ट में भी उन डिवाइसों को जांच में शामिल नहीं किया जाएगा. हालांकि, इसमें आपके ऐप्लिकेशन के हिसाब से किसी भी अन्य डिवाइस को टारगेट नहीं किया जाएगा.

क्या मैं जांंच वाले डिवाइस सेट को पसंद के मुताबिक बना सकता/सकती हूं?

प्री-लॉन्च रिपोर्ट को Firebase टेस्ट लैब पेश करते हैं. जांच किए जाने वाले डिवाइसों को पसंद के मुताबिक बनाने के लिए, Firebase कंसोल में आप खुद ही जांच करने पर विचार करें.

क्या मेरे पास x86 डिवाइसों के लिए, इकट्ठा किए गए ऐप्लिकेशन पर प्री-लॉन्च रिपोर्ट चलाने का विकल्प है?

हां, हम ऐप्लिकेशन को एम्युलेटर पर चलाएंगे और इसे ठीक उसी तरह क्रॉल करेंगे जैसे हम किसी फ़िज़िकल डिवाइस पर करते हैं.

मेरे पास किस नाप या आकार वाले डिवाइसों पर अपने ऐप्लिकेशन की जांच करने का विकल्प है?

हमारे डिवाइस सेट में, फ़ोन, टैबलेट, और Wear OS शामिल हैं. साथ ही, Chromebook जैसे डेस्कटॉप डिवाइस भी शामिल हैं. सीधे Android Auto या Android TV डिवाइसों पर, ऐप्लिकेशन की जांच नहीं की जा सकती.

क्या मेरे पास Android के पुराने वर्शन पर ऐप्लिकेशन की जांच करने का विकल्प है?

ऐप्लिकेशन की जांच के लिए, हमारे डिवाइस सेट में मौजूद Android 9 और उसके बाद के वर्शन वाले डिवाइसों का इस्तेमाल किया जा सकता है.

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
true
खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू