वेबमास्टर दिशा-निर्देश

 

नीचे दिए गए सामान्य दिशा-निर्देशों का पालन करने से, Google को आपकी साइट ढूंढने, इंडेक्स करने, और रैंक देने में मदद मिलेगी.

हमारी सलाह है कि आप नीचे दिए गए क्वालिटी के लिए बने दिशा-निर्देशों का पालन करें. ये दिशा-निर्देश उन गलत कामों के बारे में बताते हैं, जिनकी वजह से किसी साइट को Google के इंडेक्स से पूरी तरह हटाया जा सकता है. इनसे यह भी पता चलता है कि स्पैम सामग्री पर किसी एल्गोरिद्म के ज़रिए या मैन्युअल रूप से की जाने वाली कार्रवाई से साइट पर कैसे असर पड़ सकता है. अगर स्पैम सामग्री पर की जाने वाली कार्रवाई की वजह से किसी साइट पर असर पड़ा है, तो शायद यह साइट Google.com या Google की किसी भी पार्टनर साइट के खोज नतीजों में दिखाई न दे.

सामान्य दिशा-निर्देश

अपनी साइट के पेजों को ढूंढने में Google की मदद करें
  • पक्का करें कि आपकी साइट के सभी पेजों पर ऐसे लिंक से पहुंचा जा सके जो किसी दूसरे पेज पर मौजूद हों. साथ ही, यह भी ध्यान रखें कि जिस पेज पर लिंक मौजूद हैं, उसे Google आसानी से ढूंढ सके. रेफ़रिंग लिंक में पेज की सामग्री के लिए टेक्स्ट या इमेज के लिए alt ऐट्रिब्यूट शामिल होना चाहिए, जो टारगेट पेज की सामग्री से मिलता-जुलता हो. जिन लिंक को क्रॉल किया जा सकता है, वे href विशेषता वाले<a> टैग होते हैं.
  • ऐसी साइटमैप फ़ाइल सबमिट करें जिसमें आपकी साइट के अहम पेजों के लिंक मौजूद हों. साथ ही, अपनी साइट पर एक पेज में इन पेजों के लिंक की सूची दें, जिसे लोग आसानी से पढ़ सकें. कभी-कभी इस पेज को साइट इंडेक्स या साइट मैप पेज भी कहा जाता है.
  • एक पेज पर ज़्यादा से ज़्यादा कुछ हज़ार लिंक होने चाहिए.
  • इस बात का ध्यान रखें कि आपकी साइट के वेब सर्वर पर If-Modified-Since एचटीटीपी हेडर काम करता हो. यह सुविधा वेब सर्वर के ज़रिए Google को बताती है कि पिछली बार क्रॉल करने के बाद आपकी साइट की सामग्री में बदलाव हुए हैं या नहीं. यह सुविधा इस्तेमाल करने से बैंडविड्थ और दूसरी चीज़ों की बचत होती है.
  • क्रॉलिंग बजट (एक दिन में क्रॉल होने वाले पेजों की संख्या) को प्रबंधित करने के लिए, अपने वेब सर्वर पर robots.txt फ़ाइल का इस्तेमाल करें. ऐसा करके, आप सर्च इंजन को ऐसे लिंक क्रॉल करने से रोकते हैं जो Google को या तो कोई नई जानकारी नहीं देते या बहुत कम नई जानकारी देते हैं. समय-समय पर robots.txt फ़ाइल अपडेट करते रहें. robots.txt फ़ाइल के ज़रिए पेजों को क्रॉल करना प्रबंधित करने का तरीका जानें. robots.txt फ़ाइल की जाँच करने वाले टूल का इस्तेमाल करके, अपनी robots.txt फ़ाइल के कवरेज और सिंटैक्स की जाँच करें.

अपनी साइट के पेजों को ढूंढने में Google की मदद करने के तरीके:

अपनी साइट के पेजों को समझने में Google की मदद करें
  • ऐसी साइट बनाएं, जो उपयोगकर्ता के लिए मददगार हो और जिससे उन्हें उनके काम की जानकारी मिल सके. साथ ही, पेजों में ऐसी जानकारी शामिल करें, जो उपयोगकर्ता को आपकी साइट की सामग्री के बारे में अच्छी और सटीक जानकारी दे सके.
  • उन शब्दों के बारे में सोचें, जिन्हें उपयोगकर्ता आपकी साइट ढूंढने के लिए टाइप करेंगे. इस बात का भी ध्यान रखें कि आपकी साइट की सामग्री में उन शब्दों का इस्तेमाल किया गया हो.
  • इस बात का भी ध्यान रखें कि <title> टैग और alt ऐट्रिब्यूट में ज़्यादा और अहम जानकारी शामिल हो. साथ ही, ये जानकारी सटीक भी होनी चाहिए.
  • अपनी साइट इस तरह डिज़ाइन करें, ताकि उपयोगकर्ता को अपने काम की जानकारी ढूंढने में परेशानी न हो.
  • इमेज, वीडियो, और स्ट्रक्चर्ड डेटा के लिए सुझाए गए सबसे अच्छे तरीकों का पालन करें.
  • जब आप सामग्री प्रबंधन सिस्टम (उदाहरण के लिए, Wix या WordPress) का इस्तेमाल कर रहे हों, तब पक्का करें कि यह ऐसे पेज या लिंक बनाए जिन्हें क्रॉल करना सर्च इंजन के लिए आसान हो.
  • अपनी साइट की सामग्री को अच्छी तरह समझने में Google की मदद करने के लिए, साइट पर मौजूद ऐसी सभी चीज़ों को क्रॉल करने की अनुमति दें जो पेज रेंडरिंग पर असर डालती हों. उदाहरण के लिए, सीएसएस और JavaScript फ़ाइलें जिनकी वजह से पेज की सामग्री को समझने पर असर होता है. Google इंडेक्स सिस्टम, वेब पेज को उसी तरह रेंडर करता है, जिस तरह किसी उपयोगकर्ता को वह पेज दिखाई देता है. इसमें इमेज, सीएसएस, और JavaScript फ़ाइलों को रेंडर करना भी शामिल है. यह देखने के लिए, यूआरएल जाँचने वाले टूल का इस्तेमाल करें कि Googlebot किन पेज एसेट को क्रॉल नहीं कर सकता है. साथ ही, अपनी robots.txt फ़ाइल में दिए गए निर्देशों को डीबग करने के लिए, robots.txt फ़ाइल की जाँच करने वाले टूल का इस्तेमाल करें.
  • सर्च बॉट को सत्र आईडी या यूआरएल पैरामीटर के बिना अपनी साइट क्रॉल करने दें. इनके ज़रिए साइट में पेज क्रॉल करने के पाथ का पता चलता है. इन तकनीकों से किसी उपयोगकर्ता के पेज इस्तेमाल करने के तरीकों पर नज़र रखने में मदद मिलती है, लेकिन बॉट किसी भी पेज को बिल्कुल अलग तरीके से एक्सेस करते हैं. इन तकनीकों का इस्तेमाल करने से, शायद बॉट आपकी साइट को पूरी तरह इंडेक्स न कर पाएं. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बॉट ऐसे यूआरएल को शायद न निकाल पाएं, जो अलग दिखाई देते हैं, लेकिन वे उपयोगकर्ता को एक ही पेज पर ले जाते हैं.
  • अपनी साइट की अहम सामग्री को डिफ़ॉल्ट रूप से पेज पर दिखाएं. Google, नेविगेट करने वाले एलिमेंट में छिपी एचटीएमएल सामग्री को भी क्रॉल कर सकता है. इन नेविगेट करने वाले एलिमेंट में, टैब और ऐसे सेक्शन शामिल हैं जिन्हें बड़ा करके देखा जा सकता है. हालांकि, हम मानते हैं कि इन नेविगेट करने वाले एलिमेंट में छिपी सामग्री उपयोगकर्ता को ज़्यादा दिखाई नहीं देती है. साथ ही, हमारा यह भी मानना है कि आपकी साइट की अहम जानकारी उपयोगकर्ता को साइट के पेज पर डिफ़ॉल्ट रूप से दिखनी चाहिए.
  • यह पक्का करने की पूरी कोशिश करें कि आपकी साइट के पेजों पर मौजूद विज्ञापन के लिंक, खोज नतीजों में साइट की रैंकिंग पर कोई असर नहीं डालते. उदाहरण के लिए, विज्ञापन के लिंक के बाद आने वाले क्रॉलर से बचने के लिए robots.txt, rel="nofollow" या rel="sponsored" का इस्तेमाल करें.
वेबसाइट पर आने वालों की मदद करें, ताकि वे साइट के पेज देख सकें
  • अहम नाम, सामग्री या लिंक को दिखाने के लिए, इमेज के बजाय टेक्स्ट का इस्तेमाल करें. अगर आप टेक्स्ट सामग्री के लिए किसी इमेज का इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो इमेज के साथ alt विशेषता का इस्तेमाल करें. ऐसा करके, आप उपयोगकर्ता को कुछ शब्दों में इमेज के बारे में जानकारी देते हैं.
  • पक्का करें कि आपने साइट के पेजों में जिन लिंक को शामिल किया है, उपयोगकर्ता उनका इस्तेमाल कर पाते हैं. मान्य एचटीएमएल इस्तेमाल करें.
  • पेज लोड होने के समय को ऑप्टिमाइज़ करें. उपयोगकर्ता ऐसी साइट पर जाना ज़्यादा पसंद करते हैं जो तेज़ी से खुलती हों. ऐसी साइटें वेब की क्वालिटी में भी सुधार करती हैं (खास तौर पर, ऐसे उपयोगकर्ताओं के लिए जो धीमी रफ़्तार वाले इंटरनेट कनेक्शन का इस्तेमाल करते हैं). Google का सुझाव है कि आप साइट के पेज की परफ़ॉर्मेंस जाँचने के लिए PageSpeed Insights और Webpagetest.org जैसे टूल का इस्तेमाल करें.
  • अपनी साइट को हर तरह और आकार के डिवाइस के हिसाब से डिज़ाइन करें. इनमें डेस्कटॉप, टैबलेट, और स्मार्टफ़ोन शामिल हैं. मोबाइल फ़्रेंडली जाँच टूल का इस्तेमाल करके जाँचें कि आपके पेज मोबाइल डिवाइस पर सही तरीके से काम कर रहे हैं या नहीं. यह टूल आपको सुझाव भी देगा कि किन चीज़ों को ठीक करना ज़रूरी है.
  • पक्का करें कि आपकी साइट अलग-अलग ब्राउज़र पर अच्छी तरह खुल रही है.
  • अगर मुमकिन हो, तो एचटीटीपीएस से अपनी साइट के कनेक्शन को सुरक्षित करें. उपयोगकर्ता और आपकी वेबसाइट के बीच शेयर की जा रही जानकारी को सुरक्षित करना, वेब पर सुरक्षित रहने का अच्छा तरीका है. 
  • पक्का करें कि आपकी साइट के पेज की सामग्री ऐसे उपयोगकर्ताओं के लिए भी मददगार है जिन्हें देखने में परेशानी होती है. उदाहरण के लिए, स्क्रीन रीडर की मदद से अपनी साइट के पेज की जाँच करें.

क्वालिटी के लिए दिशा-निर्देश

क्वालिटी के लिए बनाए गए ये दिशा-निर्देश आम तौर पर होने वाले भ्रामक या हेर-फेर करने वाले व्यवहार के बारे में बताते हैं. साथ ही, Google गुमराह करने वाली ऐसी किसी भी गतिविधि पर सख्त कार्रवाई कर सकता है, जिसके बारे में यहां नहीं बताया गया है. यह मान लेना सही नहीं है कि अगर इस पेज पर किसी भ्रामक गतिविधि के बारे में नहीं बताया गया है, तो Google उस पर कोई कार्रवाई नहीं करेगा. ज़रूरी और सामान्य बातों का पालन करने वाले वेबमास्टर की साइट को उपयोगकर्ता आसानी से इस्तेमाल कर पाते हैं. साथ ही, खोज नतीजों में उनकी साइट की रैंकिंग ऐसे वेबमास्टर की साइट की रैंकिंग से बेहतर होती है जो अपना समय सर्च इंजन की कमियों को खोजने और उनका फ़ायदा उठाने की कोशिश में बिताते हैं.

अगर आपको लगता है कि कोई दूसरी साइट, क्वालिटी के लिए बनाए गए Google के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करती है, तो कृपया स्पैम रिपोर्ट भेजकर हमें इसकी सूचना दें. Google का सिस्टम समस्याओं के ऐसे हल निकालता है, जो ज़रूरत के हिसाब से और अपने आप इस्तेमाल हो सकें. ऐसा करके, Google यह कोशिश करता है कि हर साइट के लिए खास तौर पर कार्रवाई करने की ज़रूरत कम से कम पड़े. हम हर शिकायत पर मैन्युअल रूप से कार्रवाई नहीं कर सकते हैं, इसलिए स्पैम रिपोर्ट को इस आधार पर अहमियत दी जाती है कि उस साइट के बारे में कितने उपयोगकर्ताओं ने किस हद तक शिकायत की है. साथ ही, कुछ मामलों में, साइट को Google के खोज नतीजों से पूरी तरह हटाया जा सकता है. हालांकि, मैन्युअल रूप से कार्रवाई करने के हर मामले में साइट को खोज नतीजों से हटाया नहीं जाता है. कुछ मामलों में, जब हम किसी ऐसी साइट पर कार्रवाई करते हैं जिसके ख़िलाफ़ शिकायत की गई थी, तो हो सकता है कि उस कार्रवाई के असर के बारे में किसी को साफ़ तौर पर पता न चले.

क्या Google वेबस्पैम पर मैन्युअल तरीके से कार्रवाई करता है?

मैट कट्स, वेबस्पैम पर मैन्युअल तरीके से की जाने वाली कार्रवाई के बारे में बता रहे हैं

सामान्य बातें

  • सर्च इंजन के बजाय उपयोगकर्ताओं को ध्यान में रखकर पेज बनाएं.
  • अपने उपयोगकर्ताओं को धोखा न दें.
  • खोज नतीजों में अपनी साइट की रैंकिंग सुधारने के लिए कोई गलत तरीका न अपनाएं. अगर आप यह जानना चाहते हैं कि आप जो तरीका अपना रहे हैं, वह सही है या नहीं, तो इस बारे में खुद से सवाल करें. अपने आप से पूछें क्या आप इस तरीके के बारे में किसी ऐसी साइट को बता सकते हैं, जो आपसे प्रतिस्पर्धा करती हो. साथ ही, क्या आप Google के किसी कर्मचारी को बिना कोई परेशानी महसूस किए इस बारे में बता पाएंगे. यह जानने का दूसरा तरीका यह है कि आप खुद से पूछें कि "क्या ऐसा करने से मेरे उपयोगकर्ताओं को कोई फ़ायदा होगा. अगर सर्च इंजन नहीं होता, तो भी क्या मैं ऐसा ही करता/करती?"
  • उन चीज़ों के बारे में सोचें, जिनकी मदद से आप अपनी साइट को दूसरी साइटों से अलग, उपयोगकर्ताओं के लिए फ़ायदेमंद और दिलचस्प बना सकते हैं. इस बात का ध्यान रखें कि आपकी साइट दूसरी साइटों से बेहतर हो.

खास दिशा-निर्देश

इन तकनीकों का इस्तेमाल करने से बचें:

इस तरह के अच्छे तरीकों का पालन करें:

  • अपनी साइट को हैक होने से बचाने के लिए उसकी निगरानी करना. साथ ही, ऐसी सामग्री को तुरंत हटाना जिसे आपने अपलोड नहीं किया है
  • अपनी साइट पर उपयोगकर्ता के बनाए गए स्पैम को रोकना और उन्हें हटाना

अगर आपकी साइट इनमें से एक या एक से ज़्यादा दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करती है, तो Google इसके ख़िलाफ़ मैन्युअल ऐक्शन कर सकता है. समस्या को हल करने के बाद, आप अपनी साइट को फिर से समीक्षा के लिए सबमिट कर सकते हैं.

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?