अधिकतम सीपीसी बोली: परिभाषा

वह बोली जो आपने अपने विज्ञापन पर होने वाले एक क्लिक के बदले सबसे बड़ी रकम चुकाने के तौर पर तय की हैं.

Max CPC bid
  • अगर कोई व्यक्ति आपके विज्ञापन पर क्लिक करता है, तो उस क्लिक की लागत आपके तय किए गए हर क्लिक की अधिकतम बोली (या "अधिकतम सीपीसी") से ज़्यादा नहीं होगी. उदाहरण के लिए, अगर आप ₹2 की ज़्यादा से ज़्यादा सीपीसी बोली सेट करते हैं, तो आपको अपने विज्ञापन पर होने वाले हर क्लिक के लिए, कभी भी ₹2 से ज़्यादा पैसे नहीं चुकाने होंगे. आप असल में जो पैसे चुकाते हैं उसे असल सीपीसी कहा जाता है और उसे आपके खाते के "औसत सीपीसी" कॉलम में दिखाया जाता है.
  • आम तौर पर ऊंची बोली लगाकर, विज्ञापन को पेज के विज्ञापन के क्रम में ऊपर दिखाया जा सकता है.
  • आप मैन्युअल तरीके से बोली लगाना (आप बोली की रकम खुद चुनते हैं) और ऑटोमेटेड बिडिंग (अपने-आप बोली की सुविधा) (आप रोज़ के औसत बजट का टारगेट तय करते हैं, फिर Google Ads सिस्टम उसके मुताबिक ज़्यादा से ज़्यादा क्लिक हासिल करने की कोशिश करता है. इस मकसद को पूरा करने के लिए, सिस्टम आपकी ज़्यादा से ज़्यादा सीपीसी बोलियों को अपने-आप घटाता या बढ़ाता है) में से किसी एक को चुनेंगे. मैन्युअल तरीके से बोली लगाकर, आप पूरे विज्ञापन समूह के लिए ज़्यादा से ज़्यादा सीपीसी बोली तय करते हैं. साथ ही, हर कीवर्ड के लिए अलग बोली भी तय कर सकते हैं.

आपका अधिकतम सीपीसी ज़्यादा होने पर:

अगर आप नीचे दी गई सुविधाओं का इस्तेमाल करते हैं, तो आपकी असल बोली, सेट कि गई ज़्यादा से ज़्यादा सीपीसी बोली से ऊंची हो सकती है:

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके