Google Play के ऐप्लिकेशन के लिए, टारगेट एपीआई लेवल से जुड़ी ज़रूरी शर्तें

टारगेट एपीआई लेवल की समयसीमाओं को एक जैसा बनाने के लिए, हम हर साल की 31 अगस्त की तारीख तय कर रहे हैं.

31 अगस्त, 2023 से:

  • नए ऐप्लिकेशन को Android 13 (एपीआई लेवल 33) या उसके बाद के वर्शन को टारगेट करना होगा. हालांकि, Wear OS वाले ऐप्लिकेशन को Android 11 (एपीआई लेवल 30) या Android 13 (एपीआई लेवल 33) तक के वर्शन को टारगेट करना होगा.
  • मौजूदा ऐप्लिकेशन को एपीआई लेवल 31 या उससे बाद के लेवल को टारगेट करना होगा, ताकि उपयोगकर्ता आपके ऐप्लिकेशन के टारगेट एपीआई लेवल से ज़्यादा के Android OS वर्शन वाले डिवाइसों पर उनका इस्तेमाल करना जारी रख सकें. एपीआई लेवल 30 या इससे पहले के लेवल (Wear OS के लिए एपीआई लेवल 29 या इससे पहले के लेवल) को टारगेट करने वाले ऐप्लिकेशन, सिर्फ़ आपके ऐप्लिकेशन के टारगेट एपीआई लेवल के बराबर या उससे नीचे के Android OS वर्शन वाले डिवाइसों के लिए उपलब्ध होंगे.
अगर आपका ऐप्लिकेशन नई शर्तें पूरी नहीं करता है और आपको उसे अपडेट करने के लिए ज़्यादा समय चाहिए, तो समयसीमा को बढ़ाने के लिए 1 नवंबर, 2023 तक अनुरोध किया जा सकता है. इस अनुरोध का फ़ॉर्म आपको अगस्त की शुरुआत में Play Console पर मिल जाएगा. फ़ॉर्म ऐक्सेस करने के लिए, ऐप्लिकेशन की स्थिति पेज पर दी गई चेतावनी या समस्या की जानकारी वाले मैसेज पर क्लिक करें.

Android के हर नए वर्शन में ऐसे बदलाव किए जाते हैं जो उपयोगकर्ता के अनुभव, सुरक्षा, और Android प्लैटफ़ॉर्म की परफ़ॉर्मेंस को बेहतर बनाते हैं. मेनिफ़ेस्ट फ़ाइल में, ऐप्लिकेशन के targetSdkVersion (जिसे टारगेट एपीआई लेवल भी कहा जाता है) के बारे में जानकारी दी जाती है. टारगेट एपीआई लेवल से यह पता लगता है कि अलग-अलग Android वर्शन पर आपका ऐप्लिकेशन किस तरह काम करता है.

हाल के किसी एपीआई लेवल को टारगेट करने के लिए, अपना ऐप्लिकेशन कॉन्फ़िगर करने से उपयोगकर्ताओं को आपका ऐप्लिकेशन Android के पुराने वर्शन (minSdkVersion तक) पर चलाने में दिक्कत नहीं होगी. साथ ही, यह भी पक्का हो जाएगा कि उन्हें ऐप्लिकेशन में सुरक्षा, निजता, और परफ़ॉर्मेंस को लेकर किए गए सुधारों का फ़ायदा मिलेगा.

Android और Google Play के उपयोगकर्ताओं को सुरक्षित अनुभव देने के लिए, Google Play पर मौजूद सभी ऐप्लिकेशन को Google Play के टारगेट एपीआई लेवल से जुड़ी ज़रूरी शर्तों को पूरा करना पड़ता है. इन शर्तों की जानकारी नीचे दी गई है.

ऐसे ऐप्लिकेशन जिन पर ये शर्तें लागू नहीं होतीं:

  • हमेशा निजी रहने वाले ऐप्लिकेशन, जो किसी खास संगठन में काम करने वाले उपयोगकर्ताओं के लिए ही बनाए गए हों. 
  • वाहनों के साथ इस्तेमाल करने वाले ऐप्लिकेशन, जो डिवाइस के ज़रूरी नाप या आकार के हिसाब से बनाए गए हों और एक ही पैकेज में शामिल हों. इन ऐप्लिकेशन को Google Play के सभी उपयोगकर्ता आसानी से खोज सकते हैं.

परिभाषाएं

नया ऐप्लिकेशन ऐसा ऐप्लिकेशन जिसे अब तक Google Play पर पब्लिश नहीं किया गया है. उदाहरण के लिए, बिलकुल नया ऐप्लिकेशन.
मौजूदा ऐप्लिकेशन ऐसा ऐप्लिकेशन जिसे Google Play पर पहले ही पब्लिश किया जा चुका है.
ऐप्लिकेशन का अपडेट ऐप्लिकेशन के जिस नए वर्शन को आपने समीक्षा के लिए सबमिट किया है वह मौजूदा ऐप्लिकेशन की जगह ले लेगा.

ऐप्लिकेशन को अपडेट करने से जुड़ी ज़रूरी शर्तें

Android OS वर्शन
(एपीआई लेवल)

इस एपीआई लेवल को टारगेट करने के लिए, नए ऐप्लिकेशन और ऐप्लिकेशन के अपडेट कब तक सबमिट करने होंगे?
नए ऐप्लिकेशन ऐप्लिकेशन के अपडेट

Android 13 (एपीआई लेवल 33)*

31 अगस्त, 2023

31 अगस्त, 2023

Android 12 (एपीआई लेवल 31)

31 अगस्त, 2022

1 नवंबर, 2022

*डेवलपर के लिए ट्रांज़िशन की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए, डेवलपर 1 नवंबर तक समयसीमा बढ़ाने का अनुरोध कर सकते हैं.

सलाह: अगर आपको इन शर्तों को पूरा करने के लिए, अपने ऐप्लिकेशन का टारगेट एपीआई लेवल बदलने के बारे में तकनीकी सलाह चाहिए, तो डेटा को दूसरी जगह भेजने से जुड़ी गाइड देखें.

Wear OS ऐप्लिकेशन से जुड़ी ज़रूरी शर्तें

Android OS वर्शन (एपीआई लेवल)

सबमिट किए जाने वाले Wear OS ऐप्लिकेशन को, इस एपीआई लेवल को कब तक टारगेट करना ज़रूरी है?
नए ऐप्लिकेशन ऐप्लिकेशन के अपडेट
Android 11 (एपीआई लेवल 30) (कोई बदलाव नहीं) 1 अगस्त, 2022 1 नवंबर, 2022

ऐप्लिकेशन की उपलब्धता से जुड़ी ज़रूरी शर्तें

फ़िलहाल, मौजूदा ऐप्लिकेशन (मोबाइल, Android Auto, Android TV पर) को 31 अगस्त, 2023 तक, एपीआई लेवल 31 या उससे बाद के (Wear OS के लिए टारगेट एपीआई 30 या एपीआई लेवल 33 तक) लेवल को टारगेट करना होगा. ऐसा न करने पर, Google Play के उन उपयोगकर्ताओं को आपका ऐप्लिकेशन नहीं दिखेगा जिनके डिवाइस आपके ऐप्लिकेशन के टारगेट एपीआई लेवल की तुलना में नए Android OS वर्शन पर चल रहे हैं. इसकी वजह यह है कि आपका ऐप्लिकेशन सुरक्षा और क्वालिटी के उन स्टैंडर्ड के मुताबिक नहीं बनाया गया है जिनकी उम्मीद उपयोगकर्ता, Android OS के नए वर्शन से करते हैं.

  • Android 11 (एपीआई लेवल 30)* या इससे पहले के टारगेट लेवल वाले ऐप्लिकेशन, 31 अगस्त, 2023 के बाद, उन नए उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध नहीं होंगे जो ऐप्लिकेशन के टारगेट एपीआई के बाद वाले Android OS वर्शन पर काम करते हैं.
  • Android 10 (एपीआई लेवल 29) या इससे पहले के टारगेट लेवल वाले ऐप्लिकेशन, 1 नवंबर, 2022 के बाद, उन नए उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध नहीं हैं जो ऐप्लिकेशन के टारगेट एपीआई के बाद वाले Android OS वर्शन पर काम करते हैं. अगर आपके ऐप्लिकेशन के लिए समयसीमा बढ़ाने का अनुरोध किया गया था, तो यह तारीख 1 मई, 2023 होगी.

*डेवलपर के लिए ट्रांज़िशन की प्रक्रिया को आसान बनाने के मकसद से, उन्हें समयसीमा बढ़ाने के लिए 1 नवंबर, 2023 तक अनुरोध करने का विकल्प दिया गया है. अगर आपका ऐप्लिकेशन नई शर्तें पूरी नहीं करता है, तो अनुरोध का फ़ॉर्म आपको अगस्त की शुरुआत में Play Console पर मिल जाएगा. फ़ॉर्म ऐक्सेस करने के लिए, ऐप्लिकेशन की स्थिति पेज पर दी गई चेतावनी या समस्या की जानकारी वाले मैसेज पर क्लिक करें.


नीति का पालन करने के लिए क्या करें

नए ऐप्लिकेशन

मौजूदा ऐप्लिकेशन

नया ऐप्लिकेशन पब्लिश करने के लिए, आपको एपीआई लेवल 33 या उससे बाद के वर्शन को टारगेट करना होगा.

अगर आपका मौजूदा ऐप्लिकेशन, एपीआई लेवल 31 या उससे बाद के लेवल को टारगेट करता है, तो आपका ऐप्लिकेशन इस नीति के मुताबिक है.

अगर आपका मौजूदा ऐप्लिकेशन, एपीआई लेवल 31 से पहले के लेवल को टारगेट करता है, तो Google Play के उन उपयोगकर्ताओं को आपका ऐप्लिकेशन नहीं दिखेगा जिनके डिवाइस आपके ऐप्लिकेशन के टारगेट एपीआई लेवल की तुलना में नए Android OS वर्शन पर चल रहे हैं. इसकी वजह यह है कि आपका ऐप्लिकेशन सुरक्षा और क्वालिटी के उन स्टैंडर्ड के मुताबिक नहीं बनाया गया है जिनकी उम्मीद उपयोगकर्ता, Android OS के नए वर्शन से करते हैं.

  • अगर अपने ऐप्लिकेशन को बाद के एपीआई लेवल को टारगेट करने के लिए अपडेट करना है, तो समयसीमा बढ़ाने का अनुरोध 1 नवंबर, 2023 तक सबमिट किया जा सकता है. इससे, अपने ऐप्लिकेशन को Google Play के सभी उपयोगकर्ताओं को उपलब्ध कराया जा सकेगा. अगर आपका ऐप्लिकेशन नई शर्तें पूरी नहीं करता है, तो आपको Play Console में नीति से जुड़ी चेतावनियां और इनबॉक्स मैसेज मिलेंगे. साथ ही, चेतावनी या समस्या की ज़्यादा जानकारी वाले पेज पर, समयसीमा बढ़ाने का अनुरोध करने वाले फ़ॉर्म को ऐक्सेस किया जा सकेगा. इसे ऐप्लिकेशन की स्थिति पेज से ऐक्सेस किया जा सकता है.
अपने ऐप्लिकेशन को अपडेट करते समय, आपको एपीआई लेवल 33 या उससे बाद के वर्शन को टारगेट करना होगा.


Wear OS से जुड़ी ज़रूरी शर्तें

नए ऐप्लिकेशन

मौजूदा ऐप्लिकेशन

नया ऐप्लिकेशन पब्लिश करते समय, आपको एपीआई लेवल 30 या Android 13 (एपीआई लेवल 33) तक के वर्शन को टारगेट करना होगा.

अगर आपका मौजूदा ऐप्लिकेशन, एपीआई लेवल 30 या Android 13 (एपीआई लेवल 33) तक के वर्शन को टारगेट करता है, तो आपका ऐप्लिकेशन इस नीति के मुताबिक है.

अगर आपका मौजूदा ऐप्लिकेशन, एपीआई लेवल 30 से पहले के लेवल को टारगेट करता है, तो Google Play के उन उपयोगकर्ताओं को आपका ऐप्लिकेशन नहीं दिखेगा जिनके डिवाइस आपके ऐप्लिकेशन के टारगेट एपीआई लेवल की तुलना में नए Android OS वर्शन पर चल रहे हैं. इसकी वजह यह है कि आपका ऐप्लिकेशन सुरक्षा और क्वालिटी के उन स्टैंडर्ड के मुताबिक नहीं बनाया गया है जिनकी उम्मीद उपयोगकर्ता, Android OS के नए वर्शन से करते हैं.

  • अगर अपने ऐप्लिकेशन को एपीआई लेवल 30 को टारगेट करने के लिए अपडेट करना है, तो समयसीमा बढ़ाने का अनुरोध 1 नवंबर, 2023 तक सबमिट किया जा सकता है. इससे, अपने ऐप्लिकेशन को Google Play के सभी उपयोगकर्ताओं को उपलब्ध कराया जा सकेगा. अगर आपका ऐप्लिकेशन नई शर्तें पूरी नहीं करता है, तो आपको Play Console में नीति से जुड़ी चेतावनियां और इनबॉक्स मैसेज मिलेंगे. साथ ही, चेतावनी या समस्या की ज़्यादा जानकारी वाले पेज पर, समयसीमा बढ़ाने का अनुरोध करने वाले फ़ॉर्म को ऐक्सेस किया जा सकेगा. इसे ऐप्लिकेशन की स्थिति पेज से ऐक्सेस किया जा सकता है.
अपने ऐप्लिकेशन को अपडेट करते समय, आपको एपीआई लेवल 30 या Android 13 (एपीआई लेवल 33) तक के वर्शन को टारगेट करना होगा.

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

एपीआई लेवल 30 या इससे पहले के लेवल को टारगेट करने वाले ऐप्लिकेशन के लिए

Google Play पर मेरा लाइव ऐप्लिकेशन, एपीआई लेवल 30 या इससे पहले के लेवल (Wear OS के लिए एपीआई लेवल 29 या इससे पहले के लेवल) को टारगेट करता है. मुझे इस ऐप्लिकेशन को अपडेट नहीं करना है. इसके लिए, मेरे पास कौन-कौनसे विकल्प हैं?

अगर आपको इस ऐप्लिकेशन को मौजूदा उपयोगकर्ताओं को दिखाते रहना है, तो आपको कुछ करने की ज़रूरत नहीं है. हालांकि, आपका ऐप्लिकेशन Google Play पर ऐसे नए उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध नहीं होगा जो आपके ऐप्लिकेशन के टारगेट एपीआई लेवल के बाद वाले Android OS वर्शन का इस्तेमाल कर रहे हैं. यह Google Play इस्तेमाल करने वाले सिर्फ़ उन लोगों के लिए उपलब्ध होगा जिनके डिवाइसों में आपके ऐप्लिकेशन का एपीआई लेवल या इससे पहले का Android OS वर्शन हो.

आपके ऐप्लिकेशन को 31 अगस्त, 2023 तक, टारगेट एपीआई लेवल की इस ज़रूरी शर्त को पूरा करना होगा. ऐसा न करने पर, Google Play के कुछ उपयोगकर्ताओं को आपका ऐप्लिकेशन नहीं दिखेगा. इनमें, ऐसे सभी उपयोगकर्ता शामिल हैं जिनके डिवाइस आपके ऐप्लिकेशन के टारगेट एपीआई लेवल की तुलना में नए Android OS वर्शन पर चल रहे हैं.

अगर अपने ऐप्लिकेशन को नए टारगेट एपीआई लेवल पर अपडेट करना है और इसके लिए आपको 31 अगस्त से ज़्यादा समय चाहिए, तो समयसीमा बढ़ाने के लिए 1 नवंबर तक अनुरोध किया जा सकता है. इससे, Google Play के सभी उपयोगकर्ताओं को ऐप्लिकेशन उपलब्ध कराया जा सकेगा. समयसीमा बढ़ाने का अनुरोध करने वाला फ़ॉर्म, इस साल के आखिर में Play Console में उपलब्ध होगा.

अगर आपको पुराने डिवाइसों का इस्तेमाल करने वाले नए उपयोगकर्ताओं को अपना ऐप्लिकेशन नहीं दिखाना है, तो आपके पास अपने ऐप्लिकेशन को अनपब्लिश करने का विकल्प भी है.

मुझे Google Play इस्तेमाल करने वाले सभी लोगों के लिए, अपना ऐप्लिकेशन 1 नवंबर, 2023 तक उपलब्ध कराना है. इसके लिए, समयसीमा बढ़ाने का अनुरोध करने वाला फ़ॉर्म मुझे कहां मिल सकता है?

नई नीति का पालन न करने वाले ऐप्लिकेशन को ही Play Console में इनबॉक्स मैसेज और नीति से जुड़ी चेतावनियां दी जाएंगी. समयसीमा बढ़ाने का अनुरोध करने वाला फ़ॉर्म, चेतावनी या समस्या की ज़्यादा जानकारी वाले पेज पर उपलब्ध होता है. यह पेज, Play Console में ऐप्लिकेशन की स्थिति पेज पर उपलब्ध होता है.

मेरे कुछ ऐप्लिकेशन Google Play पर मौजूद हैं और मुझे अब इन ऐप्लिकेशन को अनपब्लिश करना है. मेरे पास क्या विकल्प हैं?

अपने ऐप्लिकेशन को अनपब्लिश करने का तरीका जानने के लिए, ऐप्लिकेशन को अपडेट या अनपब्लिश करने वाला लेख देखें.

उन उपयोगकर्ताओं पर इसका क्या असर पड़ेगा जो मेरा ऐप्लिकेशन पहले से डाउनलोड कर चुके हैं?

जो उपयोगकर्ता पहले ही Google Play से ऐप्लिकेशन इंस्टॉल कर चुके हैं उन पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा. साथ ही, वे Android OS के ऐसे किसी भी वर्शन पर ऐप्लिकेशन को खोज सकते हैं जिस पर ऐप्लिकेशन काम करता हो. इसके अलावा, वे उस वर्शन पर ऐप्लिकेशन को फिर से इंस्टॉल और इस्तेमाल भी कर पाएंगे.

क्या इस बदलाव से ऐप्लिकेशन के डाउनलोड की संख्या पर असर पड़ेगा?

अगर नए उपयोगकर्ता, Android OS के नए वर्शन वाले डिवाइस पर, Google Play से आपके ऐप्लिकेशन को खोज नहीं पाते या डाउनलोड नहीं कर पाते हैं, तो इससे आपके ऐप्लिकेशन के डाउनलोड की संख्या पर असर पड़ सकता है.

अगर उपयोगकर्ता किसी नए डिवाइस पर, ऐप्लिकेशन स्टोर पेज के डीप लिंक पर जाता है, लेकिन ऐप्लिकेशन, टारगेट एपीआई लेवल 30 या इससे पहले के लेवल को टारगेट करता है, तो उपयोगकर्ता अनुभव क्या होगा?

Google Play, उपयोगकर्ता को यह जानकारी देगा कि "यह ऐप्लिकेशन उनके डिवाइस पर इंस्टॉल नहीं किया जा सकता, क्योंकि यह Android के पुराने वर्शन के लिए बनाया गया था."

क्या एपीआई 30 या उससे पुराने वर्शन को टारगेट करने वाले मौजूदा ऐप्लिकेशन को शर्तों से कोई छूट मिलेगी?

हां. ये शर्तें, हमेशा निजी रहने वाले उन ऐप्लिकेशन पर लागू नहीं होती हैं जो किसी खास संगठन में काम करने वाले उपयोगकर्ताओं के लिए ही बनाए गए हों. इसके अलावा, Android Automotive OS वाले डिवाइसों के नाप या आकार के हिसाब से बनाए गए ऐप्लिकेशन पर भी ये शर्तें लागू नहीं होतीं.

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
true
खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू