अंतरराष्ट्रीय उपयोगकर्ताओं को टारगेट करने से जुड़ी रिपोर्ट

अपनी hreflang गड़बड़ियों पर नज़र रखने के लिए अंतरराष्ट्रीय उपयोगकर्ताओं को टारगेट करने से जुड़ी रिपोर्ट इस्तेमाल करें. इसके अलावा, इस रिपोर्ट के ज़रिए आप यह भी चुन सकते हैं कि आपकी साइट किस देश के खोज नतीजों में दिखाई जाए. इस रिपोर्ट में नीचे दिए गए सेक्शन मौजूद हैं:

  • भाषा सेक्शन: अपनी साइट पर hreflang टैग के इस्तेमाल और उनसे जुड़ी गड़बड़ियों पर नज़र रखें. 
  • देश सेक्शन: अगर आप चाहें तो यह भी सेट कर सकते हैं कि किन देशों में आपकी साइट दिखाई जाए.

 

अंतरराष्ट्रीय उपयोगकर्ताओं को टारगेट करने से जुड़ी रिपोर्ट खोलें

 

अपनी साइट को कुछ खास इलाकों या भाषाओं के हिसाब से टारगेट करने के अलग-अलग तरीके जानने के लिए, कई इलाकों और कई भाषाओं में उपलब्ध साइट के बारे में जानें.

भाषा टैब

अंतरराष्ट्रीय उपयोगकर्ताओं को टारगेट करने वाले पेज का भाषा सेक्शन, आपकी साइट की hreflang गड़बड़ियां दिखाता है जिनके बारे में नीचे बताया गया है. यह ज़्यादा से ज़्यादा 1,000 गड़बड़ियां दिखाता है.

गड़बड़ी जानकारी
कोई रिटर्न टैग नहीं है

टारगेट पेज पर hreflang टैग से मिलता जुलता कोई दूसरा टैग नहीं है. यह टेबल, नीचे दिए गए लागू करने के तरीकों के लिए वह रिटर्न टैग (ऐसा टैग जिस पर क्लिक करके मूल पेज पर लौटा जा सके) दिखाता है जो पेज पर मौजूद नहीं है. यह जानकारी लागू करने के तरीके और जगह के हिसाब से दिखाई जाती है:

  • पेज-लेवल -- आपके पेज के <head> सेक्शन में, भाषा के आधार पर hreflang गड़बड़ियों की कुल संख्या. जानकारी वाला पेज आपकी साइट पर ज़्यादा से ज़्यादा 1,000 ऐसे यूआरएल दिखाता है जो वैकल्पिक भाषा पेज से जुड़े हुए हैं. इस वैकल्पिक भाषा पेज में इसकी मूल साइट पर पहुंचने वाला रिटर्न टैग नहीं होता.
  • साइटमैप -- आपके साइटमैप पर पाई गई कुल hreflang गड़बड़ियों की संख्या. जानकारी पेज पर वह साइटमैप मौजूद है जो यूआरएल पेयरिंग (किसी यूआरएल को क्लिक करने पर कहां पहुंचेंगे) और बिना रिटर्न लिंक वाले वैकल्पिक यूआरएल के बारे में बताता है.
  • एचटीटीपी हेडर आपके एचटीटीपी हेडर कॉन्फ़िगरेशन में दी गई वैकल्पिक फ़ाइलों में hreflang गड़बड़ियों की कुल संख्या. इस कॉन्फ़िगरेशन और वैकल्पिक यूआरएल में कोई रिटर्न लिंक नहीं है.
अनजान भाषा कोड अगर आपकी साइट में अनजान भाषाओं (और वैकल्पिक देश) के कोड हैं तो, टेबल में 'जगह' के बाद unknown language code दिखाई देगा.  no return tag गड़बड़ी होने पर, यूआरएल के अनुसार जानकारी और उस भाषा के लिए अनजान भाषा कोड की कुल संख्या देखने के लिए आप ड्रिल-डाउन कर सकते हैं.

गड़बड़ी की जानकारी देखने के लिए किसी पंक्ति पर क्लिक करें. ज़्यादा से ज़्यादा 1,000 पंक्तियों की गड़बड़ियां देखी जा सकती हैं.

देश टैब

Google खोज, उपयोगकर्ता को उसकी क्वेरी के हिसाब से उसके काम की साइट दिखाती है. इसलिए हो सकता है कि एक जैसी क्वेरी के लिए आयरलैंड और फ़्रांस के उपयोगकर्ता को अलग-अलग नतीजे दिखाए जाएं.

अगर आपकी साइट में डोमेन का आखिरी हिस्सा जेनरिक है, जैसे कि .com या .org तो, आप यह तय करने में हमारी मदद कर सकते हैं कि आपकी सामग्री खास तौर से किन देशों में दिखाई जाए. अगर आपकी साइट के डोमेन का आखिरी हिस्सा देश कोड है (जैसे कि .ie या .fr) तो, इसका मतलब है कि यह पहले से ही किसी खास देश (इस उदाहरण में, आयरलैंड या फ़्रांस) से जुड़ी हुई है. अगर आप देश कोड वाला डोमेन इस्तेमाल करते हैं तो, आप अपनी साइट के लिए कोई खास इलाका नहीं तय कर सकते. आप अंतरराष्ट्रीय उपयोगकर्ताओं को टारगेट करने से जुड़ी रिपोर्ट में तय कर सकते हैं कि आपकी साइट किस देश में दिखाई जाए.

यह सेट करना कि साइट किस देश में दिखाई जाए

  1. अंतर्राष्ट्रीय उपयोगकर्ताओं को टारगेट करने से जुड़ी रिपोर्ट में देश टैब क्लिक करें.

  2. इलाके के हिसाब से टारगेट करने की सुविधा वाले चेकबॉक्स में सही का निशान लगाकर अपना टारगेट देश चुनें. अगर आप चाहते हैं कि आपकी साइट किसी देश या इलाके से जुड़ी हुई न हो तो, ड्रॉप-डाउन सूची में सूची से बाहर चुनें.

यह सेटिंग सिर्फ़ इलाके के हिसाब से बाँटे गए डेटा के लिए है. अगर आप अलग-अलग जगह के उपयोगकर्ताओं को टारगेट कर रहे हैं तो, टारगेट के रूप में इलाका सेट करने के लिए यह टूल न इस्तेमाल करें. उदाहरण के लिए, अगर आपकी साइट हिन्दी भाषा में है और आप चाहते हैं कि बांग्लादेश, इंडोनेशिया और नेपाल के लोग इसे पढ़ पाएं तो, इस टूल के ज़रिए भारत को टारगेट देश के रूप में न सेट करें. इसका एक अच्छा उदाहरण है किसी रेस्टोरेंट की वेबसाइट है: अगर रेस्टोरेंट भारत में है तो, हो सकता है कि रूस के लोगों की इसमें कोई दिलचस्पी न हो. मान लीजिए कि आपकी सामग्री हिन्दी में है लेकिन कई देशों/इलाकों के लोगों को इसमें दिलचस्पी हो सकती है तो, इसे देश या इलाके के हिसाब न टारगेट करना ही बेहतर होगा.

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?