क्लिक बढ़ाएं: परिभाषा

यह अपने-आप बोली लगाने की रणनीति है, जो आपकी बोलियों को अपने-आप तय करती है. इसका इस्तेमाल करके आप अपने बजट में ही ज़्यादा से ज़्यादा क्लिक पा सकते हैं.

  • 'क्लिक बढ़ाएं' क्लिक पाने के लिए बोली लगाने का सबसे आसान तरीका है. इसमें आप सिर्फ़ बजट तय करते हैं और बाकी काम Google Ads करता है. यानी कि आपको विज्ञापन समूहों, कीवर्ड या प्लेसमेंट के लिए बोली की खास रकम नहीं चुननी पड़ती.
  • 'क्लिक बढ़ाएं' में, आप रोज़ का औसत बजट तय करते हैं. इसके बाद, Google Ads सिस्टम आपके हर क्लिक की ज़्यादा से ज़्यादा लागत (सीपीसी) अपने-आप तय करता है. आपको कुछ भी नहीं करना पड़ता. इसके साथ ही, सिस्टम यह भी कोशिश करता है कि आप उस बजट में ही ज़्यादा से ज़्यादा क्लिक पाने का लक्ष्य हासिल कर सकें.
  • अगर आप बोलियों को बेहतर ढंग से कंट्रोल करना चाहते हैं, तो बोली की सीमाएं भी तय कर सकते हैं. ऐसा करके आप बोलियों को उस रकम से ज़्यादा सेट होने से रोक सकते हैं. सीमा तय करने से बोली पर सख्त कंट्रोल हो जाता है. इससे आपके विज्ञापन का क्रम नीचे आ सकता है. साथ ही, उसे मिलने वाले क्लिक में कमी भी हो सकती है.
  • अगर किसी भी समय आपको यह लगता है कि बोली के सुझाव सही नहीं हैं, तो आप मैन्युअल तरीके से सीपीसी बोली लगाने पर आसानी से जा सकते हैं. इसमें आप बोली की रकम खुद ही पूरी तरह से कंट्रोल कर सकते हैं.
  • 'क्लिक बढ़ाएं' का इस्तेमाल इनके साथ नहीं किया जा सकता:
    • "कॉन्टेंट के साथ जुड़ाव" वाले मार्केटिंग उद्देश्यों वाले डिसप्ले नेटवर्क कैंपेन या ऐप्लिकेशन कैंपेन.
    • दिन और समय के आधार पर बोली बोली घटाना या बढ़ाना
  • क्लिक बढ़ाएं को पहले “स्वचालित बोली-प्रक्रिया” कहा जाता था
क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके