[UA] नए सेगमेंट बनाना

इस लेख में, Universal Analytics में नए सेगमेंट बनाने का तरीका बताया गया है. Google Analytics 4 में सेगमेंट बनाने का तरीका जानने के लिए, [GA4] सेगमेंट बिल्डर पर जाएं.

सेगमेंट बिल्डर का इस्तेमाल करके, ऐसे अलग-अलग फ़िल्टर कॉन्फ़िगर किए जा सकते हैं जो साथ मिलकर एक सेगमेंट बनाते हैं. सेगमेंट बनाने के बाद, इसे अपनी रिपोर्ट या डैशबोर्ड में लागू करें, ताकि आप सेगमेंट के हिसाब से डेटा देख सकें.

इस लेख में इन विषयों के बारे में बताया गया है:

 

सेगमेंट-बिल्डर का यूज़र इंटरफ़ेस

सेगमेंट बिल्डर.

सेगमेंट बिल्डर की मदद से, आपको Analytics के डाइमेंशन और मेट्रिक के हिसाब से, किसी सेगमेंट के कॉम्पोनेंट फ़िल्टर बनाने की सुविधा मिलती है. आपको कोई डाइमेंशन या मेट्रिक और तुलना करने वाला कोई ऑपरेटर चुनना है. इसके बाद, आपको फ़िल्टर की शर्त सेट करने के लिए कोई वैल्यू डालनी है. कई मामलों में, डेटा का स्कोप (हिट, सेशन, उपयोगकर्ता) भी चुना जा सकता है. उदाहरण के लिए:

भाषा - एग्ज़ैक्ट मैच करती हो - "fr"
(डाइमेंशन - ऑपरेटर - डाइमेंशन वैल्यू)

रेवेन्यू - हर उपयोगकर्ता - > - "100"
(मेट्रिक - स्कोप - ऑपरेटर - मेट्रिक वैल्यू)

कुछ मामलों में, ऑपरेटर की जानकारी साफ़ तौर पर नहीं दी गई होती है. उदाहरण के लिए, जब उम्र या लिंग वाले डाइमेंशन का इस्तेमाल किया जाता है:

उम्र - "18-24" (उम्र = 18-24)
(डाइमेंशन - ऑपरेटर की साफ़ जानकारी नहीं - डाइमेंशन वैल्यू)

किसी सेगमेंट में ज़्यादा से ज़्यादा 20 फ़िल्टर लगाए जा सकते हैं.

 

डेटा का स्कोप

किसी सेगमेंट के हर फ़िल्टर में, उससे तय होने वाले डेटा के एक या उससे ज़्यादा स्कोप होते हैं:

  • हिट: व्यवहार सिर्फ़ एक कार्रवाई तक सीमित होता है. उदाहरण के लिए, कोई पेज देखना या कोई वीडियो चलाना.
  • सेशन: सिर्फ़ एक सेशन में होने वाला व्यवहार. उदाहरण के लिए, किसी सेशन के दौरान उपयोगकर्ताओं ने जो लक्ष्य पूरे किए या जो रेवेन्यू जनरेट किया.
  • उपयोगकर्ता: आपने तारीख की जिस सीमा का इस्तेमाल किया है उसके दौरान सभी सेशन में होने वाला व्यवहार. यह सीमा ज़्यादा से ज़्यादा 93 दिन की हो सकती है. उदाहरण के लिए, तारीख की सीमा के दौरान सभी सेशन में उपयोगकर्ताओं ने जो लक्ष्य पूरे किए या उन्होंने जो रेवेन्यू जनरेट किया.
  • प्रॉडक्ट: प्रॉडक्ट से जुड़ा व्यवहार. इसका डेटा, प्रॉडक्ट से जुड़ी मेट्रिक का इस्तेमाल करने पर ही उपलब्ध होता है.

कुछ फ़िल्टर के लिए स्कोप चुना जा सकता है. अन्य फ़िल्टर के लिए स्कोप तय होता है. अगर फ़िल्टर के लिए स्कोप चुनने की सुविधा है, तो आपको आपकी ज़रूरत के विकल्प देने वाले एक या उससे ज़्यादा मेन्यू दिखते हैं. उदाहरण के लिए:

डेटा-स्कोप के विकल्पों के साथ शर्तों से जुड़े फ़िल्टर.

जब किसी फ़िल्टर में कई स्कोप शामिल होते हैं, तो वे साथ मिलकर काम करते हैं, जैसे कि इन उदाहरणों में बताया गया है:

वे सेशन जिनमें हर हिट के लिए रेवेन्यू > 10 है

वे उपयोगकर्ता जिनके लिए हर सेशन में जनरेट होने वाला रेवेन्यू > 10 है

वे उपयोगकर्ता जिनके लिए हर हिट पर रेवेन्यू > 10 है

फ़िल्टर की कैटगरी, डाइमेंशन, और मेट्रिक के स्कोप
कैटगरी डाइमेंशन/मेट्रिक स्कोप
डेमोग्राफ़िक्स उम्र उपयोगकर्ता
लिंग उपयोगकर्ता
भाषा सेशन
अफ़िनिटी कैटगरी उपयोगकर्ता
इन-मार्केट सेगमेंट उपयोगकर्ता
अन्य कैटगरी उपयोगकर्ता
जगह सेशन
 
टेक्नोलॉजी सभी डाइमेंशन सेशन
 
व्यवहार सेशन उपयोगकर्ता
आखिरी सेशन के बाद से अब तक बीते दिन उपयोगकर्ता
लेन-देन हिट/सेशन/उपयोगकर्ता
सेशन कितनी देर चला सेशन/उपयोगकर्ता
 
पहले सेशन की तारीख पहला सेशन उपयोगकर्ता
 
ट्रैफ़िक सोर्स सभी डाइमेंशन सेशन/उपयोगकर्ता
 
बेहतर ई-कॉमर्स सभी डाइमेंशन उपयोगकर्ता
रेवेन्यू (मेट्रिक) उपयोगकर्ता + हिट/सेशन/उपयोगकर्ता
सभी डाइमेंशन और मेट्रिक हिट/सेशन/उपयोगकर्ता के अलावा, चुनिंदा शॉपिंग गतिविधियों के हिसाब से, इन फ़िल्टर के लिए भी ज़्यादा से ज़्यादा सीमा तय की जा सकती है:
  • कोई कार्रवाई की
  • कार्ट में जोड़ा
  • कोई आइटम खरीदा
उदाहरण के लिए:
उपयोगकर्ता जिसने कोई आइटम खरीदा और जिससे मिला रेवेन्यू > 10 था
 
प्रॉडक्ट से जुड़ी मेट्रिक प्रॉडक्ट
 
शर्तें सभी डाइमेंशन और मेट्रिक सेशन/उपयोगकर्ता
कुछ मेट्रिक सेशन/उपयोगकर्ता + हिट, सेशन, उपयोगकर्ता या प्रॉडक्ट
 
क्रम सभी डाइमेंशन और मेट्रिक

सेशन/उपयोगकर्ता 

ध्यान दें कि Campaign Manager 360 सिर्फ़ उपयोगकर्ताओं वाले स्कोप के साथ काम करता है.

कुछ मेट्रिक सेशन/उपयोगकर्ता + हिट, सेशन, उपयोगकर्ता या प्रॉडक्ट

 

 

फ़िल्टर के आकलन का तरीका

अगर उपयोगकर्ता फ़िल्टर की शर्तों के बीच AND लगा है, तो ऐसे मामले में एक ही हिट में सभी शर्तों का पूरा होना ज़रूरी है.

सेशन फ़िल्टर की शर्तों के बीच AND लगा होने पर, ज़रूरी है कि हिट का कोई कॉम्बिनेशन एक ही सेशन में सभी शर्तों को पूरा करे.

एक ही डाइमेंशन में मौजूद कई वैल्यू को OR लॉजिक से जोड़ा गया हो. उदाहरण के लिए:

  • उम्र: 18-24 OR उम्र: 25-34

अगर डेटा इनमें से कोई भी शर्त पूरी करता है, तो उसे शामिल कर लिया जाता है.

 

एक ही कैटगरी में मौजूद कई डाइमेंशन और वैल्यू को AND लॉजिक से जोड़ा गया हो. उदाहरण के लिए:

  • (डेमोग्राफ़िक्स/उम्र: 18-24) AND (डेमोग्राफ़िक्स/लिंग: महिला)

जब डेटा दोनों शर्तें पूरी करता है, तो उसे शामिल कर लिया जाता है.

 

एक ही कैटगरी में मौजूद कई मेट्रिक वैल्यू को AND लॉजिक से जोड़ा गया हो. उदाहरण के लिए:

  • व्यवहार: सेशन > 1 AND व्यवहार: लेन-देन प्रति उपयोगकर्ता > 1

 

जब डेटा दोनों शर्तें पूरी करता है, तो उसे शामिल कर लिया जाता है.

 

 

एक ही कैटगरी में मौजूद मेट्रिक वैल्यू और डाइमेंशन वैल्यू को AND लॉजिक से जोड़ा गया हो. उदाहरण के लिए:

  • ई-कॉमर्स: हर उपयोगकर्ता के हिसाब से रेवेन्यू> 10 AND ई-कॉमर्स: प्रॉडक्ट = टी-शर्ट

जब डेटा दोनों शर्तें पूरी करता है, तो उसे शामिल कर लिया जाता है.

 

कई कैटगरी के फ़िल्टर को AND लॉजिक से जोड़ा गया हो. उदाहरण के लिए:

  • डेमोग्राफ़िक्स फ़िल्टर AND टेक्नोलॉजी फ़िल्टर AND क्रम फ़िल्टर

जब डेटा सभी शर्तें पूरी करता है, तो उसे शामिल कर लिया जाता है.

 

 

शर्तों और क्रमों के हिसाब से काम करना

शर्तें और क्रम फ़िल्टर, डाइमेंशन और मेट्रिक पर भी आधारित होते हैं. लेकिन, उनमें दूसरे विकल्प होते हैं:

  • चुनिंदा कैटगरी तक सीमित होने के बजाय, वे आपको किसी भी डाइमेंशन या मेट्रिक के लिए फ़िल्टर बनाने का विकल्प देते हैं.
  • वे ज़रूरत के मुताबिक, डेटा को शामिल कर सकते हैं या बाहर रख सकते हैं.
  • वे उन शर्तों को शामिल कर सकते हैं जिनके बीच AND लगा है. साथ ही, OR लॉजिक से जोड़ी गई शर्तों को भी शामिल कर सकते हैं.
  • एक ही फ़िल्टर में, उपयोगकर्ता और सेशन पर आधारित नियमों को शामिल करने पर, वे AND लॉजिक से जोड़े जाते हैं. जब डेटा दोनों शर्तें पूरी करता है, तो उसे शामिल कर लिया जाता है.
  • क्रम वाले फ़िल्टर से आपको यह तय करने की सुविधा मिलती है कि क्रम, पहले उपयोगकर्ता के इंटरैक्शन से शुरू होगा या किसी भी उपयोगकर्ता के इंटरैक्शन से.
  • किसी क्रम वाले फ़िल्टर में कई चरणों को शामिल करने पर, आपके पास यह तय करने का विकल्प होता है कि कोई चरण, पिछले चरण के बाद किसी भी समय शुरू किया जा सकता है या उसे तुरंत शुरू किया जाना चाहिए. बाद वाला चरण उसी सेशन में या बाद वाले सेशन में आ सकता है.

 

 

सेशन के मुकाबले सेशन की संख्या

सेगमेंट बनाते समय, आपको व्यवहार सेक्शन में सेशन मेट्रिक का इस्तेमाल करने में या शर्त सेक्शन में सेशन की संख्या डाइमेंशन का इस्तेमाल करने में उलझन हो सकती है.

सेशन और सेशन की संख्या, दोनों मेट्रिक से उपयोगकर्ता के लेवल पर सेशन की संख्या का पता चलता है, लेकिन उनकी समय सीमा में फ़र्क़ होता है:

  • सेशन से पता चलता है कि रिपोर्ट के लिए आपने तारीख की जिस सीमा का इस्तेमाल किया है उसके दौरान उपयोगकर्ताओं ने कितनी बार सेशन शुरू किए है. उदाहरण के लिए, 1 जनवरी से लेकर 15 जनवरी तक, सेशन = 5 है या सेशन > 5 है.
  • सेशन की संख्या का मतलब है कि उपयोगकर्ताओं ने अब तक कितने सेशन शुरू किए हैं. इसमें, कुल संख्या में शामिल आखिरी सेशन आपकी रिपोर्ट के लिए इस्तेमाल की जा रही तारीख की सीमा के दौरान होता है (भले ही, पिछले सेशन तारीख की उस सीमा के दौरान हुए हों या नहीं). उदाहरण के लिए: सेशन की संख्या = 5 का मतलब है कि उपयोगकर्ताओं ने रिपोर्ट की तारीख की सीमा के दौरान अपने पांचवें सेशन की शुरुआत की. सेशन की संख्या > 5 का मतलब है कि उपयोगकर्ताओं ने रिपोर्ट की तारीख की सीमा के दौरान अपने छठे या उसके बाद के सेशन की शुरुआत की.

 

 

नए सेगमेंट बनाना

हर उपयोगकर्ता और हर व्यू के हिसाब से, सेगमेंट से जुड़ी सीमाओं को देखें . उन सीमाओं तक पहुंचने के बाद, आपके पास अतिरिक्त सेगमेंट बनाने या उन्हें इंपोर्ट करने का विकल्प नहीं होगा.

 

ऐसा सेगमेंट नहीं बनाया जा सकता जिसमें नीचे दी गई दोनों शर्तें शामिल हों:

अगर आपने कोई ऐसा सेगमेंट बनाने की कोशिश की जिसमें दोनों शर्तें हों, तो दोनों में से कोई एक शर्त मिटाने के बाद ही, आपको Analytics की मदद से सेगमेंट बनाने और उसकी झलक देखने की सुविधा मिलेगी.

अगर आपका कोई भी मौजूदा सेगमेंट उस डेटा से नहीं जुड़ा है जिसका आपको विश्लेषण करना है, तो नए सेगमेंट बनाकर उन्हें ज़रूरत के मुताबिक बड़े या छोटे लेवल पर कॉन्फ़िगर किया जा सकता है.

सेगमेंट बनाने के लिए:

  1. अपने Analytics खाते में साइन इन करें.
  2. वह व्यू खोलें जिसके डेटा का आपको विश्लेषण करना है.
  3. रिपोर्ट खोलें. आपके पास किसी भी रिपोर्ट को खोलने का विकल्प है.
  4. सेगमेंट की सूची खोलने के लिए, + सेगमेंट जोड़ें...
    ऑडियंस की खास जानकारी वाली रिपोर्ट, जिसमें '+ सेगमेंट जोड़ें' हाइलाइट किया गया है.
    ...पर क्लिक करें.
    सेगमेंट की सूची.
  5. सेगमेंट बिल्डर खोलने के लिए, + नया सेगमेंट...
    सेगमेंट की सूची, जिसमें '+ नया सेगमेंट' हाइलाइट किया गया है.
    ...पर क्लिक करें.
    सेगमेंट बिल्डर.
  6. सेगमेंट के लिए कोई नाम डालें.
  7. अपने सेगमेंट के साथ जो फ़िल्टर इस्तेमाल करने हैं उन्हें कॉन्फ़िगर करने के लिए, अलग-अलग कैटगरी के विकल्प इस्तेमाल करें.
    ध्यान दें: Chrome ने उपयोगकर्ता की निजता बनाए रखने की सुविधा को बेहतर बनाने के लिए अपडेट लागू किए हैं. इसके लिए, उपलब्ध डेटा से जुड़ी जानकारी का स्तर, ब्राउज़र के ज़रिए कम किया गया है. इन अपडेट की वजह से, हो सकता है कि अब इन फ़ील्ड में डेटा सीमित हो या कोई डेटा न हो:
    • मोबाइल डिवाइस ब्रैंडिंग
    • मोबाइल डिवाइस का मार्केटिंग नाम
    • मोबाइल डिवाइस का मॉडल
    • मोबाइल इनपुट सिलेक्टर
    • ऑपरेटिंग सिस्टम का वर्शन
    • स्क्रीन रिज़ॉल्यूशन

    फ़िल्टर जोड़ते ही, खास जानकारी वाला पैनल अपडेट हो जाएगा. इसके बाद, आपको यह अनुमान दिखेगा कि इस सेगमेंट में कितने उपयोगकर्ताओं और सेशन को शामिल किया जा सकता है. यह अनुमान, सैंपल डेटा के हिसाब से तैयार किया जाता है. साथ ही, यह ज़रूरी नहीं है कि रिपोर्ट में सेगमेंट को लागू करने पर, उपयोगकर्ताओं या सेशन की संख्या, अनुमानित संख्या से पूरी तरह मैच हो.
    फ़िल्टर जोड़ने के बाद, खास जानकारी वाला अपडेट.
  8. फ़िल्टर कॉन्फ़िगर करने के बाद, आपके पास सेगमेंट की झलक देखने और यह पता लगाने का विकल्प होगा कि सेगमेंट आपकी ज़रूरत के मुताबिक काम कर रहा है या नहीं.

    अपने सेगमेंट फ़िल्टर से मेल खाने वाले उपयोगकर्ताओं और सेशन का प्रतिशत देखने के लिए जांच करें पर क्लिक करें.

    झलक देखें पर क्लिक करके जानें कि सेगमेंट, मौजूदा रिपोर्ट पर किस तरह असर डालता है. अगर आपको रिपोर्ट में काम की जानकारी नहीं दिखती है, तो सेगमेंट में बदलाव करके फिर से उसकी झलक देखें. 'झलक देखें' पर क्लिक करते ही, 'टेस्ट' फ़ंक्शन अपने-आप शुरू हो जाता है.
  9. जब आप संतुष्ट हो जाएं कि सेगमेंट में आपके काम का डेटा शामिल है, तो सेव करें पर क्लिक करके सेगमेंट बिल्डर बंद करें और सेगमेंट को अपनी रिपोर्ट में लागू करें.

 

 

मौजूदा सेगमेंट को कॉपी करना और उनमें बदलाव करना

मौजूदा सेगमेंट का इस्तेमाल करना, नए सेगमेंट को शुरू करने के लिए बेहतर साबित हो सकता है.

उदाहरण के लिए, कन्वर्ज़न वाले सेशन नाम के सिस्टम सेगमेंट के साथ शुरुआत की जा सकती है. उन सेगमेंट की कॉपी बनाई जा सकती है और देश/इलाके और कैंपेन के लिए अतिरिक्त फ़िल्टर जोड़कर, उन चुनिंदा देशों से मिलने वाले डेटा पर फ़ोकस किया जा सकता है जहां से कन्वर्ज़न वाले सेशन की शुरुआत हुई थी. साथ ही, उन कैंपेन को भी देखा जा सकता है जिनसे कन्वर्ज़न वाले सेशन हुए.

सेगमेंट को कॉपी करने के लिए:

  1. सेगमेंट की सूची खोलें और वह सेगमेंट ढूंढें जिसे आपको कॉपी करना है.
    सेगमेंट की सूची, जिसमें कन्वर्ज़न वाले सेशन का सेगमेंट हाइलाइट किया गया है.
  2. मौजूदा सेगमेंट के लिए कॉन्फ़िगरेशन के साथ सेगमेंट बिल्डर खोलने के लिए, कार्रवाइयां > कॉपी करें...
    सेगमेंट की सूची, कन्वर्ज़न वाले सेशन का सेगमेंट, ऐक्शन मेन्यू > निर्देश कॉपी करें.
    ...पर क्लिक करें:
    कन्वर्ज़न वाले सेशन के सेगमेंट के लिए, डिफ़ॉल्ट फ़िल्टर कॉन्फ़िगरेशन.
  3. सेगमेंट को एक नया नाम दें.
  4. मौजूदा फ़िल्टर में बदलाव करें और/या नए फ़िल्टर जोड़ें. उदाहरण के लिए:
    देश/इलाका और कैंपेन फ़िल्टर शामिल करने के लिए, कन्वर्ज़न वाले सेशन के सेगमेंट में बदलाव किया गया.
    सेगमेंट के मूल कॉन्फ़िगरेशन में सिर्फ़ उन सेशन को शामिल किया गया था जिनकी लक्ष्य पाने की संख्या शून्य से ज़्यादा थी. मामूली बदलाव करने के बाद, अब सेगमेंट में सिर्फ़ उन सेशन को शामिल किया जाएगा जो अमेरिका से और 'समर स्विमवियर' कैंपेन से शुरू हुए.
  5. मूल सेगमेंट में बदलाव करने के बाद, सेव करें पर क्लिक करें.

 

 

इसी विषय से जुड़े लिंक

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
true
अपना लर्निंग पाथ चुनें

Google Analytics 4 का ज़्यादा से ज़्यादा फ़ायदा पाने के लिए, नई वेबसाइट google.com/analytics/learn पर जाएं. नई वेबसाइट में वीडियो, लेख, और आपको गाइड करने के लिए बनी प्रोसेस शामिल हैं. साथ ही, इसमें Google Analytics Discord, Blog, YouTube चैनल, और GitHub का डेटा स्टोर करने की जगह के लिंक दिए गए हैं.

आज ही सीखना शुरू करें!

खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू