लीड फ़ॉर्म ऐसेट के बारे में जानकारी

लीड फ़ॉर्म की मदद से लीड जनरेट की जा सकती हैं. इनका इस्तेमाल करने पर, लोग आपके विज्ञापन में दिए गए फ़ॉर्म में अपनी जानकारी सबमिट करते हैं. इस लेख में, लीड फ़ॉर्म और Google Ads कैंपेन में इनसे मिलने वाले फ़ायदों के बारे में बताया गया है.

Hero image depicting About lead form extensions

जब संभावित ग्राहक अपने काम का कॉन्टेंट खोज या देख रहे हों, तब लीड फ़ॉर्म की मदद से उनकी दिलचस्पी के बारे में जाना जा सकता है.

अपनी भाषा में सबटाइटल देखने के लिए, YouTube कैप्शन चालू करें. इसके लिए, वीडियो प्लेयर में सबसे नीचे मौजूद "सेटिंग" आइकॉन YouTube सेटिंग आइकॉन की इमेज को चुनें. इसके बाद, "सबटाइटल" पर क्लिक करें और अपनी भाषा चुनें.


फ़ायदे

  • अपने कारोबार, प्रॉडक्ट या सेवा की बिक्री बढ़ाने के लिए, लीड जनरेट की जा सकती हैं.
  • ज़्यादा कन्वर्ज़न पाने के लिए, अपने मार्केटिंग फ़नल में लीड बढ़ाई जा सकती हैं.
  • अपने कारोबार, प्रॉडक्ट या सेवा में दिलचस्पी रखने वाले लोगों को ढूंढा और उनसे जुड़ा जा सकता है.

यह सुविधा कैसे काम करती है

  1. Google Ads में लीड फ़ॉर्म बनाकर, उसे कैंपेन में जोड़ा जाता है. लीड फ़ॉर्म को सर्च, वीडियो, परफ़ॉर्मेंस मैक्स, और डिसप्ले कैंपेन में जोड़ा जा सकता है.
    फ़िलहाल, वीडियो कैंपेन के लिए लीड फ़ॉर्म का बीटा वर्शन उपलब्ध है. ऐक्सेस पाने के लिए, अपने Google प्रतिनिधि से संपर्क करें.
  2. आपकी ऑडियंस में शामिल लोग, YouTube जैसी Google प्रॉपर्टी पर जाते हैं और लीड फ़ॉर्म वाले विज्ञापन के साथ इंटरैक्ट करते हैं. वे अपनी संपर्क जानकारी, जैसे कि ईमेल पता, फ़ोन नंबर वगैरह लीड फ़ॉर्म में सबमिट कर सकते हैं.
  3. अपनी लीड को Google Ads से डाउनलोड और मैनेज किया जा सकता है. इसके लिए, अपनी लीड को CSV फ़ाइल में डाउनलोड करें या इन्हें पाने के लिए कस्टमर रिलेशनशिप मैनेजमेंट (सीआरएम) सिस्टम में एक वेबहुक इंटिग्रेशन बनाएं. सबमिट की गई पिछले 30 दिनों की लीड को ही डाउनलोड किया जा सकता है. हालांकि, Google Ads API का इस्तेमाल करके अपने सीआरएम में 60 दिनों तक का लीड फ़ॉर्म डेटा अपने-आप एक्सपोर्ट होने की सुविधा भी इस्तेमाल भी जा सकती है.

ज़रूरी शर्तें

लीड फ़ॉर्म इस्तेमाल करने के लिए, पक्का करें कि:

  • आपने Google की नीतियों का हमेशा पालन किया हो.
  • आपका Google Ads खाता ऐसे वर्टिकल या सब-वर्टिकल में है जिसमें लीड फ़ॉर्म इस्तेमाल करने की मंज़ूरी मिली हुई हो. सेक्शुअल कॉन्टेंट जैसे संवेदनशील वर्टिकल या सब-वर्टिकल में लीड फ़ॉर्म इस्तेमाल नहीं किए जा सकते.
  • आपने अपने कारोबार के लिए निजता नीति सेट की हो. Google Ads में लीड फ़ॉर्म बनाने पर, आपको अपनी निजता नीति का लिंक देना पड़ता है. निजता नीति, लीड फ़ॉर्म के आखिर में दिखती है.

इसके अलावा, अगर किसी वीडियो या डिसप्ले कैंपेन में कोई लीड फ़ॉर्म जोड़ा जा रहा है या कोई ऐसा सर्च कैंपेन बनाया जा रहा है जिसमें विज्ञापन की हेडलाइन सीधे लीड फ़ॉर्म तक ले जाती है, तो आपको इसकी ज़रूरत होगी:

  • आपने Google Ads पर अब तक 50,000 डॉलर से ज़्यादा खर्च किया हो. विज्ञापन देने वाले जिन लोगों या कंपनियों के खाते डॉलर के बजाय दूसरी मुद्राओं में मैनेज होते हैं उनकी खर्च की गई रकम को उसी मुद्रा में, हर महीने के औसत कन्वर्ज़न रेट के हिसाब से डॉलर में बदला जाएगा.
  • विज्ञापन देने वाले ऐसे भरोसेमंद लोग या कंपनियां जो हर खाते पर 1,000 डॉलर (या सभी खातों पर 15,000 डॉलर से ज़्यादा) से ज़्यादा खर्च करती हैं, इन फ़ॉर्मैट का इस्तेमाल कर सकती हैं. हालांकि, यह खाते की अच्छी स्थिति और पुष्टि की स्थिति पर निर्भर करता है. विज्ञापन देने वाले लोगों या कंपनियों को Advertiser verification program में दी गई शर्तों को पूरा करना होगा. पुष्टि की प्रक्रिया के बारे में ज़्यादा जानें.

लीड फ़ॉर्म से जुड़ी ज़रूरी शर्तों के बारे में ज़्यादा जानें.

अगर आपके पास कोई ऐक्टिव लीड फ़ॉर्म ऐसेट है, तो उसे लीड फ़ॉर्म वाले विज्ञापन फ़ॉर्मैट में दिखाने के लिए, ये शर्तें पूरी होनी चाहिए:

  • बिडिंग: कैंपेन को कन्वर्ज़न पर फ़ोकस करने वाली बिडिंग की रणनीति का इस्तेमाल करना चाहिए.
  • कन्वर्ज़न लक्ष्य: कैंपेन को Google लीड फ़ॉर्म वाले कन्वर्ज़न लक्ष्य के लिए ऑप्टिमाइज़ किया जाना चाहिए. भले ही कैंपेन, दूसरी तरह के कन्वर्ज़न (नॉन-लीड फ़ॉर्म) के लिए ऑप्टिमाइज़ हो रहा हो, लेकिन इसमें Google लीड फ़ॉर्म कन्वर्ज़न शामिल होना चाहिए.
  • विज्ञापन के टाइप: रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापनों के क्रिएटिव दिखाए जा सकते हैं. बड़े किए गए टेक्स्ट विज्ञापन, ज़रूरी शर्तों को पूरा नहीं करते.

लीड फ़ॉर्म पर ले जाने वाला रिस्पॉन्सिव सर्च विज्ञापन (सर्च क्वेरी के हिसाब से ढल जाने वाले विज्ञापन) बनाने का तरीका जानें.

लीड फ़ॉर्म कहां दिखेंगे

लीड फ़ॉर्म सिर्फ़ कुछ देशों में दिखाए जा सकते हैं. अगर आपका विज्ञापन ऐसे देश की ऑडियंस को दिखाया जाता है जो लीड फ़ॉर्म की अनुमति नहीं देता, तो ऑडियंस को लीड फ़ॉर्म नहीं दिखेगा.

  • अर्जेंटीना
  • ऑस्ट्रेलिया
  • ऑस्ट्रिया
  • बांग्लादेश
  • बलीज़
  • बेल्जियम
  • ब्राज़ील
  • कनाडा
  • चिली
  • कोलंबिया
  • कोस्टा रिका
  • चेक गणराज्य
  • डेनमार्क
  • इक्वाडोर
  • अल सल्वाडोर
  • फ़िनलैंड
  • फ़्रांस
  • जर्मनी
  • ग्रीस
  • ग्वाटेमाला
  • होंडुरास
  • हॉन्ग कॉन्ग
  • हंगरी
  • भारत
  • इंडोनेशिया
  • आयरलैंड
  • इज़रायल
  • इटली
  • जापान
  • कज़ाकिस्तान
  • लिथुआनिया
  • मलेशिया
  • मेक्सिको
  • नीदरलैंड्स
  • न्यूज़ीलैंड
  • नॉर्वे
  • पाकिस्तान
  • पनामा
  • पेरू
  • फ़िलिपींस
  • पोलैंड
  • पुर्तगाल
  • प्योर्तो रिको
  • रोमानिया
  • सिंगापुर
  • स्लोवाकिया
  • दक्षिण अफ़्रीका
  • दक्षिण कोरिया
  • स्पेन
  • श्रीलंका
  • स्वीडन
  • स्विट्ज़रलैंड
  • ताइवान
  • थाईलैंड
  • तुर्किये
  • संयुक्त अरब अमीरात
  • यूनाइटेड किंगडम
  • अमेरिका
  • वियतनाम

लीड फ़ॉर्म इस्तेमाल करना

  • पक्का करें कि लीड फ़ॉर्म के लिए ज़रूरी शर्तें पूरी की जा रही हों. अगर ज़रूरी शर्तें पूरी नहीं की जाती हैं, तो लीड फ़ॉर्म नहीं बनाए जा सकते.
  • पक्का करें कि आपका लीड फ़ॉर्म हमारी विज्ञापन नीतियों और दिशा-निर्देशों के मुताबिक हो. उदाहरण के लिए, किसी ऐसे देश को टारगेट करना जहां लीड फ़ॉर्म उपलब्ध हैं. अगर इन नीतियों और दिशा-निर्देशों का पालन नहीं किया जाता, तो कैंपेन नहीं दिखेगा.
  • हर कैंपेन में सिर्फ़ एक लीड फ़ॉर्म जोड़ा जा सकता है.
  • सभी कैंपेन टाइप में लीड फ़ॉर्म बनाने का तरीका एक जैसा ही होता है. हालांकि, अलग-अलग कैंपेन टाइप में उनके काम करने के तरीके में कुछ फ़र्क़ हो सकता है. हर कैंपेन टाइप के बारे में जानने के लिए, नीचे दिए गए सेक्शन को बड़ा करके, इनके बीच के फ़र्क़ को देखें.

सर्च कैंपेन

लीड फ़ॉर्म, डेस्कटॉप और मोबाइल डिवाइसों पर दिख सकते हैं.
Lead forms convergence, search example

वीडियो कैंपेन

लीड फ़ॉर्म सिर्फ़ Android पर चलने वाले मोबाइल डिवाइसों पर दिखते हैं. अगर आपका कैंपेन iOS या डेस्कटॉप को टारगेट कर रहा है, तो यह उपयोगकर्ताओं को नहीं दिखेगा.
​​​​Lead forms convergence, video example
फ़िलहाल, वीडियो कैंपेन के लिए लीड फ़ॉर्म का बीटा वर्शन उपलब्ध है. ऐक्सेस पाने के लिए, अपने Google प्रतिनिधि से संपर्क करें.

डिसप्ले कैंपेन

  • लीड फ़ॉर्म, डेस्कटॉप और मोबाइल डिवाइस, दोनों पर दिख सकते हैं.
  • लीड फ़ॉर्म दिखाने के लिए, आपके कैंपेन में कम से कम एक रिस्पॉन्सिव डिसप्ले विज्ञापन (स्क्रीन के हिसाब से साइज़ बदलने वाला विज्ञापन) होना चाहिए. लीड फ़ॉर्म, अपलोड किए गए इमेज वाले विज्ञापनों के साथ काम नहीं करते.
​​​​Lead forms convergence, display example

खाता लेवल पर लीड फ़ॉर्म एसेट

  • सर्च या परफ़ॉर्मेंस मैक्स कैंपेन टाइप के साथ इस्तेमाल करने के लिए, खाता लेवल पर लीड फ़ॉर्म ऐसेट को अटैच किया जा सकता है.
  • Google Ads में कैंपेन लेवल पर मौजूद लीड फ़ॉर्म ऐसेट, खाता लेवल पर मौजूद किसी भी लीड फ़ॉर्म ऐसेट को हमेशा बदल देती हैं.
  • अगर कैंपेन लेवल पर मौजूद लीड फ़ॉर्म ऐसेट को मंज़ूरी नहीं मिलती है, तो खाता लेवल पर मौजूद लीड फ़ॉर्म ऐसेट दिखेंगी.

लीड फ़ॉर्म ऑप्टिमाइज़ेशन

अपने कैंपेन के लिए ऑडियंस टारगेटिंग के अलावा, आपके पास लीड फ़ॉर्म को ऑप्टिमाइज़ करने का भी विकल्प होता है. इससे ज़्यादा लीड ("ज़्यादा वॉल्यूम") या बेहतर क्वालिटी वाली ("ज़्यादा संभावित ग्राहक वाली") लीड हासिल की जा सकती हैं. दोनों विकल्पों के लिए, ऑडियंस को जोड़ा या हटाया नहीं जाएगा. साथ ही, आपके लीड फ़ॉर्म के फ़ील्ड भी नहीं बदले जाएंगे. ध्यान रखें कि कैंपेन टाइप के आधार पर ऑप्टिमाइज़ेशन अलग-अलग तरह से काम कर सकता है.
  • डिफ़ॉल्ट रूप से, लीड फ़ॉर्म का टाइप "ज़्यादा वॉल्यूम" होता है. हालांकि, इसे बदलकर "ज़्यादा संभावित ग्राहक" किया जा सकता है. जो विकल्प चुना जाएगा उससे हर लीड की लागत और इकट्ठा की गई लीड की संख्या पर असर पड़ सकता है. कैंपेन के दौरान, आपके पास किसी भी समय लीड फ़ॉर्म का टाइप बदलने का विकल्प होता है.
  • "ज़्यादा संभावित ग्राहक" वाले लीड फ़ॉर्म का डिज़ाइन ऐसा हो सकता है जिसमें फ़ॉर्म सबमिट करने के लिए ज़्यादा चरण हों. हो सकता है कि इससे कम लीड मिलें, लेकिन इनमें ऐसे संभावित ग्राहक शामिल होंगे जिनकी आपके कारोबार, प्रॉडक्ट या सेवा में दिलचस्पी ज़्यादा होगी.
  • "ज़्यादा वॉल्यूम" वाले लीड फ़ॉर्म का डिज़ाइन ऐसा होता है जिसमें फ़ॉर्म सबमिट करने के चरण कम होते हैं. इससे, ज़्यादा लीड मिल सकती हैं. हालांकि, उन लीड में ऐसे लोग भी शामिल हो सकते हैं जिनकी आपके कारोबार, प्रॉडक्ट या सेवा में ज़्यादा दिलचस्पी न हो.

निर्देश

अपनी भाषा में सबटाइटल देखने के लिए, YouTube कैप्शन चालू करें. इसके लिए, वीडियो प्लेयर में सबसे नीचे मौजूद "सेटिंग" आइकॉन YouTube सेटिंग आइकॉन की इमेज को चुनें. इसके बाद, "सबटाइटल" पर क्लिक करें और अपनी भाषा चुनें.


ध्यान दें: नीचे दिए गए निर्देश, Google Ads के नए वर्शन को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं. पिछले वर्शन का इस्तेमाल करने के लिए, "थीम" आइकॉन पर क्लिक करें और पिछले वर्शन का यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) इस्तेमाल करें चुनें. अगर Google Ads के पिछले वर्शन का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किसी पेज को खोजने के लिए, Google Ads में उपलब्ध प्रमुख सुविधाओं को झटपट ढूंढने की सुविधा या सबसे ऊपर मौजूद नेविगेशन पैनल में खोज बार का इस्तेमाल करें.

सभी को बड़ा करें

नए कैंपेन में लीड फ़ॉर्म ऐसेट बनाने का तरीका
  1. अपने Google Ads खाते में, कैंपेन आइकॉन कैंपेन आइकॉन पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, कैंपेन ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. प्लस बटन पर क्लिक करें. इसके बाद, नया कैंपेन पर क्लिक करें.
  4. अपने कैंपेन के लक्ष्य के तौर पर लीड चुनें.
  5. कैंपेन टाइप के तौर पर सर्च, वीडियो, परफ़ॉर्मेंस मैक्स, या डिसप्ले चुनें.
  6. जारी रखें पर क्लिक करें.
  7. कैंपेन की सेटिंग डालें.
  8. लीड फ़ॉर्म एडिटर खोलें. यहां आपको लीड फ़ॉर्म की जानकारी डालनी होगी.
    • सर्च और डिसप्ले कैंपेन के लिए: “ऐसेट” सेक्शन तक स्क्रोल करके, ज़्यादा ऐसेट टाइप पर क्लिक करें. इसके बाद, लीड फ़ॉर्म पर क्लिक करें.
    • वीडियो कैंपेन के लिए: “लीड फ़ॉर्म” सेक्शन तक स्क्रोल करें. इसके बाद, फ़ॉर्म पर क्लिक करें.
  9. लीड फ़ॉर्म ऐसेट एडिटर में, नया बनाएं पर क्लिक करें.
  10. हेडलाइन, कारोबार का नाम, और जानकारी डालें.
  11. वे सवाल चुनें जिन्हें लीड फ़ॉर्म में पूछना है. जारी रखने के लिए, आपको कम से कम एक विकल्प चुनना होगा.
    • नाम (जिसे नाम और उपनाम या पूरा नाम किया जा सकता है)
    • ईमेल
    • फ़ोन नंबर
    • शहर
    • पिन कोड
    • राज्य / प्रांत
    • देश
    • कंपनी का नाम
    • पद का नाम
    • ऑफ़िस का ईमेल
    • ऑफ़िस का फ़ोन नंबर
  12. (ज़रूरी नहीं) संभावित ग्राहकों की ज़्यादा से ज़्यादा जानकारी के लिए, +सवाल पर क्लिक करके, खुद से तैयार किए गए काम के सवाल जोड़े जा सकते हैं. आपको जो सवाल जोड़ना है उसे टाइप करना शुरू करने पर, उसी इंटेंट वाले मिलते-जुलते सवालों के सुझाव दिखने लगेंगे. हर कैटगरी से मेल खाने वाले सभी सवालों की सूची देखने के लिए, उपलब्ध कैटगरी में से किसी को भी बड़ा किया जा सकता है.
    • अगर कैटलॉग में पहले से मौजूद कोई ऐसा सवाल नहीं मिलता है जो आपके इंटेंट से मैच करता हो, तो आपके पास खुद से तैयार किए गए सवाल का सुझाव देने का विकल्प है. आपका सवाल या उससे मिलता-जुलता सवाल कैटलॉग में जोड़े जाने पर, आपके Google Ads खाते में इसकी सूचना दी जाएगी. सुझाए गए हर सवाल को कैटलॉग में नहीं जोड़ा जा सकता. हालांकि, जिन सवालों को जोड़ा गया है वे सबमिट किए जाने की तारीख के बाद, एक या दो कामकाजी दिनों में दिखने लगेंगे. कैटलॉग में शामिल किए गए आपके सवालों का इस्तेमाल, लीड फ़ॉर्म का विज्ञापन देने वाला कोई भी व्यक्ति या कंपनी कर सकती है. यह सुविधा सिर्फ़ कुछ भाषाओं के लिए उपलब्ध है.
    • ये सवाल आपकी चुनी गई भाषा के आधार पर तय किए गए हैं.
    • आपके सुझाए गए वे सवाल जो कैटलॉग में जोड़े जा चुके हैं या ऐसे सवाल जिन्हें आपने लीड फ़ॉर्म में पहले इस्तेमाल किया है, "आपके सवाल" सेक्शन में दिखेंगे. कैटलॉग में जोड़े गए नए सवालों की सूची को, "नए सवाल" सेक्शन से ऐक्सेस किया जा सकता है.
  13. अपनी निजता नीति में यूआरएल जोड़ें. जानकारी इकट्ठा करने के लिए, निजता नीति ज़रूरी है और यह लीड फ़ॉर्म के आखिर में दिखती है.
  14. (सिर्फ़ सर्च कैंपेन के लिए) लीड फ़ॉर्म में बैकग्राउंड की इमेज जोड़ने के लिए इमेज पर क्लिक करें. बैकग्राउंड की इमेज का साइज़ 1.91:1 (1200 x 628 सुझाया गया) होना चाहिए.
  15. फ़ॉर्म सबमिट होने पर दिखने वाले मैसेज के लिए, हेडलाइन और जानकारी डालें. यह मैसेज तब दिखेगा, जब लोग अपनी संपर्क जानकारी सबमिट कर देंगे.
    • फ़ॉर्म सबमिट होने पर दिखने वाले मैसेज में कॉल-टू-ऐक्शन भी जोड़ा जा सकता है. हालांकि, यह आपके कैंपेन टाइप के लिए उपलब्ध होना चाहिए. इस तरह का कॉल-टू-ऐक्शन आपके विज्ञापन के कॉल-टू-ऐक्शन से अलग होता है और किसी खास यूआरएल पर जाने के लिए कॉन्फ़िगर किया जा सकता है.
  16. अगर लोगों को विज्ञापन के साथ इंटरैक्ट करने के लिए बढ़ावा देने वाला कॉल-टू-ऐक्शन जोड़ना है, तो ड्रॉप-डाउन मेन्यू से कॉल-टू-ऐक्शन टाइप चुनें. इसके बाद, कॉल-टू-ऐक्शन की जानकारी जोड़ें.
  17. अगर आपको सीधे अपने कस्टमर रिलेशनशिप मैनेजमेंट (सीआरएम) सिस्टम से लीड चाहिए, तो लीड फ़ॉर्म में अपनी वेबहुक जानकारी जोड़ें या Zapier को लिंक करें. हालांकि, ऐसा करना ज़रूरी नहीं है.
  18. लीड फ़ॉर्म ऑप्टिमाइज़ेशन के तौर पर, ज़्यादा संभावित ग्राहक या ज़्यादा वॉल्यूम चुनें.
  19. अगर पहली बार लीड फ़ॉर्म बनाया जा रहा है, तो सेवा की शर्तों को पढ़कर उन्हें स्वीकार करें.
  20. अपने कैंपेन में लीड फ़ॉर्म जोड़ने के लिए, सेव करें पर क्लिक करें.
किसी मौजूदा कैंपेन में लीड फ़ॉर्म ऐसेट जोड़ना
  1. अपने Google Ads खाते में कैंपेन आइकॉन कैंपेन आइकॉन पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, ऐसेट ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. ऐसेट पर क्लिक करें.
  4. अब आपको एक टेबल दिखेगी, जिसमें आपकी सभी ऐसेट होंगी. “टेबल व्यू” ड्रॉप-डाउन मेन्यू से असोसिएशन चुनें.
  5. टेबल टूलबार के ऊपर मौजूद सूची से, लीड फ़ॉर्म चुनें.
  6. आपको अपने मौजूदा कैंपेन में जिस लीड फ़ॉर्म को जोड़ना है उसके बगल में मौजूद बॉक्स को चुनें.
  7. इसमें जोड़ें > कैंपेन को चुनें. आपके चुने गए कैंपेन में, “लीड” को कैंपेन का लक्ष्य होना चाहिए.
  8. हो गया पर क्लिक करें. अगर लीड फ़ॉर्म को किसी मौजूदा कैंपेन से अटैच किया गया है, तो वह कैंपेन, लीड फ़ॉर्म को मंज़ूरी मिलने के बाद ही चलेगा. कैंपेन सेटिंग के "लीड फ़ॉर्म" सेक्शन में जाकर, लीड फ़ॉर्म की समीक्षा का स्टेटस देखा जा सकता है.
खाता लेवल पर लीड फ़ॉर्म ऐसेट जोड़ना
  1. अपने Google Ads खाते में कैंपेन आइकॉन कैंपेन आइकॉन पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, ऐसेट ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. ऐसेट पर क्लिक करें.
  4. प्लस आइकॉन पर क्लिक करें. इसके बाद, लीड फ़ॉर्म ऐसेट चुनें.
  5. पेज के सबसे ऊपर मौजूद, “इसमें जोड़ें” ड्रॉपडाउन मेन्यू में जाकर खाता चुनें.
  6. 'नया बनाएं' विकल्प चुनें.
  7. लीड फ़ॉर्म बनाने के लिए ज़रूरी जानकारी डालें.
  8. सेव करें पर क्लिक करें.
अहम जानकारी: खाता लेवल पर सिर्फ़ एक लीड फ़ॉर्म एसेट जोड़ी जा सकती है.
किसी लीड फ़ॉर्म एसेट में बदलाव करना
ध्यान दें: किसी मौजूदा लीड फ़ॉर्म में बदलाव करने पर, लीड फ़ॉर्म में मांगी गई जानकारी में बदलाव नहीं किया जा सकता. अगर लीड फ़ॉर्म में मांगी गई जानकारी में बदलाव करना है, तो एक नया लीड फ़ॉर्म बनाएं और अन्य विकल्प चुनें. इसके बाद, किसी कैंपेन में नया लीड फ़ॉर्म जोड़ा जा सकता है.
  1. अपने Google Ads खाते में कैंपेन आइकॉन कैंपेन आइकॉन पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, ऐसेट ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. ऐसेट पर क्लिक करें.
  4. अब आपको एक टेबल दिखेगी, जिसमें आपकी सभी ऐसेट होंगी. “टेबल व्यू” ड्रॉप-डाउन मेन्यू से असोसिएशन चुनें.
  5. टेबल टूलबार के ऊपर मौजूद सूची से, लीड फ़ॉर्म चुनें.
  6. लीड फ़ॉर्म पर कर्सर घुमाएं और बदलाव करने के लिए, पेंसिल वाले आइकॉन बदलाव करें पर क्लिक करें.
  7. अपने लीड फ़ॉर्म में बदलाव करें.
  8. सेव करें पर क्लिक करें. लीड फ़ॉर्म में बदलाव करने से कैंपेन रुक जाता है और तब तक शुरू नहीं होता, जब तक कि लीड फ़ॉर्म को मंज़ूरी न मिल जाए.
किसी लीड फ़ॉर्म ऐसेट को हटाना
  1. अपने Google Ads खाते में कैंपेन आइकॉन कैंपेन आइकॉन पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, ऐसेट ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. ऐसेट पर क्लिक करें.
  4. अब आपको एक टेबल दिखेगी, जिसमें आपकी सभी ऐसेट होंगी. “टेबल व्यू” ड्रॉप-डाउन मेन्यू से असोसिएशन चुनें.
  5. टेबल टूलबार के ऊपर मौजूद सूची से, लीड फ़ॉर्म चुनें.
  6. लीड फ़ॉर्म के बगल में मौजूद बॉक्स को चुनने के लिए क्लिक करें.
  7. हटाएं पर क्लिक करें. लीड फ़ॉर्म को हटाने के बाद, उसे वापस नहीं लाया जा सकता. आपके पास अब भी, हटाए गए फ़ॉर्म से मिले पिछले 30 दिनों के लीड डाउनलोड करने का विकल्प है.

ऑटोमोटिव डीलरशिप के लिए डीलरशिप का लोकेटर

ऑटोमोटिव डीलरशिप लोकेटर की हमारी सुविधा का इस्तेमाल करके, अपनी लोकेशन ऐसेट या अफ़िलिएट लोकेशन ऐसेट से डाइनैमिक तौर पर डीलरशिप की जानकारी हासिल की जा सकती है. इससे संभावित ग्राहकों को आसानी से उनके सबसे नज़दीकी डीलरशिप की जगह की जानकारी दिखाई जा सकती है.

ज़रूरी शर्तें

  • परफ़ॉर्मेंस मैक्स या सर्च कैंपेन टाइप के साथ लीड फ़ॉर्म का इस्तेमाल करना
  • खाता या कैंपेन लेवल पर जुड़े लोकेशन ग्रुप, लोकेशन ऐसेट या अफ़िलिएट लोकेशन ऐसेट
  • फ़ॉर्म के “संपर्क जानकारी” सेक्शन में इस्तेमाल की गई कम से कम एक जगह की जानकारी, जैसे कि शहर या राज्य/प्रांत

यह सुविधा कैसे काम करती है

इस सुविधा का इस्तेमाल, नई लीड फ़ॉर्म ऐसेट को कॉन्फ़िगर करते समय किया जा सकता है. “आपकी पसंदीदा डीलरशिप कौनसी है?” से जुड़ी ज़रूरी शर्तें पूरी करने वाला सवाल चुनें. इसके बाद, “जवाब का टाइप” में जाकर, पक्का करें कि “जगह” चुनी गई हो. इसके बाद, आपको एडिटर में ज़रूरी शर्तें पूरी करने वाली सभी लोकेशन ऐसेट की सूची दिखेगी, जिसमें उनके कारोबारी नाम और पते (20 जगहों तक सीमित) भी होंगे. जब आपके बाकी के लीड फ़ॉर्म में जानकारी भर जाएगी और वे सेव हो जाएंगे, तब संभावित ग्राहक, फ़ॉर्म में उनके चुने गए शहर या राज्य/प्रांत के आधार पर अपने आस-पास की जगहें खोज पाएंगे.

आगे क्या करना है

परफ़ॉर्मेंस मेज़र करना

आपके पास यह देखने का विकल्प है कि आपका लीड फ़ॉर्म, Google Ads रिपोर्ट में कैसा परफ़ॉर्म कर रहा है. ध्यान रखें:

  • जब भी लीड फ़ॉर्म को खोला जाता है, तो इसे एक क्लिक के तौर पर दर्ज किया जाता है.
  • जब कोई व्यक्ति लीड फ़ॉर्म में अपनी जानकारी सबमिट करता है, तो इसे एक कन्वर्ज़न के तौर पर गिना जाता है. पहली बार फ़ॉर्म सबमिट किए जाने पर, Google Ads में लीड फ़ॉर्म कन्वर्ज़न अपने-आप बन जाते हैं.
  • आपका कैंपेन, वेबसाइट कन्वर्ज़न भी बढ़ा सकता है.
  • Google Ads खाते में, परफ़ॉर्मेंस रिपोर्ट को "क्लिक टाइप" और "कन्वर्ज़न टाइप" के आधार पर सेगमेंट में बांटकर, क्लिक और कन्वर्ज़न की परफ़ॉर्मेंस तय की जा सकती है.
  • Google Analytics में, लीड फ़ॉर्म की वजह से हुई विज़िट और कन्वर्ज़न को रिपोर्ट नहीं किया जाएगा. Analytics सिर्फ़ ऐसी यूज़र ऐक्टिविटी के बारे में रिपोर्ट करता है जो उपयोगकर्ताओं को सीधे आपकी वेबसाइट पर ले जाती हैं.
ध्यान दें: अगर Google की ओर से होस्ट किए गए लीड फ़ॉर्म और आपके डाउनलोड किए गए लीड डेटा से जुड़े कन्वर्ज़न की संख्या में फ़र्क़ दिखता है, तो परफ़ॉर्मेंस रिपोर्ट को “कन्वर्ज़न टाइप” के आधार पर सेगमेंट करें. आपकी वेबसाइट पर की गई खरीदारी जैसे अन्य कन्वर्ज़न, Google की ओर से होस्ट किए जाने वाले लीड फ़ॉर्म में एट्रिब्यूट किए जा सकते हैं.

अपनी लीड डाउनलोड करना

लीड फ़ॉर्म के लिए वेबहुक इंटिग्रेशन सेट अप करना

वेबहुक इंटिग्रेशन की मदद से, एक ऐप्लिकेशन से दूसरे ऐप्लिकेशन में अपने-आप जानकारी भेजी जा सकती है. इसके लिए, यूनीक यूआरएल का इस्तेमाल किया जाता है. अपने लीड फ़ॉर्म को कस्टमर रिलेशनशिप मैनेजमेंट (सीआरएम) सिस्टम से जोड़ने के लिए, वेबहुक इंटिग्रेशन बनाया जा सकता है. अपने लीड फ़ॉर्म में वेबहुक इंटिग्रेशन जोड़ने के बाद, आपको अपनी लीड सीधे सीआरएम में मिलेंगी.

वेबहुक इंटिग्रेशन को अपने लीड फ़ॉर्म से जोड़ने के लिए, आपको एक वेबहुक यूआरएल और वेबहुक कुंजी जनरेट करनी होगी.

  • वेबहुक यूआरएल, जानकारी भेजने वाला पाथ होता है. जब कोई व्यक्ति लीड फ़ॉर्म में अपनी जानकारी सबमिट करता है, तो कॉन्फ़िगर किए गए यूआरएल पर एक "एचटीटीपी पोस्ट" अनुरोध अपने-आप चला जाता है. इससे, लीड का डेटा सीधे सीआरएम सिस्टम में चला जाता है.
  • वेबहुक कुंजी का इस्तेमाल, भेजी गई लीड की पुष्टि करने के लिए किया जाता है.

अगर आपके पास वेबहुक इंटिग्रेशन बनाने की जानकारी है, तो उसे बनाएं. इसके बाद, उसके लिए एक यूआरएल और कुंजी जनरेट करें. वेबहुक यूआरएल और कुंजी जनरेट करने के बारे में ज़्यादा जानें.

ध्यान दें: वेबहुक का इस्तेमाल करके, अपने CRM में अपने-आप लीड फ़ॉर्म डेटा भेजने की सुविधा चालू करने के लिए, तीसरे पक्ष के इंटिग्रेशन की सेवा देने वाली कंपनी का इस्तेमाल किया जा सकता है. तीसरा पक्ष अपने-आप वेबहुक जनरेट करके, उसे Google Ads में आपकी लीड फ़ॉर्म ऐसेट पर लागू कर देता है. तीसरे पक्ष के इन लीड एक्सपोर्ट इंटिग्रेशन का इस्तेमाल करने के लिए, पैसे चुकाकर इस्तेमाल किए जाने वाले खाते की ज़रूरत पड़ सकती है.

हमारे पास Zapier के साथ लीड एक्सपोर्ट इंटिग्रेशन का भी विकल्प है, जो वेबहुक के बजाय Google Ads API का इस्तेमाल करता है. आपके पास लीड फ़ॉर्म डेटा को मैन्युअल तरीके से भी एक्सपोर्ट करने का विकल्प है. इसके लिए, आपको CSV फ़ाइल डाउनलोड करनी होगी या Google Ads API का इस्तेमाल करना होगा.

नई लीड फ़ॉर्म ऐसेट में वेबहुक इंटिग्रेशन जोड़ने का तरीका
ध्यान दें: नीचे दिए गए निर्देश, Google Ads के नए वर्शन को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं. पिछले वर्शन का इस्तेमाल करने के लिए, "थीम" आइकॉन पर क्लिक करें और पिछले वर्शन का यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) इस्तेमाल करें चुनें. अगर Google Ads के पिछले वर्शन का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किसी पेज को खोजने के लिए, Google Ads में उपलब्ध प्रमुख सुविधाओं को झटपट ढूंढने की सुविधा या सबसे ऊपर मौजूद नेविगेशन पैनल में खोज बार का इस्तेमाल करें.
  1. अपने Google Ads खाते में, कैंपेन आइकॉन कैंपेन आइकॉन पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, कैंपेन ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. प्लस बटन पर क्लिक करें. इसके बाद, नया कैंपेन चुनें.
  4. अपने लक्ष्य के तौर पर लीड चुनें.
  5. कैंपेन टाइप के तौर पर सर्च, वीडियो, परफ़ॉर्मेंस मैक्स, या डिसप्ले चुनें.
  6. जारी रखें पर क्लिक करें.
  7. कैंपेन की सेटिंग डालें.
  8. लीड फ़ॉर्म एसेट एडिटर को खोलने और लीड फ़ॉर्म की जानकारी डालने के लिए, लीड फ़ॉर्म बनाएं पर क्लिक करें.
    • सर्च और डिसप्ले कैंपेन के लिए: “ऐसेट” सेक्शन तक स्क्रोल करके, ज़्यादा ऐसेट टाइप पर क्लिक करें. इसके बाद, लीड फ़ॉर्म पर क्लिक करें.
    • वीडियो कैंपेन के लिए: “लीड फ़ॉर्म” सेक्शन तक स्क्रोल करें. इसके बाद, फ़ॉर्म पर क्लिक करें.
  9. लीड फ़ॉर्म एसेट बनाना शुरू करें.
  10. “Google Ads से लीड एक्सपोर्ट करें” को बड़ा करने के लिए क्लिक करें. इसके बाद, "डेटा इंटिग्रेशन के दूसरे विकल्प" को बड़ा करने के लिए क्लिक करें.
  11. "वेबहुक इंटिग्रेशन (ज़रूरी नहीं)" में जाकर, अपना वेबहुक यूआरएल और वेबहुक कुंजी जोड़ें.
  12. आपके सीआरएम को सही तरीके से डेटा मिल रहा है या नहीं, इसकी पुष्टि करने के लिए टेस्ट डेटा भेजें पर क्लिक करें.
  13. लीड फ़ॉर्म बनाने के बाद, सेव करें पर क्लिक करें.
किसी मौजूदा लीड फ़ॉर्म ऐसेट में वेबहुक इंटिग्रेशन जोड़ने का तरीका
ध्यान दें: नीचे दिए गए निर्देश, Google Ads के नए वर्शन को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं. पिछले वर्शन का इस्तेमाल करने के लिए, "थीम" आइकॉन पर क्लिक करें और पिछले वर्शन का यूज़र इंटरफ़ेस (यूआई) इस्तेमाल करें चुनें. अगर Google Ads के पिछले वर्शन का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किसी पेज को खोजने के लिए, Google Ads में उपलब्ध प्रमुख सुविधाओं को झटपट ढूंढने की सुविधा या सबसे ऊपर मौजूद नेविगेशन पैनल में खोज बार का इस्तेमाल करें.
  1. अपने Google Ads खाते में, कैंपेन आइकॉन कैंपेन आइकॉन पर क्लिक करें.
  2. सेक्शन मेन्यू में, ऐसेट ड्रॉप-डाउन पर क्लिक करें.
  3. ऐसेट पर क्लिक करें.
  4. अब आपको एक टेबल दिखेगी, जिसमें आपकी सभी ऐसेट होंगी. टेबल टूलबार के ऊपर मौजूद सूची से, लीड फ़ॉर्म चुनें.
  5. लीड फ़ॉर्म पर कर्सर घुमाएं और बदलाव करने के लिए, पेंसिल वाले आइकॉन सेटिंग में बदलाव करना, पेंसिल आइकॉन पर क्लिक करें.
  6. “Google Ads से लीड एक्सपोर्ट करें” को बड़ा करने के लिए क्लिक करें. इसके बाद, "डेटा इंटिग्रेशन के दूसरे विकल्प" को बड़ा करने के लिए क्लिक करें.
  7. "वेबहुक इंटिग्रेशन (ज़रूरी नहीं)" में जाकर, अपना वेबहुक यूआरएल और वेबहुक कुंजी जोड़ें.
  8. आपके सीआरएम को सही तरीके से डेटा मिल रहा है या नहीं, इसकी पुष्टि करने के लिए टेस्ट डेटा भेजें पर क्लिक करें.
  9. लीड फ़ॉर्म में बदलाव करने के बाद, सेव करें पर क्लिक करें.

गड़बड़ी की स्थितियां

वेबहुक जोड़ने के बाद आपने शुरुआत में जो काम किए हैं उनके आधार पर, आपको गड़बड़ी वाले पेज पर इनमें से कोई एक स्थिति दिख सकती है:

  • गड़बड़ी वाले पेज की स्थिति A: यह तब दिखती है, जब टेस्ट डेटा पूरा नहीं भेजा जाता और लोग फ़ॉर्म को सेव कर लेते हैं.
  • गड़बड़ी वाले पेज की स्थिति B: इसका मतलब है कि डेटा नहीं भेजा गया.
  • गड़बड़ी वाले पेज की स्थिति C: इसका मतलब है कि डेटा भेजा गया है, लेकिन Google को जवाब नहीं मिला
  • गड़बड़ी वाले पेज की स्थिति D: इसका मतलब है कि डेटा भेजा गया है, लेकिन Google को गलत जवाब मिला है ("एचटीटीपी 200" से अलग).
  • सही स्थिति: इसका मतलब है कि डेटा भेजा गया है और Google को सही जवाब मिला है.

क्या यह उपयोगी था?

हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?
खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू