अपना ऐप्लिकेशन बनाना और उसे सेट अप करना

अगस्त 2021 से, नए ऐप्लिकेशन को Google Play पर 'Android ऐप्लिकेशन बंडल' के साथ प्रकाशित करना ज़रूरी होगा. ऐसे नए ऐप्लिकेशन जिनका साइज़ 150 एमबी से ज़्यादा है उनमें 'Play एसेट डिलीवरी' या Play Feature Delivery में से किसी एक सुविधा का इस्तेमाल करना होगा.

ज़्यादा जानकारी के लिए, Android डेवलपर ब्लॉग पर यह पोस्ट पढ़ें.

अपना Google Play डेवलपर खाता बनाने के बाद, ऐप्लिकेशन बनाए जा सकते हैं और Play Console का इस्तेमाल करके उन्हें सेट अप किया जा सकता है.

अपना ऐप्लिकेशन बनाना

  1. Play Console खोलें.
  2. सभी ऐप्लिकेशन > ऐप्लिकेशन बनाएं चुनें.
  3. किसी एक डिफ़ॉल्ट भाषा को चुनें. साथ ही, अपने ऐप्लिकेशन का वह नाम जोड़ें जो Google Play पर दिखेगा. इसे बाद में बदला जा सकता है.
  4. बताएं कि यह ऐप्लिकेशन है या गेम है. आप इसे बाद में बदल भी सकते हैं.
  5. बताएं कि आपका ऐप्लिकेशन मुफ़्त है या इसके लिए पैसे चुकाने होंगे.
  6. वह ईमेल पता जोड़ें जिस पर Play Store के उपयोगकर्ता, इस ऐप्लिकेशन के बारे में आपसे संपर्क कर सकें.
  7. "एलान" सेक्शन में:
  8. ऐप्लिकेशन बनाएं चुनें.

अपने ऐप्लिकेशन को सेट अप करना

ऐप्लिकेशन बनाने के बाद, आप उसे सेट अप करना शुरू कर सकते हैं. आपका ऐप्लिकेशन Google Play पर उपलब्ध कराने के लिए, ऐप्लिकेशन का डैशबोर्ड सभी अहम चरणों में आपकी मदद करेगा. 

आपको सबसे पहले अपने ऐप्लिकेशन के कॉन्टेंट का ब्यौरा देना होगा और Google Play के स्टोर पेज के लिए जानकारी डालनी होगी. इसके बाद, आप ऐप्लिकेशन की रिलीज़ पर जा सकते हैं. इससे आपको रिलीज़ से पहले मैनेजमेंट और जांच में मदद मिलेगी. इसके अलावा, रिलीज़ से पहले लोगों में दिलचस्पी और जागरूकता पैदा करने के लिए, प्रमोशन में भी मदद मिलेगी. आखिरी चरण में, आपको Google Play पर अपना ऐप्लिकेशन लॉन्च करना होगा. ऐसा करने पर यह ऐप्लिकेशन करोड़ों उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध हो जाएगा.

अपने ऐप्लिकेशन को सेट अप करने के लिए, बाईं ओर दिए गए मेन्यू में डैशबोर्ड को चुनें. अगले चरणों के लिए, ऐप्लिकेशन डैशबोर्ड पर अपना ऐप्लिकेशन सेट अप करें पर जाएं.

ऐप्लिकेशन और ऐप्लिकेशन बंडल को मैनेज करना

Google Play, हर डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन के हिसाब से ऑप्टिमाइज़ किए गए APKs बनाने और उन्हें डिलीवर करने के लिए, Android ऐप्लिकेशन बंडल का इस्तेमाल करता है. इससे, लोगों के लिए बेहतर ऐप्लिकेशन बनाने में मदद मिलती है. इसका मतलब है कि आपको कई तरह के डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन के हिसाब से ऑप्टिमाइज़ किए गए APKs की सुविधा देने के लिए, सिर्फ़ एक ऐप्लिकेशन बंडल बनाना, साइन करना, और अपलोड करना होगा. इसके बाद, Google Play आपके लिए, ऐप्लिकेशन के डिस्ट्रिब्यूशन APKs मैनेज करता है और उन्हें उपलब्ध कराता है.

ऐप्लिकेशन फ़ाइलों के पैकेज के नाम, खास और हमेशा के लिए होते हैं, इसलिए कृपया उनका नाम सोच-समझ कर रखें. पैकेज के नाम न तो मिटाए जा सकते हैं और न ही आने वाले समय में इनका फिर से इस्तेमाल किया जा सकता है.

आपके APK की रिलीज़ की स्थिति, इन तीनों में से कोई एक हो सकती है:

  • ड्राफ़्ट: ऐसे APKs जो अभी तक उपयोगकर्ताओं के इस्तेमाल के लिए उपलब्ध नहीं हैं
  • चालू: ऐसे APKs जो इस समय उपयोगकर्ताओं के इस्तेमाल के लिए उपलब्ध हैं
  • संग्रहित किए गए: ऐसे APKs जो पहले चालू स्थिति में थे, लेकिन अब उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध नहीं हैं
अपनी APK फ़ाइलें ढूंढना

अपने ऐप्लिकेशन बंडल और APKs देखने के लिए:

  1. Play Console खोलें और ऐप्लिकेशन बंडल एक्सप्लोरर पेज (रिलीज़ > ऐप्लिकेशन बंडल एक्सप्लोरर) पर जाएं.
  2. ऐप्लिकेशन बंडल एक्सप्लोरर पेज पर सबसे ऊपर दाईं ओर एक वर्शन फ़िल्टर होता है. इसका इस्तेमाल आप तीन टैब (ब्यौरा, डाउनलोड, और डिलीवरी) के साथ कर सकते हैं. इस फ़िल्टर की मदद से, आप अलग-अलग डिवाइसों पर अपने ऐप्लिकेशन के APKs के अलग-अलग वर्शन और कॉन्फ़िगरेशन के बारे में जान सकते हैं. 
  • ध्यान दें: यह वर्शन फ़िल्टर, Play Console के पुराने वर्शन में दी गई “आर्टफ़ैक्ट लाइब्रेरी” की तरह काम करता है.

अपने आर्टफ़ैक्ट मैनेज करने के बारे में ज़्यादा जानने के लिए, ऐप्लिकेशन बंडल एक्सप्लोरर की मदद से ऐप्लिकेशन के वर्शन की जांच करना पर जाएं.

ऐप्लिकेशन के साइज़ की तय सीमा

Google Play पर मौजूद ऐप्लिकेशन के साइज़ की एक तय सीमा होती है. यह सीमा, काम करने वाले सभी डिवाइस पर डाउनलोड के समय, आपके APKs के ज़्यादा से ज़्यादा कंप्रेस किए गए साइज़ के हिसाब से होती है.

ऐप्लिकेशन बंडल अपलोड करने के बाद, gzip की मदद से Play Console यह अंदाज़ा लगाता है कि आपके ऐप्लिकेशन का डाउनलोड साइज़ कितना होगा. Google Play, सबसे बेहतर कंप्रेशन टूल का इस्तेमाल करता है. इसका मतलब है कि डाउनलोड करने के बाद ऐप्लिकेशन का साइज़, Play Console में दिखने वाले उसके साइज़ के मुकाबले कम होता है.

साइज़ की तय सीमाएं नीचे बताई गई हैं:

  • 150 एमबी: किसी डिवाइस पर डाउनलोड करने के लिए, ऐप्लिकेशन बंडल से जनरेट होने वाले APK का ज़्यादा से ज़्यादा साइज़. ऐप्लिकेशन बंडल, इस साइज़ से कई गुना बड़ा हो सकता है.
  • 100 एमबी: APKs के साथ पब्लिश किए गए ऐप्लिकेशन के लिए, APK का ज़्यादा से ज़्यादा कंप्रेस किया हुआ डाउनलोड साइज़ (सिर्फ़ अगस्त 2021 से पहले बनाए गए ऐप्लिकेशन पर लागू होता है).
Play ऐप्लिकेशन साइनिंग की सुविधा को कॉन्फ़िगर करना

Android पर इंस्टॉल किए जाने से पहले, यह ज़रूरी है कि सभी ऐप्लिकेशन पर एक सर्टिफ़िकेट के साथ डिजिटल रूप से साइन किया जाए. ज़्यादा जानकारी के लिए, Android डेवलपर साइट पर जाएं. जब आप अपनी पहली रिलीज़ बनाते हैं, तो आप Play ऐप्लिकेशन साइनिंग की सुविधा को कॉन्फ़िगर करके, यह तय कर सकते हैं कि आपके ऐप्लिकेशन में Google की जनरेट की गई ऐप्लिकेशन साइनिंग कुंजी या आपकी चुनी हुई ऐप्लिकेशन साइनिंग कुंजी में से किसका इस्तेमाल करना चाहिए.

Play Console के लिए ऐप्लिकेशन वर्शन से जुड़ी ज़रूरी शर्तें

मेनिफ़ेस्ट फ़ाइल में हर ऐप्लिकेशन बंडल और APK का एक versionCode होता है, जिसकी वैल्यू आपके ऐप्लिकेशन के हर अपडेट के साथ बढ़ती जाती है.

ऐप्लिकेशन को Play Console पर अपलोड करने के लिए, versionCode की सबसे बड़ी वैल्यू 2,10,00,00,000 हो सकती है. अगर ऐप्लिकेशन के versionCode की वैल्यू इससे ज़्यादा हो जाती है, तो Play Console की मदद से नया ऐप्लिकेशन बंडल सबमिट नहीं किया जा सकेगा.

अपने ऐप्लिकेशन बंडल के लिए versionCode चुनते समय, यह ध्यान में रखें कि आपको हर अपडेट के लिए versionCode की वैल्यू बढ़ानी होगी. हालांकि, इसे तय सीमा से कम बनाए रखना भी ज़रूरी होगा.

ध्यान दें: अपने ऐप्लिकेशन का वर्शन तय करने के बारे में ज़्यादा जानकारी के लिए, Android डेवलपर साइट पर जाएं. ध्यान रखें कि Android MAXINT, Play Console पर अपलोड करने से जुड़ी ज़रूरी शर्तों में बताई गई वैल्यू से अलग होता है.

Play Console के लिए टारगेट एपीआई लेवल से जुड़ी ज़रूरी शर्तें

मेनिफ़ेस्ट फ़ाइल में हर ऐप्लिकेशन का एक targetSdkVersion होता है, जिसे टारगेट एपीआई लेवल भी कहा जाता है. इससे पता लगता है कि अलग-अलग Android वर्शन पर आपका ऐप्लिकेशन किस तरह काम करता है.

हाल के किसी एपीआई लेवल को टारगेट करने के लिए, अपना ऐप्लिकेशन कॉन्फ़िगर करने से यह पक्का हो जाता है कि उपयोगकर्ताओं को सुरक्षा और परफ़ॉर्मेंस से जुड़े अहम सुधारों का फ़ायदा मिलता है, वहीं आपका ऐप्लिकेशन अब भी Android के किसी पुराने वर्शन (शुरुआती minSdkVersion पर) पर चल सकता है.

जब आप कोई ऐप्लिकेशन बंडल अपलोड करते हैं, तो यह ज़रूरी है कि वह Google Play के टारगेट एपीआई लेवल से जुड़ी शर्तों को पूरा करे. ऐप्लिकेशन को फ़िलहाल और आने वाले समय में इन लेवल को टारगेट करना होगा.

एपीआई लेवल से जुड़ी ज़रूरतें शुरू होने की तारीख
Android 8.0 (एपीआई लेवल 26)
  • 1 अगस्त, 2018: नए ऐप्लिकेशन के लिए ज़रूरी
  • 1 नवंबर, 2018: ऐप्लिकेशन अपडेट के लिए ज़रूरी
Android 9 (एपीआई लेवल 28)
  • 1 अगस्त, 2019: नए ऐप्लिकेशन के लिए ज़रूरी
  • 1 नवंबर, 2019: ऐप्लिकेशन के अपडेट के लिए ज़रूरी

Android 10 (एपीआई लेवल 29)*

  • 3 अगस्त, 2020: नए ऐप्लिकेशन के लिए ज़रूरी
  • 2 नवंबर, 2020: ऐप्लिकेशन के अपडेट के लिए ज़रूरी

Android 11 (एपीआई लेवल 30)*

  • 2 अगस्त, 2021: नए ऐप्लिकेशन के लिए ज़रूरी
  • 1 नवंबर, 2021: ऐप्लिकेशन अपडेट के लिए ज़रूरी

* Wear OS वाले ऐप्लिकेशन पर, एपीआई लेवल 29 या एपीआई लेवल 30 से जुड़ी ज़रूरी शर्तें लागू नहीं होती हैं.

इन शर्तों के लागू हो जाने पर, Play Console पर पुराने टारगेट एपीआई लेवल का इस्तेमाल करके, नए ऐप्लिकेशन बंडल सबमिट नहीं किया जा सकेगा.

सलाह: अगर आपको इन शर्तों को पूरा करने के लिए, अपने ऐप्लिकेशन का टारगेट एपीआई लेवल बदलने के बारे में तकनीकी सलाह चाहिए, तो डेटा दूसरी जगह भेजने की गाइड को पढ़ें.

अपने स्टोर पेज और सेटिंग को सेट अप करना

आपके ऐप्लिकेशन का स्टोर पेज Google Play पर दिखाया जाता है. इसमें मौजूद जानकारी से, उपयोगकर्ता आपके ऐप्लिकेशन के बारे में ज़्यादा जान सकते हैं. आपका स्टोर पेज, टेस्टिंग ट्रैक के साथ, सभी ट्रैक में शेयर किया जाता है.

प्रॉडक्ट के बारे में जानकारी
  1. Play Console खोलें और मुख्य स्टोर पेज पर जाएं.
  2. "ऐप्लिकेशन की जानकारी" में दिए गए फ़ील्ड भरें.
फ़ील्ड जानकारी वर्ण सीमा अहम जानकारी
ऐप्लिकेशन का नाम Google Play पर आपके ऐप्लिकेशन का नाम. 50 वर्ण की सीमा हर भाषा के लिए, स्थानीय भाषा में एक नाम जोड़ा जा सकता है.
कम शब्दों में जानकारी वह पहला लेख जो उपयोगकर्ताओं को Play Store ऐप्लिकेशन पर आपके ऐप्लिकेशन की ज़्यादा जानकारी वाले पेज पर दिखता है. 80 वर्ण की सीमा आपके ऐप्लिकेशन की पूरी जानकारी देखने के लिए, उपयोगकर्ता इस लेख को बड़ा करके देख सकते हैं.
पूरी जानकारी Google Play पर आपके ऐप्लिकेशन की जानकारी. 4,000 वर्ण सीमा  

ध्यान दें: ऐप्लिकेशन के नाम, ब्यौरे या प्रमोशन की जानकारी में बार-बार आने वाले और बिना काम के कीवर्ड, उपयोगकर्ता के अनुभव को खराब कर सकते हैं. साथ ही, इनकी वजह से ऐप्लिकेशन को Google Play पर निलंबित किया जा सकता है. कृपया Google Play के डेवलपर कार्यक्रम की नीतियों में दिए गए सभी दिशा-निर्देश पढ़ें.

झलक दिखाने वाली एसेट

अपने ऐप्लिकेशन को बेहतर तरीके से दिखाने के लिए, झलक दिखाने वाली एसेट जोड़ने के बारे में ज़्यादा जानें. इनमें, कम शब्दों में दी जाने वाली जानकारी, स्क्रीनशॉट, और वीडियो शामिल हैं.

भाषाएं और अनुवाद

अनुवाद को जोड़ना और मैनेज करना

जब आप किसी ऐप्लिकेशन को अपलोड करते हैं, तो डिफ़ॉल्ट भाषा अंग्रेज़ी (अमेरिका, en-US) होती है. आप अपने ऐप्लिकेशन की जानकारी का दूसरी भाषा में अनुवाद करने के साथ-साथ उस भाषा के स्क्रीनशॉट और अन्य ग्राफ़िक एसेट जोड़ सकते हैं. इसका तरीका जानने के लिए अपने ऐप्लिकेशन का अनुवाद करें और स्थानीय भाषा में लिखें पर जाएं.

इमेज और वीडियो को स्थानीय जगह के मुताबिक बनाना

आप अपने ऐप्लिकेशन के मुख्य स्टोर पेज पर, स्थानीय भाषा के अनुसार ग्राफ़िक एसेट जोड़ सकते हैं. ऐसा करके, आप अपने ऐप्लिकेशन का अलग-अलग भाषाओं में ज़्यादा असरदार तरीके से प्रचार कर सकते हैं.

अगर आपकी जोड़ी गई भाषाओं में उपयोगकर्ताओं की पसंद की भाषाएं शामिल हैं, तो उन्हें Google Play पर स्थानीय भाषा के अनुसार ग्राफ़िक एसेट दिखेंगी.

अपने-आप किए गए अनुवाद

अगर आप खुद के अनुवाद नहीं जोड़ते, तो उपयोगकर्ता Google Translate या आपके ऐप्लिकेशन की डिफ़ॉल्ट भाषा का इस्तेमाल करके, आपके ऐप्लिकेशन के 'Google Play स्टोर पेज' का अपने-आप किया गया अनुवाद देख सकते हैं.

अपने-आप किए गए अनुवादों के लिए, ऐप्लिकेशन को उसकी डिफ़ॉल्ट भाषा में देखने का विकल्प मिलेगा. साथ ही, लोगों को एक नोट में यह जानकारी दिखेगी कि अनुवाद अपने-आप किया गया है. ध्यान रखें कि आर्मेनियन, रीटो-रोमांस, टगालॉग, और ज़ूलू भाषा के लिए, अपने-आप अनुवाद होने की सुविधा मौजूद नहीं है.

कैटगरी में बांटना और टैग

आप Play Console में, अपने ऐप्लिकेशन या गेम के लिए किसी कैटगरी को चुन सकते हैं और टैग जोड़ सकते हैं. कैटगरी और टैग इस्तेमाल करने से, उपयोगकर्ताओं को 'Play स्टोर' में अपने काम के ऐप्लिकेशन खोजने में मदद मिलती है. 

अपने ऐप्लिकेशन या गेम के लिए, कैटगरी और टैग चुनने और जोड़ने के बारे में ज़्यादा जानें.

संपर्क की जानकारी

जब आप अपने ऐप्लिकेशन के लिए ईमेल पता, वेबसाइट या फ़ोन नंबर देते हैं, तो संपर्क जानकारी आपके ऐप्लिकेशन के स्टोर पेज पर उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध हो जाती है.

एक संपर्क ईमेल पता देना ज़रूरी है, लेकिन अपने उपयोगकर्ताओं की बेहतर तरीके से मदद करने के लिए, हम एक ऐसी वेबसाइट भी शामिल करने का सुझाव देते हैं जहां उपयोगकर्ता आपसे संपर्क कर सकें.

सहायता के लिए दी जाने वाली जानकारी जोड़ने के लिए:

  1. Play Console खोलें और स्टोर सेटिंग पेज (बढ़ाएं > स्टोर में मौजूदगी > स्टोर सेटिंग) पर जाएं
  2. नीचे की ओर स्क्रोल करते हुए, "संपर्क जानकारी" तक जाएं.
  3. सहायता करने के लिए अपना ईमेल पता (ज़रूरी है), फ़ोन नंबर, और वेबसाइट का यूआरएल जोड़ें.

सलाह: अपने उपयोगकर्ताओं की सहायता करने के बारे में ज़्यादा जानें.

अगले चरण

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके

true
खोजें
खोज साफ़ करें
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
खोज मदद केंद्र
true
92637
false