खोज इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन (SEO) शुरू करने के लिए गाइड

यह गाइड किसके लिए है?

अगर आप ऑनलाइन सामग्री के मालिक हैं, जिसे आप Google खोज के ज़रिए प्रबंधित करते हैं, उससे आमदनी करते हैं या उसका प्रचार करते हैं, तो यह गाइड आपके लिए है. हो सकता है कि आप लगातार आगे बढ़ रही और कामयाबी पा रही किसी कंपनी के मालिक हों, दर्जनों साइटों के वेबमास्टर हों, किसी वेब एजेंसी में एसईओ विशेषज्ञ हों या खोज की प्रक्रिया को बेहतर तरीके से जानने वाले DIY एसईओ हों : यह गाइड आपके लिए है. अगर आप हमारे सबसे अच्छे तरीकों के हिसाब से, एसईओ के इस्तेमाल से जुड़ी बुनियादी बातों के बारे में पूरी जानकारी चाहते हैं, तो यह गाइड इसमें आपकी मदद करेगा. इस गाइड में ऐसी कोई अनोखी बात नहीं बताई गई है जिससे आपकी साइट Google पर अपने आप पहली रैंक पर आ जाए (माफ़ करें!), लेकिन उम्मीद है कि नीचे बताए गए सबसे अच्छे तरीकों का इस्तेमाल करने से खोज इंजन के लिए आपकी सामग्री को क्रॉल करना, इंडेक्स करना और उसे समझना आसान हो जाएगा.

अक्सर खोज इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन (एसईओ) आपकी वेबसाइट के हिस्सों में छोटे बदलाव करने के बारे में होता है. अलग-अलग देखने पर, ये बदलाव ज़रूर छोटे-छोटे सुधार लग सकते हैं, लेकिन दूसरे ऑप्टिमाइज़ेशन से जोड़कर देखने पर ये आपकी साइट पर आने वाले उपयोगकर्ताओं के अनुभव और ऑर्गेनिक खोज नतीजों के प्रदर्शन के लिहाज से काफ़ी असरदार साबित हो सकते हैं. हो सकता है कि आप इस गाइड के कई विषयों के बारे में पहले से जानते हों, क्योंकि वे किसी भी वेब पेज के लिए ज़रूरी होते हैं, लेकिन शायद आप उनका पूरा फ़ायदा न उठा रहे हों.

आपको अपने उपयोगकर्ताओं की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए अपनी साइट को ऑप्टिमाइज़ करना चाहिए. उन ज़रूरतों में से एक ज़रूरत खोज इंजन है, जो दूसरे उपयोगकर्ताओं को आपकी सामग्री खोजने में मदद करता है. खोज इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन का मतलब है खोज इंजन को सामग्री समझने और उसे पेश करने में मदद करना. हो सकता है कि आपकी साइट हमारी उस साइट से छोटी या बड़ी हो जिसका हमने उदाहरण दिया है और उसमें बहुत ही अलग सामग्री हो, लेकिन नीचे चर्चा किए गए ऑप्टिमाइज़ेशन विषय हर आकार और प्रकार की साइटों पर लागू होते हैं. हम उम्मीद करते हैं कि हमारे गाइड से आपको अपनी वेबसाइट बेहतर बनाने के कुछ नए तरीके पता चलेंगे. साथ ही, हम चाहेंगे कि Google वेबमास्टर सहायता फ़ोरम1 के ज़रिए आप हमें अपने सवाल, सुझाव, और गाइड को इस्तेमाल करने से मिले फ़ायदों के बारे में बताएं.

हमें उम्मीद है कि आप इस सामग्री का लाभ उठाएंगे। हम अपने Google सहायता फ़ोरम के ज़रिए आपके फ़ीडबैक सुनने और उन्हें इस सामग्री में जोड़ने की उम्मीद करते हैं.

गाइड को बेझिझक सेव करें, ज़िम्मेदारी के साथ प्रिंट करें और दोबारा शेयर करें: आइए वेब की क्वालिटी सुधारें.

पढ़ने का आनंद लें!

आपकी,
Google खोज क्वालिटी टीम

शुरुआत करना

शब्दावली

यहां इस गाइड में इस्तेमाल किए जाने वाले अहम शब्दों की एक छोटी सी शब्दावली दी गई है:
  • इंडेक्स - Google उन सभी वेब पेजों को अपने इंडेक्स में शामिल करता है, जिनके बारे में उसके पास जानकारी होती है. हर पेज के लिए इंडेक्स प्रविष्टि उस पेज की सामग्री और जगह (यूआरएल) का विवरण देती है. जब Google कोई पेज लेता है, उसे पढ़ता है और उसे इंडेक्स में जोड़ता है तो इसे इंडेक्स करना कहा जाता है : Google ने आज मेरी साइट पर कई सारे पेज इंडेक्स किए.
  • क्रॉल - यह नए या अपडेट किए गए वेब पेजों को खोजने की प्रक्रिया है. Google लिंक पर जाकर, साइटमैप पढ़कर और कई दूसरे तरीकों से यूआरएल की खोज करता है. Google नए पेज खोजने के लिए वेब क्रॉल करता है, फिर उन्हें (जब उचित हो) इंडेक्स करता है.
  • क्रॉलर - अपने आप काम करने वाला सॉफ़्टवेयर जो वेब से पेज क्रॉल करता (पाता है) है और उन्हें इंडेक्स करता है.
  • Googlebot - Google के क्रॉलर का सामान्य नाम. Googlebot लगातार वेब क्रॉल करता है.
  • एसईओ - खोज इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन: अपनी साइट को खोज इंजन के लिए बेहतर बनाने का तरीका है. साथ ही, यह उस नौकरी के लिए भी इस्तेमाल होता है जिसे लोग अपनी आजीविका चलाने के लिए करते हैं: हमने वेब पर अपनी मौजूदगी को बेहतर बनाने के लिए हाल ही में एक नए एसईओ को नौकरी पर रखा है.

क्या आपकी साइट Google पर दिखाई देती है?

तय करें कि क्या आपकी साइट Google के इंडेक्स में है - अपनी साइट के होम यूआरएल के लिए साइट: खोज करें. अगर आपको नतीजे दिखाई देते हैं, तो आप इंडेक्स में हैं. उदाहरण के लिए, "site:wikipedia.org" खोजने पर ये नतीजे2 दिखाई देते हैं.

अगर आपकी साइट Google में नहीं है - हालांकि Google अरबों पेज क्रॉल करता है, लेकिन इस प्रक्रिया में कुछ फ़ाइलों का छूटना भी तय है. जब हमारे क्रॉलर किसी साइट को छोड़ देते हैं, तो ऐसा अक्सर नीचे दी गई किसी एक वजह से होता है:

  • साइट, वेब पर दूसरी साइटों से अच्छी तरह कनेक्ट नहीं है
  • आपने अभी-अभी कोई नई साइट लॉन्च की है और Google को अब तक उसे क्रॉल करने का समय नहीं मिला है
  • साइट के डिज़ाइन की वजह से Google को साइट की सामग्री को प्रभावी रूप से क्रॉल करने में कठिनाई होती है
  • Google को आपकी साइट क्रॉल करने की कोशिश करते समय कोई गड़बड़ी मिली
  • आपकी नीति Google को साइट क्रॉल करने से रोकती है

मैं ऐसा क्या करूं कि मेरी साइट Google के खोज नतीजों में दिखाई दे?

Google के खोज नतीजों में शामिल होना मुफ़्त और आसान है; यहां तक कि आपको Google पर अपनी साइट सबमिट करने की ज़रूरत भी नहीं होती. Google एक पूरी तरह से अपने आप काम करने वाला खोज इंजन है, जो लगातार वेब के बारे में और जानने के लिए वेब क्रॉलर का इस्तेमाल करता है और हमारे इंडेक्स में जोड़ने के लिए साइटें खोजता है. असल में, हमारे नतीजों में शामिल की गईं ज़्यादातर साइट मैन्‍युअल रूप से सबमिट नहीं की जातीं, बल्कि जब हम वेब क्रॉल करते हैं तब उन्हें ढूंढकर अपने आप जोड़ते हैं. जानें कि Google वेब पेजों को कैसे खोजता है, कैसे क्रॉल करता है, और उन्हें किस तरह दिखाता है.3

हमने वेबमास्टर के लिए दिशा-निर्देश4 तय किए हैं. इनसे आपको ऐसी वेबसाइट बनाने में मदद मिलेगी जिसे Google आसानी से क्रॉल कर सके. हालांकि इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि क्रॉलर को कोई खास साइट मिलेगी, लेकिन इन दिशानिर्देशों का पालन करके अपनी साइट को हमारे खोज नतीजों में दिखाने में आपको मदद मिलेगी.

Google Search Console आपको अपनी सामग्री Google पर सबमिट करने में मदद करने के लिए टूल मुहैया कराता है और यह मॉनीटर करता है कि आप Google खोज में क्या कर रहे हैं. अगर आप चाहें, तो Google के सामने आने वाली आपकी साइट से जुड़ी अहम समस्याओं के बारे में, Search Console आपको सूचनाएं भी भेज सकता है. Search Console के लिए साइन अप करें5.

शुरू करते समय अपनी वेबसाइट के बारे में खुद से पूछे जाने के लिए कुछ बुनियादी सवाल यहां दिए गए हैं.

  • क्या मेरी वेबसाइट Google पर दिख रही है?
  • क्या मैं उपयोगकर्ताओं को अच्छी क्वालिटी की सामग्री देता/देती हूं?
  • क्या मेरा स्थानीय कारोबार Google पर दिख रहा है?
  • क्या हर डिवाइस पर मेरी सामग्री तेज़ी और आसानी से दिखती है?
  • क्या मेरी वेबसाइट सुरक्षित है?

शुरुआत करने के बारे में आप http://g.co/webmasters6 पर ज़्यादा जान सकते हैं

इस दस्तावेज़ के बाकी भाग में साइट को खोज इंजन के लिए बेहतर बनाने के तरीके बताए गए हैं, जो विषय के अनुसार व्यवस्थित किए गए हैं. आप http://g.co/WebmasterChecklist7 पर जाकर सलाहों की एक छोटी और प्रिंट की जा सकने वाली चेकलिस्ट डाउनलोड कर सकते हैं.

क्या आपको एसईओ विशेषज्ञ की ज़रूरत है?

एक एसईओ ("खोज इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन") विशेषज्ञ वह होता है जो खोज इंजन पर आपके दिखाई देने को बेहतर बनाने के लिए प्रशिक्षित होता है. इस गाइड की मदद से अपनी साइट को ऑप्टिमाइज़ करना सीखा जा सकता है. इसके अलावा, आपको एक पेशेवर एसईओ को काम पर रखने पर विचार करना चाहिए, जो आपके पेज ऑडिट करने में आपकी सहायता कर सकता है.

एसईओ को काम पर रखना एक अच्छा फैसला है जिससे आपकी साइट में सुधार हो सकता है और आपका समय भी बच सकता है. इस बारे में अच्छी तरह खोजबीन कर लें कि किसी एसईओ को काम पर रखने के क्या-क्या फ़ायदे हो सकते हैं और साथ ही गैर-ज़िम्मेदार एसईओ आपकी साइट को कितना नुकसान पहुंचा सकता है. कई एसईओ और अन्य एजेंसियां और सलाहकार, वेबसाइट मालिकों को उपयोगी सेवाएं देते हैं, जिनमें ये शामिल हैं:

  • आपकी साइट की सामग्री या बनावट की समीक्षा करना
  • वेबसाइट को आगे बढ़ाने से जुड़ी तकनीकी सलाह: उदाहरण के लिए होस्ट करना, रीडायरेक्ट करना, गड़बड़ी वाले पेज की जानकारी इकट्ठा करना, JavaScript का इस्तेमाल करना
  • सामग्री बनाना
  • ऑनलाइन कारोबार को बढ़ाने से जुड़े अभियानों का प्रबंधन
  • कीवर्ड रिसर्च
  • एसईओ प्रशिक्षण
  • खास बाज़ारों और इलाकों के बारे में अच्छी जानकारी रखना

एसईओ के लिए अपनी खोज शुरू करने से पहले, यह एक अच्छा विचार है कि एक शिक्षित उपभोक्ता बना जाए और खोज इंजन के काम करने के तरीके से परिचित हुआ जाए. हमारा सुझाव है कि आप इस गाइड को पूरा पढ़ें और खासकर नीचे दिए गए इन लिंक को पढ़ें.

अगर आप किसी एसईओ को काम पर रखने की सोच रहे हैं, तो आप ये जितनी जल्दी करें उतना अच्छा है. इसे काम पर रखने का सबसे अच्छा समय तब है जब आप किसी साइट को दोबारा डिज़ाइन करने या नई साइट को लॉन्च करने के बारे में सोच रहे हों. इस तरह, आप और आपका एसईओ पक्का कर सकता है कि आपकी साइट को नीचे से ऊपर तक खोज इंजन के अनुकूल बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया है. हालांकि, एक अच्छा एसईओ एक मौजूदा साइट को सुधारने में सहायता भी कर सकता है.

आपके लिए यह जानना बहुत ज़रूरी है कि एसईओ की सेवा कब लेनी चाहिए और एक अच्छे एसईओ में क्या खूबियां होती हैं. इस बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे सहायता केंद्र पर मौजूद लेख "क्या आपको एसईओ की सेवा लेने की ज़रूरत है"11 पर जाएं

Google को आपकी सामग्री ढूंढने में सहायता करना

अपनी साइट को Google पर लाने का पहला चरण, इस बात को लेकर पक्का होना है कि Google उसे ढूंढ सकता है. ऐसा करने का सबसे अच्छा तरीका साइटमैप सबमिट करना है. साइटमैप आपकी साइट पर एक फ़ाइल है जो खोज इंजन को आपकी साइट के नए या बदले गए पेज के बारे में बताती है. साइटमैप बनाने और सबमिट करने के तरीके के बारे में ज़्यादा जानें12.

Google दूसरे पेज से लिंक के ज़रिए भी पेज ढूंढता है. लोगों को आपकी साइट खोजने के लिए प्रोत्साहित करने का तरीका जानने के लिए इस दस्तावेज़ में आगे अपनी साइट का प्रचार करें देखें.

Google को बताएं कि किन पेजों को क्रॉल नहीं किया जाना चाहिए

सबसे अच्छे तरीके

गैर-संवेदनशील जानकारी के लिए, robots.txt का इस्तेमाल करके अनचाही क्रॉलिंग को रोकें

एक "robots.txt" फ़ाइल खोज इंजन को बताती है कि क्या वे आपकी साइट के भागों को एक्सेस और क्रॉल कर सकते हैं. इस फ़ाइल को, जिसका नाम "robots.txt" होना चाहिए, आपकी साइट की रूट डायरेक्‍ट्री में रखा जाता है. हो सकता है कि robots.txt के ज़रिए रोके जाने के बावजूद पेज क्रॉल किए जा रहे हों, इसलिए संवेदनशील पेज के लिए आपको और ज़्यादा सुरक्षित तरीके का इस्तेमाल करना चाहिए.

robots.txt फ़ाइल की सही जगह दिखाने वाली इमेज.

आप अपनी साइट के कुछ पेज शायद क्रॉल नहीं करना चाहेंगे, क्योंकि हो सकता है कि खोज इंजन के खोज नतीजों में मिलने पर वे उपयोगकर्ताओं के लिए उपयोगी न हों. अगर आप खोज इंजन को अपने पेज क्रॉल करने से रोकना चाहते हैं, तो इस तरह की फ़ाइल बनाने में आपकी सहायता करने के लिए Google Search Console में एक अनुकूल robots.txt जनरेटर है. ध्यान दें कि अगर आपकी साइट उप डोमेन का इस्तेमाल करती है और आप किसी खास उप डोमेन पर कुछ खास पेज क्रॉल नहीं करवाना चाहते हैं, तो आपको उस उप डोमेन के लिए एक अलग robots.txt फ़ाइल बनानी होगी. robots.txt के बारे में ज़्यादा जानकारी वेबमास्टर के लिए सहायता केंद्र के गाइड में दी गई है. इससे आप robots.txt फ़ाइलों के इस्तेमाल13 के बारे में ज़्यादा जान सकते हैं.

सामग्री को खोज नतीजों में दिखाई देने से रोकने के कई दूसरे तरीकों के बारे में पढ़ें.14

ऐसा करने से बचें:

  • अपने आंतरिक खोज नतीजे पेज को Google से क्रॉल नहीं होने दें. उपयोगकर्ता आपकी साइट पर बस किसी दूसरे खोज नतीजे पेज पर जाने के लिए किसी खोज इंजन नतीजे पर क्लिक करना पसंद नहीं करते हैं.
  • प्रॉक्सी सेवाओं के किसी नतीजे के रूप में बनाए गए यूआरएल को क्रॉल करने की अनुमति देना.

संवेदनशील जानकारी के लिए, ज़्यादा सुरक्षित तरीकों का इस्तेमाल करें

संवेदनशील या गोपनीय सामग्री पर रोक लगाने के लिए robots.txt एक बहुत अच्छा या असरदार तरीका नहीं है. यह सिर्फ़ अच्छे व्यवहार वाले क्रॉलर को निर्देश देता है कि ये पेज उनके लिए नहीं हैं, लेकिन यह आपके सर्वर को ब्राउज़र के लिए ऐसे पेज डिलीवर करने से नहीं रोकता है, जिनका अनुरोध किया गया है. इसका एक कारण यह है कि अगर इंटरनेट पर कहीं उन यूआरएल के लिंक मौजूद हैं (जैसे कि रेफ़र करने वाले का लॉग), जिनपर आपने रोक लगाई है (सिर्फ़ यूआरएल और न कि शीर्षक या स्निपेट दिखाना), तो खोज इंजन अब भी उन यूआरएल का संदर्भ ले सकता है. साथ ही, नियमों का पालन न करने वाले या परेशान करने वाले खोज इंजन, जो रोबोट एक्सक्लूज़न स्टैंडर्ड को नहीं मानते, वे आपके robots.txt के निर्देशों का उल्लंघन कर सकते हैं. अंत में, एक उत्सुक उपयोगकर्ता आपकी robots.txt फ़ाइल में डाइरेक्ट्री या सब-डाइरेक्ट्री की जाँच कर सकता है और उस सामग्री के यूआरएल का अनुमान लगा सकता है जिसे आप नहीं दिखाना चाहते हैं.

इन मामलों में, अगर आप बस यह चाहते हैं कि पेज Google में दिखाई न दे, तो noindex टैग का इस्तेमाल करें, लेकिन ध्यान रहे कि वे सभी उपयोगकर्ता पेज पर जा सकते हैं जिनके पास इसका लिंक है. हालांकि, असली सुरक्षा के लिए आपको अनुमति वाले उचित तरीकों का इस्तेमाल करना चाहिए, जैसे उपयोगकर्ता पासवर्ड ज़रूरी होना या पेज को अपनी साइट से पूरी तरह से हटा देना.

अपनी सामग्री समझने में Google (और उपयोगकर्ताओं) की मदद करें

Google को उसी तरह अपना पेज देखने दें, जैसा किसी उपयोगकर्ता को दिखाई देता है

जब Googlebot किसी पेज को क्रॉल करता है तब उसे पेज उसी तरह दिखाई देना चाहिए जिस तरह वह किसी सामान्य उपयोगकर्ता को दिखाई देता है15. सबसे अच्छी रेंडरिंग और इंडेक्सिंग के लिए, Googlebot को हमेशा आपकी वेबसाइट के ज़रिए इस्तेमाल की जाने वाली JavaScript, CSS और इमेज फ़ाइलों का इस्तेमाल करने दें. अगर आपकी साइट की robots.txt फ़ाइल इन एसेट को क्रॉल करने की अनुमति नहीं देती है, तो इससे सीधे नुकसान पहुंचता है कि आपकी सामग्री को हमारे एल्गोरिद्म कितनी अच्छी तरह से रेंडर और इंडेक्स करते हैं. इसकी वजह से आपकी साइट की रैंकिंग में गिरावट आ सकती है.

सुझाई गई कार्रवाई:

  • यूआरएल की जाँच करने वाला टूल इस्तेमाल करें16. इससे आप यह जान पाएंगे कि Googlebot आपकी सामग्री को कैसे देखता और रेंडर करता है. साथ ही, इससे आपको साइट को इंडेक्स किए जाने में आ रही समस्याओं को पहचानने और उन्हें ठीक करने में मदद मिलेगी.

पेज के लिए सबसे अलग और सटीक शीर्षक बनाना

<title> टैग उपयोगकर्ताओं और खोज इंजन दोनों को किसी खास पेज का विषय बताता है. <title> टैग, HTML दस्तावेज़ के <head> ऐलीमेंट में होना चाहिए. आपको अपनी साइट के हर पेज के लिए एक खास शीर्षक बनाना चाहिए.

शीर्षक टैग दिखाने वाला एचटीएमएल स्निपेट

खोज नतीजों के लिए अच्छे शीर्षक और स्निपेट बनाना

अगर आपके दस्तावेज़ खोज नतीजों के पेज में दिखाई देते हैं, तो खोज नतीजों की पहली पंक्ति में शीर्षक तय करने वाले टैग की सामग्री दिखाई दे सकती है. अगर आप Google के खोज नतीजों के अलग-अलग हिस्सों के बारे में नहीं जानते हैं, तो खोज नतीजे की बनावट के बारे में बताने वाला वीडियो17 देखें.

आपकी साइट के होम पेज के शीर्षक में आपकी वेबसाइट/कारोबार का नाम शामिल हो सकता है. इसमें आपके कारोबार के पते जैसी ज़रूरी जानकारी शामिल हो सकती है. इसके अलावा, इसमें आप अपने कारोबार के बारे में कुछ खास जानकारी या उपयोगकर्ताओं को दी जाने वाली खास सुविधाओं की जानकारी भी शामिल कर सकते हैं.

सबसे अच्छे तरीके

पेज की सामग्री के बारे में अच्छी तरह से बताएं

ऐसा शीर्षक चुनें, जो आसानी से समझ में आ जाए और जिससे पेज पर मौजूद सामग्री के विषय की सटीक जानकारी मिले.

ऐसा करने से बचें:

  • कोई ऐसा शीर्षक चुनना जिसका पेज की सामग्री से कोई संबंध नहीं है.
  • "शीर्षक रहित" या "नया पेज 1" जैसे डिफ़ॉल्ट या अस्पष्ट शीर्षक का इस्तेमाल करना.

हर पेज के लिए खास शीर्षक बनाना

आम तौर पर आपकी साइट के हर पेज का एक खास शीर्षक ज़रूर होना चाहिए. इससे Google को यह जानने में मदद मिलती है कि वह पेज आपकी साइट के दूसरे पेज से कैसे अलग है. अगर आपकी साइट अलग मोबाइल पेज का इस्तेमाल करती है, तो मोबाइल वर्शन पर भी अच्छे शीर्षकों का इस्तेमाल करना याद रखें.

ऐसा करने से बचें:

  • अपनी साइट के सभी पेज या कई सारे पेज के लिए एक शीर्षक का इस्तेमाल करना.

छोटे लेकिन जानकारी देने वाले शीर्षकों का इस्तेमाल करें

शीर्षक छोटे होने के साथ-साथ जानकारी देने वाले भी हो सकते हैं. अगर शीर्षक बहुत लंबा है या उतना प्रासंगिक नहीं है, तो Google सिर्फ़ उसके किसी हिस्से को दिखा सकता है या उसको दिखा सकता है जो खोज नतीजे में अपने आप जनरेट हुआ है. उपयोगकर्ता की क्वेरी या खोज करने के लिए इस्तेमाल किए गए डिवाइस के आधार पर Google अलग-अलग शीर्षक भी दिखा सकता है.

ऐसा करने से बचें:

  • बहुत ही लंबे शीर्षकों का इस्तेमाल करना जो उपयोगकर्ताओं के लिए उपयोगी नहीं होते हैं.
  • अपने शीर्षक टैग में गैर-ज़रूरी कीवर्ड डालना.

"विवरण" मेटा टैग इस्तेमाल करना

किसी पेज के विवरण मेटा टैग से Google और दूसरे खोज इंजन को यह जानकारी मिलती है कि पेज किस बारे में है. एक पेज का शीर्षक कुछ शब्द या एक वाक्यांश हो सकता हैं जबकि पेज से जुड़ी जानकारी देने वाला मेटा टैग, एक या दो वाक्यों में या फिर एक छोटे पैराग्राफ़ के रूप में हो सकता है. <title> टैग की तरह, जानकारी देने वाला मेटा टैग आपके एचटीएमएल दस्तावेज़ के <head> एलिमेंट में होता है.

<meta></meta> जानकारी देने के लिए लगाया गया टैग दिखाने वाला एचटीएमएल स्निपेट

विवरण मेटा टैग के क्या फ़ायदे हैं?

विवरण मेटा टैग इसलिए महत्वपूर्ण हैं क्योंकि Google उन्हें आपके पेज के लिए स्निपेट के रूप में इस्तेमाल कर सकता है. ध्यान दें कि हमने "कर सकता है" कहा क्योंकि अगर किसी उपयोगकर्ता की क्वेरी से आपके पेज के दिखाई देने वाले लेख का कोई अनुभाग अच्छी तरह से मिलान करता है, तो Google आपके पेज के दिखाई देने वाले लेख के उस प्रासंगिक अनुभाग का इस्तेमाल करना चुन सकता है. Google को स्निपेट बनाने के लिए अच्छे लेख न मिल पाने जैसी स्थिति के लिए, अपने हर पेज में विवरण मेटा टैग जोड़ना हमेशा मददगार साबित होता है. वेबमास्टर सेंट्रल ब्लॉग पर बेहतर विवरण के लिए मेटा टैग इस्तेमाल करके स्निपेट में सुधार करने18 और अपने उपयोगकर्ताओं के लिए बेहतर स्निपेट बनाने19 के बारे में जानकारी देने वाली पोस्ट मौजूद हैं. हमारे सहायता केंद्र पर अच्छे शीर्षक और स्निपेट बनाने के तरीकों20 के बारे में जानकारी देने वाला लेख भी मौजूद है, जिसे पढ़कर आप ज़रूरी मदद पा सकते हैं.

"बेसबॉल कार्ड" के लिए, सर्च नतीजे में सादा नीले रंग का नमूने के तौर पर बनाया गया लिंक

सबसे अच्छे तरीके

पेज की सामग्री के बारे में कम शब्दों में सटीक रूप से बताएं

विवरण इस तरह से लिखें कि अगर वो आपके उपयोगकर्ताओं को खोज नतीजों में स्निपेट के रूप में विवरण मेटा टैग के तौर पर दिखाई दे, तो वह सूचना देने के साथ दिलचस्पी भी जगाए. हालांकि विवरण मेटा टैग में लेख के लिए ऐसी कोई सीमा नहीं है कि वो कितना लंबा या कितना छोटा हो , लेकिन हमारा सुझाव है कि आप ये पक्का कर लें कि वह खोज में दिखाए जाने के लिए पूरी तरह से तैयार हो (ध्यान दें कि उपयोगकर्ताओं को उनके खोज करने के तरीके और जगह के हिसाब से स्निपेट का आकार अलग-अलग दिखाई दे सकता है). साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि उसमें कम से कम इतनी जानकारी ज़रूर हो जिससे उपयोगकर्ता यह तय कर पाएं कि आपका पेज उनके लिए कितने काम का है.

ऐसा करने से बचें:

  • ऐसा विवरण मेटा टैग लिखना जिसका पेज की सामग्री से कोई संबंध नहीं है.
  • सामान्य विवरण जैसे कि "यह वेब पेज है" या "क्रिकेट के बारे में पेज" का इस्तेमाल करना.
  • विवरण को सिर्फ़ कीवर्ड से भर देना.
  • दस्तावेज़ की पूरी सामग्री को विवरण मेटा टैग में कॉपी करके पेस्ट करना.

हर पेज के लिए खास विवरण का इस्तेमाल करें

हर पेज के लिए अलग विवरण मेटा टैग होने से उपयोगकर्ताओं और Google दोनों को मदद मिलती है, खासकर उन खोज में जहां उपयोगकर्ता आपके डोमेन के लिए कई सारे पेज ला सकते हैं (उदाहरण के लिए, साइट: ऑपरेटर का इस्तेमाल करके खोज). अगर आपकी साइट के हज़ारों या लाखों पेज हैं, तो आप शायद खुद हर विवरण मेटा टैग के लिए विवरण न लिख पाएं. इस स्थिति में, आप हर पेज की सामग्री के हिसाब से अपने आप विवरण मेटा टैग जनरेट कर सकते हैं.

ऐसा करने से बचें:

  • अपनी साइट के सभी पेज या कई सारे पेज में एक विवरण मेटा टैग का इस्तेमाल करना.

ज़रूरी टेक्स्ट को खास तौर से दिखाने के लिए हेडिंग टैग का इस्तेमाल करना

शीर्षक टैग के तहत आने वाले शब्द आम तौर पर बड़े आकार के दिखाई देते हैं. इससे उपयोगकर्ताओं को उन शब्दों की अहमियत का पता चल जाता है और इससे उन्हें यह समझने में मदद मिल सकती है कि उस शीर्षक के तहत आने वाली सामग्री किस तरह की है. आपकी सामग्री के किस हिस्से की अहमियत ज़्यादा या कम है, यह बताने के लिए अलग-अलग आकार के शीर्षकों का इस्तेमाल किया जाता है. इससे उपयोगकर्ताओं को आपके दस्तावेज़ में एक जगह से दूसरी जगह जाने में भी मदद मिलती है.

सबसे अच्छे तरीके

कल्पना कीजिए कि आप एक रूपरेखा लिख रहे हैं

किसी बड़े पेपर के लिए रूपरेखा लिखने की तरह ही, इस बारे में थोड़ा सोचें कि पेज पर सामग्री के मुख्य बिंदु और उप-बिंदु क्या होंगे और तय करें कि शीर्षक टैग को उपयुक्त रूप से कहां इस्तेमाल किया जाना है.

ऐसा करने से बचें:

  • शीर्षक टैग में ऐसे लेख लिखना जिससे पेज की संरचना को परिभाषित करने में सहायता नहीं मिलेगी.
  • वहां शीर्षक टैग का इस्तेमाल करना जहां शायद <em> और <strong> जैसे दूसरे टैग का इस्तेमाल करना ज़्यादा बेहतर हो.
  • शीर्षक टैग के आकार को बार-बार बदलते रहना.

पेज में जहां ज़रूरत हो वहीं शीर्षक का इस्तेमाल करना

शीर्षक टैग वहां इस्तेमाल करें जहां उसकी ज़रूरत है. किसी पेज पर कई सारे शीर्षक टैग होने से उपयोगकर्ताओं के लिए सामग्री की पहचान करना और यह तय करना मुश्किल हो सकता है कि एक विषय कहां खत्म हुआ है और दूसरा कहां से शुरू हुआ है.

ऐसा करने से बचें:

  • किसी पेज पर शीर्षक टैग का बहुत ज़्यादा इस्तेमाल करना.
  • बहुत लंबे शीर्षक.
  • लेख को सिर्फ़ शैली में ढालने के लिए शीर्षक टैग का इस्तेमाल करना, संरचना प्रस्तुत करने के लिए नहीं.

व्यवस्थित डेटा के मार्कअप जोड़ना

व्यवस्थित डेटा21 वह कोड होता है जिसे अपनी साइट के पेजों में जोड़कर आप सर्च इंजन को अपनी सामग्री के बारे में जानकारी दे सकते हैं. ऐसा करके आप सर्च इंजन को यह बता सकते हैं कि आपके पेज पर क्या-क्या चीज़ें मौजूद हैं, ताकि वे आपके पेज को बेहतर तरीके से समझ सकें. खोज इंजन इस जानकारी का इस्तेमाल करके खोज नतीजों में आपकी सामग्री को बेहतर (लोगों का ध्यान खींचने वाले!) तरीके से दिखा सकता है. ऐसा करने से आपके कारोबार के लिए सही ग्राहकों को आकर्षित करने में आपको मदद मिलती है.

समीक्षा के तारों के मुताबिक, व्यवस्थित डेटा का इस्तेमाल करके बेहतर बनाया गया सर्च नतीजा दिखाने वाली इमेज.

उदाहरण के लिए, अगर आपका कोई ऑनलाइन स्टोर है और उसमें आपने किसी उत्पाद के पेज पर मार्कअप जोड़ा है, तो इससे हमें यह समझने में मदद मिलती है कि पेज पर मोटरसाइकल, उसकी कीमत और ग्राहक समीक्षाएं दी गई हैं. हम प्रासंगिक क्वेरीज़ के लिए खोज नतीजों के स्निपेट में वह जानकारी दिखा सकते हैं. हम इन्हें "रिच परिणाम" कहते हैं.

रिच परिणामों के लिए व्यवस्थित डेटा मार्कअप का इस्तेमाल करने के अलावा, हम अन्य फ़ॉर्मैट में प्रासंगिक नतीजे देने के लिए इसका इस्तेमाल कर सकते हैं. उदाहरण के लिए, अगर आपकी कोई दुकान है, तो दुकान खुलने के समय को मार्कअप करने से आपके संभावित ग्राहक ठीक उस समय आपको ढूंढ सकते हैं जब उन्हें आपकी ज़रूरत हो और इससे उन्हें यह सूचना मिल जाती है कि खोज किए जाने वाले समय में आपकी दुकान खुली है/बंद है.

आइसक्रीम स्टोर की खोज से जुड़ा

आप कारोबार से जुड़ी कई चीज़ों को मार्कअप कर सकते हैं:

  • आप जो उत्पाद बेच रहे हैं
  • कारोबार का पता
  • आपके उत्पादों या कारोबार के बारे में वीडियो
  • खुलने का समय
  • इवेंट की झलक
  • रेसिपी
  • आपकी कंपनी का लोगो और दूसरी कई चीज़ें!

खोज नतीजों में सामग्री के किन प्रकारों को दिखाया जा सकता है, उनकी पूरी सूची को डेवलपर के लिए बनाई गई हमारी साइट पर देखें22.

हमारा सुझाव है कि आप अपनी सामग्री की जानकारी देने के लिए किसी ऐसे मार्कअप कोड के साथ व्यवस्थित डेटा इस्तेमाल करें, जो खोज नतीजों में दिखाए जाने के हिसाब से सही है. आप अपने पेज के एचटीएमएल कोड में मार्कअप जोड़ सकते हैं या व्यवस्थित डेटा को हाइलाइट करने वाले टूल23 और मार्कअप में मदद करने वाले टूल24 जैसे टूल का इस्तेमाल कर सकते हैं. इनके बारे में ज़्यादा जानकारी पाने के लिए सबसे अच्छे तरीके वाला सेक्शन देखें.

सबसे अच्छे तरीके

रिच नतीजों की जाँच का इस्तेमाल करके अपना मार्कअप देखें

अपनी सामग्री को मार्कअप कर लेने के बाद, आप रिच नतीजों की जाँच करने वाला Google का टूल25 इस्तेमाल करके मार्कअप करने में होने वाली किसी भी गलती से बच सकते हैं. आप सामग्री वाले पेज का यूआरएल डाल सकते हैं या वह एचटीएमएल कोड कॉपी कर सकते हैं जिसमें मार्कअप शामिल हो.

ऐसा करने से बचें:

  • गलत मार्कअप का इस्तेमाल करना.

डेटा हाइलाइटर का इस्तेमाल करना

अगर आप अपनी साइट का सोर्स कोड बदले बिना व्यवस्थित मार्कअप को आज़माना चाहते हैं, तो आप Search Console के साथ जुड़े हुए मुफ़्त टूल डेटा हाइलाइट का इस्तेमाल कर सकते हैं. इस टूल पर सामग्री के अलग-अलग प्रकार का सबसेट काम करता है.

अगर आप अपने पेज पर कॉपी करने और चिपकाने के लिए मार्कअप कोड को तैयार रखना चाहते हैं, तो मार्कअप सहायक टूल आज़माएं.

ऐसा करने से बचें:

  • मार्कअप को लागू करने के बारे में पूरी तरह से तय किये बिना ही अपनी साइट के सोर्स कोड को बदलना.

इस बात पर नज़र रखना कि आपके मार्कअप किए गए पेज किस तरह काम कर रहे हैं

Search Console में कई तरह की एनहैंसमेंट रिपोर्ट26 से आपको यह पता चलता है कि हमने आपकी साइट पर किसी खास तरह के मार्कअप वाले कितने पेजों का पता लगाया है और उन पेजों को खोज नतीजों में कितनी बार देखा गया है. साथ ही, इससे आपको यह भी पता चलता है कि पिछले 90 दिनों में लोगों ने उन पर कितनी बार क्लिक किया है. यह रिपोर्ट हमें मिली गड़बड़ियों के बारे में भी जानकारी देती है.

ऐसा करने से बचें:

  • उपयोगकर्ताओं को नहीं दिखाई देने वाला मार्कअप डेटा जोड़ना.
  • नकली समीक्षाएं बनाना या अप्रासंगिक मार्कअप जोड़ना.

Google खोज नतीजों में अपनी उपस्थिति प्रबंधित करना

पेज पर सही व्यवस्थित डेटा मौजूद होने से आपके पेज को 'सर्च' के नतीजों में कई खास सुविधाओं के साथ दिखाया जा सकता है. इन सुविधाओं में तारे के निशान के ज़रिए समीक्षा दिखाने और नतीजों को सजावटी तरीके से दिखाने जैसी कई सुविधाएं शामिल हैं. खोज नतीजों की गैलरी में देखें कि आपके पेज को किस तरह के खोज नतीजों में शामिल किया जा सकता है.27

अपनी साइट में मौजूद चीज़ों को व्यवस्थित करना

यह समझना कि खोज इंजन यूआरएल का इस्तेमाल कैसे करते हैं

खोज इंजन को किसी सामग्री को क्रॉल और इंडेक्स कर पाने और उपयोगकर्ताओं को उसका संदर्भ देने के लिए, सामग्री के हर हिस्से को एक खास यूआरएल की ज़रूरत होती है. अलग-अलग सामग्री - उदाहरण के लिए, किसी दुकान में अलग-अलग उत्पाद और साथ ही बदलाव की गई सामग्री जैसे - अनुवाद या क्षेत्रीय बदलाव - को खोज में उपयुक्त रूप से दिखाए जाने के लिए अलग-अलग यूआरएल का इस्तेमाल करना होगा.

आम तौर पर यूआरएल कई अलग-अलग अनुभागों में बंटे होते हैं:

protocol://hostname/path/filename?querystring#fragment

उदाहरण के लिए:

https://www.example.com/RunningShoes/Womens.htm?size=8#info

Google सुझाव देता है कि जब संभव हो, तब हर वेबसाइट https:// का इस्तेमाल करे. होस्टनाम वह होता है जहां आपकी वेबसाइट होस्ट की जाती है, आम तौर पर उसी डोमेन नाम का इस्तेमाल किया जाता है जिसे आप ईमेल के लिए इस्तेमाल करेंगे. Google "www" और "गैर-www" वर्शन के बीच अंतर करता है (उदाहरण के लिए, "www.example.com" या सिर्फ़ "example.com"). Search Console में अपनी वेबसाइट जोड़ते समय, हम http:// और https:// वर्शन और साथ ही "www" और "गैर-www" वर्शन दोनों जोड़ने का सुझाव देते हैं.

पाथ, फ़ाइल नाम और क्वेरी स्ट्रिंग यह तय करती है कि आपके सर्वर से किस सामग्री को एक्सेस किया गया है. ये तीनों हिस्से केस-सेंसिटिव (छोटे या बड़े अक्षरों में अंतर करने वाले) होते हैं, इसलिए "FILE" के नतीजे में मिलने वाला यूआरएल "file" से मिलने वाले यूआरएल से अलग होगा. होस्टनाम और प्रोटोकॉल केस-सेंसिटिव नहीं होते हैं; बड़े या छोटे अक्षर की कोई भूमिका नहीं होती है.

एक हिस्सा (इस स्थिति में, "#info") आम तौर पर इसकी पहचान करता है कि ब्राउज़र ने पेज का कौन सा हिस्सा स्क्रॉल किया. चाहे यह हिस्सा कैसा भी हो, लेकिन सामग्री सामान्य रूप से एक जैसी होती है. इसलिए खोज इंजन आम तौर पर इस्तेमाल किए गए किसी भी हिस्से को अनदेखा करता है.

होम पेज का संदर्भ देते हुए, होस्टनाम के आगे लगने वाला स्लैश वैकल्पिक होता है, क्योंकि यह एक ही सामग्री पर ले जाता है ("https://example.com/" और "https://example.com" एक ही है). पाथ और फ़ाइल नाम के लिए, आगे लगने वाला स्लैश एक अलग यूआरएल के रूप में देखा जा सकता है (जो किसी फ़ाइल या किसी डाइरेक्ट्री का संकेत देता है), उदाहरण के लिए, "https://example.com/fish" और "https://example.com/fish/" एक जैसे नहीं हैं.

खोज इंजन के लिए नेविगेशन ज़रूरी है

किसी वेबसाइट का नेविगेशन दर्शकों को तुरंत सामग्री ढूंढने में मदद करने के लिए बहुत अहम होता है. इससे खोज इंजन को यह समझने में भी मदद मिल सकती है कि वेबमास्टर के हिसाब से कौन सी सामग्री अहम है. हालांकि Google के खोज नतीजे पेज के स्तर पर दिए जाते हैं, लेकिन Google इस बारे में भी जानना चाहता है कि पूरी साइट के लिहाज से पेज की क्या भूमिका है.

वेबसाइट के लिए काम अाने वाले पेज क्रम का उदाहरण.

अपनी साइट को होम पेज के हिसाब से नेविगेट करें

सभी साइटों का होम या "रूट" पेज होता है, जो आम तौर पर सबसे ज़्यादा बार देखा गया पेज और कई दर्शकों के लिए नेविगेशन की शुरुआती जगह होती है. जब तक कि आपकी साइट में सिर्फ़ कुछ पेज न हों, आपको इस बारे में सोचना चाहिए कि दर्शक एक सामान्य पेज से (आपका मूल पेज) विशेष जानकारी वाले पेज पर कैसे जाएंगे. क्या आपके पास किसी खास विषय के बारे में इतने पेज हैं कि इन संबंधित पेज का वर्णन करने वाला पेज बनाया जाए (उदाहरण के लिए, मूल पेज -> संबंधित विषय सूची -> खास विषय)? क्या आपके पास ऐसे सैकड़ों अलग-अलग उत्पाद हैं जिन्हें कई श्रेणी और उप-श्रेणी वाले पेज में वर्गीकृत किया जाना चाहिए?

'ब्रेडक्रंब सूचियों' का इस्तेमाल करना

ब्रेडक्रंब उस पेज के ऊपर या नीचे दिए गए आंतरिक लिंक की पंक्ति होती है जो दर्शकों को तुरंत पिछले सेक्शन या पहले पेज पर वापस नेविगेट करती है. कई ब्रेडक्रंब में पहला पेज सबसे सामान्य पेज (आम तौर पर रूट पेज) होता है. यह सबसे बाईं ओर वाला लिंक होता है और खास सेक्शन दाईं ओर दिखाए जाते हैं. हमारा सुझाव है कि ब्रेडक्रंब दिखाते समय आप ब्रेडक्रंब के व्यवस्थित डेटा के मार्कअप में मदद करने वाला टूल28 इस्तेमाल करें.

वेबसाइट के साथ मौजूदा पेज का क्रम दिखाने वाली ब्रेडक्रंब सूची.

उपयोगकर्ताओं के लिए एक आसान नेविगेशन पेज बनाना

एक नेविगेशन पेज आपकी साइट का वह आसान पेज होता है जो आपकी वेबसाइट की बनावट दिखाता है और उसमें आम तौर पर आपकी साइट पर पेज की पदानुक्रम सूची होती है. अगर दर्शकों को आपकी साइट पर पेज ढूंढने में समस्या हो रही है, तो वे इस पेज पर जा सकते हैं. हालांकि खोज इंजन भी आपकी साइट पर पेज की अच्छी क्रॉल कवरेज लेने के लिए इस पेज पर जाएंगे, लेकिन यह मुख्य रूप आपकी साइट पर आने वाले लोगों के लिए होता है.

सबसे अच्छे तरीके

एक आसान पदानुक्रम बनाएं

आपकी साइट पर आने वालों के लिए सामान्य सामग्री से किसी खास सामग्री पर जाना जितना आसान हो सके उतना आसान बनाएं. जहां सही हो वहां नेविगेशन पेज जोड़ें और प्रभावशाली रूप से इसे अपनी आंतरिक लिंक संरचना में शामिल करें. पक्का करें कि आपकी साइट के सभी पेज पर लिंक के ज़रिए पहुंचा जा सकता है और उन्हें ढूंढे जाने के लिए किसी आंतरिक "खोज" की ज़रूरत नहीं है. जहां सही हो वहां मिलते-जुलते पेज से लिंक करें ताकि उपयोगकर्ता मिलती-जुलती सामग्री ढूंढ सकें.

ऐसा करने से बचें:

  • नेविगेशन लिंक का जटिल जाल बनाना, उदाहरण के लिए, अपनी साइट के हर पेज को हर दूसरे पेज से जोड़ना.
  • अपनी सामग्री की कुछ ज़्यादा ही कांट-छांट करना (ताकि होमपेज से उस तक पहुंचने के लिए बीस क्लिक करने पड़े).

नेविगेशन के लिए लेख का इस्तेमाल करना

अपनी साइट पर एक पेज से दूसरे पेज पर जाने के लिए ज़्यादातर नेविगेशन को लेखों पर मौजूद लिंक, आसान बनाते हैं. इससे खोज इंजन को आपकी वेबसाइट को क्रॉल करने और समझने में भी आसानी होती है. कोई पेज बनाने के लिए JavaScript का इस्तेमाल करने पर, यूआरएल के साथ "a" तत्व का इस्तेमाल करें क्योंकि "href" मान की ऐट्रिब्यूट बताता है और पेज-लोड पर उपयोगकर्ता इंटरैक्शन के लिए इंतज़ार करने के बजाय सभी मेन्यू आइटम जनरेट कर देता है.

ऐसा करने से बचें:

उपयोगकर्ताओं के लिए नेविगेशन पेज और खोज इंजन के लिए साइटमैप बनाना

उपयोगकर्ताओं के लिए अपनी पूरी साइट से जुड़ा एक आसान नेविगेशन पेज (या सबसे महत्वपूर्ण पेज, अगर आपके पास सैकड़ों या हज़ारों पेज हैं) शामिल करें. यह पक्का करने के लिए कि खोज इंजन को आपकी साइट पर नए और अपडेट किए गए पेज मिल जाएं, XML साइटमैप फ़ाइल बनाएं. इसमें पिछली बार उनकी प्राथमिक सामग्री में बदलाव किए जाने की तारीख के साथ, सभी प्रासंगिक यूआरएल भी शामिल करें.

ऐसा करने से बचें:

  • काम न करने वाले लिंक की वजह से आपके नेविगेशन पेज को बेकार होने देना.
  • ऐसा नेविगेशन पेज बनाना जिसमें पेज को बिना व्यवस्थित किए (जैसे विषय के हिसाब से) शामिल किया गया हो.

404 गड़बड़ी वाले ऐसे पेज दिखाना, जो उपयोगकर्ता के लिए मददगार हों

उपयोगकर्ता कभी-कभार ऐसे पेज पर चले जाते हैं, जो आपकी साइट पर मौजूद नहीं होता. ऐसा या तो काम न करने वाला लिंक खोलने या फिर गलत यूआरएल डालने से होता है. कस्टम 404 पेज30 की मदद से उपयोगकर्ता आसानी से आपकी साइट के सही पेज पर लौट पाएंगे. आपके 404 पेज में रूट पेज पर वापस जाने का लिंक मौजूद होना चाहिए. साथ ही, उसमें आपकी साइट पर लोकप्रिय या मिलती-जुलती सामग्री के लिंक भी होने चाहिए. "नहीं मिला" गड़बड़ियों की वजह बनने वाले यूआरएल के स्रोत31 खोजने के लिए, आप Google Search Console का इस्तेमाल कर सकते हैं.

ऐसा करने से बचें:

  • अपने 404 पेजों को खोज इंजन में इंडेक्स किए जाने की अनुमति देना (इस बात का ध्यान रखें कि आपके वेब सर्वर को 404 एचटीटीपी स्थिति कोड देने के लिए कॉन्फ़िगर किया गया हो. इसके अलावा, JavaScript इस्तेमाल करके बनाई गईं साइटों पर noindex robots मेटा-टैग शामिल करें. ऐसा तब करें जब उन पेजों के लिए अनुरोध किया जाए, जो साइट पर मौजूद नहीं हैं).
  • Robots.txt फ़ाइल के ज़रिए 404 पेज को क्रॉल होने से रोकना.
  • सिर्फ़ "नहीं मिला", "404" या कोई भी 404 पेज नहीं जैसे अस्पष्ट संदेश देना.
  • अपने 404 पेज के लिए ऐसे डिज़ाइन का इस्तेमाल करना जो आपकी साइट से मेल खाता हो.

सामान्य यूआरएल सामग्री की बेहतर जानकारी देते हैं

अपनी वेबसाइट पर दस्तावेज़ों के लिए विस्तार से श्रेणी और फ़ाइल नाम बनाना न सिर्फ़ आपकी साइट को बेहतर तरीके से व्यवस्थित रखने में आपकी सहायता करता है, बल्कि उनके लिए यह आसान, "अनुकूल" यूआरएल बना सकता है, जो आपकी सामग्री से जोड़ना चाहते हैं. साइट पर आने वाले लोगों को ज़्यादा लंबे या क्रिप्टिक यूआरल (ऐसे यूआरएल, जिन्हें कोडिंग की मदद से छोटा किया जाता है) से परेशानी हो सकती है.

नीचे इमेज में दिखाए गए यूआरएल गुमराह करने वाले और समझने में मुश्किल हो सकते हैं.

ऐसे पेज का यूआरएल जिसका नाम अंकों में दिया गया है और यह नाम उपयोगकर्ताओं के लिए खास मददगार नहीं है.

अगर आपका यूआरएल उपयोगकर्ता को आसानी से समझ में आता है, तो यह कई तरह से मददगार साबित हो सकता है.

यूआरएल, जिसमें पेज का ऐसा नाम शामिल है जिसे लोग पढ़ सकते हैं और उससे मदद पा सकते हैं.

 

यूआरएल को खोज नतीजों में दिखाने के बारे में जानकारी

अंत में, याद रखें कि दस्तावेज़ का यूआरएल Google में आम तौर पर खोज नतीजे में दस्तावेज़ शीर्षक के नीचे दिखाया जाता है.

Google सभी प्रकार के यूआरएल संरचनाओं को क्रॉल करने में अच्छा है, चाहे वे बहुत ही जटिल हों, लेकिन अपने यूआरएल को जितना हो सके उतना सरल बनाना एक अच्छी प्रक्रिया है.

सबसे अच्छे तरीके

यूआरएल के शब्दों का इस्तेमाल करें

आपकी साइट की सामग्री और संरचना के प्रासंगिक शब्द वाले यूआरएल आपकी साइट पर नेविगेट करने वाले दर्शकों के लिए अनुकूल होते हैं.

ऐसा करने से बचें:

  • ऐसे पैरामीटर जो ज़रूरी न हो और सेशन आईडी के साथ लंबे यूआरएल का इस्तेमाल करना.
  • "page1.html" जैसे सामान्य पेज नाम चुनना.
  • बहुत ज़्यादा कीवर्ड जैसे "baseball-cards-baseball-cards-baseballcards.htm" का इस्तेमाल करना.

एक सरल डाइरेक्ट्री तैयार करना

ऐसी डाइरेक्ट्री का इस्तेमाल करें जो आपकी सामग्री को अच्छी तरह व्यवस्थित करती है और दर्शकों के लिए यह जानना आसान बनाती है कि वे आपकी साइट पर कहां हैं. उस यूआरएल पर मिली सामग्री के प्रकार का संकेत देने के लिए अपनी डाइरेक्ट्री बनावट का इस्तेमाल करके देखें.

ऐसा करने से बचें:

  • ".../dir1/dir2/dir3/dir4/dir5/dir6/page.html" जैसी सब-डाइरेक्ट्री की गहराई से नेस्टिंग होना.
  • उन डाइरेक्ट्री नामों का इस्तेमाल करना जिनका उनमें दी गई सामग्री से कोई संबंध नहीं है.

दस्तावेज़ तक पहुंचने के लिए यूआरएल का एक वर्शन देना

ध्यान रखें कि अलग-अलग उपयोगकर्ता आपकी साइट के अलग-अलग वर्शन के लिंक पर जाएं. इससे आपकी साइट की सामग्री पर आने वाले ट्रैफ़िक और उसकी रैंक पर असर पड़ सकता है. ऐसा न हो, इसके लिए एक ही वर्शन के यूआरएल का इस्तेमाल करें और अपनी साइट के पेजों को आपस में लिंक करें. अगर आपको यह पता चलता है कि लोग एक से ज़्यादा यूआरएल के ज़रिए एक ही सामग्री एक्सेस कर रहे हैं, तो दूसरे वर्शन के यूआरएल से मुख्य वर्शन के यूआरएल पर जाने के लिए 301 रीडायरेक्ट32 सेटअप करें. अगर आप रीडायरेक्ट नहीं कर सकते हैं, तो कैननिकल यूआरएल या rel="canonical"33 लिंक एलिमेंट का इस्तेमाल भी कर सकते हैं.

ऐसा करने से बचें:

  • सब-डोमेन और रूट-डायरेक्‍ट्री के पेज से एक ही सामग्री को एक्सेस करना, उदाहरण के लिए, "domain.com/page.html" और "sub.domain.com/page.html".

अपनी सामग्री ऑप्टिमाइज़ करना

अपनी साइट को दिलचस्प और उपयोगी बनाना

यहां पर चर्चा किए गए किसी भी अन्य कारक की तुलना में आकर्षक और उपयोगी सामग्री बनाने से हो सकता है कि आपकी वेबसाइट ज़्यादा प्रभावित हो. उपयोगकर्ता अच्छी सामग्री देखने पर ही उसे अच्छी सामग्री मानते हैं और अगर वह अच्छी सामग्री होती है तभी दूसरे उपयोगकर्ताओं को उसे देखने के लिए कहते हैं. यह ब्लॉग पोस्ट, सामाजिक मीडिया सेवाओं, ईमेल, फ़ोरम या अन्य तरीकों से हो सकता है.

ऑर्गेनिक या लोगों के मुंह से सुनने से हुई हलचल ही Google और उपयोगकर्ताओं दोनों के साथ आपकी साइट की प्रतिष्ठा को बनाए रखने में सहायता करती है और शायद ही बेहतर सामग्री के बिना यह संभव हो.

नई और दिलचस्प सामग्री बनाने से, दूसरी वेबसाइट आपके पेज का लिंक दिखा सकती हैं.

जानें कि आपकी साइट का इस्तेमाल करने वाले लोग क्या चाहते हैं (और उन्हें उनकी पसंद की सामग्री दें)

उन शब्दों के बारे में सोचें, जिन्हें उपयोगकर्ता आपकी सामग्री का एक हिस्सा खोजने के लिए खोज सकते हैं. जो उपयोगकर्ता विषय के बारे में बहुत कुछ जानते हैं, वे विषय के लिए किसी नए उपयोगकर्ता की तुलना में अपनी खोज क्वेरीज़ में अलग-अलग कीवर्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं. उदाहरण के लिए, एक पुराना फ़ुटबॉल प्रशंसक [फ़ीफा], जो कि फ़ेडरेशन इंटरनेशनेल डी फ़ुटबॉल एसोसिएशन का संक्षिप्त नाम है, खोज सकता है, जबकि एक नया प्रशंसक [फ़ुटबॉल का वर्ल्ड कप] जैसी ज़्यादा सामान्य क्वेरी का इस्तेमाल कर सकता है. खोज करते समय इन अंतरों को पहचानने और सामग्री लिखते समय इन्हें ध्यान में रखने से (कई तरह के कीवर्ड वाले अच्छे वाक्यांश इस्तेमाल करने से) आपको बेहतर नतीजे मिल सकते हैं. Google Ads में आसानी से इस्तेमाल किया जा सकने वाला कीवर्ड प्लानर34 होता है. यह कीवर्ड प्लानर आपको अलग-अलग तरह के नए कीवर्ड खोजने में मदद करता है और यह दिखाता है कि हर एक कीवर्ड को करीब कितनी बार खोजा गया है. साथ ही, Google Search Console आपको प्रदर्शन की रिपोर्ट35 में सबसे ज़्यादा खोजी गईं वे क्वेरी दिखाता है, जिनके जवाब में आपकी साइट खोज नतीजों में दिखाई गई थी. यह वे क्वेरी भी दिखाता है, जिनका इस्तेमाल करके सबसे ज़्यादा उपयोगकर्ता आपकी साइट पर आए.

ऐसी नई, उपयोगी सुविधा बनाएं, जो किसी दूसरी साइट पर मौजूद न हो. आप असली रिसर्च भी लिख सकते हैं, कोई रोमांचक समाचार बता सकते हैं या अपने खास उपयोगकर्ता आधार का लाभ उठा सकते हैं. अन्य साइटों में इन चीजों को करने के लिए संसाधन या विशेषज्ञता की कमी हो सकती है.

सबसे अच्छे तरीके

पढ़ने-में-आसान लेख लिखें

उपयोगकर्ताओं को ऐसी सामग्री अच्छी लगती है जो अच्छी तरह से लिखी गई हो और आसानी से समझ आ जाए.

ऐसा करने से बचें:

  • वर्तनी और व्याकरण की कई गलतियों वाला अस्पष्ट लेख लिखना.
  • अजीब या खराब लिखी हुई सामग्री.
  • शाब्दिक सामग्री के लिए इमेज और वीडियो में लेख एम्बेड करना: हो सकता है कि उपयोगकर्ता लेख कॉपी करके चिपकाना चाहें और खोज इंजन उसे पढ़ न पाए.

अपने विषयों को साफ़ तौर पर व्यवस्थित करना

अपनी सामग्री को व्यवस्थित करना हमेशा फ़ायदेमंद होता है ताकि दर्शकों को अच्छी तरह से पता चल जाए कि एक सामग्री विषय कहां शुरू होता है और दूसरा कहां खत्म होता है. अपनी सामग्री को तार्किक हिस्सों या भागों में बाँटने से उपयोगकर्ताओं को ऐसी सामग्री जिसे वे चाहते हैं, को तेज़ी से ढूंढने में मदद मिलती है.

ऐसा करने से बचें:

  • पैराग्राफ़, उप-शीर्षक, या लेआउट में बाँटे बिना किसी पेज पर अलग-अलग विषयों पर बड़ी मात्रा में लेख डालना.

नई, खास सामग्री बनाना

नई सामग्री से न सिर्फ़ मौजूदा दर्शक आपके साथ बने रहेंगे बल्कि इससे नए दर्शक भी आएंगे.

ऐसा करने से बचें:

  • मौजूदा सामग्री में ज़रूरी बदलाव करके उसे फिर से तैयार करना (या यहां तक कि कॉपी करना) ताकि उपयोगकर्ताओं के लिए वह और बेहतर हो सके.
  • अपनी साइट पर सामग्री का डुप्लीकेट या मिलता-जुलता वर्शन रखना.

डुप्लीकेट सामग्री के बारे में ज़्यादा जानें36

खोज इंजन के बजाय उपयोगकर्ता की ज़रूरत को ध्यान में रखकर सामग्री बनाना

अपनी साइट को अपने दर्शकों की ज़रूरतों के हिसाब से डिज़ाइन करते हुए यह पक्का करना कि आपकी साइट आसानी से खोज इंजन के लिए सुलभ है, आमतौर पर सकारात्मक नतीजे देता है.

ऐसा करने से बचें:

  • खोज इंजन को ध्यान में रखकर ऐसे कई गैरज़रूरी कीवर्ड डालना, जो उपयोगकर्ताओं के लिए परेशान करने वाले या बेतुके होते हैं.
  • साइट पर ऐसे छोटे-छोटे टेक्स्ट होना, जो उपयोगकर्ताओं के लिए उपयोगी नहीं हैं, जैसे "इस पेज तक पहुंचने के लिए किन गलत वर्तनियों का इस्तेमाल बार-बार किया गया".
  • धोखा देकर उपयोगकर्ताओं से टेक्स्ट छिपाना37, लेकिन खोज इंजन को दिखाना.

लिंक का ठीक तरह से इस्तेमाल करना

बेहतर लिंक टेक्स्ट लिखना

लिंक लेख, लिंक के अंदर दिखाई देने वाला लेख होता है. यह लेख उपयोगकर्ताओं और Google को उस पेज के बारे में कुछ बताता है जिसे आप जोड़ रहे हैं. आपके पेज पर मौजूद लिंक भीतरी—आपकी साइट के अन्य पेज की ओर इशारा करने वाले—या बाहरी—अन्य साइटों पर सामग्री पर ले जाने वाले हो सकते हैं. इनमें से किसी भी एक मामले में, आपका एंकर टेक्स्ट जितना बेहतर होगा, उपयोगकर्ताओं के लिए नेविगेट करना और Google के लिए यह समझना उतना ही आसान होगा कि आप जिस पेज से जोड़ रहे हैं, वह किसके बारे में है.

आपकी साइट पर ज़रूरी लिंक लेख का सुझाव देने वाला चित्र.

उचित एंकर टेक्स्ट के साथ, उपयोगकर्ता और खोज इंजन आसानी से समझ सकते हैं कि जोड़े गए पेज में क्या शामिल है.

सबसे अच्छे तरीके

जानकारी देने वाला लेख चुनना

लिंक के लिए आप जिस एंकर टेक्स्ट का इस्तेमाल करते हैं उसको इस बारे में कम से कम इतनी बुनियादी जानकारी चाहिए कि उसे जिस पेज से जोड़ा गया है वह किसके बारे में है.

ऐसा करने से बचें:

  • "पेज", "लेख" या "यहां क्लिक करें" जैसे सामान्य एंकर टेक्स्ट लिखना.
  • ऐसे लेख का इस्तेमाल करना जो विषय से हटकर है या जोड़े हुए पेज की सामग्री से उसका कोई संबंध नहीं है.
  • ज़्यादातर मामलों में पेज के यूआरएल को एंकर टेक्स्ट के तौर पर इस्तेमाल करना, हालांकि इसमें निश्चित रूप से इसका वैध इस्तेमाल होता है, जैसे कि किसी नई वेबसाइट के पते का प्रचार करना या संदर्भ देना.

छोटे लेख लिखना

छोटे लेकिन जानकारी देने वाले लेख लिखें. इनमें आम तौर पर कुछ शब्द या छोटे वाक्यांश शामिल हो सकते हैं.

ऐसा करने से बचें:

  • लंबे एंकर टेक्स्ट लिखना, जैसे कि एक लंबा वाक्य या लेख का छोटा पैराग्राफ़.

लिंक फ़ॉर्मैट करना ताकि उन्हें आसानी से देखा जा सके

उपयोगकर्ताओं के लिए नियमित लेख और आपके लिंक के एंकर टेक्स्ट के बीच अंतर करना आसान बनाएं. अगर उपयोगकर्ता लिंक को भूल जाते हैं या उन्हें गलती से क्लिक करते हैं, तो आपकी सामग्री कम उपयोगी हो जाती है.

ऐसा करने से बचें:

  • CSS या लेख को शैली में ढालने का इस्तेमाल करना जो लिंक को नियमित लेख जैसा बना देते हैं.

आंतरिक लिंक के लिए एंकर टेक्स्ट के बारे में भी सोचना

आप आम तौर पर बाहरी वेबसाइटों की ओर इशारा करते हुए लिंक जोड़ने के बारे में सोच सकते हैं, लेकिन आंतरिक लिंक के लिए इस्तेमाल किए गए एंकर टेक्स्ट पर ज़्यादा ध्यान देने से उपयोगकर्ताओं और Google को आपकी साइट को बेहतर ढंग से नेविगेट करने में मदद मिल सकती है.

ऐसा करने से बचें:

  • सिर्फ़ खोज इंजन के लिए बहुत ज़्यादा कीवर्ड से भरे या लंबे एंकर लेख का इस्तेमाल करना.
  • गैरज़रूरी लिंक बनाना जो उपयोगकर्ता को साइट नेविगेट करने में मदद नहीं करते हैं.

ध्यान रखें कि आप अपनी साइट का लिंक किस दूसरी साइट से जोड़ते हैं

जब आपकी साइट किसी दूसरी साइट से जुड़ी होती है, तब आप अपनी साइट की प्रतिष्ठा को दूसरी साइट के साथ शेयर कर सकते हैं. कभी-कभी उपयोगकर्ता अपनी टिप्पणी वाले सेक्शन या मैसेज बोर्ड में अपनी साइट के लिंक जोड़कर इसका फ़ायदा ले सकते हैं. या कभी-कभी हो सकता है कि आप किसी साइट को नकारात्मक तरीके से बताएं और अपनी कोई भी प्रतिष्ठा उनके साथ शेयर न करना चाहें. उदाहरण के लिए, कल्पना कीजिए कि आप स्पैम टिप्पणी करने के विषय पर एक ब्लॉग पोस्ट लिख रहे हैं और आप उस साइट को कॉल करना चाहते हैं जिसने हाल ही में आपके ब्लॉग के बारे में स्पैम टिप्पणी की है. आप साइट के बारे में अन्य लोगों को चेतावनी देना चाहते हैं, इसलिए आप अपनी सामग्री में इसका लिंक शामिल करते हैं; हालांकि, आप निश्चित रूप से साइट को अपने लिंक से अपनी कुछ प्रतिष्ठा शेयर नहीं करना चाहते हैं. यह nofollow इस्तेमाल करने का एक अच्छा समय होगा.

विजेट लिंक में भी "nofollow" ऐट्रिब्यूट उपयोगी हो सकती है. अगर आप अपनी साइट के अनुभव को बेहतर बनाने और उपयोगकर्ताओं को शामिल करने के लिए तीसरे पक्ष के विजेट का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो जांच लें कि क्या इसमें कोई ऐसा लिंक शामिल है, जिसे आप विजेट के साथ आपकी साइट पर नहीं रखना चाहते हैं. कुछ विजेट आपकी साइट पर ऐसे लिंक जोड़ सकते हैं जो आपकी पसंद के नहीं हैं और इनमें ऐसे एंकर टेक्स्ट शामिल होते हैं, जिसे आप वेबमास्टर के रूप में नियंत्रित नहीं कर सकते. अगर विजेट से ऐसे अनचाहे लिंक हटाना संभव नहीं है, तो आप उन्हें हमेशा "nofollow" ऐट्रिब्यूट से बंद कर सकते हैं. अगर आप काम या आपकी दी गई सामग्री के लिए एक विजेट बनाते हैं, तो तय करें कि डिफ़ॉल्ट कोड स्निपेट में लिंक पर nofollow को शामिल किया जाए.

आखिर में, अगर आप किसी पेज पर मौजूद सभी लिंक पर nofollow लागू करना चाहते हैं, तो आप पेज के <head> टैग में <meta name="robots" content="nofollow"> टैग जोड़ सकते हैं. robots मेटा टैग के बारे में ज़्यादा जानकारी पाने के लिए वेबमास्टर ब्लॉग38 देखें.

"nofollow" इस्तेमाल करके स्पैम वाली टिप्पणी का असर खत्म करना

"nofollow" के लिंक का "rel" ऐट्रिब्यूट वाला मान सेट करने से Google को यह बताया जाएगा कि आपकी साइट के कुछ लिंक को फ़ॉलो नहीं किया जाना चाहिए या जोड़े गए पेज में आपके पेज की प्रतिष्ठा शेयर नहीं की जानी चाहिए. किसी लिंक को nofollow करने का मतलब है लिंक के एंकर टेक्स्ट के अंदर rel="nofollow" जोड़ना, जैसा कि यहां दिखाया गया है:

<a href="http://www.example.com" rel="nofollow">एंकर टेक्स्ट यहां डालें</a>

यह कब उपयोगी होगा? अगर आपकी साइट पर एक ब्लॉग है, जिस पर सार्वजनिक टिप्पणी चालू है, तो उन टिप्पणियों के अंदर मौजूद लिंक उन पेज पर आपकी प्रतिष्ठा शेयर कर सकते हैं, जिनके लिए आप समर्थन नहीं करना चाहते हैं. पेज पर ब्लॉग टिप्पणी वाले हिस्से में स्पैम टिप्पणी किए जाने की बहुत ज़्यादा संभावना होती है. उपयोगकर्ता के जोड़े गए लिंक को nofollow करने से यह पक्का होता है कि आप किसी स्पैम वाली साइट को अपने पेज की मेहनत से कमाई गई प्रतिष्ठा शेयर नहीं कर रहे हैं.

उपयोगकर्ता की ऐसी टिप्पणी का चित्र जिसमें बाहरी लिंक मौजूद हैं.

टिप्पणी के कॉलम और मैसेज बोर्ड पर अपने आप "nofollow" जोड़ना

कई ब्लॉगिंग सॉफ़्टवेयर पैकेज अपने आप उपयोगकर्ता टिप्पणियों को nofollow करते हैं, लेकिन जो ऐसा नहीं करते, उनके जरिए मैन्युअल रूप से उसमें बदलाव करने की बहुत संभावना होती है. यह सलाह आपकी साइट के उन दूसरे हिस्सों पर भी लागू होती है, जिनमें उपयोगकर्ता की बनाई गई सामग्री शामिल हो सकती है. उदाहरण के लिए, गेस्ट बुक, फ़ोरम, शाउट-बोर्ड, रेफ़रल देने वाले लोगों की सूची, वगैरह. अगर आप तीसरे पक्षों के जोड़े गए लिंक को पक्के तौर पर सही मानते हैं (उदाहरण के लिए, अगर आपकी साइट पर टिप्पणी करने वाला भरोसेमंद है), तो लिंक पर nofollow का इस्तेमाल करने की कोई ज़रूरत नहीं है. हालांकि, उन साइटों से लिंक जोड़ना आपकी साइट की छवि पर असर डाल सकता है, जिन्हें Google स्पैम वाली साइट मानता है. स्पैम वाली टिप्पणी से बचने के बारे में ज़्यादा सलाह पाने के लिए39 वेबमास्टर सहायता केंद्र देखें. यहां CAPTCHA का इस्तेमाल करने और टिप्पणी नियंत्रित करने की सुविधा चालू करने जैसे तरीके बताए गए हैं.

कैप्चा पॉपअप का चित्र

अपनी इमेज को ऑप्टिमाइज़ करना

"alt" ऐट्रिब्यूट का इस्तेमाल करना

इमेज के लिए alt ऐट्रिब्यूट का ब्यौरा और ऐसा फ़ाइल नाम दें जिसमें उसकी कुछ जानकारी हो. अगर इमेज किसी वजह से दिखाई नहीं जा सकती है, तो "alt" ऐट्रिब्यूट आपको इमेज के लिए वैकल्पिक लेख शामिल करने की अनुमति देती है.

इमेज के लिए बेहतर वैकल्पिक लेख की ज़रूरत दिखाने वाला चित्र.

इस ऐट्रिब्यूट का इस्तेमाल क्यों करें? अगर कोई उपयोगकर्ता आपकी साइट को सहायक तकनीकों का इस्तेमाल करके देख रहा है, जैसे कि स्क्रीन रीडर, तो alt ऐट्रिब्यूट की सामग्री तस्वीर के बारे में जानकारी देती है.

एक और वजह यह है कि अगर आप किसी इमेज को एक लिंक के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं, तो उस इमेज के alt लेख के साथ लेख लिंक के एंकर टेक्स्ट जैसा व्यवहार किया जाएगा. हालांकि, हम ऐसी स्थिति में आपकी साइट के नेविगेशन में लिंक के लिए बहुत सारी इमेज का इस्तेमाल करने की सलाह नहीं देते हैं, जब लेख लिंक यह काम कर सकता है. अंत में, जब भी आप अपने इमेज फ़ाइल नामों और alt लेख को ऑप्टिमाइज़ करते हैं, तो इससे Google इमेज सर्च जैसे इमेज सर्च प्रोजेक्ट के लिए आपकी इमेज को बेहतर ढंग से समझना आसान हो जाता है.

सबसे अच्छे तरीके

छोटे लेकिन जानकारी देने वाले फ़ाइल नाम और alt लेख का इस्तेमाल करें

ऑप्टिमाइज़ेशन के लिए बनाए गए पेज के कई हिस्सों की तरह, फ़ाइल नाम और alt लेख ऐसी स्थिति में सबसे अच्छे होते हैं जब वे छोटे, लेकिन जानकारी देने वाले होते हैं.

ऐसा करने से बचें:

  • जब संभव हो तब सामान्य फ़ाइल नामों का इस्तेमाल करना जैसे कि "image1.jpg", "pic.gif", "1.jpg"—अगर आपकी साइट पर हज़ारों इमेज हैं, तो आप इमेज का नाम अपने आप रख लिए जाने के बारे में सोच सकते हैं.
  • बहुत लंबे फ़ाइल नाम लिखना.
  • alt लेख में कीवर्ड भरना या पूरे वाक्यों को कॉपी करके चिपकाना.

लिंक के रूप में इमेज का इस्तेमाल करते समय alt लेख शामिल करना

अगर आप किसी लिंक को एक इमेज के रूप में इस्तेमाल करने का फैसला करते हैं, तो इसके alt लेख को भरने से Google को उस पेज के बारे में और समझने में मदद मिलती है, जिसे आपने जोड़ा हुआ है. सोचिये कि आप लेख लिंक के लिए एंकर टेक्स्ट लिख रहे हैं.

ऐसा करने से बचें:

  • बहुत ही लंबे alt लेख लिखना, जिसे स्पैम समझा जा सकता है.
  • अपनी साइट के नेविगेशन के लिए सिर्फ़ इमेज लिंक का इस्तेमाल करना.

अपनी इमेज ढूंढने में खोज इंजन की मदद करना

इमेज का साइटमैप40 Googlebot को आपकी साइट पर मौजूद इमेज के बारे में ज़्यादा जानकारी देता है. इससे इस बात की उम्मीद बढ़ जाती है कि 'सर्च' के इमेज वाले नतीजों में आपकी इमेज मिल जाए. इस फ़ाइल की बनावट आपके वेब पेज के XML साइटमैप फ़ाइल की तरह है.

सामान्य इमेज फ़ॉर्मैट का इस्तेमाल करना

आम तौर पर चलने वाले फ़ाइल प्रकार का इस्तेमाल करें - ज़्यादातर ब्राउज़र पर जेपीईजी, GIF, पीएनजी, बीएमपी और WebP इमेज फ़ॉर्मैट काम करते हैं. फ़ाइल प्रकार के साथ अपने फ़ाइल नाम मिलान का एक्सटेंशन होना भी एक अच्छा खयाल है.

अपनी साइट को मोबाइल फ़्रेंडली बनाएं

आज की दुनिया मोबाइल की दुनिया है. ज़्यादातर लोग मोबाइल का इस्तेमाल करके Google पर खोज कर रहे हैं. किसी साइट के डेस्कटॉप वर्शन को मोबाइल डिवाइस पर देखना और इस्तेमाल करना मुश्किल हो सकता है. इस वजह से, इंटरनेट पर अपनी साइट की मौजूदगी को बेहतर बनाने के लिए यह ज़रूरी है कि आप साइट का मोबाइल पर आसानी से इस्तेमाल होने वाला वर्शन बनाएं. दरअसल, साल 2016 के आखिर में, रैंकिंग देने, व्यवस्थित डेटा को पार्स करने, और स्निपेट बनाने के लिए Google ने साइट की सामग्री का मोबाइल वर्शन खास तौर पर आज़माना शुरू कर दिया था.41

अलग-अलग डिवाइस के हिसाब से साइट को बेहतर बनाना

  • स्मार्टफ़ोन - इस दस्तावेज़ में, "मोबाइल" या "मोबाइल डिवाइस" का मतलब स्मार्टफ़ोन है, जैसे कि Android, iPhone या Windows Phone चलाने वाले डिवाइस. मोबाइल ब्राउज़र डेस्कटॉप ब्राउज़र की तरह होते हैं, जिसमें वे HTML5 विशेषता वाले व्यापक सेट को रेंडर कर सकते हैं, हालांकि उनके स्क्रीन का आकार छोटा होता है और करीब सभी मामलों में उनकी स्क्रीन की डिफ़ॉल्ट दिशा वर्टिकल होती है.
  • टैबलेट - हम टैबलेट को एक अलग श्रेणी मानते हैं, इसलिए जब हम मोबाइल की बात करते हैं, तो हम आम तौर पर परिभाषा में टैबलेट शामिल नहीं करते हैं. टैबलेट की बड़ी स्क्रीन होती है, जिसका मतलब है कि जब तक आप टैबलेट के लिए ऑप्टिमाइज़ की गई सामग्री नहीं देते, तब तक आप यह मान सकते हैं कि उपयोगकर्ता आपकी साइट को उसी तरह से देखने की उम्मीद करते हैं जैसा वह किसी डेस्कटॉप ब्राउज़र पर दिखाई देगी न कि स्मार्टफ़ोन ब्राउज़र पर.
  • मल्टीमीडिया फ़ोन - यह ऐसे ब्राउज़र वाले फ़ोन होते हैं जिनके साथ XHTML मानकों को पूरा करने के लिए कोड किए गए पेज रेंडर कर सकते हैं, उन पर HTML5 मार्कअप, JavaScript/ECMAScript चलता है, लेकिन हो सकता है कि HTML5 मानक में कुछ एक्सटेंशन API (एपीआई) काम न करें. यह आम तौर पर उन ज़्यादातर 3G फ़ोन के ब्राउज़र का वर्णन करता है जो स्मार्टफ़ोन नहीं हैं.
  • फ़ीचर फ़ोन - इन फ़ोन पर, ब्राउज़र की मानक HTML का इस्तेमाल करके कोड किए गए सामान्य डेस्कटॉप वेब पेज रेंडर करने की क्षमता नहीं होती है. इसमें ऐसे ब्राउज़र शामिल हैं जो सिर्फ़ cHTML (iMode), WML, XHTML-MP वगैरह रेंडर करते हैं.

हम स्मार्टफ़ोन का सुझाव देते हैं, लेकिन हम मल्टीमीडिया और फ़ीचर फ़ोन साइट के मालिकों को जहां उन्हें ठीक लगे वहां ऐसा ही करने की सलाह देते हैं.

मोबाइल के हिसाब से साइट को बेहतर बनाने का तरीका चुनना

अपनी वेबसाइट को मोबाइल के हिसाब से बेहतर बनाने के कई तरीके हैं. मोबाइल पर ठीक तरह से काम करने वाली साइट बनाने के लिए Google नीचे दिए गए तरीकों से काम करता है:

मोबाइल पर ठीक तरह से काम करने वाली साइट बनाने के बाद, आप Google का मोबाइल-फ़्रेंडली टेस्ट45 कर सकते हैं. आप यह टेस्ट करके देख सकते हैं कि क्या आपकी साइट के पेज, 'Google सर्च' के नतीजे दिखाने वाले पेजों पर "मोबाइल-फ़्रेंडली" लेबल इस्तेमाल करने की शर्तों को पूरा करते हैं. Search Console में साइट को मोबाइल पर इस्तेमाल करने के बारे में रिपोर्ट46 देखकर आप मोबाइल पर साइट को इस्तेमाल करने में होने वाली समस्याएं भी हल कर सकते हैं.

अगर आपकी साइट के कई पेजों में ऐसी सामग्री है जिसमें बदलाव नहीं किया जा सकता (जैसे ब्लॉग पोस्ट या उत्पाद के लैंडिंग पेज), तो सामग्री को दिखाने के लिए एएमपी47 (Accelerated Mobile Pages) इस्तेमाल करें. यह एचटीएमएल की खासियत है जिसकी वजह से आपकी साइट मोबाइल पर तेजी से खुलती है और उपयोगकर्ता की ज़रूरतों को पूरा करती है. साथ ही, इसे 'Google सर्च' जैसे कई प्लैटफ़ॉर्म पर बेहतर तरीके से दिखाया जा सकता है.

मोबाइल साइटों को कॉन्फ़िगर करना, ताकि उन्हें सही तरीके से इंडेक्स किया जा सके

आप अपनी मोबाइल साइट को सेट अप करने के लिए किस कॉन्फ़िगरेशन को चुनते हैं, इस पर ध्यान दिए बिना आपको इन महत्वपूर्ण बिंदु का ध्यान रखना चाहिए:

  1. अगर आप डायनामिक सेवा का इस्तेमाल करते हैं या आपके पास एक अलग मोबाइल साइट है, तो किसी पेज के मोबाइल के लिए फ़ॉर्मैट होने पर (या मोबाइल के लिए फ़ॉर्मैट किए गए पेज के जैसा कोई पेज होने पर) Google को संकेत दें. यह Google की खोज नतीजों में मोबाइल खोजकर्ताओं को आपकी सामग्री सही ढंग से पेश करने में सहायता करता है.
  2. अगर आप प्रतिक्रियाशील वेब डिज़ाइन का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो ब्राउज़र को सामग्री समायोजित करने के बारे में बताने के लिए meta name="viewport" टैग का इस्तेमाल करें. अगर आप डायनामिक सेवा का इस्तेमाल करते हैं, तो उपयोगकर्ता-एजेंट के आधार पर अपने बदलावों का संकेत देने के लिए विभिन्न HTTP शीर्ष लेख का इस्तेमाल करें. अगर आप अलग यूआरएल का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो <rel="canonical" और rel="alternate" तत्व के साथ <link> टैग के ज़रिए दो यूआरएल के बीच संबंध का संकेत दे सकते हैं.
  3. संसाधनों को क्रॉल करने योग्य रखें. पेज संसाधनों पर रोक लगाने से Google को आपकी वेबसाइट की एक अधूरी तस्वीर मिल सकती है. यह अक्सर तब होता है जब आपकी robots.txt फ़ाइल आपके कुछ या सभी पेज संसाधनों तक एक्सेस रोक रही हो. अगर Googlebot के पास किसी पेज के संसाधनों की एक्सेस नहीं है, जैसे कि CSS, JavaScript या इमेज, तो हम यह पता नहीं लगा सकते हैं कि यह मोबाइल ब्राउज़र पर दिखाने और अच्छी तरह काम करने के लिए बनाया गया है. दूसरे शब्दों में, हम यह पता नहीं लगा सकते हैं कि पेज "मोबाइल-फ़्रेंडली" है और इसलिए इसे मोबाइल खोजकर्ताओं को ठीक से पेश नहीं कर सकते हैं.
  4. ऐसी सामान्य गलतियों से बचें जो मोबाइल के दर्शकों को निराश करती हैं, जैसे कि नहीं चलने वाले वीडियो देना (उदाहरण के लिए, पेज की महत्वपूर्ण सामग्री के रूप में फ़्लैश वीडियो).
  5. जिन मोबाइल पेजों का इस्तेमाल करने में खोज करने वालों को परेशानी होती है, उन पेजों की रैंक कम हो सकती है या उन्हें मोबाइल पर खोज नतीजों में चेतावनी के साथ दिखाया जा सकता है. इसमें मोबाइल पर साइट के पेज खोलते समय पूरे पेज पर विज्ञापन या दूसरी जानकारी48 दिखाई देने जैसी समस्याएं भी शामिल हैं, जिनसे उपयोगकर्ता को परेशानी होती है.
  6. डिवाइसों पर वे सभी सुविधाएं दें, जो साइट के डेस्कटॉप वर्शन पर मौजूद हैं. मोबाइल उपयोगकर्ता मोबाइल और साथ ही उन सभी डिवाइस पर, जिन पर आपकी वेबसाइट खुलती है, उसी काम - जैसे कि टिप्पणी करना और चेक-आउट करना और सामग्री की उम्मीद करते हैं. शाब्दिक सामग्री के अलावा, पक्का करें कि सभी महत्वपूर्ण इमेज और वीडियो एम्बेड किए हुए हैं और उन्हें मोबाइल डिवाइस पर एक्सेस किया जा सकता है. खोज इंजन के लिए, अपने पेज के सभी वर्शन पर सभी व्यवस्थित डेटा और अन्य मेटाडेटा - जैसे कि शीर्षक, विवरण, लिंक-एलीमेंट और अन्य मेटा-टैग - दें.
  7. पक्का करें कि आपकी डेस्कटॉप साइट पर मौजूद व्यवस्थित डेटा, इमेज, वीडियो और मेटाडेटा भी मोबाइल साइट पर शामिल किए गए हों.

 

सबसे अच्छे तरीके

  • मोबाइल-फ़्रेंडली टेस्ट49 के ज़रिए अपनी साइट के मोबाइल वर्शन वाले पेजों की जाँच करें. इससे आपको यह पता चलेगा कि क्या Google के हिसाब से आपकी साइट मोबाइल पर अच्छी तरह से काम करती है.
  • अगर आप मोबाइल पेजों के लिए अलग यूआरएल देते हैं, तो साइट के मोबाइल और डेस्कटॉप यूआरएल की जाँच कर लें. इससे आप यह जान पाएंगे कि दूसरे लिंक पर भेजने वाले लिंक की पहचान की जा सकती है और इसके पेज को क्रॉल किया जा सकता है.

ज़्यादा जानने के लिए, Google का मोबाइल-फ़्रेंडली गाइड देखें.50

अपनी वेबसाइट का प्रचार करना

जबकि जैसे-जैसे लोग आपकी सामग्री को खोज या अन्य तरीकों से खोजेंगे, आपकी साइट के ज़्यादातर लिंक धीरे-धीरे जुड़ते जाएंगे, फिर भी Google यह समझता है कि आप दूसरों को बताना चाहते हैं कि आपने अपनी सामग्री के लिए कितनी कड़ी मेहनत की है. अपनी नई सामग्री का बेहतर ढंग से प्रचार करने से वे लोग इसे जल्दी खोज पाएंगे जिन्हें इस तरह के विषय मेंपसंद हैं. इस दस्तावेज़ में शामिल ज़्यादातर बिंदुओं की तरह ही, इन सुझावों का बहुत ज़्यादा हद तक पालन करने से असल में आपकी साइट की साख को नुकसान पहुंच सकता है.

अपनी साइट पर अपने दर्शकों को यह बताने के लिए एक ब्लॉग पोस्ट डालें कि आपने कुछ नया जोड़ा है. यह नई सामग्री या सेवाओं के बारे में लोगों को बताने का एक अच्छा तरीका है. अन्य वेबमास्टर जो आपकी साइट या RSS फ़ीड को फ़ॉलो करते हैं, वे भी कहानी को चुन सकते हैं.

आपकी कंपनी या साइट के ऑफ़लाइन प्रचार के लिए मेहनत करना भी फ़ायदेमंद हो सकता है. उदाहरण के लिए, अगर आपकी साइट कारोबार से जुड़ी है, तो इस बात का ध्यान रखें कि साइट का यूआरएल आपके बिज़नेस कार्ड, लेटरहेड, पोस्टर वगैरह पर मौजूद हो. आप ईमेल के ज़रिए अपने क्लाइंट को बार-बार भेजा जाने वाला न्यूज़लेटर भी भेज सकते हैं. इस तरह आप उन्हें अपनी कंपनी की वेबसाइट पर मौजूद नई सामग्री के बारे में जानकारी दे सकते हैं.

अगर आप कोई स्थानीय कारोबार चलाते हैं, तो Google मेरा व्यवसाय51 में अपने कारोबार की जानकारी डालने से आपको 'वेब सर्च' और 'Google मैप' के ज़रिए ग्राहकों तक पहुंचने में मदद मिलेगी.

दुकानों के लिए रिच नतीजे दिखाने वाले Google खोज नतीजे का नमूना.

सबसे अच्छे तरीके

सोशल मीडिया साइटों के बारे में जानना

उपयोगकर्ताओं के साथ इंटरैक्शन और शेयर करने की सुविधा वाली साइटों की वजह से लोगों तक वह सामग्री पहुंचाना आसान हो गया है जो उन्हें पसंद है.

ऐसा करने से बचें:

  • अपनी सामग्री के हर नए और छोटे से हिस्से का प्रचार करना. बेहतर होगा कि आप साइट के बड़े और दिलचस्प हिस्सों का प्रचार करें.
  • अपनी साइट को ऐसी योजनाओं में शामिल करना52 जहां आपकी सामग्री को गलत तरीकों से इन सेवाओं में सबसे ऊपर दिखाया जाता है.

अपनी साइट से मिलते-जुलते समुदाय के लोगों से संपर्क करना

संभावना है कि ऐसी कई साइटें हैं, जिनमें आपके विषय से मिलते-जुलते विषय क्षेत्र शामिल हैं. इन साइटों के साथ बात-चीत करना आम तौर पर फ़ायदेमंद होता है. आपको अपने आस-पास मौजूद लोगों और समुदाय से चर्चित विषयों पर नई सामग्री बनाने के लिए नए आइडिया मिल सकते हैं या इससे साइट पर आने वाले लोगों की संख्या बढ़ाई जा सकती है.

ऐसा करने से बचें:

  • अपने विषय क्षेत्र से जुड़ी सभी साइटों पर लिंक अनुरोधों को स्पैम भेजना.
  • PageRank पाने के मकसदसे किसी अन्य साइट से लिंक खरीदना.

अपने खोज प्रदर्शन और उपयोगकर्ता व्यवहार का विश्लेषण करें

इस बात की जाँच करना कि आपकी साइट खोज नतीजों में कैसा प्रदर्शन कर रही है

Google के साथ-साथ कई मुख्य खोज इंजन, वेबमास्टर को खोज नतीजों में अपनी साइट के प्रदर्शन की जाँच करने के लिए मुफ़्त टूल देते हैं. Google का वह टूल Search Console53 है.

Search Console में दो तरह की ज़रूरी जानकारी दिखाई जाती है: क्या Google मेरी सामग्री को ढूंढ सकता है? मैं Google खोज नतीजों में कैसा प्रदर्शन कर रहा/रही हूं?

Search Console का इस्तेमाल करने से आपकी साइट के साथ पसंदीदा व्यवहार नहीं किया जाएगा; हालांकि, यह उन समस्याओं की पहचान करने में आपकी मदद कर सकता है, जिन्हें ठीक करने पर, खोज नतीजों में आपकी साइट को बेहतर प्रदर्शन करने में मदद मिल सकती है.

सेवा के साथ, वेबमास्टर ये कर सकते हैं:

  • देखना कि किसी साइट के किन हिस्सों पर Googlebot को क्रॉल करने में समस्याएं थीं
  • साइटमैट की जाँच करना और उसे सबमिट करना
  • Robots.txt फ़ाइलों का विश्लेषण करना या जनरेट करना
  • Googlebot के ज़रिए पहले से क्रॉल किए गए यूआरएल हटाना
  • अपना पसंदीदा डोमेन बताना
  • शीर्षक और विवरण मेटा टैग की समस्याएं पहचानना
  • किसी साइट तक पहुंचने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सबसे ज़्यादा बार की गई खोजों को समझना
  • Googlebot पेज को कैसे देखता है इसकी एक झलक पाना
  • क्वालिटी से जुड़े दिशा-निर्देशों का उल्लंघन होने पर सूचनाएं पाना और साइट की फिर से समीक्षा करने का अनुरोध करना

Microsoft के Bing Webmaster Tools54 में भी वेबमास्टर के लिए मुफ़्त में इस्तेमाल करने वाले टूल हैं.

इस बात की जाँच करना कि उपयोगकर्ता आपकी साइट को कैसे देखते, पढ़ते और इस्तेमाल करते हैं

अगर आपने Google Search Console या अन्य सेवाओं का इस्तेमाल करके अपनी साइट की क्रॉलिंग और इंडेक्सिंग में सुधार किया है, तो आप शायद अपनी साइट पर आने वाले ट्रैफ़िक के बारे में ज़रूर जानना चाहेंगे. Google Analytics जैसे वेब विश्लेषण कार्यक्रम इसके लिए जानकारी का एक अहम ज़रिया हैं. आप ये करने के लिए इनका इस्तेमाल कर सकते हैं:

  • उपयोगकर्ता आपकी साइट तक कैसे पहुंचते हैं और कैसा व्यवहार करते हैं इसकी जानकारी पाना
  • अपनी साइट पर सबसे लोकप्रिय सामग्री खोजना
  • अपनी साइट पर किए गए ऑप्टिमाइज़ेशन के प्रभाव को मापना, उदाहरण के लिए, क्या उन शीर्षक और विवरण मेटा टैग को बदलने से खोज इंजन से ट्रैफ़िक में सुधार हुआ?

ज़्यादा जानकार उपयोगकर्ता बेहतर तरीके से चीज़ों को समझ सकते हैं. अांकड़ों के पैकेज के ज़रिए दी जाने वाली जानकारी, आपके सर्वर लॉग फ़ाइलों के डेटा के साथ मिलकर, इस बारे में और भी ज़्यादा जानकारी दे सकती है कि दर्शक आपके दस्तावेज़ों का इस्तेमाल कैसे कर रहे हैं. इस जानकारी में दूसरे कीवर्ड भी शामिल हैं जिनका इस्तेमाल लोग आपकी साइट को खोजने के लिए कर सकते हैं.

जानकारी पाने के दूसरे तरीके

वेबमास्टर सेंट्रल ब्लॉग55
वेबमास्टर के लिए हमारे सेन्ट्रल ब्लॉग से नई जानकारी पाएं. आप 'Google सर्च' के अपडेट, Search Console की नई सुविधाओं और दूसरी कई चीज़ों के बारे में जानकारी देख सकते हैं.

वेबमास्टर के लिए सहायता फ़ोरम56
अपनी साइट की समस्याओं के बारे में सवाल पोस्ट करें और वेबमास्टर के लिए बनाए गए उत्पाद फ़ोरम पर अच्छी क्वालिटी वाली साइट बनाने के लिए सलाह पाएं. फ़ोरम में योगदान देने वाले कई लोग काफ़ी अनुभवी होते हैं, जिनमें मुख्य योगदान देने वाले57 और समय-समय पर योगदान देने वाले Google के कर्मचारी शामिल होते हैं.

Google+ पर Google Webmasters समुदाय58
वेबमास्टर के समुदाय में शामिल होकर हमारी सूचनाएं, इवेंट की जानकारी, सलाह और संसाधनों के बारे में अपडेट पाएं.

Twitter पर Google Webmasters59
हमें फ़ॉलो करके सूचना और जानकारी पाएं, ताकि अापको बेहतर साइट बनाने में मदद मिल सके.

YouTube पर Google Webmasters चैनल60
वेबमास्टर के समुदाय की सहायता के लिए बनाए गए सैकड़ों वीडियो देखें और Google के कर्मचारियों से अपने सवालों के जवाब पाएं.

'सर्च' कैसे काम करता है61
देखें कि जब अाप 'Google सर्च' में कुछ खोजते हैं तब इसका सिस्टम कैसे काम करता है. आपको कुछ दिलचस्प बातें पता चलेंगी!

अपने कारोबार को इंटरनेट से जोड़ें62
अगर अमेरिका में आपका कोई छोटा-मोटा कारोबार है, तो मुफ़्त में अपनी वेबसाइट रजिस्टर करें. Google और Homestead की साझेदारी से चलाए जा रहे कार्यक्रम, GYBO से छोटे-मोटे कारोबार करने वालों को एक साल के लिए मुफ़्त में वेबसाइट रजिस्टर करने का मौका मिलता है.

ज़्यादा जानकारी: इस दस्तावेज़ में इस्तेमाल किए गए लिंक यूआरएल

इस दस्तावेज़ में इस्तेमाल किए गए यूआरएल:

  1. https://g.co/WebmasterHelpForum
  2. https://www.google.com/search?q=site:wikipedia.org
  3. https://support-content-draft.corp.google.com/webmasters/answer/70897
  4. https://support.google.com/webmasters/answer/35769
  5. https://search.google.com/search-console
  6. http://g.co/webmasters
  7. http://g.co/WebmasterChecklist
  8. https://support.google.com/webmasters/answer/70897
  9. https://support.google.com/webmasters/answer/35769
  10. https://www.youtube.com/watch?v=piSvFxV_M04
  11. https://support.google.com/webmasters/answer/35291
  12. https://support-content-draft.corp.google.com/webmasters/answer/156184
  13. https://support.google.com/webmasters/answer/6062608
  14. https://support.google.com/webmasters/topic/1724262
  15. https://webmasters.googleblog.com/2014/05/understanding-web-pages-better.html
  16. https://support.google.com/webmasters/answer/9012289
  17. https://www.youtube.com/watch?v=MOfhHPp5sWs
  18. http://googlewebmastercentral.blogspot.com/2007/09/improve-snippets-with-meta-description.html
  19. https://webmasters.googleblog.com/2017/06/better-snippets-for-your-users.html
  20. https://support.google.com/webmasters/answer/35624
  21. https://developers.google.com/search/docs/guides/intro-structured-data
  22. https://developers.google.com/search/docs/guides/search-gallery
  23. https://www.google.com/webmasters/tools/data-highlighter
  24. https://www.google.com/webmasters/markup-helper/
  25. https://search.google.com/test/rich-results
  26. https://support.google.com/webmasters/answer/7552505
  27. https://developers.google.com/search/docs/guides/search-gallery
  28. https://developers.google.com/search/docs/data-types/breadcrumbs
  29. https://support.google.com/webmasters/answer/72746
  30. https://support.google.com/webmasters/answer/93641
  31. http://googlewebmastercentral.blogspot.com/2008/10/webmaster-tools-shows-crawl-error.html
  32. http://support.google.com/webmasters/answer/93633
  33. https://support.google.com/webmasters/answer/139066
  34. https://ads.google.com/home/tools/keyword-planner/
  35. https://support.google.com/webmasters/answer/7576553
  36. https://support.google.com/webmasters/answer/66359
  37. https://support.google.com/webmasters/answer/66353
  38. https://webmasters.googleblog.com/2007/03/using-robots-meta-tag.html
  39. https://support.google.com/webmasters/answer/81749
  40. https://support.google.com/webmasters/answer/178636
  41. https://webmasters.googleblog.com/2016/11/mobile-first-indexing.html
  42. https://developers.google.com/search/mobile-sites/mobile-seo/responsive-design
  43. https://developers.google.com/search/mobile-sites/mobile-seo/dynamic-serving
  44. https://developers.google.com/search/mobile-sites/mobile-seo/separate-urls
  45. https://search.google.com/test/mobile-friendly
  46. https://www.google.com/webmasters/tools/mobile-usability
  47. https://www.ampproject.org/
  48. https://webmasters.googleblog.com/2016/08/helping-users-easily-access-content-on.html
  49. https://search.google.com/test/mobile-friendly
  50. https://developers.google.com/search/mobile-sites/
  51. https://www.google.com/business/
  52. https://support.google.com/webmasters/answer/66356
  53. https://www.google.com/webmasters/tools/home
  54. https://www.bing.com/toolbox/webmaster
  55. https://support.google.com/webmasters/go/blog
  56. https://support-content-draft.corp.google.com/webmasters/go/community
  57. http://www.google.com/get/topcontributor/
  58. http://google.com/+GoogleWebmasters
  59. http://twitter.com/googlewmc
  60. http://www.youtube.com/GoogleWebmasterHelp
  61. http://www.google.com/insidesearch/howsearchworks/thestory/index.html
  62. http://www.gybo.com/
क्‍या यह लेख उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?