डीप लिंक की पुष्टि और उन्हें मैनेज करने के बारे में जानकारी

Play Console में डीप लिंक पेज (आगे बढ़ाएं > डीप लिंक) का इस्तेमाल करके:

  • डीप लिंक के सेटअप मैनेज किए जा सकते हैं. इससे, आपके ऐप्लिकेशन के कॉन्टेंट से ज़्यादा से ज़्यादा लोग जुड़ पाएंगे. 
  • अपनी वेबसाइट और ऐप्लिकेशन की मैपिंग का स्टेटस देखा जा सकता है. इससे यह पता चल पाएगा कि सबसे ज़्यादा विज़िट किए जाने वाले यूआरएल के लिए डीप लिंकिंग करके कहां-कहां सुधार किए जा सकते हैं. 
  • ऐप्लिकेशन का नया वर्शन रिलीज़ किए बिना, डीप लिंक जोड़ने, बंद करने, और उनसे जुड़ी समस्याएं ठीक करने के लिए पैच इस्तेमाल किए जा सकते हैं.

अगर आपके पास लिंक किया गया Google Ads खाता है, तो यह देखा जा सकता है कि कौनसे विज्ञापन कैंपेन, डीप-लिंक किए गए हैं. इसके अलावा, लोगों तक आपकी पहुंच के बारे में अहम जानकारी और अपने लैंडिंग पेजों के डीप-लिंक किए गए वर्शन की झलक भी देखी जा सकती है.

डीप लिंक की खास जानकारी

डीप लिंक किसी स्कीम के यूआरएल होते हैं, जो लोगों को वेबसाइट के बजाय सीधे ऐप्लिकेशन के किसी खास सेक्शन में ले जाते हैं. इंटेंट फ़िल्टर जोड़कर डीप लिंक बनाए जा सकते हैं, ताकि ऐप्लिकेशन में उपयोगकर्ता आसानी से वहां पहुंच जाएं जहां वे जाना चाहते हैं.

डीप लिंक पेज की मदद से, डीप लिंक बनाने, उन्हें मैनेज करने, और उनकी पुष्टि करने की प्रक्रिया आसान हो जाती है. पेज में दो टैब होते हैं: ऐप्लिकेशन कॉन्फ़िगरेशन और वेब यूआरएल. ऐप्लिकेशन कॉन्फ़िगरेशन टैब, आपके ऐप्लिकेशन वर्शन के सेटअप और उससे जुड़े डीप लिंक की खास जानकारी दिखाता है. इस टैब का इस्तेमाल:

  • अपने चुने हुए ऐप्लिकेशन वर्शन के मौजूदा डीप लिंक कॉन्फ़िगरेशन के बारे में आसानी से पूरी जानकारी देखने के लिए किया जा सकता है.
  • डीप लिंक के सेटअप से जुड़ी समस्याओं को तुरंत पहचानने और उन्हें जल्दी ठीक करने के लिए किया जा सकता है.
  • ऐप्लिकेशन का नया वर्शन रिलीज़ किए बिना, डीप लिंक जोड़ने, बंद करने, और उनसे जुड़ी समस्याएं ठीक करने के लिए, पैच बनाने और उन्हें पब्लिश करने के लिए किया जा सकता है.

वेब यूआरएल टैब, वेब पर आपके ऐप्लिकेशन की परफ़ॉर्मेंस से जुड़ी जानकारी दिखाता है. जैसे, लिंक किए गए आपके Google Ads कैंपेन में मौजूद वेब से क्रॉल किए जाने वाले आपके सबसे अहम यूआरएल और सबसे ज़्यादा क्लिक किए गए डोमेन और स्थिति की जानकारी. इस टैब का इस्तेमाल:

  • डीप लिंक किए गए विज्ञापन कैंपेन देखने और डीप लिंक का इस्तेमाल करके उपयोगकर्ता तक पहुंच (अगर आपके पास लिंक किया गया Google Ads खाता है) के बारे में अहम जानकारी पाने के लिए किया जा सकता है.
  • लैंडिंग पेजों के डीप-लिंक किए गए वर्शन की झलक देखने के लिए किया जा सकता है. साथ ही, इनकी तुलना वेब वर्शन के साथ की जा सकती है.
  • डीप लिंकिंग की स्थिति के साथ-साथ, अपने सबसे अहम वेब यूआरएल की सूची देखने के लिए किया जा सकता है
  • अपने कॉन्टेंट को डीप लिंक करने और उपयोगकर्ताओं की दिलचस्पी बढ़ाने के अवसरों की जानकारी पाने के लिए किया जा सकता है.
डीप लिंक पेज पर, जानकारी खोजने की बेहतरीन सुविधा भी मिलती है. इसका इस्तेमाल करके पाथ, डोमेन, और कस्टम स्कीम की पूरी इन्वेंट्री को आसानी से खोजा जा सकता है.​

डीप लिंक पेज की सुविधाएं

यहां दिए गए सेक्शन में डीप लिंक पेज की सुविधाओं और फ़ंक्शन के बारे में बताया गया है.

सामान्य सुविधाएं

ये यूनिवर्सल सुविधाएं हैं. इन्हें डीप लिंक पेज पर, दोनों टैब पर देखा और इस्तेमाल किया जा सकता है. किसी सेक्शन को बड़ा या छोटा करने के लिए, उस पर क्लिक करें.

ऐप्लिकेशन पिकर

आपको जिस ऐप्लिकेशन वर्शन के डीप लिंक की जांच करनी है उसे चुना जा सकता है. इसके लिए, आपको पेज के सबसे ऊपर दाईं ओर दिए गए ऐप्लिकेशन वर्शन पिकर का इस्तेमाल करना होगा. किसी भी ट्रैक (प्रोडक्शन, ओपन, क्लोज़्ड या इंटरनल टेस्टिंग) पर मौजूद, ऐप्लिकेशन का कोई भी चालू वर्शन चुना जा सकता है. टेबल में, ऐप्लिकेशन के चुने गए वर्शन के हिसाब से डीप लिंक का डेटा दिखेगा.

ध्यान दें: ऐप्लिकेशन के सभी चालू वर्शन (जो अब भी लोगों के लिए उपलब्ध हैं) में से किसी को भी चुना जा सकता है. ऐसा हो सकता है कि कुछ लोगों ने आपके ऐप्लिकेशन का पुराना वर्शन इंस्टॉल किया हो, जो अब उपलब्ध न कराया जा रहा हो. Google Play को लगता है कि ऐप्लिकेशन के इन पुराने वर्शन की जगह अब नए वर्शन ने ली है. इसलिए, इन पुराने वर्शन को नहीं चुना जा सकता.

पैच

ऐप्लिकेशन का नया वर्शन रिलीज़ किए बिना, डीप लिंक जोड़ने, बंद करने, और उनसे जुड़ी समस्याएं ठीक करने के लिए, पैच बनाने और उन्हें पब्लिश करने के लिए किया जा सकता है. पैच बनाने के बाद, आपके पास यह चुनने का विकल्प होता है कि उसे आपके ऐप्लिकेशन के कौनसे चालू वर्शन पर लागू किया जाए. पैच बनाएं बटन, पेज पर सबसे ऊपर दाईं ओर ऐप्लिकेशन वर्शन पिकर के बगल में मौजूद होता है.

ज़्यादा जानने के लिए, अपने डीप लिंक सेटअप को पैच करें पर जाएं.

हाइलाइट कार्ड

पेज के सबसे ऊपर, आपको अपने डीप लिंक के बारे में सूचनाएं देने वाले कुछ हाइलाइट कार्ड दिख सकते हैं. ये कार्ड, डीप लिंक सेटअप करने में आ रही ज़रूरी समस्याओं को हाइलाइट करते हैं. इससे आपको तुरंत उन आइटम की पहचान करने में मदद मिलती है जिन पर ध्यान देने की ज़रूरत है. हाइलाइट कार्ड में कॉन्टेंट के हिसाब से, अलग-अलग निर्देश और कार्रवाइयां हो सकती हैं. उदाहरण के लिए, डोमेन देखें पर क्लिक करने से, पेज पर मौजूद कुछ टेबल फ़िल्टर हो जाएंगी. वहीं, ज़्यादा जानें पर क्लिक करने से, आपको दस्तावेज़ में मौजूद खास कॉन्टेंट दिखेगा. इससे, डीप लिंक को और भी बेहतर ढंग से इस्तेमाल करने में मदद मिलती है.

खोज और फ़िल्टर की सुविधा

डीप लिंक पेज पर मौजूद सभी टेबल में खोजने और क्रम से लगाने की सुविधा उपलब्ध है. अपने ऐप्लिकेशन के वर्शन से जुड़े पाथ, डोमेन, और कस्टम स्कीम की पूरी इन्वेंट्री के नतीजे ढूंढने के लिए, खोजने की सुविधा का इस्तेमाल किया जा सकता है. क्रम से लगाने की सुविधा, सिर्फ़ हाल ही में लोड किए गए डेटा के लिए मौजूद है (डिफ़ॉल्ट रूप से या आपके खोज के नतीजों के हिसाब से).

