Google Ads के साथ Google Ad Manager कैसे काम करता है

Google Ad Manager, एक रीयल-टाइम मार्केटप्लेस है. इसने विज्ञापन खरीदने और बेचने के लिए, Google Display Network के साथ साझेदारी की है. यह विज्ञापन देने वाली कंपनियों के लिए ऐसा मार्केट है जहां वे इंटरनेट पर डिसप्ले विज्ञापन के लिए बिड कर सकती हैं. अगर आपके पास Display Network को टारगेट करने वाला कोई कैंपेन है, तो आपको Google Ads के दिशा-निर्देशों का पालन करने वाली Ad Manager पब्लिशर की साइटों का ऐक्सेस अपने-आप मिल जाता है.

मान लीजिए कि गर्मियों का मौसम है और आप आम तोड़ने के इच्छुक हैं, तो आपकी टोकरी जितनी बड़ी होगी उतने ज़्यादा आम आपके पास होंगे यानी सही मौके पर कदम उठाने से ज़्यादा सफलता मिलती है. यही बात आपके ग्राहकों के मामले में भी लागू होती है: अगर आपकी तरफ़ से अपना दायरा बढ़ाया जाता है, तो आपको वेब के ज़्यादा ट्रैफ़िक वाले उन हिस्सों से ग्राहक मिलेंगे जो पहले आपके लिए उपलब्ध नहीं थे. इसलिए, Ad Manager पब्लिशर की साइटों पर अपने विज्ञापन दिखाने से, आपको ऐसे नए ग्राहक मिल सकते हैं जिन तक पहुंचना पहले संभव नहीं हो पा रहा था.

यह इस तरह से काम करता है:

  • जब तक आपके कैंपेन के लिए Display Network को टारगेट किया जाता रहेगा, तब तक आपके विज्ञापन Google AdSense के ज़रिए उपलब्ध साइटों के अलावा, Ad Manager पब्लिशर की साइटों पर भी दिखाए जा सकते हैं.
  • एक तरफ़ पब्लिशर की दूसरी साइटों तक आपकी संभावित पहुंच बढ़ती रहती है, वहीं दूसरी तरफ़ Google Ads की टारगेटिंग, रिपोर्टिंग, और खाते से जुड़ी ऐसी अन्य प्रक्रियाएं जिनके बारे में आपको पहले से पता है, वे पहले जैसी ही रहती हैं.
  • Google विज्ञापन दिखाने वाले Ad Manager पब्लिशर को Google AdSense कार्यक्रम की नीतियों का पालन करना होगा.

नीलामी की प्रक्रिया के बारे में जानकारी

Google, नीलामी की प्रक्रिया को एक जैसा बनाए रखने के लिए कई तरीके अपनाता है. इससे Google Ads की बिड की तुलना, विज्ञापन नेटवर्क की दूसरी कंपनियों की बिड के साथ सही से की जा सकती है.

  • किसी पब्लिशर की ओर से Ad Manager को इन्वेंट्री ऑफ़र करने पर, Google Ads नीलामी की अपनी प्रोसेस शुरू करता है. साथ ही, एक पूरे स्लॉट वाले विज्ञापन या टेक्स्ट विज्ञापनों के ग्रुप वाली सबसे बेहतरीन विज्ञापन यूनिट भी बनाता है. इसके बाद, Google Ads, विज्ञापन यूनिट के लिए Ad Manager की सबसे सही बिड का पता लगाएगा. ऐसा करने के लिए, विज्ञापनों की बिड का इस्तेमाल करके, Google Ads के आय के हिस्से को लागू किया जाता है.
  • इस बिड की तुलना, Ad Manager की मदद से विज्ञापन देने वाली दूसरी कंपनी की बिड और पब्लिशर के सेट किए गए हर कंट्रोल से की जाती है. जैसे, कम से कम सीपीएम. पब्लिशर के इन कंट्रोल को पूरा नहीं करने वाली बिड को अनदेखा कर दिया जाता है.
  • इसके बाद, Ad Manager, शर्तें पूरी करने वाली सभी बिड का इस्तेमाल करके नीलामी की प्रोसेस शुरू करेगा. अगर Google Ads नीलामी जीत जाता है, तो सफल विज्ञापन यूनिट में विज्ञापन देने वाली कंपनी (कंपनियों) को नीलामी में दूसरे नंबर वाली कंपनी की तुलना में ज़्यादा रैंक पाने के लिए, सीपीसी के आधार पर जितना ज़रूरी होगा उससे ज़्यादा पेमेंट नहीं करना होगा. ऐसा तब करना होता है, जब कोई उपयोगकर्ता विज्ञापन पर क्लिक करता है या विज्ञापन से जुड़े दूसरे मान्य इवेंट को पूरा करता है. पब्लिशर को, Ad Manager में होने वाली नीलामी में, नेट बिड की ज़्यादा से ज़्यादा वैल्यू या कम से कम सीपीएम में से जो ज़्यादा होगा उसका पेमेंट किया जाएगा.

किसी विज्ञापन यूनिट की पहचान से जुड़ी जानकारी हटा दिए जाने पर, विज्ञापन देने वाली कंपनी (सीधे या तीसरे पक्ष के ज़रिए), पब्लिशर की पहचान, साइट के नाम या पहचान ज़ाहिर करने से जुड़ी मिलती-जुलती अन्य जानकारी किसी भी तरह से हासिल नहीं कर सकती. भले ही, विज्ञापन देने वाली कंपनी, सेलर की पहचान जान-बूझकर नहीं कर रही हो.

अगला कदम

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
3922611226853171817
true
खोज मदद केंद्र
true
true
true
true
true
73067