रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापनों (सर्च क्वेरी के हिसाब से ढल जाने वाले विज्ञापन) के लिए, विज्ञापन कस्टमाइज़र बनाना

अहम जानकारी
  • बड़े किए गए टेक्स्ट विज्ञापनों के लिए, 30 जून, 2022 से, विज्ञापन कस्टमाइज़र नहीं बनाए जा सकेंगे. इसके अलावा, उनमें बदलाव भी नहीं किए जा सकेंगे. ऐसा इसलिए, क्योंकि बड़े किए गए नए टेक्स्ट विज्ञापन बनाने की सुविधा अब काम नहीं करेगी.
  • बड़े किए गए टेक्स्ट विज्ञापनों के लिए, अब कारोबार का डेटा अपलोड नहीं किया जा सकेगा. साथ ही, इस डेटा में बदलाव करने का विकल्प भी नहीं होगा.
  • बड़े किए गए टेक्स्ट विज्ञापनों के लिए, मौजूदा विज्ञापन कस्टमाइज़र 31 मार्च, 2024 तक काम करते रहेंगे.
  • हम आपको रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापन (सर्च क्वेरी के हिसाब से ढल जाने वाले विज्ञापन)इस्तेमाल करने का सुझाव देते हैं.
  • Search Network पर सही मैसेज दिखाना आसान बनाने के बारे में ज़्यादा जानें.

विज्ञापन कस्टमाइज़र आपके संभावित ग्राहक रीयल-टाइम में जिस चीज़ को खोज रहे हैं आपके विज्ञापन उसके मुताबिक बनाता है. इसकी मदद से रीयल टाइम में, प्रॉडक्ट का नाम और कीमत जैसे कस्टम एट्रिब्यूट तय किए जा सकते हैं. साथ ही, बड़े पैमाने पर विज्ञापन बनाए जा सकते हैं.

ध्यान दें: रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापनों के लिए, आपके विज्ञापन कस्टमाइज़र का सेट अप टेक्स्ट विज्ञापनों से अलग होता है. विज्ञापन के कॉन्टेंट और टारगेटिंग सेटिंग के कई हिस्सों के साथ सिंगल कस्टमाइज़र फ़ीड इस्तेमाल करने के बजाय, एक साथ कई एट्रिब्यूट बनाए जा सकते हैं या उन्हें अपने खाते में एक साथ अपलोड किया जा सकता है. इसके अलावा, विज्ञापन के कॉन्टेंट के हिस्सों को सीधे कैंपेन, विज्ञापन ग्रुप, और कीवर्ड में सेट भी किया जा सकता है. ये कस्टमाइज़र, विज्ञापन ग्रुप, कैंपेन, और कीवर्ड की टारगेटिंग सेटिंग का इस्तेमाल करेंगे. अगर आपके पास टेक्स्ट विज्ञापनों के लिए, मौजूदा कारोबार डेटा के विज्ञापन कस्टमाइज़र मौजूद हैं, तो उन्हें रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापनों के लिए ज़रूरी फ़ॉर्मैट में माइग्रेट किया जा सकता है. टेक्स्ट विज्ञापनों के विज्ञापन कस्टमाइज़र को रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापन में बदलने के बारे में ज़्यादा जानें

इस लेख में, रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापनों के लिए विज्ञापन कस्टमाइज़र बनाने का तरीका बताया गया है. रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापनों में विज्ञापन कस्टमाइज़र लागू करने के चार चरण हैं:

  1. अपने कारोबार का डेटा खोलें.
  2. अपना विज्ञापन कस्टमाइज़र बनाएं (विज्ञापन एट्रिब्यूट तय करें). इस तरीके से डाइनैमिक टेक्स्ट की कैटगरी तय की जाती है.
  3. एट्रिब्यूट की जानकारी डालें (सही लेवल पर वैल्यू असाइन करें). यही वह असल टेक्स्ट है जो दिखेगा.

    ध्यान दें: अगर वैल्यू नहीं जोड़ी जाती हैं, तो विज्ञापन कस्टमाइज़र वाले रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापन की समीक्षा नहीं की जा सकती.

  4. अपना विज्ञापन टेक्स्ट कस्टमाइज़ करें (अपने रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापन में विज्ञापन कस्टमाइज़र डालें).

निर्देश

1. अपने कारोबार का डेटा खोलें

रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापनों के लिए, विज्ञापन कस्टमाइज़र लागू करने के चार चरणों में से पहला चरण दिखाता ग्राफ़िक.

ध्यान दें: नीचे दिए गए निर्देश, Google Ads के नए वर्शन को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं. पिछले वर्शन का इस्तेमाल करने के लिए, "थीम" आइकॉन पर क्लिक करें और पिछले वर्शन का यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) इस्तेमाल करें चुनें. अगर Google Ads के पिछले वर्शन का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किसी पेज को खोजने के लिए, Google Ads में उपलब्ध प्रमुख सुविधाओं को झटपट ढूंढने की सुविधा या सबसे ऊपर मौजूद नेविगेशन पैनल में खोज बार का इस्तेमाल करें.

सबसे पहले अपने कारोबार का डेटा खोलें.

  1. Google Ads खाते में, टूल आइकॉन Tools Icon पर क्लिक करें.
  2. कारोबार का डेटा पर क्लिक करें.
  3. विज्ञापन कस्टमाइज़र एट्रिब्यूट पर क्लिक करें.
  4. प्लस बटन पर क्लिक करें.

मेरे खाते में खोलें

2. अपना कस्टमाइज़र बनाएं (विज्ञापन एट्रिब्यूट तय करें)

इसके बाद, उस विज्ञापन के बारे में अलग-अलग जानकारी जोड़ें जिसे पसंद के मुताबिक बनाना है. इस जानकारी को “एट्रिब्यूट” के तौर पर जाना जाता है. इसका इस्तेमाल आपके पूरे खाते में किया जा सकता है.

Google Ads में अलग-अलग एट्रिब्यूट बनाने के बाद, हर एट्रिब्यूट को अलग से जोड़ा जा सकता है या स्प्रेडशीट से कई एट्रिब्यूट अपलोड किए जा सकते हैं.

ध्यान दें: अगर किसी स्प्रेडशीट से कई एट्रिब्यूट अपलोड किए जाते हैं, तो उन्हें Google Ads में सिर्फ़ एक बार बनाना होगा.

अलग-अलग एट्रिब्यूट बनाना

एट्रिब्यूट जोड़ना

  1. “एट्रिब्यूट” फ़ील्ड में, उस कॉन्टेंट का नाम डालें जिसे पसंद के मुताबिक बनाना है.
    • अगर आप प्रॉडक्ट का नाम पसंद के मुताबिक बना रहे हैं, तो आप “प्रॉडक्ट” जैसा कुछ डाल सकते हैं. आप इस नाम को अपनी पसंद के मुताबिक लिख सकते हैं.
  2. वह "डेटा टाइप" चुनें जिससे आपके उस टेक्स्ट की फ़ॉर्मैटिंग तय होगी जिसे आप पसंद के मुताबिक बना रहे हैं. फ़ॉर्मैटिंग के सबसे सही तरीके यहां देखें.
    • अगर प्रॉडक्ट की कीमत को पसंद के मुताबिक बनाया जा रहा है, तो आपको डेटा टाइप के तौर पर कीमत को चुनना होगा.
    • ध्यान दें: हमारा सुझाव है कि आप डेटा टाइप के बारे में बताएं. ऐसा करने पर, सिस्टम ज़्यादा तेज़ी से और बेहतर समीक्षा करके मंज़ूरी दे सकेगा. साथ ही, विज्ञापन दिखाने में देरी नहीं होगी.
  3. अन्य एट्रिब्यूट जोड़ने के लिए, प्लस बटन पर क्लिक करें.
  4. इन एट्रिब्यूट को बनाने के लिए, बनाएं पर क्लिक करें.

डेटा टाइप के लिए फ़ॉर्मैट करने के सबसे सही तरीके

डेटा टाइप आम तौर पर, इनके लिए इस्तेमाल होता है अनुमति वाले वर्ण उदाहरण वैल्यू
टेक्स्ट ProductName कोई भी अक्षर, संख्या या सिंबल हाइकिंग के जूते
कीमत लागत कोई भी संख्या (दशमलव के साथ) और मान्य मुद्रा वर्ण 24.99 डॉलर
संख्या InventoryCount कोई भी संख्या (इसमें दशमलव भी शामिल हैं) 11 या 11.5
प्रतिशत दर (छूट वाली कीमत/ब्याज दर) कोई भी संख्या (इसमें दशमलव भी शामिल हैं) और प्रतिशत का चिह्न 35%
ध्यान दें: एट्रिब्यूट के नाम अंडरस्कोर (_) से शुरू नहीं होने चाहिए और उनमें चिह्न, विराम चिह्न या विशेष वर्ण नहीं होने चाहिए, जैसे कि विंगडिंग (खास चिह्न), ऐरो, वर्टिकल बार या दूसरे चिह्न. विशेष वर्णों का इस्तेमाल करने पर, आपके विज्ञापन अस्वीकार हो सकते हैं. उदाहरण के लिए: -, <3, =>, <=, ⇐, ⇍, ->, ⇒, », :-), :), ∞, ⋇, Ξ, ****, |, +, -, /, *, (, ), [, ], {, }, “, \, •, ‘, =, :, $, \\ वगैरह.

एट्रिब्यूट मिटाना

ध्यान दें: नीचे दिए गए निर्देश, Google Ads के नए वर्शन को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं. पिछले वर्शन का इस्तेमाल करने के लिए, "थीम" आइकॉन पर क्लिक करें और पिछले वर्शन का यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) इस्तेमाल करें चुनें. अगर Google Ads के पिछले वर्शन का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किसी पेज को खोजने के लिए, Google Ads में उपलब्ध प्रमुख सुविधाओं को झटपट ढूंढने की सुविधा या सबसे ऊपर मौजूद नेविगेशन पैनल में खोज बार का इस्तेमाल करें.

कारोबार के फ़ीड में एट्रिब्यूट को मिटाया जा सकता है. किसी एट्रिब्यूट को मिटाने से, वह सभी कैंपेन से हट जाएगा.

  1. Google Ads खाते में, टूल आइकॉन Tools Icon पर क्लिक करें.
  2. कारोबार का डेटा पर क्लिक करें.
  3. एट्रिब्यूट वाला वह कस्टमाइज़र चुनें जिसे मिटाना है. “टाइप” कॉलम में “विज्ञापन कस्टमाइज़र डेटा” देखें.
  4. जिन एट्रिब्यूट को हटाना है उनके आगे मौजूद बॉक्स को चुनें.
  5. बदलाव करें पर क्लिक करें. इसके बाद, हटाएं पर क्लिक करें.

एक स्प्रेडशीट से कई एट्रिब्यूट अपलोड करना

ध्यान दें: नीचे दिए गए निर्देश, Google Ads के नए वर्शन को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं. पिछले वर्शन का इस्तेमाल करने के लिए, "थीम" आइकॉन पर क्लिक करें और पिछले वर्शन का यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) इस्तेमाल करें चुनें. अगर Google Ads के पिछले वर्शन का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किसी पेज को खोजने के लिए, Google Ads में उपलब्ध प्रमुख सुविधाओं को झटपट ढूंढने की सुविधा या सबसे ऊपर मौजूद नेविगेशन पैनल में खोज बार का इस्तेमाल करें.
  1. Google Ads खाते में, टूल आइकॉन Tools Icon पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, बल्क ऐक्शन ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. अपलोड पर क्लिक करें.
  4. प्लस बटन पर क्लिक करें.
  5. शामिल किया जाने वाला डेटा देखने के लिए, उदाहरण टेंप्लेट डाउनलोड करें पर क्लिक करें. टेंप्लेट में कॉलम A से लेकर C के अंदर, 8 से लेकर 12 तक की लाइनों को खाली छोड़ दें.
  6. स्प्रेडशीट या Google Sheets से अपनी फ़ाइल का स्रोत चुनें.
  7. अपने एट्रिब्यूट जोड़ें. ध्यान दें कि ज़्यादा से ज़्यादा 40 विज्ञापन कस्टमाइज़र एट्रिब्यूट बनाए जा सकते हैं.
    • "एट्रिब्यूट" कॉलम में अपने एट्रिब्यूट का नाम डालें.
    • वर्णों का वह फ़ॉर्मैट डालें जिसका इस्तेमाल आपका एट्रिब्यूट, "डेटा टाइप" कॉलम में करता है.
    • "खाते की वैल्यू" कॉलम में वह वैल्यू डालें जो आपके एट्रिब्यूट के लिए दिखती है.
  8. वैल्यू बनाएं (यह सिर्फ़ कुछ ऐसी वैल्यू का उदाहरण है जिन्हें जोड़ा जा सकता है):
    • "कैंपेन" कॉलम में कैंपेन का नाम डालें.
    • "विज्ञापन ग्रुप" कॉलम में विज्ञापन ग्रुप का नाम डालें.
    • "कीवर्ड" कॉलम में कीवर्ड डालें.
    • "Customizer:Name" कॉलम में कस्टमाइज़र का नाम डालें.
    • "Customizer:Count" कॉलम में कस्टमाइज़र की संख्या डालें.
    • "Customizer:Percent" कॉलम में कस्टमाइज़र का प्रतिशत डालें.
    • “Customizer:Price” कॉलम में कस्टमाइज़र की कीमत डालें.
  9. अगर आपको डिफ़ॉल्ट वैल्यू को असाइन करने के लिए, मौजूदा वैल्यू को हटाना है, तो आपको “खाता वैल्यू” या सही कस्टमाइज़र कॉलम में “remove_value” को जोड़ना चाहिए. इसकी मदद से कस्टमाइज़र, डिफ़ॉल्ट वैल्यू दिखाएगा.
ध्यान दें: कीवर्ड या विज्ञापन ग्रुप लेवल पर कस्टमाइज़र के लिए, आपके पास “विज्ञापन ग्रुप” और “कैंपेन”, दोनों कॉलम भरने का विकल्प होता है. "विज्ञापन ग्रुप" और "कैंपेन", दोनों के लिए "विज्ञापन ग्रुप आईडी" का इस्तेमाल किया जा सकता है. वैल्यू के लिए, एट्रिब्यूट कॉलम के नाम से पहले "Customizer:" लगाएं. हमारे उदाहरण में नाम, एट्रिब्यूट है. इसलिए, वैल्यू के लिए कॉलम हेडर "Customizer:Name" होना चाहिए.

एक साथ कई फ़ाइलें अपलोड करने की सुविधा शेड्यूल करना

ध्यान दें: नीचे दिए गए निर्देश, Google Ads के नए वर्शन को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं. पिछले वर्शन का इस्तेमाल करने के लिए, "थीम" आइकॉन पर क्लिक करें और पिछले वर्शन का यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) इस्तेमाल करें चुनें. अगर Google Ads के पिछले वर्शन का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किसी पेज को खोजने के लिए, Google Ads में उपलब्ध प्रमुख सुविधाओं को झटपट ढूंढने की सुविधा या सबसे ऊपर मौजूद नेविगेशन पैनल में खोज बार का इस्तेमाल करें.
  1. Google Ads खाते में, टूल आइकॉन Tools Icon पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, बल्क ऐक्शन ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. अपलोड पर क्लिक करें.
  4. शेड्यूल पर क्लिक करें. इसके बाद, प्लस बटन पर क्लिक करें.
  5. "स्रोत" सेक्शन में कोई स्रोत चुनें और फ़ाइल अपलोड करें. इसके बाद, एक साथ कई फ़ाइलें अपलोड करने के लिए, "फ़्रीक्वेंसी" और "समय" चुनें.
  6. सेव करें पर क्लिक करें.

3. एट्रिब्यूट की जानकारी डालें (सही लेवल पर वैल्यू असाइन करें)

एट्रिब्यूट बनाने के बाद, अपने कस्टमाइज़र के लिए कॉन्टेंट जोड़ा जा सकता है. यह टेक्स्ट, कीमत या संख्या है, जो आपके विज्ञापनों में दिखेगी. ध्यान रखें कि इस कॉन्टेंट को, विज्ञापन की मंज़ूरी की प्रोसेस से गुज़रना होगा.

अगर आप अपने पूरे खाते के लिए कॉन्टेंट सेट अप करना चाहते हैं, तो “खाता वैल्यू” कॉलम को अपडेट करें:

वैल्यू जोड़ना ज़रूरी है, क्योंकि जिन रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापनों के लिए कस्टमाइज़र वैल्यू उपलब्ध नहीं है उनकी समीक्षा नहीं की जा सकती.
  1. "खाता वैल्यू" कॉलम पर माउस घुमाएं और पेंसिल आइकॉन बदलाव करें पर क्लिक करें.
  2. वह टेक्स्ट डालें जो इस कस्टमाइज़र का इस्तेमाल करने वाले विज्ञापनों में दिखेगा.
  3. सेव करें पर क्लिक करें.

अलग-अलग कैंपेन (विज्ञापन ग्रुप और कीवर्ड के लिए) के लिए, इस कॉन्टेंट को अपनी पसंद के मुताबिक बनाया जा सकता है:

  1. कैंपेन पेज पर वापस जाएं.
  2. कॉलम आइकॉन Google Ads कॉलम आइकॉन की इमेज पर क्लिक करें.
  3. विज्ञापन कस्टमाइज़र एट्रिब्यूट खोलें और जिन एट्रिब्यूट में आपको बदलाव करना है उनके बगल में मौजूद बॉक्स को चुनें.
    • उदाहरण के लिए, अगर आपने "कीमत" नाम का एट्रिब्यूट बनाया है, तो कीमत चुनें.
  4. लागू करें पर क्लिक करें.
  5. आपने जो एट्रिब्यूट बनाया है वह आपको सभी सर्च कैंपेन के लिए कॉलम के तौर पर दिखेगा.
  6. “कस्टम वैल्यू का इस्तेमाल करें” चुनकर, हर कैंपेन के टेक्स्ट को अपनी पसंद के मुताबिक बनाने के लिए, एट्रिब्यूट में बदलाव करें. डिफ़ॉल्ट रूप से, "इनहेरिट की गई वैल्यू का इस्तेमाल करें" चुना रहता है. इसमें, सभी कैंपेन के लिए खाता लेवल पर सेट की गई वैल्यू का इस्तेमाल किया जाता है.
    • अगर आपने खुदरा कीमत वाला एट्रिब्यूट बनाया है, तो आपको हर कैंपेन में विज्ञापन वाले प्रॉडक्ट की खुदरा कीमत डालनी होगी.
ध्यान दें: रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापनों के लिए कस्टमाइज़र, प्राथमिकता के हिसाब से टारगेटिंग सेटिंग का इस्तेमाल करेंगे: कीवर्ड, विज्ञापन ग्रुप, कैंपेन, खाता, और डिफ़ॉल्ट वैल्यू. अगर आपका विज्ञापन कस्टमाइज़र नहीं दिखता या टेक्स्ट वर्ण सीमा को पार करता है, तो डिफ़ॉल्ट वैल्यू का इस्तेमाल किया जाएगा.

4. अपना विज्ञापन टेक्स्ट कस्टमाइज़ करें (अपने रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापन में विज्ञापन कस्टमाइज़र डालें)

ध्यान दें: नीचे दिए गए निर्देश, Google Ads के नए वर्शन को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं. पिछले वर्शन का इस्तेमाल करने के लिए, "थीम" आइकॉन पर क्लिक करें और पिछले वर्शन का यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) इस्तेमाल करें चुनें. अगर Google Ads के पिछले वर्शन का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किसी पेज को खोजने के लिए, Google Ads में उपलब्ध प्रमुख सुविधाओं को झटपट ढूंढने की सुविधा या सबसे ऊपर मौजूद नेविगेशन पैनल में खोज बार का इस्तेमाल करें.

अब जब आपने अपना कस्टमाइज़र बना लिया है, तो उनका इस्तेमाल करके अपने विज्ञापनों को पसंद के मुताबिक बनाया जा सकता है.

  1. Google Ads खाते में कैंपेन आइकॉन Campaigns Icon पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, कैंपेन ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. विज्ञापन पर क्लिक करें.
  4. प्लस बटन पर क्लिक करें और रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापन को चुनें.
  5. अपने विज्ञापन टेक्स्ट में उस जगह कर्ली ब्रैकेट “{“ डालें जहां कस्टमाइज़र दिखाना है. आपके विज्ञापन में उस जगह पर जहां आप कस्टमाइज़र दिखाना चाहते हैं, एक मंझोला (कर्ली) ब्रैकेट डालने का तरीका दिखाने वाला ग्राफ़िक.
  6. ड्रॉपडाउन मेन्यू से विज्ञापन कस्टमाइज़र चुनें.
  7. वह एट्रिब्यूट चुनें जो आपको अपने विज्ञापन टेक्स्ट के इस हिस्से पर दिखाना है. ग्राफ़िक का उदाहरण, जिसमें बताया गया है कि आप अपने विज्ञापन टेक्स्ट के इस हिस्से में दिखाए जाने वाला एट्रिब्यूट कैसे चुन सकते हैं.
  8. जब कुछ भी आपके कस्टमाइज़र को ट्रिगर नहीं करेगा, तब कौनसा टेक्स्ट दिखे, यह तय करने के लिए कस्टमाइज़र की कोई डिफ़ॉल्ट वैल्यू डालें.
  9. लागू करें पर क्लिक करें.

इसी विषय से जुड़े कुछ लिंक

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
true
Drive Revenue with Optiscore

Want to improve account health and drive business goals? Learn from industry & Google experts on how to drive revenue with the help of Optimization Score & Auto Apply Recommendations.

Register Now

खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
14448532263760032706
true