आपके पास डोमेन की टेबल में, डोमेन (सबस्ट्रिंग के हिसाब से) खोजने का विकल्प है. साथ ही, उन्हें स्थिति (ठीक है, ठीक नहीं है) के हिसाब से फ़िल्टर भी किया जा सकता है. पाथ और कस्टम स्कीम को भी खोजा जा सकता है. इसके लिए ये तरीके आज़माएं:

  • स्कीम खोजें (सबस्ट्रिंग के हिसाब से)
  • डोमेन खोजें (सबस्ट्रिंग के हिसाब से)
  • पाथ खोजें (सबस्ट्रिंग के हिसाब से)
  • ऐक्टिविटी खोजें (सबस्ट्रिंग के हिसाब से)

ध्यान दें: अगर पाथ टेबल में पूरा यूआरएल (उदाहरण के लिए, http://example.com/someStrangePattern) डाला जाता है, तो डैशबोर्ड पाथ के टाइप के मुताबिक, पैटर्न के हिसाब से खोज के नतीजे दिखाने की कोशिश करता है. इस उदाहरण से समझें:

मेनिफ़ेस्ट में बताए गए पाथ के लिए, (https://example.com/Some.*Pattern) पैटर्न है.

इस मामले में, अगर आप पूरा यूआरएल डालते हैं, तो यह पाथ दिखता है. खोजने और फ़िल्टर करने वाली सुविधा का इस्तेमाल करके, यह समझा जा सकता है कि खोज बॉक्स में डाले गए यूआरएल को हैंडल करने के लिए, कौनसे इंटेंट फ़िल्टर और पाथ का इस्तेमाल किया जाएगा.

खोज की सुविधा में क्वेरी पैरामीटर का इस्तेमाल नहीं होता है. इसलिए, बिना किसी समस्या के खोज बॉक्स में पूरा यूआरएल चिपकाया जा सकता है.

ऐप्लिकेशन कॉन्फ़िगरेशन

ऐप्लिकेशन कॉन्फ़िगरेशन टैब, आपके ऐप्लिकेशन वर्शन के सेटअप और उससे जुड़े डीप लिंक की खास जानकारी दिखाता है. यहां दिए गए सेक्शन में ऐसी दो टेबल के बारे में बताया गया है जिन्हें टैब पर देखा और इस्तेमाल किया जा सकता है. किसी सेक्शन को बड़ा या छोटा करने के लिए, उस पर क्लिक करें.

डोमेन टेबल

डोमेन टेबल, ऐप्लिकेशन कॉन्फ़िगरेशन टैब में होती है. इसमें, आपके ऐप्लिकेशन मेनिफ़ेस्ट में बताए गए सभी डोमेन शामिल होते हैं. इससे, आपको अपने यूआरएल और ऐप्लिकेशन के बीच तालमेल की पुष्टि करके, ऐप्लिकेशन लिंक बनाने में मदद मिलती है. अगर आपके ऐप्लिकेशन में किसी खास वजह से ऐप्लिकेशन लिंक का इस्तेमाल नहीं हो पाता है, लेकिन फिर भी लोगों को सेटिंग में बदलाव करने का विकल्प देकर, वेब लिंक की मदद से कॉन्टेंट तक पहुंचने की सुविधा दी जाती है, तो हो सकता है कि यह सेक्शन आपके काम न आए. ऐसा इसलिए हो सकता है, क्योंकि डिज़ाइन की समस्या की वजह से डोमेन, लोगों को ऐप्लिकेशन से कनेक्ट नहीं कर पाएंगे.

अगर आपके डोमेन में कोई समस्या है, तो स्टेटस कॉलम पर कर्सर घुमाकर देखा जा सकता है कि कौनसी जांच पूरी नहीं हुई है. समस्याओं के बारे में ज़्यादा जानकारी देखने के लिए, किसी पंक्ति पर क्लिक करें.

अगर आपके डोमेन टेबल में कोई समस्या है, तो उसे ठीक करने का तरीका यहां बताया गया है:

  1. ओवरले में JSON जनरेटर का इस्तेमाल करके, एसेट लिंक की फ़ाइल के कॉन्टेंट को सीधे आपके डोमेन पर कॉपी किया जा सकता है. इसमें, ऐसी सभी ज़रूरी जानकारी शामिल होती है जो आपके ऐप्लिकेशन लिंक को काम करने में मदद करती है. इन बातों का भी ध्यान रखें:
    • ऐसेटलिंक की फ़ाइल में ज़रूरी बदलाव करने और उसे अपने डोमेन पर अपलोड करने के बाद, डीप लिंक पेज पर वापस आएं और देखें कि समस्या ठीक हो गई है या नहीं.
    • जनरेटर को अलग से जोड़ा जाता है. इसका मतलब है कि यह आपके डोमेन में पहले से मौजूद किसी भी चीज़ के लिए ज़िम्मेदार होगा. पूरे कॉन्टेंट को कॉपी करके उसे जैसा का तैसा चिपकाना (या फ़ाइल को डाउनलोड करना) पूरी तरह से सुरक्षित है. इससे आपके दूसरे ऐप्लिकेशन के साथ काम करने की सुविधा पर कोई असर नहीं पड़ेगा. हम सुझाए गए सभी बदलावों को हरे रंग से हाइलाइट करते हैं.
  2. अपने डोमेन की समस्याओं को ठीक करने से, यह गारंटी नहीं मिलती कि सभी लोगों के पास वे ऐप्लिकेशन लिंक होंगे जिनकी पुष्टि हो चुकी है. Android के ज़्यादातर वर्शन (Android 12 से पुराने वर्शन) पर डोमेन की पुष्टि, इंस्टॉल करने के दौरान होती है. इसलिए, अगर आपको इंस्टॉल किए गए पुराने वर्शन पर भी ऐप्लिकेशन लिंक पाने हैं, तो ऐप्लिकेशन का एक नया वर्शन रिलीज़ करना होगा. 
ऐप्लिकेशन मेनिफ़ेस्ट लिंक की टेबल

ऐप्लिकेशन मेनिफ़ेस्ट लिंक की टेबल, ऐप्लिकेशन कॉन्फ़िगरेशन टैब में होती है. इसमें, आपके ऐप्लिकेशन मेनिफ़ेस्ट से जुड़ा डेटा दिखता है. Google Play आपके ऐप्लिकेशन के इंटेंट फ़िल्टर की पुष्टि करता है. साथ ही, यह उन्हें पाथ (वेब लिंक के लिए) के हिसाब से ग्रुप में भी दिखाता है. अगर आपके ऐप्लिकेशन में कोई समस्या है, तो उसे ठीक करने के तरीके के बारे में ज़्यादा जानकारी के लिए, किसी भी पंक्ति पर क्लिक करें. इसके अलावा, पाथ पर क्लिक करने से, उस पर काम करने वाले सभी लिंक की सूची खुल जाती है. इस सूची में, तय इंटेंट फ़िल्टर वाली वे सभी स्कीम (http/https) और डोमेन होते हैं जिनमें यह पाथ और ऐक्टिविटी शामिल होती है.

ध्यान दें: ऐप्लिकेशन मेनिफ़ेस्ट लिंक की सूची में दी गई किसी भी समस्या को ठीक करने के लिए, आपको AppManifest.xml फ़ाइल में बदलाव करके, अपने ऐप्लिकेशन का एक नया वर्शन पब्लिश करना होगा. हालांकि, आपके ऐप्लिकेशन के मौजूदा वर्शन की समस्याएं ठीक नहीं होंगी. इसकी वजह यह है कि ये समस्याएं, ऐप्लिकेशन के ऐसे वर्शन से जुड़ी हैं जो पहले ही पब्लिश हो चुका है.

अहम जानकारी: Android से जुड़े कुछ दस्तावेज़ों में आपको हर <data> टैग के लिए, अलग इंटेंट फ़िल्टर इस्तेमाल करने का सुझाव भी मिल सकता है. हालांकि, हमारा सुझाव है कि एक ही पाथ/ऐक्टिविटी में आने वाले सभी वेब लिंक को, एक ही इंटेंट फ़िल्टर में रखा जाए, ताकि मेनिफ़ेस्ट को मैनेज करने में आसानी हो. एक से ज़्यादा <data> टैग का इस्तेमाल करना खतरनाक होता है, क्योंकि ये स्कीम, पाथ, और डोमेन के अलग-अलग क्रम से जुड़े होते हैं. हालांकि, अगर आपको वेब लिंक के लिए एक ही पाथ बनाए रखना है (जहां स्कीम हमेशा http/s के रूप में होगी), तो इसमें कोई समस्या नहीं होगी.

वेब यूआरएल

वेब यूआरएल टैब, वेब पर आपके डीप लिंक का कवरेज (कुल संख्या, जो यह दिखाती है कि आपके पुष्टि किए गए डोमेन के कितने प्रतिशत यूआरएल डीप लिंक किए गए हैं) और आपके ऐप्लिकेशन की परफ़ॉर्मेंस से जुड़ी अन्य जानकारी दिखाता है. जैसे, लिंक किए गए आपके Google Ads कैंपेन में मौजूद वेब से क्रॉल किए जाने वाले आपके सबसे अहम यूआरएल, सबसे ज़्यादा क्लिक किए गए डोमेन, और स्थिति की जानकारी. यहां दिए गए सेक्शन में ऐसी दो टेबल के बारे में बताया गया है जिन्हें टैब पर देखा और इस्तेमाल किया जा सकता है. किसी सेक्शन को बड़ा या छोटा करने के लिए, उस पर क्लिक करें.

ज़्यादातर विज्ञापन ट्रैफ़िक से जुड़ी टेबल (सिर्फ़ जोड़े गए Google Ads खातों के लिए)

अगर आपके पास लिंक किया गया Google Ads खाता है, तो ज़्यादातर विज्ञापन ट्रैफ़िक से जुड़ी टेबल, वेब यूआरएल टैब में होती है. इस टेबल में, सबसे ज़्यादा क्लिक के हिसाब से आपके विज्ञापन कैंपेन के डोमेन की रैंकिंग दिखती है. साथ ही, आपके कैंपेन कितने लोगों तक पहुंचे इसका डेटा, प्रतिशत में दिखाया जाता है. उपयोगकर्ता तक पहुंच, ऐसे लोगों का प्रतिशत है जिन्होंने आपका ऐप्लिकेशन इंस्टॉल किया है. ये ऐसे लोग होते हैं जो वेब यूआरएल फ़ॉलो करके, ऐप्लिकेशन में जाकर कोई कार्रवाई करते हैं (या उन्हें ऐप्लिकेशन पिकर दिखाया जाता है) बनाम जो वेब वर्शन का इस्तेमाल करके कार्रवाई करते हैं.

आपके पास डोमेन की स्थिति देखने का विकल्प भी है. जैसे- डीप लिंक किया गया, डीप लिंक नहीं किया गया, समस्याओं का पता चला. अगर आपको पता चलता है कि कुछ डोमेन ऐसे हैं जिन्हें आपने अभी तक डीप लिंक नहीं किया है. अगर उन पर काफ़ी क्लिक किए जा रहे हैं, तो इन डोमेन को डीप लिंक किया जा सकता है. ऐसा करके उपयोगकर्ताओं को सीधे आपके ऐप्लिकेशन पर भेजा जा सकता है. यह आपके ऐप्लिकेशन में उनकी दिलचस्पी को बढ़ाने का बढ़िया तरीका हो सकता है.

किसी खास डोमेन के बारे में ज़्यादा जानकारी पाने के लिए, किसी भी पंक्ति पर क्लिक करें. अगर आपके यूआरएल को डीप लिंक नहीं किया गया है, तो अपना ऐप्लिकेशन सेट अप करने और डोमेन के मालिकाना हक की पुष्टि करने के लिए, स्क्रीन पर दिए गए निर्देशों का पालन करें. इसके अलावा, ज़्यादा मदद पाने के लिए हमारी डेवलपर गाइड देखें. उपलब्ध होने पर, यह भी देखा जा सकता है कि डीप लिंक किया गया डोमेन, वेब और आपके ऐप्लिकेशन पर कैसा दिखेगा. आखिर में, ज़्यादा उपयोगकर्ताओं तक पहुंच का ब्यौरा देखा जा सकता है. इस ब्यौरे में, ऐप्लिकेशन के सभी वर्शन के लिए चुने गए यूआरएल पर लोगों के क्लिक करने की संभावित दर को प्रतिशत के तौर पर दिखाया जाता है:

  • ऐप्लिकेशन पर भेजे गए लोगों की संख्या
  • ऐप्लिकेशन पिकर पर भेजे गए लोगों की संख्या
  • वेब ब्राउज़र पर भेजे गए लोगों की संख्या
वेब से क्रॉल किए जाने वाले यूआरएल

वेब से क्रॉल किए जाने वाले यूआरएल की टेबल, वेब यूआरएल टैब में होती है. इसमें, वेब से क्रॉल किए जाने वाले ऐसे यूआरएल दिखते हैं जो उपयोगकर्ता तक पहुंच के हिसाब से सबसे अहम होते हैं. साथ ही, उनकी पहुंच को प्रतिशत में दिखाया जाता है. आपके पास डोमेन की स्थिति देखने का विकल्प भी है. जैसे- डीप लिंक किया गया, डीप लिंक नहीं किया गया, समस्याओं का पता चला. अगर आपको पता चलता है कि कुछ डोमेन ऐसे हैं जिन्हें आपने अभी तक डीप लिंक नहीं किया है. अगर उन पर काफ़ी क्लिक किए जा रहे हैं, तो इन डोमेन को डीप लिंक किया जा सकता है. ऐसा करके उपयोगकर्ताओं को सीधे आपके ऐप्लिकेशन पर भेजा जा सकता है. यह आपके ऐप्लिकेशन में उनकी दिलचस्पी को बढ़ाने का बढ़िया तरीका हो सकता है.

किसी खास डोमेन के बारे में ज़्यादा जानकारी पाने के लिए, किसी भी पंक्ति पर क्लिक करें. अगर आपके यूआरएल को डीप लिंक नहीं किया गया है, तो अपना ऐप्लिकेशन सेट अप करने और डोमेन के मालिकाना हक की पुष्टि करने के लिए, स्क्रीन पर दिए गए निर्देशों का पालन करें. इसके अलावा, ज़्यादा मदद पाने के लिए हमारी डेवलपर गाइड देखें. उपलब्ध होने पर, यह भी देखा जा सकता है कि डीप लिंक किया गया डोमेन, वेब और आपके ऐप्लिकेशन पर कैसा दिखेगा. आखिर में, ज़्यादा उपयोगकर्ताओं तक पहुंच का ब्यौरा देखा जा सकता है. इस ब्यौरे में, ऐप्लिकेशन के सभी वर्शन के लिए चुने गए यूआरएल पर लोगों के क्लिक करने की संभावित दर को प्रतिशत के तौर पर दिखाया जाता है:

  • ऐप्लिकेशन पर भेजे गए लोगों की संख्या
  • ऐप्लिकेशन पिकर पर भेजे गए लोगों की संख्या
  • वेब ब्राउज़र पर भेजे गए लोगों की संख्या

अपने डीप लिंक सेटअप को पैच करना

ऐप्लिकेशन का नया वर्शन रिलीज़ किए बिना, डीप लिंक जोड़ने, बंद करने, और उनसे जुड़ी समस्याएं ठीक करने के लिए, पैच बनाने और उन्हें पब्लिश करने के लिए किया जा सकता है. ऐप्लिकेशन के आने वाले वर्शन के लिए पैच सेव नहीं किए जाते. ऐप्लिकेशन मेनिफ़ेस्ट अपडेट करके, इन बदलावों को आने वाले समय में लॉन्च होने वाले वर्शन पर भी लागू किया जा सकता है.

पैच बनाने के बाद, आपके पास यह चुनने का विकल्प होता है कि उसे आपके ऐप्लिकेशन के कौनसे चालू वर्शन पर लागू किया जाए. पैच बनाएं बटन, पेज पर सबसे ऊपर दाईं ओर ऐप्लिकेशन वर्शन पिकर के बगल में मौजूद होता है.

पैच बनाने के लिए:

  1. Play Console खोलें और डीप लिंक पेज (आगे बढ़ाएं > डीप लिंक) पर जाएं.
  2. पेज में सबसे ऊपर दाईं ओर, पैच बनाएं पर क्लिक करें. 
    • ध्यान दें: पैच बनाएं पर क्लिक करने के बाद, आपको डीप लिंक पेज पर सबसे नीचे एक मैसेज दिखेगा. इस पर "पैच मोड चालू है: कोई भी बदलाव बाकी नहीं है" लिखा होगा. डीप लिंक के सेटअप में बदलाव करने पर, यह स्टेटस अपडेट हो जाएगा.
  3. अगर आपको अपने डीप लिंक के कॉन्फ़िगरेशन में कोई नया पाथ जोड़ना है, तो वेब लिंक जोड़ें को चुनें..
    • अगर आपको किसी ऐसे डोमेन का इस्तेमाल करना है जो अब तक आपके ऐप्लिकेशन मेनिफ़ेस्ट में तय नहीं किया गया है, तो आपको सबसे पहले डोमेन टेबल में डोमेन जोड़ें पर क्लिक करना होगा. ओवरले में आपके डोमेन की पुष्टि हो जाने पर, नए वेब लिंक जोड़ने के बाद यह उपलब्ध हो जाएगा. हालांकि, यह डोमेन टेबल में तब तक नहीं दिखेगा, जब तक कि इसके साथ कोई पैच पब्लिश नहीं किया जाता. 
      • ध्यान दें: डोमेन जोड़ें की मदद से जोड़े गए डोमेन, आने वाले सभी वर्शन के लिए आपके सेटअप का हिस्सा बने रहेंगे.
  4. ज़रूरी जानकारी देकर, यूआरएल पैरामीटर के बारे में बताएं:
    • गतिविधि: ड्रॉप-डाउन मेन्यू का इस्तेमाल करके कोई गतिविधि चुनें.
    • स्कीम और होस्ट: ड्रॉप-डाउन मेन्यू का इस्तेमाल करके, किसी स्कीम और होस्ट को चुनें.
    • पाथ: वह पूरा यूआरएल डालें जिस पर लोगों को ले जाने के लिए, आपको नया डीप लिंक चाहिए.
  5. ड्राफ़्ट में पैच जोड़ें पर क्लिक करें. ड्राफ़्ट में पैच जोड़ने के बाद, आपको पेज पर सबसे नीचे एक मैसेज दिखेगा. इस पर "पैच मोड चालू है: एक डीप लिंक में बदलाव होना बाकी है" लिखा होगा. 
  6. (ज़रूरी नहीं) अगर आपको दूसरे डीप लिंक में कोई पैच जोड़ना है, तो दोबारा यही प्रोसेस इस्तेमाल करके ऐसा किया जा सकता है. 
  7. अगर आप अपने पैच पब्लिश करने के लिए तैयार हैं, तो समीक्षा करें और पब्लिश करें पर क्लिक करें.

पैच का इस्तेमाल, डीप लिंक बंद करने के लिए भी किया जा सकता है. किसी डीप लिंक को बंद करने पर, लोग इस पाथ से जुड़े लिंक से सीधे आपके ऐप्लिकेशन पर नहीं जाएंगे. हालांकि, उन्हें ऐप्लिकेशन पिकर दिखेगा या उन्हें वेब ब्राउज़र पर भेजा जाएगा. किसी डीप लिंक को बंद करने के लिए:

  1. Play Console खोलें और डीप लिंक पेज (आगे बढ़ाएं > डीप लिंक) पर जाएं.
  2. पेज में सबसे ऊपर दाईं ओर, पैच बनाएं पर क्लिक करें. 
    • ध्यान दें: पैच बनाएं पर क्लिक करने के बाद, आपको डीप लिंक पेज पर सबसे नीचे एक मैसेज दिखेगा. इस पर "पैच मोड चालू है: कोई भी बदलाव बाकी नहीं है" लिखा होगा. अपने पैच में बदलाव करने पर, यह स्टेटस अपडेट हो जाएगा.
  3. आपको जिस पाथ को बंद करना है उसके आगे, बंद करें पर क्लिक करें.
  4. (ज़रूरी नहीं) अगर आपको दूसरे डीप लिंक बंद करने हैं, तो दोबारा यही प्रोसेस इस्तेमाल करके ऐसा किया जा सकता है. 

अगर आप अपने पैच पब्लिश करने के लिए तैयार हैं, तो समीक्षा करें और पब्लिश करें पर क्लिक करें. ऐप्लिकेशन के चुने गए वर्शन पर बदलावों को लागू करने के लिए, पैच की समीक्षा करें और उसे पब्लिश करें.

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

उपयोगकर्ता तक पहुंच का क्या मतलब है?

उपयोगकर्ता तक पहुंच का मतलब, ऐसे लोगों का प्रतिशत है जिन्होंने आपका ऐप्लिकेशन इंस्टॉल किया है. ये ऐसे लोग होते हैं जो वेब यूआरएल फ़ॉलो करके, ऐप्लिकेशन में जाकर कोई कार्रवाई करते हैं (या उन्हें ऐप्लिकेशन पिकर दिखाया जाता है) बनाम जो वेब वर्शन का इस्तेमाल करके कार्रवाई करते हैं. इसका प्रतिशत जितना ज़्यादा होगा उतना ही उपयोगकर्ताओं को किसी पेज पर लैंडिंग का बेहतर अनुभव मिलेगा. डेटा को दिन में एक बार रीफ़्रेश किया जाता है.

वेब से क्रॉल किए जाने वाले यूआरएल क्या होते हैं?

वेब से क्रॉल किए जाने वाले यूआरएल, उन टॉप यूआरएल की सूची होती है जिन्हें हमने आपके पुष्टि किए गए डोमेन से सबसे अहम के रूप में चुना है. इनमें, सबसे ज़्यादा देखे गए और रेफ़र किए गए ऐसे पेज शामिल होते हैं जिनके लिए हमने वेब पर सबसे ज़्यादा ट्रैफ़िक रिकॉर्ड किया है. अपने सबसे अहम वेब यूआरएल को डीप लिंक करने से, आपके ऐप्लिकेशन के कॉन्टेंट में उपयोगकर्ताओं की दिलचस्पी बढ़ेगी. यूआरएल की सूची को दिन में एक बार रीफ़्रेश किया जाता है.

मैं अपना Google Ads खाता कैसे लिंक करूं?

अपने Google Ads कैंपेन से लैंडिंग पेजों की डीप लिंकिंग की स्थिति देखने के लिए, आपको सबसे पहले अपना Google Ads खाता लिंक करना होगा. ऐसा करने के लिए, यहां दिया गया तरीका आज़माएं. लिंक होने के बाद, आपके विज्ञापन कैंपेन के यूआरएल, Play Console में डीप लिंक पेज पर दिखेंगे.

डीपलिंक कवरेज क्या होता है?

डीपलिंक कवरेज वह संख्या है जो पुष्टि और डीप लिंक किए गए आपके डोमेन से अहम यूआरएल का प्रतिशत दिखाती है. ज़्यादा डीपलिंक कवरेज से, यह पक्का करने में मदद मिल सकती है कि उपयोगकर्ताओं को आपके प्रॉडक्ट और सेवाओं का सबसे बेहतर अनुभव मिल रहा है. कवरेज की गिनती, उपयोगकर्ता के डिवाइसों पर ऐप्लिकेशन के इंस्टॉल की स्थिति के हिसाब से की जाती है. यह डेटा हर रोज़ रीफ़्रेश किया जाता है.

डोमेन जोड़ने पर क्या होता है?

पुष्टि किए गए डोमेन को जोड़ने पर, Play Console आपको इस डोमेन से जुड़े यूआरएल दिखाएगा. ध्यान दें कि ऐसा तुरंत नहीं होता है. अभी-अभी जोड़े गए डोमेन के किसी भी यूआरएल को दिखने में करीब एक दिन का समय लग सकता है. इस बात का भी ध्यान दें कि फ़िलहाल पुष्टि किए गए डोमेन को सूची से हटाने का कोई तरीका नहीं है.

मैंने Play Console के सुझावों के मुताबिक अपने ऐसेटलिंक ठीक कर लिए हैं, लेकिन कवरेज में कोई बदलाव नहीं हो रहा है. ऐसा क्यों?

डीप लिंक कवरेज आपके ऐप्लिकेशन की मौजूदा स्थिति पर आधारित नहीं होता, बल्कि इस बात पर आधारित होता है कि जिन उपयोगकर्ताओं ने आपका ऐप्लिकेशन इंस्टॉल किया है वे दिए गए यूआरएल को खोल सकते हैं या नहीं. जब ऐसेटलिंक बदले जाते हैं या नए इंटेंट फ़िल्टर जोड़े जाते हैं, तो आपके इंस्टॉल किए गए उपयोगकर्ता आधार को इन बदलावों को पिक अप करने में समय लगता है. जैसे-जैसे आपके उपयोगकर्ताओं को आपके अपडेट मिलते जाएंगे वैसे-वैसे उनके कवरेज नंबर बदलते रहेंगे.

सिर्फ़ कुछ यूआरएल के साथ ही स्क्रीनशॉट क्यों दिए गए हैं?

फ़िलहाल, हम स्क्रीनशॉट पेज में मौजूद कुछ यूआरएल को टेस्ट करते हैं. अगर आपको यह मैसेज दिखता है कि झलक उपलब्ध नहीं है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि आपके ऐप्लिकेशन में कोई गड़बड़ी है. फ़िलहाल, यूआरएल के कुछ सेट के लिए ही झलक देखने की सुविधा उपलब्ध है. हालांकि, हम आने वाले समय में इस सुविधा के कवरेज को बढ़ाने पर काम कर रहे हैं.

यूआरएल किस हिसाब से ग्रुप किए जाते हैं?

किन यूआरएल को एक साथ ग्रुप किया जाना चाहिए, यह तय करने के लिए हम एक अनुमानित एल्गोरिदम का इस्तेमाल करते हैं. अगर आपके ऐप्लिकेशन में पहले से ही इंटेंट फ़िल्टर हैं, तो वे हमेशा यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) में ग्रुप के तौर पर दिखेंगे. हमारा एल्गोरिदम सिर्फ़ उन यूआरएल का ग्रुप बनाता है जो किसी भी इंटेंट फ़िल्टर से मेल नहीं खाते.

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
true
खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू