बेहतर ट्रैकिंग के लिए कस्टम पैरामीटर बनाना

कस्टम पैरामीटर, बेहतर यूआरएल पैरामीटर होते हैं जिन्हें अपने विज्ञापन के लैंडिंग पेज यूआरएल में जोड़ा जा सकता है. आपके पास यह चुनने का विकल्प होता है कि जब कोई व्यक्ति आपके विज्ञापन पर क्लिक करे, तो कस्टम पैरामीटर क्या वैल्यू रिकॉर्ड करें. यह सुविधा, ValueTrack पैरामीटर में नहीं होती.

इस लेख में बताया गया है कि खाते के अलग-अलग लेवल पर कस्टम पैरामीटर सेट अप करने का तरीका क्या है.

कस्टम पैरामीटर बनाने से पहले कुछ ज़रूरी जानकारी

अगर आपको Google Ads या ValueTrack पैरामीटर में ट्रैकिंग के बारे में नहीं पता है, तो शुरू करने से पहले Google Ads में ट्रैकिंग के बारे में जानकारी और अपने ट्रैकिंग टेंप्लेट में ValueTrack पैरामीटर इस्तेमाल करना देखें.

कस्टम पैरामीटर सेट अप करने के लिए निर्देश

पहला चरण: कोई लेवल चुनना

खाता लेवल को छोड़कर अपने खाते के किसी भी लेवल पर आठ कस्टम पैरामीटर बनाए जा सकते हैं. अगर आपके कस्टम पैरामीटर के नाम एक जैसे हैं, तो Google Ads आपके बनाए गए सबसे खास कस्टम पैरामीटर का इस्तेमाल करेगा. इसका मतलब यह है कि अगर आपने किसी विज्ञापन ग्रुप (जैसे, {_color}=red) के लिए कोई कस्टम पैरामीटर बनाया और उसी विज्ञापन ग्रुप (जैसे, {_color}=blue) के अंदर किसी एक विज्ञापन के लिए कोई कस्टम पैरामीटर बनाया, तो Google Ads विज्ञापन-लेवल के कस्टम पैरामीटर ({_color}=blue) का इस्तेमाल करेगा.

दूसरा चरण: अपने कस्टम पैरामीटर तय करना

कस्टम पैरामीटर के दो हिस्से होते हैं:

  • नाम: ज़्यादा से ज़्यादा 16 अक्षर और अंक
  • वैल्यू: इसमें ज़्यादा से ज़्यादा 250 वर्ण इस्तेमाल किए जा सकते हैं. ValueTrack पैरामीटर के साथ-साथ कोई भी वर्ण (| ; _ / ^ ( ! सहित) शामिल हो सकता है

नाम और वैल्यू, दोनों को अपने हिसाब से तय किया जा सकता है. उदाहरण के लिए, अगर आपके हर कीवर्ड के लिए खास आईडी है, तो इस तरह दिखने वाला कस्टम पैरामीटर बनाया जा सकता है: {_mykwid}=1234.

चरण 3: “कस्टम पैरामीटर” फ़ील्ड में अपना कस्टम पैरामीटर जोड़ना

ध्यान दें: नीचे दिए गए निर्देश, Google Ads के नए वर्शन को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं. पिछले वर्शन का इस्तेमाल करने के लिए, "थीम" आइकॉन पर क्लिक करें और पिछले वर्शन का यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) इस्तेमाल करें चुनें. अगर Google Ads के पिछले वर्शन का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किसी पेज को खोजने के लिए, Google Ads में उपलब्ध प्रमुख सुविधाओं को झटपट ढूंढने की सुविधा या सबसे ऊपर मौजूद नेविगेशन पैनल में खोज बार का इस्तेमाल करें.

कैंपेन स्तर पर कस्टम पैरामीटर बनाना या उनमें बदलाव करना

 

ध्यान दें: अगर आपको बाईं ओर मौजूद नेविगेशन पैनल का इस्तेमाल करना है, तो अपने Google Ads खाते में सबसे ऊपर बाईं ओर मौजूद, व्यू बदलें पर क्लिक करें.
  1. Google Ads खाते में साइन इन करें.
  2. बाईं ओर मौजूद पेज मेन्यू में सेटिंग पर क्लिक करें.
  3. उस कैंपेन पर क्लिक करें, जिसमें आप बदलाव करना चाहते हैं.
  4. "अतिरिक्त सेटिंग" के तहत, कैंपेन यूआरएल विकल्प चुनें.
  5. "कस्टम पैरामीटर" के बगल में, अपने कस्टम पैरामीटर का नाम और मान डालें.
  6. सेव करें पर क्लिक करें.

अपने कस्टम पैरामीटर में बदलाव करने के लिए, ऊपर एक से छह तक दिए गए तरीकों का पालन करें और सेव करें पर क्लिक करें.

विज्ञापन स्तर पर एक साथ कई कस्टम पैरामीटर बनाना या उनमें बदलाव करना

  1. Google Ads खाते में साइन इन करें.
  2. विज्ञापन और एसेट पर क्लिक करें.
  3. उन सभी विज्ञापनों के बगल में मौजूद बॉक्स चुनें, जिनमें आप कस्टम पैरामीटर जोड़ना चाहते हैं.
  4. टेबल के ऊपर मौजूद नीले बार में बदलाव करें पर क्लिक करें, फिर ड्रॉप-डाउन मेन्यू से कस्टम पैरामीटर बदलें चुनें.
  5. "पैरामीटर जोड़ें" के बगल में, अपने कस्टम पैरामीटर का नाम और मान डालें.
  6. जोड़ें पर क्लिक करें.
  7. लागू करें पर क्लिक करें.

अपने कस्टम पैरामीटर में बदलाव करने के लिए, ऊपर एक से पांच तक दिए गए तरीकों का पालन करें. अपने बदलाव करें और लागू करें पर क्लिक करें.

विज्ञापन स्तर पर कस्टम पैरामीटर में बदलाव करना

  1. Google Ads खाते में साइन इन करें.
  2. विज्ञापन और एसेट पर क्लिक करें.
  3. जिस विज्ञापन में बदलाव करना चाहते हैं उस पर माउस घुमाएं और पेंसिल आइकॉन पर क्लिक करें.
  4. बदलाव पैनल को बड़ा करने के लिए, ऊपर दाएं कोने में तीर के निशान पर क्लिक करें.
  5. “विज्ञापन यूआरएल के विकल्प” सेक्शन में, अपने कस्टम पैरामीटर का नाम और वैल्यू डालें.
  6. नया विज्ञापन सेव करें पर क्लिक करें. नया विज्ञापन सेव करने से वह समीक्षा के लिए सबमिट हो जाता है और पुराना विज्ञापन हट जाता है.

विज्ञापन समूह या कीवर्ड स्तर पर कस्टम पैरामीटर बनाएं या उनमें बदलाव करें

सबसे पहले, अपने विज्ञापन समूह या कीवर्ड टेबल में “कस्टम पैरामीटर” कॉलम जोड़ें:

  1. Google Ads खाते में साइन इन करें.
  2. कीवर्ड या विज्ञापन समूह पर क्लिक करें.
  3. कॉलम आइकॉन पर क्लिक करें Google Ads कॉलम आइकॉन की इमेज, और कॉलम में बदलाव करें चुनें.
  4. विशेषताएं पर क्लिक करें.
  5. कस्टम पैरामीटर चुनें. 
  6. लागू करें पर क्लिक करें.


अब, अपना कस्टम पैरामीटर जोड़ें:

  1. "कस्टम पैरामीटर" कॉलम में किसी भी एंट्री पर माउस घुमाएं और जब पेंसिल आइकॉन बदलाव करें दिखाई दे, तब उस पर क्लिक करें.
  2. अपने कस्टम पैरामीटर का नाम और मान डालें.
  3. सेव करें पर क्लिक करें.


अपने कस्टम पैरामीटर में बदलाव करने के लिए, दूसरे सेक्शन में एक से दो तक दिए गए तरीकों का पालन करें, बदलाव करें और सेव करें पर क्लिक करें.

साइटलिंक स्तर पर कस्टम पैरामीटर बनाना या उनमें बदलाव करना

  1. Google Ads खाते में साइन इन करें.
  2. पेज मेन्यू में जाकर, विज्ञापन और एसेट पर क्लिक करें. इसके बाद, पेज पर सबसे ऊपर मौजूद एसेट पर क्लिक करें.
  3. प्लस बटन Add button (plus button  FAB).png पर क्लिक करें. इसके बाद, साइटलिंक एसेट चुनें.
  4. “इसमें जोड़ें” ड्रॉप-डाउन मेन्यू से वह स्तर चुनें जिसमें आप साइटलिंक जोड़ना चाहते हैं.
  5. किसी मौजूदा साइटलिंक का उपयोग करने के लिए, मौजूदा का उपयोग करें पर क्लिक करें और वे साइटलिंक चुनें, जिन्हें आप जोड़ना चाहते हैं.
  6. एक नया साइटलिंक बनाने के लिए, नया बनाएं पर क्लिक करें.
  7. साइटलिंक टेक्स्ट और यूआरएल भरें.
  8. जानकारी फ़ील्ड में अपने लिंक के बारे में ज़्यादा टेक्स्ट डालें (वैकल्पिक, लेकिन काफ़ी सुझाया गया). जब आप जानकारी की दोनों पंक्तियां भरते हैं, तो आपका साइटलिंक इन विवरणों के साथ दिखाया जा सकता है.
  9. "साइटलिंक यूआरएल विकल्प" के तहत अपने कस्टम पैरामीटर जोड़ें.
  10. अगर आप मोबाइल के लिए किसी दूसरे यूआरएल का इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो चुनें.
  11. सेव करें पर क्लिक करें.

अपने कस्टम पैरामीटर में बदलाव करने के लिए, ऊपर एक से दो तक दिए गए तरीकों का पालन करें. इसके बाद:

  1. टेबल के ऊपर नीले बार में "एसेट टाइप" पर क्लिक करें. ड्रॉप-डाउन मेन्यू से, साइटलिंक एसेट चुनें. फिर, लागू करें पर क्लिक करें.
  2. उस खास साइटलिंक पर माउस घुमाएं जिसमें आप बदलाव करना चाहते हैं. पेंसिल आइकॉन दिखाई देने पर, उस पर क्लिक करें.
  3. बदलाव पैनल को बड़ा करने के लिए, ऊपर दाएं कोने में तीर के निशान पर क्लिक करें.
  4. “साइटलिंक के यूआरएल विकल्प” में अपने कस्टम पैरामीटर का नाम और वैल्यू डालें.
    1. ध्यान रखें कि साइटलिंक में किए जाने वाले बदलाव, ऐसे सभी विज्ञापन ग्रुप, कैंपेन या खाते में भी लागू हो जाएंगे जो साइटलिंक को शेयर करते हैं.
  5. बदलाव करने के बाद, सेव करें पर क्लिक करें.

चरण 4: “ट्रैकिंग टेम्प्लेट” फ़ील्ड में अपना कस्टम पैरामीटर जोड़ना

आखिर में, अपने कस्टम पैरामीटर के नाम को ज़रूरी ValueTrack पैरामीटर के साथ ट्रैकिंग टेंप्लेट में रखें (उदाहरण के लिए, {lpurl}?color={_color}). जब आपके विज्ञापन पर क्लिक किया जाएगा, तो Google Ads नाम की जगह आपके कस्टम पैरामीटर में तय की गई वैल्यू डाल देगा.

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
true
Drive Revenue with Optiscore

Want to improve account health and drive business goals? Learn from industry & Google experts on how to drive revenue with the help of Optimization Score & Auto Apply Recommendations.

Register Now

खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू