सही दर्शक और ऐप्लिकेशन की सामग्री सेटिंग प्रबंधित करना

Academy Logo

मुफ़्त में सीखने की सुविधा.

Academy for App Success पर जाएं और इसकी प्रक्रिया के बारे में जानें. साथ ही, आप इसकी इंटरैक्टिव चेकलिस्ट भी देख सकते हैं.
 

 

उपयोगकर्ताओं को बेहतर सेवा देने के लिए, अपने ऐप्लिकेशन के बारे में सटीक जानकारी देना ज़रूरी है. कॉन्टेंट रेटिंग के सवालों की सूची में मांगी गई जानकारी भरने के अलावा, आपको अपने ऐप्लिकेशन के सही दर्शकों और सामग्री के बारे में भी जानकारी देनी होगी. आपके चुने गए सही दर्शकों के हिसाब से, आपके ऐप्लिकेशन पर दूसरी Google Play नीतियां भी लागू हो सकती हैं:

आपका ऐप्लिकेशन मुख्य रूप से 13 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए बनाया गया है आपको परिवार के लिए बनाए गए प्रोग्राम में हिस्सा लेना होगा और Google Play की परिवार नीति की ज़रूरी शर्तों का पालन भी करना होगा.
आपका ऐप्लिकेशन सभी लोगों के लिए बनाया गया है जिनमें बच्चे भी शामिल हैं ऐसा ऐप्लिकेशन जिसके सही दर्शकों के कम से कम एक उम्र समूह में बच्चे भी शामिल हों, उसे Google Play की परिवार नीति की ज़रूरतों को पूरा करना होगा.
आपका ऐप्लिकेशन बच्चों के लिए नहीं बना है आपको अब भी Google Play की डेवलपर कार्यक्रम की नीतियां और डेवलपर वितरण अनुबंध में बताई गई ज़रूरी शर्तों को पूरा करना होगा.

सही दर्शक और सामग्री वाला सेक्शन भरना

अगर आप एक नया ऐप्लिकेशन बनाते हैं या किसी मौजूदा ऐप्लिकेशन का अपडेट प्रकाशित करते हैं, तो आपको अपने ऐप्लिकेशन के हिसाब से टारगेट किए गए एज ग्रुप की जानकारी देनी होगी. ऐसे ऐप्लिकेशन जिनके सही दर्शकों में बच्चे शामिल हों, उन्हें Google Play की परिवार नीति की ज़रूरतों को पूरा करना होगा.

अगर आपके ऐप्लिकेशन के सही दर्शकों में 13 साल से कम उम्र समूह के बच्चे शामिल हैं, तो सही दर्शक और सामग्री सेक्शन भरने से पहले, आपको एलान करना चाहिए कि आपके ऐप्लिकेशन में विज्ञापन शामिल हैं या नहीं, और आपकी गोपनीयता नीति जोड़ी गई है.

  1. Play कंसोल में साइन इन करें.
  2. सभी ऐप्लिकेशन सभी ऐप्लिकेशन पर क्लिक करें.
  3. किसी ऐप्लिकेशन को चुनें.
  4. बाईं ओर मेन्यू में, स्टोर में मौजूदगी > ऐप्लिकेशन कॉन्टेंट पर क्लिक करें.
  5. "सही दर्शक और सामग्री" में जाकर, शुरू करें चुनें. यहां हर सेक्शन के हिसाब से, पूछी गई जानकारी भरें:
    • सही उम्र: वह उम्र समूह चुनें, जिसे (जिन्हें) आपका ऐप्लिकेशन टारगेट करता हो. ज़रूरत पड़ने पर आप एक से ज़्यादा समूह चुन सकते हैं. ज़्यादा जानकारी के लिए यह लिंक खोलें.
    • ऐप्लिकेशन की जानकारी: आपसे ऐप्लिकेशन के काम करने के तरीके के बारे में ज़्यादा जानकारी मांगी जा सकती है. यह ज़रूरी है कि आप अपने ऐप्लिकेशन से जुड़े सवालों के सही जवाब दें. कुछ सवाल कानूनी ज़रूरतों से जुड़े होते हैं. अगर आपको किसी सवाल का जवाब नहीं पता, तो कृपया अपने कानूनी सलाहकार से संपर्क करें. 
    • विज्ञापन: अगर आपका ऐप्लिकेशन बच्चों को विज्ञापन दिखा रहा है, तो आपसे Google Play के परिवार के लिए बनाए गए विज्ञापन कार्यक्रम के बारे में पूछा जा सकता है. इसके अलावा, आपसे यह भी पूछा जा सकता है कि आपके ऐप्लिकेशन में न्यूट्रल एज स्क्रीन मौजूद है या नहीं.
    • स्टोर में मौजूदगी: मुख्य रूप से बच्चों के लिए बने ऐप्लिकेशन का, Google Play के परिवार के लिए बनाए गए प्रोग्राम में हिस्सा लेना ज़रूरी है. अगर आपका ऐप्लिकेशन एक से ज़्यादा उम्र समूह के दर्शकों के लिए बनाया गया है, जैसे कि बच्चे और बड़े दर्शक, तब भी आप प्रोग्राम पर लागू करें चुन सकते हैं.
  6. चुने गए विकल्पों की खास जानकारी की समीक्षा करें औरसेव करें पर क्लिक करें.
    • Google आपके ऐप्लिकेशन की समीक्षा करके इस बात की पुष्टि करेगा कि आपने सही दर्शक के रूप में जिन्हें चुना है वे सटीक हैं या नहीं. साथ ही, ऐसा करके Google इस बात की भी पुष्टि करेगा कि आपका ऐप्लिकेशन, डेवलपर के लिए Google Play की नीतियों का पालन करता है. कृपया ध्यान दें कि कुछ डेवलपर खातों और/या खास श्रेणियों के ऐप्लिकेशन की समीक्षा ज़्यादा विस्तार से की जाती है. इस वजह से कुछ खास मामलों में, समीक्षा करने में सात दिन या इससे ज़्यादा समय लग सकता है. हम सुझाव देते हैं कि आप इन बदलावों को अपने खाते पर लागू होने के हिसाब से अपनी योजना तय करें.

सही एज ग्रुप के बारे में जानकारी  

आपको अपने ऐप्लिकेशन के सही दर्शकों के लिए एक से ज़्यादा एज ग्रुप सिर्फ़ तभी चुनने चाहिए, जब आपने अपना ऐप्लिकेशन, चुने गए हर एज ग्रुप के उपयोगकर्ताओं के लिए बनाया हो. साथ ही, आपको पूरा यकीन हो कि ऐप्लिकेशन उन सभी के हिसाब से सही है.

उदाहरण के लिए, छोटे बच्चों के लिए बने किसी ऐप्लिकेशन में सिर्फ़ “5 साल या उससे कम उम्र" वाले ग्रुप को ही चुना जाना चाहिए.

आपको वयस्कों और बच्चों, दोनों को शामिल करने वाले एज ग्रुप सिर्फ़ तब चुनने चाहिए, जब आपने वाकई ऐप्लिकेशन को सभी उम्र के लोगों के लिए बनाया हो. इन दोनों को शामिल करने वाला ग्रुप सिर्फ़ इसलिए न चुनें कि आप अपने ऐप्लिकेशन को सभी उम्र के उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध कराना चाहते हैं.

अगर आपका ऐप्लिकेशन 21 साल से कम उम्र के किसी भी उपयोगकर्ता को टारगेट करता है, तो यह ज़रूर सोच लें कि उन्हें उनके स्थानीय कानूनों के तहत बच्चा माना जाएगा या नहीं. बच्चों को टारगेट करने वाले ऐप्लिकेशन को Google Play की परिवार नीति की ज़रूरतों को पूरा करना होगा.

यहां कुछ सलाहें और उदाहरण दिए गए हैं जिनकी मदद से आप अपने ऐप्लिकेशन के लिए सबसे सटीक एज ग्रुप चुन सकते हैं.

सबसे सही तरीके  

  • क्वालिटी -  ऐप्लिकेशन की क्वालिटी और उसके काम करने के तरीके का बहुत असर पड़ता है. छोटे बच्चों के लिए भी यह बहुत मायने रखता है. देख लें कि आपका ऐप्लिकेशन और उसमें शामिल नेविगेशन, विज़ुअल, और लेख या आवाज़, सभी उम्र के लोगों के लिए सही हो.
  • मकसद और मान - अपने ऐप्लिकेशन के मैसेज और बच्चों की दिलचस्पी बनाए रखने के अपने तरीके के बारे में सोचें — आप कहानी, किरदारों, अलग-अलग लेवल और इनाम देने के सिस्टम या किसी दूसरे तरीके से ऐसा कर सकते हैं.
  • उम्र के लिहाज़ से सही सामग्री - अगर आपके ऐप्लिकेशन में ऐसी सामग्री, सिद्धान्त या थीम हैं, जो संवेदनशील या वयस्क लोगों के लिए हैं, तो देख लें कि वह चुने गए दर्शकों की उम्र के हिसाब से ठीक हैं या नहीं. यह बात विज्ञापनों और इन-ऐप्लिकेशन खरीदारियों पर भी लागू होती है.

पाँच साल या इससे कम उम्र वाला ग्रुप

ध्यान दें कि ज़्यादातर जगहों पर, इस एज ग्रुप में बच्चे शामिल होते हैं.

इस उम्र के लिए ऐप्लिकेशन सही तब माने जाएंगे, जब:

  • वे उन लोगों के लिहाज़ से ठीक हों जो पढ़ नहीं सकते या पढ़ना सीख रहे हैं. इसके लिए ज़रूरी है कि ऐप्लिकेशन में शामिल सामग्री में बहुत ज़्यादा टेक्स्ट शामिल न हो 
  • उनका डिज़ाइन सरल हो और उनमें बड़ी-बड़ी तस्वीरें और निशान हों. साथ ही, उनमें बच्चों की दिलचस्पी बनाए रखने के लिए साफ़ और एक तरह की चीज़ें हों
  • उनमें छोटे बच्चों के लिए मज़ेदार रंग, आवाज़ें और अलग-अलग इंद्रियों के इस्तेमाल से जुड़ी गतिविधियां हों
  • उनमें अलग-अलग किरदार निभाने वाले खेल, आसानी से सुलझने वाले सवाल, और/या मुफ़्त में खेले जा सकने वाले क्रिएटिव खेल हों
  • उनमें एक-दूसरे को साथ लेकर चलने, अपनेपन, परिवार, और/या दोस्ती को बढ़ावा देने वाले मशहूर किरदार और थीम हों
  • उनमें शामिल मैसेज अच्छे या मज़ाकिया हों और उनका अंत ऐसा हो जिससे कोई दुखी न हो या जो सबको समझ आए
  • उनमें प्यार और लगाव दिखाया जाए, जैसे कि किरदारों का हाथ पकड़ना या एक-दूसरे से गले मिलना
  • उनमें माता-पिता के करने के लिए कोई गतिविधि हो या उनके लिए सटीक जानकारी दी गई हो
ऐप्लिकेशन इस उम्र के लिए सही नहीं होंगे, अगर:
  • उनमें डरावनी और अंधेरी जगहें या किरदारों को जोखिम में दिखाया जाए (उदाहरण के लिए डरावने जानवर, राक्षस, संगीत या बैकग्राउंड)
  • उनमें जल्दी प्रतिक्रिया देने, आंखों और हाथों की मांसपेशियों को एक साथ चलाने (फ़ाइन मोटर कौशल), कुछ टाइप करने या हिसाब लगाने जैसी गतिविधियों की ज़रूरत हो 
  • उनमें कुछ देर पहले बताई या दिखाई गई चीज़ें याद रखने या ऐसी चीज़ों के बारे में सोचने की ज़रूरत पड़े जो उस समय वहां मौजूद न हों 
  • उनमें खेल से जुड़ी सज़ा शामिल हो. ऐसा ज़रूरी है, क्योंकि इस एज ग्रुप के कई बच्चे अब भी अपनी भावनाओं को काबू करना और कोई काम न कर पाने पर दी जाने वाली सही प्रतिक्रिया सीख रहे होते हैं
  • उनमें हिंसा, लड़ाई, हथियार, गंदे मज़ाक या भाषा, किसी को गाली देना या किसी की बेइज़्ज़ती करना या थोड़ी सी भी यौन या अश्लील सामग्री शामिल दिखाई गई हो. इसमें शराब पीते हुए दिखाना भी शामिल है.
  • उनमें ऐसी कई सुविधाएं शामिल हों जिनकी वजह से बच्चों का ध्यान खेल से भटक जाए

छह से आठ साल का एज ग्रुप

ध्यान दें कि ज़्यादातर जगहों पर, इस एज ग्रुप में बच्चे शामिल होते हैं.

इस उम्र के लिए ऐप्लिकेशन सही तब माने जाएंगे, जब:

  • वे पढ़ना-लिखना शुरू करने वाले बच्चों के लिए ठीक हों और टेक्स्ट पर ज़्यादा निर्भर न हों
  • उनमें कुछ काम न कर पाने पर दुखी होने वाले बच्चों या सीखने के लिए उत्सुक बच्चों के लिए अच्छे सुझाव हों
  • उनमें मज़ेदार और/या मशहूर पात्र या कहानियां हों, फिर चाहे वे अजीबोगरीब हालातों में किए जाने वाले और बढ़ा-चढ़ा कर किए गए मज़ाक हों
  • उनमें बच्चों के लिए एक अच्छा आदर्श हो
  • उनमें बैज का इस्तेमाल करना, किरदार इकट्ठे करना, लेवल अनलॉक करना या उम्र के हिसाब से सही इनाम देने जैसी दूसरी गतिविधियां हों 
  • उनमें भाषा का विकास, पढ़ने-लिखने की शुरुआत, और बुनियादी गणित जैसी शुरुआती शिक्षा से जुड़ी गतिविधियां हों

ऐप्लिकेशन इस उम्र के लिए सही नहीं होंगे, अगर:

  • उनमें बहुत छोटे बच्चों के हिसाब से थीम, रंग, संगीत या किरदार शामिल हों
  • उनमें शरीर से जुड़े रूढ़िवादी या असलियत से दूर लगने वाले मैसेज हों. इनमें ऐसे किरदार और गतिविधियां शामिल हैं जो रूप-रंग पर ज़ोर देते हैं (जैसे, मेकओवर गेम)
  • उनमें किरदारों या रिश्तों का अपमान करने वाली, उन्हें सिर्फ़ किसी चीज़ की तरह या कामुक तरीके से दिखाने वाली गतिविधियां शामिल हों
  • उनमें असली लगने वाला गुस्सा, हिंसा या चोट (हाल ही में घटी घटनाओं सहित) दिखाई जाए
  • खोज की सुविधा शामिल हो

नौ से बारह साल का एज ग्रुप

ध्यान दें कि ज़्यादातर जगहों पर, इस एज ग्रुप में बच्चे शामिल होते हैं.
इस उम्र के लिए ऐप्लिकेशन सही तब माने जाएंगे, जब:
  • उनमें तर्क या अलग-अलग आकारों और आकृतियों वाली चीज़ों से जुड़ी समस्या हल करनी हो. इसके लिए यह ज़रूरी नहीं है कि बच्चों को चीज़ों का मतलब समझकर उन्हें हल करने और ऐसी चीज़ों के बारे में सोचने की ज़रूरत पड़े जो उस समय वहां मौजूद न हों (ऐसा करना इस उम्र के बच्चों के लिए मुश्किल हो सकता है)
  • उनमें ऐसे विषय शामिल हों जिन्हें इस उम्र में आम तौर पर स्कूलों में पढ़ाया जाता है
  • उनमें अपने बारे में रचनात्मक तरीके से बताने और चीज़ों को अपने हिसाब से समझाने की गतिविधियां शामिल हों (लेकिन ऐसा एक सीमित दायरे में किया जाए जिसकी दूसरे लोग निगरानी कर सकें)
ऐप्लिकेशन इस उम्र के लिए सही नहीं होंगे अगर:
  • उनमें शामिल मज़ाक, थीम, किरदार, और काम बच्चों की उम्र के हिसाब से सही न हों
  • उनमें ऐसा गेमप्ले शामिल हो जिसे करने में बच्चों को मज़ा न आए या जो बहुत आसान हो
  • उनमें किरदारों या रिश्तों का अपमान करने वाली, उन्हें सिर्फ़ किसी चीज़ की तरह या कामुक तरीके से दिखाने वाली गतिविधियां शामिल हों
  • उनमें गालियां या अश्लील शब्द शामिल हों
  • उनमें शरीर से जुड़े रूढ़िवादी या असलियत से दूर लगने वाले मैसेज हों. इनमें ऐसे किरदार और गतिविधियां शामिल हैं जो रूप-रंग पर ज़ोर देते हैं (जैसे, मेकओवर गेम) 
  • उनमें असली लगने वाले गुस्से, हिंसा या चोट (हाल ही में घटी घटनाओं सहित) जैसा गलत व्यवहार दिखाया जाए
  • उनमें उपयोगकर्ताओं से सीधे संपर्क करने को अनुमति दी जाए

13-15 साल का एज ग्रुप

ध्यान दें कि कुछ जगहों पर, इस एज ग्रुप में बच्चे शामिल होते हैं.
इस उम्र के लिए ऐप्लिकेशन सही तब माने जाएंगे, जब:
  • उनमें इस उम्र के मुताबिक सही स्टोरीलाइन, किरदार, मज़ाक, चुनौतियां या गेम के तरीके शामिल हों
  • उनमें ऐसे विषय शामिल हों जिन्हें इस उम्र में आम तौर पर स्कूलों में पढ़ाया जाता है
  • उनमें समाज से जोड़ने वाली ऐसी सुविधाएं और जानकारी शामिल हों जो इस उम्र के लिहाज़ से ठीक हों
  • उनमें उपयोगकर्ता को अपनी पहचान, खुद को देखने का नज़रिया, और किशोरावस्था के बारे में उनकी उम्र के हिसाब से सही जानकारी दी जाए

ऐप्लिकेशन इस उम्र के लिए सही नहीं होंगे, अगर:

  • उनमें किरदारों और रिश्तों को हिंसक, रूढ़िवादी, अपमान करने वाले, लोगों को सिर्फ़ कोई चीज़ समझने वाले या बहुत ज़्यादा कामुक नज़रिए से दिखाया जाए
  • उनमें ऐसे जोखिम भरे व्यवहार को बढ़ावा दिया जाए जिसकी वजह से लोगों को सच में चोट लगने का डर हो 

16-17 साल का एज ग्रुप

ध्यान दें कि कुछ जगहों पर, इस एज ग्रुप में बच्चे शामिल होते हैं.
इस उम्र के लिए ऐप्लिकेशन सही तब माने जाएंगे, जब:
  • उनमें ऐसे विषय शामिल हों जिन्हें इस उम्र में आम तौर पर स्कूलों में पढ़ाया जाता है
  • उनमें किशोरों के बीच मशहूर किरदार और विषय शामिल हों
  • उनमें थोड़े मुश्किल सवाल शामिल हों 
  • उनमें समाज से जोड़ने वाली ऐसी सुविधाएं और जानकारी शामिल हों जो इस उम्र के लिहाज़ से ठीक हों
  • उनमें भावनाओं को दिखाने का एक सकारात्मक तरीका बताया जाए

ऐप्लिकेशन इस उम्र के लिए सही नहीं होंगे, अगर:

  • उनमें बहुत ज़्यादा हिंसा या यौन या घरेलू हिंसा दिखाई जाए
  • उनमें ऐसी चीज़ें शामिल हों जिनकी लत लगने का डर हो
  • उनमें शामिल चीज़ों पर खर्च करने की सीमा ज़्यादा हो

उम्र 18 साल और उससे ज़्यादा

नीतियों और कानून के नियमों का पालन करने वाली ऐसी सामग्री जो आम तौर पर वयस्कों के लिए होती है.

निजी जानकारी

अगर आप नाम और ईमेल पते जैसी बच्चों की निजी और संवेदनशील जानकारी इकट्ठा करते हैं, तो आपको उपयोगकर्ता को यह बात बतानी चाहिए. ज़रूरत पड़ने पर, यह जानकारी अभिभावक की सहमति से ली जानी चाहिए. आपके ऐप्लिकेशन में इस्तेमाल किया गया कोई भी SDK या एपीआई उपयोगकर्ता का डेटा इकट्ठा कर सकता है. हमारी सलाह है कि आप डेटा इकट्ठा करने के तरीके के बारे में पूरी जानकारी पाने, उस पर शोध करने, और उसे समझने के लिए ज़रूरत के हिसाब से समय लें. बेहतर होगा कि पहले कदम के तौर पर आप इन SDK या एपीआई के लिए हर तरह के दस्तावेज़ पढ़ लें. ध्यान रखें कि आपके ऐप्लिकेशन से किसी भी तरह के डेटा का बाहर निकाला जाना आपकी ज़िम्मेदारी है. ज़्यादा मदद पाने के लिए कृपया Play की वह उपयोगकर्ता डेटा नीति और कानूनी नियम भी देखें जो आपके टारगेट किए गए देश में लागू होते हैं.

न्यूट्रल एज स्क्रीन 

न्यूट्रल एज स्क्रीन से आप किसी उपयोगकर्ताओं की उम्र इस तरह से जांच सकते हैं कि उसे इस बारे में झूठ बोलने की ज़रूरत न पड़े. उपयोगकर्ता, ऐप्लिकेशन की उन जगहों में जाने के लिए अपनी उम्र को लेकर झूठ बोलते हैं जो बच्चों के लिए नहीं बनाई गई हैं. ऐप्लिकेशन का इस्तेमाल शुरू करने से पहले उम्र पूछने वाली स्क्रीन, एक ऐसी ही स्क्रीन होती है. इसका उदाहरण एक ऐसा सिस्टम हो सकता जिसमें उपयोगकर्ता से अपने जन्म का महीना, तारीख, और साल अलग-अलग डालने के लिए कहा जाए, ताकि उन्हें पता न चले कि इस जानकारी का इस्तेमाल उनकी उम्र जांचने के लिए किया जा रहा है. न्यूट्रल एज स्क्रीन को तब गलत तरीके से सेट अप किया गया माना जाएगा, जब उसमें उपयोगकर्ता से अपने जन्म की तारीख के बजाय उम्र बताने को कहा जाए (जैसे कि उम्र 13 साल). इसके अलावा, गलत सेट अप का एक उदाहरण यह भी है कि उपयोगकर्ताओं को बताया जाए कि ऐप्लिकेशन की कुछ सुविधाओं का इस्तेमाल करने के लिए उनकी उम्र, एक तय सीमा से ज़्यादा होनी ज़रूरी है. आप एफ़टीसी वेबसाइट पर उम्र की जांच करने वाली स्क्रीन के बारे में और जानकारी पा सकते हैं.

अगर आपके ऐप्लिकेशन के लिए सही दर्शकों में बच्चे और बड़ी उम्र के लोग शामिल हैं, तो बच्चों को दिखाए जाने वाले विज्ञापन Google Play के परिवार के लिए बनाए गए विज्ञापन कार्यक्रम के मुताबिक होने चाहिए. साथ ही, इन ऐप्लिकेशन के लिए न्यूट्रल एज स्क्रीन भी लागू की जानी चाहिए, ताकि ऐसे विज्ञापन जो बच्चों के हिसाब से ठीक नहीं हैं, वे सिर्फ़ वयस्क दर्शकों को दिखाए जाएं.

परिवार के लिए बनाए गए कार्यक्रम में शामिल हर ऐप्लिकेशन पर दिखाए जाने वाले विज्ञापनों का किसी प्रमाणित विज्ञापन नेटवर्क से दिखाया जाना ज़रूरी है. साथ ही, विज्ञापनों का दर्शकों के हिसाब से सही होना ज़रूरी है.

बच्चों के लिए नहीं बनाए गए ऐसे ऐप्लिकेशन, जो उन्हें आकर्षित कर सकते हैं

हम चाहते हैं कि ऐसे ऐप्लिकेशन जो T से कम कॉन्टेंट रेटिंग के साथ हैं और बच्चों के लिए नहीं बनाए गए हैं वे उन्हें अनजाने में भी आकर्षित न करें.

अगर आपका ऐप्लिकेशन बच्चों के लिए नहीं बनाया गया है, लेकिन आपके पेज में मार्केटिंग से जुड़ी ऐसी चीज़ें शामिल हैं जो उन्हें आकर्षित कर सकती हैं (जैसे कि युवाओं के लिए बनाए गए ऐनिमेशन या ग्राफ़िक रचना में युवा पात्र), तो हां चुनें.

अगर आपका ऐप्लिकेशन बच्चों के लिए नहीं बनाया गया है और आपको लगता है कि आपके स्टोर पेज में ऐसा कोई मार्केटिंग एलीमेंट नहीं है जो बच्चों को आकर्षित कर सकता है या अगर आप पक्का नहीं कर पा रहे हैं, तो नहीं चुनें.

मिलते-जुलते लिंक

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?