अपने ऐप्लिकेशन के डाउनलोड और इंस्टॉल साइज़ को देखना

साइज़ के लिए ऑप्टिमाइज़ किए गए बढ़िया ऐप्लिकेशन बनाने में मदद पाने के लिए, अपने ऐप्लिकेशन के डाउनलोड और इंस्टॉल का साइज़ देखा जा सकता है. साथ ही, यह पता किया जा सकता है कि समय के साथ आपके ऐप्लिकेशन के साइज़ में क्या बदलाव हुए हैं.

ऐप्लिकेशन का साइज़, आपके ऐप्लिकेशन के इंस्टॉल और अनइंस्टॉल मेट्रिक पर असर डालने वाली सबसे बड़ी वजहों में से एक है. इसलिए, इसे नियमित तौर पर मॉनिटर करना ज़रूरी है. साथ ही, यह समझना भी ज़रूरी है कि अपने ऐप्लिकेशन के डाउनलोड और इंस्टॉल के साइज़ को कैसे कम किया जा सकता है. दोनों साइज़ एक-दूसरे से मिलते-जुलते हैं, इसलिए यहां बताया गया है कि वे एक-दूसरे से किस तरह अलग हैं:

  • ऐप्लिकेशन का डाउनलोड साइज़: आपके ऐप्लिकेशन का वह साइज़ जिसे उपयोगकर्ता, Google Play पर डाउनलोड करते हैं. जब किसी ऐप्लिकेशन का डाउनलोड साइज़ बड़ा होता है, तो उसे डाउनलोड होने में ज़्यादा समय लगता है.
  • डिवाइस पर ऐप्लिकेशन का साइज़: आपके ऐप्लिकेशन को इंस्टॉल करने के लिए जगह की ज़रूरत होती है. ऐप्लिकेशन को डाउनलोड करते समय कंप्रेस किया जाता है, इसलिए यह डाउनलोड साइज़ की तुलना में इंस्टॉल साइज़ को बड़ा कर सकता है. जब किसी ऐप्लिकेशन का इंस्टॉल साइज़ बड़ा हो, तो उपयोगकर्ता के डिवाइस पर उसे इंस्टॉल करने के लिए ज़्यादा जगह की ज़रूरत होती है. ऐप्लिकेशन खोलने के बाद डिस्क पर उसका साइज़, ऐप्लिकेशन के इस्तेमाल के हिसाब से अलग-अलग होता है.

ध्यान दें: सभी साइज़, आपके ऐप्लिकेशन के नए वर्शन और XXXHDPI ARMv8 डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन या आपके ऐप्लिकेशन के लिए सबसे अच्छे तरीके से काम करने वाले डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन के हिसाब से कैलकुलेट किए जाते हैं.

साइज़ और साइज़ से जुड़ी मेट्रिक देखना और उनकी तुलना करना

अपने ऐप्लिकेशन को प्रोडक्शन ट्रैक पर रिलीज़ करने के बाद, आपको अपने ऐप्लिकेशन का डाउनलोड और इंस्टॉल साइज़ यहां दिखेगा:

  1. Play Console खोलें और ऐप्लिकेशन का साइज़ पेज (क्वालिटीAndroid की ज़रूरी जानकारी > ऐप्लिकेशन का साइज़) पर जाएं.
  2. स्क्रीन के सबसे ऊपर दाईं ओर, पेज के डेटा को ऐप्लिकेशन के डाउनलोड साइज़ या डिवाइस पर ऐप्लिकेशन के साइज़ के मुताबिक फ़िल्टर किया जा सकता है.

आपको ऐप्लिकेशन के साइज़ वाले पेज पर यह डेटा मिल सकता है:

  • ऐप्लिकेशन का डाउनलोड साइज़/डिवाइस पर ऐप्लिकेशन का साइज़: किसी तय डिवाइस पर आपके ऐप्लिकेशन का साइज़ और दूसरे सभी डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन के हिसाब से साइज़.
  • ऐप्लिकेशन का डाउनलोड साइज़/डिवाइस पर ऐप्लिकेशन के साइज़ के मुकाबले मिलते-जुलते अन्य ऐप्लिकेशन: मिलते-जुलते ऐप्लिकेशन की तुलना में आपके ऐप्लिकेशन का साइज़ क्या है.
    • पसंद के मुताबिक 8 से 12 मिलते-जुलते ऐप्लिकेशन का ग्रुप बनाने के लिए, मिलते-जुलते ऐप्लिकेशन के ग्रुप में बदलाव करें पर क्लिक करें.
  • ऐप्लिकेशन का डाउनलोड साइज़/समय के साथ डिवाइस पर ऐप्लिकेशन का साइज़: समय के साथ आपके ऐप्लिकेशन के साइज़ में मिलते-जुलते ऐप्लिकेशन की तुलना में क्या बदलाव हुआ है.
    • चार्ट में सबसे ऊपर दाईं ओर, तारीख की सीमा को चुना जा सकता है. इसकी मदद से, किन्हीं दो तारीखों के बीच के डेटा को ऐप्लिकेशन के साइज़ वाले पेज पर देखा जा सकता है. साथ ही, सभी डिवाइसों के कॉन्फ़िगरेशन में, अपने ऐप्लिकेशन के साइज़ की सीमा दिखाने के लिए चेकबॉक्स चुनें.
  • 2 जीबी से कम स्टोरेज वाले चालू डिवाइस: आपका ऐप्लिकेशन इस्तेमाल करने वाले सक्रिय उपयोगकर्ताओं का प्रतिशत, जिनके डिवाइस में 2 जीबी से कम स्टोरेज बचा है.
  • उन डिवाइसों पर किए गए अनइंस्टॉल जिनमें 2 जीबी से कम स्टोरेज बचा हो: जिन चालू डिवाइसों में 2 जीबी से कम स्टोरेज बचा हो उन पर किए गए अनइंस्टॉल की संख्या और सभी चालू डिवाइसों पर किए गए अनइंस्टॉल की संख्या का अनुपात.

ध्यान दें:

  • 2 जीबी से कम स्टोरेज वाले चालू डिवाइस और 2 जीबी से कम स्टोरेज वाले डिवाइसों पर किए गए अनइंस्टॉल की मेट्रिक, 30 दिनों के रोलिंग औसत के हिसाब से कैलकुलेट की जाती हैं. इन्हें सिर्फ़ तब दिखाया जाता है, जब ये आपके ऐप्लिकेशन के लिए लागू हों.
  • हमने 27 सितंबर, 2021 को डिवाइस पर ऐप्लिकेशन का साइज़ मेट्रिक को अपडेट किया था. ऐसा इसलिए किया गया था, ताकि सबसे खराब कैलकुलेशन के बजाय, आपको ज़्यादा सटीक अनुमान दिख सके. इस वजह से, आपको डिवाइस पर ऐप्लिकेशन के साइज़ और डिवाइस पर ऐप्लिकेशन के साइज़ से जुड़े आंकड़ों में कमी दिख सकती है.

ऐप्लिकेशन के साइज़ से जुड़े आंकड़े देखना

Android ऐप्लिकेशन बंडल का इस्तेमाल करके ऐप्लिकेशन पब्लिश करने पर आपको एक चार्ट दिखेगा, जिसमें बंडल वर्शन का कोड होता है. साथ ही, इसमें आंकड़े भी होते हैं, जिनसे यह जानकारी मिलती है कि ऐप्लिकेशन की पिछली पांच रिलीज़ के कुल डाउनलोड साइज़ या इंस्टॉल साइज़ की तुलना करने पर, आपके ऐप्लिकेशन के अलग-अलग कॉम्पोनेंट कितनी जगह लेते हैं.

इन आंकड़ों से यह पता किया जा सकता है कि आपके ऐप्लिकेशन के कौनसे हिस्से सबसे ज़्यादा जगह ले रहे हैं. साथ ही, उन हिस्सों की पहचान की जा सकती है जिन्हें जगह को बचाने के लिए और ज़्यादा ऑप्टिमाइज़ किया जा सकता है. ये आंकड़े, आपके ऐप्लिकेशन बंडल से किसी तय डिवाइस के कॉन्फ़िगरेशन के लिए जनरेट किए गए APK के मुताबिक होते हैं.

इन आंकड़ों में नीचे दिया गया डेटा दिखता है:

  • ऐप्लिकेशन के डाउनलोड साइज़ के आंकड़े:
    • कोड/DEX: Android पर DEX फ़ॉर्मैट में इस्तेमाल करने के लिए, आपके ऐप्लिकेशन के सभी Java या Kotlin कोड को इकट्ठा किया गया है.
    • संसाधन: संसाधनों में संसाधन टेबल और आपके ऐप्लिकेशन के संसाधन/ डायरेक्ट्री में शामिल बिना कोड वाले कॉम्पोनेंट होते हैं, जैसे कि स्ट्रिंग और इमेज.
    • एसेट: ऐसी अन्य फ़ाइलें एसेट होती हैं जिनका इस्तेमाल आपका ऐप्लिकेशन एसेट/डायरेक्ट्री में करता है, जैसे कि साउंड फ़ाइलें या वीडियो.
    • नेटिव लाइब्रेरी: आपके ऐप्लिकेशन की लाइब्रेरी/ डायरेक्ट्री में मौजूद नेटिव कोड. यह आम तौर पर ऐसा कोई भी कोड होता है जो Java या Kotlin नहीं है.
    • अन्य: आपके ऐप्लिकेशन की अन्य फ़ाइलें.
  • डिवाइस पर ऐप्लिकेशन के साइज़ के आंकड़ों में यह जानकारी भी दिखती है: 
    • निकाली गई नेटिव लाइब्रेरी: जब नेटिव लाइब्रेरी APK में कंप्रेस की जाती हैं, तो आपके ऐप्लिकेशन को चलाने के लिए उन्हें डिवाइस के स्टोरेज में ले जाना ज़रूरी है.
    • ऑप्टिमाइज़ किया गया DEX: वह DEX कोड जिसे बेहतर परफ़ॉर्मेंस के लिए, Android रनटाइम के हिसाब से नेटिव कोड में बदल दिया गया.

ऐप्लिकेशन के साइज़ को ऑप्टिमाइज़ करने के सुझाव देखना 

पेज के बीच में, सबसे हाल ही की रिलीज़ के विश्लेषण के आधार पर, अपने ऐप्लिकेशन के साइज़ को ऑप्टिमाइज़ करने के लिए सुझाव देखे जा सकते हैं. 

APK का इस्तेमाल करके अपना ऐप्लिकेशन पब्लिश करने पर, आपको ऐप्लिकेशन बंडल इस्तेमाल करने का सुझाव दिखेगा. साथ ही, आप डिवाइस स्टोरेज में और कितनी जगह बचा पाएंगे, उसका अनुमान भी दिखेगा. ऐप्लिकेशन बंडल का इस्तेमाल करके अपना ऐप्लिकेशन पब्लिश करने पर, आंकड़ों की ज़्यादा जानकारी मिलती है. साथ ही, सुझाए गए ऑप्टिमाइज़ेशन की सूची भी दिखती है.

हर ऑप्टिमाइज़ेशन में खास जानकारी शामिल होती है, जिसमें बताया जाता है कि क्या बदलाव करने हैं. साथ ही, अनुमानित बदलाव तय हो जाने पर, बदलावों को लागू करके साइज़ में संभावित बचत की जा सकती है. साइज़ के अनुमान किसी भी बात पर निर्भर नहीं करते हैं. अगर एक ही बार में एक से ज़्यादा ऑप्टिमाइज़ेशन लागू किया जाता है, तो अनुमान संभावित रूप से अलग होंगे.

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके

खोजें
खोज साफ़ करें
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
खोज मदद केंद्र
true
92637
false
false