अनुपलब्ध डेटा और गड़बड़ियां ठीक करना

कभी-कभी ऐसा हो सकता है कि आपकी डाउनलोड की गई रिपोर्ट से कुछ जानकारी गुम हो या आपका डेटा, Google Analytics या आपकी तीसरे पक्ष की रिपोर्ट में दिखाई देने वाली जानकारी से मेल न खाता हो. इसकी वजह जानने के लिए, इस लेख के उस लिंक पर क्लिक करें जो आपकी समस्या को सबसे सही तरीके से बताता है.

अनुपलब्ध डेटा

रिपोर्ट में डेटा उपलब्ध नहीं है

कुछ मामलों में रिपोर्ट एडिटर से डाउनलोड की गई रिपोर्ट, आपके खाते की परफ़ॉर्मेंस टेबल से डेटा बाहर कर सकती है. उदाहरण के लिए, अगर आपको किसी खास पंक्ति में "0" क्लिक या इंप्रेशन मिला है, तो रिपोर्ट एडिटर उस डेटा को आपकी डाउनलोड की गई रिपोर्ट से निकाल देगा.

आप रिपोर्ट एडिटर में मौजूद "0" वाली पंक्तियां फ़िल्टर करके निकाल भी सकते हैं.

रिपोर्ट में कुल योग उपलब्ध नहीं हैं

अगर आप अपने डेटा में कुछ खास सेगमेंट लागू करके अपनी रिपोर्ट डाउनलोड करते हैं, तो आपको पंक्तियों के योग की खास जानकारी की बजाय "--" दिखाई दे सकता है. डेटा इसलिए उपलब्ध नहीं है, क्योंकि कुल योग से गलत जानकारी मिलेगी.

उदाहरण के लिए, "क्लिक प्रकार" एक ही इंप्रेशन के बहुत सारे पहलुओं पर लागू हो सकता है (जैसे, एक ही विज्ञापन में क्लिक-टू-कॉल इंप्रेशन और हेडलाइन इंप्रेशन अगल-बगल दिखाए जा सकते हैं). अगर आपने डेटा में क्लिक प्रकार सेगमेंट लागू किया है, तो आपको अपनी डाउनलोड की गई रिपोर्ट में कुल योग की खास जानकारी की बजाय "--" दिखाई देगा. इस मामले में कुल योग सटीक नहीं होगा, क्योंकि इसमें कुछ इंप्रेशन दो बार गिने जाएंगे.

रिपोर्ट में कॉलम उपलब्ध नहीं हैं

कभी-कभी, अगर आप कैंपेन पेज पर कोई टेबल डाउनलोड करते समय कुछ खास सेगमेंट शामिल करने का प्रयास करते हैं, तो आपकी रिपोर्ट से टेबल के कुछ कॉलम निकाले जा सकते हैं. ऐसा इसलिए किया जाता है, क्योंकि सभी सेगमेंट के लिए सभी कॉलम के आंकड़े उपलब्ध नहीं होते.

उदाहरण के लिए, मान लें कि आप अपनी कैंपेन रिपोर्ट में कन्वर्ज़न ट्रैकिंग सेगमेंट को शामिल करना चाहते हैं. एक ही क्लिक से कई कन्वर्ज़न कार्रवाई जुड़ी हो सकती हैं. इसलिए, एक ही रिपोर्ट में कन्वर्ज़न आंकड़ों और मूल परफ़ॉर्मेंस मेट्रिक (जैसे, क्लिक और इंप्रेशन), दोनों को शामिल करना मुमकिन नहीं है. अपनी टेबल में कन्वर्ट हुए क्लिक मेट्रिक की बजाय "कन्वर्ज़न दर", "कुल कन्वर्ज़न मान", और "लागत / कन्वर्ज़न" जैसी कन्वर्ज़न मेट्रिक वाले कॉलम जोड़ने पर विचार करें. अगर आपकी टेबल में मूल परफ़ॉर्मेंस मेट्रिक के कॉलम हैं, तो वे आपकी रिपोर्ट में शामिल नहीं किए जाएंगे.

रिपोर्ट में कुछ कीवर्ड उपलब्ध नहीं हैं

रिपोर्ट में सिर्फ़ वही कीवर्ड दिखाई देंगे जिन्हें रिपोर्टिंग अवधि के दौरान कम से कम एक इंप्रेशन मिला हो. उदाहरण के लिए, अगर आपकी रिपोर्ट पिछले सात दिनों की है और उस दौरान आपके कीवर्ड "flowerpot" को कोई भी इंप्रेशन नहीं मिला, तो रिपोर्ट में "flowerpot" शामिल नहीं होगा.

अगर आपको कोई खास कीवर्ड दिखाई नहीं देता, तो अपनी रिपोर्ट डाउनलोड करने से पहले तारीख की सीमा बढ़ाएं.

हो सकता है कि ज़्यादा ब्यौरे वाले कीवर्ड को एक भी इंप्रेशन न मिला हो. 90 दिनों में एक भी इंप्रेशन नहीं पाने वाले कीवर्ड आखिरकार बंद कर दिए जाएंगे.

डेटा की गड़बड़ियां

आपको अपने Google Ads खाते के आंकड़ों और अपने वेब सर्वर लॉग या तीसरे पक्ष के ट्रैकिंग सॉफ़्टवेयर के आंकड़ों के बीच दो तरह की गड़बड़ियां दिखाई दे सकती हैं:

  • पहली तरह की गड़बड़ी तब होती है, जब आपके Google Ads आंकड़ों की तुलना में वेब लॉग या तीसरे पक्ष के ट्रैकिंग सॉफ़्टवेयर आपके विज्ञापनों पर कम क्लिक दिखाते हैं.
  • दूसरी गड़बड़ी तब होती है, जब Google Ads की ट्रैफ़िक क्वालिटी टीम के पता लगाए गए अमान्य क्लिक की तुलना में, तीसरे पक्ष की क्लिक ऑडिटिंग फ़र्म ज़्यादा अमान्य क्लिक रिपोर्ट करती है.

ज़्यादा जानें

Google Analytics और Google Ads के बीच अंतर

कुछ मामलों में ऐसा हो सकता है कि आपका Google Ads डेटा, आपके इंपोर्ट किए गए Google Analytics डेटा से मेल न खाए. यहां इसकी सबसे आम वजहें दी गई हैं:

  • Google Ads क्लिक ट्रैक करता है जबकि Google Analytics विज़िट (साइट पर आने वाले) ट्रैक करता है. इन मेट्रिक के बीच फ़र्क़ होने की कई वजहें हो सकती हैं:
    • वेबसाइट पर आने वाला व्यक्ति आपके विज्ञापन पर कई बार क्लिक कर सकता है. जब कोई व्यक्ति एक ही सत्र में किसी विज्ञापन पर कई बार क्लिक करता है, तो Google Ads एक से ज़्यादा क्लिक रिकॉर्ड करता है. वहीं दूसरी ओर Analytics अलग-अलग पेज व्यू को एक ही विज़िट मानता है.
    • कोई व्यक्ति एक विज्ञापन पर क्लिक करता है और फिर बाद में, किसी दूसरे सत्र के दौरान बुकमार्क या सेव किए गए लिंक से साइट पर वापस आता है. यह मामला Google Ads में एक क्लिक के तौर पर रजिस्टर किया जाएगा. वहीं दूसरी ओर Analytics में एक से ज़्यादा विज़िट के तौर पर रजिस्टर किया जाएगा.
    • वेबसाइट पर आने वाला व्यक्ति आपके विज्ञापन पर क्लिक करता है, लेकिन फिर अपना इरादा बदलकर किसी दूसरे पेज पर क्लिक करके या ब्राउज़र के 'रोकें' या 'वापस जाएं' बटन को दबाकर, पेज को पूरी तरह लोड होने से रोक देता है. इस मामले में Analytics, विज़िट को रजिस्टर नहीं करेगा, लेकिन Google Ads अब भी इसे एक क्लिक के रूप में गिनेगा.
  • यह पक्का करने के लिए कि बिलिंग ज़्यादा सटीक हो, Google Ads आपकी रिपोर्ट से अमान्य क्लिक को अपने-आप हटा देता है. हालांकि, ट्रैफ़िक डेटा का पूरा सेट दिखाने के लिए Analytics इन क्लिक को आपकी वेबसाइट की विज़िट के तौर पर रिपोर्ट करता है.
  • तारीख की लंबी सीमा की तुलना में वे अवधियां शामिल की जा सकती हैं जिनके दौरान आपके खाते लिंक नहीं थे.
इंप्रेशन से ज़्यादा क्लिक हैं / क्लिक मिलने की दर (सीटीआर) 100% से ज़्यादा है

हालांकि, इंप्रेशन से ज़्यादा क्लिक पाना असल में मुमकिन नहीं है, लेकिन कभी-कभी आपके खाते की रिपोर्ट, इंप्रेशन से ज़्यादा क्लिक या 100% से ज़्यादा की क्लिक मिलने की दर (सीटीआर) दिखा सकती हैं.

ऐसा क्यों होता है? पहली बात यह है कि आपके खाते में दिखाई देने वाली रिपोर्ट वास्तविक समय में नहीं होती हैं. क्लिक करीब हर घंटे में अपडेट होते हैं जबकि इंप्रेशन कुछ घंटों के बाद अपडेट होते हैं. इसलिए, यह मुमकिन है कि आपकी रिपोर्ट के पूरी तरह अपडेट होने से पहले, आपकी रिपोर्ट में दिखने वाले क्लिक की संख्या इंप्रेशन की संख्या से ज़्यादा हो जाए. ऐसा आम तौर पर दिन के आखिर में होता है (अपने खाते के लिए चुने गए समय क्षेत्र में रात 11:59 बजे).

अगर आप सबसे सटीक रिपोर्ट देखना चाहते हैं, तो हमारा सुझाव है कि आप किसी दिन की रिपोर्ट की समीक्षा उसके अगले दिन तब करें, जब सर्वर, क्लिक और इंप्रेशन की रिपोर्टिंग पूरी कर चुके हों.

दूसरी वजह यह है कि ब्राउज़र खोज के नतीजों और खोज नतीजों के पेजों पर दिखने वाले विज्ञापनों को कैश में इकट्ठा कर लेता है. इस वजह से हमारी टेक्नोलॉजी हर खोज के लिए सिर्फ़ एक विज्ञापन इंप्रेशन दर्ज करती है. हालांकि, अगर वेबसाइट पर आने वाला व्यक्ति कैश ब्राउज़र सत्र में आपके विज्ञापन पर एक से ज़्यादा बार क्लिक करता है, तो आपकी रिपोर्ट कई क्लिक दिखाएंगी.

हो सकता है कि आपको अपने वेबलॉग में कई क्लिक की कुछ मात्रा दिखाई दे. ये क्लिक वेबसाइट पर आने वाले ऐसे लोगों के बारे में बताते हैं जो अपेक्षित तरीकों से आपके विज्ञापन तक पहुंचते हैं. वेबसाइट पर आने वाला व्यक्ति आपके विज्ञापन पर वैध तौर पर एक से ज़्यादा बार क्लिक कर सकता है. उदाहरण के लिए, शायद वह व्यक्ति खरीदारी की तुलना कर रहा हो या ज़्यादा जानकारी के लिए आपकी साइट पर लौटकर आया हो. इसके अलावा, इंटरनेट सेवा देने वाली कुछ कंपनी एक से ज़्यादा लोगों को एक ही आईपी पता असाइन करती हैं. इस मामले में, एक ही आईपी पते से आने वाले कई क्लिक का मतलब यह नहीं है कि कोई एक व्यक्ति आपके विज्ञापन पर कई बार क्लिक कर रहा है.

पहुंच और फ़्रीक्वेंसी व्यू में खास उपयोगकर्ता, क्लिक, और कन्वर्ज़न दशमलव के रूप में रिपोर्ट किए जाते हैं

अनुमानित फ़्रीक्वेंसी, नमूना समूह डेटा पर आधारित होती है. इसलिए, खास उपयोगकर्ताओं और उनके क्लिक का अनुमान हमेशा पूरी संख्या नहीं होता.

डेलाइट सेविंग टाइम से प्रभावित डेटा

आपका समय क्षेत्र रिपोर्ट पर दिखाए गए समय को पर असर डालता है और यह अन्य सेटिंग जैसे टारगेटिंग (विज्ञापन के लिए सही दर्शक चुनना) पर असर डाल सकता है. आपके Google Ads आंकड़े हमेशा आपके खाते के लिए चुने गए समय क्षेत्र के हिसाब से स्थानीय समय दिखाएंगे.

कई देश गर्मी के महीनों में दिन के घंटे बढ़ाने के लिए, अपने आधिकारिक समय में एक सालाना बदलाव करते हैं. इसे अक्सर समर टाइम या डेलाइट सेविंग टाइम कहा जाता है. अगर आपके खाते के लिए सेट किया गया समय क्षेत्र इस तरह से बदलता है, तो आपके Google Ads खाते का शेड्यूल और आंकड़े भी अपने आप एडजस्ट हो जाएंगे. गर्मियों के खत्म होने के दौरान, समय क्षेत्र के सामान्य समय में लौटने पर भी आपका खाता एडजस्ट किया जाएगा.

अगर आप चाहें, तो अपने खाते को पूरे साल के लिए ग्रीनविच मीन टाइम (जीएमटी) पर सेट कर सकते हैं. इसमें गर्मी के समय के लिए कोई बदलाव नहीं होगा. आपको यह सेटिंग खाता साइन अप करते समय करनी होगी.

अपना समय क्षेत्र देखने के लिए:

  1. अपने Google Ads खाते में साइन इन करें.
  2. ऊपरी दाएं कोने में, टूल आइकॉन पर क्लिक करें, फिर "सेटअप" में जाकर प्राथमिकताएं पर क्लिक करें. 
  3. समय क्षेत्र सेक्शन में आपको सूची में आपका समय क्षेत्र दिखाई देगा. 

अगर आप चुने गए समय क्षेत्र को अपडेट करना चाहते हैं, तो उसमें बदलाव करने के लिए हमसे संपर्क करें.

हम आपके समय क्षेत्र को सिर्फ़ एक बार रीसेट कर सकते हैं, इसलिए अपना नया समय क्षेत्र ध्यान से चुनें. एडमिन ही समय क्षेत्र को बदलने का अनुरोध कर सकता है. आपके समय क्षेत्र को सिर्फ़ पूर्व दिशा में ही शिफ़्ट किया जा सकता है, जैसे जीएमटी (ग्रीनविच मीन टाइम) से आईएसटी (भारत मानक समय) में. अगर आपका समय क्षेत्र पहले ही रीसेट कर दिया गया है, तो हम उसे फिर से बदल नहीं पाएंगे. 
GDN में देरी

नए GDN कैंपेन की मंज़ूरी मिले हुए विज्ञापनों को पेश करने में 12 घंटे लगते हैं. GDN पर होने वाले बदलावों के लिए, देरी का समय अलग-अलग होता है. हालांकि, आम तौर पर सर्च कैंपेन की तुलना में GDN बदलावों के लागू होने में ज़्यादा देरी होती है.

ध्यान रखें

परफ़ॉर्मेंस डेटा तुरंत उपलब्ध नहीं होता. साथ ही, कुछ रिपोर्ट दिन में सिर्फ़ एक बार अपडेट होती हैं. अपने डेटा का नयापन तय करने के बारे में ज़्यादा जानें.

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके