नए "मेरा AdMob पेज" की मदद से आपको अपने ऐप्लिकेशन के हिसाब से सुधार के सही सुझाव मिलेंगे और आप अपने खाते को बेहतर तरीके से मैनेज कर पाएंगे. साथ ही, आपको इस पेज से सभी ज़रूरी सेट अप पूरे करने में भी मदद मिलेगी.

AdMob और AdSense कार्यक्रम की नीतियां

Google के अन्य सहमति वाले मोड की तकनीकी जानकारी

इस दस्तावेज़ में, अस्थायी तौर पर मौजूद तकनीक के बारे में जानकारी दी गई है, जिसे अन्य सहमति मोड कहा जाता है. इसे सिर्फ़ IAB Europe के, पारदर्शिता और सहमति फ़्रेमवर्क (टीसीएफ़) के 2.0 वर्शन के साथ इस्तेमाल किया जा सकेगा. इसका मकसद उन वेंडर की मदद करना है जो IAB यूरोप की ग्लोबल वेंडर लिस्ट (जीवीएल) में अब तक रजिस्टर नहीं हुए हैं. यह मोड पब्लिशर, उपयोगकर्ताओं की सहमति मैनेज करने की सुविधा देने वाली कंपनियों, और पार्टनर को टीसीएफ़ के 2.0 वर्शन को लागू करने के साथ, अन्य सहमति पाने और उसे बढ़ावा देने में मदद करता है. यह मोड, खास तौर से उन पब्लिशर और कंपनियों के लिए काम का है जो अब तक IAB यूरोप ग्लोबल वेंडर की लिस्ट में रजिस्टर नहीं हुए हैं, लेकिन Google की ऐड टेक प्रोवाइडर (ATP) की लिस्ट में शामिल हैं.

इसी विषय से जुड़े लिंक

अन्य सहमति वाले मोड के कॉम्पोनेंट

"अन्य सहमति वाले मोड" में, हम ये दोनों सुविधाएं इस्तेमाल कर सकते हैं:

  • पारदर्शिता और सहमति वाली स्ट्रिंग यानी टीसी स्ट्रिंग, जिसके बारे में IAB टीसीएफ़ के 2.0 वर्शन की खास जानकारी में बताया गया है. इस स्ट्रिंग में, IAB की ग्लोबल वेंडर लिस्ट (जीवीएल) पर वेंडर के लिए तय की गई पारदर्शिता और सहमति शामिल है. और
  • एक हल्की addtl_consent स्ट्रिंग यानी अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग, जिसमें विज्ञापन टेक्नोलॉजी से जुड़ी सेवा देने वाली ऐसी कंपनियों की लिस्ट शामिल है जिन्हें उपयोगकर्ताओं की सहमति मिल चुकी है, लेकिन उनका रजिस्ट्रेशन IAB के साथ नहीं हुआ है.

इस खास जानकारी में यह शामिल है:

  1. अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग का फ़ॉर्मैट
  2. अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग की मदद के लिए, टीसीएफ़ के 2.0 वर्शन वाले सीएमपी एपीआई का एक्सटेंशन
  3. अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग को सेव करने का तरीका
  4. डिजिटल विज्ञापन की चेन में अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग पास करने का तरीका

''अन्य सहमति" वाली स्ट्रिंग का फ़ॉर्मैट

अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग में कौनसी जानकारी सेव की जाती है?

अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग में ये तीन कॉम्पोनेंट होते हैं:

  • भाग 1: खास जानकारी का वर्शन नंबर, जैसे कि "1"
  • भाग 2: अलग करने वाला निशान "~"
  • भाग 3: उपयोगकर्ता की सहमति वाले Google Ad Tech Provider (ATP) के आईडी की लिस्ट जिसे बिंदु से अलग किया गया है. उदाहरण: "1.35.41.101"

जैसे, अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग 1~1.35.41.101 का मतलब है कि उपयोगकर्ता ने 1, 35, 41, और 101 आईडी वाले ATP को सहमति दी है. साथ ही, स्ट्रिंग बनाने के लिए, 1.0 वर्शन में बताए गए फ़ॉर्मैट का इस्तेमाल किया है.

अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग किसे बनानी चाहिए?

अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग, सिर्फ़ IAB यूरोप के टीसीएफ़ में रजिस्टर हुए सीएमपी से बनाई जा सकती है. इसके लिए, सीएमपी आईडी का इस्तेमाल IAB की नीतियों के मुताबिक किया जाता है. वेंडर या तीसरे पक्ष की सेवा देने वाली किसी भी कंपनी को, खुद अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग नहीं बनानी चाहिए.

Google ATP की लिस्ट कहां पब्लिश की जाएगी?

Google, विज्ञापन टेक्नोलॉजी से जुड़ी सेवा देने वाली ऐसी कंपनियों की लिस्ट पब्लिश करेगा जो IAB पर रजिस्टर नहीं हैं. साथ ही, उन कंपनियों के आईडी भी यहां दी गई जगह पर पब्लिश करेगा:

https://storage.googleapis.com/tcfac/additional-consent-providers.csv

अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग कब बनानी चाहिए?

सभी मामलों में, अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग सिर्फ़ तब बनाई जा सकती है, जब पब्लिशर, Google की ईयू उपयोगकर्ता की सहमति से जुड़ी नीति का पालन करता हो. खास तौर पर, अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग तब तक नहीं बनाई जानी चाहिए, जब तक उपयोगकर्ता Google की ईयू उपयोगकर्ता की सहमति से जुड़ी नीति के मुताबिक, इन दो सुविधाओं के लिए कानूनी तौर पर मान्य सहमति नहीं देता. ये दो सुविधाएं हैं: 1) जहां कानूनी तौर पर ज़रूरी हो, वहां कुकी या अन्य लोकल स्टोरेज का इस्तेमाल करना और 2) ATP के ज़रिए विज्ञापनों को मनमुताबिक बनाने के लिए निजी डेटा इकट्ठा करना, शेयर करना, और उसे इस्तेमाल करना.

अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग सिर्फ़ टीसी स्ट्रिंग की पूरक स्ट्रिंग के तौर पर बनाई जानी चाहिए, न कि टीसी स्ट्रिंग की जगह पर. Google, अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग के ऐसे किसी अनुरोध को प्रोसेस नहीं करेगा जिसके लिए टीसी स्ट्रिंग उपलब्ध नहीं है. साथ ही, अनुरोध की गई, अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग को खारिज कर देगा.

इस खास जानकारी को लागू करने वाले सीएमपी को यह पक्का करना होगा कि उन्होंने अन्य सहमति वाली जो स्ट्रिंग बनाई है उसमें सिर्फ़ ऐसे वेंडर शामिल हों जिनके आईडी, पब्लिश की गई Google ATP फ़ाइल में मौजूद हैं, लेकिन वे IAB यूरोप ग्लोबल वेंडर लिस्ट (जीवीएल) पर रजिस्टर नहीं हैं. जब Google को कोई टीसी स्ट्रिंग मिलती है, तो वह उस टीसी स्ट्रिंग में मौजूद जीवीएल के वर्शन की जांच करेगा. अगर किसी वेंडर का जीवीएल के उस वर्शन के लिए रजिस्ट्रेशन है, तो उस वेंडर के लिए टीसी स्ट्रिंग कंट्रोल के साथ उस वेंडर से जुड़ी अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग एंट्री को अनदेखा किया जाएगा. ऐसी स्थिति में, Google के पास यह अधिकार है कि वह अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग से ऐसी “डुप्लीकेट” एंट्री हटा सकता है और बदली हुई अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग को टीसी स्ट्रिंग के साथ पास कर सकता है. Google के अलावा, दूसरे वेंडर अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग में बदलाव नहीं कर सकते.

सीएमपी एपीआई का एक्सटेंशन

हमारा सुझाव है कि मौजूदा टीसीएफ़ के 2.0 वर्शन वाले सीएमपी JavaScript एपीआई को बढ़ाया जाए, ताकि उससे अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग को दिखाया जा सके. खास तौर पर, यह डेटा देने के लिए, हम TCData और InAppTCData नाम के JSON ऑब्जेक्ट को बढ़ाने का सुझाव देते हैं.

TCData = {
  tcString: 'base64url-encoded TC string with segments',
  ...
  addtlConsent: ‘AC string with spec version and consented Ad Tech Provider IDs’,
}

InAppTCData = {
  tcString: 'base64url-encoded TC string with segments',
  ...
  addtlConsent: ‘AC string with spec version and consented Ad Tech Provider IDs’,
}

अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग का स्टोरेज कैसे किया जाना चाहिए?

वेब

स्टोरेज का तरीका सीएमपी की पसंद पर निर्भर करता है.

इन-ऐप्लिकेशन

iOS के लिए, NSUserDefaults या Android के लिए, SharedPreferences का इस्तेमाल करके, सीएमपी SDK टूल, अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग को स्टोर करेगा. इससे आपको ये सुविधाएं मिलेंगी:

  • वेंडर, अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग को आसानी से ऐक्सेस कर पाएंगे
  • अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग सभी ऐप्लिकेशन सेशन में बनी रहेगी
  • अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग अलग-अलग सीएमपी SDK टूल के बीच ट्रांसफ़र की जा सकती है. इससे पब्लिशर को CMP SDK टूल बदलने में आसानी होती है

अगर कोई पब्लिशर अपने ऐप्लिकेशन से सीएमपी SDK टूल हटाने का विकल्प चुनता है, तो वह उपयोगकर्ताओं के लिए AddtlConsent की वैल्यू हटाने की ज़िम्मेदारी लेता है. इस तरह यह पक्का किया जाता है कि अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग में शामिल वेंडर इसका इस्तेमाल जारी न रखें.

NSUserDefaults और SharedPreferences में स्टोरेज और लुकअप बटन वैल्यू
IABTCF_AddtlConsent

स्ट्रिंग: अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग, जिसमें वर्शन की खास जानकारी और विज्ञापन टेक्नोलॉजी से जुड़ी सेवा देने वाली ऐसी कंपनियों के आईडी हैं जिन्हें उपयोगकर्ताओं से सहमति मिल चुकी है

डिजिटल विज्ञापन की चेन में अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग पास करने का तरीका

बोली अनुरोध

ऐसे वेंडर जो जीवीएल में रजिस्टर नहीं हैं उन्हें डाउनस्ट्रीम लागू करने के लिए, हम ConsentedProvidersSettings का फिर से इस्तेमाल करेंगे.

message ConsentedProvidersSettings {
 // Set of IDs corresponding to providers for whom the publisher has told
 // Google that its EEA users have given legally valid consent to: 1) the use of cookies or other local  
 // storage where legally required; and 2) the collection, sharing, and use of personal data for 
 // personalization of ads by an ATP in accordance with Google’s EU User Consent Policy.
 // A mapping of provider ID to provider name is posted at providers.csv.
 repeated int64 consented_providers = 2 [packed = true];
}

 // ऐसी कंपनियों के बारे में जानकारी जिनके लिए पब्लिशर ने Google को बताया है
// कि उसके ईईए उपयोगकर्ताओं ने उनके निजी डेटा का इस्तेमाल करने के लिए सहमति दी है.
// इसका मकसद Google की ईयू उपयोगकर्ता की सहमति से जुड़ी नीति के मुताबिक विज्ञापनों को मनमुताबिक बनाना है.
// यह फ़ील्ड सिर्फ़ तब दिखेगा, जब regs_gdpr सही हो.
 optional ConsentedProvidersSettings consented_providers_settings = 42;

यूआरएल आधारित सेवाएं

जब कोई क्रिएटिव रेंडर किया जाता है, तो उसमें <img> टैग के तहत कई पिक्सल की संख्या यानी रिज़ॉल्यूशन शामिल हो सकता है. उदाहरण के लिए, <img src="http://vendor-a.com/key1=val1&key2=val2">, जो वेंडर के डोमेन में ब्राउज़र से HTTP GET अनुरोध भेजता है.

पिक्सल JavaScript इस्तेमाल न कर पाने की वजह से, <img> टैग में है, इसलिए टीसी स्ट्रिंग पाने के लिए सीएमपी एपीआई का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता. टीसी स्ट्रिंग के लिए सहायता की तरह ही हम पिक्सल यूआरएल में एक स्टैंडर्ड यूआरएल पैरामीटर और मैक्रो देते हैं जहां अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग डाली जानी चाहिए.

यूआरएल पैरामीटर संबंधित मैक्रो यूआरएल में दिखाना
addtl_consent ADDTL_CONSENT &addtl_consent=${ADDTL_CONSENT}

उदाहरण 1

अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग पाने के लिए, वेंडर A को किसी इमेज यूआरएल में यूआरएल पैरामीटर और मैक्रो के साथ की-वैल्यू पेयर, &addtl_consent=${ADDTL_CONSENT} को शामिल करना होगा. इससे मिलने वाला यूआरएल है:

http://vendor-a.com/key1=val1&key2=val2&addtl_consent=${ADDTL_CONSENT}

 

उदाहरण 2

अगर किसी अनुरोध में, अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग 1~1.35.41.101 है

क्रिएटिव का कॉलर या रेंडरर, यूआरएल में मौजूद मैक्रो को वास्तविक अन्य सहमति वाली स्ट्रिंग से बदल देता है. इससे, बताए गए सर्वर पर कॉल करते समय पिक्सल में मौजूद मैक्रो में, नीचे बताए गए तरीके से बदलाव होता है:

http://vendor-a.com/key1=val1&key2=val2&addtl_consent=1~1.35.41.101

क्या यह उपयोगी था?
हम उसे किस तरह बेहतर बना सकते हैं?

और मदद चाहिए?

मदद के दूसरे तरीकों के लिए साइन इन करें ताकि आपकी समस्या झटपट सुलझ सके

true
<p>'मेरा AdMob पेज' - यह आपके हिसाब से तैयार किया गया पेज है. इसकी मदद से आप AdMob पर ज़्यादा से ज़्यादा मुनाफ़ा कमाने के तरीकों के बारे में जान पाएंगे.</p>

पेश है 'मेरा AdMob पेज' नए अवतार में. यह ऐसा सहायता पेज है जो खास तौर पर आपके लिए बनाया गया है. इसमें, आपके खाते के लिहाज़ से काम की जानकारी दी गई है. इस पेज की मदद से, आप अपने खाते को बेहतर तरीके से मैनेज कर सकते हैं. साथ ही, यह भी देख सकते हैं कि सभी ज़रूरी सेट अप पूरे किए गए हैं या नहीं. इसके अलावा, आपके ऐप्लिकेशन को बेहतर बनाने के लिए सुधार के सही सुझाव भी मिलेंगे. ज़्यादा जानकारी के लिए हमारे साथ बने रहें!

ज़्यादा जानें

खोजें
खोज साफ़ करें
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू
खोज मदद केंद्र
true
73175
false