Android Performance Tuner से जुड़ी समस्याओं और अक्सर पूछे जाने वाले सवाल हल करना

 

अगर आपको Android Performance Tuner को जोड़ने यानी इंटिग्रेट करने, इस्तेमाल करने या समझने में कोई समस्या आ रही है, तो नीचे दी गई जानकारी से आपको मदद मिल सकती है.

शुरू करते समय आने वाली आम समस्याएं

Android Performance Tuner का अभी तक पूरी तरह इंटिग्रेट न होना.

अगर आपको गेम की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी पेज पर, "Android Performance Tuner से गेम की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी पाएं" शीर्षक से शुरुआत में कोई मैसेज दिखता है, तो इसका मतलब यह है कि आपका इंटिग्रेशन पूरा नहीं है.

Android डेवलपर साइट पर बताए गए तरीके से, पहले अपने गेम का इंटिग्रेशन पूरा करें और फिर उसे Play Console में अपलोड करें.

Android Performance Tuner पूरी तरह से इंटिग्रेट होने के बावजूद, ऐप्लिकेशन का अभी तक रिलीज़ न होना.

अगर आपको परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी पेज पर रिलीज़ बनाने का संकेत मिलता है, तो इसका मतलब है कि Android Performance Tuner पूरी तरह से इंटिग्रेट होने के बावजूद, आपको अपना ऐप्लिकेशन प्रकाशित करना होगा.

अपने ऐप्लिकेशन को टेस्ट ट्रैक पर रिलीज़ करें या उसे Google Play पर प्रकाशित करें. रिलीज़ करने के बारे में ज़्यादा जानकारी के लिए, रिलीज़ तैयार करें और रोल आउट करें पर जाएं.

ऐप्लिकेशन को अपलोड करते समय गड़बड़ी के मैसेज मिलना.

जब आप Google Play पर अपना ऐप्लिकेशन अपलोड करते हैं, तो आपके कॉन्फ़िगरेशन की पुष्टि करने के लिए, आखिर में कुछ जांच की जाती है. अगर आपको चेतावनी देने वाला मैसेज मिलता है, तो कृपया दी गई जानकारी देखकर यह पक्का करें कि आपने अपने इंटिग्रेशन पाथ के लिए चेकलिस्ट पूरी कर ली हो.

रिलीज़ होने के बावजूद, आपके ऐप्लिकेशन में काफ़ी डेटा न होना.

Play Console में दिखने के लिए ज़रूरी है कि ऐप्लिकेशन में कम से कम उतना डेटा इकट्ठा किया गया हो जितने की सीमा तय की गई है. हालांकि, अगर आप अपने ऐप्लिकेशन बंडल या APK को, संगठन में काम करने वालों के लिए उपलब्ध रिलीज़ ट्रैक पर रिलीज़ करते हैं, तो इस पर डेटा की तय सीमा लागू नहीं होती है. इसका मतलब यह है कि आप Google Play पर अपना ऐप्लिकेशन प्रकाशित करने से पहले, अपने सेट अप की अंदरूनी तौर पर पुष्टि कर सकते हैं.

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

Android Performance Tuner, फ़्रेम के रेंडर होने की दर के डिस्ट्रिब्यूशन पर कैसे असर डालता है? क्या यह इसे धीमा कर सकता है? ऐसा लगता है कि प्लग-इन ने उसे बदल दिया है?

हमारी जांच यह बताती है कि Android Performance Tuner का फ़्रेम टाइम पर बहुत कम (<1%) असर पड़ता है. अगर आप Android Performance Tuner के फ़्रेम टाइम को शामिल करने के लिए, फ़्रेम पेसिंग एपीआई का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो आप देखेंगे कि आपका फ़्रेम टाइम पहले के मुकाबले ज़्यादा सटीक हो गया है. यह एक अच्छी बात है, क्योंकि इससे माइक्रोस्टटरिंग कम हो जाती है. ज़्यादा समय लेने वाले फ़्रेम की संख्या में बहुत ज़्यादा बदलाव नहीं होना चाहिए.

क्या मैं इसे लॉन्च करने से पहले इस्तेमाल कर सकता/सकती हूं?

हां, अगर आप अपना ऐप्लिकेशन, किसी संगठन में काम करने वाले लोगों के लिए बने टेस्ट ट्रैक पर रिलीज़ करते हैं (जो कम से कम 100 लोगों को इसकी सुविधा देता है), तो आपका परफ़ॉर्मेंस डेटा 'Android की ज़रूरी जानकारी' में उपलब्ध रहेगा. ध्यान रखें कि जब आपका ऐप्लिकेशन, किसी संगठन में काम करने वाले लोगों के लिए बने टेस्ट ट्रैक पर होता है, तो हम सेशन की संख्या पर ध्यान दिए बिना सभी डेटा दिखाते हैं. हालांकि, जब आप अपने ऐप्लिकेशन को, चुने हुए लोगों के लिए उपलब्ध जांच, सबके लिए उपलब्ध जांच या फिर प्रोडक्शन में रिलीज़ करते हैं, तो हम आपके ऐप्लिकेशन से जुड़ा डेटा सिर्फ़ तब दिखाते हैं, जब आप आंकड़ों के हिसाब से ज़रूरी सेशन की संख्या पूरी कर लेते हैं. इसका मतलब यह है कि जब आप अपने ऐप्लिकेशन को जांच से हटाकर प्रोडक्शन में ले जाते हैं, तो हो सकता है कि प्रोडक्शन के लिए तैयार ऐप्लिकेशन को स्वीकार किए जाने के ज़रूरी लेवल तक पहुंचने से पहले, बहुत कम समय के लिए, आपको किसी तरह का डेटा न दिखे.

अगर मैं अपने फ़्रेम के रेंडर होने की टारगेट दर में बदलाव करता/करती हूं, तो क्या मेरा किसी भी तरह का डेटा खो सकता है?

धीमे और तेज़ रेंडर होने वाले फ़्रेम की मेट्रिक, फ़्रेम रेंडर होने की टारगेट दर से जुड़ी होती हैं. इस दर में बदलाव होने पर, समस्याएं और बेहतर परफ़ॉर्मेंस के मौके भी बदल जाते हैं. हालांकि, फ़्रेम रेंडर होने में लगने वाले समय के बुनियादी डेटा में कोई बदलाव नहीं होता है.

क्या मैं डेटा कलेक्शन की सुविधा को बंद कर सकता/सकती हूं?

नहीं, Play Console में, डेटा कलेक्शन की सुविधा को बंद करने का विकल्प मौजूद नहीं है.

मैं रनटाइम के दौरान, अपने ऐप्लिकेशन को इस्तेमाल करने वाले लोगों के लिए क्वालिटी सेटिंग तय करता/करती हूं. इससे उस डेटा पर क्या असर पड़ता है जो मुझे दिखता है?

हम इस बात के लिए आप पर निर्भर करते हैं कि आपने रनटाइम पर क्वालिटी सेटिंग के बारे में सही जानकारी दी है और ये सेटिंग, इंटिग्रेशन के दौरान तय किए गए क्वालिटी लेवल के मुताबिक हैं. अगर ऐसा नहीं होता है, तो ऐसे सेशन "अनजान" क्वालिटी लेवल के रूप में माने जाएंगे.

मैं अपने ऐप्लिकेशन को इस्तेमाल करने वाले लोगों को उनकी क्वालिटी सेटिंग में बदलाव करने की मंज़ूरी देता हूं. इससे उस डेटा पर क्या असर पड़ता है जो मुझे दिखता है?

फ़िलहाल, हम लोगों के किए गए बदलावों को ट्रैक नहीं करते हैं. हालांकि, हम आने वाले समय में ऐसा करने की सोच रहे हैं. तब तक, ये बदलाव दो अलग-अलग तरीकों से दिख सकते हैं. यह इस बात पर निर्भर करता है कि ऐप्लिकेशन इस्तेमाल करने वाले व्यक्ति के मुताबिक चुनी जाने वाली सेटिंग, आपके मुताबिक पहले से कॉन्फ़िगर किए गए क्वालिटी लेवल का हिस्सा हैं या नहीं. अगर वे हिस्सा हैं, तो सेशन की रिपोर्ट क्वालिटी लेवल के हिसाब से की जाएगी. ऐसा न करने पर, वे “अनजान” क्वालिटी लेवल के रूप में दिखेंगे. इसका एक नतीजा यह भी हो सकता है कि कुछ डिवाइस के मॉडल एक से ज़्यादा क्वालिटी लेवल पर रिपोर्ट किए जा सकते हैं.

अगर किसी डिवाइस का मॉडल एक से ज़्यादा क्वालिटी लेवल पर चल रहा है, तो क्या होगा?

अगर डिवाइस के मॉडल पर सेशन को एक से ज़्यादा क्वालिटी लेवल पर रिपोर्ट किया जाता है, तो डिवाइस का मॉडल, चार्ट और टेबल में कई बार दिख सकता है.

किसी डिवाइस का मॉडल एक से ज़्यादा क्वालिटी लेवल पर क्यों चल रहा होगा?

ऐसा तब हो सकता है, जब: 

  • ऐप्लिकेशन इस्तेमाल करने वाले व्यक्ति ने क्वालिटी लेवल में बदलाव किया हो,
  • क्वालिटी लेवल को डाइनैमिक तौर पर, सिर्फ़ डिवाइस के मॉडल के रूप में सेट करने के बजाय, और ज़्यादा विस्तृत लेवल पर सेट किया गया हो, 
  • इसके अलावा, किसी नई रिलीज़ के बिना ही क्वालिटी लेवल में दूर से बदलाव किया गया हो.
क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके