Play Console में, सदस्यता से जुड़े हाल ही में किए गए बदलाव

हमने Play Console में, शुल्क लेकर सदस्यता देने वाले प्रॉडक्ट तय करने और उन्हें मैनेज करने के तरीकों में बदलाव किए हैं. ये बदलाव मई 2022 में किए गए हैं. इन बदलावों से, सदस्यताओं को आसानी से बेचने में मदद मिलती है. साथ ही, सदस्यताएं मैनेज करते समय समस्याएं भी कम आती हैं. सदस्यता के नए एपीआई इस्तेमाल करने के लिए, ऐप्लिकेशन और बैकएंड इंटिग्रेशन को अपग्रेड करने के बाद, ये चीज़ें बेची जा सकती हैं:

  • प्रीपेड प्लान: ये प्लान एक तय अवधि के लिए होते हैं. साथ ही, टॉप-अप करके इन्हें ऐक्सेस करने की अवधि को बढ़ाया जा सकता है.
  • अपग्रेड करने के ऑफ़र: इनमें, उपयोगकर्ताओं को अपनी सदस्यता के टियर को अपग्रेड करने, बिलिंग अवधि को बढ़ाने या प्रीपेड प्लान को छोड़कर अपने-आप रिन्यू होने वाला प्लान इस्तेमाल करने पर छूट दी जाती है.
  • अपने हिसाब से ज़रूरी शर्तें तय करने की सुविधा: आपको अपने ऐप्लिकेशन में कारोबारी नियम और ज़रूरी शर्तें तय करने का विकल्प मिलता है

ऐप्लिकेशन को अपग्रेड करने के बाद, हर सदस्यता के लिए कई ऑफ़र बनाए और मैनेज किए जा सकते हैं. अगर आपने अभी तक ऐप्लिकेशन को अपग्रेड नहीं किया है, तो इस लेख को पढ़कर यह समझें कि अब सदस्यताएं कैसे काम करती हैं. 

इन बदलावों के बाद भी, आपकी सभी मौजूदा सदस्यताएं, ऐप्लिकेशन, और बैकएंड इंटिग्रेशन पहले जैसे ही काम करेंगे. आपको तुरंत कुछ करने की ज़रूरत नहीं है. सदस्यता की नई सुविधाओं को कभी भी इस्तेमाल किया जा सकता है.

वर्कफ़्लो में किए गए बदलाव

अगर आपने पहले Play Console का इस्तेमाल किया है, तो आपको सदस्यताएं पेज (कमाई करना > प्रॉडक्ट > सदस्यताएं) पर कई बदलाव दिखेंगे. इनमें से ज़्यादातर बदलावों की मदद से सदस्यताओं, बुनियादी प्लान, और ऑफ़र बनाने के साथ-साथ उन्हें मैनेज करने की सुविधा भी मिलती है. इनके अलावा, कुछ और काम भी किए जा सकते हैं, जिनके बारे में यहां बताया गया है:

  • शुल्क में बदलाव करना: अगर सदस्यता के शुल्क में बदलाव किया जाता है, तो यह बदलाव सिर्फ़ नई खरीदारी पर लागू होता है. पुराना शुल्क चुका रहे एक जैसे उपयोगकर्ताओं के ग्रुप का इस्तेमाल करके, उस शुल्क को बदला जा सकता है जो मौजूदा सदस्य चुका रहे हैं.
  • देश/इलाके के हिसाब से उपलब्धता: आपके पास उन देशों/इलाकों को चुनने का विकल्प होता है जहां आपकी सदस्यता खरीदी जा सकती है. उन देशों/इलाकों के किसी हिस्से के लिए भी ऑफ़र उपलब्ध कराए जा सकते हैं.  
  • देश/इलाके के हिसाब से प्रॉडक्ट का शुल्क तय करना: आपके पास हर देश/इलाके के लिए शुल्क तय करने का विकल्प होता है. इसके अलावा, एक से ज़्यादा (या सभी) देशों/इलाकों को चुना जा सकता है और अपनी पसंद की मुद्रा में उन सभी देशों/इलाकों के लिए, Google Play पर शुल्क तय किया जा सकता है. Google Play, चुने गए सभी देशों/इलाकों के लिए एक बार में ही मुद्रा बदल देगा. आपके पास किसी भी समय शुल्कों को अपडेट करने का विकल्प होता है.

पुरानी सदस्यताओं पर इन बदलावों का असर

मई 2022 से पहले बनाई गई सदस्यताओं में सदस्यता का ब्यौरा, फ़ायदे, एक बिलिंग अवधि, शुल्क, और मुफ़्त में आज़माने/शुरुआती कीमत की सेटिंग शामिल थी. एक से ज़्यादा बिलिंग अवधि या शुल्क के विकल्प उपलब्ध कराने के लिए, आपको अलग-अलग सदस्यताएं बनानी पड़ती थीं.

मई 2022 से, सदस्यता के फ़ायदों (सदस्यता में क्या “मिलता” है) और इसके बुनियादी प्लान और ऑफ़र (सदस्यता “कैसे” बेची जाती है) की जानकारी अलग-अलग देनी पड़ती है. इस नए मॉडल की मदद से, सदस्यताओं को अलग-अलग तरीके से बेचना आसान हो गया है. 

नीचे दी गई इमेज में, बाईं ओर देखा जा सकता है कि कैसे सदस्यताओं को पहले पूरी तरह से अलग ऑब्जेक्ट के तौर पर पेश किया जाता था. एक से ज़्यादा "सदस्यताओं" में अलग-अलग बिलिंग अवधि या शुल्क में एक जैसे फ़ायदे उपलब्ध कराना मुश्किल था. उदाहरण के लिए, आपको यह पक्का करना पड़ता था कि सभी सदस्यताओं में उपयोगकर्ता को दिखने वाला ब्यौरा और फ़ायदे एक जैसे हों. साथ ही, यह भी पक्का करना पड़ता था कि आपके ऐप्लिकेशन में उपयोगकर्ताओं को ग़ैर-ज़रूरी सदस्यताएं खरीदने की अनुमति न दी जाए.

दाईं ओर यह देखा जा सकता है कि अब सदस्यताओं को कैसे मैनेज किया गया है. हर सदस्यता में कई बुनियादी प्लान हो सकते हैं और हर प्लान में कई ऑफ़र शामिल हो सकते हैं.

सदस्यताओं में किए गए बदलाव

मई 2022 में ये बदलाव लॉन्च होने के बाद, सभी मौजूदा सदस्यताएं नए मॉडल के हिसाब से बदल दी गईं. सदस्यताओं को बदले जाने के बाद: 

  • सदस्यता की जिस जानकारी का, सदस्यता बेचने के तरीके से कोई लेना-देना नहीं है उसमें कोई बदलाव नहीं होता. जैसे, उपयोगकर्ताओं को दिखने वाला उनका नाम, ब्यौरा, और फ़ायदे.
  • हर सदस्यता में एक ही बुनियादी प्लान होता है, जिस पर पुरानी सदस्यता की बिलिंग अवधि और अपने-आप रिन्यू होने वाला शुल्क लागू होता है. 
  • अगर किसी सदस्यता को मुफ़्त में या शुरुआती कीमत में आज़माने की सुविधा मिलती थी, तो बुनियादी प्लान में एक ही ऑफ़र होता है. उस ऑफ़र पर, नए सदस्यों के लिए ज़रूरी शर्तें लागू होती हैं. उदाहरण के लिए, यह ऑफ़र सिर्फ़ उन उपयोगकर्ताओं के लिए है जिन्होंने इस ऐप्लिकेशन में पहले कभी कोई सदस्यता न खरीदी हो. साथ ही, उस बुनियादी प्लान में उसके शुल्क और अवधि की जानकारी (जैसे, मुफ़्त में आज़माने की अवधि या प्लान की शुरुआती कीमत और अवधि) दी जाती है.

बदली गई सदस्यताएं, बुनियादी प्लान, और ऑफ़र पहले जैसे ही काम करते हैं. उदाहरण के लिए, आपके पास मुफ़्त में आज़माने की अवधि या ग्रेस पीरियड में बदलाव करने का विकल्प होता है. इसके अलावा, सदस्यता के ब्यौरे को भी अपडेट किया जा सकता है.

उदाहरण 1: शुरुआती कीमत वाली पुरानी SKU में बदलाव

यहां बताया गया है कि किस तरह महीने भर में रिन्यू होने वाली उस पुरानी सदस्यता को नए मॉडल के हिसाब से बदला गया जिसका नाम 'बुनियादी प्लान' और प्रॉडक्ट आईडी basic1 था. साथ ही, उसके साथ एक महीने की शुरुआती कीमत वाली सुविधा मिलती थी:

उदाहरण 2: एक से ज़्यादा ऐसी पुरानी SKUs में बदलाव करना जिनमें सदस्यता के फ़ायदे एक ही तरह के हों, लेकिन कॉन्फ़िगरेशन अलग-अलग हों:

जब पुरानी सदस्यताओं को नए मॉडल के हिसाब से बदला गया, तो वे अलग सदस्यताएं बनी रहीं. बदलाव के बाद, किसी SKUs को शुल्क लेकर सदस्यता देने वाले प्रॉडक्ट में मर्ज नहीं किया गया. 

उदाहरण के लिए, पुराने सिस्टम में इस्तेमाल का एक आम उदाहरण यह है कि कोई डेवलपर कई सदस्यताएं बना सकता था. हालांकि, उन सभी सदस्यताओं में वही फ़ायदे मिलते जो सिर्फ़ एक सदस्यता में मिलते थे. इस मामले में, दो SKUs हैं. एक का नाम "बुनियादी प्लान" और प्रॉडक्ट आईडी basic1 है. इसके लिए, शुल्क से जुड़ा कोई खास नियम तय नहीं किया गया है. दूसरे SKU का नाम भी "बुनियादी प्लान" है, लेकिन इसका प्रॉडक्ट आईडी basic2 है. इसमें ऐसे उपयोगकर्ताओं के लिए मुफ़्त में आज़माने की सुविधा उपलब्ध है जिन्होंने ऐप्लिकेशन में कभी कोई सदस्यता नहीं खरीदी है. सदस्यताओं में बदलाव के बाद, किन्हीं दो सदस्यताओं का टाइटल या नाम एक ही हो सकता है, जैसे कि "बुनियादी प्लान". हालांकि, उनमें से हर किसी का प्रॉडक्ट आईडी अलग-अलग होगा.

दोनों सदस्यताओं में एक ही बुनियादी प्लान है, जो हर महीने अपने-आप रिन्यू होता है. साथ ही, इन दोनों में एक ऐसी पुरानी SKU है जिसके साथ मुफ़्त में आज़माने की सुविधा मिलती है. इन सदस्यताओं को मर्ज करने के बाद, एक ऐसी सदस्यता मिलती है जिसमें दोनों सदस्यताओं के फ़ायदे वाला एक ही ऑफ़र शामिल होता है.

पुराने सिस्टम के साथ काम करने की सुविधा वाले ऑफ़र

पहले, Play Console और डेवलपर एपीआई के तहत एक सदस्यता के लिए एक ही शुल्क तय किया जाता था. अब Play Console और डेवलपर एपीआई की मदद से, एक से ज़्यादा बुनियादी प्लान और ऑफ़र वाली सदस्यता बनाई जा सकती है. 

ऐसा माना जाता है कि पुराने डेवलपर एपीआई का इस्तेमाल करने वाले ऐप्लिकेशन और बैकएंड इंटिग्रेशन में, किसी सदस्यता में शुल्क तय करने वाला एक ही प्लान शामिल होगा. इसलिए, Play Console में हर सदस्यता के लिए "पुराने सिस्टम के साथ काम करने की सुविधा" वाला एक ही ऑफ़र या बुनियादी प्लान शामिल होता था. 

जब आपका ऐप्लिकेशन या बैकएंड, एपीआई के पुराने तरीकों का इस्तेमाल करता है, तो बिलिंग अवधि, शुल्क, और मुफ़्त में आज़माने या शुरुआती कीमत की सुविधा के लिए, इस बुनियादी प्लान या ऑफ़र का इस्तेमाल किया जाता है. अगर किसी सदस्यता में अन्य बुनियादी प्लान या ऑफ़र हैं, तो वे सिर्फ़ ऐसे ऐप्लिकेशन के लिए उपलब्ध होंगे जो एपीआई के नए तरीकों का इस्तेमाल करते हैं.

किसी बुनियादी प्लान या ऑफ़र को, पुराने सिस्टम के साथ काम करने की सुविधा वाले बुनियादी प्लान या ऑफ़र के तौर पर मार्क करना

पुरानी सदस्यताओं को नए मॉडल में बदलने के दौरान, अगर सदस्यता के साथ मुफ़्त में आज़माने या शुरुआती कीमत की सुविधा उपलब्ध होती थी, तो नए ऑफ़र और बुनियादी प्लान को पुराने सिस्टम के साथ काम करने की सुविधा वाला के तौर पर मार्क किया जाता था. ऐसा न होने पर, सिर्फ़ बुनियादी प्लान को पुराने सिस्टम के साथ काम करने की सुविधा वाला के तौर पर मार्क किया जाता था. 

ज़रूरत पड़ने पर, आपके पास यह तय करने का विकल्प है कि कौनसा बुनियादी प्लान या ऑफ़र, पुराने सिस्टम के साथ काम करने की सुविधा वाला है. पुराने सिस्टम के साथ काम करने की सुविधा वाले बुनियादी प्लान या ऑफ़र में बदलाव करने से पहले, यह ध्यान से देख लें कि एपीआई के पुराने तरीकों का इस्तेमाल करने वाले आपके ऐप्लिकेशन के वर्शन और उसे इस्तेमाल करने वाली अन्य सुविधाओं पर, इस बदलाव का क्या असर हो सकता है.

सिर्फ़ ऐसे ऑफ़र या बुनियादी प्लान को मार्क किया जा सकता है जिसमें पहले से उपलब्ध सुविधाएं शामिल हों. उदाहरण के लिए, प्रीपेड प्लान, अपग्रेड वाले ऑफ़र, डेवलपर के ऑफ़र, और टैग को मार्क नहीं किया जा सकता.

देश/इलाके के हिसाब से प्रॉडक्ट की उपलब्धता और कीमत

अब आपके पास अलग-अलग देश या इलाके के लिए, प्लान की उपलब्धता और शुल्क तय करने का विकल्प है. साथ ही, यह भी कॉन्फ़िगर किया जा सकता है कि आपके बुनियादी प्लान या ऑफ़र को उन नए देशों/इलाकों में उपलब्ध कराया जाए या नहीं जहां आने वाले समय में Google Play पर आपका ऐप्लिकेशन उपलब्ध हो सकता है.

हमने आपकी सभी मौजूदा सदस्यताओं को रीसेट कर दिया है. इससे, अगर आपने पहले ही “अन्य देशों/इलाकों” को टारगेट किया है, तो इस ग्रुप में शामिल सभी देशों को टारगेट करना जारी रखा जाएगा. अगर आपने पहले अपने बुनियादी प्लान या ऑफ़र को "दूसरे देशों/इलाकों" में उपलब्ध नहीं कराया था, तो आपकी सदस्यताओं में किसी भी तरह का बदलाव नहीं किया गया है.

