अपने विज्ञापन के अलग-अलग वर्शन की निगरानी करना

विज्ञापन के अलग-अलग वर्शन चलाने के बाद, उनकी परफ़ॉर्मेंस की निगरानी की जा सकती है. विज्ञापन के अलग-अलग वर्शन की परफ़ॉर्मेंस के आधार पर यह तय किया जा सकता है कि मूल विज्ञापनों को, बेहतर परफ़ॉर्म करने वाले विज्ञापनों से बदलना है या नहीं.

इस लेख में, विज्ञापनों के अलग-अलग वर्शन की परफ़ॉर्मेंस की निगरानी करने और उसे समझने का तरीका बताया गया है.

शुरू करने से पहले

अगर आपने अभी तक विज्ञापन का कोई भी वर्शन नहीं बनाया है, तो विज्ञापन का वर्शन सेट अप करना लेख पढ़ें.

निर्देश

ध्यान दें: नीचे दिए गए निर्देश, Google Ads के नए वर्शन को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं. पिछले वर्शन का इस्तेमाल करने के लिए, "थीम" आइकॉन पर क्लिक करें और पिछले वर्शन का यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) इस्तेमाल करें चुनें. अगर Google Ads के पिछले वर्शन का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किसी पेज को खोजने के लिए, Google Ads में उपलब्ध प्रमुख सुविधाओं को झटपट ढूंढने की सुविधा या सबसे ऊपर मौजूद नेविगेशन पैनल में खोज बार का इस्तेमाल करें.
  1. Google Ads खाते में, कैंपेन आइकॉन Campaigns Icon पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, कैंपेन ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. एक्सपेरिमेंट पर क्लिक करें.
  4. विज्ञापन के अलग-अलग वर्शन पर क्लिक करें. यहां आपको अपने बनाए गए विज्ञापन के अलग-अलग वर्शन की सूची और हर वर्शन की जानकारी दिखेगी.

विज्ञापन के अलग-अलग वर्शन में जिन विज्ञापनों, क्लिक, और इंप्रेशन पर असर हुआ है उनकी जानकारी सूची में दी जाती है. विज्ञापन के किसी वर्शन पर क्लिक करने पर, आपको मूल विज्ञापन और परफ़ॉर्मेंस मेट्रिक की तुलना दिखेगी.

विज्ञापन के अलग-अलग वर्शन में परफ़ॉर्मेंस मेट्रिक के बारे में जानकारी

विज्ञापन के अलग-अलग वर्शन के लिए, आपको जो परफ़ॉर्मेंस मेट्रिक दिखेंगी उनमें चार संख्याएं शामिल होंगी:

  1. पहली संख्या, सिर्फ़ विज्ञापन के वर्शन के लिए हर परफ़ॉर्मेंस मेट्रिक की वैल्यू को दिखाती है. उदाहरण के लिए, आपके विज्ञापन के वर्शन को X क्लिक मिले.
  2. ब्रैकेट "[]" के बाहर का प्रतिशत, आपके विज्ञापन के वर्शन और मूल विज्ञापन के बीच के फ़र्क़ को दिखाता है. उदाहरण के लिए, आपके वर्शन को मूल विज्ञापन से Y% ज़्यादा क्लिक मिले.
  3. ब्रैकेट के अंदर, दो संख्या सुविधाजनक कॉन्फ़िडेंस इंटरवल के साथ उम्मीद के मुताबिक रेंज उपलब्ध कराती हैं. उदाहरण के लिए, अगर आपने 80% कॉन्फ़िडेंस इंटरवल चुना है, तो आपको A% और B% के बीच का अंतर देखने का 80% मौका मिलता है.
ध्यान दें: आपके पास कॉन्फ़िडेंस इंटरवल चुनने का विकल्प होता है (डिफ़ॉल्ट कॉन्फ़िडेंस इंटरवल 80% है). साथ ही, डाइनैमिक कॉन्फ़िडेंस रिपोर्टिंग की मदद से, अपनी एक्सपेरिमेंट मेट्रिक को बेहतर तरीके से समझा जा सकता है.

जब किसी मेट्रिक के साथ नीले तारे "*" का निशान दिखता है, तो आंकड़ों के हिसाब से यह मेट्रिक अहम होती है. यह बताती है कि किसी भी क्रम में किए गए बदलाव की तुलना में आपके किए गए बदलाव से, परफ़ॉर्मेंस पर असर पड़ने की संभावना कम से कम 95% है.

आम तौर पर, परफ़ॉर्मेंस पर तीन वजहों से असर होता है:

  • मूल विज्ञापनों और बदलाव किए गए विज्ञापनों की परफ़ॉर्मेंस में अंतर. परफ़ॉर्मेंस में होने वाले बड़े अंतर की वजह से ज़्यादा असर पड़ता है.
  • परफ़ॉर्मेंस में बदलाव. जिस कैंपेन के क्लिक में हर दिन 50% तक बदलाव होता है उसमें 2% तक क्लिक बदलाव वाले कैंपेन की तुलना में ज़्यादा बदलाव होता है. ज़्यादा बदलाव की वजह से असर कम हो जाता है.
  • विज्ञापन के अलग-अलग वर्शन में इंप्रेशन की कुल संख्या. इंप्रेशन जितने ज़्यादा होंगे, आंकड़ों के हिसाब से उनका असर भी उतना ही ज़्यादा होने की संभावना होगी.

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू