ऐप्लिकेशन खोजना और उसकी रैंकिंग

हमारा मकसद है कि लोगों को Google Play पर मौजूद लाखों ऐप्लिकेशन और गेम में से अपनी पसंद के ऐप्लिकेशन और गेम आसानी से खोजने में मदद मिल सके. 

लोग Google Play पर ऐप्लिकेशन की जानकारी ले सकते हैं. वे ऐप्लिकेशन को अलग-अलग तरह के कई डिवाइस पर अलग-अलग तरीकों से इंस्टॉल करने के तरीकों के बारे में भी जान सकते हैं. इन डिवाइस में फ़ोन, टैबलेट, और टीवी शामिल हैं. उदाहरण के लिए, लोग होम पेज या सब नेविगेशन पेज ब्राउज़ कर सकते हैं, किसी ऐप्लिकेशन को खोज सकते हैं, और ऐप्लिकेशन के ज़्यादा जानकारी वाले पेज पर जाकर जानकारी पा सकते हैं. इसके अलावा, वे संपादकों के चुने हुए लेख भी पढ़ सकते हैं. 

हम चाहते हैं कि लोगों को अपनी पसंद के मुताबिक कॉन्टेंट दिखे और जिन ऐप्लिकेशन को उन्होंने डाउनलोड किया है उनसे उन्हें अच्छा अनुभव मिले. आम तौर पर, हम उन ऐप्लिकेशन को बढ़ावा देते हैं जो अच्छी क्वालिटी के होते हैं और ज़्यादातर लोगों के काम के होते हैं. अपने ऐप्लिकेशन को ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुंचाने के लिए डेवलपर को ऐसा ऐप्लिकेशन बनाना चाहिए जिसका लोग आनंद लें और दूसरों को उसका सुझाव भी दें.

हम Google Play पर खोज से जुड़े अनुभव की जांच करते रहते हैं और उसे बेहतर बनाते रहते हैं. इसके लिए, हम खोज के नए पेज जोड़ते हैं, तरह-तरह के विज़ुअल फ़ॉर्मैट और लेआउट अपनाकर देखते हैं, और रैंकिंग एल्गोरिदम की सुविधा को बेहतर बनाते हैं.

ऐप्लिकेशन के बारे में समझना

सही समय पर सही ऐप्लिकेशन खोजने में लोगों की मदद करने के लिए, Google Play को ऐप्लिकेशन के कॉन्टेंट और उसकी सुविधाओं को समझने की ज़रूरत होती है. 

जब कोई डेवलपर Google Play पर किसी ऐप्लिकेशन को सबमिट करता है, तो वह उस ऐप्लिकेशन के बारे में जानकारी देता है. इसमें ऐप्लिकेशन की विशेषताओं (जैसे कि ऐप्लिकेशन का नाम, ब्यौरा, उसकी कैटेगरी, और ग्राफ़िक रचना), सुविधाओं, और उसके कॉन्टेंट के बारे में जानकारी शामिल होती है.  इसके अलावा, Google उस ऐप्लिकेशन की अन्य विशेषताओं की भी पहचान करता है (उदाहरण के लिए, ऐप्लिकेशन “एक से ज़्यादा खिलाड़ियों वाला” गेम है) और ऐप्लिकेशन इस्तेमाल करने वाले लोगों के सुझावों, राय या शिकायतों का विश्लेषण करता है (उदाहरण के लिए, ऐप्लिकेशन में लोगों की दिलचस्पी, रेटिंग, और समीक्षाओं की मदद से). इस जानकारी से पता चलता है कि रैंकिंग को लेकर Google का क्या नज़रिया है. यह जानकारी, ऐप्लिकेशन व्यवस्थित करने और उन्हें लोगों के सामने पेश करने में Google की मदद करती है. भले ही वे कुछ नया ब्राउज़ कर रहे हों या किसी खास नाम से ऐप्लिकेशन खोज रहे हों.

ऐप्लिकेशन व्यवस्थित करना और उन्हें रैंक देना

लोग Google Play पर ऐप्लिकेशन खोजने के लिए कई तरीकों का इस्तेमाल कर सकते हैं. हम Play में ऐप्लिकेशन व्यवस्थित करके यह तय करना चाहते हैं कि कौनसे और कितने ऐप्लिकेशन डिसप्ले करने चाहिए. साथ ही, हम उन ऐप्लिकेशन को डिसप्ले करने का वह तरीका भी तय करना चाहते हैं जो उपयोगकर्ता के लिए आसान हो.  ऐप्लिकेशन को कई चीज़ों के हिसाब से व्यवस्थित किया जाता है. इनमें ये भी शामिल हैं:

  • उपयोगकर्ता के लिए ऐप्लिकेशन कितने काम का है: उपयोगकर्ता के लिए सबसे ज़्यादा काम के ऐप्लिकेशन कौनसे हैं, यह इस हिसाब से तय किया जाता है कि वे क्या ब्राउज़ कर रहे हैं या कुछ खोजते हुए किस तरह की क्वेरी का इस्तेमाल कर रहे हैं. 
  • ऐप्लिकेशन से मिले अनुभव की क्वालिटी: जिन ऐप्लिकेशन की तकनीकी परफ़ॉर्मेंस अच्छी है और उपयोगकर्ता अनुभव भी अच्छा है उन्हें आम तौर पर कम क्वालिटी वाले ऐप्लिकेशन से ज़्यादा पसंद किया जाता है.
  • संपादकों की राय: Google Play पर लोगों को चुने हुए सुझाव मिलते हैं. इनसे, दिलचस्प और ध्यान देने लायक कॉन्टेंट खोजने में मदद मिलती है.  
  • विज्ञापन: कुछ डेवलपर ठीक उसी तरह Google Play पर विज्ञापन देते हैं जिस तरह वे दूसरी Google प्रॉपर्टीज़ पर विज्ञापन देते हैं. ये विज्ञापन खास तौर पर और अन्य कॉन्टेंट के साथ दिखते हैं. 
  • उपयोगकर्ता अनुभव: Google Play यह पक्का करने की कोशिश करता है कि उस पर मौजूद तरह-तरह के ऐप्लिकेशन में से लोगों को सही ऐप्लिकेशन चुनने का अच्छा अनुभव मिल सके.

रैंकिंग पर असर डालने वाली इन मुख्य बातों की अहमियत अलग-अलग तरह से इस हिसाब से तय होती है कि Google Play पर उपयोगकर्ता क्या ढूंढ रहा है, किस डिवाइस का इस्तेमाल कर रहा है, और उसकी निजी प्राथमिकताएं क्या हैं. उदाहरण के लिए, प्रमुख चार्ट पर दिखने वाले ऐप्लिकेशन ज़्यादातर लोकप्रियता के हिसाब से तय होते हैं, जबकि खोज के नतीजों में दिखने वाले ऐप्लिकेशन ज़्यादातर मामलों में उपयोगकर्ता की क्वेरी के हिसाब से दिखते हैं. साथ ही, कुछ ऐप्लिकेशन अलग-अलग डिवाइस के लिए ऑप्टिमाइज़ किए जाते हैं और मोबाइल के बजाय टीवी पर खोजे जाने पर, उन्हें ज़्यादा रैंक मिल सकती है. उदाहरण के लिए, हो सकता है कि वे ऐप्लिकेशन सिर्फ़ कुछ डिवाइस पर मौजूद हों, (जैसे कि कार). 

रैंकिंग पर असर डालने वाली मुख्य वजहों की ज़्यादा जानकारी:

A. ऐप्लिकेशन उपयोगकर्ता के काम का हो

हम लोगों को ऐसा कॉन्टेंट दिखाना चाहते हैं जो उनके काम का हो.  सबसे पहले यह देखना चाहिए कि उपयोगकर्ता Google Play के किस प्लैटफ़ॉर्म का इस्तेमाल कर रहा है. यह भी पक्का करना चाहिए कि ऐप्लिकेशन उसके लिए उपलब्ध हों और उसके काम के हों.  उदाहरण के लिए, कुछ ऐप्लिकेशन कुछ ही देशों में उपलब्ध होते हैं या कुछ ही डिवाइस पर काम करते हैं, जैसे कि Android TV. ये डिवाइस किसी खास नाप या आकार के हो सकते हैं.

लोगों को उनके काम का कॉन्टेंट देने के लिए, हमें यह भी तय करना होगा कि वे क्या चाहते हैं.  हम इंप्लिसिट या एक्सप्लिसिट सिग्नल के हिसाब से उपयोगकर्ता का इंटेंट तय कर सकते हैं.  उदाहरण के लिए, अगर कोई उपयोगकर्ता “बच्चे” टैब जैसी किसी खास जगह पर जाता है (शिक्षकों से मंज़ूरी मिले ऐप्लिकेशन वाले हमारे कार्यक्रम के बारे में ज़्यादा जानें), तो इसका मतलब यह है कि वह सिर्फ़ बच्चों के लिए बनाए गए ऐप्लिकेशन में अपनी दिलचस्पी दिखा रहा है. इसी तरह, अगर वह “चुनिंदा ऐप्लिकेशन” टैब पर जाता है, तो इसका मतलब यह है कि वह Google Play के संपादकों के सुझाए गए ऐप्लिकेशन ही देखना चाहता है.  

जब उपयोगकर्ता खोजने की सुविधा का इस्तेमाल कर रहा हो, तो हमें उसकी क्वेरी का इंटेंट अच्छी तरह पता होना चाहिए. इसके लिए, हम उसके लिखे गए शब्दों को समझकर यह जानने की कोशिश करते हैं कि उपयोगकर्ता किसी खास ऐप्लिकेशन को खोज रहा है (लिखे हुए शब्दों, जैसे कि ऐप्लिकेशन के नाम से हम इसका पता लगाते हैं) या ऐप्लिकेशन की किसी कैटेगरी को (जैसे कि रेसिंग गेम). इसमें, खोजे गए शब्द से मिलते-जुलते दूसरे शब्दों को पहचानना भी शामिल हो सकता है, ताकि सही नतीजे दिखाए जा सकें.  जब हम इंटेंट तय कर लेते हैं, तो मेटाडेटा (जैसे कि नाम, जानकारी, कैटेगरी) और दूसरे सिग्नल का इस्तेमाल करके यह जान सकते हैं कि कौनसे ऐप्लिकेशन उपयोगकर्ता की क्वेरी का सबसे सही जवाब दे रहे हैं. जब इंटेंट सटीक होता है (जैसे कि किसी ऐप्लिकेशन या गेम से पूरी तरह मेल खाने वाले नाम की खोज), तो हम उसी नाम से जुड़े नतीजे दिखाते हैं. हालांकि, जब इंटेंट सटीक नहीं होता (उदाहरण के लिए, “फ़ोटो में बदलाव करने वाले ऐप्लिकेशन” की खोज), तब कई ऐप्लिकेशन काम के हो सकते हैं. Google Play पर मौजूद कॉन्टेंट दूसरे सिग्नल की वजह हो सकता है. हमारा मानना है कि इससे लोगों को ऐसे ऐप्लिकेशन खोजने में मदद मिलेगी जो उन्हें बेहतर अनुभव देंगे. ऐप्लिकेशन की क्वालिटी जैसी नीचे दी गई दूसरी वजहों या इस बात से दूसरे सिग्नल मिल सकते हैं कि लोग दी गई किसी क्वेरी के नतीजों पर कैसी प्रतिक्रिया देते हैं.  हम 'Play फ़िल्में' और 'किताबों' का कॉन्टेंट भी शामिल कर सकते हैं. ऐसा हम तब करेंगे, जब हमें लगेगा कि लोग खोज की सुविधा का इस्तेमाल करते समय ऐसा कॉन्टेंट ढूंढ रहे हैं.

हमें 190 से भी ज़्यादा देशों के करोड़ों लोगों की ज़रूरतों का ध्यान रखना होगा. इनमें अलग-अलग उम्र समूह के लोग शामिल हैं. इसके लिए, हम इस बात का भी ध्यान रखते हैं कि Google Play पर मोजूद कोई ऐप्लिकेशन ज़्यादातर लोगों के लिए सही हो सकता है या नहीं. साथ ही, यह भी देखा जाता है कि ऐप्लिकेशन उनके काम का हो सकता है या नहीं. अगर ऐप्लिकेशन सिर्फ़ कुछ कामों के लिए ही बना हो या दर्शकों के कुछ खास समूहों को ही टारगेट करता हो, तो हो सकता है कि Google Play पर ऐप्लिकेशन को सिर्फ़ तब ही दिखाया जाए, जब हम पूरे भरोसे के साथ (उदाहरण के लिए, खोज क्वेरी या ब्राउज़िंग की स्थिति की मदद से ) यह पता लगा पाएं कि कोई व्यक्ति खास तौर पर इसी तरह का ऐप्लिकेशन ढूंढ रहा है.  हम लोगों को उनकी पसंद के हिसाब से सुझाव भी दिखा सकते हैं. उदाहरण के लिए, हम उस जानकारी का इस्तेमाल कर सकते हैं जो हमने "आपके लिए" क्लस्टर में ऐप्लिकेशन के सुझाव जनरेट करने के लिए इकट्ठा की है (जैसे कि वे ऐप्लिकशन जिन्हें कोई व्यक्ति पहले इंस्टॉल कर चुका है). Google निजता नीति इस बारे में ज़्यादा जानकारी देती है कि Google अपनी सेवाओं और लोगों की निजता सेटिंग को उनके हिसाब से कैसे बनाता है.

B. ऐप्लिकेशन इस्तेमाल करने के अनुभव की क्वालिटी

Android के उपयोगकर्ता ऐसे ऐप्लिकेशन इस्तेमाल करना चाहते हैं जो अच्छी क्वालिटी के हों. इसका मतलब है कि वे ऐप्लिकेशन अच्छा उपयोगकर्ता अनुभव देते हों और डिवाइस की आम सुविधाओं के अलावा, कुछ खास सुविधाएं भी देते हों.  हम अच्छी क्वालिटी वाले ऐप्लिकेशन को भी फ़ायदेमंद समझते हैं, क्योंकि हमें लगता है कि जब लोगों को इंस्टॉल किए गए ऐप्लिकेशन इस्तेमाल करने पर अच्छा अनुभव मिलेगा, तब वे Google Play पर मौजूद ऐप्लिकेशन की क्वालिटी पर भरोसा करेंगे. इससे पूरे नेटवर्क को फ़ायदा होगा.

हम मैन्युअल सिग्नल और एल्गोरिदम वाले तरीकों, दोनों का इस्तेमाल करते हैं, ताकि यह पक्का किया जा सके कि लोगों को सुझाए गए ऐप्लिकेशन अच्छी क्वालिटी के हों.  "ऐप्लिकेशन की क्वालिटी" का मतलब सिर्फ़ उसके इस्तेमाल के अनुभव से नहीं होता है, बल्कि ऐप्लिकेशन को इंस्टॉल करने से पहले उसके बारे में जानकारी देने वाली चीज़ें भी क्वालिटी के बारे में बताती हैं. उदाहरण के लिए, ऐप्लिकेशन का आइकॉन, शीर्षक, स्क्रीनशॉट, वीडियो, ब्यौरा, और लिंक. इन चीज़ों की मदद से, लोगों को फ़ैसला लेने में आसानी होनी चाहिए. साथ ही, इन्हें ऐप्लिकेशन और उसकी खास बातों के बारे में अच्छी तरह बताना चाहिए. डेवलपर से ग्राहकों को जो सहायता मिलती है उसका अनुभव भी ऐप्लिकेशन की क्वालिटी के बारे में बता सकता है.  यहां उन दूसरी बातों के बारे में बताया गया है जिनसे यह पता चल सकता है कि ऐप्लिकेशन की क्वालिटी अच्छी है: 

  • ऐप्लिकेशन, एक जैसे और आसान उपयोगकर्ता अनुभव के लिए स्टैंडर्ड विज़ुअल डिज़ाइन और उपयोगकर्ता इंटरैक्शन पैटर्न देता हो; 
  • अगर ऐप्लिकेशन में विज्ञापन दिखाए जाते हैं, तो उसका अनुभव अच्छा होना चाहिए;
  • ऐप्लिकेशन उम्मीद के मुताबिक काम करता हो. साथ ही, उसमें उम्मीद के मुताबिक कॉन्टेंट और सुविधाएं हों; और
  • ऐप्लिकेशन की परफ़ॉर्मेंस, स्थिरता, और जवाब देने में लगने वाला समय लोगों की उम्मीद के मुताबिक हो. साथ ही, ऐप्लिकेशन लोगों की उम्मीद के मुताबिक डिवाइस पर काम करता हो. 

ऐप्लिकेशन की क्वालिटी अच्छी है या हल्की, इस बात का पता लगाने से यह पक्का करने में मदद मिलती है कि जो ऐप्लिकेशन लोगों को काफ़ी कम सुविधाएं देते हैं या जिनकी परफ़ॉर्मेंस उनकी उम्मीद के मुताबिक नहीं है वे उन प्लैटफ़ॉर्म पर न दिखें जहां लोग नए ऐप्लिकेशन के सुझाव देखने जाते हैं. साथ ही, इससे यह पक्का करने में भी मदद मिलती है कि इस तरह के ऐप्लिकेशन खोज के नतीजों में सबसे ऊपर न दिखें. ऐप्लिकेशन की क्वालिटी से यह पता लगाने में मदद मिलेगी कि Google Play पर ऐप्लिकेशन किस तरह व्यवस्थित किए जाएं. इसलिए, हम डेवलपर को उनके ऐप्लिकेशन की क्वालिटी बेहतर बनाने में मदद करने के लिए दिशा-निर्देश और टूल उपलब्ध कराने की पूरी कोशिश करते हैं. हम डेवलपर को जांच के दिशा-निर्देशों उपलब्ध कराते हैं, ताकि वे अपने ऐप्लिकेशन के लिए क्वालिटी के मुख्य पहलुओं का आकलन कर सकें. साथ ही, डेवलपर को अन्य दिशा-निर्देश भी उपलब्ध कराए जाते हैं, ताकि यह पक्का किया जा सके कि वे एक बेहतरीन उपयोगकर्ता अनुभव दें और उन्हें Wear OS, टीवी, और ऑटो ऐप्लिकेशन के बारे में ज़्यादा जानकारी मिल जाए. इसके अलावा, इससे यह भी पक्का किया जाता है कि उन्हें Google Play गेम सेवाओं का इस्तेमाल करने वाले डेवलपर के लिए बनाई गई चेकलिस्ट भी मिल जाए.  हम डेवलपर को ऐप्लिकेशन के लॉन्च से पहले फिर से सोचने और ऐप्लिकेशन की क्वालिटी को बेहतर बनाने का मौका देते हैं. वे संगठन में काम करने वाले, कुछ चुने हुए, और सभी लोगों के लिए उपलब्ध जांच वाले ट्रैक के जांचकर्ताओं से सुझाव और राय इकट्ठा करके ऐसा कर सकते हैं. हम डेवलपर को ऐप्लिकेशन की क्वालिटी सुधारने की सलाह और Academy for App Success में संसाधन भी उपलब्ध कराते हैं. Google Play Console में, डेवलपर ऐप्लिकेशन के आंकड़े, Android की ज़रूरी जानकारी जैसे टूल का इस्तेमाल करके, तकनीकी परफ़ॉर्मेंस का विश्लेषण कर सकते हैं. साथ ही, वे रेटिंग और समीक्षाओं का विश्लेषण भी कर सकते है. Play Console की मदद से, डेवलपर अपने ऐप्लिकेशन की परफ़ॉर्मेंस की तुलना मिलते-जुलते ऐप्लिकेशन के सेट से कर सकते हैं. इससे, उन्हें यह समझने में मदद मिलती है कि उनके ऐप्लिकेशन की परफ़ॉर्मेंस में कहां सुधार किया जा सकता है. डेवलपर के पास, सार्वजनिक रेटिंग और समीक्षाओं के रूप में उपयोगकर्ता के सुझाव, शिकायतों, और राय का ऐक्सेस भी होता है. इनसे यह पता लगाने में मदद मिलती है कि लोग क्वालिटी से जुड़ी किन समस्याओं का सामना कर रहे हैं और उन्हें किन मामलों में मदद चाहिए.

C. संपादकों की राय

लोग, ध्यान देने लायक और दिलचस्प कॉन्टेंट को लेकर Google Play के नज़रिए पर भी भरोसा करते हैं. Google Play की टीम जो सुझाव चुनती है उन्हें लोगों को उपलब्ध कराया जाता है, ताकि वे इस तरह का कॉन्टेंट खोज सकें.  

इसमें Google Play के संपादकों और व्यापारियों की टीम, मैन्युअल तरीके से ऐसा कॉन्टेंट चुनती है जिसे दिखाया जाता है और जिसका प्रचार किया जाता है. यह टीम मैन्युअल तरीके से कॉन्टेंट का पसंद के मुताबिक प्लेसमेंट भी करती है. ये प्लेसमेंट हमेशा के लिए (जैसे कि लेख, लेबल या ब्यौरे) या सीमित अवधि के लिए (जैसे कि कोई खास अवधि) किए जाते हैं. इन्हें कई तरह के विज़ुअल लेआउट का इस्तेमाल करके दिखाया जा सकता है.

कॉन्टेंट को चुनते समय, संपादकीय और व्यापार टीम ऐप्लिकेशन के इस्तेमाल के अनुभव (ऊपर देखें) की क्वालिटी को खास तौर पर ध्यान में रखती है. साथ ही, इन बातों को भी ध्यान में रखा जाता है कि कॉन्टेंट कितना नया है, कितना मददगार है, उसका डिज़ाइन कैसा है, और लोगों को पसंद आ सकता है या नहीं.  हम “चुनिंदा ऐप्लिकेशन” लेबल की मदद से यह हाइलाइट करते हैं कि किसी दिए गए विषय के लिए, हमारे हिसाब से सबसे अच्छे ऐप्लिकेशन कौनसे हैं. हम इस बारे में लिखित जानकारी भी दे सकते हैं कि चुना गया कॉन्टेंट हमारे हिसाब से इतना दिलचस्प क्यों है (उदाहरण के लिए, “हमें यह क्यों पसंद है” बुलेट).

हम प्रचार के लिए बेची जाने वाली चीज़ों के कैंपेन भी कर सकते हैं.  कैंपेन बनाते समय, टीम समय और स्थानीय लोगों की पसंद को ध्यान में रख सकती है. इस तरह के कैंपेन में प्रचार (जैसे कि ब्लैक फ़्राइडे सेल), स्थानीय इवेंट (जैसे कि हैलोवीन) या कॉन्टेंट से जुड़े खास बदलाव (जैसे कि कोई नई रिलीज़ या खास अपडेट) शामिल हो सकते हैं.  कुछ कैंपेन के लिए, कॉन्टेंट को चुनते समय टीम कमाई करने की संभावना को भी ध्यान में रख सकती है.

D. विज्ञापन

डेवलपर, Google Play पर खास तौर पर दिखने वाले सेक्शन में अपने ऐप्लिकेशन के विज्ञापन दिखाने के लिए पैसे दे सकते हैं. विज्ञापन, हमेशा 'विज्ञापन' या 'प्रायोजित' जैसे लेबल के साथ दिखते हैं. अपने ऐप्लिकेशन के लिए Google विज्ञापन कैंपेन बनाने के तरीके के बारे में ज़्यादा जानें.

E. Google Play पर उपयोगकर्ता अनुभव

हम यह पक्का करना चाहते हैं कि Google Play पर ब्राउज़ करते समय लोगों को अच्छा अनुभव मिले और वे अपने पसंदीदा ऐप्लिकेशन के साथ-साथ नए और ऐसे ऐप्लिकेशन खोज सकें जिन्हें पहले किसी ने नहीं ढूंढा है. साथ ही, उन्हें उन ऐप्लिकेशन के बारे में काम की जानकारी भी मिल सके.  इसलिए, Google Play के सभी आसपेक्ट को डिज़ाइन करते समय, हम उपयोगकर्ता अनुभव को ध्यान में रखते हैं. उदाहरण के लिए, हम ऐप्लिकेशन का ग्रुप किस तरह बनाते हैं, नतीजों में कहां और कितने विज्ञापन दिखाए जाने हैं, और लोगों को ऐप्लिकेशन दिखाने के लिए हम किन फ़ॉर्मैट का इस्तेमाल करते हैं. Google Play पर उपयोगकर्ता अनुभव जितना ज़्यादा मददगार और दिलचस्प होगा उतनी ही ज़्यादा बार लोग नए ऐप्लिकेशन खोजने और इंस्टॉल करने के लिए वापस आएंगे.

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके

खोजें
खोज साफ़ करें
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
खोज मदद केंद्र
true
92637
false