बुनियादी प्लान या ऑफ़र बनाते या उनमें बदलाव करते समय, आपके पास देश / इलाके के लिए उपलब्धता मैनेज करें को चुनने का विकल्प होता है. इसमें, बुनियादी प्लान या ऑफ़र को सभी जगहों के लिए उपलब्ध कराया जा सकता है या उन्हें हर जगह के लिए अलग-अलग कॉन्फ़िगर किया जा सकता है. आपको “नए देश / इलाके” विकल्प भी दिखेगा. अगर आपने “नए देशों / इलाकों” के बारे में जानकारी दी है, तो अन्य देशों/इलाकों में Google Play पर आपका ऐप्लिकेशन उपलब्ध होने पर, हम आपकी दी गई उपलब्धता और शुल्क की इस सेटिंग का इस्तेमाल करेंगे. अगर इन नए देशों/इलाकों में, स्थानीय खरीदारी की मुद्रा को इस्तेमाल करने की सुविधा काम करती है, तो हम मुद्रा को एक बार बदलने की सुविधा देंगे. अगर आपने “नए देश / इलाके” के बारे में जानकारी नहीं दी है, तो डिफ़ॉल्ट रूप से आपकी सदस्यता इन देशों/इलाकों में उपलब्ध नहीं होगी. नए देशों/इलाकों में Google Play पर आपका ऐप्लिकेशन उपलब्ध होने के बाद, आपके पास Play Console में जाकर अपनी सदस्यता को इन नए देशों/इलाकों में उपलब्ध कराने का विकल्प होता है.

शुल्क में बदलाव करते समय, सभी जगहों को एक-साथ चुना जा सकता है और अलग-अलग जगह के हिसाब से शुल्क तय किया जा सकता है. साथ ही, उन नए देशों/इलाकों के लिए शुल्क को सेट किया जा सकता है जहां आने वाले समय में आपका ऐप्लिकेशन Google Play पर उपलब्ध होगा.

प्रोमो कोड और खास सुविधाओं पर इन बदलावों का असर

फ़िलहाल, सदस्यता से जुड़ी कई सुविधाएं सिर्फ़ पुराने सिस्टम के साथ काम करने की सुविधा वाले ऑफ़र पर काम करती हैं. ये सुविधाएं यहां दी गई हैं:

  • सदस्यता के प्रोमो कोड
  • खास सदस्यताएं
  • Subscribe with Google 

Play Console में, इन सुविधाओं की मदद से सिर्फ़ सदस्यताएं चुनी जा सकती हैं. इनकी मदद से बुनियादी प्लान या ऑफ़र नहीं चुना जा सकता. किसी सदस्यता को चुनने पर, उस सदस्यता का पुराने सिस्टम के साथ काम करने की सुविधा वाला ऑफ़र इस्तेमाल किया जाएगा.

अहम जानकारी: जिन सदस्यताओं के लिए इन सुविधाओं का इस्तेमाल किया जा रहा है उनके लिए, हमारी सलाह है कि आप पुराने सिस्टम के साथ काम करने की सुविधा वाले ऑफ़र में कोई बदलाव न करें. बदलाव करने से पहले, यह देख लें कि इस बदलाव का इन सुविधाओं के इस्तेमाल पर क्या असर पड़ेगा.

शुल्क लेकर सदस्यता देने वाला प्रॉडक्ट में बदलाव करना

पुरानी और बदली गई सदस्यता में बुनियादी प्लान और ऑफ़र जोड़े जा सकते हैं. भले ही, आपके पास यह बदलाव करने का विकल्प होता है कि किस ऑफ़र को "पुराने सिस्टम के साथ काम करने की सुविधा" वाला ऑफ़र बताया जाए, लेकिन आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि इस बदलाव का आपके ऐप्लिकेशन के पुराने पर वर्शन पर क्या असर पड़ेगा. इसके अलावा, आपके पास नए और पुराने कॉन्फ़िगरेशन को अलग-अलग रखने का भी विकल्प है. इसके लिए, आपको पुरानी और बदली गई सदस्यताओं को पहले जैसा ही रहने देना होगा और एक नई सदस्यता बनानी होगी. उसमें नए बुनियादी प्लान और ऑफ़र जोड़े जा सकते हैं. इससे, पुराने ऐप्लिकेशन और इंटिग्रेशन के लिए इस्तेमाल की गई पुरानी, बदली गई सदस्यताएं अलग दिखती हैं. चाहे आप अपनी बदली गई पुरानी सदस्यताओं में बदलाव करें या नहीं, उन्हें पुराने सिस्टम के साथ काम करने की सुविधा वाले ऑफ़र के साथ चालू रखें. इससे, आपके ऐप्लिकेशन के पुराने वर्शन का इस्तेमाल करने वाले लोग उन्हें खरीद सकेंगे. 

नई सदस्यताओं में कई बुनियादी प्लान और ऑफ़र, प्रीपेड प्लान, अपग्रेड वाले ऑफ़र, और अन्य नई सुविधाएं कॉन्फ़िगर की जा सकती हैं. ऐसा करने का तरीका जानने के लिए, यह लेख पढ़ें.

उदाहरण 3: एक से ज़्यादा बुनियादी प्लान और ऑफ़र वाली नई सदस्यता बनाना

इस उदाहरण में, शुल्क लेकर सदस्यता देने वाला एक नया प्रॉडक्ट है. उसका नाम "बुनियादी प्लान" और प्रॉडक्ट आईडी basic_new है. इस सदस्यता में दो बुनियादी प्लान शामिल हैं: हर महीने रिन्यू होने वाला प्लान और हर साल रिन्यू होने वाला प्लान. हर प्लान का एक बुनियादी शुल्क होता है. यह वह शुल्क होता है जो उपयोगकर्ता को रिन्यूअल के सामान्य साइकल में देना पड़ता है. साथ ही, अगर वे किसी खास ऑफ़र की ज़रूरी शर्तों को पूरा नहीं करते हैं, तो पहली बार सदस्यता खरीदते समय भी यही शुल्क देना पड़ता है. हर प्लान में मिलने वाले ऑफ़र के लिए, ज़रूरी शर्तें और छूट अलग-अलग होती हैं. इस तरह, डेवलपर उन सभी अलग-अलग तरीकों को दिखा सकता है जिन्हें इस्तेमाल करके कोई उपयोगकर्ता एक सदस्यता में “बुनियादी प्लान” हासिल कर सकता है.

सदस्यताओं को एक से ज़्यादा बुनियादी प्लान और ऑफ़र के साथ कॉन्फ़िगर करने पर, आपको अपना Google Play Billing इंटिग्रेशन अपडेट करना होगा. ऐसा इसलिए, ताकि इन नए फ़ंक्शन को मैनेज करने के लिए, एपीआई के सही वर्शन इस्तेमाल किए जा सकें. ऐसा करने का तरीका जानने के लिए, डेटा को दूसरी जगह भेजने से जुड़ी गाइड देखें.

बदली गई सदस्यताओं को बंद करना

नई सदस्यता-बुनियादी प्लान-ऑफ़र का स्ट्रक्चर इस्तेमाल करने वाला प्रॉडक्ट कैटलॉग बनाने और इन नए प्रॉडक्ट को सही तरीके से मैनेज करने के लिए, अपना इंटिग्रेशन अपग्रेड करने के बाद, हो सकता है कि आप बदली गई अपनी मूल सदस्यताओं को बंद करना चाहें. 

नए सदस्यों को कोई खास प्रॉडक्ट खरीदने से रोकने के लिए, आपको सभी सदस्यताओं के बुनियादी प्लान और ऑफ़र बंद करने होंगे. मौजूदा सदस्यताएं तब तक अपने-आप रिन्यू होती रहेंगी, जब तक कि उन्हें रद्द नहीं कर दिया जाता या उनकी बिलिंग अवधि खत्म नहीं हो जाती. 

हमारा सुझाव है कि आप बदली गई अपनी सदस्यताओं को तब तक बंद न करें, जब तक कि आपके ऐप्लिकेशन के पुराने वर्शन की खरीदारी की संख्या कम नहीं हो जाती. यह अपने-आप होगा, क्योंकि उपयोगकर्ता अपने ऐप्लिकेशन को पुराने वर्शन से नए वर्शन पर अपग्रेड कर लेंगे. काम करना बंद कर चुके एपीआई का इस्तेमाल करने वाले इन पुराने वर्शन में बदली गई पुरानी सदस्यताएं खरीदने की सुविधा, धीरे-धीरे काम करना बंद कर देगी. कभी-कभी, आपके पास बुनियादी प्लान और ऑफ़र बंद करके, पुरानी सदस्यताएं बेचने की सुविधा को बंद करने का विकल्प होता है. 

वे उपयोगकर्ता, अब भी अपनी सदस्यता को रिन्यू कर सकते हैं और अपनी सदस्यता का आनंद ले सकते हैं जिनके पास इन पुराने वर्शन की चालू सदस्यता है. हालांकि, ऐप्लिकेशन के किसी भी वर्शन से नई खरीदारी नहीं की जा सकेगी.

एपीआई की मदद से अपनी सदस्यता के कैटलॉग को मैनेज करना

inappproducts API का इस्तेमाल करके, अपनी सदस्यता का कैटलॉग कुछ समय तक ही मैनेज किया जा सकता है. हालांकि, इसका नतीजा यह होगा कि सिर्फ़ ऐसी सदस्यताएं ही तैयार की जा सकेंगी जिनमें पुराने सिस्टम के साथ काम करने की सुविधा वाले एक बुनियादी प्लान के साथ-साथ एक ऑफ़र ही मिले. इसके अलावा, आपको सदस्यता की किसी भी नई सुविधा को इस्तेमाल करने का विकल्प नहीं मिलेगा. Play Console में, बदली गई सदस्यताएं अब भी सिर्फ़ पढ़ने वाले मोड में उपलब्ध रहेंगी.

हम आपको नए Monetization Subscriptions API पर माइग्रेट करने और इन नए एंडपॉइंट का इस्तेमाल करके, सदस्यताओं को मैनेज करने का सुझाव देते हैं: monetization.subscriptions, monetization.subscriptions.baseplans, और monetization.subscriptions.offers. पुराने एपीआई का इस्तेमाल करके, सिर्फ़ पुराने सिस्टम के साथ काम करने वाले बुनियादी प्लान और ऑफ़र मैनेज किए जा सकते थे. हालांकि, इन नए एपीआई का इस्तेमाल करने पर, आपको सभी उपलब्ध बुनियादी प्लान और ऑफ़र को मैनेज करने की सुविधा मिलती है. इस नए एपीआई पर माइग्रेट करने के बारे में ज़्यादा जानने के लिए, डेटा को दूसरी जगह भेजने से जुड़ी गाइड पढ़ें.

आपके पास Play Console में, अपनी सदस्यताओं में बदलाव करने का विकल्प है. इसके लिए, आपको हर सदस्यता के ऊपर दिखने वाले मैसेज के नीचे, सदस्यता में बदलाव करने की अनुमति दें पर क्लिक करना होगा.  

अहम जानकारी: हो सकता है कि आप Play Console में, किसी सदस्यता में बदलाव करने की अनुमति देने का विकल्प चुनें. ध्यान दें कि ऐसा करने के बाद आपको inappproducts API का इस्तेमाल करके, उस सदस्यता को कॉन्फ़िगर करने, उसे अपडेट करने या उसकी जानकारी को पढ़ने की सुविधा नहीं मिलेगी. साथ ही, आपको Monetize Subscriptions API पर माइग्रेट करना होगा, ताकि वह सदस्यता, प्रोग्राम के हिसाब से अपने-आप होने वाली प्रोसेस के मुताबिक मैनेज की जा सके. इस बदलाव को रद्द नहीं किया जा सकेगा.

मिलता-जुलता कॉन्टेंट

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
true
खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू