वेबसाइट की रफ़्तार के बारे में ज़रूरी जानकारी वाली रिपोर्ट

अपनी साइट पर खराब उपयोगकर्ता अनुभव की समस्या ठीक करना

वेब से जुड़ी ज़रूरी जानकारी वाली रिपोर्ट बताती है कि असल में इस्तेमाल के डेटा के मुताबिक आपके पेजों की परफ़ॉर्मेंस कैसी है. कभी-कभी इसे फ़ील्ड डेटा भी कहा जाता है.

रिपोर्ट खोलें

पेज की परफ़ॉर्मेंस मायने क्यों रखती है
  • पेज लोड होने में ज़्यादा समय लगने से बाउंस दर पर गंभीर असर पड़ता है. उदाहरण के लिए:
    • अगर पेज लोड होने का समय एक सेकंड से तीन सेकंड तक बढ़ता है, तो बाउंस दर 32% बढ़ जाती है
    • अगर पेज लोड होने का समय एक सेकंड से छह सेकंड तक बढ़ता है, तो बाउंस दर 106% बढ़ जाती है
  • यहां केस स्टडी पढ़ें.

रिपोर्ट को समझना

वेब से जुड़ी ज़रूरी जानकारी वाली रिपोर्ट से यूआरएल की परफ़ॉर्मेंस का पता चलता है, जिसे स्थिति, आंकड़े किस तरह के हैं, और यूआरएल के ग्रुप (मिलते-जुलते वेबपेज का ग्रुप) के मुताबिक ग्रुप में बांटा जाता है.

इस रिपोर्ट में तीन तरह के आंकड़े शामिल होते हैं: एलसीपी, एफ़आईडी, और सीएलएस. अगर किसी यूआरएल में इनमें से किसी भी तरह के आंकड़ों के लिए, रिपोर्टिंग का डेटा तय सीमा से कम होता है, तो उसे रिपोर्ट से हटा दिया जाता है. जब यूआरएल में किसी भी तरह आंकड़े के लिए तय सीमा में डेटा शामिल होता है, तो पेज की स्थिति में सबसे खराब परफ़ॉर्मेंस से जुड़े आंकड़ों को दिखाया जाता है.

"कोई डेटा उपलब्ध नहीं"

अगर आपको "कोई डेटा उपलब्ध नहीं" वाली स्क्रीन दिखती है, तो इसकी दो वजहें हो सकती हैं. पहली यह कि आपकी प्रॉपर्टी, Search Console में नई है. दूसरी, आपकी प्रॉपर्टी में किसी भी तरह के डिवाइस (मोबाइल या डेस्कटॉप) पर रफ़्तार की सटीक जानकारी देने के लिए CrUX रिपोर्ट में तय सीमा में पेज को देखे जाने का डेटा उपलब्ध नहीं है.

अगर प्रॉपर्टी नई है, तो: CrUX डेटाबेस, यूआरएल की जानकारी इकट्ठा करता है, चाहे यूआरएल Search Console प्रॉपर्टी का हिस्सा हो या न हो. हालांकि, प्रॉपर्टी बन जाने के बाद CrUX डेटाबेस के किसी मौजूदा डेटा का विश्लेषण करने और उसे पोस्ट करने में हमें कुछ दिन लग सकते हैं.

आप PageSpeed Insights टेस्टिंग टूल या Chrome Lighthouse टूल का इस्तेमाल करके, अलग-अलग यूआरएल के लिए लाइव परफ़ॉर्मेंस की जांच कर सकते हैं.

 

रिपोर्ट में एक जगह से दूसरी जगह जाना

  1. खास जानकारी देने वाले पेज के चार्ट पर धीमा लोड होने वाला, सुधार की ज़रूरत है या अच्छी रफ़्तार के टैब को टॉगल करके, देखें कि आपकी साइट के यूआरएल, उपयोगकर्ता के पुराने डेटा के मुताबिक कैसा काम करते हैं.
  2. मोबाइल या डेस्कटॉप पर खास जानकारी वाला पेज देखने के लिए, रिपोर्ट खोलें पर क्लिक करें. इस रिपोर्ट में आपको मोबाइल या डेस्कटॉप पर पेज की परफ़ॉर्मेंस के बारे में आंकड़े दिखेंगे.
  3. चुनी गई समस्याओं से जिन यूआरएल के ग्रुप पर असर हुआ है उनके बारे में जानकारी देखने के लिए टेबल में किसी पंक्ति पर क्लिक करें. इसमें उदाहरण के तौर पर दिए गए यूआरएल का सेट भी शामिल है.
  4. किसी यूआरएल या मिलते-जुलते यूआरएल के बारे में ज़्यादा जानकारी देखने के लिए, समस्या की जानकारी देने वाले पेज में उदाहरण टेबल में किसी यूआरएल पर क्लिक करें.

 

खास जानकारी देने वाला पेज

वेबसाइट की रफ़्तार के बारे में ज़रूरी जानकारी वाली रिपोर्ट से जुड़ा खास जानकारी देने वाला पेज, डेटा को बांटने का काम करता है. यह काम, यूआरएल खोलने वाले डिवाइस के आधार पर किया जाता है. इन डिवाइस में मोबाइल या डेस्कटॉप का डेटा शामिल किया जाता है, टैबलेट का नहीं. सारे डेटा को स्थिति (धीमा लोड होने वाला पेज, सुधार की ज़रूरत है या तेज़) के मुताबिक ग्रुप में बांटा जाता है. 

किसी खास तरह के डिवाइस पर साइट की परफ़ॉर्मेंस के बारे में ज़्यादा डेटा देखने के लिए, उस तरह के डिवाइस की रिपोर्ट खोलें.

मोबाइल या डेस्कटॉप के लिए खास जानकारी देने वाले पेज

किसी खास तरह के डिवाइस (मोबाइल या डेस्कटॉप) की टॉप लेवल रिपोर्ट, आपकी साइट के उन सभी यूआरएल की स्थिति और उन पर मौजूद समस्याओं की जानकारी दिखाती है जिनके बारे में हमें पता है. किसी खास स्थिति के साथ समस्या के बारे में ज़्यादा जानने के लिए, जानकारी देने वाली टेबल की पंक्ति पर क्लिक करें.

चार्ट

चार्ट के ऊपर मौजूद टैब, हर स्थिति में पेजों की मौजूदा कुल संख्या बताता है. साथ ही, उस स्थिति में कुल समस्याओं के बारे में भी बताता है. चार्ट में कोई खास स्थिति देखने के लिए टैब पर टॉगल करें. यह चार्ट किसी खास दिन पर खास स्थिति के साथ लोड होने वाले यूआरएल की संख्या दिखाता है.

चार्ट में यूआरएल की कुल संख्या, टेबल में यूआरएल की कुल संख्या से कम क्यों है?
चार्ट में कम रफ़्तार से लोड होने वाले यूआरएल के लिए हर यूआरएल को एक बार ही शामिल किया जाता है. हालांकि, टेबल में यूआरएल से जुड़ी हर समस्या की जानकारी शामिल होती है. अगर यूआरएल में धीमा लोड होने वाला पेज और सुधार की ज़रूरत है दोनों की एक-एक समस्या है, तो चार्ट में उसे धीमा लोड होने वाला पेज के तौर पर, एक बार गिना जाता है. हालांकि, टेबल में इसे धीमा लोड होने वाला पेज और सुधार की ज़रूरत है, दोनों पंक्ति में गिना जाता है.

 

टेबल

इस टेबल में यूआरएल को स्थिति और समस्या के मुताबिक ग्रुप में बांटा जाता है. हर पंक्ति पुष्टि की स्थिति, किसी खास गड़बड़ी का रुझान दिखाने वाले ग्राफ़ (स्पार्कलाइन), और उस स्थिति और समस्या के प्रकार वाले यूआरएल की मौजूदा संख्या दिखाती है.

अगर कोई यूआरएल एक से ज़्यादा समस्याओं से प्रभावित है, तो वह टेबल की एक से ज़्यादा पंक्ति में दिखाई दे सकता है.

मोबाइल या डेस्कटॉप के लिए समस्या के बारे में खास जानकारी देने वाला पेज

डिवाइस, स्थिति, और समस्या की एक साथ जानकारी देखने के लिए, मोबाइल या डेस्कटॉप पर टॉप लेवल के खास जानकारी वाले पेज में टेबल की पंक्ति पर क्लिक करें. जानकारी वाले पेज में यूआरएल और चुनी गई समस्या की अन्य जानकारी शामिल होती है.

चार्ट

समस्या के बारे में जानकारी देने वाला चार्ट, किसी खास दिन पर स्थिति और समस्या वाले यूआरएल की संख्या दिखाता है. साथ ही, इसमें ऐसे यूआरएल की कुल संख्या भी दिखाई जाती है जिस पर हाल ही में चुनी गई किसी स्थिति और समस्या, दोनों का असर पड़ा हो.

टेबल

समस्या की ज़्यादा जानकारी देने वाले टेबल में उदाहरण के रूप में दिए गए ऐसे यूआरएल का सेट दिखाया जाता है जिन पर चुनी गई समस्या का असर पड़ा है. यूआरएल का हर उदाहरण उससे मिलते-जुलते यूआरएल का ग्रुप होता है. यूआरएल के किसी उदाहरण पर क्लिक करके उस ग्रुप के दूसरे पेज देखें. साथ ही, इसमें पेजों की दूसरी जानकारी और यूआरएल पर PageSpeed Insights जांच करने के लिए लिंक भी शामिल होता है. टेबल में ज़्यादा से ज़्यादा 200 पंक्ति हो सकती हैं.

टेबल में ये जानकारी शामिल होती हैं:

 

PageSpeed Insights का इस्तेमाल करके यूआरएल की जांच करना: उदाहरण की जानकारी देखने के लिए, समस्या की जानकारी देने वाले पेज में, उदाहरण वाली टेबल के किसी यूआरएल पर क्लिक करें. इसके बाद, PageSpeed Insights लिंक पर क्लिक करें.

 

किसी खास यूआरएल की स्थिति का पता लगाना

रिपोर्ट को किसी खास यूआरएल की स्थिति देखने के लिए नहीं बनाया गया है. हालांकि, इसकी मदद से आप अपनी साइट की कुल परफ़ॉर्मेंस देख सकते हैं. साथ ही, ऐसी समस्याओं को ठीक कर सकते हैं जिनका असर आपकी साइट के कई पेजों पर हो रहा है. अगर आप किसी खास यूआरएल के बारे में परफ़ॉर्मेंस का डेटा देखना चाहते हैं, तो PageSpeed Insights का इस्तेमाल करें. इससे आपको किसी यूआरएल के लिए कभी पहले इस्तेमाल किए गए उपयोगकर्ता के डेटा के साथ-साथ लाइव जांच का डेटा देखने में भी मदद मिलती है. आप किसी स्थिति और समस्या पर ड्रिल-डाउन कर सकते हैं और ऐसे यूआरएल की जानकारी देख सकते हैं जिन पर खास समस्या का असर पड़ा है. वेबसाइट की रफ़्तार के बारे में ज़रूरी जानकारी वाली रिपोर्ट का इस्तेमाल करके, किसी यूआरएल को ढूंढना काफ़ी मुश्किल होता है.

रिपोर्ट के डेटा स्रोत

वेबसाइट की रफ़्तार के बारे में ज़रूरी जानकारी वाली रिपोर्ट का डेटा CrUX रिपोर्ट से मिलता है. CrUX रिपोर्ट, यूआरएल के परफ़ॉर्मेंस समय के बारे में बिना किसी पहचान वाला आंकड़े इकट्ठा करती है जो आपके यूआरएल पर आने वाले असली उपयोगकर्ताओं से लिए जाते हैं. इसे फ़ील्ड डेटा भी कहा जाता है. CrUX डेटाबेस, यूआरएल की जानकारी इकट्ठा करता है, चाहे यूआरएल Search Console प्रॉपर्टी का हिस्सा हो या न हो.

स्थिति: धीमा लोड होने वाला पेज, सुधार की ज़रूरत है, अच्छा

किसी खास तरह के डिवाइस के लिए, यूआरएल पर धीमा लोड होने वाला पेज, सुधार की ज़रूरत है, और अच्छा लेबल लगाए जाते हैं.

यूआरएल की स्थिति

किसी भी तरह के डिवाइस के लिए, यूआरएल की स्थिति उसे असाइन की गई सबसे धीमी स्थिति होती है. इसलिए:

  • अगर मोबाइल पर किसी यूआरएल का एफ़आईडी धीमा लोड होने वाला पेज है, लेकिन एलसीडी में सुधार की ज़रूरत है, तो उस यूआरएल को धीमा लोड होने वाला पेज के तौर पर लेबल किया जाता है.
  • अगर मोबाइल पर किसी यूआरएल के एलसीपी में सुधार की ज़रूरत है, लेकिन एफ़आईडी अच्छा है, तो उस यूआरएल को सुधार की ज़रूत है के तौर पर लेबल किया जाता है.
  • अगर मोबाइल पर यूआरएल का एफ़आईडी और सीएलएस अच्छा है, लेकिन एलसीपी के लिए कोई डेटा नहीं है, तो उसे अच्छा के तौर पर लेबल किया जाता है.
  • अगर मोबाइल पर यूआरएल का एफ़आईडी, एलसीपी, और सीएलएस अच्छा है और डेस्कटॉप पर एफ़आईडी, एलसीपी, और सीएलएस में सुधार की ज़रूरत है, तो मोबाइल पर यूआरएल को अच्छा और डेस्कटॉप पर उसे सुधार की ज़रूरत है के तौर पर लेबल किया जाता है.

अगर किसी खास आंकड़े के लिए यूआरएल का डेटा तय सीमा से कम होता है, तो उस यूआरएल के लिए वह आंकड़ा रिपोर्ट में शामिल नहीं किया जाता. डेटा वाले यूआरएल को सिर्फ़ एक आंकड़े में उस आंकड़े की स्थिति असाइन की जाती है. किसी भी मेट्रिक के लिए, ऐसे यूआरएल काे इस रिपोर्ट में शामिल नहीं किया जाता जिनका डेटा तय सीमा में उपलब्ध नहीं होता.

स्थिति की परिभाषाएं

स्थिति के आंकड़ों का इन आधार पर आकलन किया जाता है:

  अच्छा सुधार की ज़रूरत है धीमे लोड होने वाला पेज
एलसीपी 2.5 सेकंड से कम 4 सेकंड से कम या इसके बराबर 4 सेकंड से ज़्यादा
एफ़आईडी 100 मि.से. से कम 300 मि.से. से कम या इसके बराबर 300 मि.से. से ज़्यादा
सीएलएस 0.1 से कम 0.25 से कम या इसके बराबर 0.25 से ज़्यादा

 

  • एलसीपी (सबसे बड़ा कॉन्टेंटफ़ुल पेंट): वह समय है जो उपयोगकर्ता के यूआरएल का अनुरोध करने पर ब्राउज़र को व्यूपोर्ट में, सबसे बड़े दिखने वाले एलिमेंट को रेंडर करने में लगता है. सबसे बड़ा दिखने वाला एलीमेंट आम तौर पर, एक इमेज या वीडियो या फिर एक बड़ा ब्लॉक-लेवल टेक्स्ट एलिमेंट होता है. यह ज़रूरी है, क्योंकि इससे पढ़ने वाले को पता चलता है कि यूआरएल वाकई लोड हो रहा है.
    • रिपोर्ट में दिखाया गया एग्रीगेट एलसीपी वह समय है जो इस ग्रुप के यूआरएल पर 75% विज़िट को एलसीपी तक पहुंचने में लगता है.
  • एफ़आईडी (फ़र्स्ट इनपुट डिले): यह उपयोगकर्ता के पहली बार आपके पेज से इंटरैक्ट करने (जब वे किसी लिंक को क्लिक करते हैं, बटन पर टैप करते हैं, और कुछ दूसरी कार्रवाइयां करते हैं) से लेकर ब्राउज़र से उस इंटरैक्शन का जवाब देने तक लगने वाला कुल समय होता है. यह माप उपयोगकर्ता के पहली बार क्लिक किए गए किसी भी इंटरैक्टिव एलिमेंट से ली जाती है. यह उन पेजों के लिए ज़रूरी है जिन पर उपयोगकर्ता को कुछ कार्रवाई करनी होती है, क्योंकि उसी समय यह पेज इंटरैक्टिव हो जाता है.
    • रिपोर्ट में दिखाए जाने वाले एग्रीगेट एफ़आईडी का मतलब है कि ग्रुप के यूआरएल के 75% विज़िट के लिए मान यह है या इससे बेहतर है.
  • सीएलएस (कुल लेआउट शिफ़्ट): पेज लोड होने के दौरान, यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) जितना शिफ़्ट (अचानक होने वाले बदलाव) होता है. स्कोर में शून्य से एक तक की रेटिंग होती है, जहां शून्य का मतलब है कोई शिफ़्टिंग नहीं और एक का मतलब है सबसे ज़्यादा शिफ़्टिंग. यह ज़रूरी है, क्योंकि उपयोगकर्ता के पेज पर इंटरैक्ट करते समय एलिमेंट का शिफ़्ट होना खराब उपयोगकर्ता अनुभव होता है.
    • रिपोर्ट में दिखाया गया एग्रीगेट सीएलएस, ग्रुप में किसी यूआरएल पर 75% विज़िट के लिए सबसे कम सामान्य सीएलएस है.

जिन यूआरएल पर असर हुआ है उन पर PageSpeed Insights टेस्ट चलाने से आपको इन समस्याओं को ठीक करने के सुझाव मिल सकते हैं.

यूआरएल के ग्रुप

कोई समस्या यूआरएल के उस ग्रुप को असाइन की जाती है जिसके उपयोगकर्ता अनुभव मिलते-जुलते होते हैं. ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह माना जाता है कि मिलते-जुलते पेज में आने वाली परफ़ॉर्मेंस की समस्याओं की वजह वही हो सकती है जो यहां बताई गई है. जैसे कि पेज में आम तौर पर धीमे लोड होने वाली सुविधा.

गड़बड़ियां ठीक करें

गैर-तकनीकी उपयोगकर्ता

  1. अपनी समस्याओं को प्राथमिकता दें: हमारा सुझाव है कि सबसे पहले "धीमा लोड होने वाला पेज" के तौर पर लेबल की गई समस्याओं को ठीक करना चाहिए. इसके बाद, आपके यूआरएल पर सबसे ज़्यादा असर डालने वाली समस्याओं या आपके सबसे अहम यूआरएल पर असर डालने वाली समस्याओं को हल करना चाहिए. "सुधार की ज़रूरत है" के तौर पर लेबल किए गए यूआरएल में सुधार किया जा सकता है. हालांकि, पहले 'धीमा लोड होने वाले पेज' के यूआरएल को ठीक करना ज़्यादा ज़रूरी है.
  2. प्राथमिकता तय कर लेने के बाद, इंजीनियर या उस व्यक्ति के साथ रिपोर्ट शेयर करें जो आपके यूआरएल अपडेट करने वाला है.
  3. पेज ठीक करने के सामान्य हल:
    • अपने पेज का साइज़ कम करें: पेज और उसके सभी संसाधनों के लिए सबसे बढ़िया साइज़ है 500 केबी से कम.
    • मोबाइल पर अच्छी परफ़ॉर्मेंस के लिए, पेज संसाधनों की संख्या 50 तक सीमित करें.
    • एएमपी का इस्तेमाल करें जो मोबाइल और डेस्कटॉप दोनों पर तेज़ी से पेज लोड करने की गारंटी देता है.
  4. PageSpeed Insights टेस्टिंग टूल से अपनी ठीक की गई समस्याओं की जांच करें. अगर आप ब्राउज़र में मौजूद किसी टूल की मदद से ऐसा करना चाहते हैं, तो आप Chrome Lighthouse टूल का इस्तेमाल कर सकते हैं.
  5. जब आपको लगे कि कोई खास समस्या ठीक हो गई है, तो Search Console की वेबसाइट की रफ़्तार के बारे में ज़रूरी जानकारी वाली रिपोर्ट में समस्या की ज़्यादा जानकारी पेज पर ट्रैक करना शुरू करें पर क्लिक करें.
  6. अपनी पुष्टि का प्रोसेस ट्रैक करें.

वेबसाइट डेवलपर

  1. अपनी समस्याओं को प्राथमिकता दें: हमारा सुझाव है कि सबसे पहले "धीमा लोड होने वाला पेज" के तौर पर लेबल की गई समस्याओं को ठीक करना चाहिए. इसके बाद, आपके यूआरएल पर सबसे ज़्यादा असर डालने वाली समस्याओं या आपके सबसे अहम यूआरएल पर असर डालने वाली समस्याओं को हल करना चाहिए. "सुधार की ज़रूरत है" के तौर पर लेबल किए गए यूआरएल में सुधार किया जा सकता है. हालांकि, पहले 'धीमा लोड होने वाले पेज' के यूआरएल को ठीक करना ज़्यादा ज़रूरी है.
  2. हमारा सुझाव है कि पेज की रफ़्तार बेहतर करने के बारे में सिद्धांत और दिशा-निर्देशों के लिए, web.dev के तेज़ी से लोड करने के दिशा-निर्देश और developers.google.com पर वेब की बुनियादी बातोंं वाले परफ़ॉर्मेंस पेज पढ़ें.
  3. PageSpeed Insights टेस्टिंग टूल से अपनी ठीक की गई समस्याओं की जांच करें. अगर आप ब्राउज़र में मौजूद किसी टूल की मदद से ऐसा करना चाहते हैं, तो आप Chrome Lighthouse टूल का इस्तेमाल कर सकते हैं.
  4. जब आपको लगे कि कोई खास समस्या ठीक हो गई है, तो Search Console की वेबसाइट की रफ़्तार के बारे में ज़रूरी जानकारी वाली रिपोर्ट में समस्या की ज़्यादा जानकारी पेज पर ट्रैक करना शुरू करें पर क्लिक करें.
  5. अपनी पुष्टि का प्रोसेस ट्रैक करें.

दूसरे उपयोगी रिसॉर्स

 

मेरी साइड की स्थिति बदल गई, लेकिन मैंने कोई बदलाव नहीं किया

अगर आपने साइट में कोई बदलाव नहीं किए, लेकिन आपको कई पेजों के लोड होने की स्थिति में बड़े बदलाव दिख रहे हैं, तो शायद आपके कई पेजों की बॉर्डरलाइन स्थिति थी. पूरी साइट पर हुए इवेंट की वजह से उसकी रफ़्तार बढ़ गई: उदाहरण के लिए, आपकी साइट का ट्रैफ़िक काफ़ी कम हो गया या आपकी इमेज फ़ाइलों को लोड करने वाली सेवा के इमेज लोड होने में इंतज़ार के समय में बदलाव हुआ. इनमें से किसी वजह से आपकी साइट लोड होने की रफ़्तार कम हो सकती है. पूरी साइट पर होने वाला छोटा बदलाव भी बॉर्डरलाइन तेज़ पेजों को 'सुधार की ज़रूरत है' लेबल वाले पेज बना सकता है या 'सुधार की ज़रूरत है' लेबल वाले पेजों को 'धीमा लोड होने वाला पेज' बना सकता है.

इसके अलावा, क्लाइंट में कोई बड़ा बदलाव होने की वजह से भी ऐसा हो सकता है. हालांकि, ऐसा कम होता है. उदाहरण के लिए, ज़्यादातर इस्तेमाल होने वाले ब्राउज़र का वर्शन अपडेट या धीमे नेटवर्क पर ज़्यादा उपयोगकर्ताओं का आना. याद रखें कि इस्तेमाल के बारे में असली डेटा की परफ़ॉर्मेंस को मापा जाता है. आप यह देखने के लिए अपने लॉग जांच सकते हैं कि क्या किसी ब्राउज़र, डिवाइस या जगह में बदलाव और साइट की स्थिति में बदलाव एक ही समय पर हुए हैं. 

इस दौरान अपनी साइट के ट्रैफ़िक के डेटा में देखें कि कोई बड़ा बदलाव तो नहीं हुआ. साथ ही, खास समस्याओं की वजह ढूंढें और जिन पेजों पर असर हुआ है उनके बारे में जानकारी के लिए, एग्रीगेट एलसीपी/एफ़आईडी/सीएलएस देखें. अगर ये संख्याएं धीमा लोड होने वाला पेज/सुधार की ज़रूरत है/अच्छा के तौर पर स्थिति की सीमा पर हैं, तो शायद किसी छोटे बदलाव की वजह से वे नई स्थिति में पहुंच गए हों.

 

रिपोर्ट शेयर करने का तरीका

आप पेज पर मौजूद शेयर करें बटन पर क्लिक करके, कवरेज या बेहतर बनाने की रिपोर्ट में समस्या से जुड़ी जानकारी शेयर कर सकते हैं. जिस व्यक्ति के पास यह लिंक है, वह इससे सिर्फ़ मौजूदा समस्या से जुड़ी ज़्यादा जानकारी वाले पेज और पुष्टि के इतिहास वाले किसी भी पेज को ऐक्सेस कर सकता है. यह लिंक आपके संसाधन के दूसरे पेजों का ऐक्सेस नहीं देता है. इस लिंक के ज़रिए, किसी दूसरे उपयोगकर्ता को आपकी प्रॉपर्टी या खाते पर किसी भी तरह की कार्रवाई करने की अनुमति नहीं दी जा सकती. इस पेज को शेयर किए जाने की सुविधा बंद करके आप इस लिंक के ज़रिए मिलने वाली मंज़ूरी पर रोक लगा सकते हैं.

रिपोर्ट का डेटा एक्सपोर्ट करने का तरीका

कई रिपोर्ट में डेटा को एक्सपोर्ट करने के लिए, एक्सपोर्ट करें बटन होता है. चार्ट और टेबल, दोनों का डेटा एक्सपोर्ट किया जाता है.

साइट में किए गए सुधारों की पुष्टि करना

अपने सभी यूआरएल में स्थिति की किसी समस्या को ठीक करने के बाद, आप इस बात की पुष्टि कर सकते हैं कि वह समस्या सभी यूआरएल में ठीक हो गई है या नहीं. अपनी साइट में इस समस्या के इंस्टेंस की जांच करने के लिए, 28 दिन का निगरानी सेशन शुरू करें. इसके लिए ट्रैकिंग शुरू करें पर क्लिक करें. अगर यह समस्या 28 दिन के दौरान आपकी साइट पर किसी भी यूआरएल में मौजूद नहीं है, तो समस्या को ठीक माना जाता है. किसी भी यूआरएल में समस्या की मौजूदगी यह बताने के लिए काफ़ी है कि समस्या खत्म नहीं हुई है. फिर भी, समस्या की स्थिति कुछ भी हो, 28 दिनों तक अलग-अलग यूआरएल की स्थिति का आकलन किया जाता है.

ट्रैकिंग शुरू करने से इंडेक्स की प्रक्रिया फिर से चालू नहीं होती है. इसके अलावा, Google कोई और कार्रवाई नहीं करता. इससे Search Console आपकी साइट के लिए CrUX डेटा का चार हफ़्ते का मॉनिटर करने का समय फिर से शुरू करता है.
  • पहले से जारी, पुष्टि के अनुरोध या खारिज किए गए अनुरोध की पुष्टि की जानकारी देखने के लिए:
    • समस्या ज़्यादा जानकारी पेज के पुष्टि की स्थिति वाले सेक्शन में ज़्यादा जानकारी देखें पर क्लिक करें.
  • किसी भी समय पुष्टि ट्रैक करने की अवधि को फिर से शुरू करने के लिए:
    • पुष्टि की ज़्यादा जानकारी वाला पेज खोलें और पुष्टि करें पर क्लिक करें.
  • अगर पुष्टि नहीं हो पाती है:
    1. अपनी समस्याएं ठीक करने की फिर से कोशिश करें.
    2. पुष्टि की ज़्यादा जानकारी वाला पेज खोलें और पुष्टि करें पर क्लिक करके, पुष्टि ट्रैक करने की अवधि फिर से शुरू करें. 

समस्या की पुष्टि की स्थिति

यह पुष्टि के लिए मिले सभी अनुरोध की स्थिति है जो खास जानकारी वाले पेज पर हर समस्या के लिए दिखाई जाती है. साथ ही, समस्या के बारे में ज़्यादा जानकारी देने वाले पेज पर भी यह दिखाई जाती है.

पुष्टि की ये स्थितियां हो सकती हैं:

  • शुरू नहीं की गई: इस समस्या के इंस्टेंस वाले एक या एक से ज़्यादा यूआरएल हैं जिनके लिए पुष्टि का कभी अनुरोध नहीं किया गया है.
  • शुरू की गई: आपने पुष्टि की प्रोसेस का अनुरोध किया है और अभी तक समस्या का कोई इंस्टेंस नहीं मिला है.
  • सब ठीक लग रहा है: आप पुष्टि करने की कोशिश कर रहे हैं और अब तक समस्या के जितने भी इंस्टेंस मिले हैं उन्हें ठीक कर लिया गया है.
  • पुष्टि की गई: सभी यूआरएल 'पुष्टि की गई' स्थिति में हैं. इस स्थिति में आने के लिए आपने ज़रूर ठीक किए जाने की पुष्टि करें पर क्लिक किया होगा (अगर इंस्टेंस आपके अनुरोध के बिना ही दिखाई नहीं दे रहे हैं, तो पुष्टि की स्थिति बदलकर 'लागू नहीं' हो जाएगी)
  • लागू नहीं: Google को पता चला कि सभी यूआरएल पर समस्या को ठीक कर लिया गया है, हालांकि आपने कभी भी पुष्टि करने का अनुरोध नहीं किया था.
  • पुष्टि नहीं की गई: पुष्टि करने की कोशिश के बाद एक या इससे ज़्यादा यूआरएल पुष्टि नहीं हुई स्थिति में हैं.

यूआरएल की पुष्टि की स्थिति

यह पुष्टि की स्थिति दिखाने वाले पेज पर हर यूआरएल की पुष्टि किए जाने की स्थिति है. यूआरएल की पुष्टि की प्रक्रिया चालू होने पर आपको ये स्थितियां दिखाई देंगी, जैसे कि समस्या ठीक नहीं हुई है, समस्या ठीक हो गई है या समस्या बनी हुई है; पुष्टि की प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद सिर्फ़ समस्या बनी हुई है वाली स्थिति ही दिखाई देती है (जिन यूआरएल की समस्या ठीक हो जाती है उन्हें पुष्टि की प्रक्रिया पूरी होने के बाद सूची से हटा दिया जाता है).

  • समस्या ठीक नहीं हुई है: यूआरएल पर अब भी समस्या बनी हुई है या नहीं, यह तय करने के लिए Google को और डेटा चाहिए.
  • समस्या ठीक की गई: ऐसा लगता है कि यूआरएल पर अब इस समस्या का असर नहीं पड़ रहा है.
  • अब भी असर पड़ रहा है: बताई गई स्थिति की समस्या का असर अब भी यूआरएल पर पड़ रहा है. 

समस्या ठीक की गई और अब भी असर पड़ रहा है इन यूआरएल स्थितियों तक सिर्फ़ पुष्टि ट्रैक करने की अवधि के दौरान पहुंचा जा सकता है. अगर समस्या दिखाई दी और फिर पुष्टि अनुरोध के बाहर के किसी यूआरएल के लिए गायब हो गई, तो यूआरएल, स्थिति के बिना सूची से गायब हो जाएगा.

अगर कोई भी यूआरएल वेब से हटा दिया गया है और पिछले 28 दिनों में कोई डेटा नहीं है, तो वह अब पुष्टि के इतिहास में या रिपोर्ट में दिखाई नहीं देगा.

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?