ओपन, क्लोज़्ड या इंटरनल टेस्ट सेट अप करना

ध्यान दें: जिन डेवलपर के निजी खाते 13 नवंबर, 2023 के बाद बनाए गए हैं उन्हें जांच से जुड़ी खास शर्तों को पूरा करना होगा. इसके बाद ही, वे अपने ऐप्लिकेशन को Google Play पर उपलब्ध करा पाएंगे. ज़्यादा जानने के लिए, सहायता केंद्र के इस लेख को पढ़ें.

Play Console का इस्तेमाल करके, अपने ऐप्लिकेशन को किसी ग्रुप या Google Play के उपयोगकर्ताओं से टेस्ट कराने के लिए उपलब्ध कराया जा सकता है.

ऐप्लिकेशन की टेस्टिंग से उसमें मौजूद किसी भी तकनीकी या अन्य समस्याओं को ठीक करने में मदद मिलती है. इससे उपयोगकर्ताओं पर उस समस्या का बहुत कम असर पड़ता है और Google Play पर अपने ऐप्लिकेशन के बेहतर वर्शन को रिलीज़ किया जा सकता है.

शुरू करने से पहले

  • ईमेल से जुड़ी ज़रूरी शर्तें: जांच में शामिल होने वाले उपयोगकर्ताओं के पास Google खाता (@gmail.com) या Google Workspace खाता होना चाहिए.
  • कीमत से जुड़े बदलाव: अगर ऐप्लिकेशन की कीमत में बदलाव किया जाता है, तो इससे सभी ट्रैक में आपके ऐप्लिकेशन के मौजूदा और आने वाले वर्शन पर असर पड़ता है.
  • ऐप्लिकेशन की उपलब्धता वाले देशों की सूची में बदलाव: अगर आपने उन देशों और इलाकों की सूची में कोई बदलाव किया है जहां आपका ऐप्लिकेशन डाउनलोड के लिए उपलब्ध है, तो इससे सभी ट्रैक में आपके ऐप्लिकेशन के मौजूदा और आने वाले वर्शन पर असर पड़ता है.
    • ध्यान दें: इंटरनल टेस्ट के लिए, कुछ देशों में ऐप्लिकेशन की उपलब्धता और कमाई से जुड़े नियम अलग हो सकते हैं. ज़्यादा जानकारी के लिए, इंटरनल टेस्ट सेट अप करने का तरीका सेक्शन पर जाएं.
  • रिलीज़:
    • प्रोडक्शन के लिए रिलीज़ करने से पहले, आपको अपने ऐप्लिकेशन को टेस्ट कर लेना चाहिए.
    • ओपन, क्लोज़्ड या इंटरनल टेस्ट को पहली बार पब्लिश करने पर, टेस्टर (जांच करने वाला) को टेस्ट लिंक मिलने में कुछ घंटे लग सकते हैं. किसी और तरह के बदलाव पब्लिश करने पर, हो सकता है कि टेस्टर को कई घंटों तक ये बदलाव न मिल पाएं.
  • टेस्ट में संगठनों को जोड़ना:
    • कारोबार के लिए Google Play का इस्तेमाल करने वाले संगठन से जुड़े टेस्टर को जोड़ने के लिए यह तरीका अपनाएं: अपने ऐप्लिकेशन के ऐडवांस सेटिंग (सेटअप करें > ऐडवांस सेटिंग) वाले पेज पर, कारोबार के लिए Google Play वाले टैब पर जाएं. इसके बाद, "चालू करें" के बगल वाला बॉक्स चुनें.
    • अगर आपका ऐप्लिकेशन निजी है, तो आपको टारगेट वाली सूची में अपनी जांच से जुड़े संगठन को भी जोड़ना होगा.
  • समीक्षाएं: टेस्ट करने वाले उपयोगकर्ताओं के सुझाव या राय से आपके ऐप्लिकेशन की सार्वजनिक रेटिंग पर कोई असर नहीं पड़ेगा.
  • पैसे चुकाकर डाउनलोड किए जाने वाले ऐप्लिकेशन: अगर पैसे चुकाकर डाउनलोड किए जाने वाले किसी ऐप्लिकेशन की ओपन या क्लोज़्ड टेस्ट में टेस्टिंग होनी है, तो टेस्टर को इसे खरीदना होगा. अगर इंटरनल टेस्ट का इस्तेमाल करके, पैसे चुकाकर डाउनलोड किए जाने वाले किसी ऐप्लिकेशन को टेस्ट किया जा रहा है, तो टेस्टर आपके ऐप्लिकेशन को बिना किसी शुल्क के इंस्टॉल कर सकते हैं.

इंटरनल, क्लोज़्ड, और ओपन टेस्टिंग के बीच अंतर

प्रोडक्शन के लिए ऐप्लिकेशन को रिलीज़ करने से पहले, तीन टेस्टिंग ट्रैक पर रिलीज़ बनाई जा सकती हैं. टेस्ट का हर चरण आपको ऐसे सुझाव या राय इकट्ठा करने में मदद करता है जो ऐप्लिकेशन के डेवलपमेंट के दौरान उसे बेहतर बनाने में काम आते हैं.

इंंटरनल टेस्टिंग: ऐप्लिकेशन क्वालिटी की शुरुआती जांच के लिए, इंटरनल टेस्टिंग का इस्तेमाल करें. इसमें, ज़्यादा से ज़्यादा 100 टेस्टर आपके ऐप्लिकेशन की जांच कर सकते हैं. हमारा सुझाव है कि अपने ऐप्लिकेशन को ओपन या क्लोज़्ड ट्रैक पर रिलीज़ करने से पहले, इंटरनल टेस्ट करें. ज़रूरत पड़ने पर, अपने ऐप्लिकेशन के अलग-अलग वर्शन के लिए, क्लोज़्ड और ओपन टेस्ट के साथ ही इंटरनल टेस्ट किया जा सकता है. अपने ऐप्लिकेशन का सेट अप पूरा करने से पहले, इंंटरनल टेस्ट शुरू किया जा सकता है.

क्लोज़्ड टेस्टिंग: अपने ऐप्लिकेशन की रिलीज़ के लिए तैयार वर्शन का टेस्ट, टेस्टर के बड़े ग्रुप से कराने के लिए, क्लोज़्ड टेस्टिंग की सुविधा का इस्तेमाल करें. इससे आपको ज़्यादा सही सुझाव या राय मिलेगी. साथ में काम करने वाले लोगों या भरोसेमंद उपयोगकर्ताओं के छोटे ग्रुप से टेस्ट कराने के बाद, अपने ऐप्लिकेशन को सभी लोगों से टेस्ट कराया जा सकता है. आपके क्लोज़्ड टेस्टिंग पेज पर, शुरुआती क्लोज़्ड टेस्ट के तौर पर एक क्लोज़्ड टेस्टिंग ट्रैक उपलब्ध होगा. अगर ज़रूरी हो, तो अन्य क्लोज़्ड ट्रैक बनाए जा सकते हैं और उन्हें नाम भी दिए जा सकते हैं.

अगर आपको ऐसे मौजूदा ऐप्लिकेशन की जांच करनी है जिसे पहले पब्लिश किया जा चुका है, तो ऐप्लिकेशन के वर्शन का अपडेट सिर्फ़ जांच करने वाले उन लोगों के ग्रुप को ही मिलेगा जिन्हें डेवलपर ने टेस्टिंग के लिए चुना है.

ओपन टेस्टिंग: लोगों के बड़े ग्रुप से टेस्ट कराने के लिए, ओपन टेस्टिंग की सुविधा का इस्तेमाल करें. साथ ही, टेस्ट करा लिए गए अपने ऐप्लिकेशन के वर्शन को Google Play पर भी उपलब्ध कराएं. अगर आपने ओपन टेस्ट शुरू किया है, तो इसमें कोई भी शामिल हो सकता है और अपने सुझाव या राय दे सकता है. यह विकल्प चुनने से पहले पक्का कर लें कि आपका ऐप्लिकेशन और स्टोर पेज, Google Play पर दिखने के लिए तैयार है.

सभी को छोटा करें सभी को बड़ा करें

सलाह

मैं शुरुआत कैसे करूं?

हमारा सुझाव है कि आप इंटरनल टेस्ट से शुरुआत करें. इसके बाद, अपनी जांच को बढ़ाकर क्लोज़्ड टेस्टर के किसी छोटे ग्रुप को उसमें शामिल करें. जिन डेवलपर के निजी खाते 13 नवंबर, 2023 के बाद बनाए गए हैं उन्हें ऐडवांस रजिस्ट्रेशन की सुविधा का इस्तेमाल करने से पहले, जांच से जुड़ी कुछ खास शर्तों को पूरा करना होगा. इसके बाद ही, वे अपने ऐप्लिकेशन को Google Play पर उपलब्ध करा पाएंगे. साथ ही, वे ऐडवांस रजिस्ट्रेशन की सुविधा भी इस्तेमाल कर सकते हैं. ज़्यादा जानने के लिए, सहायता केंद्र का यह लेख पढ़ें

मुझे इंटरनल टेस्ट का इस्तेमाल क्यों करना चाहिए?

इंंटरनल टेस्ट तैयार करने पर, इंंटरनल टेस्टर के लिए अपना ऐप्लिकेशन तुरंत रिलीज़ किया जा सकता है. इससे आपको डेवलपमेंट प्रोसेस की शुरुआत में ही समस्याओं को पहचानने के साथ-साथ सुझाव, या राय पाने में मदद मिलती है. इंटरनल टेस्ट की खूबियां:

  • तेज़: ओपन या क्लोज़्ड टेस्ट ट्रैक के मुकाबले, ऐप्लिकेशन के इंटरनल टेस्ट ट्रैक का इस्तेमाल करके, अपना ऐप्लिकेशन ज़्यादा तेज़ी से लोगों को उपलब्ध कराया जा सकता है. ऐप्लिकेशन के इंटरनल टेस्ट ट्रैक पर कोई नया Android ऐप्लिकेशन बंडल पब्लिश करने पर, कुछ ही मिनटों में वह टेस्टर के लिए उपलब्ध हो जाएगा.
    • ध्यान दें: अगर किसी ऐप्लिकेशन को पहली बार पब्लिश किया जा रहा है, तो यह इंटरनल टेस्टर के लिए तुरंत उपलब्ध हो जाएगा. हालांकि, 48 घंटों तक उन्हें ऐप्लिकेशन का अस्थायी नाम और स्टोर पेज की अस्थायी जानकारी दिखेगी.
  • सुविधाजनक: इंंटरनल टेस्ट में बदलाव किए जा सकते हैं, ताकि अलग-अलग चरणों के हिसाब से टेस्ट किया जा सके. इनमें, क्वालिटी टेस्ट करने और लॉन्च के बाद डीबग करने जैसे चरण शामिल हैं.
  • सुरक्षित: ऐप्लिकेशन के इंटरनल टेस्ट ट्रैक की मदद से, Play Store आपके टेस्ट ऐप्लिकेशन को उपयोगकर्ताओं तक सुरक्षित तरीके से पहुंचाता है.
क्या किसी ऐप्लिकेशन के लिए एक ही समय पर एक से ज़्यादा टेस्ट शुरू किए जा सकते हैं?

अगर आपको एक ही ऐप्लिकेशन पर कई टेस्ट कराने हैं, तो इन बातों को ध्यान में रखें:

  • डेवलपर एक समय पर, कई क्लोज़्ड टेस्ट और एक ओपन टेस्ट करा सकता है.
  • अगर कोई उपयोगकर्ता, आपके ऐप्लिकेशन के इंटरनल टेस्ट में शामिल होने का विकल्प चुनता है, तो उसे ओपन या क्लोज़्ड टेस्ट में शामिल होने का मौका नहीं मिलेगा. ओपन या क्लोज़्ड टेस्ट में शामिल होने के लिए, उपयोगकर्ता को इंटरनल टेस्ट से ऑप्ट-आउट करना होगा. इसके बाद, उसे ओपन या क्लोज़्ड टेस्ट में शामिल होने का विकल्प चुनना होगा.

पहला चरण: टेस्ट की जानकारी सेट अप करना

टेस्टिंग का तरीका चुनना

इंटरनल टेस्ट: इसके तहत, 100 टेस्टर जांच में शामिल हो सकते हैं

ईमेल पते के हिसाब से, इंटरनल टेस्टर की सूची बनाई जा सकती है. इंटरनल टेस्ट में, हर ऐप्लिकेशन के लिए ज़्यादा से ज़्यादा 100 टेस्टर हो सकते हैं.

इंटरनल टेस्ट सेट अप करते समय, इन बातों का ध्यान रखें:

  • किसी देश में ऐप्लिकेशन को लोगों तक पहुंचाना: अपने ऐप्लिकेशन के इंटरनल टेस्ट के लिए किसी भी जगह के उपयोगकर्ताओं को जोड़ा जा सकता है. अगर कोई इंटरनल टेस्टर ऐसे देश में मौजूद है जहां आपके ऐप्लिकेशन का प्रोडक्शन, ओपन टेस्ट या क्लोज़्ड टेस्ट वर्शन उपलब्ध नहीं है, तब भी उस टेस्टर को इंटरनल टेस्ट के लिए ऐप्लिकेशन का ऐक्सेस मिलेगा.
  • पैसे चुकाना: पैसे चुकाकर डाउनलोड किए जाने वाले ऐप्लिकेशन के इंटरनल टेस्ट वर्शन को टेस्टर, बिना कोई शुल्क दिए इंस्टॉल कर सकते हैं. अगर टेस्टर, टेस्ट का लाइसेंस रखने वाले टेस्टर की सूची में शामिल नहीं हैं, तो उन्हें इन-ऐप्लिकेशन खरीदारी के लिए पैसे चुकाने होंगे.
  • ऐप्लिकेशन को कुछ खास डिवाइसों पर उपलब्ध न कराने के नियम: ऐप्लिकेशन को कुछ खास डिवाइसों पर उपलब्ध न कराने के नियम, इंटरनल टेस्टर पर लागू नहीं होते हैं.
  • नीति और सुरक्षा से जुड़ी समीक्षाएं: आम तौर पर, Play की टीम हर ऐप्लिकेशन के लिए नीति और सुरक्षा से जुड़ी समीक्षाएं करती है. शायद ये समीक्षाएं इंटरनल टेस्ट के मामले में न की जाएं. उन ऐप्लिकेशन के डेवलपर को Google Play के डेटा की सुरक्षा वाले सेक्शन में कोई जानकारी नहीं देनी होगी जो ऐप्लिकेशन के इंटरनल टेस्ट ट्रैक पर चालू हैं.

इंटरनल टेस्ट शुरू करना

अपने ऐप्लिकेशन के टेस्टर की एक ईमेल सूची बनाएं:

अगर आपने पहले ही ईमेल सूची बना ली है, तो सीधे "टेस्टर जोड़ें" के निर्देश पर जाएं.

  1. Play Console खोलें और इंटरनल टेस्टिंग वाले पेज (टेस्टिंग > इंटरनल टेस्टिंग) पर जाएं.
  2. टेस्टर टैब चुनें.
  3. "टेस्टर" के विकल्प में जाकर, ईमेल सूची बनाएं चुनें.
  4. सूची का नाम डालें. आने वाले समय में, अपने किसी भी ऐप्लिकेशन के टेस्ट के लिए, इसी सूची का इस्तेमाल किया जा सकता है.
  5. कॉमा की मदद से अलग किए गए ईमेल पते जोड़ें या CSV फ़ाइल अपलोड करें पर क्लिक करें. अगर .CSV फ़ाइल का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो बिना कॉमा लगाए ईमेल पते को उसकी लाइन में रखें.
    • ध्यान दें: अगर आपने .CSV फ़ाइल अपलोड की है, तो वह जोड़े गए किसी भी ईमेल पते को ओवरराइट कर देगी.
  6. पहले बदलाव सेव करें, फिर बनाएं चुनें.

जांच करने वाले लोगों को जोड़ना

  1. Play Console खोलें और इंटरनल टेस्टिंग वाले पेज (टेस्टिंग > इंटरनल टेस्टिंग) पर जाएं.
  2. टेस्टर टैब चुनें.
  3. “टेस्टर” की टेबल में, ऐसी उपयोगकर्ता सूचियों को चुनें जिन्हें आपको रिलीज़ के टेस्ट में शामिल करना है.
  4. टेस्टर से सुझाव या राय पाने के लिए, उन्हें सुझाव या राय वाला यूआरएल या ईमेल पता दें. उपयोगकर्ताओं को आपके ऐप्लिकेशन का सुझाव या राय वाला चैनल, टेस्टर से जुड़े ऑप्ट-इन पेज पर दिखेगा.
  5. टेस्टर के साथ रिलीज़ शेयर करने के लिए, शेयर किया जा सकने वाला लिंक कॉपी करें.
  6. बदलाव सेव करें चुनें.

उन ऐप्लिकेशन की जांच करें जो पूरी तरह से कॉन्फ़िगर नहीं हैं

अगर आपका ऐप्लिकेशन पूरी तरह से कॉन्फ़िगर नहीं किया गया है, तो इंंटरनल टेस्टिंग रिलीज़ भी बनाई जा सकती है. ऐप्लिकेशन में किसी मान्य ऐप्लिकेशन बंडल का इस्तेमाल करने के बाद, इसे जांच करने वाले कुछ चुने हुए लोगों के लिए जल्द ही रिलीज़ किया जा सकता है. अगर आपको किसी ऐसे ऐप्लिकेशन की जांच करनी है जो पूरी तरह से कॉन्फ़िगर नहीं किया गया है, तो आपको इन बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  • आपके ऐप्लिकेशन की पहली बार समीक्षा किए जाने से पहले, लोगों को Google Play पर ऐप्लिकेशन का एक अस्थायी नाम दिखेगा. इस नाम को अपने ऐप्लिकेशन के डैशबोर्ड पर, इसकी खास जानकारी वाले पेज में देखा जा सकता है.
  • आर्टफ़ैक्ट अपलोड करते ही, ऐप्लिकेशन के पैकेज का नाम फ़िक्स हो जाता है. इस नाम को बदला नहीं जा सकता.
कुछ चुने हुए लोगों के लिए उपलब्ध जांच: ईमेल पते या Google Groups की मदद से, जांच करने वाले लोगों को मैनेज करना

क्लोज़्ड टेस्ट में, ईमेल पते के हिसाब से इंटरनल टेस्टर की सूची बनाई जा सकती है. कुल 200 सूचियां बनाई जा सकती हैं और हर एक सूची में 2,000 उपयोगकर्ता हो सकते हैं. हर ट्रैक के लिए, ज़्यादा से ज़्यादा 50 सूचियां बनाई जा सकती हैं.

इंंटरनल टेस्टिंग की रिलीज़ तैयार करने के लिए ज़रूरी जानकारी डालें, बदलावों को सेव करें, और रिलीज़ की समीक्षा करें चुनें.

क्लोज़्ड टेस्ट शुरू करना

अपने ऐप्लिकेशन के टेस्टर की एक ईमेल सूची बनाएं

अगर आपने जांच करने वाले लोगों की सूची पहले ही बना ली है, तो सीधे "जांच करने वाले लोगों की सूची जोड़ने" के निर्देश पर जाएं.

  1. Play Console खोलें और क्लोज़्ड टेस्टिंग पेज (टेस्टिंग > क्लोज़्ड टेस्टिंग) पर जाएं.
  2. ट्रैक मैनेज करें चुनें.
  3. टेस्टर टैब चुनें.
  4. "टेस्टर" के विकल्प में जाकर, ईमेल सूची बनाएं चुनें.
  5. सूची का नाम डालें. आने वाले समय में, अपने किसी भी ऐप्लिकेशन के टेस्ट के लिए, इसी सूची का इस्तेमाल किया जा सकता है.
  6. कॉमा की मदद से अलग किए गए ईमेल पते जोड़ें या CSV फ़ाइल अपलोड करें पर क्लिक करें. अगर .CSV फ़ाइल का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो बिना कॉमा लगाए ईमेल पते को उसकी लाइन में रखें.
    • ध्यान दें: अगर आपने .CSV फ़ाइल अपलोड की है, तो वह जोड़े गए किसी भी ईमेल पते को ओवरराइट कर देगी.
  7. पहले बदलाव सेव करें, फिर बनाएं चुनें.

जांच करने वाले लोगों को जोड़ना

  1. Play Console खोलें और क्लोज़्ड टेस्टिंग पेज (टेस्टिंग > क्लोज़्ड टेस्टिंग) पर जाएं.
  2. ट्रैक मैनेज करें चुनें.
  3. टेस्टर टैब चुनें.
  4. "टेस्टर" सेक्शन में, ईमेल या Google Groups की मदद से टेस्टर जोड़े जा सकते हैं:
    • ईमेल: ईमेल अपने-आप चुन लिया जाता है. अगर आपको ईमेल का इस्तेमाल करना है, तो उन उपयोगकर्ताओं की सूचियों को चुनें जिन्हें आपको रिलीज़ की टेस्टिंग में शामिल करना है.
    • Google Groups: Google Groups चुनें. इसके बाद, Google Group के ईमेल पते डालें. ईमेल पते का फ़ॉर्मैट ऐसा होना चाहिए: yourgroupname@googlegroups.com. आपने जिन उपयोगकर्ताओं को Google Groups में शामिल किया है वे ही आपका ऐप्लिकेशन टेस्ट कर पाएंगे.
  5. टेस्टर से सुझाव या राय पाने के लिए, उन्हें सुझाव या राय वाला यूआरएल या ईमेल पता दें. उपयोगकर्ताओं को आपके ऐप्लिकेशन का सुझाव या राय वाला चैनल, टेस्टर से जुड़े ऑप्ट-इन पेज पर दिखेगा.

  6. टेस्टर के साथ रिलीज़ शेयर करने के लिए, शेयर किया जा सकने वाला लिंक कॉपी करें.

  7. बदलाव सेव करें चुनें.
क्लोज़्ड टेस्ट: संगठन के हिसाब से टेस्टर मैनेज करना

क्लोज़्ड टेस्ट में यह चुना जा सकता है कि आपके ट्रैक को कौनसा संगठन ऐक्सेस कर सकता है. इन संगठनों के एडमिन, उपयोगकर्ताओं को आपकी रिलीज़ टेस्ट करने की अनुमति दे सकते हैं.

हमारा सुझाव है कि टेस्टर को सिर्फ़ Play Console की या Google Admin console में Android ऐप्लिकेशन की सेटिंग वाले पेज की मदद से जोड़ें. अगर किसी उपयोगकर्ता को Play Console और Admin console, दोनों से टेस्ट करने के लिए चुना जाता है, तो उसे ऐप्लिकेशन के उपलब्ध सभी वर्शन में से सबसे नया वर्शन मिलेगा.

टेस्टर जोड़ने के लिए:

  1. Play Console खोलें और क्लोज़्ड टेस्टिंग पेज (टेस्टिंग > क्लोज़्ड टेस्टिंग) पर जाएं.
  2. ट्रैक मैनेज करें चुनें.
  3. टेस्टर टैब चुनें.
  4. "संगठन मैनेज करें" सेक्शन में, संगठन जोड़ें चुनें.
  5. उस संगठन का आईडी और नाम डालें जो आपके ट्रैक को ऐक्सेस कर सकता है.
  6. जोड़ें चुनें.
  7. बदलाव सेव करें चुनें.
ओपन टेस्ट: अपने टेस्ट ऐप्लिकेशन को Google Play पर उपलब्ध कराना

अगर ओपन टेस्ट को सेट अप किया जाता है, तो Google Play पर उपयोगकर्ता आपके ऐप्लिकेशन के टेस्ट वर्शन को ढूंढ सकते हैं. इस विकल्प को चुनने से पहले, यह पक्का कर लें कि आपका ऐप्लिकेशन Google Play पर दिखने के लिए तैयार है.

  • रिलीज़ होने से पहले इस्तेमाल किए जाने वाले ऐप्लिकेशन (ऐसे नए ऐप्लिकेशन जो प्रोडक्शन के लिए पब्लिश नहीं किए गए हैं) के लिए: उपयोगकर्ता Google Play पर, ओपन टेस्ट वाला ऐप्लिकेशन ढूंढ सकते हैं. स्टोर पेज मिलने के बाद, उपयोगकर्ता आपका ऐप्लिकेशन इंस्टॉल करके उसे इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • लाइव प्रोडक्शन वर्शन वाले ऐप्लिकेशन के लिए: उपयोगकर्ता आपके स्टोर पेज से, सबके लिए उपलब्ध जांच वाले ऐप्लिकेशन के लिए ऑप्ट-इन कर सकते हैं.

किसी वेबसाइट या ईमेल पर यूआरएल का लिंक भी शेयर किया जा सकता है. जिस उपयोगकर्ता के पास लिंक है वह ओपन टेस्ट को ऐक्सेस कर सकता है.

ओपन टेस्ट शुरू करना

  1. Play Console खोलें और ओपन टेस्टिंग पेज (टेस्टिंग > ओपन टेस्टिंग) पर जाएं.
  2. टेस्टर टैब चुनें.
  3. "जांच करने वाले लोगों को मैनेज करें" सेक्शन को बड़ा करें. अगर "जांच करने वाले लोगों को मैनेज करें" सेक्शन खाली है, तो पक्का करें कि आपने ऐप्लिकेशन बंडल अपलोड किया हो.
  4. चुनें कि जांच करने वाले कितने लोग आपका ऐप्लिकेशन इस्तेमाल कर सकते हैं:
    • अनलिमिटेड: यह विकल्प डिफ़ॉल्ट रूप से चुना हुआ होता है.
    • सीमित संख्या: टेस्टर की संख्या (कम से कम 1,000 होनी चाहिए) तय की जा सकती है.
  5. टेस्टर से सुझाव या राय पाने के लिए, उन्हें सुझाव या राय वाला यूआरएल या ईमेल पता दें. उपयोगकर्ताओं को आपके ऐप्लिकेशन का सुझाव या राय वाला चैनल, टेस्टर से जुड़े ऑप्ट-इन पेज पर दिखेगा.
  6. टेस्टर के साथ रिलीज़ शेयर करने के लिए, शेयर किया जा सकने वाला लिंक कॉपी करें.
  7. बदलाव सेव करें चुनें.
अपनी डेवलपमेंट टीम के लिए, अतिरिक्त क्लोज़्ड टेस्ट ट्रैक बनाना

कुछ मामलों में, आपको अतिरिक्त क्लोज़्ड टेस्ट ट्रैक की ज़रूरत पड़ सकती है. उदाहरण के लिए, हो सकता है कि आपके पास अलग-अलग डेवलपमेंट टीमें हों जिन्हें अलग-अलग सुविधाओं में आने वाली गड़बड़ियों का पता लगाना हो. अगर हर टीम अपना टेस्टिंग ट्रैक बना लेती है, तो सभी टीमें एक ही समय में अलग-अलग सुविधाओं पर काम कर सकती हैं.

अतिरिक्त टेस्ट ट्रैक की मदद से, ईमेल पते के हिसाब से टेस्टर की सूची बनाई जा सकती है. इसके अलावा, आपके पास Google Groups की मदद से, टेस्टर को मैनेज करने का विकल्प भी है. इन ग्रुप में जितने चाहें उतने लोग शामिल हो सकते हैं.

अतिरिक्त टेस्ट ट्रैक बनाना

  1. Play Console खोलें और क्लोज़्ड टेस्टिंग पेज (टेस्टिंग > क्लोज़्ड टेस्टिंग) पर जाएं.
  2. पेज के सबसे ऊपर दाईं ओर, बनाएं का विकल्प चुनें.
  3. ट्रैक का नाम डालें. ट्रैक के शीर्षक का इस्तेमाल, Play Console और 'Google Play डेवलपर एपीआई' में ट्रैक के नाम के तौर पर किया जाता है.
  4. ट्रैक बनाएं चुनें.
  5. टेस्टर टैब चुनें.
  6. "टेस्टर" सेक्शन में, ईमेल या Google Groups की मदद से टेस्टर जोड़े जा सकते हैं:
    • ईमेल: ईमेल अपने-आप चुन लिया जाता है. अगर आपको ईमेल का इस्तेमाल करना है, तो उन उपयोगकर्ताओं की सूचियों को चुनें जिन्हें आपको रिलीज़ की टेस्टिंग में शामिल करना है.
    • Google Groups: Google Groups चुनें. इसके बाद, Google Group के ईमेल पते डालें. ईमेल पते का फ़ॉर्मैट ऐसा होना चाहिए: yourgroupname@googlegroups.com. आपने जिन उपयोगकर्ताओं को Google Groups में शामिल किया है वे ही आपका ऐप्लिकेशन टेस्ट कर पाएंगे.
  7. जांच करने वाले लोगों से मिले सुझाव, राय या शिकायत इकट्ठा करने के लिए, सुझाव, राय या शिकायत वाला यूआरएल या ईमेल पता उपलब्ध कराएं. उपयोगकर्ताओं को आपके ऐप्लिकेशन का सुझाव या राय वाला चैनल, टेस्टर से जुड़े ऑप्ट-इन पेज पर दिखेगा.
  8. टेस्टर के साथ रिलीज़ शेयर करने के लिए, शेयर किया जा सकने वाला लिंक कॉपी करें.
  9. सेव करें चुनें.

टेस्ट से जुड़ी सलाह और सहायता

अतिरिक्त क्लोज़्ड टेस्ट ट्रैक बनाने पर, ये सुविधाएं काम नहीं करती हैं:

Google Play की गेम सेवाओं के लिए, टेस्टर मैनेज करना

अगर Google Play की गेम सेवाओं का इस्तेमाल किया जाता है, तो टेस्टर ग्रुप आपके ऐप्लिकेशन और Google Play की गेम सेवाओं के बीच अपने-आप शेयर हो जाते हैं.

टेस्टर ऐसे बदलावों को आज़मा सकते हैं जिन्हें आपने गेम प्रोजेक्ट में सेव किया है. जैसे, उपलब्धियां और लीडरबोर्ड. वे इन बदलावों को असल उपयोगकर्ताओं के लिए पब्लिश किए जाने से पहले देख सकते हैं. आपके पास हर टेस्टर को उसके ईमेल पते का इस्तेमाल करके मैनेज करने का विकल्प होता है. इसके अलावा, इन टेस्टर से ही रिलीज़ ट्रैक से पब्लिश किए गए ऐप्लिकेशन की टेस्टिंग कराई जा सकती है.

अपने Play की गेम सेवाएं > सेटअप और मैनेजमेंट > टेस्टर पेज पर, टेस्टर स्विच का इस्तेमाल किया जा सकता है. ऐसा करने से, वे सभी उपयोगकर्ता Play की गेम सेवाओं के टेस्ट में अपने-आप शामिल हो जाएंगे जिन्होंने आपके ऐप्लिकेशन का टेस्ट करने के लिए ऑप्ट-इन किया है.

Google Play की गेम सेवाओं के लिए, अलग-अलग टेस्टर को मैन्युअल तरीके से शामिल करने के लिए:

  1. Play Console खोलें और Play की गेम सेवाओं के टेस्टर पेज (Play की गेम सेवाएं > सेटअप और मैनेजमेंट > टेस्टर) पर जाएं.
  2. बाएं मेन्यू में, Play की गेम सेवाएं > सेटअप और मैनेजमेंट > टेस्टर चुनें.
  3. वे ईमेल पते लिखें जिन्हें आपको जोड़ना है. ईमेल पते, उन मान्य Google खातों के होने चाहिए जिनमें Google Play की गेम सेवाओं का इस्तेमाल करके साइन इन किया गया हो.
  4. जोड़ें चुनें.

अगर उपयोगकर्ता आपके टेस्ट ग्रुप में शामिल होते हैं, तो वे Google Play की गेम सेवाओं का इस्तेमाल करके साइन इन कर सकते हैं. इसके अलावा, ड्राफ़्ट पाने या उपलब्धियां पब्लिश करने की सुविधा का फ़ायदा भी ले सकते हैं. साथ ही, ड्राफ़्ट में पोस्ट करने या पब्लिश किए गए लीडरबोर्ड में हिस्सा लेने जैसी सुविधाओं का भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

दूसरा चरण: रिलीज़ बनाना

ऐप्लिकेशन टेस्ट कराने से जुड़ी जानकारी सेट अप करने के बाद, रिलीज़ तैयार करके उसे रोल आउट किया जा सकता है.

अपने ऐप्लिकेशन के क्लोज़्ड टेस्टिंग ट्रैक और ओपन टेस्टिंग ट्रैक पर देशों की उपलब्धता मैनेज करने के बारे में जानकारी पाने के लिए, खास देशों में ऐप्लिकेशन रिलीज़ उपलब्ध कराएं पर जाएं.

तीसरा चरण: टेस्टर के साथ अपना ऐप्लिकेशन शेयर करना

ओपन या क्लोज़्ड टेस्ट चलाने पर, टेस्टर अपने डिवाइस का इस्तेमाल करके, Google Play पर आपके टेस्ट ऐप्लिकेशन को ढूंढ सकते हैं. अगर यह क्लोज़्ड टेस्ट है, तो टेस्ट किया जाने वाला आपका ऐप्लिकेशन अब भी सिर्फ़ उन ही टेस्टर को उपलब्ध होगा जो आपकी सूची या ग्रुप में शामिल होंगे.

ऐप्लिकेशन को प्रोडक्शन में रोल आउट करने से पहले या उसे ओपन टेस्टिंग की मदद से उपलब्ध कराने से पहले, अगर इंटरनल या क्लोज़्ड टेस्ट कराया जाता है, तो टेस्टर को वह ऐप्लिकेशन Google Play पर नहीं मिलेगा. आपको टेस्टर के साथ ऐप्लिकेशन का Play Store वाला यूआरएल शेयर करना होगा, ताकि वे आपका ऐप्लिकेशन डाउनलोड कर सकें.

अगर टेस्टर किसी वजह से Google Play पर आपका ऐप्लिकेशन नहीं ढूंढ पा रहे हैं, तो उनके साथ ऑप्ट-इन करने का लिंक भी शेयर किया जा सकता है. ऑप्ट-इन लिंक का इस्तेमाल करते समय, आपकी सहायता के लिए नीचे कुछ नोट दिए गए हैं:

  • ऑप्ट-इन करने का लिंक, ऐप्लिकेशन "पब्लिश" होने के बाद ही दिखता है. "ड्राफ़्ट" या "अभी पब्लिश होना बाकी है" में मौजूद ऐप्लिकेशन ऑप्ट-इन करने का लिंक नहीं दिखाएंगे.
  • ऑप्ट-इन करने के लिंक पर क्लिक करने के बाद, आपके टेस्टर को इस बात की जानकारी मिलेगी कि टेस्टर होने के क्या मायने हैं. साथ ही, उन्हें ऑप्ट-इन करने का लिंक भी मिलेगा. हर एक टेस्टर को लिंक का इस्तेमाल करके ऑप्ट-इन करना होगा.
  • Google Group का इस्तेमाल करके क्लोज़्ड टेस्ट उपलब्ध कराने पर, उपयोगकर्ताओं को टेस्ट के लिए ऑप्ट-इन करने से पहले ग्रुप में शामिल होना ज़रूरी है.

चौथा चरण: सुझाव या राय पाना

जब टेस्टर आपका ऐप्लिकेशन इंस्टॉल कर लेंगे, तब उन्हें टेस्ट वर्शन को इस्तेमाल करने का अपडेट कुछ ही मिनटों में अपने-आप मिल जाएगा.

टेस्टर आपके ऐप्लिकेशन के टेस्ट वर्शन के बारे में Google Play पर सार्वजनिक समीक्षाएं नहीं दे सकते. इसलिए, बेहतर होगा कि आप ऐप्लिकेशन में सुझाव या राय देने वाला चैनल शामिल करें. इसके अलावा, टेस्टर को सुझाव या राय भेजने का तरीका (ईमेल, वेबसाइट या किसी मैसेज फ़ोरम से) बताएं.

अगर ओपन या क्लोज़्ड टेस्ट करवाया जा रहा है, तो जांच करने वाले लोग Google Play की मदद से निजी सुझाव, राय या शिकायत भी दे सकते हैं.

पांचवा चरण: टेस्ट बंद करना

टेस्ट ऐप्लिकेशन से उपयोगकर्ताओं को हटाने के लिए:

  1. Play Console खोलें और टेस्टिंग पेज पर जाकर किसी टेस्ट को बंद करने के लिए:
  2. वह जांच ढूंढें जिसे खत्म करना है और ट्रैक मैनेज करें चुनें.
    • ध्यान दें: किस तरह का टेस्ट बंद किया जा रहा है और कितने टेस्ट चलाए जा रहे हैं, इसके हिसाब से शायद आपको यह चरण पूरा करने की ज़रूरत न पड़े.
  3. पेज के सबसे ऊपर दाईं ओर, ट्रैक रोकें चुनें.
  4. टेस्ट बंद होने के बाद, टेस्टर को अपडेट नहीं मिलेंगे, लेकिन ऐप्लिकेशन उनके डिवाइस पर इंस्टॉल रहेगा.

वर्शन कोड और टेस्टिंग ट्रैक के स्टेटस

वर्शन कोड के लिए ज़रूरी शर्तें

उपयोगकर्ताओं को ऐप्लिकेशन का वह वर्शन मिलता है:

  • जिसमें उनके डिवाइस के साथ काम करने के लिए सबसे नया वर्शन कोड हो और
  • जिसे किसी ऐसे ट्रैक पर पब्लिश किया गया हो जिस पर वे उसे पा सकते हों.

सभी उपयोगकर्ता प्रोडक्शन के लिए बनाए गए ट्रैक को हमेशा पा सकते हैं. अगर प्रोडक्शन में पब्लिश किए गए ऐप्लिकेशन बंडल का वर्शन कोड, उस टेस्ट ट्रैक में पब्लिश किए गए ऐप्लिकेशन बंडल के बाद का है जिसमें उपयोगकर्ता ने ऑप्ट-इन किया है, तो उपयोगकर्ता को प्रोडक्शन रिलीज़ मिलेगी.

किसी उपयोगकर्ता को टेस्ट ट्रैक हासिल करने के लिए, इन शर्तों का पालन करना ज़रूरी है:

  • वह मैनेज किए गए ट्रैक कॉन्फ़िगरेशन में शामिल रहे और
  • उसने मिलते-जुलते टेस्ट प्रोग्राम में ऑप्ट इन किया हो

एक से ज़्यादा ट्रैक पाने वाले उपयोगकर्ताओं को उन ट्रैक पर पब्लिश किया गया सबसे बाद वाला वर्शन कोड मिलेगा. उदाहरण के लिए, ओपन टेस्टिंग में शामिल उपयोगकर्ता, प्रोडक्शन ट्रैक और ओपन टेस्टिंग ट्रैक, दोनों का इस्तेमाल कर सकते हैं. क्लोज़्ड टेस्टिंग में शामिल उपयोगकर्ता, प्रोडक्शन ट्रैक और क्लोज़्ड टेस्टिंग ट्रैक, दोनों का इस्तेमाल कर सकते हैं. ओपन टेस्टिंग और क्लोज़्ड टेस्टिंग, दोनों में शामिल उपयोगकर्ता, प्रोडक्शन, ओपन टेस्टिंग, और क्लोज़्ड टेस्टिंग ट्रैक का इस्तेमाल कर सकते हैं.

जो उपयोगकर्ता इंटरनल टेस्टिंग के लिए ऑप्ट-इन करते हैं वे ओपन टेस्टिंग और क्लोज़्ड टेस्टिंग में शामिल नहीं हो सकते. भले ही, उन्हें टेस्टर के तौर पर शामिल किया गया हो. इन उपयोगकर्ताओं को उन ट्रैक पर सबसे बाद में पब्लिश होने वाला वर्शन कोड नहीं मिलेगा. साथ ही, उन्हें सिर्फ़ इंटरनल टेस्टिंग ट्रैक पर पब्लिश किया गया वर्शन कोड मिलेगा.

ज़्यादा जानकारी के लिए, अपने ऐप्लिकेशन का वर्शन देखें.

टेस्टिंग ट्रैक के स्टेटस

अपनी रिलीज़ को रोल आउट करते समय, आपको पुष्टि करने वाले मैसेज दिख सकते हैं. इनमें यह बताया जाता है कि दिए गए ट्रैक के उपयोगकर्ताओं को दूसरे ट्रैक से ऐप्लिकेशन के अपडेट कब मिलते हैं. इसे ट्रैक का फ़ॉलबैक स्टेटस कहा जाता है.

फ़ॉलबैक के नियम और स्टेटस

  • शैडो किया गया: एक ऐप्लिकेशन बंडल को दूसरे बंडल का शैडो तब माना जाता है, जब वह दूसरे बंडल के डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन का कुछ हिस्सा या पूरा कॉन्फ़िगरेशन कॉपी करता है और उसका वर्शन कोड बाद का होता है.
  • प्रमोट किया गया: ट्रैक के सभी चालू ऐप्लिकेशन बंडल, फ़ॉलबैक ट्रैक के चालू ऐप्लिकेशन बंडल में मौजूद होते हैं. उदाहरण के लिए, ओपन टेस्टिंग ट्रैक के सभी चालू ऐप्लिकेशन बंडल, प्रोडक्शन में भी चालू होते हैं. आपको यह तब दिख सकता है, जब ऐप्लिकेशन बंडल को पहले किसी टेस्टिंग ट्रैक पर रिलीज़ किया जाता है और फिर टेस्ट किए गए ऐप्लिकेशन बंडल को ज़्यादा ठीक तरीके से काम करने वाले ट्रैक पर रिलीज़ किया जाता है.
  • पूरी तरह शैडो किया गया: नए वर्शन कोड वाले चालू ऐप्लिकेशन बंडल, किसी ट्रैक में मौजूद सभी चालू ऐप्लिकेशन बंडल को उसके फ़ॉलबैक ट्रैक में पूरी तरह शैडो कर लेते हैं. ट्रैक का कोई भी ऐप्लिकेशन बंडल उपयोगकर्ताओं को इस्तेमाल करने के लिए नहीं दिया जाता है, क्योंकि उन सभी को फ़ॉलबैक ट्रैक का ऐप्लिकेशन बंडल मिलेगा. इसका मतलब है कि जगह लेने वाले ट्रैक का प्रतिनिधित्व करने वाले टेस्ट प्रोग्राम को छोड़ दिया गया था.
  • कुछ हिस्से को शैडो किया गया: ट्रैक का कम से कम एक चालू ऐप्लिकेशन बंडल अपने फ़ॉलबैक ट्रैक में, किसी नए वर्शन कोड वाले ऐप्लिकेशन बंडल से शैडो किया जाता है. इसका मतलब है कि ओपन टेस्टिंग ट्रैक के कुछ उपयोगकर्ताओं को ओपन टेस्टिंग ट्रैक से ऐप्लिकेशन बंडल भेजा जाएगा, जबकि दूसरों को प्रोडक्शन से ऐप्लिकेशन बंडल मिल सकता है. वर्शन कोड असाइन करते समय शायद सबसे ज़्यादा यही गड़बड़ी होती है.

मिलता-जुलता कॉन्टेंट

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
true
खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू