Google के अनुबंधों और नीतियों में, व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी जानकारी को समझना

Google के विज्ञापन और मापन उत्पादों के कई अनुबंधों, सेवा की शर्तों, और नीतियों में "व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी जानकारी" (पीआईआई) के बारे में बताया गया है. ऐसे अनुबंधों, सेवा की शर्तों और नीतियों के तहत आपको Google को ऐसी जानकारी भेजने से सख्त मना किया गया है जिसे Google, व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी जानकारी के रूप में इस्तेमाल कर सकता है या पहचान सकता है.

इस लेख में बताया गया है कि अगर आपके मौजूदा अनुबंध या उत्पाद की सेवा की शर्तों या नीतियों में यह नहीं बताया गया है कि व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी जानकारी क्या है, तो ऐसे मामले में Google, व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी जानकारी किसे मानेगा. यह ग्राहकों के बीच भ्रम को कम करता है. साथ ही, जीडीपीआर, सीपीसीए, और दूसरे निजता कानून के तहत, निजी डेटा या निजी जानकारी की परिभाषा से व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी जानकारी को अलग करने के लिए है.

Google, व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी जानकारी किसे मानता है

Google व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी जानकारी की ऐसी सूचना के रूप में व्याख्या करता है जिसका इस्तेमाल किसी व्यक्ति को सीधे पहचानने, संपर्क करने या सटीक रूप से ढूंढने के लिए किया जा सकता है. इसमें शामिल हैं:

  • ईमेल पते
  • डाक पते
  • फ़ोन नंबर
  • सटीक स्थान (जैसे GPS निर्देशांक - लेकिन नीचे दिया गया नोट देखें)
  • पूरा नाम या उपयोगकर्ता नाम

उदाहरण के लिए, अगर आप एक प्रकाशक हैं और आपका अनुबंध, Google को व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी जानकारी भेजने से रोकता है, तो Google के विज्ञापन दिखाने वाली आपकी वेबसाइटों के पेजों के यूआरएल में ईमेल पते शामिल नहीं होने चाहिए. इसकी वजह यह है कि वे यूआरएल किसी विज्ञापन अनुरोध में Google को भेज दिए जाएंगे. एक लंबे समय से Google, व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी जानकारी देने पर लगाई गई रोक को इस तरह से देख रहा है.

ध्यान दें: कुछ उत्पादों के सहायता केंद्रों और नीतियों के तहत सीमित तरीके तय किए गए हैं, जिनके ज़रिए Google को व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी जानकारी भेजी जा सकती है. किसी भी तरह के भ्रम से बचने के लिए, इस लेख में ऐसे प्रावधानों में कोई भी बदलाव नहीं किया गया है. उदाहरण के लिए, कुछ उत्पाद, Google को जगह की जानकारी भेजने की अनुमति देते हैं, बशर्ते लागू नीतियों की शर्तों को पूरा किया जाए.

Google, व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी जानकारी की व्याख्या करता है और तय करता है कि कौनसी बातें इसमें शामिल नहीं होंगी, उदाहरण के लिए:

  • पहचान बदली हुई कुकी आईडी
  • पहचान बदली हुई विज्ञापन आईडी
  • आईपी पते
  • अन्य पहचान बदले हुए असली उपयोगकर्ता पहचानकर्ता

उदाहरण के लिए, अगर किसी विज्ञापन अनुरोध के साथ कोई आईपी पता भेजा जाता है (जो इंटरनेट प्रोटोकॉल की वजह से करीब हर विज्ञापन अनुरोध के मामले में होगा), तो यह, Google को व्यक्तिगत पहचान से जुड़ी जानकारी भेजने पर पाबंदी का उल्लंघन नहीं होगा.

ध्यान दें, Google जिस डेटा को निजी पहचान से जुड़ी जानकारी नहीं मानता उसे जीडीपीआर, सीपीसीए, और दूसरे निजता कानून के तहत निजी डेटा या निजी जानकारी माना जा सकता है.  यह लेख, उन कानूनों के तहत निजी डेटा या निजी जानकारी से जुड़े किसी भी अनुबंध प्रावधानों या नीतियों पर असर नहीं डालता है.

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके