तय करना कि आपका वीडियो "बच्चों के लिए बना" है या नहीं

आप किसी भी देश या इलाके में रहते हों, आपको अमेरिका के फ़ेडरल ट्रेड कमीशन (एफ़टीसी) के साथ हुए समझौते के तहत, हमें यह बताना होगा कि आपके वीडियो बच्चों के लिए बने हैं या नहीं. ऐसा करने से, आपको इंटरनेट पर बच्चों की निजता की सुरक्षा से जुड़े कानून (कोपा) और/या लागू होने वाले दूसरे कानूनों का पालन करने में मदद मिलेगी. अगर आप अपने वीडियो के लिए दर्शकों की सही श्रेणी तय नहीं करते, तो YouTube पर आपके ख़िलाफ़ कार्रवाई की जा सकती है. इसके अलावा, आपको कोपा और दूसरे कानूनों के तहत कानूनी कार्रवाई का सामना भी करना पड़ सकता है.

नीचे इस बारे में कुछ जानकारी दी गई है कि किन वीडियो को "बच्चों के लिए बना" माना जाता है. हालांकि, हम किसी तरह की कानूनी सलाह नहीं दे सकते. अगर आप तय नहीं कर पा रहे हैं कि आपके वीडियो बच्चों के लिए बने हैं या नहीं, तो हमारा सुझाव है कि आपको कानूनी सलाह लेनी चाहिए.

ध्यान दें: एफ़टीसी ने नवंबर 2019 में, इससे जुड़ी और जानकारी दी है. इसकी मदद से, YouTube क्रिएटर्स यह तय कर सकते हैं कि उनके वीडियो “बच्चों के लिए बने” हैं या नहीं. एफ़टीसी के ब्लॉग पर जाकर, आप इस बारे में ज़्यादा जानकारी पा सकते हैं.

 बच्चों के लिए बने वीडियो  बच्चों के लिए नहीं बने वीडियो

बच्चों के लिए बने वीडियो के उदाहरण:

  • ऐसे वीडियो जिनके मुख्य दर्शक बच्चे हों.
  • ऐसे वीडियो जिनके मुख्य दर्शक बच्चे नहीं होते, लेकिन फिर भी इन्हें बच्चों के लिए बना माना जाता है. ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि इन वीडियो में बच्चों को ध्यान में रखकर, कलाकारों, किरदारों, गतिविधियों, गेम, गानों, कहानियों या दूसरी विषय-वस्तुओं को शामिल किया जाता है.

इसके बारे में ज़्यादा जानकारी पाने के लिए नीचे जाएं.

बच्चों के लिए नहीं बने वीडियो के उदाहरण:

  • ऐसे वीडियो जिनमें सेक्शुअल थीम, हिंसा, अश्लील या ऐसी दूसरी तरह की वयस्क थीम शामिल हों जो कम उम्र के दर्शकों के लिए सही न हों.
  • उम्र से जुड़ी पाबंदी वाले ऐसे वीडियो जो 18 साल से कम उम्र के दर्शकों के लिए सही न हों.

इसके बारे में ज़्यादा जानकारी पाने के लिए नीचे जाएं.

 

यह कैसे पता चलेगा कि मुझे अपने वीडियो को 'बच्चों के लिए बना' के तौर पर सेट करना चाहिए या नहीं?
अगर आपके वीडियो में बच्चों को ध्यान में रखकर, कलाकारों, किरदारों, गतिविधियों, गेम, गानों, कहानियों या दूसरी विषय-वस्तुओं को शामिल किया गया है, तो वीडियो को बच्चों के लिए बना माना जाएगा. कोपा का पालन करने के लिए जारी किए गए एफ़टीसी के दिशा-निर्देशों के मुताबिक, किसी वीडियो को बच्चों के लिए (जिसे हम “बच्चों के लिए बना“ कहते हैं) सही तब माना जाता है, जब:
  • इन वजहों से इस वीडियो के मुख्य दर्शक बच्चे हैं. 
  • वीडियो के मुख्य दर्शक बच्चे नहीं हैं, लेकिन इसे बच्चों के लिए बना माना जाता है. इसके पीछे की वजहें नीचे दी गई हैं. (कोपा के मुताबिक, इसे “मिले-जुले दर्शकों” के लिए बना कॉन्टेंट कहा जाता है. यह एक तरह का ऐसा कॉन्टेंट है जो बच्चों के लिए बना है. आम लोगों के लिए बना कॉन्टेंट, मिले-जुले दर्शकों के लिए बने कॉन्टेंट से अलग होता है.)

यह तय करते समय कि आपका चैनल या वीडियो बच्चों के लिए बना है या नहीं, आपको कई बातों पर गौर करना चाहिए. इनमें ये बातें शामिल हैं:

  • वीडियो की विषय-वस्तु (उदाहरण के लिए, प्ले-स्कूल जाने वाले बच्चों को शिक्षा देने के लिए बनाया गया वीडियो).
  • क्या वीडियो को बच्चों के लिए या बच्चों को ध्यान में रखकर (जैसा कि वीडियो के मेटाडेटा में बताया गया है) बनाया गया है.
  • क्या वीडियो में बाल कलाकार या मॉडल शामिल हैं.
  • क्या वीडियो में ऐसे किरदार, मशहूर हस्तियां या खिलौने शामिल हैं जिन्हें बच्चे पसंद करते हैं. इनमें ऐनिमेशन वाले किरदार या कार्टून भी हो सकते हैं.
  • क्या वीडियो की भाषा ऐसी है जिसे बच्चे आसानी से समझ सकें.
  • क्या वीडियो में ऐसी गतिविधियां शामिल हैं जिन्हें बच्चे पसंद करते हैं. जैसे कि नाटक, आसान गाने या गेम या शुरुआती पढ़ाई से जुड़ी गतिविधियां.
  • क्या वीडियो में बच्चों के गाने, कहानियां या कविताएं शामिल हैं.
  • आपके वीडियो के लिए दर्शकों की श्रेणी तय करने में मदद करने वाली कोई दूसरी जानकारी. जैसे कि कोई ऐसी बात जिससे तय होता है कि वीडियो के दर्शक बच्चे हो सकते हैं.
  • क्या यह वीडियो, बच्चों को विज्ञापन के तौर पर दिखाया जाएगा. 

ध्यान दें:

  • हो सकता है कि आपका वीडियो यहां दी गई कुछ बातों को ध्यान में रखकर बनाया गया है, लेकिन इसका यह मतलब बिल्कुल नहीं है कि उसे बच्चों के लिए बना वीडियो माना जा सकता है. ऊपर बताई गई बातों और अपने कॉन्टेंट का आकलन करते समय, आपको इस बात पर विचार करना चाहिए कि आप अपने वीडियो से किन दर्शकों तक पहुंचना चाहते हैं.
  • YouTube Analytics (YTA) से यह नहीं जाना जा सकता कि आपका वीडियो बच्चों के लिए बना है या नहीं. अगर आप अपने वीडियो के लिए दर्शकों की श्रेणी तय करना चाहते हैं, तो ऊपर बताए गए एफ़टीसी के दिशा-निर्देशों की मदद लें.
  • जिन वीडियो को आप "बच्चों के लिए बना" के तौर पर सेट करते हैं उनके लिए, बच्चों के लिए बने दूसरे वीडियो के साथ दिखाए जाने की संभावना बढ़ जाती है. बच्चों के लिए बने वीडियो के बारे में सबसे ज़्यादा पूछे जाने वाले सवाल देखें.  
अहम जानकारी: क्रिएटर के तौर पर, यह आपसे बेहतर कोई नहीं जानता कि आपका वीडियो किन दर्शकों के लिए बना है. यह आपकी कानूनी ज़िम्मेदारी है कि आप कोपा और/या लागू होने वाले दूसरे कानूनों का पालन करें. साथ ही, इनके हिसाब से अपने वीडियो के लिए दर्शकों की सही श्रेणी तय करें. यह तय करते समय कि आपका चैनल किस उम्र के दर्शकों के लिए है, हमारे सिस्टम पर पूरी तरह से भरोसा न करें. ऐसा भी हो सकता है कि हमारा सिस्टम ऐसे वीडियो की पहचान न कर पाए जिन्हें एफ़टीसी या दूसरी संस्थाएं 'बच्चों के लिए बना' मानती हैं. अगर आप अपने वीडियो के लिए दर्शकों की सही श्रेणी तय नहीं करते, तो YouTube पर आपके ख़िलाफ़ कार्रवाई की जा सकती है. साथ ही, इंटरनेट पर बच्चों की निजता की सुरक्षा से जुड़े कानून (कोपा) और लागू होने वाले दूसरे स्थानीय कानूनों के तहत, आपको कानूनी कार्रवाई का सामना भी करना पड़ सकता है. 
यह कैसे पता चलेगा कि मुझे अपने वीडियो को 'बच्चों के लिए नहीं बना' के तौर पर सेट करना चाहिए या नहीं?
अपने कॉन्टेंट का आकलन करते समय, आपको इस बात पर ध्यान से विचार करना चाहिए कि आप अपने वीडियो से किन दर्शकों तक पहुंचना चाहते हैं. उदाहरण के लिए, किसी वीडियो को सिर्फ़ इसलिए 'बच्चों के लिए बना' नहीं माना जा सकता, क्योंकि:
  • यह हर तरह के दर्शकों के लिए सुरक्षित या सही है (इसे "परिवार के लिहाज़ से सही कॉन्टेंट" भी कहा जाता है).
  • इसमें पारंपरिक रूप से बच्चों से जुड़ी गतिविधि शामिल है.
  • बच्चे इसे देख सकते हैं. 

आम लोगों के लिए बना कॉन्टेंट

आम लोगों के लिए बना कॉन्टेंट, ऐसा कॉन्टेंट होता है जो हर तरह के दर्शकों का ध्यान खींच सकता है. हालांकि, यह ज़रूरी नहीं है कि इसे खास तौर पर बच्चों, किशोरों या बड़े लोगों को ध्यान में रखकर बनाया गया हो. आम लोगों के लिए बने कॉन्टेंट के लिए, दर्शकों की श्रेणी "बच्चों के लिए नहीं बनी" के तौर पर सेट करना चाहिए.

अगर किसी वीडियो के लिए यह जानकारी नहीं दी गई है कि उसे दर्शक के तौर पर बच्चों को ध्यान में रखकर बनाया गया है, तो उसे "आम दर्शकों" के लिए बना माना जा सकता है. यहां इस तरह के वीडियो के कुछ उदाहरण दिए गए हैं:  

  • गुड़ियों को नया रूप देने और मिट्टी की मूर्तियां बनाने का गुर सिखाने वाले वीडियो
  • परिवार के लिए बना ऐसा वीडियो ब्लॉग जिसमें दूसरे अभिभावकों को किसी मनोरंजन पार्क की सैर के बारे में बताया गया हो 
  • ऐसा वीडियो जिसमें किसी वीडियो गेम में बदलाव कर उसका दूसरा वर्शन बनाने या किसी वीडियो गेम के लिए अवतार बनाने की पूरी जानकारी दी गई हो
  • ऐनिमेशन वाला ऐसा कॉन्टेंट जो हर किसी का ध्यान अपनी ओर खींचे
  • गेमिंग वाला ऐसा वीडियो जिसमें वयस्कों वाला हंसी-मज़ाक़ शामिल हो

आम दर्शकों और मिले-जुले दर्शकों में क्या अंतर है?

मिले-जुले दर्शकों के लिए बने कॉन्टेंट को एक तरह से 'बच्चों के लिए बना' कॉन्टेंट माना जाता है. यह ऐसा कॉन्टेंट होता है जिसके मुख्य दर्शक भले ही बच्चे न हों, लेकिन बच्चे इसके दर्शकों में शामिल होते हैं. यह कॉन्टेंट, ऊपर बताई गई बातों को ध्यान में रखकर, बच्चों के लिए बनने वाले कॉन्टेंट के हिसाब से तैयार किया जाता है.
 
ध्यान दें: जिन वीडियो में सेक्शुअल थीम, हिंसा, अश्लील या ऐसी दूसरी तरह की वयस्क थीम शामिल हों जो कम उम्र के दर्शकों के लिए सही न हों उन्हें बच्चों के लिए बना वीडियो नहीं माना जाएगा.

किस उम्र तक किसी को बच्चा माना जाता है?

अमेरिका में जिनकी उम्र 13 साल से कम होती है उन्हें "बच्चा" माना जाता है. हालांकि, दूसरे देशों में किसी को बच्चा मानने के लिए तय की गई उम्र इससे अलग हो सकती है. इसलिए, यह तय करते समय कि वीडियो “बच्चों के लिए बना” है या नहीं, लागू होने वाले कानूनों के तहत किसी और तरह की जवाबदेही के बारे में विचार करें. साथ ही, अगर आपके पास कुछ और सवाल हैं, तो कानूनी सलाहकार से संपर्क करें.
क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
खोजें
खोज साफ़ करें
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
खोज मदद केंद्र
true
59
false