विज्ञापन देने वालों के लिए गाइड: तीसरे पक्ष की कंपनियों के साथ काम करना

Google की ऑनलाइन विज्ञापन देने की सुविधा के बारे में जानकारी

Google के साथ विज्ञापन देकर आप ठीक उस समय नए ग्राहकों तक पहुंच सकते हैं जब वे ऐसे उत्पाद और सेवाएं ढूंढ रहे हों, जैसे आप उपलब्ध करवाते हैं. आप जिस तरह के कैंपेन चलाते हैं उसके आधार पर चुन सकते हैं कि आपसे क्लिक, इंप्रेशन या रूपांतरण में से किसके लिए पैसे लिए जाएं.

आपके विज्ञापन चलना शुरू होने के बाद, हम आपको प्रदर्शन का डेटा दिखाते हैं. इससे आपके तीसरे पक्ष के पार्टनर ट्रैक कर पाते हैं कि किससे फ़ायदा हो रहा है और किससे नहीं. Google Ads के विज्ञापन देने वाले उत्पाद बहुत भरोसेमंद होते हैं. इनके ज़रिए आप विज्ञापनों की लागत से होने वाले फ़ायदों को अच्छी तरह समझ सकते हैं. यही नहीं, तीसरे पक्ष के आपके पार्टनर, सबसे अच्छे नतीजे लाने के लिए बजट को कम-ज़्यादा करके ऑप्टिमाइज़ कर सकते हैं.

'Google सर्च' के साथ-साथ आप Google की पार्टनर साइट के नेटवर्क (ऐसी साइटें जिन पर आपने “Google के दिखाए जा रहे विज्ञापन” लिखा देखा होगा) पर भी विज्ञापन दिखा सकते हैं. इनमें YouTube भी शामिल है. इस नेटवर्क पर, आप दूसरे विज्ञापन फ़ॉर्मैट, जैसे कि इमेज वाले विज्ञापन और वीडियो विज्ञापन का भी फ़ायदा पा सकते हैं.

Google और तीसरे पक्ष के पार्टनर

हमारा मानना है कि Google पर विज्ञापन देने से आपको अपने कारोबार को सफल बनाने में मदद मिल सकती है. हालांकि, हो सकता है कि आपके पास एक सफल खाता बनाने और उसका नियमित रखरखाव करने के लिए समय और संसाधन न हों. ऐसा भी हो सकता है कि आपको किसी विशेषज्ञ से ऑप्टिमाइज़ करवाने के लिए कुछ मदद चाहिए हो.

यहां से तीसरे पक्ष के पार्टनर का काम शुरू होता है. तीसरे पक्ष अलग-अलग तरह के होते हैं. सबसे बड़ी विज्ञापन एजेंसी से लेकर येलो पेज के प्रकाशक और अकेले काम करने वाले वेब सलाहकार तक, सभी तीसरे पक्ष के पार्टनर कहलाते हैं. तीसरे पक्ष का पार्टनर चुनने में आपकी मदद करने के लिए, हमने 'Partners कार्यक्रम' की शुरुआत की है. हमारे पार्टनर कार्यक्रमों की ज़रूरी शर्तें पूरी करने वाली और उनमें हिस्सा लेने वाली तीसरे पक्ष की कंपनियों की वेबसाइट पर आपको शायद कार्यक्रम का बैज दिखाई दे. आपको जो दो बैज दिखाई दे सकते हैं, वे हैं Google Partners और Premier Partners.

यह जानने के लिए कि किसी कंपनी को हमारे पार्टनर कार्यक्रम से प्रमाणपत्र मिला है या नहीं, उसकी वेबसाइट के बैज पर क्लिक करें. अगर कंपनी को प्रमाणपत्र मिला हुआ है, तो आपको Google पर उसके प्रोफ़ाइल पेज पर ले जाया जाएगा.

तीसरे पक्ष के पार्टनर के साथ काम करने का तरीका

तीसरे पक्ष का पार्टनर आपका और आपके कारोबार का काफ़ी समय और मेहनत बचा सकता है. सबसे अच्छे नतीजों के लिए, हमारी सलाह है कि आप अपने विज्ञापन कैंपेन के बारे में पूरी जानकारी रखें, उन पर नज़र रखें, और उनकी बारीकियां समझें. ऐसे काम अपने पार्टनर को करने दें जिनमें ज़्यादा समय लगता हो.

तीसरे पक्ष के पार्टनर अक्सर आपके विज्ञापन के मूल्य के अलावा भी आपसे शुल्क लेते हैं. याद रखें कि उनका लक्ष्य आपके कैंपेन प्रबंधित करने, उनकी रिपोर्ट आपको देने, सवालों के जवाब देने या कैंपेन ऑप्टिमाइज़ करने जैसी अहम सेवाएं देना है. आपके लिए यह जानना ज़रूरी है कि विज्ञापन की कुल लागत कितनी होती है. इसमें वह शुल्क भी शामिल है जो तीसरे पक्ष का पार्टनर आपसे लेता है. इस रकम का इस्तेमाल आप अपने निवेश पर लाभ (आरओआई) का हिसाब लगाने के लिए कर सकते हैं. यहां कुछ ऐसी सलाहें दी गई हैं जिन पर अमल करके आप जानकार ग्राहक बन सकते हैं:

  1. एक पार्टनर चुनें. शायद आप अपना बजट कई सारे तीसरे पक्षों के बीच बांटकर यह देखा चाहें कि किससे आपको बेहतर नतीजे मिल सकते हैं. आप ऐसा कर सकते हैं, लेकिन हमारा सुझाव है कि आप एक समय पर एक ही पार्टनर को आज़माएं. Google खोज के नतीजों के पेज पर किसी कारोबार का एक से ज़्यादा विज्ञापन नहीं दिखाता. इसलिए, आपको कई तीसरे पक्ष के पार्टनर को एक बार में आज़माने में परेशानी हो सकती है.
  2. अपना ज्ञान बढ़ाएं. विज्ञापन देने के बारे में सब कुछ जानने में समय लगता है, लेकिन Google पर विज्ञापन देने की बुनियादी बातें सीखने में ज़्यादा समय नहीं लगता. नीचे "विज्ञापन देने की बुनियादी बातें" सेक्शन देखें. ज़्यादा जानने के लिए, Google Ads सहायता केंद्र पर जाएं. इन कार्यक्रमों को समझकर आप अपने तीसरे-पक्ष के पार्टनरों को लेकर बेहतर फ़ैसले ले पाएंगे.
  3. अनुभव पर भरोसा करें. अगर आप ऐसी कंपनी के साथ काम कर रहे हैं जो सैकड़ों Google पर विज्ञापन देने वाली कंपनियों को संभालती है, तो शायद उसे Google पर विज्ञापन देने में इस्तेमाल होने वाले उत्पादों का बेहतर अनुभव हो. अगर आपको यह बताया जाता है कि कुछ उद्योगों पर हमेशा से विज्ञापन की लागत ज़्यादा लगती है या कुछ कीवर्ड या विज्ञापन आपके कारोबार के लिए काम नहीं करेंगे, तो शायद वे आपको अनुभव की वजह से ऐसा बता रहे हैं.
  4. अपने प्रदर्शन का मूल्यांकन करें. अगर आप ब्रैंडिंग पर खास ध्यान नहीं देते, तो विज्ञापन देने के मामले में सबसे ज़रूरी चीज़ होती है आपके निवेश पर मिलने वाला लाभ (यानी आपको मिलने वाले नए ग्राहक). इसलिए अपने निवेश और उस निवेश से मिलने वाले नतीजे मापने के लिए हर महीने कुछ समय निकालें.

किस बात का ध्यान रखना है

हम चाहते हैं कि Google पर विज्ञापन देने का आपका अनुभव अच्छा हो. अगर आपको ऐसा नहीं लगता, तो कृपया हमें बताएं. किसी समस्या के समाधान के लिए हमसे संपर्क करने से पहले अपने तीसरे पक्ष के पार्टनर के साथ उसे सुलझाने की कोशिश करें. कई तीसरे पक्ष की कंपनियों ने अपने विज्ञापनदाताओं के हितों के लिए काम करके हमारा भरोसा जीता है. लेकिन, कुछ तीसरे पक्ष की कंपनियां ऐसा नहीं कर पाईं. यहां कुछ गतिविधियां दी गई हैं जिन पर आपको नज़र रखनी चाहिए और हमें बताना चाहिए:

  • विज्ञापन कैंपेन की लागत और प्रदर्शन की जानकारी न देना.आपको कम से कम, आने वाले क्लिक की संख्या, इंप्रेशन, और Google विज्ञापनों की लागत जानने का अधिकार है.
  • किसी खास विज्ञापन चैनल या खास जगह पर विज्ञापन प्लेसमेंट की गारंटी देना. Google.com के खोज नतीजे दिखाने वाले पेज पर किसी विज्ञापन को खास क्रम में दिखाए जाने की गारंटी नहीं दी जा सकती. विज्ञापन का क्रम बोली के आधार पर तय होता है और हर नई खोज के साथ अपने आप बदलता रहता है. तीसरे पक्ष की कुछ कंपनियां आपसे तब ही पैसे ले सकती हैं, अगर वे आपका विज्ञापन आपकी मनचाही जगह पर लगा पाएं. लेकिन, कोई खास जगह देने की गारंटी देने वाली कंपनियां (यानी, जब भी उपयोगकर्ता आपका कीवर्ड खोजे तब सबसे ऊपर आपका विज्ञापन दिखाना) Google विज्ञापनों के काम करने के तरीके को गलत तरीके से पेश करती हैं.
  • खाता सेट अप करने से जुड़ी ज़रूरी शर्तें. तीसरे पक्ष की एजेंसी को आपके लिए एक अलग विज्ञापन खाता सेटअप करना होगा, ताकि वह आपको सही तरीके से दिखा सके.
  • Google से होने का दावा करना. इस व्यक्ति से उसका नाम पूछें और उससे कहें कि वह आपको अपने @google.com (न कि @gmail.com) पते से ईमेल करे.
  • साइन अप करने के लिए आपको परेशान करना या धमकाना. तीसरे पक्ष की कंपनियां Google.com पर आपके कारोबार को स्वाभाविक या ऑर्गेनिक खोज नतीजों से नहीं निकाल सकतीं.
  • यह दावा करना कि Google पर विज्ञापन दिखाने से आपकी ऑर्गेनिक या स्वाभाविक रैंक पर बुरा असर पड़ेगा.खोज नतीजों में आपकी ऑर्गेनिक या स्वाभाविक रैंकिंग पर Google पर विज्ञापन देने या न देने का कोई असर नहीं होता. ये दोनों बिल्कुल अलग-अलग चीज़ें हैं.
  • भटकाने वाली कीमत बताना.एजेंसी शायद वह सही विज्ञापन बजट इस्तेमाल न करे जिस पर आपके और उनके बीच सहमति हुई थी. पक्का करें कि आपको अपने कानूनी समझौते की एक आधिकारिक कॉपी मिले.

तीसरे पक्ष की नीति के उल्लंघन की रिपोर्ट करना

क्या आपको लगता है कि कोई तीसरे पक्ष का पार्टनर इस नीति का उल्लंघन कर रहा है? हमें बताएं: तीसरे पक्ष की नीति के उल्लंघन की रिपोर्ट करें. जब आप किसी तीसरे पक्ष के बारे में हमसे संपर्क करते हैं, तो हो सकता है कि हम व्यक्तिगत रूप से जवाब न दें, लेकिन हम आपकी टिप्पणियों के बारे में छानबीन करेंगे और ज़रूरी होने पर सही कार्रवाई करेंगे.

विज्ञापन देने की बुनियादी बातें

  • औसत स्थान: वह औसत स्थान जहां ट्रिगर होने पर विज्ञापन दिखाई देता है. आम तौर पर 1-8 का औसत स्थान मिलने का मतलब होता है कि विज्ञापन खोज नतीजों के पहले पेज पर दिखाई देगा.
  • क्लिक: उपयोगकर्ताओं ने आपके विज्ञापन पर कितनी बार क्लिक किया.
  • क्लिक मिलने की दर (सीटीआर): क्लिक की संख्या को इंप्रेशन की संख्या से विभाजित करने पर मिलने वाली संख्या. यह प्रतिशत में दिखाई देती है. एक अच्छे सीटीआर से आपको बेहतर औसत स्थान मिल सकता है.
  • कन्वर्ज़न: आपके विज्ञापन के नतीजे के तौर पर होने वाली कार्रवाई, जैसे कोई फ़ोन कॉल, लीड या बिक्री. आम तौर पर अपने विज्ञापन की सफलता मापने के लिए यह अच्छा मीट्रिक होता है.
  • कीमत: Google पर विज्ञापन देने में आपने जो कुल रकम खर्च की है.
  • इंप्रेशन: आपका विज्ञापन कितनी बार दिखाई दिया.
  • कीवर्ड: वे शब्द या वाक्यांश जो आपने Google Ads के लिए चुने हैं. जब उपयोगकर्ता वे शब्द Google पर खोजेंगे, तो खोज नतीजों के साथ या ऊपर आपका विज्ञापन दिखाई देगा.

अगर आपको Google पर विज्ञापन देने वाले खाते के बारे में कोई सवाल पूछना है और मदद चाहिए, तो कृपया Google Ads सहायता केंद्र पर जाएं.

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?