खोज नतीजों के लिए अच्छे शीर्षक और स्निपेट बनाना

Google किसी पेज के लिए पूरी तरह से अपने आप शीर्षक और जानकारी (या "स्निपेट") तैयार करता है. ऐसा करने के लिए उस पेज की सामग्री और उसके बारे में बताने वाले दूसरे पेज को ध्यान में रखा जाता है. स्निपेट और शीर्षक का मकसद हर खोज नतीजे को अच्छी तरह दिखाना और समझाना है. साथ ही, इनका मकसद यह बताना भी है कि खोज नतीजा उपयोगकर्ता की क्वेरी से कैसे जुड़ा है.

इस जानकारी के लिए हम कई अलग-अलग स्रोतों का इस्तेमाल करते हैं. इनमें शीर्षक में दी गई पूरी जानकारी और हर पेज के मेटा टैग शामिल हैं. हम सार्वजनिक तौर पर मौजूद जानकारी का इस्तेमाल कर सकते हैं, या पेज पर मौजूद मार्कअप के आधार पर रिच नतीजे बना सकते हैं.

हालांकि, हम हर साइट के लिए शीर्षक या स्निपेट को मैन्युअल तरीके से नहीं बदल सकते हैं, फिर भी हम उन्हें साइट के लिए जितना हो सके उतना कारगर बनाने के लिए लगातार काम कर रहे हैं. Google के दिशा-निर्देशों का पालन करके आप अपने पेज के लिए दिखाए जाने वाले शीर्षक और स्निपेट की क्वालिटी बेहतर बनाने में हमारी मदद कर सकते हैं.

पेज की ज़्यादा जानकारी देने वाला शीर्षक बनाना

उपयोगकर्ता को किसी खोज नतीजे की सामग्री के बारे में तुरंत जानकारी देने के लिए शीर्षक ज़रूरी होते हैं. साथ ही, इनसे उपयोगकर्ता को पता चलता है कि दिखाए जा रहे नतीजे उनकी खोज क्वेरी से कैसे जुड़े हैं. शीर्षक में आम तौर पर वह जानकारी होती है जिससे उपयोगकर्ता को पता चलता है कि कौनसा खोज नतीजा उसके काम का है और उसे किस पर क्लिक करना चाहिए. इसीलिए, आपके वेब पेजों पर मौजूद शीर्षक अच्छी क्वालिटी के होने चाहिए.

नीचे दी गई सलाह की मदद से आप अपने पेजों के शीर्षक प्रबंधित कर सकते हैं:

  • जैसा कि ऊपर बताया गया है, यह पक्का कर लें कि आपकी साइट के हर पेज में वह शीर्षक मौजूद हो जिसके बारे में <title> टैग में बताया गया है.
  • पेज के शीर्षक कम शब्दों में ज़्यादा जानकारी देने वाले होने चाहिए. ऐसा कोई शब्द इस्तेमाल न करें जिससे उपयोगकर्ता को सही मतलब समझ न आए, जैसे कि अपने होम पेज के लिए "होम" या किसी खास व्यक्ति की प्रोफ़ाइल के लिए "प्रोफ़ाइल" न लिखें. ज़रूरत न हो, तो लंबे या ज़्यादा शब्दों वाले शीर्षक भी इस्तेमाल न करें. खोज नतीजों में दिखाते समय इन्हें काटकर छोटा किया जा सकता है.
  • कीवर्ड स्टफ़िंग (बार-बार एक जैसे कीवर्ड डालने) से बचें. कई बार शीर्षक में ज़्यादा जानकारी देने वाले शब्दों का इस्तेमाल करना मददगार होता है लेकिन एक ही शब्द या वाक्य को दोहराने की ज़रूरत नहीं है. "Foobar, foo bar, foobars, foo bars" जैसे शीर्षक उपयोगकर्ता के लिए मददगार नहीं होते हैं. इस तरह बार-बार एक जैसे कीवर्ड डालने से Google और उपयोगकर्ता आपके खोज नतीजों को स्पैम समझ सकते हैं.
  • दोहराव वाले या मामूली बदलाव वाले शीर्षक लिखने से बचें. अपनी साइट के हर पेज के लिए अलग-सा और ज़्यादा जानकारी देने वाला शीर्षक बनाना बहुत ज़रूरी होता है. किसी कारोबार से जुड़ी साइट के हर पेज पर "सस्ते उत्पादों की सेल" जैसा शीर्षक देना सही नहीं है. ऐसा करने से उपयोगकर्ता को सभी पेज एक जैसे लगेंगे और वह अपनी ज़रूरत का पेज नहीं ढूंढ पाएगा. ऐसे लंबे शीर्षक जिनमें दी गई जानकारी में सिर्फ़ कुछ शब्दों का फ़र्क़ ("बॉयलरप्लेट" शीर्षक) होता है, वे भी ठीक नहीं होते हैं. उदाहरण के लिए, "<band name> - वीडियो, गाने के बोल, पोस्टर, एल्बम, समीक्षाएं, और कॉन्सर्ट देखें" इस शीर्षक में ऐसे कई शब्द हैं जो कोई खास जानकारी नहीं देते हैं. इस परेशानी का एक हल है कि आप पेज के शीर्षक को समय-समय पर बदलते रहें. ऐसा करने से खोज नतीजों में पेज की सामग्री अच्छी तरह दिखाई देगी: उदाहरण के लिए, "वीडियो", "गाने के बोल" जैसे शब्द सिर्फ़ तब इस्तेमाल करें जब पेज में कोई वीडियो या किसी गाने के बोल शामिल हों. इस परेशानी का दूसरा हल यह है कि आप "<band name>" को एक छोटे शीर्षक की तरह इस्तेमाल करें. साथ ही, अपनी साइट की सामग्री के बारे में बताने के लिए मुख्य जानकारी (नीचे देखें) का इस्तेमाल करें.
  • अपने शीर्षक की ब्रैंडिंग करें, लेकिन सोच-समझकर. अपनी साइट के बारे में ज़्यादा जानकारी देने के लिए, आप साइट के होम पेज के शीर्षक का इस्तेमाल कर सकते हैं. उदाहरण के लिए, "एबीसीसोशलमीडियासाइट, लोगों के मिलने और एक-दूसरे से जुड़ने की जगह." लेकिन साइट के हर पेज पर एक जैसा शीर्षक लिखने से उपयोगकर्ता परेशान हो सकते हैं. साथ ही, अगर किसी खोज के लिए नतीजों में आपकी साइट के कई पेज दिखाई देंगे तो, शायद यह उपयोगकर्ता को पसंद न आए. इस समस्या से बचने के लिए अपनी साइट का नाम हर पेज के शीर्षक की शुरुआत या आखिर में लिखें. साथ ही, हाइफ़न, कोलन या पाइप जैसे डीलिमिटर का इस्तेमाल करके अपनी साइट के नाम को बाकी के शीर्षक से अलग करें, जैसे:
    <title>एबीसीसोशलमीडियासाइट: नया खाता बनाने के लिए साइन अप करें.</title>
  • अपने पेज क्रॉल करने के लिए खोज इंजन को मंज़ूरी न देने के बारे में सावधानी बरतें. अगर आप अपनी साइट पर robots.txt प्रोटोकॉल का इस्तेमाल करते हैं, तो Google आपके पेज क्रॉल नहीं कर पाएगा, लेकिन यह ज़रूरी नहीं कि ऐसा करने से साइट, इंडेक्स होने से बच जाए. उदाहरण के लिए, अगर Google को किसी दूसरी साइट से आपके पेज का लिंक मिलता है, तब भी हम इसे इंडेक्स कर सकते हैं. खोज नतीजों में आपका पेज दिखाने के लिए Google को एक शीर्षक की ज़रूरत होती है. लेकिन हमारे पास आपके पेज की सामग्री का एक्सेस न होने से हमें आपके पेज के बारे में दूसरी साइट पर मौजूद एंकर टेक्स्ट जैसी सामग्री इस्तेमाल करनी पड़ती है. (किसी यूआरएल को इंडेक्स होने से पूरी तरह रोकने के लिए, आप "noindex" निर्देश का इस्तेमाल कर सकते हैं.)

खोज नतीजों में दिखाई देने वाले शीर्षक, पेज के <title> टैग से क्यों अलग हो सकते हैं

किसी नतीजे में शीर्षक से जुड़ी ऊपर बताई गई कोई भी गड़बड़ी होती है, तो हम एंकर, पेज पर मौजूद जानकारी या दूसरे स्रोत से एक बेहतर शीर्षक बनाने की कोशिश करेंगे. हालांकि, कई बार ऐसा भी हो सकता है कि अच्छी तरह से तैयार, छोटे, और ज़्यादा जानकारी देने वाले शीर्षक खोज नतीजों में अलग शीर्षक के साथ दिखाई दें. पेज को खोज में बेहतर तरीके से दिखाने के लिए ऐसा किया जाता है. ऐसा इसलिए किया जाता है क्योंकि वेबमास्टर की ओर से दिए गए शीर्षक टैग में कोई बदलाव नहीं किया जा सकता है भले ही किसी भी तरह की क्वेरी की गई हो.

जब हमें पता चलता है कि उपयोगकर्ता क्या ढूंढ रहा है तब हम किसी ऐसे पेज से वैकल्पिक लेख ले लेते हैं, जो उपयोगकर्ता की क्वेरी से ज़्यादा मेल खाता है. इस वैकल्पिक लेख का इस्तेमाल शीर्षक के रूप में करने से उपयोगकर्ता को मदद मिलती है. साथ ही, आपकी साइट का फ़ायदा भी होता है. उपयोगकर्ता दिखाए गए नतीजों में अपनी क्वेरी से जुड़े नतीजे या अपने काम की दूसरी जानकारी ढूंढते हैं. ऐसे में उपयोगकर्ता की क्वेरी के आधार पर बनाए गए शीर्षक से, इस बात की संभावना बढ़ जाती है कि वह इस पर क्लिक करे.

अगर खोज नतीजों में आपके पेज किसी दूसरे शीर्षक के साथ दिख रहे हैं, तो यह जाँच लें कि आपके शीर्षक में ऊपर बताई गई कोई गड़बड़ी तो नहीं है. अगर आपके दिए गए शीर्षक में कोई गड़बड़ी नहीं है तो, हो सकता है कि वैकल्पिक शीर्षक उपयोगकर्ता की खोज के हिसाब से बेहतर हो. अगर आपको अभी भी लगता है कि आपका डाला गया शीर्षक बेहतर है तो, वेबमास्टर सहायता फ़ोरम में हमें बताएं.

स्निपेट कैसे बनाए जाते हैं

पेज पर मौजूद सामग्री से अपने आप स्निपेट बनते हैं. स्निपेट उस पेज की सामग्री पर ज़ोर देने और उसकी झलक देखने के लिए तैयार किए जाते हैं जो उपयोगकर्ता की खास खोज से अच्छी तरह मेल खाती है. इसका मतलब है कि कोई पेज अलग-अलग खोज के लिए अलग-अलग स्निपेट दिखा सकता है.

साइट के मालिक दो मुख्य तरीकों से हमारे बनाए गए स्निपेट के लिए सामग्री का सुझाव दे सकते हैं: ज़्यादा बेहतर नतीजे (रिच रिज़ल्ट) और मुख्य जानकारी वाले टैग.

स्निपेट के प्रज़ेंटेशन में छोटे-मोटे बदलाव करने का तरीका

दूसरा तरीका यह है कि आप स्निपेट बनाए जाने और आपकी साइट के लिए खोज नतीजों में इन्हें दिखाए जाने से रोक सकते हैं. इसके अलावा, आप Google को यह बता सकते हैं कि आपके स्निपेट ज़्यादा से ज़्यादा कितने लंबे होने चाहिए. बिना स्निपेट वाले मेटा टैग का इस्तेमाल करें, ताकि Google को खोज नतीजों में आपके पेज के लिए स्निपेट दिखाने से रोका जा सके. इसके अलावा, आप अपने खोज नतीजों के स्निपेट की ज़्यादा से ज़्यादा लंबाई बताने के लिएज़्यादा से ज़्यादा स्निपेट:[number] मेटा डेटा का इस्तेमाल कर सकते हैं. आप बिना स्निपेट वाला डेटा टैग का इस्तेमाल करके पेज की सामग्री के कुछ हिस्सों को स्निपेट में दिखाए जाने से रोक भी सकते हैं.

अच्छी मुख्य जानकारी तैयार करने का तरीका

Google कभी-कभी खोज नतीजों के स्निपेट बनाने के लिए, किसी पेज के <meta> जानकारी वाले टैग का इस्तेमाल करता है. ऐसा तब होता है, जब हमें लगता है कि मेटा जानकारी वाला टैग, पेज पर मौजूद सामग्री के मुकाबले उपयोगकर्ता को ज़्यादा सटीक जानकारी देता है. मुख्य जानकारी वाला टैग आम तौर पर उपयोगकर्ताओं को जानकारी देने वाला और उनकी दिलचस्पी बढ़ाने वाला होना चाहिए. साथ ही, यह ऐसा होना चाहिए जो उपयोगकर्ता को कम शब्दों में बता सके कि पेज पर मौजूद सामग्री किस बारे में है. जिस तरह कोई विज्ञापन किसी उत्पाद के बारे में बताता है, उसी तरह यह उपयोगकर्ता को भरोसा दिलाता है कि यह वही पेज है जिसकी उसे तलाश है. हालांकि, स्निपेट की लंबाई को लेकर कोई सीमा नहीं तय की गई है. फिर भी खोज नतीजों में दिखने वाले स्निपेट की लंबाई कम की जा सकती है ताकि वे डिवाइस की चौड़ाई में फ़िट हो सकें.

  • अच्छी तरह जाँच लें कि आपकी साइट के हर पेज की मेटा जानकारी मौजूद हो.
  • अलग-अलग पेजों की जानकारी में अंतर रखें. अगर आपने पेज इस तरह डिज़ाइन किए हैं कि वे खोज नतीजों में अलग-अलग भी दिखाई दें, तो हर एक पेज पर एक ही या मिलती-जुलती जानकारी देना ठीक नहीं होता है. ऐसे मामलों में, हम ऐसी सामग्री का इस्तेमाल शायद ही करते हैं जिसे मूल सामग्री में छोटे-मोटे बदलाव करके बनाया गया हो. जहां भी मुमकिन हो, ऐसी जानकारी डालें जो किसी खास पेज के बारे में अच्छी तरह बता सके. साइट के होम पेज या किसी दूसरे पेज पर साइट से जुड़ी जानकारी इस्तेमाल करें. बाकी जगहों पर, पेज से जुड़ी जानकारी इस्तेमाल करें. अगर आपके पास हर पेज के लिए मेटा जानकारी डालने का समय नहीं है, तो यह तय करें कि कौनसे यूआरएल ज़्यादा ज़रूरी हैं.
  • जानकारी में ऐसी बातें शामिल करें जिन्हें टैग के ज़रिए साफ़ तौर पर बताया गया हो. मेटा जानकारी में आप न सिर्फ़ टैग के बारे में, बल्कि पेज से जुड़ी जानकारी भी दे सकते हैं. उदाहरण के लिए, समाचार या ब्लॉग पोस्ट में लेखक, प्रकाशन की तारीख या लेखक का नाम शामिल हो सकता है. इससे वेबसाइट पर आने वाले लोगों को उनके काम की वह जानकारी मिल पाएगी जो स्निपेट में शायद न दिखाई गई हो. इसी तरह, उत्पाद से जुड़े पेज में कीमत, उम्र, बनाने वाले से जुड़ी जानकारी शामिल हो सकती है जो पेज पर ठीक तरीके से नहीं दी गई है. अच्छी तरह तैयार की गई मेटा जानकारी में इस तरह का सभी डेटा एक साथ शामिल हो सकता है. उदाहरण के लिए, नीचे दी गई मेटा जानकारी एक किताब के बारे में अच्छी तरह से बताती है.
    <meta name="Description" content="Written by A.N. Author, 
    Illustrated by V. Gogh, Price: $17.99, 
    Length: 784 pages">
    इस उदाहरण में जानकारी को अच्छी तरह टैग किया गया है और इसे एक-दूसरे से अलग करके डाला गया है.
  • किसी प्रोग्राम के ज़रिए जानकारी तैयार करने का तरीका. समाचार मीडिया स्रोत जैसी कुछ साइट के लिए हर पेज की सही और अलग जानकारी बनाना आसान होता है: हर लेख हाथ से लिखा गया होता है इसलिए एक वाक्य की जानकारी जोड़ने में ज़्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती. जिन वेबसाइट का डेटाबेस बहुत बड़ा होता है उनके लिए हाथ से जानकारी लिखना मुश्किल होता है, जैसे उत्पाद से जुड़ी जानकारी देने वाली साइट. ऐसे मामलों में, किसी प्रोग्राम के ज़रिए जानकारी तैयार करना सही होता है. हम ऐसा करने का सुझाव देते हैं. लोग अच्छी जानकारी को आसानी से पढ़ और समझ पाते हैं. पेज से जुड़े डेटा के लिए प्रोग्राम की मदद से जानकारी बनाना सही तरीका है. ध्यान रखें कि लंबे कीवर्ड से बनी मेटा जानकारी, उपयोगकर्ता को पेज पर मौजूद सामग्री के बारे में अच्छी तरह नहीं समझा पाती. साथ ही, हो सकता है कि यह आम तौर पर दिखाई देने वाले स्निपेट की जगह पर दिखाई न दे.
  • अच्छी क्वालिटी वाली जानकारी का इस्तेमाल करें. आखिर में, इस बात का ध्यान रखें कि आपकी जानकारी में ज़्यादा से ज़्यादा चीज़ें शामिल हों. मेटा जानकारी उपयोगकर्ता को पेज पर दिखाई नहीं देती है, इसलिए आप मान सकते हैं कि यह जानकारी देना आपके लिए फ़ायदेमंद नहीं है. अच्छी क्वालिटी वाली जानकारी Google के खोज नतीजों में दिख सकती है. इससे आपकी साइट पर आने वाला ट्रैफ़िक भी बढ़ेगा. साथ ही, आपकी साइट पर आने वाले ऐसे लोगों की संख्या बढ़ेगी जिन्हें ध्यान में रखकर आपने सामग्री तैयार की थी.
क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?