स्ट्रीम करने से जुड़ी सलाह

नेटवर्क से जुड़ी सलाह
  • आपकी स्ट्रीम की कुल बिटरेट उपलब्ध अपलोड बैंडविड्थ से ज़्यादा नहीं होनी चाहिए. बिटरेट और बैंडविड्थ में थोड़ा अंतर रखें (20% का सुझाव दिया जाता है).
  • आपके ऑफ़िस में तेज़ स्पीड वाला इंटरनेट कनेक्शन होने के बावजूद, आपके व्यक्तिगत कनेक्शन की स्पीड सीमित हो सकती है. ऐसा तब होता है, जब बहुत से लोग एक ही नेटवर्क से जुड़े होते हैं.
  • नेटवर्क की स्पीड जांचें. अक्सर इनबाउंड बैंडविड्थ (डाउनलोड करने की स्पीड), आउटबाउंड बैंडविड्थ (अपलोड करने की स्पीड) के मुकाबले ज़्यादा होती है. पक्का कर लें कि आपका आउटबाउंड कनेक्शन, स्ट्रीम बिटरेट को भेजने के लिए काफ़ी है. प्राथमिक + बैकअप + 20% का सुझाव दिया जाता है.
  • पक्का कर लें कि आप एक भरोसेमंद नेटवर्क से जुड़े हुए हैं. आपके नेटवर्क कनेक्शन में कोई गड़बड़ी = स्ट्रीम में खराबी.
एन्कोड करने से जुड़ी सलाह
  • लाइव स्ट्रीम करने से कम से कम दो घंटे पहले, एन्कोडर कॉन्फ़िगर करें.
  • इवेंट के शुरू होने से कम से कम 15 मिनट पहले, एन्कोडर शुरू करें.
  • स्ट्रीम शुरू करें पर क्लिक करने से पहले, लाइव कंट्रोल रूम में झलक देखें.
  • बैक अप एन्कोडर को चलाकर देखें. प्राइमरी एन्कोडर बंद करें (या इसका ईथरनेट केबल निकाल दें) और देख लें कि प्लेयर, बैक अप एन्कोडर पर काम कर रहा है या नहीं.
  • देख लें कि कॉपी की गई सभी फ़ाइलें बिल्कुल ठीक हों. यह जांचें कि डिवाइस पर संग्रहित की गई फ़ाइलों की संख्या बढ़ रही है या नहीं.
  • इस बात की पुष्टि करें कि इवेंट को चैनल और वॉच पेजों से ऐक्सेस किया जा सकता है.
  • इस बात की पुष्टि करें कि इवेंट को मोबाइल डिवाइस से ऐक्सेस किया जा सकता है.
  • ऑडियो और वीडियो की क्वालिटी बनाए रखने के लिए, स्ट्रीम पर लगातार नज़र रखें.
  • जब YouTube पर आपका इवेंट खत्म हो जाए, तब एन्कोडर बंद कर दें.
वेबकैम इस्तेमाल करना
  • आप लैपटॉप और वेबकैम की मदद से स्ट्रीम कर सकते हैं. हालांकि, बेहतर डिवाइस इस्तेमाल करने पर, लाइव स्ट्रीम की क्वालिटी ज़्यादा अच्छी होती है.
  • आप सॉफ़्टवेयर एन्कोड करने वाले प्रोग्राम, जैसे किWirecast, Flash Media Live Encoder (FMLE) या www.youtube.com/webcam का इस्तेमाल कर सकते हैं
  • बेहतर प्रोडक्शन वैल्यू वाले वीडियो के लिए, हम पेशेवर तौर पर काम आने वाले हार्डवेयर एन्कोडर का इस्तेमाल करने का सुझाव देते हैं.
  • इवेंट शुरू होने से पहले, अपने पूरे सेट अप को अच्छी तरह से जांचना न भूलें.
लाइव स्ट्रीम के दौरान सुरक्षा बनाए रखना
  • कॉन्टेंट: जानें कि किस तरह का कॉन्टेंट स्ट्रीम करना चाहिए. अपने दोस्तों, साथ पढ़ने वालों या किशोरों के वीडियो बनाते समय हमेशा याद रखें कि वीडियो कभी भी अश्लील, हिंसक, या खतरनाक नहीं होने चाहिए. ध्यान दें कि यह नियम लाइव चैट पर भी लागू होता है. हमारे कम्यूनिटी दिशा-निर्देशों के बारे में ज़्यादा जानें.
  • निजी जानकारी: लाइव चैट में और लाइव स्ट्रीम के दौरान, किसी भी तरह की निजी जानकारी शेयर करने से बचें. अपने चैनल का एडमिन ऐक्सेस सिर्फ़ ऐसे लोगों को दें जिन पर आपको भरोसा हो. YouTube आपसे स्ट्रीम पर की गई टिप्पणियों को कंट्रोल करने का अधिकार नहीं मांगेगा.
  • कंट्रोल: गलत कॉन्टेंट की शिकायत करें या ऐसे उपयोगकर्ताओं को चैट करने से रोकें जिनकी वजह से आप या दूसरे लोग असहज महसूस करते हैं. लाइव चैट को प्रबंधित करने के बारे में ज़्यादा जानें.
  • निजता: YouTube आपको यह तय करने की सुविधा देता है कि पोस्ट की गई आपकी लाइव स्ट्रीम को कौन-कौन देख सकता है. अपनी लाइव स्ट्रीम को "निजी" या "सबके लिए मौजूद नहीं" के तौर पर सेट करके, अपनी निजता बनाए रखें. हमारे कुछ मौजूदा टूल के बारे में बेहतर तरीके से जानने के लिए, निजता और सुरक्षा सेटिंग पेज देखें. इन टूल की मदद से आप साइट पर अपने अनुभव को प्रबंधित कर सकते हैं.
क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
खोजें
खोज साफ़ करें
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
खोज मदद केंद्र
true
59
false